फॉकिंग बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ गाने सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सुहागरात मूवी: फॉकिंग बीएफ, मैंने उसकी चूत पर पेंटी के ऊपर से ही किस किया और ऊपर से ही चूत को रगड़ने लगा.

बीएफ सेक्सी वीडियो दिखाइए बीएफ

जब भी गुजरा वाकिया याद आता, बाथरूम में शावर चालू करके मुँह पर हाथ रख कर रोने लगती. साड़ी वाली बीएफ सेक्सकभी मेरे कंधे पकड़ कर मुझे पीछे हटाए, कभी मेरे सर के बाल नोचे लेकिन मैं वसुन्धरा को ना छोड़ने के लिए दृढ़प्रतिज्ञ था.

उसके बाद बुआ ने मेरे से पूछा- तेरी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं?पहले तो मैं डर गया कि ये क्या पूछ रही हैं. हिंदी फिल्म सेक्सी बीएफ एचडीमोनिका की चुत पहले ही गीली थी तो ज्यादा परेशानी नहीं हुई; लंड फिसलता हुआ अंदर घुस गया.

‘आहह …’ क्या बताऊं दोस्तो … वो मेरी लाइफ की पहली चुम्मी थी, जो मेरे भाई ने ही मुझे की थी.फॉकिंग बीएफ: फिर बातों बातों मैं मेरे भाई ने, जो मेरे से छोटा है, मुझसे कहा कि तू अभी तक इस बात को लेकर वर्जिन है कि भाभी से अपनी शुरुआत करेगा.

रबड़ी में खूब किशमिश, बादाम, पिस्ते, अखरोट, काजू और छुआरे पड़े हुए थे.और तो और … एक दोपहर को एक घंटे का पावर-कट लग गया तो भी जिम्मेवार मैं …हे भगवान! ऐसी खब्ती औरत मैंने जिंदगी में पहले न देखी थी.

वीडियो में चलने वाली बीएफ - फॉकिंग बीएफ

मगर मां को ये अहसास नहीं होने दिया कि मैं आंटी की तरफ आकर्षित हो रहा हूं और उसको चोदने का प्लान बना रहा हूं.मगर लड़की ने मेरी हालत को भांप लिया और मुझे ऐसी हालत में देख कर मुस्कुराने लगी। उसको मुस्कराती देख मैंने भी उसकी तरफ देख कर मुस्करा दिया और उसे आंखों ही आंखों में लण्ड की तरफ इशारा कर दिया। मगर उसने मुंह फेर लिया.

उसका लंड राकेश से काला था और मोटाई थोड़ी कम थी और लम्बाई बराबर!मैंने जल्दी से उसे मुंह में ले लिया और चूसने लगी. फॉकिंग बीएफ आस पास के इलाके में कौन सी लड़की का किसके साथ चक्कर चल रहा है … वगैरह वगैरह.

दोस्तो, वो मेरा पहला चुम्बन था और पहला चुम्बन कितना यादगार होता है, आप लोग जानते होंगे.

फॉकिंग बीएफ?

फिर मैंने नीचे आते हुए उसकी नाभि में अपनी जीभ डाल दी, इससे वो सिहर गई. सोनल राधिका से बोली- भाभी, आपको को पता ही होगा कि मेरा भाई आपको कैसा चोदता है तो आप ही बताओ न?राधिका- अपने भाई से ही पूछ लो. दोनों ने मेरी चूत के साथ साथ मेरी गांड भी चोद चोद कर खुली कर दी थी.

चाची बस ‘अहह … ओहह … आह्ह्ह …’ करती रहीं और उनकी सांसें तेज़ होने लगीं. मैंने दरवाजा दोबारा से बंद कर दिया और उसको बेतहाशा चूमना शुरू कर दिया. ”उपिंदर ने अंशु की ब्रा खोल दी और चुचियाँ चूसने लगा।जोश आ गया है तुम्हें, मतलब शाम को कामिनी की माँ पहले चुदेगी उसके बाद जाएगी डॉक्टर के पास!”उपिंदर बस मुस्कुरा दिया।अरे हाँ, मेरे भाई राजेश की डॉक्टर शोभा से अच्छी जान पहचान है। मैं उसे बोल देती हूँ कि डॉक्टर से बात कर के रखे.

’मैंने जहाँ निशान था, वहां धीरे से किस किया और पूरा दाया कन्धा जीभ से चाट लिया. अब जैसे ही भाबी की गांड में मेरा पूरा लंड अन्दर घुसता, उनके भारी कूल्हे मेरी जांघों पर लगते, जिस वजह से मेरा लंड और बुरी तरह की गांड को चोदता. मैंने अपने फ्रेंड से उसके बारे में पूछा, तो उसने बताया कि ये उसी के गांव की रिश्तेदारी में आती है और दूर के रिश्ते में भाभी लगती है.

मैंने अपने होंठ सुमन के चूचों पर तने हुए निप्पल पर रख दिये और उसके जवान चूचों को चूसने लगी. काजल के करीब जाने का एक यही मौका था मेरे पास जिसे मैं किसी भी हाल अपने हाथ से जाने नहीं देना चाहता था.

मैं अपना बायां घुटना वसुन्धरा की योनि पर ऊपर-नीचे रगड़ने लगा और हर बार वसुन्धरा की साड़ी मेरे पैर की ऊपर-नीचे की जुम्बिश के साथ थोड़ा और ऊपर खिसकने लगी.

उसके खड़े होते ही मैं बोल उठी- पर मम्मी पापा आ गए तो?मेरी इस बात पर वो हंस पड़ा और उसके साथ ही मैं भी हंस पड़ी.

काजल का भाई कुणाल! उसका 7 इंच का लम्बा लंड उसकी जांघों के बीच में तन कर दायें-बायें झूलता हुआ उसकी जांघों से टकरा रहा था. मैंने सारे पर्दे डालकर कमरे में अंधेरा कर लिया और मैं चादर ओढ़ कर सो गया. मेरा गोरा रंग, लम्बा कद, कटीले नयन-नख्श, रसीले होंठ, नितम्बों की मादक उठान और मेरी छातियों का वो जानलेवा जोड़ा सबकी आँखों में खटकने लगा.

उसने मेरी कुर्ती को निकाल दिया और उसके बाद मेरी ब्रा को भी निकाल दिया. और इतना तो पता ही है मुझे!मौसी- अच्छा ठीक है, तू अपना ये प्रवचन बाद में मुझे सुनाना, अभी मैं जा रही हूं. उसकी हालत खराब होने लगी जिसका अंदाजा मुझे उसकी चूत से निकल रहे पानी से हो रहा था.

मौसी के इतना बोलते ही मैंने लंड को मौसी के चूत के छेद पर टिकाया और एक जोर का धक्का दे मारा … पहले ही धक्के में मेरा करीब आधा लंड मौसी की चूत में घुस गया.

मैं भी तेजी से धक्के लगाने लगा और 5-7 झटकों में मैं भी अनुषी की चुत में ही झड़ गया. मैंने टाइम देखा, तो शाम के सात बज रहे थे, मैंने कहा- अब मुझे घर जाना चाहिए. उसके बाद वो मेरे पास आई और बोलने लगी- जो तुमने मेरी गांड और चुत में आग लगाई है, मैं उसको बुझाना चाहती हूँ.

उस पूरे दिन में मुझे बुआ से अकेले में बात करने का कोई मौका नहीं मिला. मैं उसकी गुलाबी सी चुत को देख रहा था तो बोली- देखते ही रहोगे क्या, अब कुछ करो ना … नहीं तो मैं मर जाऊँगी. मैंने उससे पूछा- कैसा लग रहा है?उसने कहा- मैं बहुत दिन बाद चुद रही हूँ.

बहुत साल पहले एक बहुत अच्छा रिश्ता आया था वसुन्धरा के लिए और वसुन्धरा को लड़का पसंद भी था लेकिन मैं ही चूक गया.

उसने सलवार सूट पहन रखा था जिसमें वो हुस्न की मलिका लग रही थी।मैं आप सभी पाठकों को बताना चाहूंगा कि गांव में लड़कियों को अन्दर कुछ न पहनने की आदत होती है. गुलाबो ने गुलाबी रंग की फ्रॉक पहन रखी थी और सर पर चुनरी ओढ़ रखी थी, उसने अपना चेहरा छुपाया हुआ था.

फॉकिंग बीएफ मैं तो देखते ही पागल हो गया था, पर कुछ नहीं कर सकता था, वो प्रेग्नेंट थी. इसी बीच मैंने अपना दूसरा फोन जेब से निकाला और आसपास के बीयर बार की लोकेशन देखने लगा.

फॉकिंग बीएफ रक्षाबंधन के अगले दिन, करीब रात के 9 बजे उसने मुझे कॉल किया कि मुझे तुमसे कुछ काम है, क्या जरा आ सकते हो?मैंने कहा- ठीक है आता हूँ. सुनते ही चौंकी और बोली- तुम बेबी को चोदना चाहते हो?मैंने कहा- हां भाभी हां.

जब भाभी मुँह में मेरा लंड ले के चूस रही थी, तो मुझे बड़ा मजा आ रहा था.

बुलू फिलीम

मम्मी कहती ही रह गयी कि बेटा अभी अभी स्कूल से थका मांदा लौटा है, कुछ खा पी तो ले फिर जाना पढ़ने. अभी भी देख लो, हम तीनों कितनी देर से इसकी चूत और गांड को चोदने में लगे हुए हैं लेकिन इसकी प्यास बुझने का नाम नहीं ले रही है. चुदाई से पहले हम दोनों को ठंड लग रही थी लेकिन सेक्स करने के बाद हम लोग ठंड को भी भूल गए थे.

वो शर्मा गई और बोली- नहीं!मैंने बोला- प्लीज़!वो मेरे लंड को पकड़ कर चूसने की शुरुआत की, पहले तो उसने सुपारा टेस्ट किया. पांच मिनट की चुसाई में ही मैंने भी अपना माल उसके मुंह में निकाल दिया और कुछ देर तक लंड को उसके मुंह में ही फंसा कर रखा. मैंने कहा- डार्लिंग ये ट्विन ब्लेड वाला रेजर है, इससे लगने कटने की गुंजाइश न के बराबर होती है, फिर भी मैं ध्यान रखूंगा.

हम कभी लड़ते झगड़ते नहीं थे, हमें बस प्यार के अलावा दूसरा कोई शब्द याद ही नहीं था.

तुम जरा अपने फोन में ऑनलाइन शॉपिंग साइट पर कुछ देख कर बताओ तो आजकल कौन सा ट्रेंड चल रहा है. इस पोजीशन में मुझे थोड़ी ज्यादा मेहनत करनी पड़ रही थी लेकिन मजा भी दोगुना मिल रहा था. मुझे लगा कि कहीं पानी लाकर मेरे ऊपर ना डाल दे, सो मैं बचने के लिए उठकर उसके पीछे जाने लगा.

उसने तुरंत मेरी तरफ देखा, मैंने आंखों से इशारा किया- मैं हूँ डरो मत. अक्सर मैं पूरी नंगी हो जाती और पापा के उतारे हुए पसीने की गंध वाले कपड़े पहन कर रात में सोना मुझे बहुत भाता था. मेरा साथ हुई इस घटना में जिस लड़की का जिक्र मैं करने जा रहा हूं वह मेरे साथ ही मेरी ही कम्पनी में काम करती थी.

बड़ा मादक नजारा था दोस्तो … मैं उस मजे को शब्दों में बयां नहीं कर सकता. उसने मेरी तरफ देखा, मैंने भी हामी में सर हिला दिया।तो राकेश बोला- तो मैं बाहर घूम आता हूँ.

लंड की छुअन से मुझे अच्छा तो लग रहा था, लेकिन इस गांड चुदाई के खेल में बहुत दर्द भी हो रहा था. यह कह कर मैंने झट से उसका पूरा लंड मुँह में ले लिया और पूरे जोश से चूसने लगी. मैंने कहा- ठीक है, जब तक तुमको मुझ पर भरोसा नहीं हो जाता मैं तुम्हारी तरफ देखूंगा भी नहीं.

फिर हम दोनों ने जल्दी से अपने कपड़े वापस पहन लिए और मैं भाभी को बाइक पर लेकर निकल गया.

मेरी चूची बहुत टाइट हो चुकी थी और वो मेरी चूचियों को दबा-दबा कर चूस रहा था. उनको जो भी देखता है, उसके सोये हुए अरमान जाग जाते हैं कि वो मेरी बुआ को चोद कर अपना लंड शांत करवा लें. लंड के बाहर आने के बाद उन्होंने उठ कर मेरे होंठों को चूमा और मुझसे आई लव यू कहा.

अपना मोबाइल फोन मेरे हाथ में धीरे से देते हुए बोले- ज़रा बैटरी देखना. पांच मिनट के बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और उसका बदन ढीला पड़ गया.

पर इससे औरतों को जो सुख मिलता है, खुशी मिलती है … उसे किसी भी तरह से शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है. वो मज़े में आ गया और बोलने लगा- रंडी आज तू चूदेगी!मैं और ज़ोर से उसका चूसने लगी. मैं उसके साथ ही रसोई में था, हालांकि हम दोनों के बीच कोई बात नहीं हो रही थी.

बफ बफ सेक्सी बफ

अब इन्हें ब्यूटी-पॉर्लर जाना था और वहां जाने के लिए … मेमसाहब को एक शोफ़र-ड्रिवन कार चाहिए थी.

माँ बोलीं- क्या कर रहे हो … जरा धीरे करो … मेरी आवाज से कहीं हर्षल जग ना जाए. फिर हम दोनों अलग हुए और जल्दी से मैंने अपने अध-सोये लंड को अपने अंडरवियर में वापस से अंदर डाला और चेन बंद करके दरवाजे के बाहर झांका. मैंने अपने दोस्त राहुल और वरुण से इस बारे में बात की तो उन्होंने कहा कि तेरा काम तो हो जायेगा लेकिन इस चिकनी की चूत तो फिर हम भी मारेंगे.

दिलिया ने तो मेरे पास आकर मेरे कान में कहा- आपने पूरी हवेली को रातभर सोने नहीं दिया, ऐसा क्या कर डाला सारा और ज़रीना आपा के साथ?तो मैंने कहा- मेरी जान, जल्द ही तेरी भी यही हालत करूँगा. मैं उसको लेटा कर उसके ऊपर आ गया और अपना लंड धीरे धीरे उसकी बुर की फांकों पर फेरने लगा. ब्लू पिक्चर बीएफ चोदने वालामैं उस नौकर के लंड को भी अपनी चूत में लेने का मन बना रही थी लेकिन भोला एक ठाकुर मर्द था और वो इतनी आसानी से झड़ने वाला नहीं था.

मैं जिस फ्लैट में रहता था उसमें मेरे बड़े भाई-साहब और छोटी बहन भी रहती थी. मेरे मुंह में लंड था इसलिए मेरे मुंह से केवल ऊंह्ह … ऊंह्ह की दबी हुई आवाजें ही बाहर आ रही थीं.

वो बोला- सॉरी डार्लिंग, इट्स जस्ट फॉर ए मिनट देन यू विल इन्जॉए अ लॉट. गुप्ताइन ने मेरा हाथ कसकर पकड़ा और बोली- वादा रहा, अब बताओ काम क्या है?मैंने कहा- एक बार बेबी को मेरे पास भेज दो. जब निहारिका आई, तो मैंने उसको समझाया- निहारिका, जो रात को हुआ, मैं उसके बारे में कुछ नहीं बोलूंगी.

हम दोनों एक दूसरे से सब तरह की बातें शेयर करते थे। मैं भाभी के साथ नॉनवेज बात भी कर लेता था।भाभी का फीगर 38-36-38 का था और उनके दो बच्चे भी थे. उस रात मैंने तीन बार उसको चोदा और सुबह के करीब चार बजे वह उठ कर अपने कमरे में गई. मैंने उसके लंड को अपने मुँह में ले लिया, शुरू शुरू में तो थोड़ा अजीब लगा, पर फिर मुझे मज़ा आने लगा.

उस दरार पर मैंने जीभ लगा दी, तो वो उछल पड़ी और ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ जैसी आवाजें निकालने लगी.

फिर मैं भाई के ऊपर आ गयी और होंठों को बुरी तरह से चूसने लगी और अपने हाथ से उसका लंड हिलाने लगी. उसके होंठों की छुअन से मेरे लंड में फिर से तनाव आने लगा लेकिन उसको चोदने की अब हिम्मत नहीं हो रही थी क्योंकि मुझे भूख लग गयी.

मैंने कहा- क्या हुआ तेरी बोलती क्यों बंद हो गई?फिर मैंने मानसी के गाल पर किस किया और उसके माथे पर हाथ फिराने लगा. फिर अगले मिनट में चिल्लाते हुए ही उसने मेरी गांड में ही अपना पानी निकाल दिया. ”आंटी के इतना कहते ही मैंने आंटी की ओर करवट इस तरह से ली कि मेरा लण्ड आंटी की जांघ से छूने लगा.

कई बार तो मैं उनकी जांघों पर सर रख के सोने का बहाना करके उनके मम्मों को दबा भी देता था. अब उसने अपनी एक टांग मेरी टांग पर रख दी और खिसक खिसक कर अपनी चूत मेरे लण्ड से सटा दी. उनके चेहरे पर एक मुस्कान आ गई और मुझे पानी देकर बोले- तुम रिलैक्स होकर बैठो.

फॉकिंग बीएफ कुछे इसी तरह के शब्दों के साथ जीजा जोर-जोर से मेरी चूत में धक्के मारने लगे. मेरे घर के लोग, जहां लाइन में खड़े थे, वहां पे मैं आ गई और उनके साथ बाजू में खड़ी हो गयी.

सेक्सी फिल्म नंगे सीन

मैंने दोनों को हैलो बोला और थोड़ी देर बात करने के बाद हम सब होटल में रूम लेने के लिए निकल गए. सीधी-सादी भाषा में इस का यही मतलब निकलता था कि वसुन्धरा मन ही मन मुझे पसंद करती थी. मोनी के बदन में इतनी गर्मी थी कि उसने मेरे अंडकोषों के अंदर इकट्ठा हुए वीर्य को गर्म लावा बनाकर बाहर आने पर मजबूर सा कर दिया.

तोप सी तनी हुई गांड देख कर मुझसे बिल्कुल भी कंट्रोल नहीं हो रहा था. तभी अंकल ने एक तेज धक्का मार दिया और अपना पूरा लंड मेरी चुत में पेल दिया. बीएफ फिल्म एनिमलदिशा भी अब मेरे साथ चुदाई का मजा ले रही थी और मोन कर रही थी- आह आह ओह अआ अह आह ओह फक मी ओह जीजू!राधिका अपनी चूत में उंगली डाल कर बोली- वाह मेरे राजा … दो नई चूतें क्या दिला दीं, तुम तो अपनी बीवी को ही भूल गए.

मैं धीरे धीरे अपना हाथ उनकी कमर पर फिराने लगा … और अपने हाथ को बुआ की चूची तक ले गया.

मैंने झांक कर देखा तो रितेश जीजू पूरे के पूरे नंगे हो चुके थे और उनके चूतड़ लगातार तेजी के साथ आगे-पीछे हो रहे थे. फिर भी बताइये अगर कुछ काम है तो?मैं उठी और बोली- रहने दो, सब ठीक है.

मैं उसका असली नाम नहीं बता सकती क्योंकि अगर कहीं किसी जानने वाले ने पढ़ लिया तो मुसीबत हो जायेगी. फिर मैंने बोला- मिलवा दे यार इन दोनों से … मुझे तो बस चूत का कचूमर निकलवाना है इनके लौड़ों से. मैं जब से इस मुहल्ले में आया था, दिल गुप्ताइन पर फिदा था, किसी भी तरह उसको चोदने का रास्ता तलाश करना था.

उसने मेरे कंधे पर अपना सिर रख लिया और पूछने लगी- उस दिन तुमने अपनी कैपरी में हाथ क्यों डाला हुआ था? हाथ क्यों हिला रहे थे तुम पैंट में डाल कर.

फिर आँखों पर से फूल हटाए और आँखों को चूमा तो दिलिया ने आँखें खोल दी. चूंकि मैं अपनी कॉलेज की फीस और पढ़ाई का खर्च खुद ही उठाना चाहता था इसलिए मैंने एक इंस्टिट्यूट में टीचर की जॉब भी कर ली थी. वह एक बार तो उछली मगर उसके बाद फिर उसने अपनी चूत को ऊपर से रगड़ना शुरू कर दिया.

8 साल की लड़की की सेक्सी बीएफमैं भी अपनी कॉलेज लाइफ में बिजी हो गया था मगर काजल से फोन पर बात होती रहती थी. मुझे किस करने के बाद वो फिर से मेरी चूचियों को चूसते हुए पीने लगा और मैं मादक सिसकारियाँ लेने लगी.

বিএফ ভিডিও পিকচার

वो मुझे गालियां देने लगीं- मादरचोद, हरामखोर, बहन के लौड़े, तेरी माँ की चुत, भड़वे. तो मैं फिर बोला- बाबू, मैं तुम्हें बहुत पसंद करता हूँ, मेरी गर्लफ्रेंड बनोगी?उसने अपना सर उठाया और बोली- मुझे घर जाना है. वहां पहुंच कर डॉली ने मेरे फोन से ही गुप्ताइन को पहुंचने की सूचना दी.

मैं तो एकदम चुदास से भर उठी और मेरी चूत ने टसुये बहाना शुरू कर दिया. बाहर मुन्ना भी अकेला है और मैंने अब कपड़े भी पहन लिए हैं।मैंने भी मन में सोचा कि उसकी भी बात ठीक है. हम एक-दूसरे से हर बात शेयर करते थे लेकिन अभी मैं उसके साथ सेक्स की बात नहीं कर पाया था.

लंड को डाल कर मैंने पूछा- पहले भी किसी का लंड ले चुकी हो क्या दीदी?वो बोली- नहीं, बैंगन डाल लेती थी जिससे मेरी सील पहले ही टूट चुकी है. उसकी बहन से मेरी ज्यादा बात-चीत नहीं हुई मगर उसकी बेटी मेरे साथ काफी घुल-मिल गई थी. मैंने पूरे 20 मिनट तक लगातार पोज़ बदल बदल कर उसकी चूत चोदी और अंत में मैंने उसके मम्मों पे अपने लंड का सारा माल निकाल दिया.

मैं मेले में निहारिका को ढूंढ रहा था, पर निहारिका अपनी भाभी के साथ रात आठ बजे आई. जब वो नीचे झुकी तो उसके सूट के अंदर से मुझे उसकी सफेद ब्रा में पैक चूचे दिख गये.

एक और दिन रानी की झांटों से होती हुई झांट-सुरा का स्वाद मिला तो एक दिन रानी ने अमृत धारा मारते हुए स्वर्ण-सुरा का ज़ायका दिया.

मैं वनिता के ससुर राजेन्द्र जी के बारे में सोचने लगी और अपनी प्यासी चुत में उंगली करने लगी. हिंदी बीएफ सेक्सी चलती हुईवीर्य की धारा छूटने को तैयार थी, लेकिन मैं लंड को चूत से निकालने को तैयार नहीं था और नम्रता भी नहीं चाह रही थी. बीएफ सेक्सी बीएफ सेक्सी न्यूउसके बालों को पकड़ कर खींचा और उसका सिर ऊपर की तरफ उठ गया। मैंने उसके कंधों पर दांत गड़ा कर चुम्बन किया. मुझे लगा कि कहीं पानी लाकर मेरे ऊपर ना डाल दे, सो मैं बचने के लिए उठकर उसके पीछे जाने लगा.

उनके चेहरे पर एक मुस्कान आ गई और मुझे पानी देकर बोले- तुम रिलैक्स होकर बैठो.

मैंने फ्रिज से कोकाकोला की बोतल निकाली, उसमें मैंने व्हिस्की मिला रखी थी, दो घूंट पीने के बाद बोतल डॉली को दे दी, दो तीन घूंट पीकर उसने मुझे दे दी, इस तरह कोकाकोला की बोतल हम दोनों ने खाली कर दी, दो दो पेग अन्दर जा चुके थे. पहले तो मुझे अजीब सा लगा, मेरे पूरे ज़िस्म में एक अजीब सी लहर दौड़ गई. मेरी चूत पहले से ही गीली थी इसलिए उसका पूरा लंड मेरी चूत में चला गया उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे बहुत दर्द हुआ.

आज मेरा ख्वाब पूरा होने जा रहा था, उसकी जिन चूचियों को मैं पिछले कई दिनों से सपनों में देख कर मुठ मारा करता था, आज वो साक्षात मेरे सामने उछल उछल कर अपनी रंगीनी बिखेर रही थीं. लम्बा लंड चूत में घुसा, तो वो चिल्लाने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैंने कहा- क्या हुआ हिना जी?तो बोली- जिस खेत पर 6-7 महीने में एक बार हल चलता है … तो वो जमीन प्यासी तो होगी. मैंने उसको लंड से थपकी दी, तो आंटी ने अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ा और अपनी चूत में फिट करके लंड के ऊपर बैठ गई.

बीएफ एचडी वीडियो चाहिए

भाबी के चूतड़ इतने भारी थे कि उनके दोनों चूतड़ आपस में सटे हुए थे, जिस वजह से भाबी की गांड का छोटा सा छेद वैसे ही दिखाई नहीं दे रहा था. मेरा मन कर रहा था कि अपनी चूत को अभी जीजा के सामने ले जाकर फैला दूँ और वो अपने मोटे लंड से मेरी चूत की सवारी करें. मां के जाने के बाद मैं, वरूण और ज्योति आंटी फार्म हाउस के अंदर चले गये.

मेरा पूरा लंड जब उसकी चूत में उतर गया तो वह मुझे फिर से चूमने और चूसने लगी.

दोस्तो, एक वो शादी का दिन था और एक आज का दिन है, इस दौरान मैंने पता नहीं कितनी बार अपनी मौसी को चोदा होगा.

उसके बाद उन्होंने जल्दी से मेरी सलवार पर हाथ मारते हुए उसके नाड़े को खोल दिया और नीचे से पैंटी समेत मेरी सलवार को नीचे की तरफ खींच दिया. मैंने सुमिना के कमरे की तरफ कदम बढ़ाने शुरू किये तो आवाजें और तेज होती जा रही थीं. बीएफ पिक्चर चोरी चोराकुछ ही देर में सब लोग तितर-बितर हो गये और उस कमरे में मैं और भाभी ही रह गये.

मैंने सोचा कि मैं रात को गौशाला जरूर जाऊंगा। आखिर देखूं तो सही कि ये चुड़ैल देखने में कैसी लगती है. लंड को उसकी गांड में पिरोया और तेल की शीशी से तेल टपकाना शुरू कर दिया. फिर थोड़ी देर में 7-8 झटकों के साथ मैंने अपना माल चाची की चूत में भर दिया.

उसके मम्मे काफ़ी बड़े थे और बिल्कुल ऐसे तने हुए थे जैसे किसी कुंवारी लड़की के हों. मैं उसका सिर अपने टांगों के बीच में दबा रही थी, मुझे अपनी चूत में आग लगी हुई महसूस होने लगी थी.

उसने मुझे पकड़ कर अपने ऊपर खींच लिया और मेरे होंठों को किस करने लगी.

उसने मेरी पैंट की जिप खोल ली और मेरे लंड को अंडरवियर की इलास्टिक से बाहर निकालते हुए चेन से बाहर करके उसको अपने हाथ में लेकर सहलाने लगी. मेरे हर धक्के से वो हिल रही थी, तो साथ ही उसकी पाजेब और चूड़ियों की छमछम छमछम की आवाज़ गूंज रही थी. अब मोनी‌ के‌ नर्म मुलायम नितम्बों के स्पर्श से मैं इतना‌ अधिक उत्तेजित हो गया कि अपने लंड को उसके नितम्बों पर एक दो बार घिसते ही मैं अब अपने चर्म‌ पर पहुँच गया.

एक्स एन एक्स वीडियो बीएफ ऐसा लगा जैसे मानो मेरे प्राण ही लंड के रास्ते निकल कर उसके मुँह में समा गये हों. उसने फिर सुमिना की टांग पकड़ कर खींच ली और सुमिना को बेड के किनारे पर कर लिया.

कुछ देर चोदने के बाद उसने अपना लंड चूत से बाहर निकाल लिया और मेरी चूत को चाटने लगा. फिर मैं उसके दोनों हाथों को हटा कर उसकी गर्दन और कान पर किस करने लगा, जिससे उसकी पूरी बॉडी में सिहरन सी दौड़ गई. मैं ‘आअह्ह हहह बेबी … मजा आ रहा है … मेरी जान फ़क मी हार्ड … मेरे भाई चोद दे आज अपनी इस रंडी बहन को आअह्ह्ह.

मोटी लेडीस का सेक्स

मौसी का इशारा मिलते ही मैंने भी धीरे धीरे अपनी कमर को आगे पीछे करना शुरू कर दिया. मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था, जैसे उसके होंठों से लग के वाइन और भी नशीली हो गयी थी. मैंने सोचा कि आंटी की चूची इतना चिकनी हैं तो पूरी की पूरी नंगी आंटी कितनी चिकनी होगी!मगर जल्दी ही मेरे अरमानों पर आंटी ने तब पानी फेर दिया जब उन्होंने मुझे उनकी चूचियों को घूरते हुए देख लिया.

मैं वहां इसलिए भी जाने लगा था कि मेरे दोस्त के घर के एक हिस्से में बने एक फ्लैट में नए किरायेदार आए थे. मोहल्ले का हर मर्द उसे चोदने के सपने देखता होगा पर वो मेरे ही नसीब में थी.

मैं भाई से बोली- भाई, अब अपना लम्बा लंड अपनी बहन की चूत में घुसा कर इस साली को अपनी रंड़ी अपनी रखैल बना ले.

उसके बाद मैंने आसानी से उसके गर्म चूत में लंड पेल दिया और चोदन प्रक्रिया करने लगा. कुछ दिन बाद फिटनेस सेंटर में एक और नई भाभी ने जॉइन किया, वो शादीशुदा थीं, लेकिन उनका फिगर गजब का था. मेरी मजेदार सेक्सी कहानी के पहले भागसहेली के ससुर से चुद गई मैं-1में अब तक आपने पढ़ा कि मेरी सहेली वनिता के ससुर से मेरी सैटिंग जम गई थी.

अब उसने कहा- आशना अब तुम ज़न्नत के नज़ारे देखने के लिए तैयार हो जाओ. उसने अपनी एक टांग को मेरे दोनों टांगों के बीच फंसा कर दूसरी टांग को मेरी कमर पर चढ़ा दी. उसने मुझ पर लाइन मारने की बहुत कोशिश की लेकिन मैं उसको इग्नोर कर देता था.

मैं अब और बड़ा साहब बन चुका था, परन्तु प्रमोशन के साथ ट्रान्सफर भी हो गया था.

फॉकिंग बीएफ: मेरा बदन थोड़ा सा भरा हुआ मांसल हो गया है अब; पहले मैं छरहरी हुआ करती थी. उसके पास आते ही मैं उसे किस करने लगा और साथ में सोनल के मम्मे भी मसलते जा रहा था.

मैंने भाभी की पैंटी को निकलवा दिया और उनकी चूत को अपने हाथ से सहलाने लगा. असल मैं उस टाइम तक मैंने किसी को छुआ भी नहीं था, इसलिये हिम्मत नहीं हो रही थी. दरअसल हुआ यूं कि क्लास से लेट छुट्टी मिली और स्वीटी को जल्दी घर पहुंचना था.

मुझे अब कुंवारी चूत मिलने वाली थी।यह सुनकर कि महेश ने उसकी चूत नहीं चोदी है और मेरी गीतू की चूत कुंवारी ही है अब मेरे लण्ड की सख्ती बढ़ती जा रही थी.

मैं उसको चोदता रहा और बीस मिनट की जोरदार चुदाई के दौरान वह दो बार झड़ गई. तो रात को लगभग आठ बजे खाना खाने के बाद सब सोने चले गए तो सुमेर मुझे चुपचाप छिपा कर उसी जगह ले गया. मुझे भी दारू पीनी पड़ी क्योंकि मैंने उनको कहा था कि वो मेरी बहन के साथ कुछ नहीं करेंगे.