सेक्सी ब्लू बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,करीना कपूर विवाह दिनांक

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स बीएफ देखने वाली: सेक्सी ब्लू बीएफ पिक्चर, जब अगले दिन 12वीं क्लास के स्टूडेंट्स टयूशन पढ़ने आ रहे थे, तब मैं उस नई लड़की का इंतजार कर रहा था.

रक्षाबंधन के गाने

मैंने उसे फिर बेड पर कमर के बल लिटाया और उसकी टांगों को अपने कन्धों पर रख कर चोदने लगा. मराठी सेक्स ओपन वीडियोआहह… सासु माँ… आप तो अनु से भी अच्छा चूसती हो…” और मम्मी का सर पकड़कर उनका मुँह चोदने लगे.

दही बड़े, चटनी, आम नींबू के अचार, मूंग की दाल की बड़ी, पापड़ ये सब अच्छी तरह से पैक करके मुझे दे दिया. बंगाली नियादस मिनट तक इस युगल पूर्व क्रिया करते हुए जब हम बहुत उत्तेजित हो गए तब मैंने माला को उठा कर बिस्तर पर पटक दिया और एक ही झटके में अपने लोहे जैसे सख्त लिंग को उसकी सिकुड़ी हुई योनि में घुसेड़ दिया.

मोना- अच्छा मैं यहाँ तुम्हारी जान बचाने के चक्कर में लगी हूँ और तुम्हें मजे की पड़ी हुई है?गोपाल- अरे प्लीज़ यार ग़लत मत समझो.सेक्सी ब्लू बीएफ पिक्चर: अब ये कपड़े चेंज करो नहीं तो मैं नाराज़ हो जाऊंगी तुमसे और जो हुआ भूल जाओ ओके.

टीना- सब तो ठीक है मगर तू अब तक तेरे पापा को रिझाने में कामयाब नहीं हुई.?वो बोली- क्योंकि आप मेरे कमरे मे आपके कैमरा की बैटरी जो भूल गए थे.

अनुष्का शर्मा आयु - सेक्सी ब्लू बीएफ पिक्चर

मुझे परेशान होता देख भाभी ने कहा- जब मजा लिया है तो अब सजा भी मिलेगी.इससे पहले वो रांड कुछ कहती, मैंने अनुराधा को बाइक पर बिठाया और हम भाग निकले.

जो आराम से अपने बेड पे सोया हुआ था। वैसे टीना ने उसके बारे में सुमन को बताया था मगर उसे देखा सुमन ने आज ही था। इस वक़्त सुमन की साँसें उखड़ी हुई थीं. सेक्सी ब्लू बीएफ पिक्चर लगभग 10-12 पिचकारियों के बाद मैंने जैसे ही लंड बाहर निकाला वैसे ही नीचे किसी के आने की आवाज सुनाई दी.

वह मान गई अब हम आलथी पाल्थी मार कर बैठ गए, सीट पर एक दूसरे के सामने मेरी नजरें बार-बार सरिता के पेट पर जा रही थी जो वह देख पा रही थी और वह मुस्कुराये जा रही थी.

सेक्सी ब्लू बीएफ पिक्चर?

मेरी भी कॉलेज की छुट्टियाँ चल रही थीं, तो मैं पूरे दिन घर पर चाची के साथ ही रहती थी. सुमन- इतने दिनों में आपको मेरे अन्दर कुछ फ़र्क लगा या नहीं?संजय- सच बोलूँ. तिवारी यह जानने के लिए उत्सुक था कि इन दो दिनों में अनीता और उनकी उस लेस्बियन सहेली ने क्या गुल खिलाये होंगे.

टीना ने अपना आइडिया सुमन को बताया तो वो उसको अच्छा लगा फिर दोनों काफ़ी देर तक उसी टॉपिक पे बात करती रहीं. पण्डित जी उठकर बैठ गए और मेरी ब्रा का हुक खोलने की कोशिश करने लगे, कई कोशिशें नाकाम गयी तो मैंने खुद ही अपनी ब्रा उतार के अपने उरोजों को बेपर्दा कर दिया. मेरा मन इसी में लगा रहेगा, पर मेरी शर्मीली आदत की वजह से मैंने उससे कुछ भी बात न की, पूरा एक दिन हो गया, बस ऐसे ही एक दो लफ्ज हम दोनों बोले होंगे, पर मैं नजर बचा बचा कर उसे किसी न किसी बहाने से देख रहा था पर उसको पता नहीं चलने दे रहा था.

पण्डित जी अब बैठ गए और मेरे निप्पलों को चुटकियों में पकड़ कर गोल गोल घुमाते हुए रगड़ने लगे. फिर मैंने अपने होंठों को उनके होंठों पर रख कर दूसरा झटका दम से लगा दिया. फ्लॉरा की बात खत्म होने के पहले गुलशन जी ने लंड को चुत से बाहर निकाला और गांड पर सेट करके झटके से पेल दिया.

फिर मैंने अपनी टांगें पूरी चौड़ी कर दी, शहज़ाद मेरी टांगों के बीच में आया और लंड को मेरी चूत पर लगा कर धक्का लगा दिया. मैं उसके घर गया तो उसने आँख की श्रम त्याग कर मुझे पकड़ लिया और उसकी चूत चुदाई का खुला न्यौता दे दिया.

नवीन ने मेरे मन में एक बात कूट-कूट कर भर दी है कि अलग लिंग का अलग मजा!मैं वही मजा लेना चाहती हूँ!खैर, एक दिन ऐसा ही हुआ कि मनोज हमारे यहाँ दो दिन के लिए आया.

काफी देर की चुदाई के बाद मुझे लगा कि मुझे अब अपना माल गिरा देना चाहिए.

मैंने हैरत से पूछा- क्या हुआ रिया?फिर एक कमीनी सी हंसी के साथ रिया ने कहा- सालों ने फ्री में बड़ी तबियत से चोदा यार! बदन का हर छेद दर्द कर रहा है!हम दोनों फिर से ठहाके मार के हंस पड़ी!फिर गोवा की सेक्सी यादें लेकर हम दो दिन बाद फिर से अपने मुकाम दिल्ली पहुँच गयी!आगे मेरी चूत ने और क्या क्या गुल खिलाए ये जानने के लिए मेरी अगली सेक्स स्टोरी का इंतज़ार करें. मैंने बिना साड़ी उतारे बस साड़ी ऊपर कर के चूत चाटना शुरू किया और ब्लाउज खोल कर बूब्स चूसने शुरू कर दिए. राहुल ऐसे ही लंड डालकर रुका और कहने लगा- मेरी जान दिल तो कर रहा है कि तुझे अपनी रांड बनाकर रखूं पर तेरे जैसा माल सभी को मिलना चाहिए.

नताशा अभी स्वान का लंड चूसने में लगी ही हुई थी, जब एंड्रयू ने भी हमारे ग्रुप में एंट्री की. मैंने बड़ी मुश्किल से उसे लंड चूसने के लिए मनाया उसको लेकिन वह खड़ा ही रहा, बैठा नहीं. मगर उन्होंने इसकी परवाह किए बिना एक और झटका तेज़ी से मारा और मेरा पूरा लंड अपनी चूत के अंदर घुसा लिया, मेरे ऊपर लेट कर अपनी मस्तानी चूचियों को मेरी छाती से रगड़ते हुई वो बोली- बहुत मस्त लंड है तुम्हारा, यह मेरी चूत में अच्छी तरह से फिट होकर बहुत मजा दे रहा है.

गुलशन जी आगे कुछ बोल पाते तभी बीच में हेमा ने उन्हें टोक दिया- आपको कुछ और नहीं सूझता क्या.

चन्दन ने अपनी सास के एक स्तन का सारा रस पीने के बाद दूसरे स्तन को अपने मुँह में ले लिया और उसे भी चूसने लगा. मैं और चाची एक ही कमरे में रहती थी और काफ़ी फ्रेंड्ली बातें करती थी. फिर मैंने दीदी पर और पानी डाल दिया वो जल्दी से बाथरूम के अन्दर भाग गईं.

मेरे दिमाग में बहुत कुछ चल रहा था, इतने में उसने मेरे गाउन के अन्दर मुँह घुसा के मेरीचूत को चूम लिया. हमारे बॉस का एक दूसरा होटल भी था, तो दो दिन बाद वहाँ मीनल के ऑफिस की मीटिंग थी. फिर मैंने उसे उठाया, हम फ्रेश हुए और बाहर गये तो सविता और मनोज भी थे, हम लोगों ने साथ बैठ कर नाश्ता किया और मनोज मेघा को अपना घर दिखने के बहाने अपने साथ ले गया.

भाभी ने बताया कि उनका बूब साइज़ 36 इंच का है, इसको सुनते ही मेरा 7 इंच का लंड खड़ा हो गया था.

तभी पापा एकदम से उठे और अपने लंड को मेरी चुत से बाहर खींच कर आगे पीछे करते हुए मुठियाने लगे. क्योंकि मेरे बूब्स अभी तक एकदम तने हुए और टाइट और गोले मटोल हैं, इसलिए मैं बहुत हॉट एंड सेक्सी लग रही थी.

सेक्सी ब्लू बीएफ पिक्चर और वे अपने घर की ओर गाड़ी लेकर चल दी।थोड़ी देर बाद गाड़ी एक घर के सामने रुकी. आप भी इसे लड़की की मधुर आवाज में सुनें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है.

सेक्सी ब्लू बीएफ पिक्चर फिर मैंने अपने होंठों को उनके होंठों पर रख कर दूसरा झटका दम से लगा दिया. दस मिनट तक हचक कर चोदने के बाद गुलशन जी ने फ्लॉरा को घोड़ी बना दिया और पीछे से उसको चोदने लगे.

किन्तु अब स्थिति ऐसी थी जिसमें ऋतु की चूत के अंदर मेरी जीभ अपना कमाल दिखा रही थी और उसके स्तनों के ऊपर मेरे हाथ अपना कमाल दिखा रहे थे.

सेक्सी फिल्म भेजो प्लीज

तो मैं अपने लिए प्लेट लेने चला गया, मैं प्लेट ले रहा था तो वहाँ दुल्हन की बहन भी प्लेट लेने आई तो मैंने उन्हें प्लेट उठा के दी और उस हादसे के लिए माफी माँगी तो उन्होंने भी इट्स ओके कहा और कहा- अगली बार ध्यान से, आज तुम्हारे मस्ती में मुझे चोट लग सकती थी. मैंने अपना हाथ उसके कुर्ते में डाल कर उसकी नंगी पीठ के मांस को भी अपनी मुट्ठी में भर भर के नोचा, उसका कुर्ता ऊपर उठा कर उसके मम्मे बाहर निकाले और उसके निप्पल को अपने मुँह मेंलेकर न सिर्फ चूसा, बल्कि दाँतों से काट भी खाया. मैंने उसकी छाती को चूम लिया और इसके बाद दोनों एक दूसरे को पागलों की तरह गले में चूमने लगे.

15-20 धक्कों के बाद रूबी की चूत ने फिर से पानी छोड़ दिया और उसने मुझे अपने ऊपर से उतार दिया. नरुलाज से उन्होंने बर्गर और कोल्ड काफी ली और गाड़ी दौड़ा दी अपने फ्लैट की ओर. फिर उसने अपना मुँह मेरे कान के पास किया और थोड़ा जोर से कहा- एक रात का कितना लोगी तुम दोनों?मेरा पूरा जोश झाग की तरह नीचे बैठ गया.

जो दोस्त फेसबुक से जुड़े हैं वो मुझे अपनी फेसबुक आई डी ईमेल कर सकते हैं, मैं उन्हें खुद रिक्वेस्ट भेजूंगा.

गोपाल ठंडा होने के बाद घबरा गया उसको अहसास हुआ अगर मोना आ जाती तो क्या होता. ऐसा क्या करोगे तुम?अतुल- जाने दो नहीं तो बुरा मान जाओगी और वैसे भी बीवी के सामने साली को छेड़ना अच्छी बात नहीं है. प्रोग्राम के मुताबिक वह मुझे अपनी स्कूटी की चाबी दे देगी और मैं उसकी स्कूटी ले कर सोसाईटी से बाहर आ जाऊंगा और उसको बैठा कर खाली प्लॉट्स में ले जाऊंगा.

मैंने फोन जमीला को दे दिया तो सबीना ने जमीला को स्पीकर ओपन करके बात करने का इशारा किया. फिर मैंने उसके एक बूब को मुँह में डाल लिया और वो मदहोश हुए जा रही थी…फिर उसने अपना हाथ पैन्ट के ऊपर मेरे लंड पर रख दिया और लंड को सहलाने लगी, उसने मुझसे कहा- मुझे आपका देखना है. उसके बाद भी जब वो अपने घर चली गई तब भी जब मेरा दिल करता, या उसका दिल करता तो मुझे फोन करती, हम जैसे भी करके अपना जुगाड़ बना ही लेते!चुदाई का यह सिलसिला तीन साल तक चलता रहा.

सुमन- तो क्या पापा मेरे जिस्म को टच करके बेचैन हो गए थे, तभी आज उनके मन में इतनी वासना आ रही थी. उधर टोपा घुसा और इधर सुमन भाभी के मुँह से चीख़ निकल गई- हाय माँ मर गई.

मुस्कराया।तब मैंने कहा- अब मैं करूं।वह हंस दिया तो मैं शुरू हो गया। दस-पन्द्रह मिनट बाद वो फिर रूका, खेल धीरे-धीरे किया. सुमन ने बताया- यह लड़की मुझसे तो बात भी नहीं करती, हमारा तो झगड़ा ही होता रहता है. थोड़ी देर उसने लंड को देखा फिर अपने हाथों से पकड़ा और उसे प्यार से सहलाने लगी और अगले ही पल घप से उसने लंड को मुँह में ले लिया.

उसने मुझे मेरा सिर पकड़ कर उठाया और मेरे कानों में बोला- प्लीज़ विजय मेरी चूत बहुत ही प्यासी है.

सेकेण्ड में कोई जगह नहीं मिली 18 वेटिंग आ रही थी, आप सबको तो पता ही है कि ऐ. उसमें मज़ा आएगा, आप सब वैसे ही करना।संजय- हा हा हा ये तुझे क्या हो गया. मैं- सॉरी चाची, अब तो चोद सकता हूँ, आप कह रही थी मुझसे नहीं होगा!और मैंने लंड को फिर बाहर निकाल कर अंदर घुसाया और हिलाने लगा.

मैं इससे आज बहुत खेलूँगी।ये कह कर उन्होंने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चाटने लगीं।बहुत अच्छा फील होता है, जब एक औरत आपके लंड को मुँह में लेके अन्दर-बाहर करे, उसे चाटे। उसमें आपके सिसकारियां कम निकलती हैं और गुदगुदी ज्यादा होती है, पर अच्छा लगता है।भाभी वैसे ही मेरे लंड को चूसती रहीं। दस मिनट तक लंड चूसने के बाद भाभी बोलीं- मैं अब तुम्हारे ऊपर आ रही हूँ. तभी सविता भाभी को याद आया कि शाम होने को है और उन्होंने डिनर की कोई तैयारी ही नहीं की.

पूरा प्रोग्राम बना कर चारों यार शुक्रवार को दोपहर को ही अपने अपने ऑफिस में आधे दिन की छुट्टी टिका कर निकाल पड़े. उसके जिस्म की गर्मी, सीने से चिपके उसके मम्में टांगों में लिपटीं वो गुदाज़ चिकनी टाँगें उफ्फ… ईश्वर ने कैसी प्यारी रचना रची ये. वह गद्दे पर टाँगें फैला कर लेट गई और मुझे बोली- मुझे जोर से चोदो, मैं आज तक ढंग से नहीं चुदी हूँ.

सेक्सी कहानी माँ

मैंने इसी तरह उनके चूतड़ों पर लगातार 8-10 बार मारा जिससे उनके चूतड़ों पूरी तरह लाल हो गए।उसके बाद भी वे मुझे छोड़ने को बिल्कुल तैयार नहीं थी।फिर मेरे मन में आया कि जब शुरू हो ही गया है तो एक नए एंजॉयमेंट के साथ इसे पूरा करें।मैंने उन्हें पूछा- सफीना जी, आपके घर में शहद है क्या?तो उन्होंने बोला- शहद और चॉकलेट … तुम्हें जो भी चाहिए, ले सकते हो.

‘मदद? कैसी मदद?’ तिवारी के मन में मनों लड्डू फूट रहे थे, वो सोच रहा था कि शायद उस पल का ज़ल्दी से ही अंत होगा जिसका उसको बेसब्री से इंतज़ार था, सालों की तपस्या मानो खत्म होने को थी, उसने सोचा कि शायद अनीता उसको अपना नंगा बदन दिखाना और उसके साथ सोना चाहती हो. रास्ते भर वो मेरी स्कर्ट में हाथ डालकर मेरी चुत में उंगली करता रहा और मैं पानी पानी होती रही. सुमन ने एक झूठी कहानी सुनाई मगर उसमें जो दर्द हुआ वो सच था आपको भी याद होगा कहानी पढ़ते टाइम सुमन ने चुत में उंगली की थी.

वो तो ज़बरदस्ती तेरी चुत में लंड घुसा देगा और तब ज़्यादा दर्द होगा. मैं ऑफिस से चार बजे ही आ गया था, सांय के 5 बजे मैं स्कूटी की चाबी लेकर उसके ब्लाक के नीचे, स्कूटी के पास पहुंचा ही था कि वह लिफ्ट से बाहर आती हुई दिखाई दी. भाभी सेक्सी पिक्चरवह हर दिन मुझे अपनी माँ की सेक्सी सेक्सी फोटो दिखाता था मैंने भी उसकी माँ को देखा, बला की खूबसूरत 40 साल शायद उसकी उम्र रही होगी लेकिन एकदम गोरा बदन मोटी मोटी चूचियाँ जोशी एकदम सीधी तनी थी, बड़ी सी गांड और हल्का सा निकला हुआ पेट बहुत ही सेक्सी लगता था.

फिर एक बार काका भी गाँव से आए थे तो गोपाल की गैर मौजूदगी में उन्होंने जमकर मोना की चुदाई की. भाभी कस के चिल्लाईं- आआह… मर गई माँआ…मैं झुक कर भाभी के होंठ चूसने लगा और उनके चूचों को मसलने लगा.

मैं बोला- क्या हुआ?तो बोली- मुझे बहुत प्यास लगी है, तुम्हारे लंड का पानी से ही ये प्यास बुझेगी. वह मान गई, मैंने ऐसा इसलिए किया ताकि वह उस ब्लू फिल्म को देखे और गर्म हो जाए. मैंने कहा- मैं सिर्फ प्यार कर रहा हूँ आपको और आपको बुरा लगेगा तो हम नहीं करेंगे.

तो इस रसभरी सत्य कथा का मज़ा लीजिये और पढ़ते पढ़ते जैसे चाहें मज़ा लीजिये पर मुझे अपने कमेंट्स नीचे लिखी मेल आई डी पर जरूर लिखिए. थोड़ा भाभी को किस किया, फिर शुरू हो गया, इससे होता यह है कि आपका झड़ने का टाइम थोड़ा बढ़ जाता है। चुत को लगातार नहीं पेल कर. उसने एक झटके में अपने और कविता के कपड़े उतार दिए और दोनों हंसती हुई शावर के नीचे खड़ी हो गयीं.

अन्दर आकर मैंने टॉवेल कंधे पर डाल ली। अब मैं बिल्कुल नंगा था। मैंने तेल की शीशी में से हथेली पर तेल उढ़ेला और पैरों में लगाने लगा। मेरी पीठ भाई साहब की तरफ थी.

नीचे बैठी हसीना को आप अपने ख्यालों में लाकर तरह तरह से चोदते हुए मूठ मार सकते हो. लेकिन बुड्ढा बिट्टू सिंह ढेर सयाना था, वो जानता था कि दिल्ली में इंजीनियरिंग करने वाले लौंडे कितने खतरनाक होते हैं.

सोनू एकदम मेरी तरफ घूम गई और एक हाथ से मेरा लौड़ा पकड़ कर बोली- राज! अब तो आपने इसकी आदत डाल दी है. उनका लिंग बहुत विकराल था लेकिन उन्होंने अनुभवी प्रेमी की तरह प्यार करते हुए उसे मेरी योनि में घुसा ही दिया. मेरे मन में आया कि पूछ लूं कि वे मुझसे क्या बात करना चाहती थी सामने बैठकर। फिर सोचा कि यह लम्हा बीत जाने के बाद ही पूछ लूंगा, अभी तो 2 दिन हमारे पास हैं.

उसके बाद टीना और फ्लॉरा चली गईं और सुमन के ज़िद करने पर गुलशन जी उसको अनिता के पास ले जाने को तैयार हो गए और दोनों घर से अनिता के घर की ओर निकल गए. घर का दरवाज़ा बाहर से बंद था और मेरी बीवी पड़ोस के फ्लैट में गई थी. यहाँ का हर कमरा काफी सुरक्षित भी था क्योंकि यहाँ पर कोई आता जाता नहीं था.

सेक्सी ब्लू बीएफ पिक्चर इतने में उसने मुझे और राइस लेने के लिए आग्रह किया, पर मैंने मना कर दिया. सुनो जी, आपके लाड़ले को कंपनी वाले दस दिन की ट्रेनिंग पर बंगलौर भेज रहे हैं.

मारवाडी सेक्सी व्हिडिओ एचडी

थोड़ी देर उसने लंड को देखा फिर अपने हाथों से पकड़ा और उसे प्यार से सहलाने लगी और अगले ही पल घप से उसने लंड को मुँह में ले लिया. मेरी ‘हाँ’ सुनते ही उसने एकदम से मेरे होंठों पर किस लिया और मेरी गोद में आकर सीने से सीना लगा कर बैठ गई. मैंने उसकी तरफ देखा तो वो नजदीक आकर कुछ बोला मगर म्यूजिक इतना तेज था कि मैं कुछ सुन नहीं पाई.

कुछ देर बाद उसने अपनी पकड़ ढीली की और मैंने उसका लंड चूसना शुरू किया. तो वो बोला- फिर मुझे भी दे दे अपनी गांड… फिर देख कैसा मज़ा आता है तुझे!मैंने कहा- नहीं भैया, मैं उसके सिवा किसी और के बारे में सोचता भी नहीं. फ्रेंच कटगुलशन जी आगे कुछ बोल पाते तभी बीच में हेमा ने उन्हें टोक दिया- आपको कुछ और नहीं सूझता क्या.

ये पानी कहाँ निकालूं?‘मेरी सूखी चूत में… इतने दिन बाद इसका सावन आया है, अपना रस मेरी चूत में ही निकालना.

मैंने अपना लंड वहाँ रखा और जैसे ही अंदर को धकेला, मेरा लंड किसी गीली, गरम और बड़ी मुलायम सी जगह में घुस गया. अभी तो ये कमीना मेरी चूत को जीभ से ही ऐसे चोद रहा है जिसका कि मैं बता नहीं सकती आहहह… ऐसे ही चूस बहन के लौड़े!जमीला ने सबीना के मुँह को पीछे किया और एक दूसरे को किस करते हुए मेरे मस्ताना पर उछलने लगी.

मैं थोड़ी देर रूक गया और जब वो नार्मल हुई तो धीरे धीरे धक्के मारने स्टार्ट किये. उसकी उत्तेजना उस वक़्त चरम पर थी तो वो बस मोना की चुत को जोर-जोर से चाटने लगी. ’‘अच्छा तो आज तक कितनों से चुद चुकी हो?’‘कॉलोनी के ही 5 पड़ोसी हैं, दोपहर को जब मेरा मन होता है.

मैंने मौके की नजाकत को समझते हुए गर्म लोहे पर चोट मारी।सन्नी ने कहा- इस बात की क्या गारंटी है कि ये तुम्हारी बात मान जायेंगी?मैंने कहा- मैंने बोल दिया ना बस!तभी विकास बोला- और दूसरी वाली के बारे में क्या ख्याल है… क्या वो भी चूसने देगी?मैंने कहा- उसके बारे में मैं ये कह सकता हूँ कि उससे मैं अपना लंड चुसवा सकता हूँ.

कुछ ही देर में उसका शरीर अकड़ने लगा औरउसकी चूत ने पानी छोड़ दिया… मैंने उसका सारा पानी पीकर साफ कर दिया. नहीं एयेए आह…फ्लॉरा को अब डबल मजा मिल रहा था तो वो कहाँ तक टिक पाती. क्या तुम्हें मेरी चुत की गर्मी महसूस नहीं हो रही?फ्लॉरा के खुले शब्दों को सुनकर अतुल एकदम से घबरा गया और उसकी बातों से उसका लंड और अकड़ने लगा.

हीरोइन का सेक्सी वीडियो एचडीजब वो स्टाइलिस्ट कपड़े पहन कर कैम के सामने आती थी तो दिल करता था कैम से निकाल कर इसे चोद दूँ. मैंने उसे रोकना चाहा तो उसने मेरे होंठों को किस करना चालू कर दिया तो मैं कुछ बोल नहीं पाया और मैं भी पूरा नंगा हो गया.

औरत और आदमी

सुमन अब एकदम नंगी थी, उत्तेजना से उसके निप्पल खड़े हो गए थे मगर उसको अभी भी ये डर सता रहा था कि कहीं संजय उसको ऐसे ना देख ले. मैं बैठा ही था कि मेरे मोबाइल पे दुल्हन के सिस्टर का कॉल आया, उसने मुझे जल्दी से उसके घर जो मेरे घर से 7-8 किलो मीटर दूर है, वहाँ आने के लिए कहा. तकरीबन 10 मिनट बाद वो झरने को आया तो बोला- रानी अब मैं झरने वाला हूँ.

मैंने धीरे से अपनी कमर उठाई और उनका लिंग पकड़कर अपनी योनि के मुंह पर सेट किया और धीरे धीरे उस पर बैठने लगी. रात के आठ बज चुके थे, बाहर बहुत सर्दी थी तो चाय का एक दौर और होना था. अतुल उठा फ्रेश हुआ और उसने अपने बैग में से एक टी-शर्ट और लोवर निकाल कर पहन लिया.

खैर उठने के बाद मैंने नहा धोकर नाश्ता किया और अपने एक दोस्त के पास किसी काम से चला गया. मुझे लग रहा था जैसे कोई मेरे लंड में से कुछ खींचने की कोशिश कर रहा है. दोस्तो, मेरा नाम रेशमा है, मैं आपको मेरी पहली सेक्स स्टोरी बता रही हूँ.

भाई के लम्बे-लम्बे झटके देने के बाद फ़ाइनल उसका लंड मेरी गांड में ही झड़ गया. एक हॉल था, जिसमें एक हिस्से में लड़कियों के बैठने के लिये कुर्सियाँ थी और दूसरे हिस्से में लड़कों को बैठने के लिये.

एक दिन मैं ऑफिस से थोड़ा जल्दी आई और डी-मार्ट से जरूरी सामान ले रही थी की किसी ने मुझे पुकारा- हाई निकी!मैंने पलट के देखा तो पीटर खड़ा था.

उसने अपना लंड निकाला, मुझे अपनी तरफ घुमाया और किसी जानवर की तरह मेरे होंठ खाने शुरू किये, साथ में वो मेरे मम्मे बेदर्दी से दबा रहा था. ठरकी मीनिंग इन सोशल मीडियाअब मैं घर पर अकेला था तो मैं टाइम पास करने के लिए लैपटॉप चलाने लगा. पंजाबी गर्ल्स सेक्सइसी बीच पण्डित जी ने फिर कमर उठा उठा कर जोरदार झटके मारना चालू कर दिए. दो दिन बाद जब तिवारी फिर अनीता के घर पहुंचा और ‘भाबी जी घर पर हैं’ ऐसा बोल गृह प्रवेश की अनुमति मांगी, तो अनीता ने उनकी ओर देखा और उनको अन्दर बुलाया.

मुझको जगाने मम्मी आई, फिर बुआ आई पर मैं नींद का बहाना बना कर उठा नहीं.

मैं मामा जी को बोली- अब छोड़ दीजिए और जल्दी से लंड मेरी गांड में डाल दीजिए. सुमन- तो क्या पापा मेरे जिस्म को टच करके बेचैन हो गए थे, तभी आज उनके मन में इतनी वासना आ रही थी. एक मेरी चूची मसल रहा था, एक चूची काट रहा था, एक मेरे मदमस्त होंठों को अपने होंठों से चूसे जा रहा था, एक मेरे नर्म नर्म गालों को अपने दाँतों से चबा रहा था और मेरी गांड मसल रहा था और एक मेरी सबसे बड़ी अमानत यानि मेरी चूत को मसल रहा था, मसलते-मसलते वो उंगली भी कर देता था जिससे मैं चिहुँक जाती थी.

आज दोनों छह महीने पुरानी मॉडर्न लड़कियों वाले आउटफिट में आ गयीं थीं. वैसे आप सबको तो मैंने पहले ही हिंट दे दिया था कि फ्लॉरा की माँ ममता गुलशन की भागी हुई बहन है. इतने में ही उसने अपने झटके थोड़े तेज कर दिए और तेजी से आह आह करने लगा.

फिक्स ओपन

अभी दर्द रुका नहीं कि फिर एक जोरदार धक्का मारा और पूरा लण्ड मेरी गांड में घुसा दिया. देखना आज तो कॉलेज में तेरा ये रूप देख कर एक-दो लड़के बेहोश हो जाएँगे. मैंने भाभी को बिस्तर पर चित्त लेटा दिया और उनके मम्मों को दबाने लगा.

’मेरी चहकती आवाज सुन कर वो दौड़ कर बेडरूम में आया और उसने मुझे दुल्हन के लिबास में सजी हुई देखा तो वो मचल गया।‘आज तो तुम बहुत ही मस्त लग रही हो रानी।’‘तेरे लिए ही सजी हूँ राजा.

उसने फ़ौरन अपने होंठ चुत पे लगा दिए और जीभ से चुत को चूसना शुरू किया.

शायद उस दिन चाची की नजर मुझ पर आ गई थी कि मैं उनकी प्यास बुझा सकता हूँ. मैं जोर जोर से चिल्लाने लगी और बेटे का साथ देने लगी- आअहह आअहह बेटा रुकना नहीं. आदिवासी सेक्सी पिक्चरइस कल्पना में चुदाई के दृश्य इतने कामुक तरह से चित्रित किए गए हैं कि आपका मन चुदाई के लिए एकदम से भड़क उठेगा.

फिर मेरी माहवारी आ गई उसके बाद हमारी ट्रेनिंग भी खत्म हो गई और सब अपने अपने घर. जिनके साथ लड़कियाँ नहीं थी वो ललचाई नजर से और लड़कियों को देख रहे थे. मैंने भी अपनी टाँग को ऊपर उठा कर मामा को लॉक कर लिया, जिससे मेरी चूत और कस सी गई.

रीना कविता से बोली- अब तीन दिन हम बिल्कुल ऐसे ही रहेंगी जैसे हॉस्टल में रहती थी. अब जैसे मैं जोर से उसके चुचे मसलता, तो वो भी लंड पर अपना दबाव बढ़ा देती.

अब सबसे पहले सबीना और जमीला ने मेरे को चाट कर बीयर साफ़ की, फिर मैंने उन दोनों के शरीर को चाट कर साफ़ किया और सब किचन में ही दोनों एक साथ फिर मेरे मस्ताना को चूस चूस कर खड़ा करने लगी.

com/chudai-kahani/dosti-ji-bhar-ke-chudi-bulbul/मुझे चोद दो!यह कहते हुये वो मेरे कपड़े उतारने लगी, उसने जल्दी जल्दी मेरे सारे कपड़े मेरे बदन से जुदा कर दिए. मेघा एक शाल ओढ़ कर दूसरे कमरे में गई पर जाते टाइम उसने बोला- नंगी जा रही हूँ तो मनोज बोलेगा कि फ़ोन क्यों लाई हो तो?तो मैंने कहा- ठीक है, तुम जाओ, मैं खिड़की मैं से देख लूँगा. अरे भैया, क्या बताऊँ? बहुत बुरा हाल है! बहुत मन करता है! आप तो बहुत किस्मत वाले हो जो आपको भाभी जैसे सुंदर पत्नी मिली! भाभी के साथ सेक्स करके आपको बहुत मजा आता होगा न?हाँ यार! बहुत सुंदर है नीता! और इसकी चूचियाँ! बहुत अच्छी हैं, कितनी सख्त हैं आज भी!भैया, सच में?हाथ लगा कर देखना है क्या? ये बोले.

ओल्ड ट्रैक्टर आप पता बता दें, मैं वहीं आता हूँ।भाई साहब- नहीं, अभी चलें। मैं कार लाया हूँ।मैं- मैं सुकांत के साथ आता हूँ, डाक्टर साहब आ ही रहे होंगे रास्ते में हैं।भाई साहब सुकांत की ओर चेहरा घुमा कर- अपने पास दो गाड़ी हैं। एक में तुम सब लोग पहुंचो।फिर मेरी ओर मुड़ कर बोले- इन सबको अपना मेकअप करना है. फिर उसने वही किया- जीजू, कल आपकी लुल्ली से पानी जैसा क्या निकला था?गोपाल- वो एक किस्म का रस होता है.

रात की ज्यादा कामुकता की वजह से नींद नहीं आती तो मैं और नशा करती ताकि नींद आ सके. मैं उसे उठा कर बैडरूम में ले गया और 69 की पोजीशन में आकर उसकी गुलाबी, गोरी, चूत को चूसने लगा. जब ऋतु से दर्द बर्दाश्त नहीं हुआ तो वो मेरे कंधे में जोर से नाख़ून से नोचने लगी मगर मैंने उसे छोड़ा नहीं.

बिहार की भोजपुरी सेक्सी वीडियो

कैसा लग रहा है!संगीता ने अपने होंठों को हल्के से अलग किया तो चन्दन का 9” का लंड सरसराता हुआ संगीता की जीभ को रगड़ता हुआ अन्दर चला गया. अब मैंने उसे चूमते हुए उसकी नेक पर किस किया और चाटने लगा, वो अपने मम्मों को ऊपर कर रही थी. फिर चुद जाने के बाद अगले दिन जब वो राज खुल ही गया था कि मैंने, उसके ससुर ने ही उसे चोदा था, उसके बाद भी वो मुझसे कई बार चुदी थी.

मैंने उसके गले में हाथ डाल उसे अपनी ओर खींचा उसका गाल चूमते हुए उससे हल्की फुल्की बातें करने लगा जैसे घर में कौन कौन है, एजुकेशन क्या है. अब इतनी बात के बाद मैं भी लेट नहीं होना चाहता था क्योंकि हमें एक घंटे से ज्यादा होने को आया था.

अब तो बस मेरे दिमाग में उसका मोटा ताजा लंड लंड ही घूम रहा था और मैं इसी जुगाड़ में था कि इसका लंड अब कैसे लिया जाये.

फिर अंकल आंटी से मैंने थोड़ी बहुत बात की और शांत हो गया, मम्मी आंटी अपनी बातें करने लगी. तुम सच में बहुत हैंडसम हो और तुम्हारे लंड की गर्मी सीधे मैं अपनी चुत पर महसूस कर रही हूँ. मेरा मन थोड़ा टूट गया लेकिन मैंने अपने मन में कहा ‘चलो कोई नहीं, चूत तो मारनी ही है, एक बार यह मेरी रंडी बन गई फिर तो जब चाहे जब नंगी कर दूंगा.

इस पर सविता भाभी ने इठला कर कहा- लेकिन अभी तक मैंने इन्हें किसी गैर मर्द को नहीं दिखाया है. मुझसे ग़लती हो गई, अब मैं कभी ऐसा नहीं करूँगी।सुमन के चेहरे की खुशी देख कर गुलशन जी भी बहुत खुश थे।गुलशन- अच्छा ठीक है अब तुम भी आराम कर लो बेटा. फिर जीजाजी रुक गये और बोले- अनु, बच्चे के कारण तुम्हारी चूत थोड़ी फैल गयी है, मुझे मज़ा नहीं आ रहा है.

सुमन ने थोड़ी देर सोचा मगर उसके दिमाग़ में कोई आइडिया नहीं आया, जिससे वो खेल के बहाने पापा को मज़ा दे सके.

सेक्सी ब्लू बीएफ पिक्चर: कुछ देर करने के बाद उसने अपना स्पर्म उस पॉलिथीन में भर दिया और वो मुझे फिर से होंठों पे किस कर के चला गया. उसने टाइट टीशर्ट और बहुत ही छोटी टाइट, बदन से चिपकी हुई पतली सी निक्कर डाल रखी थी, जिसमें से उसकी चूत के उभार साफ दिखाई दे रहे थे.

नज़र सामने पड़ी तो दीवार पर जगह जगह चूत के चित्र बने हुए थे साथ में कॉल गर्ल्स के फोन नम्बर शहर के नाम के साथ लिखे थे. मैंने चड्डी को एक ही झटके में उतार दिया और पूरे जोश में आकर चूत चूसने लगा. मैं भी खुश हूँ, फिर मैंने काजल भाभी की सहेलियों के साथ भी चुदाई की.

चाची- अह्ह्ह उई उई आज तू मुझे मार डाला!मैं लंड को अंदर बाहर धीरे धीरे कर रहा था.

मैं जल्दी से उठ कर बाथरूम चली गयी, बाथरूम में चूत की सफाई की और सारा सू सू निलाल दी, उसके बाद में बहुत आराम पर थकी हुई महसूस कर रही थी, गांड में उंगली डाली तो छेद पूरी तरह से ढीला हो चुका था, मैं बाथरूम से बाहर आई तो मामा जी बाथरूम चले गये फ्रेश होने. सारी रात मुझको नींद न आई… पूरी रात मैं ऊपर वाले की मिन्नतें करता रहा कि मेरे उठने से पहले वो अपने घर जा चुकी हो. ऐसा करने से लंड जैसे सरिता की बुर के अंदर घुसा तो और वो अब उतावली हो के रमेश को बुर फाड़ने के लिए कहने लगी- और जोर से चाचा जी.