ब्लूटूथ वाली बीएफ

छवि स्रोत,एक्स+एक्स+एक्स+वीडियो+सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी 13 साल की: ब्लूटूथ वाली बीएफ, बाकी के बचे तीन दो लड़कों ने भी बारी बारी से मेरी चुत चुदाई के पूरे मज़े लिए.

न्यू वीडियो सेक्सी फिल्म

फिर आपने मुझसे कहा कि प्लीज़ प्रकाश मैं पहले आपका सूजा हुआ लंड ठीक कर देती हूँ. सेक्सी पुलिस कीएसएचओ ने एसआई से कहा कि इनको गाड़ी में बैठाकर जहां से लेकर आए थे वहीं पर सम्मानपूर्वक छोड़ कर आओ.

सिसकारते हुए वो बोली- चोदो अब मुझे … आह्ह … मेरी प्यासी वीरान चूत को अपने लंड के माल से भर दो. सेक्सी हिंदी फिल्म भेजेंमैं समझ नहीं पाई कि हुआ क्या! उन्होंने कुछ नहीं कहा और चुपचाप चादर ओढ़ कर सो गये.

मैं मीठे मीठे दर्द के कारण मजे में कुतिया की तरह मद्धिम स्वर में चीखने लगी.ब्लूटूथ वाली बीएफ: इसके बाद एक बार मुझे उसके घर जाने का अवसर मिला, तो मैं उस दिन उसे चोदने की पूरी तैयारी से गया हुआ था.

साली जी के मुंह से आनंद भरी आह निकल गई और मैं उसके बूब्स मसलता हुआ उसे चोदने लगा.चूंकि रश्मि के पास इतने पैसे होते नहीं थे इसलिए ज्यादा खर्च नहीं कर पाती थी.

सेक्सी आंटी बूब्स - ब्लूटूथ वाली बीएफ

कुछ देर होंठों की चुसाई के बाद अब मैं उसकी गर्दन पर आ गया और उसने मेरे सर को पीछे से पकड़ कर अपनी उंगलियां मेरे बालों में डाल दीं.फिर हम दोनों ट्रायलरूम से बाहर आ गईं और सारा सामान खरीद कर वापस घर आ गईं.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:पंजाबन की बेटी के बाद पंजाबन भी चुद गयी. ब्लूटूथ वाली बीएफ उफ्फ … लड़की ने बहुत कुछ सीखा हुआ था … लंड को उसकी जीभ का अहसास मुझे जन्नत का अहसास करा रही थी.

रश्मि ने वैसा ही किया और उसकी गांड अब रमेश के लंड के निशाने पर आ गयी.

ब्लूटूथ वाली बीएफ?

उन्होंने तुरंत मेरा हाथ पकड़ कर खींचा और मेरे हाथ को अपने लंड पर रख दिया और बोले- ये लो सोनम मेरी जान, खेलो इससे. अमन उसकी पीठ को चूम रहा था और मैं उसके स्तनों को दबाते हुए उन्हें चूस रहा था. जैसे ही धीरे धीरे लण्ड आगे बढ़ा तो एक जगह जाकर रुक गया और बिन्दू कहने लगी- अब बस करो, अब दर्द हो रहा है.

जिस पर उसके पति ने बताया कि जब हम दोनों घर से निकले थे, तो मैं अपनी वाइफ को बुर्का पहना कर यहां लाया था. मैं चलते हुए अर्पित के पास पहुंची तो वो बोला- कहाँ रुक गयी थी? और वो दोनों कहाँ हैं?मैंने बोला- वो नहीं आ रहे. अब आगे की Xxx न्यू गर्ल स्टोरी:रमेश ने रश्मि का हाथ अपने लंड पर रखवा दिया और उसकी चूचियों को भींचने लगा.

वो कभी रमेश के होंठों को तो कभी उसकी गर्दन को और कभी उसकी छाती को चूमती. कुछ दिन बाद मम्मी ने कहा कि हम लोग दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर घूमने जा रहे हैं. मैंने शर्ट के ऊपर के तीन बटन खोल रखे थे, जिसमें से मेरे पूरे बूब्स नजर आ रहे थे.

मां लंड हाथ से सहलाते हुए बोलीं- हर्षद तेरा लंड कितना लंबा और मोटा है. अर्जुन बड़बड़ा रहा था- आह जान … क्या चूसती हो … उम् अह्ह्ह फ़क!ऐसा हो भी क्यों न … मेरे मुँह में जो लंड जाये और आहें न भरे? ऐसा हो ही नहीं सकता.

नीचे स्कर्ट मिनी थी, तो उससे वैसे भी मेरी पूरी टांगें साफ़ दिखती थीं.

अगली बार अपनी चुत में जेठ जी का साढ़े सात इंच का लंड कैसे लिया और मेरी चुदाई के बाद मेरी क्या हालत हुई.

मैंने अपनी गांड उठा कर उसे हरी झंडी दे दी और उसी पल मेरे छोटे भाई ने मेरी सीलपैक बुर में लंड ठोक दिया. मैं इसमें पीछे रहने वाली हूं क्या?मैं चौंकते हुए बोली- मतलब!दीदी बोली- मेरी छुटकी, मैं तेरे पति को टेस्ट कर चुकी हूँ. मेरी सांसें तेज चल रही थी।कुछ ही पल बाद वो बैडरूम में दाखिल हुआ और मेरे बगल आकर लेट गया.

” कहते हुए उसने मेरा सिर अपने हाथों में पकड़ लिया और जोर-जोर से चुम्बन लेने लगी।अब मैंने भी अपने एक हाथ से उसके एक उरोज को पकड़कर मसलना शुरू कर दिया और अपना एक पैर उसकी जाँघों के बीच फंसा लिया। जीन पैंट में कसी रेशम सी मुलायम जांघों का अहसास पाते ही मेरा लंड तो कसमसाने लगा।और फिर जैसे ही मैंने एक हाथ उसकी जांघों के संधिस्थल के पास फिराने की कोशिश की. फिर उसने जैसे ही मेरी चूत के ऊपर चूमा तो मेरी सारी बॉडी में सरसरहाट दौड़ गयी. वीना और श्लोक की मस्त चुदाई के बारे में आगे जानने के लिए कहानी का अंतिम भाग जल्द ही आपके सामने होगा.

जब मैं डेज़ी से मिला, तो मेरा उतरा हुआ चेहरा, परेशानी और काम का दबाव देख कर डेजी मुझसे बोली- क्या बात है राज, क्लास-वन अफसर क्या बने, तुम तो जीना भूल गए हो?मैं पहले तो उसे इग्नोर करता रहा, लेकिन जब वो बिल्कुल मेरे पास सट कर बैठ गई और मेरे हाथ अपने हाथों में लेकर बोली- बताओ ना मुझे … क्या बात है बाबू?मैंने उसे अपनी बुरी आदतों और सेक्स के लत के बारे में बताया.

मैंने अपने दोनों हाथ उसकी कमर में डाले और उसकी चूची पर मुँह लगा दिया. मैंने नेहा के दोनों चूतड़ों को पकड़ा और उसे अपने लंड की तरफ खींच लिया. अब आगे:इस सबके बाद मैं सोचने लगी कि अभी तो मैंने फ़ोन किया था, तो शेफाली बोली थी कि उसकी किटी पार्टी है … फिर अचानक ये कैंसिल कैसे हो गई.

नसीम नखरे करने लगा- वाह भाईसाहब … बार बार मेरी ही लोगे?प्रकाश भाईसाब बोले- साले नखरे नहीं … जल्दी से खोल … वरना समझ ले. अमन के जाते ही मैं किचन में गया और नीरा की गोरी पीठ पर किस करने लगा. तो दोस्तो, आपकी मांग के अनुसार आज की सेक्स कहानी मेरी और मेरी ममा की है.

अह्ह्ह मा मैं आई!हाँ मेरी रानी … और ले … उफ्फ क्या चूत है तेरी!” कह कर अर्जुन ने रफ़्तार बढ़ा दी और मैं उसके लंड पे झड़ने लगी।मेरा जिस्म शांत हो गया था लेकिन अर्जुन मुझे चोदे जा रहा था.

सरोज फर्स्ट एड बॉक्स ले आई और रुई और पानी से मेरा घाव साफ करके उस पर बैंडेज लगाई. फिर आपने मुझसे कहा कि प्लीज़ प्रकाश मैं पहले आपका सूजा हुआ लंड ठीक कर देती हूँ.

ब्लूटूथ वाली बीएफ क्यूँकि बाहर आवाज नहीं जा सकती थी इसलिए हम पूरे जोश के साथ चुदाई कर रहे थे।मैंने उससे पूछा- हुआ नहीं क्या तुम्हारा? काफी देर हो गयी, अब तो मैं भी थकने लगी हूँ।उसने कहा- अभी हो जाएगा. अम्मी भी मेरे टट्टों को सहलाते हुए मेरा पूरा लंड अपने हलक तक लेकर चूस रही थीं.

ब्लूटूथ वाली बीएफ बिन्दू मेरे सामने केवल नायलॉन की एक टाइट निकर में खड़ी थी जिसमें से उसकी पाव रोटी सी फूली बुर साफ दिखाई दे रही थी. तभी भाभी ने आवाज़ लगायी और कहा- कोलगेट दे दीजिये, मैंने ब्रश नहीं किया है.

और मुस्कुराने लगी।सुनील ने पूछा- तुमने पहले सेक्स तो किया हुआ ही है, इतनी खिल रही हो, इतनी खूबसूरत हो, बिना सेक्स के तो नहीं हो सकता.

ब्लू फिल्म नंगी करते हुए

सोचने लगा, तभी तो बोलते हैं कि खूबसूरती तो हमारे पहाड़ों में ही बसती है. ऑटो वाले ने सामने वाली सीट से एक लड़के को आगे बुला लिया और मुझसे बोला कि अब बैठ जाओ. मम्मी ने कहा- थोड़ी देर में मैं अतुल को कुछ सामान देकर भेज रही हूँ … तुम घर पर ही हो ना!मामी ने कहा- हां दीदी जी … मैं घर पर ही हूँ … मैं कहां जाऊँगी.

रास्ते भर वे मेरी तरफ देख देख कर मुस्कुराती रही और आंखों आंखों में मेरा शुक्रिया अदा करती रही. ” कहते हुए मैं लैला के ऊपर से हट गया।की होच्चे?” (क्या हुआ) लैला हैरानी से मेरी ओर देखने लगी।मैंने उसकी कमर को पकड़ते हुए उसे थोड़ा घुमाया और फिर दोनों हाथों से उसकी कमर पकड़ कर उसे डॉगी स्टाइल में कर दिया. मम्मों के मसलने से मेरी चूत में और भी सुर्खी आ गई और मैं थॉमस के लंड पर और जोर जोर से उछलने लगी.

मैं- मेरी वजह से क्यों?वो- और नहीं तो क्या! बस तुम तो चूमे जा रहे थे … मेरी चूचियों को कैसे चूस रहे थे तुम!मैं- अच्छा नहीं लगा क्या?वो- अच्छा तो बहुत लगा.

मैंने नेहा से पूछा- क्या हुआ?नेहा बोली- कुछ नहीं, बहुत बड़ा लंड है, पहली बार लिया है, ऐसा लगता है जैसे सुपारा बच्चेदानी के अंदर घुस गया है?मैंने कहा- दर्द हो रहा है या मजा आ रहा है?नेहा ने आंखें बंद करते हुए कहा- एक बार दर्द हुआ था, अब मजा आ रहा है!और यह कहकर नेहा ने अपने दोनों हाथ मेरी कमर पर कस लिए. मैंने जैतून का तेल अपने लंड पर खूब अच्छे से लगाया और थोड़ा सा तेल उसकी गांड के छेद पर टपका कर सुपारा रगड़ने लगा. फिर वो उठी और मुझे नीचे पटक कर मेरे लंड को भूखी शेरनी की तरह चूसने और खाने लगी.

और एक गिलास में पानी लेकर धीरे-धीरे शराब की भाँति पीते हुए प्रतिभा के हुस्न का नशा करने लगा. शर्मिष्ठा के दर्द से छटपटाने की आवाजें तब भी लगातार बाहर आ रहीं थीं. तकरीबन दो मिनट तक उसने मेरी चूत चाटी और अपनी तौलिया खोल कर मुझे लंड चुसवाने लगा.

चूत पहली ही रस बहा कर चिकनी और चिपचिपी हो चुकी थी, इसलिए चूत के मुहाने पर लंड का सुपारा रखते ही चूत ने मुँह खोल कर स्वागत किया. रमेश देख कर हैरान था कि इतने बुरे तरीके से मुंह चोदने के बाद भी ये मुस्करा रही थी.

ये कह कर मैंने फाइनल दाना डाला और फिर से कहा- चलो अब हम दोनों को देर हो रही है. वो उदास होते हुए बोलीं- काश मैं उस टाइम अपने घरवालों से लड़ी होती, तो आज मेरी ज़िंदगी खुशहाल होती. कुछ ही पलों बाद मैं रॉबर्ट के लंड पर जोर-जोर से उछल रही थी और ‘आह आह आह.

थॉमस ने अपने दोनों हाथ मेरी गांड पर रखे हुए थे और तेजी में मेरी गांड को आगे पीछे करते हुए मेरी चुत को तेज तेज चोदने लगा.

फिर रश्मि ने अपनी ब्रा और पैंटी को रमेश के हाथों में गिफ्ट की तरह सौंप दिया. मैं रोहन से बोली- रोहन आप राज़ी क्यों हुए? मैं आपके सामने कैसे करूंगी … मुझे तो पीछे से करने में ही बहुत अजीब लग रहा है … तो आपके सामने कैसे?रोहन बोले- देखो अंजलि, मुझे पता है कि तुम्हें भी थॉमस के लंड से चुदने में बहुत मजा आ रहा है. इसका कारण बिन्दू की मम्मी सरोज का बेरुखा और झगड़ालू स्वभाव था, अतः कोई भी उनके बीच में नहीं पड़ना चाहता था.

साथ ही डाक्टरों ने बताया कि सेक्स करते समय आदमी की दिल की धड़कन बढ़ जाती है और उस काम में मेहनत भी होती है, अतः सेक्स से पूरा परहेज रखना है. अब मैंने रसगुल्ला जो पूजा की चुत पर रखा, तो उसके चिपचिपे और ठंडेपन से पूजा सहम सी गयी.

मैंने अपनी शर्ट के बाकी के बटन खोलना शुरू किए और शर्ट के सारे बटन खोल कर उसे उतार कर टेबल पर रख दी. ये देखकर जेठ जी ने मुझे गोद में उठाकर बिस्तर पर धकेल दिया और अगले ही उन्होंने एक हाथ से अपना कच्छा उतार दिया. नसीम बार बार उसे मनाते हुए पूछ रहा था कि यार मजा आया कि नहीं … अगली बार और बढ़िया क्रीम लाउंगा.

जीजा साली का रिश्ता

फिर उसने जोर से मम्मी का चेहरा पकड़ा और उनको जोर जोर से किस करने लगा.

इसको चोद कर फिर से हरी कर दो … आह्ह … आह्ह … येस।अब वो आगे की ओर पलटी और वेबकैम की तरफ मुंह करके अपनी टांगों को फैलाकर टेबल के दोनों ओर कर लिया. और मैं इस वार्तालाप के जरिये कुछ नतीजों पर पहुंचा, जैसे वो दोनों बहुत अमीर घरानों से थे, क्योंकि उनके पहनावे ही ऐसे थे कि इस बात को जाना जा सकता था।उन लोगों ने जहाँ बैठकर मुझसे बातें की, वह कमरा भी शानदार था. मैंने बताया था कि मैं कामोत्तेजना के लिए आयुर्वेदिक दवा का सेवन करता था, इसलिए मैं सेक्स क्षमता के अलावा भी बाकी समय पर चुस्त और एक्टिव रहता था.

बाप दिन रात बेटी की गांड को चोदने में लगा रहता था जिससे रिया तंग आ गयी और उसने अपने डैड की शर्त जल्दी से जल्दी पूरा करने की सोची ताकि डैड के लंड से उसका पीछा छूट जाये. वह शायद कुछ तैयार सा ही था … कुछ नखरे तो करता रहा, पर प्रकाश भाई ने जब धीरे से लंड पर थूक मला, तो नसीम लंड देखता रहा. चुदाईकी कहानीभाभी जोर से आवाजें निकालने लगीं- ओहो … हए ह्म्म … आ … जोर से … आंह और ज़ोर से करो.

मैंने आंटी की चुत में लंड पीछे से डाल दिया और ब्लू फिल्म जैसी एक पोज़िशन में चोदने लगा. ऐसे करते करते ही मैं तेज सिसकारी लेते हुए बिस्तर पर झड़ गयी।कुछ देर ऐसे ही निढाल पड़ी रही फिर भीगी हुई मूली को चूसते हुए बाथरूम की तरफ चल दी.

नीला निशांत के निप्पल्स पर अपनी जीभ फिरा रही थी और निशांत कुछ बड़बड़ा रहा था. उसके बाद उसे पोर्न वीडियो भी दिखाए, जिससे मेरी कुंवारी गर्लफ्रेंड भी बहकने लगी. वो भी अभी कुँवारा था और किराये पर ही अपने दोस्तों के साथ रह रहा था। कुछ ही दिनों में वो मेरे शीशे में उतर गया लेकिन बात तो फिर भी वहीं अटक रही थी.

अंजलि का बर्ताव मेरे साथ नहीं बदला है, पर मैं तो सच में ही थॉमस की गोद में बैठना चाहती थी. जब आपने मेरी चूत की सील तोड़ी थी तब भी तो दर्द के मारे मरते मरते बची थी; मैं इस बार भी दर्द सह लूंगी. थोड़ी देर में मैंने देखा जो हरकत मैं कर रहा था वही भाभी ने शुरू कर दी.

पर हमारा कॉलेज तो जीतेगा ही। और वैसे भी मैं जो चीज़ मांग रहा हूँ, वो कभी खत्म नहीं होगी तुम्हारे पास से। अगर जीत गयी तो तुमसे सब खुश हो जाएंगे, सोचो तुम्हारे दोस्तो में, कॉलेज में, परिवार में कितनी इज्ज़त बढ़ जाएगी.

मेरी ब्रा उतरते ही मेरी हरी-भरी चूचियां खुली हवा में मानो नाचने लगी थीं. उन्होंने बेडशीट निकाल कर रख दी और मुझसे बोलीं- चलो बाथरूम में चलते हैं हर्षद.

मैंने कुच्ची को बताया, तो वो बोला- अबे कितना चोद दिया था कि उसकी बुर में अब जाकर खुजली हुई है. लेकिन बॉस ने अपने हाथ से गर्लफ्रेंड का मुँह बंद कर दिया और उसके मम्मों को पीते हुए दबाने लगा. इस पर भाभी ने मुझसे प्रॉमिस लिया कि ये एक ही बार होगा और किसी को पता नहीं चलेगा.

नेहा की चूत की दोनों ऊपर की पुटियां एकदम सुंदर, उभरी हुई, कसी हुई और तरोताजा लग रही थी. जो भी मुझे देखे, बस अपने बिस्तर पर लिटाने का ख्वाब देख ले। मेरे बदन के दो सबसे आकर्षक हिस्से है पहला मेरे स्तन, जो 34C के आकार के हैं. मुझे ये समझ ना आए कि इनके साथ मैं क्या बात करूँ? अब ये दोनों तो मेरे साथ सेक्स करने आए थे, और इन दोनों ने पहले कभी सेक्स किया नहीं, मतलब ये दोनों तो नादाँ थे.

ब्लूटूथ वाली बीएफ मेरी मेरी चुदाई की आग की कहानी के पिछले भागसहेली के पति से फ्री सेक्सी इंडियन चुदाई-2में अब तक आपने पढ़ा कि शेफाली ने मुझे पहले तो किसी किटी पार्टी में जाने का कह दिया था. और ये कह कर आप मेरे लंड को जींस के बाहर से पानी साफ करने के बहाने सहलाने लगीं.

छत्तीसगढ़ी पहेलियां

इस पर मेरी सौतेली मां बोलीं- हर्षद, तुमने तो बरसों से प्यासी अपनी माँ की चुत की आग बुझा दी है. मैंने उसकी पैंटी से उसके बहती चूत को पौंछा।उसकी चूचियों को सहलाते हुए मैंने पूछा- अभी चुदाई से पेट नहीं भरा?नहीं, मेरा बस चले तो तुम्हारे लंड को मैं चूत के अंदर ही रखूं।”तो चलो, शुरू करते हैं. मैंने बाँहें फैला दीं तो साली जी तुरंत मेरी बांहों आ गयीं और दो मिनट के भीतर हमारे कपड़े फर्श पर पड़े थे और हम दोनों बिस्तर पर मादरजात नंगे चूमा चाटी करने लग गए थे.

अब मैं उनका सर अपने खड़े लौड़े पर दबा रहा था और लंड आगे पीछे करते हुए अम्मी के मुँह को चोद रहा था. ऐसा कहकर आपने मुझे बिस्तर पर लिटाया और हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए. ஸ்க்விதேவ் தமிழ்बीच बीच में मैं लंड को पूरी तरह चुत में जड़ तक डाल कर रुक जाता और फिर उसी स्पीड से चोदने लगता.

मुझे अहसास हुआ कि मैं जितना ज्यादा चूत चूस कर सुख पहुंचाता हूँ, भाभी भी लंड को उसी तेजी से चूस कर मेरा जवाब देती हैं.

थोड़ी थोड़ी देर में मैं भाभी की उंगली पर अपनी उंगली फिराने लगा।कुछ देर बाद भाभी का रिएक्शन जानने के लिए मैंने उंगली को दूर कर दिया. गुरजीत के टाइग्रेस बनते ही मैं उसके पीछे आकर घुटने के बल खड़ा हो गया और गुरजीत की चूत के मुहाने पर अपने लण्ड का सुपारा रखकर ठोंक दिया.

मैंने लंड की खाल को ऊपर नीचे करके देखा, जिसमें गुलाबी रंग का टोपा ऐसे खुल गया था जैसे वो अभी ही मेरी चुत को फाड़ डालेगा. उन लोगों ने रोकने की बहुत कोशिश की, पर मैंने मना कर दिया और वहां से निकल गया. विन्नी भी अब मेरे साथ साथ मेरे गले मे दोनों हाथ डाल सर झुकाए मेरी गोद में बैठी थी.

इसके बाद अपनी जांघों तक मैंने ब्लैक रंग की स्किन पहनी उसके बाद मैंने थाई शू पहन लिए, जो जाँघ तक आते हैं.

फिर मैंने उसका बायां पैर ऊपर प्लेटफोर्म पर रखवा दिया जिससे उसकी चूत अच्छे से खुल कर मेरे लंड की निशाने पर आ गयी. मैंने उसकी पतली कमर पर हाथ रख कर अपनी ओर खींचा और सबसे पहले उसकी सुराहीदार गर्दन पर चुंबन अंकित किया. मैंने बिन्दू के गालों को हथेलियों में लिया और उसके होंठों पर बहुत ही प्यारा किस करके उससे कहा- अब तुम सो जाओ, हम जब भी मौका मिलेगा, तभी करेंगे.

এডাল ছবি দাওउन्होंने बेडशीट निकाल कर रख दी और मुझसे बोलीं- चलो बाथरूम में चलते हैं हर्षद. क्योंकि मैं उनके भरे हुए सुन्दर कड़क लंड का भरपूर मजा लेना चाहती थी.

आंटी सेक्सी बीपी

मुझे उम्मीद है कि आप सब इस तरह से मुझे प्यार और समर्थन देते रहेंगे और मेरी कहानी को पसंद करते रहेंगे. पत्नी के वापस लौटने पर मैंने अकेले रहने वाले एक मित्र के फ्लैट की चाभी ले ली और हमारा काम वहां चलता रहा. चुत होती ही ऐसी चीज है … जिस पर औरत का गुमान और लंड का सम्मान टिका होता है.

पर कुछ करने की मेरी हिम्मत नहीं होती थी … क्योंकि वो अलग समुदाय से थी. तो उन्होंने अपनी आंखें खोल दीं और बोलीं- हर्षद आज मैं पूरी तरह से तृप्त हो गयी हूँ. और फिर ज़बरदस्ती मैं उससे चिपक गयी और किस करने लगी उसके होंठों को।अब हम दोनों ही गर्म होने लगे थे। उसका लंड पैंट में खड़ा होने लगा था.

”सच्ची?” सानिया के चहरे पर आई मुस्कान तो ऐसी थी जिसे लाखों रुपये देकर भी नहीं पाया जा सकता।और फिर मैंने अपने पर्श से सौ-सौ के दो नोट निकाल कर सानिया को पकड़ा दिए। उसने पहले तो गौर से उन नोटों को देखा और बाद में उन्हें जोर से अपनी मुट्ठी में भींच लिया।और हाँ. उनके जाते ही मैंने शादी कार्ड का पीडीएफ खोला, जो मुझे खुशी ने भेजा था. फिर भाभी ने मेरी गोटियां सहलाईं और कुछ तेज झटके के साथ मैंने अपना पूरा माल भाभी की चूत में डाल दिया.

कभी मैं उसके आंड को मुँह में लेती तो कभी लंड के ऊपरी हिस्से पर जीभ घुमाती. नमकीन चुतरस के स्वाद के साथ चॉकलेट का स्वाद लेना मुझे एक अलग तरीके की मस्ती का अहसास दिला रहा था.

लंबे मोटे लंड को पूरा ग्रहण कर प्रतिभा मजे और दर्द से कराह उठी … और चुदाई का दौर चल पड़ा.

और दूसरी बात ये कि तुमने लिए भी, तो दो क्यों लिए?खुशी ने कहा- अब ले लिए हैं, तो रख लो ना. बंगाल सेक्सी पिक्चरफिर मैं अदिति के बालों में उंगलियों से सहलाने लगा और फिर उसका सर पकड़ कर अपने लण्ड पर दबाने लगा. सेक्सी संभोग व्हिडिओधीरे धीरे मेरे लंड ने मुझे जागृत करना शुरू किया … तो ये एहसास होता चला गया कि अब मुझे अपने एयरोप्लेन को किसी एयरपोर्ट पर लैंड करवाना ही पड़ेगा, नहीं तो ये कहीं क्रॅश हो जाएगा. उससे बात हुई, तो उसके पति ने कहा- खाना हम सारे मिल कर किसी होटल में खाएंगे.

वैसे भाभी सुकोमल तो इतनी थीं कि गुलाब की पंखुड़ियों से भी खरोंच आ जाए, पर बदन की सुडौलता और अंगों के कटाव की वजह से मैं उसे बलिष्ठ कहने पर विवश था.

प्रतिभा ने अपना सर उठाया और मेरी आंखों में देख कर कहा- तुमने मुझे जो उपहार दिया है. फिर तो हमेशा ही दूसरा लण्ड तलाशती रहोगी आप, ये मेरा अनुभव कहता है।यही अभी मेरे साथ भी हो रहा था। मैं उसका लण्ड चूसते हुए एक अलग ही दुनिया में पहुंच गयी वो भी बहुत मजे ले रहा था. मैंने कहा- कल से?वो- हां कल जब तुम मिल कर गए हो, तब से इसका बहुत बुरा हाल है प्लीज़.

वैसे मुझे लगता है कि मेरी यह कहानी ज्यादा कामुकता और उत्तेजना से भरी होगी, लेकिन मेरा सोचना सही है या गलत ये आप मुझे मेल करके अवश्य बताएं।क्योंकि आप लोगों के मेल आने पर ही अगली कहानी के लिए हौसला मिलता है. सोफा भी बेड से सिर्फ दो मीटर की दूरी पर था, जहां से रोहन को मेरी चुदाई के नज़ारे साफ दिख सकते थे. उसकी ये बातें सुनकर मैं और जोश में आ गया और तेजी से उसकी चूत में उंगलियां करने लगा.

लड़का लड़का का बीएफ वीडियो

उसके बाद बॉस ने फिर से एक बार मेरी गर्लफ्रेंड की पूरी बॉडी को किस किया और उसके निप्पल चूसे. इधर मैं रोज जिओ एप में डिटेल चेक करता था कि किससे कितना बात करती है, कब मैसेज भेजती है. पर हां, मेरे द्वारा जरा भी न नुकुर करने पर साले गालियों की की बौछार कर देते थे- मादरचोद … भोसड़ी वाले … साले मेरे लंड का मजा ले लिया … अब हरामी बहाने कर रहा है … जल्दी डाल, मेरी गांड भी कुलबुला रही है.

वो मुझे करीब एक मिनट तक देखती रही, तो मैंने उसे हल्की सी मुस्कान दे दी.

आधा घंटा गांड मारने के बाद उन्होंने अपने लंड का सारा माल मेरी गांड में छोड़ दिया और लुड़क गए.

तो दोस्तो, आपकी मांग के अनुसार आज की सेक्स कहानी मेरी और मेरी ममा की है. काफी मादक था उसका लंड … मेरी नज़र उसपे गड़ सी गयी।चाहत, कुतिया बन के आओ और मेरे लंड को अपने मुँह के जूस से खुश कर दो. दिव्या भारतीxxxमैंने उससे कहा- मेरे हाथ पकड़ लो और मेरे लंड को अपनी चूत में अन्दर बाहर लेकर लंड पर घुड़सवारी करो.

मैंने मीता की एक चूची की मुँह में भर लिया और बच्चों की भांति चूसने लगा. जैसे अभी उसकी शादी हो रही है मतलब वो बाइस पच्चीस साल की लड़की होगी, बातचीत का सलिका उसके अच्छे घर घराने का परिचय देता था।और दूसरी बात ये थी कि मुझे पूरी उम्मीद थी कि एक वक्त ऐसा आयेगा कि इन बातों की जानकारी मुझे मिल ही जायेगी, यही सोचकर मैंने कभी कुछ नहीं कहा।दूसरे दिन मैंने अच्छे कपड़े पहने ताकि विडियोकॉल पर अच्छा दिख सकूं. बरेली में उन दिनों खूब घनघोर बरसात होती, बिजली कड़क के चमकती और मस्त ठण्डी हवाओं के झोंके तन मन में वासना की आग लगा देते थे.

उन्होंने तुरंत मेरा हाथ पकड़ कर खींचा और मेरे हाथ को अपने लंड पर रख दिया और बोले- ये लो सोनम मेरी जान, खेलो इससे. कुछ देर बाद भाभी का दर्द भी कम हो गया और वो भी गांड उठाते हुए लंड का मज़ा लेने लगीं.

दोस्तो, मेरी पिछली दो कहानियोंसाले की टीनऐज बेटी की मस्त चुदाईक्लासफेलो लड़की की सील तोड़ कर चुदाईको आपने बहुत ही पसंद किया.

निष्ठा ने भी अब अपनी खुली चूत से अपने हाथ हटा लिए और बिस्तर पर रख कर अपनी चूत उठा उठा कर मुझे देने लगी. मेरा लंड मानो फटने को रेडी हो गया था … जैसे अभी तुरंत ही पानी छोड़ देगा. तब अंकुश ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे पानी में उतारा और मुझे पानी में अच्छे से पैर चलना सिखाया, तो मैं पूल की वाल पकड़ कर पैर चलाने लगी.

इमरान हाशमी सेक्सी फिर उसने मेरे मम्मों को काटना बन्द किया … लेकिन अब भी वो बुरी तरह से मेरे दूध चूस रहा था. जैसे ही मैं बाहर आई, तो मैंने देखा कि मेरे बेटे का एक दोस्त सामने खड़ा था.

इसलिए खुशी को कभी सेक्स चैट के लिए नहीं उकसाया।ऐसा नहीं है कि उसके लिए मेरे दिल में कोई अरमान नहीं था. जब होली खेलने की नौबत आई तो वो डरी सी, घबराई हुई सी आँगन में बैठ गयी थी और अपना सिर उसने घुटनों में छिपा लिया था. साली जी तुरंत घूम गयी और प्लेटफोर्म पर अपनी कोहनियां रख कर झुक गयी.

गार्डन वाली सेक्सी बीएफ

फिर बोली- राजू तो एकदम से डर गया?इस पर हम दोनों हंसने लगी जिससे राजू झेंप गया. मैं- लेकिन बिन्दू यदि अब कभी भी उस लड़के से मिली या बात की तो मैं तुमसे बात नहीं करूंगा. मैंने उनसे कुछ भी बात नहीं की बस यूं ही अपनी छत पर मोबाइल चलाता रहा.

मैं ये पल कभी नहीं भूलूंगी … आज का ये सुनहरा दिन मेरी जिन्दगी में मुझे हमेशा याद रहेगा. इस प्रकार धीरे धीरे मुझे मामी से बात करने की आदत सी पड़ गई और हम लोग घंटों बात करने लगे थे.

अच्छा सुनो न जानू … मैं थोड़ी देर बाद में बात करती हूँ … अम्मी बुला रही हैं.

पति हमारे बारे में क्या सोचेगा हम इसी शर्म के मारे लंड को चूसने का लुत्फ नहीं ले पाती लेकिन किसी और का लण्ड तो आप जैसा मन करे वैसे चूस सकती हो. मैं उनको बता दूं कि मैं कोई रांड नहीं हूँ, जिससे मेरा मन करता है, मैं उसी से सेक्स करूंगी. अंकल ने मुझे अपनी कुवारी बुर में ऊँगली करते देख लिया था और मुझे सेक्स के लिए मानसिक रूप से राजी कर लिया था.

मैं समझ गया कि मामी शीशे में से ही मेरे खड़े होते लंड को देख रही हैं. इसमें मेरे 32 इंच के चूचों को दूर से ही कोई देख कर मस्त हो सकता था. उसके बाद मैंने उसे दुबारा बेड पर लेटा दिया और उसके लंड के पास आ गयी.

उसने मेरी हामी सुनकर कहा- तो दो पैग बनाओ और आज की डील के लिए हम लोग चियर्स करते हैं.

ब्लूटूथ वाली बीएफ: घर आ कर जैसे ही कुच्ची ने कहा कि इतनी देर से हम साथ में हैं, उसका फोन नहीं आया. और ट्रैवल एजेंट के द्वारा पाँच दिन का हनीमून पैकेज बुक कर लिया।भैया भाभी हनीमून के लिए रात को बस से निकल गये थे.

मेरी मौसी मुझे अपनी पिछली जिन्दगी के बारे में बता रही थीं और मैं उनके साथ अपने रिश्ते को लेकर सोच रहा था. मैं आपकी चूत और गांड के छेद को चाट रहा था और आप मेरी गांड और लंड को चूस रही थीं भाभी. थोड़ी ही देर के बाद प्रिंसीपल सर ने अपना पानी निकाल दिया जो मेरी चूचियों और मेरे मुंह पर आकर लगा.

उसकी खुरदरी जीभ का अहसास पाते ही मैं भी ‘आहा ऊउंह ऊम्मंह आहाआ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह.

अंकुश- अरे तुम तो यहां स्विमिंग सीखने के लिए ही आती हो न … तो यहां के ट्रेनर ने अब तक तुम्हें तैरना नहीं सिखाया क्या?मैं- हां वो ट्रेनर सिखाती तो है, पर मुझे तो लगता है कि उसे खुद ही ठीक से स्विमिंग नहीं आती है. सरोज आंटी कहने लगी- राज, कई दिन से मैं एक बात सोच रही थी कि मैं कहूँ या नहीं कहूँ?मैंने कहा- कहो आंटी, बताओ क्या बात है?सरोज आंटी बोली- जब तुम मुझे आंटी कहते हो तो मुझे लगता है कि मैं बहुत बूढ़ी हो गई हूँ. उसके जाने के बाद सनम ने मुझे पूछा- कैसा लगा?तो मैंने बताया- यार, मज़ा आ गया.