एक्स एक्स बीएफ चलने वाला

छवि स्रोत,15 वर्ष की लड़की का सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

औरतों में सेक्स: एक्स एक्स बीएफ चलने वाला, तभी सलमा की नज़र मुझसे मिली, तो उसने मुस्कुराने की कोशिश की, पर मस्ती की वजह से मुस्कुरा ना सकी.

हिंदी पिक्चर फिल्म भेजो सेक्सी

वो भी अपनी बहन की… उसकी सुहागरात को!अपना पेटीकोट उठाए हुए अपने जीजा से बुर चटवाती हुई… मस्ती में अपने होंठ काटती हुई. भाभी की चुदाई हिंदी में सेक्सीपहले तो अंजलि ने मना कर दिया लेकिन मेरे ज्यादा कहने पर बोली कि ठीक है मैं रात को 8 बजे छत पर आ जाउंगी, तुम भी आ जाना.

मामी की चुदाई की यह आप बीती मेरे जीवन की एक ऐसी घटना है, जिसे मैं कभी नहीं भूल सकता हूँ. मामी के साथ सेक्सी वीडियोउसने अपना लंड मेरी छोटी सी गांड की तरफ बढ़ाया, लेकिन पहली बार में नहीं गया.

मैं खाना बना कर आठ बजे तक फ्री हो गयी और मामा जी की आने का इंतजार करने लगी.एक्स एक्स बीएफ चलने वाला: उसके हाथ में एक छोटा बैग था, जिसमें कॉसमेटिक्स और उसके कंधे पर उसके कपड़े थे.

मेरा मन कर रहा था कि मैं उसके लंड को पकड़ लूँ लेकिन मेरे मन में ख्याल आया कि जय क्या सोचेगा.रूपा के पास अब आगे जाने की जगह नहीं थी इसलिए वो अब पप्पू की हरकतों का मजा लते हुए कोई विरोध नहीं कर रही थी.

मां बेटे की देसी सेक्सी - एक्स एक्स बीएफ चलने वाला

शिवानी अपनी गर्दन को मजे में इधर उधर मार रही थी और अनाप शनाप बोले जा रही थी- चोदो… हां ऐसे ही… फ़क मी हार्ड… ओह माई गॉड… फ़क मी… फाड़ दो सब कुछ… फ़क मी.तू इस नम्बर को किसी को देना नहीं और जब तुम्हें फोन करना हो तब ही करना.

अब आगे की कहानी:हम सब कार में कैम्प की तरफ जा रहे थे, सब बड़े उत्साहित थे। वहां तक का सफ़र छह घंटे का था। काफी भीड़ थी वहां. एक्स एक्स बीएफ चलने वाला उस दिन हमें गाँव के 2 लड़कों ने देख लिया और आते जाते उसको ताने मारने लगे, फिर मेरे धमकाने और समझाने पर रुके.

अब तक की इस हिंदी सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि सुमन ने खेल खेल में अपने पापा का लंड चूस लिया था और अब वो अपने पापा जी से अपनी चुत चटवाने की फिराक में थी.

एक्स एक्स बीएफ चलने वाला?

इधर भाभी की गांड में भी दूसरे ने अपना लंड डाल दिया था और उनको सैंडविच बना कर खड़े खड़े दोनों तरफ़ से पेल रहा था. करीब 6-7 दिन बाद वो कुछ काम से घर पे आए तो मेरे मन में घबराहट सी होने लगी. मैंने अपनी लुंगी पैरों के दोनों तरफ़ को सरका दी और मेरा खड़ा लंड अब बिल्कुल साफ़ दिख रहा था.

हम सभी फ्लैट से निकले और एक रेस्टोरेंट में गए जहाँ मनोज ने लंच करवाया क्योंकि उसने कहा कि आज की पार्टी मेरी तरफ से. उसकी बात सुन के मैं भी थोड़ा नम हो गया, मैंने उससे कहा- नहीं, तुम हमेशा मेरे पास रहोगी. फिर उन्होंने मेरा फोन नंबर अड्रेस सब नोट किया और बोला- देख जब भी हम बुलाएं तुझे आना पड़ेगा, अगर मना किया तो वो वीडियो कभी भी दिखा देंगे और हमारे पास तेरी गांड मारने का वीडियो भी है.

मुझे ठंडा पड़ता देख मेरे मामा के हाथ ने फिर से मेरे हाथों को पकड़ा और वापस लाकर मामी के पेट पर रख दिया. तभी उसने मुझे अपने चुचे देखते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया और अपना पल्लू सही किया. सुमन- आह… सस्स पापा इससे तो बहुत मजा आ रहा है… अब दर्द कम है… आह… करो और अन्दर तक घुसा दो ओफ्फ… आह…सुमन की उत्तेजना देख कर अब गुलशन जी ने दो उंगलियां एक साथ चुत में घुसा दीं और उसका अंजाम वही हुआ… सुमन के मुँह से दर्द भरी आवाज़ निकली, मगर वो सहन कर गई और वैसे ही पड़ी रही.

आपसे सम्बन्ध बनने के बाद जब मैं यहाँ आ गयी तो मुझे अपने पति के साथ सहवास में वो आनन्द और तृप्ति नहीं मिली जो आप के साथ मिलन में मिली थी. मेरी चुत इतनी देर में दो बार झड़ चुकी थी, पर चाचाजी रुकने का नाम नहीं ले रहे थे.

मैं बाहर एक तरफ जाकर खड़ा हो गया और ऊपर वाले से दुआ करने लगा कि मदद कर.

फिर मैंने फिर से अपने लंड को जैसे ही उनकी गांड के छेद पर रखा, उसने डर के मारे पाद दिया.

उसकी चूत चिकनी थी, इसलिए लंड बिना किसी मुश्किल के अन्दर घुस गया पर वो चिल्लाने लगी. शाम को आठ बजे उनके घर पहुंचने पर उन दोनों ने मेरा बड़ा गर्मजोशी से स्वागत किया. मैं तुम्हारी चुत में पूरा का पूरा लंड घुसाते हुए तुम्हें बहुत ही बुरी तरह से चोदूँगा.

उसके बाद तो वो लड़का जैसे पागल हो गया, वो मुझे चूमना और चोदना चाहता था लेकिन मैंने उससे कुछ दिन तड़पाया। उसके बाद मैं उसके घर आ जाती तो अजय मुझे किस करना चाहता पर मैंने उसे भाव नहीं दिया. बीस मिनट तक पूरे जोर जोर से मामी को चोदता रहा और अर्चना मुझे देखकर मुस्कुराती रही. शायद भाभी को भी पता चल गया था कि मैं उन की सारी बातें सुन चुका हूँ.

सामान्य दिनों में आंटी लाइट ऑफ करके सोती हैं लेकिन उस दिन बल्ब जल रहा था। मैंने झाँकने की कोशिश की.

इतनी देर में मम्मी ने मेरी सलवार का नाड़ा खोल कए मुझे नीचे से नंगी कर दिया और मेरे ऊपर आकर मेरी चूत को चाटने लगी. करीब 20 मिनट की चुदाई में वो दो बार झड़ चुकी थी, मेरा भी होने वाला था, तो मैंने स्पीड तेज कर दी और उसकी चुत में ही निकल गया. दोस्तो, मेरी मामी को 6 महीने की बेटी थी तो उनकी चूचियां इस वक़्त अपने चरम पे थीं.

आप आराम से बैठ जाइए और आगे कुछ मत पूछिएगा कि आप कहाँ पे हैं, किस एरिया में हैं. मुझे बहुत ही अजीब सा नशा होने लगा, मेरा लंड टाइट हो गया और मेरा बदन कांपने लगा. मैंनेचुत में उंगलीडाली और चुत को चाटा, मुझे चुत चुसाई में बहुत बहुत मजा आ रहा था.

आज तुम्हीं मेरा मर्द बन कर मेरी जवानी का रसास्वादन कर लो और मेरा कौमार्य भंग कर दो.

इसके कुछ देर तक हम दोनों ने फ़ोरप्ले किया और अब मैंने उनकी चूत में अपना लंड लगा दिया. मैंने अजय को पैसे दिए और कहा- अजय, ये 500 रुपए ले और दो घन्टे से पहले घर मत आना.

एक्स एक्स बीएफ चलने वाला ’ जैसी आवाजें, मैं इसमें नहीं डाल रहा हूँ, क्योंकि सेक्स हमेशा लंड और चूत का खेल नहीं होता, कभी-कभी प्यार का प्रतीक भी होता है. मैंने वैसे ही किया, मेरी गांड ऊपर को उभर आई, उसने मेरी गांड को थूक से भरा और अपना लंड डाल दिया.

एक्स एक्स बीएफ चलने वाला फिर कुछ देर बाद सब सोने की तैयारी करने लगे क्योंकि रात के 9 बज चुके थे. आज से पहले कई बार मामी के बेड पर एक साथ सोया था, परन्तु कभी ऐसा अजीब महसूस नहीं हुआ था.

मैंने बोला कि भाभी मेरे पास एक आइडिया है, जिससे आपको दर्द थोड़ा कम होगा.

सेकसिविडियौ

अपने होंठ काटते हुए रूपा पप्पू का मुँह जोर से अपनी चूत पे दबाते हुए बोली- उम्म्म हाँ और चाटो राजा. फिर सास ने उसकी चूत को चाटा, दोनों ने एक दूसरी की चूत चाटी और एक दूसरी की चूत में प्लास्टिक का लंड डाला. थोड़ी देर बाद वो मेरे पास आया और बोला- आइये!तो मैं उसके साथ साथ चल दी और अगले मिनट में हम घर के सामने थे.

हास्पिटल ओपनिंग के कुछ ही दिन के बाद मेरे पास एक लेडी रागिनी आई, जिसकी लड़की के पेट में बहुत तेज दर्द हो रहा था. वो भी तो तेरी ही बेटी थी?गुलशन- अनिता की बात अलग है, वो मेरी सग़ी बेटी नहीं है. मैंने अपने आप को उनकी बाहों से छुटवा कर कहा- क्या पागल हो गए हो जीजू आप? इस तरह खुले में चुदाई करोगे मेरी? कोई देख लेगा तो? मुझे डर लग रहा है.

”एक ऐसी औरत जो मुझसे चुदने के लिए इतनी उत्सुक थी कि उसने मुझे जो भी चाहे करो.

दीदी ने कहा- तुम अपना लंड निकालो नहीं तो वो तुम्हारी अंडरवियर फाड़ देगा. मेरा चेहरा लाल पड़ने लगा पर पर मैं कुछ नहीं बोल पाई, मेरी हालत तेजी से खराब होने लगी. हम लोगों ने सोचा कि तू चुदी हुई है पर तू तो अनटच है, तेरी चूत आज बहुत चोदेंगे, तुझे जन्नत का सैर कराएंगे, यह दर्द सह ले, तेरे चाचा का लंड है.

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को रिशू का प्यार भरा नमस्कार!प्रिय पाठको, मेरी आपबीती सच्ची चुदाई को व्यक्त करने की शैली और निखर जाती है जब आप मेरी कहानी को ई-मेल के द्वारा सराहते हैं. जो उस्मान ने खींची थींकैमरा माया को देते हुए अमित बोला तो माया ने झट से वो फोटो देखी और हंसते हुए उसने फोटो डिलीट कर दी. थोड़ी देर बात करने के बाद मेरी बुआजी दूध लेने के लिए गाँव में चली गईं.

जब तक मामा मामी की गांड मार रहे थे मैं उनकी चुचियों के मजे ले रहा था. जैसे ही मैं जय के रूम में पहुँची तो मेरी आँखें खुली की खुली रह गईं.

माँ ने कहा- मेरे कपड़े कौन उतारेगा?मैंने मॉम की साड़ी और ब्लाउज उतार दिए. लेकिन मेरी नज़र सच में उसके चेहरे से हटती ही नहीं थी। मैं खाते-खाते भी उसे ही देख रहा था. पापा- दोनों साथ में करेंगे तो ज़्यादा मज़ा आएगा और वैसे भी मैं तुम्हें एक अलग मज़ा देने वाला हूँ मेरी जान.

बहूरानी ने अपने नाखून मेरी पीठ में गड़ा दिए और टाँगे मेरी कमर में लपेट कर कस दीं.

वैसे भी मेरी चुत काफी गीली हो चुकी थी तो चाचाजी के लिए रास्ता काफी आसान था. रमेश- मतलब तू अभी तक वर्जिन है? तेरी चूत की सील नहीं खुली अभी तक?काजल- नहीं भैया. लेकिन एक दिन मैं और वेरषा घर के बाहर बैठ कर बातें कर रहे थे और बात करते-करते हमारे बीच कुछ सेक्सी मज़ाक भी होने लगा.

वो तड़फ कर कह रही थी- जान करो न, प्लीज, चाहे आप मेरी जान ले लो पर मेरी इसमें. दस मिनट तक लंड चूसने के बाद सागर ने मुझे बेड पर लिटा दिया और वो मेरी चुत चाटने लगा.

माया की चुत अब अमित के लौड़े को ऐसे पकड़ रही थी, जैसे माया के होंठ अमित के लंड को चचोर रहे हों. उसके बाद वो बिस्तर पर लेट गईं और उनके पेट की वजह से उनकी चूचियां दाएं बाँए हिल रही थीं. उसके उन्नत मम्मों के ऊपर भूरे दाने, किसी पहाड़ की चोटी की तरह खड़े अपने फतह किए जाने का इंतजार कर रहे थे.

कैटरीना कैफ एक्स एक्स

थोड़ी देर बाद मॉम बाहर आईं उन्होंने सफेद सलवार कमीज पहना हुआ था, जिसमें से उनकी ब्रा और और पेंटी भी जोकि काले रंग की थी, साफ़ नज़र आ रही थी.

लेकिन इस तरह से हम दोनों को ही मजा नहीं आ रहा था तो मैंने उसकी टीशर्ट ऊपर करके निकाल दी. उसने अपनी दोनों टांगों को मेरी गर्दन में फँसा कर मेरे मुँह को अपनी चूत में दबा लिया और अपने हाथों को मेरे सिर के बालों में घुमाने लगी. लेकिन उसने लंड चूसना नहीं छोड़ा, पहले तो उसने पानी गटक लिया और तब भी लंड को जोरों से चूसती रही.

!बरखा ने उस वक़्त रेड कलर की बहुत ही सेक्सी नाईटी पहनी हुई थी, जिसमें उसका यौवन कहर ढा रहा था. मैंने देखा कि अब एक आदमी ने आकर मम्मी के पैरों को चौड़ा करके उनके बीच आकर चूत को सहलाने लगा और ‘वाह वाह. ब्लू पिक्चर फिल्म हिंदी सेक्सी”कई बार मन ही मन चाहा भी कि आप आओ और मुझ में जबरदस्ती समा जाओ; मैं ना ना करती रहूँ लेकिन आप मुझे रगड़ रगड़ के चोद डालो अपने नीचे दबा के.

सिर्फ चाचा के बारे में… नेट में ब्लू फिल्म देखती तो चाचा का वो लंड आंखों के सामने आ जाता और मेरी चूत गीली हो जाती।मेरी बुआ की लड़की की शादी में पूरा परिवार जा रहा था, दो गाड़ियां थी दोनों बड़ी थी, एक में सब लोग आ गये. मैंने अपनी सलवार का नाड़ा खोलना शुरू किया, जिससे चाचाजी के चेहरे पे चमक आ गई.

अब तो रागिनी जी बात करते हुए मेरे पैर से पैर सटा देतीं, मुझे भी कुछ कुछ समझ आने लगा था. थोड़ी देर बाद पूजा भी मेरा साथ देने लगी और कहती- अब जोर लगाओ, जितना लगा सकते हो. फिर 5 मिनट लंड चूसने के बाद मैंने उसे खींच कर खड़ा किया और लिप किस करते हुए अपनी बांहों में उठा कर बिस्तर पर पटक दिया.

बहू क्यों डर रही है… चल आ मेरे पास!” दिनेश उसे बहलाने के लिए कहता।वो बाईं तरफ होती तो दिनेश दाईं तरफ से सामने आ जाता… आरुषि छत की सीढ़ियों की तरफ भागी, वो लॉबी के उत्तरी कोने से ऊपर जाती थीं… दिनेश उसके पीछे भागा… उसने अपने शिकार को पकड़ने के हाथ आगे किया. रात को जब मेरी आंख खुली तो घड़ी में 3 बज रहे थे और मैंने महसूस किया कि दीदी मेरा लंड चूस रही थीं. हमने फिर हिंदी में बात शुरू की, मैंने कहा- रिया क्या करें?तो उसने कहा- यार, मेरी भी समझ नहीं आ रहा है.

इस तरह की चुसाई में उसकी जितनी भी लार निकलती, मैं उसे अमृत समझ कर पीता चला गया.

मैं कुछ बहाना बना कर अपने रूम में चली आई और आँखें बंद करके अपने आपको शान्त करने लगी. आख़िर में बहुत आगे-पीछे करने के बाद मेरे लंड से सिर्फ़ गर्म चिपचिपा सा पानी ही निकला, जिसे मौसी पी गईं और बोलीं- तुम्हें जवान होने में अभी समय लगेगा.

दीदी मादक सिस्कारियां लेते हुए चिल्ला रही थीं- आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… मोनू और जोर से और जोर से. नहीं पापा जी, स्त्री की उम्र उसकी चूत की बनावट और ढीलेपन के अनुसार ही इसका प्रयोग कुछ फेर बदल के साथ किया जाता है. अचानक मेरे वीर्य का एक फव्वारा निकला जो स्कूटर के हेडलाइट को पार करते हुए सड़क पर जा गिरा.

नेहा की चूत से उसकी जवानी का रस बह रहा था और उसकी चूत से निकल रहे रस से मनोज के टट्टे तक भीग गए थे. करीब 20 मिनट की चुदाई में वो दो बार झड़ चुकी थी, मेरा भी होने वाला था, तो मैंने स्पीड तेज कर दी और उसकी चुत में ही निकल गया. थोड़ी देर बाद संजय ने पूजा को बांहों में उठा लिया और बिस्तर पर ले गया- मेरी जान, बहुत दिनों से सोच रहा था कि तेरी गांड का छेद बहुत गुलाबी है, इसमें जब लंड जाएगा तो मुझे कितना आनन्द आएगा.

एक्स एक्स बीएफ चलने वाला तभी हमने देखा कि हमारी बायीं तरफ में एक जवान लड़का और एक युवा लड़की चुम्मा चाटी कर रहे थे. बाद में मैं आंटी को किस करने लगा और जब आंटी का दर्द थोड़ा कम हुआ तो मैं झटके मारते हुए आंटी की गांड मारने लगा.

आपकी भाभी

आप सोचो वो लोग कैसा बोलते होंगे कि में आपको उनकी बात का एक भी शब्द नहीं बता सकती. हमारे लंड अभी खाली नहीं हुए थे, अगर कुछ देर और नेहा चुद जाती तो शायद हमारे लंड भी खाली हो जाते. दोस्तो, आपने चढ़ती जवानी की इस सेक्स कहानी में अब तक पढ़ा कि मुझे अपनी प्यारी चचेरी बहन बिछड़े लम्बा अरसा हो गया था, अब एक शादी में उससे मुलाक़ात होने वाली थी जिस वजह से मुझे उसकी चुत मिलने की आस जग गई थी.

तो ये सबसे अच्छा मौका था मौसी और मेरे लिए… मौसी झट से मुझे अपने साथ दूसरे कमरे में ले गईं और अन्दर से कमरे को बंद कर लिया. अच्छा यह बता कि क्या छेड़ते हैं तुझे वो लड़के?नीता को यह मस्ती अच्छी लगने लगी, पर नाटक करते हुए वो झपट के पप्पू के चुंगल से खुद को छुड़ा कर अब उसके सामने सोफ़े पे बैठ कर बोली- अंकल जाओ, मैं आपसे नहीं बोलती. सेक्स वीडियो ब्लू फिल्म सेक्सीफिर अचानक ही मोहन 10-15 ठापें मारके शांत होने वाला ही था कि शमशेर ने उसे हटा दिया और उसने मम्मी को जमीन पर चित्त लिटाकर मम्मी की दोनों टांगों को ऊपर करके एक बार फिर से लंड अन्दर डाल दिया.

माया जैसे ही पीछे की तरफ झुकी, उस्मान ने उसके दोनों हाथ पकड़ के उसे अपने ऊपर और झुका लिया और झटके मारने बंद कर दिए.

उसके बाद मैं अपने कमरे में नीचे आ गया और भाभी भी थोड़ी देर बाद वहां आ गईं. उसी पल वहाँ एक बहुत ही खूबसूरत लड़की आई, वैसे सभी लड़कियां खूबसूरत ही होती हैं.

उसका लंड चिपचिपा गया था, जिससे मेरी उंगलियां भी लिसलिसा गईं और मेरा मन उसके प्रीकम को चाटने का हुआ. उसके सी-कप चूचे बिल्कुल खड़े, सख़्त और चूसने के लिए एकदम तैयार दिख रहे थे. उसने अपना हाथ पीछे किया तो मेरा खड़ा लंड उसके हाथ में आ गया। उसने तुरंत छोड़ दिया और मेरी ओर देखा और कुछ नहीं बोली।मेरा लंड पूरा खड़ा था तो उसे भी अहसास होने लगा था।ऐसे ही करते करते उसका स्टॉप आया और वो उतर गई.

जब संजय ने चादर हटाई तो पूजा एकदम नंगी लेटी हुई थी और उसकी उंगली चुत पे टिकी थी, जो एकदम क्लीन थी.

मैं जानता हूँ कि उनसे चुदवाने में किसी भी औरत को बिल्कुल भी मजा नहीं आएगा. सुमन उठ कर जाने लगी तो गुलशन जी ने उसे पकड़ लिया और बिस्तर पे गिरा कर खुद उसके ऊपर आ गए और अब दोनों की गर्म साँसें एक-दूसरे के होंठों पे पड़ रही थी. मामी ने अपनी जीभ निकाल कर बाहर कर दी, मैं उसे चूसने में मस्त हो रही थी.

சூப்பர் செஸ் விதேஒஸ்पर सख्त थे।मैंने उस को बिस्तर पर लिटाया और अपनी बहन के मम्मों पर टूट पड़ा। मैं उस के मम्मे काफी तेज दबा रहा था. मेरे दोनों हाथ अंजलि के चुचों पर थे और मेरा मुँह अंजलि की गर्दन पर टिका था.

सेक्सी वीडियो प्रकाश

दोस्तो, आपने चढ़ती जवानी की इस सेक्स कहानी में अब तक पढ़ा कि मुझे अपनी प्यारी चचेरी बहन बिछड़े लम्बा अरसा हो गया था, अब एक शादी में उससे मुलाक़ात होने वाली थी जिस वजह से मुझे उसकी चुत मिलने की आस जग गई थी. गोपाल- अच्छा ये बात है, मगर तुम्हें ये कुछ ज्यादा छोटी नहीं लगती?मोना- अरे मैं कौन सा इससे ज़्यादा काम करवाया करूँगी. मैंने मोनिका की चुत को ध्यान से देखा, जो ऊपर से बिल्कुल साफ और वाइट थी.

गांड खुलवा कर मुझे चूत से ज्यादा मजा आया और प्रेग्नेंसी का डर भी नहीं था. इतना मोटा दीदी की छोटी सी बुर में जाएगा कैसे?आख़िरकार जीजाजी ने अंदर पेल ही दिया… दीदी की सिसकी कमरे में गूँजी इसस्स्स्स सस्स…”अब जीजाजी ने दीदी को धकाधक पेलना शुरू किया, भीगा लंड बाहर आता और खच… की आवाज़ के साथ अंदर घुस जाता. मैं समझ गया कि मामा अपना लंड मामी के मुँह में दे चुके हैं क्योंकि उनकी आवाजें थोड़ी कम हो गई थीं.

तो मैंने भी उसकी दोनों चूचियां पकड़ ली और बारी बारी से उन्हें पीने लगा. जैसे हम अंदर गई तो मेरी ने दरवाजा हमारे पीछे बंद कर दिया।हम थोड़ी आगे बढ़ी तो सारी आवाजें रुक सी गयी. मैं इतनी बेसब्री से तुझे ढूँढ रहा था और तू है कि ना मुझसे गले मिली.

मैंने उसे बताया कि अब मेरा लंड झड़ने वाला है तो उस ने बोला कि कंडोम उतार कर मेरी गांड मारो और पूरा माल गांड में छोड़ देना. उसके सख्त लंड का टोपा मेरी गांड में मेरी पेंटी सहित घुस ही गया होता, जो मैं आगे को ना खिसकी होती.

लेकिन आप तो जानते ही हैं कि सेक्स करने में लंड का साइज़ उतना ज्यादा इंपॉर्टेंट नहीं होता है, इंपॉर्टेंट होता है आप कैसे चूत को चोद रहे हो.

वह शीशे के ठीक सामने खड़ी थी, मैं पीछे से उसे कुतिया की तरह चोद रहा था. की सेक्सी बताइएदो मिनट में ही कविता के दोनों निप्पल किशमिश से अंगूर हो गए यानि उसके निप्पल काफ़ी टाइट और खड़े खड़े हो गये थे. यूरोपियन सेक्सी फिल्ममैंने वैसा ही किया, फिर एक लड़की ने मेरे दोनों हाथ बेड के साइड से रस्सी से बाँध दिए, मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि मेरे साथ अब क्या होने वाला है. उसमें चाकू से एक छोटा सा छेद बना दिया और इंतज़ार करने लगा।आंटी आईं और उन्होंने मुझे खाना दिया और खुद नहाने चली गईं।मैं भी थोड़े देर बाद पीछे पीछे चल दिया और दरवाजे से झाँकने लगा।वह नज़ारा आज भी नहीं भूल सकता हूँ.

उसने पहले तो पेंटी के ऊपर से ही लंड को सहलाया और चूमना शुरू किया और थोड़ी देर बाद पेंटी को हटा कर पूरा लंड मुंह में ले लिया.

उसके सख्त लंड का टोपा मेरी गांड में मेरी पेंटी सहित घुस ही गया होता, जो मैं आगे को ना खिसकी होती. फिर हम लोग ‘टुंडे कवाबी’ के यहाँ गए और मैंने दो कवाब रोल ले लिए और हम लोग रोल खाते हुए मेरी बाईक की तरफ चलने लगे. करीब 1 घंटा रुकने के बाद हम निकल ही रहे थे कि चाचाजी ने इरफान से कार चलाने को कहा और चाची से पूछा कि तुम पीछे आ रही हो कि यहीं बैठोगी.

शिवानी ने मेरी पैंट और अंडरवियर को नीचे जमीन तक खींच कर निकाल दिया. अब जैसे उसके हाथ ऊपर जाते तो उंगली लंड को टच हो जाती और गोपाल सिहर जाता. उसने पहले तो पेंटी के ऊपर से ही लंड को सहलाया और चूमना शुरू किया और थोड़ी देर बाद पेंटी को हटा कर पूरा लंड मुंह में ले लिया.

फॅमिली पोर्न

हम क्या यहाँ बैठ कर मुठ मारेंगे?वीरू- यार मेरा भी मन पहले बरखा को चोदने का ही कर रहा है. तभी रंजु की नजर रीना से मिली जो दीपक के साथ दूसरी राउंड की चुदाई करते बहुत खुश लग रहे थी. स्टेशन पर ट्रेन नहीं आई थी और अभी आने में कुछ देरी होने की सूचना थी.

कुछ मिनट तक संजय ज़ोर-ज़ोर से पूजा की गांड में लंड अन्दर-बाहर करता रहा.

उस वक़्त मम्मी की लाल साड़ी और बिंदिया, गहरी लिपस्टिक को देख कर ससुर जी का लंड ने पैंट में तम्बू बना दिया.

जैसे उसने कुछ सुन ही नहीं हो, पप्पू अपना हाथ और रगड़ के पीछे से उससे चिपकते हुए बोला- यार सबको क्या इसी बस से आना था! भाभी सॉरी… आपको तकलीफ हो रही है पर क्या करूँ? फिर हल्की आवाज़ में रूपा के कान के पास आके पप्पू बोला- अरे भीड़ है तो ये सब चलता है. वो पप्पू के लंड की तरफ़ देख कर बोली- नहीं… नहीं वार्डरोब ना तोड़ो अंकल… लेकिन कुछ सोचो ना अंकल. मुस्लिम भाई बहन का सेक्सी वीडियोबाद में मैं उनसे अपनी भगनासा के सूजने की बात बताई थी तो मामी बोली थी- कोई बात नहीं… पहली बार तेरे मामा ने भी मेरे बुर को चूस कर बरहल का फल बना दिया था.

शायद भाभी ने मेरी नीयत जान ली थी इसलिए एक दिन भाभी ने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है क्या?मैंने झूठ बोल दिया कि नहीं. उसमें से तो कुछ निकला ही न होगा, है ना?”बहूरानी ऐसे बोलती हुई किचन में गयी और पौंछा लाकर फर्श साफ़ करने लगी. फिर उसने मुस्कुरा कर कहा- ओ के… लेकिन अभी प्लीज़ मुझे खाना बनाने में थोड़ी सी हेल्प कर दो.

तभी चाचा बोले- साली आरती, तेरी चूत बहुत टाइट है रे, ज्यादा नहीं चुदवाई है क्या?मैंने अंकल का लंड मुंह से निकाल कर बोली- नहीं चाचा, सिर्फ आज तक मैंने सिर्फ एक बार लंड चूत में लिया था वह भी अपने ट्यूशन वाले सर का… पर उन्होंने पूरा नहीं चोदा था, मेरी चूत में वो लंड सिर्फ टच कराया था, डाला नहीं था, मेरी गांड में जरूर डाला था और जम के चोदा था मेरी गांड को… वो गांड का शौकीन था. मैंने एक बार लंड रीतिका भाभी की तरफ किया तो रीतिका ने मेरे लंड पे किस किया और कहती- चल तोड़ दे आज इसकी भी सील.

तभी ड्राइवर बोला कि गाड़ी खराब हो गई है, दूसरी गाड़ी आएगी तभी आप आगे जा सकते हैं.

मुझे ऊपर मम्मों को मसलने और नीचे रेनू आंटी की चूत से रगड़ खाता मेरा लंड बहुत मजा दे रहा था. उस औरत की टाइट साड़ी में लिपटी गांड, पसीने से गीली कमर, ब्लाउज से दिख रही ब्रा और बगलों से दिखते ब्रा में छिपे गोल मम्मे देख के उसकी पैंट में हलचल होने लगी. थोड़ी ही देर में बहूरानी को मस्ती चढ़ने लगी और उसने मेरा लंड पकड़ के खेलना शुरू कर दिया फिर मेरी कमर में अपना पैर फंसा कर मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मुझे चूमने लगी.

पेशंट सेक्सी व्हिडिओ इतनी देर में सुगंधा की नजर मेरी शर्ट पर पड़ी जो पीछे से गंदी हो गई थी. नहीं तो पुलिस में कम्प्लेन करूँगी।मैंने सब कुछ बता दिया। मैंने ये भी बता दिया कि सिर्फ मैं देखने की कोशिश करता था.

मेरे हाथ बढ़कर उन दोनों लड़कियों की चुत तक पहुँच गए और मैंने अपने हाथ से ही ऐसा जलवा दिखाया कि उनकी चीखें निकलने लगी. उसके निप्पल उसकी चुचियों के रंग से मिलते जुलते रंग के बस थोड़ा गुलाबीपन लिए हुए थे. पहले आंटी ने साड़ी उतारी, बाद में ब्लाउज खोला, फिर आंटी ने ब्रा निकाली.

एक्सपर्ट जट्ट

उनकी उम्र 45 साल की है, वे कसे हुए बदन के मालिक हैं और मेरी सास नहीं हैं. मेरे प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी इस ग्रुप सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स कर सकते हैं. सबके सब मेरी बात पे हँसने लगे तब सुदेश आगे आया और मेरा हाथ पकड़ कर खड़ा हो गया.

यह कहते हुए उसने वहाँ पर दीवार के सहारे पड़े एक पत्थर पर मुझे बिठा दिया. मेरी सारी सहेलियों ने अपने अपने बॉयफ्रेंड्स बना लिए थे। वो बार बार मुझसे कहती थी- रीना! क्या तेरा चुदने का मन नहीं करता? अगर करता है तो कोई लड़का पटा ले और कोई बॉय फ्रेंड बना ले।सुन कर मेरे मन में भी गुदगुदी सी होती थी और मैं भी अपनी जवानी का मजा लेना चाहती थी.

वो बोला- यो ए लेना था नै तन्नै… ले इब साले… पूरा चूस!(यही लेना था ना तुझे.

इस भीड़ में अपने मम्मों पे हाथ पाके रूपा ज़रा घबरा गई और सिर पीछे करके दबे होंठों से पप्पू से बोली- शुक्रिया पप्पू… पर तेरा इरादा क्या है? भीड़ का इतना भी फायदा लेने का… ऐसे? मैं कुछ बोलती नहीं. अब तुम भी इस बात को समझ जाओ तो अच्छा रहेगा, नहीं तो सारी लाइफ मेरे बारे में सोचकर परेशान रहोगे. वो समझा कि ये साली गुजराती रूपाबेन को मज़ा आ रहा है, कुछ बोल ही नहीं रही है, देखें कब तक विरोध नहीं करती.

गुलशन जी जब उठे तो फ्च्च की आवाज़ के साथ उनका लंड चुत से निकला और सुमन दर्द से सिसक उठी. तब मोना ने उसको गोपाल की जान ख़तरे में हैं, वो बात बताई और साथ में ढेर सारे पैसे देने का वादा किया तो वो मान गई. मैंने उस खीरे जैसे कड़क लंड को मसलना शुरू कर दिया और दूसरे हाथ से उस के जिस्म से चिपकी काली शर्ट के बटन खोलने लगा, जिससे धीरे धीरे उस का मर्दाना जिस्म नंगा होने लगा.

बीच बीच में लंड बाहर निकाल कर वो कामुक सिसकारियां भी ले रही थी और उस्मान के टट्टों से खेल रही थी.

एक्स एक्स बीएफ चलने वाला: उनके लंड देख कर मुझे घिन आ रही थी, ना जाने कितनी बार उन्होंने मुझे चोदा होगा. वो मुझे बोली- आपको नींद नहीं आ रही?मैंने कह दिया- हाँ आ तो रही है लेकिन आपकी बांहों में सोने का मन कर रहा है.

मैं एक हाथ से भाभी के मम्मों दबाता रहा और एक हाथ से भाभी के ब्लाउज़ को साइड में करता रहा. मैं उठा और अपने फनफनाते लंड को भाभी के मुँह पर ले गया और उन्हें लंड चूसने को कहा, तो भाभी ने मना कर दिया कि ऐसा उन्होंने पहले कभी नहीं किया. तो दोस्तो, यह थी मेरे दोस्त रजत की अपनीप्रेमिका की चूत चुदाईकी कहानी उसी की जुबानी.

मुझे देखा तो वे मामी के कमरे में रात में सोने की हिदायत देते हुए निकल गए.

वैशाली जिसे मोटी बता रही थी वह दरअसल मांसल सुन्दर शरीर वाली थी, जिसके ऊपर दो उंगल मांस था, जिसे देखते ही लिपट जाने को दिल करे. अब तो रागिनी जी बात करते हुए मेरे पैर से पैर सटा देतीं, मुझे भी कुछ कुछ समझ आने लगा था. अब हम दोनों बैठ कर पोर्न वीडियो देखने बैठ गए ताकि जल्दी से फिर हमारे लंड खड़े हो जाएं.