फिल्म बीएफ फिल्म सेक्सी

छवि स्रोत,देहाती ब्लू सेक्सी देहाती ब्लू सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

तेरी मां की भूसी: फिल्म बीएफ फिल्म सेक्सी, तभी सोना अपनी चूत उसके मुँह पर रख दी, तो सोनम भी कुतिया की तरह सोना की चूत चाटने लगी.

सेक्सी वीडियो इंडियन की

हम दोनों ने रात में अन्तर्वासना की कुछ कहानियां भी पढ़ीं और बातें करते करते सो गए. हिंदुस्तानी सेक्सी ब्लू फिल्मअब ऊपर के ऑफिस में सिर्फ हम दोनों ही थे ज्योति टीचर और मैं … उस दिन उन्होंने पिंक साड़ी और ब्लैक ब्लाउज साथ में शायद ब्लैक ही ब्रा पहनी थी.

मैंने दो तीन मिनट तक ऐसे ही मैम को चोदा, उसके बाद अपना लंड बाहर निकाल दिया और उसे घुमाकर अपने सामने खड़ा कर दिया जिसे उसका मुँह मेरे सामने रहे. चूत लंड की चुदाई सेक्सी पिक्चरऔर वो उल्टी लेट गयी।खूबसूरत गोरे चिकने चूतड़ … मैं झुकी और चूमने लगी हल्के हल्के। सुजाता ने थोड़ी अपनी टांगें चौड़ी कीं और मेरे होंठ फिसलते हुए सुंदर से भूरे छेद से जुड़ गए।मैं चूसने लगी, चाटने लगी।शोभा ने गाजर प्रोग्राम फिर शुरू कर दिया।मैं और मम्मी दोनों एक साथ बज रही थीं।तभी लक्ष्मी ने शोभा को बोला- मैं ज़रा वाशरूम जाकर आती हूँ.

लंड चूत में लगा के उन्होंने मेरी कमर को कस के पकड़ लिया और एक बार में पूरा लंड मेरी चूत में उतार दिया.फिल्म बीएफ फिल्म सेक्सी: वह आनंद में डूबती जा रही थी और बोल रही थी- हाय जान, फ़क मी, आज मेरी चूत में वास्तव में कोई लण्ड गया है.

अब तो वो मुझे देख कर घूंघट भी नहीं करती थी, बल्कि मेरी तरफ गुस्से से देखती थी.क्या पता कोई घर या झोपड़ी मिल जाये?मैंने कार को लॉक किया और चल पड़ा जंगल की ओर.

सेक्सी डाउनलोड हिंदी में - फिल्म बीएफ फिल्म सेक्सी

अब मेरे दिमाग में एक प्लान चल रहा था कि मैं कल ही मधु को चोद दूंगा और अगले दस दिन तक मधु को रगड़ रगड़ के चोदता रहूंगा.मैंने अपनी जीभ से चूत के दाने को चाटना और होंठों से मसलना चालू कर दिया.

मैंने जल्दी से उठ कर एक लाल रंग की ब्रा और पैंटी पहनी और उसके ऊपर से लाल रंग की ही नाइटी डाल ली. फिल्म बीएफ फिल्म सेक्सी मुकुल राय को भी तुरंत आभास होता है और वो एक झटके से अपना पूरा लंड परीशा के हलक से बाहर निकाल देता है। परीशा वही ज़ोर ज़ोर से खांसने लगती है.

मैंने उनके लंड को कपड़े से साफ़ किया और उसके बाद मैं उनका लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

फिल्म बीएफ फिल्म सेक्सी?

एक बार फिर वो हटी और इस बार लंड को चूत के अन्दर ले कर लंड के साथ खेलने लगी. ’वो धक्के से आगे सोफे के किनारे पे गिर गयी, जिसे पकड़ के वो सम्भली थी. बेबी को बेड पर लिटाकर मैंने उसके निप्पल चूसने शुरू कर दिये और चूत सहलाने लगा.

मेरा कद करीब 6 फीट है। अपने कॉलेज का बॉडी बिल्डिंग का चैम्पियन हूँ. बॉस- बस इतनी सी बात!मेरी बीवी बोली- उन्होंने फटाफट मेरे बैंक खाते में दो लाख ट्रांसफर कर दिए। और फिर मैं सब कुछ छोड़कर आपके पास चली आयी। बाकी सब तो आप जानते ही हो। मुझसे गलती हो गयी मुझे माफ़ कर दीजिए। किसी को भी मुँह दिखाने लायक नहीं रही मैं तो!मैं अब पूरा उत्तेजित हो चला था, मैंने बस इतना कहा- अरे रीना, हो जाती हैं ऐसी नादानियाँ! तुम होश में नहीं थी। आगे पूरा जीवन पड़ा है. मैंने पास में पड़े देसी घी के डिब्बे में से खूब सारा घी निकाल के अपने लंड और भाभी की चूत पे लगाया.

मैं उसकी गांड को लंड से रगड़ रहा था और अपने हाथों से उसके पेट तथा कमर को सहला रहा था. फिर मैंने देखा कि अजय ऋतु की पैंट को निकलवा रहा था लेकिन मेरी बीवी ने उसका हाथ बीच में ही पकड़ लिया और उसको अपने ऊपर खींच लिया. उसने पूछा- क्या मतलब?मैंने कहा कि देख बेटा तूने मुझे भड़का दिया है और अब मैं सह नहीं पा रहा क्यूंकि तूने मेरे छोटू को जगा दिया.

उसकी कसी हुई चूत से मुझे ऐसे लग रहा था, जैसे राहुल के पास लंड नाम की चीज ही न हो. मैंने कहा- निहारिका यहां कौन देखेगा हमें … क्यों न बिल्कुल नंगी हो कर सोया जाए.

मैं अपनी लम्बी जीभ निकाल कर आंटी की गांड से चाटते हुए चुत तक आता और चुत से गांड तक जाता.

उसके बाद मैंने तेजी से उंगली करनी शुरू की तो सोनू पांच मिनट के अंदर ही झड़ गई.

भाभी बताने लगीं कि उनको कपड़े से डर नहीं लगा था बल्कि मुझसे चुदना था. मैंने कहा- अरे हां मेरी चुदासी बहनिया, मैं तो भूल ही गया था कि मेरे पास तो रामबाण रखा हुआ है. - 9×××××××××मुझे उम्मीद की एक किरण नजर आई मैंने तुरंत अपना सेलफोन लिया और बोर्ड पर लिखे नंबरों को डायल कर दिया और घंटी जाने लगी, सामने से कॉल रिसीव हुआ और एक मर्दाना आवाज आई- हेलो.

दस मिनट तक चुची दबाने के बाद मैं अपना हाथ उसके पेट पे फिराने लगा और वो मचलने लगी. ”नहीं मेरी जान कपड़े थोड़े नीचे सरका के नहीं बल्कि पूरी नंगी करके लिटा के मज़े लूंगा. विक्रम- फिर तुम चली गयी? इतनी बड़ी बात मुझे बतानी नहीं समझी?रीना- मुझे कुछ समझ नहीं आया, क्या करूँ … या ना करूँ! मैंने पता नहीं क्यों हाँ बोल दिया और चली भी गयी.

अंतर्वासना की दुनिया एक ऐसी दुनिया है कि यहां बूढ़े भी अपना मनोरंजन कर सकते हैं.

वैसे तो यात्रियों के लिए ड्रिंक करने की मनाही थी लेकिन वो मेरे बारे में अच्छी तरह जानता था इसलिए मुझे यात्रा के लिए कैसे मनाना है वो अच्छी तरह जानता था. उसके बाद मेरी आँख खुली, तो परवीन के बदन की गर्मी से मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था. एक काम करो ना, तुम मेरे घर पे आओ न … वहीं साथ में बात करते करते टीवी देखेंगे.

उसके साथ मेरे सेक्स सम्बन्ध कैसे बने और इसमें मेरी सहेली की क्या भूमिका रही, इस सबके बारे में मैं खुल कर अगले भाग में लिखूंगी. अजय ने अपनी स्पीड बढ़ा दी और फिर दोनों ही गांड चुदाई का मजा लेने लगे. मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में आ गया और उसकी चुत में मेरा लंड डालने लगा.

मैंने अपने चूतड़ों को चौड़ा किया और उसके पेट पर दोनों तरफ पैर करते हुए बैठ गयी.

ऐसा करते करते मैंने उसके दोनों दूधों को पकड़ लिया और उनसे खेलने लगा. अजय ने फिर अपने मुंह से थोड़ा सा गर्म थूक निकाला और ऋतु की गांड के छेद पर मलने लगा.

फिल्म बीएफ फिल्म सेक्सी कुछ देर के बाद जब उनका लंड कोमल की चूत में कुछ अन्दर चला गया, तो ताऊ जी ने बोला कि अब मैं तुम्हें अपनी सच्ची औरत बनाने जा रहा हूं. जब से मैंने उसे पहली बार देखा था, तभी से मैं उसको चोदने का प्लान बनाने लगा था.

फिल्म बीएफ फिल्म सेक्सी तो दोस्तो, यह था मेरे जीवन का पहला सेक्स, मेरी पहली चुदाई की कहानी. जब भाभी कुछ उठाने के लिए नीचे झुकी तो मुझे भाभी की वही गुलाबी कच्छी दिखाई दे गई जिसको मैंने छत पर सूंघा था.

दोस्तो, तब मैं मन ही मन इतना खुश हो गया कि मैं आप लोगों को क्या बताऊं.

छत्तीसगढ़ी में बीएफ पिक्चर

मैंने उसके कान में धीरे से पूछा- क्या फिगर साइज बना रखा है तुमने?तो उसने शर्माते हुए बोला- खुद ही चैक क्यों नहीं कर लेते. पहले तो मैं ऐसे ही बियर पीता रहा … लेकिन तभी मेरे दिमाग का शैतान जगा. किसी भी क्षण होटल से कोई आ सकता था, सुधा या किसी और का फ़ोन आ सकता था.

बाद में मेरी सहेली ने मुझे बताया कि बहुत स्मार्ट है तुम्हारे पापा के दोस्त का बेटा!उसके बाद मेरे पापा के दोस्त का बेटा रोज मेरे घर आने लगा. वह मेरी चूत को तेजी के साथ पेलने लगा और फच-फच की आवाज पूरे कमरे में सुनाई देने लगी. शुभम जी बोले- जब भी तुम्हें देखता था … तो मेरा लंड तुझे सलामी देने लगता था.

फिर वो हंसते हुए बोली- कहीं तुम गे तो नहीं हो?मैंने उसे गम्भीरता से देखा, तो वो बोली- सॉरी बाबा मज़ाक कर रही हूँ.

मैंने अपने एक हाथ से उसके चेहरे को टच किया, तो वो अचानक से जाग गयी. उसने हंस कर पूछा कि मुझसे क्या काम है?मैंने उसे कुछ नहीं बताया, बस इतना कहा कि कल रुक जाना. तो मैंने उससे कहा- मोनिषा, अगर मैं आपकी कोई हेल्प कर सकता हूं तो आप मुझे बताओ?वो मेरी तरफ बड़ी वासना भरी नजरों से देखने लगी.

मैं बोला- और जो कल दोपहर में आया था वो?मामी बोलीं- वो मेरे सहेली मनीषा के पति का दोस्त है अमित. एक बार तो उन्होंने मेरी गांड भी मारी और गांड मारने के बाद अपने वीर्य को मेरे हलक में उतार दिया. हां बताओ तलाक क्यों हुआ?मैं बोला- जिससे मेरी शादी हुई थी, वो किसी और से प्यार करती थी, ये बात उसने मुझे पहली रात ही बता दी थी.

मैंने कभी भी उसे चुदाई की नजर से देखा ही नहीं था और कभी उसके नाम की मुठ भी नहीं मारी थी. उस सुबह मैं 9:30 ही मॉल में पहुँच गया और वो भी थोड़ी देर में आ गईं.

मैंने उसे बनावटी गुस्से से डाँट के कहा- से इट लाऊड स्लट (तेज बोलो मेरी रंडी)वो रोती सी आवाज में कांपती आवाज में बोली- यस आई लाइक इट मास्टर ( मुझे ये अच्छा लग रहा है मेरे मालिक)मैंने उसके चूतड़ों पर फिर से व्हिप से मारा. अब मुझे एक पल के लिए लगा कि यार ये क्या हो गया एक ही बिस्तर पर सुमन भाभी के साथ कैसे लेटा जाएगा. इतना बोलने के बाद मैं अपना लंड रश्मि की चुत में चलाने लगा और उसके निप्पलों को दांतों से काटने लगा.

भाभी बताने लगीं कि उनको कपड़े से डर नहीं लगा था बल्कि मुझसे चुदना था.

जब वो जाने को उठी तब मुझे उसके पूरी जिस्म का मुयायना करने का अवसर मिला. वो उचक तो रही थी लेकिन मजा नहीं आ रहा था क्योंकि वो ज्यादा ऊंचा नहीं उचकती थी. मैं सुमित सिंह, जोधपुर राजस्थान का रहने वाला हूँ तथा एक प्रतिष्ठित सरकारी विभाग में कार्यरत हूँ.

”तुत्ते … ??? क्या मतलब??? तुत्ते क्या होता है?” मुझे लगा शायद वो डिल्डो (लिंग के आकार का एकसेक्स टॉय) की बात कर रही होगी।फिर भी मैं अनजान बनते हुए हैरानी से उसकी ओर देखता रहा।ओहो … आप भी … ना … … वो तुत्ता नहीं होता???” उसने आश्चर्य से मेरी ओर देखा जैसे मैं कोई विलुप्त होने के कगार पर पहुंची प्रजाति का कोई जीव हूँ. तो मैंने अपने होंठ अपनी साली की चुत पर रख दिए और उसकी चूत को मजे से चाटने लगा.

हालांकि खाने वाली बात में ऐसा कुछ था नहीं मगर चूत उसमें भी घुसेड़ दी! लड़कों का दिमाग टंकन मशीन की तरह होता है मारो कहीं लगे वहीं!बकचोदी बहुत हो गयी, अब स्टोरी पर आते हैं. इस पर ज्योति की आवाज निकल पड़ी- ओह राज क्या कर रहे हो?मैंने उसकी छाती पर दो उंगलियां भी चलाईं, इस पर ज्योति मेरा हाथ पकड़ते हुए बोली- बड़े नॉटी हो रहे हो. अब उसके एक हाथ की दो उंगलियां चूत के अन्दर-बाहर हो रही थीं, तो दूसरे हाथ की एक उंगली गांड के अन्दर बाहर आ जा रही थी.

मेवाती सेक्सी बीएफ

उसके दोस्त ने मेरा हाथ पकड़ कर बिठा दिया और कहा- संभल के … पहले कभी ट्रक में बैठे नहीं क्या?मैंने कहा- आपने झटका ही इतनी जोर से दिया कि मैं डर गया.

और दोपहर में मैं अपने घर से बाहर ही रहती हूँ या कभी कभी मेरी सहेलियां मेरे घर आती हैं तो मैं अपनी सहेलियों के साथ अपने घर पर बात चीत करती हूँ. मेरी लाल रंग की ब्रा जैसे ही उसने देखी तो वह उस पर टूट पड़ा और उसके ऊपर से ही मेरे चूचों को चूसने लगा. मैंने पूछा- आर यू रेडी (क्या तुम तैयार हो)उसने हां में सर हिलाया- ओके.

मेरी कहानी पढ़ने के बाद मुझे एक मेल आया और उन्होंने मुझे उनकी कहानी लिखने की रिक्वेस्ट की, जो मैंने मान ली. मैंने कहा- आपको ऐसा क्यों लग रहा है?सुमन भाभी- यार तुम इतने हैंडसम हो, दिखने में भी बड़े हॉट हो … और तुम्हारी कोई जीएफ नहीं है. मां बेटा की सेक्सी कहानियांसीमा- ये क्यो जानू … क्या जान लेने का इरादा है?मैं- ऐसा ही समझो मेरी जान.

अब उन्होंने अपने दोनों पैर अलग कर दिए थे और मेरा सर अपनी चूत के ऊपर दबाने लगी थीं. धीरे धीरे मैगज़ीन और टीवी आदि की वजह से मेरा सेक्स का ज्ञान बढ़ने लगा, कॉलेज में सहेलियां भी कुछ ना कुछ बोलती ही रहती थीं.

मैं उसके लंड को पूरा गले गले तक ले रही थी और वंश मेरी चूत को और गांड को पूरी जीभ डाल के चाट रहा था. चाचा के घर से निकल कर मैंने सोचा कि मैं कौसर को बता देता हूँ कि मैं देर से आऊंगा, नहीं तो वो नाहक मेरा इंतजार करेगी. मैं अब्बू को रोकने के लिए फटाफट चलने लगा तो मेरा पैर किसी चीज से टकरा गया और मैं गिर गया.

मैं उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके चुचों को चूमने लगा … जिससे वो भी मस्त हो गई और उसने आहहह निकाल कर अपनी चुदास जाहिर कर दी. सुनीला ने मेरी पैंट के ऊपर से मेरा लंड पकड़ लिया और पैंट का हुक खोलने लगी. कामवर्धक दवा ने अपना पूरा असर किया था मौसी की चुदास पर इसलिए मौसी बस मेरे लंड से चुद कर शांत होना चाह रही थी.

उसके साथ मेरे सेक्स सम्बन्ध कैसे बने और इसमें मेरी सहेली की क्या भूमिका रही, इस सबके बारे में मैं खुल कर अगले भाग में लिखूंगी.

अब नम्रता अपने दाहिने मम्मे के निप्पल को चुटकी से मसलने लगी और बीच-बीच में नाखून भी चलाती. हम दोनों ने साथ में शावर लिया और मैंने दीदी से कहा- हम कल तक हम घर में नग्न अवस्था में ही रहेंगे.

उसने मेरे बालों को कस के पकड़ लिया और खींचने लगी, जिससे मुझे दर्द होने लगा. चाचीवह बोलीं- अमित ये क्या कर रहे हो? मैं तुम्हारी चाची हूं, तुम्हारे चाचा की बीवी. उसके गोरे हाथ को जब मेरी नजरों ने देख लिया तो मेरा अधसोया सा लंड टन्न से फिर तनकर उछल पड़ा.

वहाँ से आने के बाद भी कभी होटल में तो कभी उनके फार्महाऊस में मेरी चुदाई होती रही. और बॉस ने सम्पूर्ण जिम्मेदारी मुझे दी है तो मैं तो शादी में ग्यारह दिसंबर को ही आ पाऊंगा और बच्चों के भी पेपर शुरू होने वाले हैं. औसा प्रतीत हो रहा था कि इस साली छिनाल, हरामजादी की भोसड़ी में यदि आलू डाल दूँ, तो वो भी उबल कर बाहर आ जाएगा.

फिल्म बीएफ फिल्म सेक्सी इस तरह वो कुछ देर मेरे आधे लंड से खेली और फिर मेरी निक्कर ऊपर कर के लेट गई. अंकल ने अपने लंड को अम्मी के मम्मों के बीच में रखा और उनके मम्मों की चुदाई करने लगे.

बीएफ जबरदस्ती जबरदस्ती

मैं अक्सर उन लड़कों को बड़ी आशा भरी निगाहों से देखता रहता था कि अगर इनमें से कोई मिल जाए … तो मैं उसे भी खुश कर दूं और मैं भी मज़े कर सकूं. शाम को पापा ने कहा कि तुम पढ़ाई के चक्कर में अपनी तबियत खराब मत कर लेना. टहलते हुए मेरी नजर एक छोटी सी दुकान पर पड़ी, जहां पर रसोई से सम्बन्धित सामान मिल रहा था.

वह मेरे सामने खड़ी ऐसे शर्मा रही थी, जैसे मानो आज ही हमारी सुहागरात हो. मैं उसकी चूचियों को आगे से पकड़ लिया और दबाते हुए कंधों पे, गर्दन पे, उसकी लटकती बांहों पे किस करने लगा. सनी लियोन एचडी सेक्सी फिल्मइसके बाद हम दोनों ने जल्दी से अपने अपने कपड़े पहने, एक दूसरे को चूमा और घर की तरफ निकल लिए.

वसुंधरा चौदहवीं के चाँद के मानिंद चमक-दमक रही थी लेकिन जैसे चाँद में भी दाग होता है वैसे ही इस मुज्जसिम हुस्न में भी एक कमी थी और वसुंधरा को शायद इसका एहसास नहीं था लेकिन मैंने वो कमी पकड़ ली थी.

मैंने धीरे से अंदर झांक कर देखा तो मौसी ने अपने घुटने मोड़ रखे थे और उनका एक हाथ उनकी टांगों के बीच में आकर उनकी चूत को तेजी के साथ सहला रहा था. मेरी पड़ोसन भाभी के बारे में लिखते हुए मेरा लंड ऐसे तन गया था कि मुझे मुट्ठ मारकर उसको शांत करना पड़ा.

फिर मेरे पूरे जिस्म को चूमते हुए नीचे की तरफ आयी और मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में भर लिया और मुठ मारने लगी. मैं बीच बीच में हल्के हल्के से भाभी के एक निप्पल को काटने लगा, चूसने लगा. वो बोल रही थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’तभी मैंने परवीन को कंधों से पकड़कर कस लिया और एक जोरदार धक्का दे मारा.

मेरी चूत में जो आग लगी हुई थी उसको भोला का लंड अच्छी तरह बुझा सकने वाला दिख रहा था.

मैं एकदम से डर गया और अपने लंड को छुपाने की कोशिश करते हुए अपनी टी-शर्ट को नीचे कर लिया. चूंकि मेरी माँ के गुजर जाने के बाद मानसी और मैं अकेले ही रहते थे इसलिए गीता मौसी अक्सर हमारे पास कुछ दिन ठहरने के लिए आ जाया करती थी. उनके मेरे लंड पर बैठते ही मेरा 6 इंच का लंड उनकी चुत को फाड़ता हुआ पूरा का पूरा भाबी की चुत में फंस गया, जिससे भाबी को थोड़ा दर्द होना शुरू हो गया.

हाशमी की सेक्सी पिक्चरअब उसे भी मजा आने लगा था और अपनी गांड उठा उठा कर मेरा साथ दे रही थी।हम दोनों दस मिनट तक चुदाई करते रहे. अब आगे शुक्रवार का मुझे बेसब्री से इन्तजार था, जब मेरी कमसिन चूत को अंकल का फौलादी लौड़ा फाड़ने वाला था.

सेक्स बीएफ इंग्लिश बीएफ

फिर हम लोग एक रेस्तरां में लंच को गए, तो उन्होंने बताया कि मैं यह सब अपने पति के साथ भी कर चुकी हूँ, इसलिए ये सब मुझे अच्छी तरह करना आता है. उसने कहा- तुम्हारी कोई जीएफ़ है क्या?मैंने कहा- होती तो क्या तुम साथ मेरे होती?उसने एकदम से मुझे ‘आई लव यू …’ बोला. कुछ देर ऐसे ही चुदने के बाद वो मेरी कमर में अपने पैर को लपेटने लगी.

मैं पहले से ही सारी तैयार देख कर जरा चौंका और मैंने कहा- क्या बात है, यहां तो पहले से सब तैयार है?राधिका- मेरे राजा ये सब तुम्हारे लिए ही किया है. मेरी कौसर इतनी ज्यादा सेक्स की भूखी है कि इतने लम्बे मोटे लंड का मजा वो छोड़ नहीं सकती थी, चाहे वो लंड उसके अपने ससुर का ही क्यों ना हो!फिर अब्बू मेरी बीवी के चूचों को पकड़ कर मसलने लगे और अब मेरी बीवी अपने आपको कंट्रोल कर रही थी लेकिन तब भी मजे से उसकी सिकारियां निकली जा रही थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’अब्बू का लंड मेरी बीवी की चूत को रगड़ रहा था. कुछ देर बाद मैंने उसकी पैन्टी में हाथ डालकर चूत पर उंगलियां चलानी शुरू कर दीं तो उसने अपने चूतड़ उचकाकर पैन्टी नीचे खिसका दी जिसको अपने पैर से फंसाकर मैंने बेबी के शरीर से अलग कर दिया.

यहाँ तक कि हम दोनों लोग कपड़े खरीदने जाना होता था, तो हम अपने पति के साथ नहीं जाते थे. पिछले हफ्ते आपने जी तनख्वाह दी थी, वो तो सब खर्च हो गयी, बची हुई की वो दारू पी गया. खाना खाते समय मैंने देखा कि ताऊ जी की नजर अधिकतम समय खाना पर कम, कोमल के ऊपर ज्यादा टिकी थीं.

मैंने अब अपने लंड में वैसलीन लगा ली और थोड़ी वैसलीन उसकी चुत पे लगाकर उसके ऊपर लंड सैट कर दिया. मैंने कितनी बार तुमको अपने दिल की बात बताने की कोशिश की लेकिन तुमने कभी मेरी बात नहीं सुनी.

भाभी जब भी मॉम से बात करती थी, तो मुझे लगता था कि क्या इसने मॉम को बता दिया होगा?कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा, पर भावना भाभी ने मॉम को कुछ नहीं बताया था.

अब मेरी भी रफ्तार बढ़ चुकी थी और चूत रस से पूरी चिकनी हो कर चमक रही थी. नेपाली सेक्सी ब्लूटूथशमा ने मेरे तने हुए लंड को अपने हाथ में लेकर हिलाया और उसको अपने मुंह में भर कर चूसने लगी. सेक्सी चुदाई का वीडियो हिंदीथोड़ी देर वैसे ही सोने के बाद दीदी ने मुझे उठाया और हम दोनों बाथरूम में नहाने चले गए. कुछ देर तक मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही चूसने के बाद भाभी ने मेरे कच्छा को निकाल दिया और जैसे ही मेरा लौड़ा बाहर आया भाभी ने तुरंत उसको अपने गर्म मुंह में भर लिया.

अब मेरे दिल में विचार आया कि क्यों न मैं भाभी को अपने विशाल लंड के दर्शन करवा दूँ.

अब ताऊ जी जोर जोर से झटके मार रहे थे और कुछ देर के बाद वो कोमल के ऊपर ही ढेर हो गए. उसके आते ही मैं उसके ऊपर चढ़ गया और अपने होंठ उसके होंठों पे लगा दिए. उनकी दाढ़ी मेरी मां के बूब्स पर चुभ रही थी जिसकी वजह से मां को थोड़ी तकलीफ हो रही थी। कुछ देर तक मेरी मां के दूध के साथ खेलने के बाद अंकल ने उसकी साड़ी खोल दी और साथ ही पेटीकोट का नाड़ा भी खोल दिया और साड़ी और पेटीकोट को उतार कर अलग कर दिया।अब मेरी मां सिर्फ सफेद ब्रा और नीली पैंटी में अंकल के सामने खड़ी थी.

वैसे भी आज सर्दी ज्यादा है तो सोच रहा हूँ कि एक दो घूंट लगा लूंगा तो रात आराम से कट जायेगी. मेरी माँ दूध देने के लिए दूसरे कमरे में गईं, तो अनुषी ने मुझे चकोटी काट ली और बोली- क्या देखना भी भूल गया?तभी मेरी माँ आ गई. मेरी सीट साइड लोअर सिंगल बर्थ थी अकेली की, उसके ठीक ऊपर मेरी सास की साइड अपर सिंगल बर्थ थी.

बीएफ फिल्में देखना

एक तो ये प्यासी जवानी और उस पर अंकल ने बदन में लगाई हुई आग, मुझे व्याकुल कर रही थी. मैं मुस्कुराती हुई बाथरूम में घुस गयी और तुम्हारी दी हुई नाईटी पहनकर बाहर आकर ड्रेसिंग टेबिल के पास थोड़ा झुककर अपने होंठों को लिपिस्टक से धीरे-धीरे सजाते हुए शीशे से अपने मर्द को देख रही थी. विक्की ने एक मिनट के लिए लंड बाहर निकाला, तो मेरा मन होने लगा कि मैं अपनी चूत में लंड ले लूँ.

उसका लंड काफी लम्बा था और रूपाली की चूत में पूरा जा भी नहीं रहा था.

मेरे कहने पर भोला ने और जोर लगाया और पूरी ताकत के साथ मेरी चूत में धक्के मारने लगा.

उसको तो यह भी पता था कि मैं मानसी की चूत और गांड चोदने की फिराक में रहता हूं. पता नहीं क्यों … मैंने अपने हाथ से उसे एक निवाला खिला दिया … बस कीर्ति रोने लगी. सेक्सी वीडियो सेक्सी वीडियो चुदाई चुदाईदरअसल मैं भी ये देखना चाहता था कि मेरी बीवी ऋतु पैसों के लिए किस हद तक जा सकती है.

थोड़ी देर बाद उसने कहा- अब बस … कोई आ जाएगा!ऐसा कहकर उसने मेरा मुँह अपनी चुत से अलग करके अपनी साड़ी नीचे कर ली. अब इन हाई सोसाइटी लेडीज के पास कोई काम तो होता नहीं, सिवाये अपने मर्द की कमाई फूंकने के. मेरा मन भाभी की गांड मारने का था तो मैंने भाभी को बोला, तो वे बोलने लगीं कि मैंने आज तक गांड नहीं मरवाई है.

एक दिन शिशिर ने मुझसे मेरा मोबाइल नंबर माँगा, तो मैंने उनको दे दिया और अब हम दोनों की फ़ोन पर बातें भी होने लगीं. पोर्च में वसुन्धरा के पापा ने कार रोक कर मुझे उतारा और खुद कार गैरेज़ में पार्क करने के लिए आगे बढ़ा ले गए.

अब दीदी ने कहा- ये क्या कर रहे हो? मैं तुम्हारी बहन हूँ और बहन के साथ ऐसा कोई करता है क्या?मैं घबरा गया और झट से हाथ हटा दिया.

मैं बेबी की चूत चोदता रहा, चोदता रहा, वीर्य की आखिरी बूंद निकलने तक चोदा. इसी पल के उरूज़ के कारण आदम और हव्वा खुदा के बाग़ से निकाले गए और आज उनकी नस्लों को भी इस पल के फैसले पर ऐतराज़ नहीं … ऐसा है इस पल का सम्मोहन. उसने उम्म्ह… अहह… हय… याह… बोल कर मुझे अपनी बांहों में लपेट लिया और मैंने गांड की हरकत चालू कर दी.

देसी हिजरा सेक्सी जब पहली बार मेरा लंड उसकी चूत से टकराया तो मैं ज्यादा देर उसकी चूत की गर्मी के सामने टिक नहीं पाया और आधा सुपाड़ा अंदर जाते ही मेरे लंड ने उसकी चूत पर वीर्य की पिचकारी मार दी. हम दोनों के ही दिल कह रहे थे कि समय ठहर जाए, पर वो मानने वाला नहीं था.

जैसे ही आंटी किचन में चाय लाने को गईं, वैसे अंकल मेरी तरफ खिसके, मेरी धड़कनें तेज हो गईं. मैंने इसके आगे कुछ देर रुके रहने का तय किया और लंड को ना अन्दर किया न बाहर निकाला … बस पूरी ताकत से उसको पकड़े रहा. मैंने उनके फोन पर फोन करके पूछा- आज बड़ी खुश नज़र आ रही हैं भाभी जी, क्या बात है?भाभी बोलीं- तुमने शिकायत का मौका जो नहीं दिया.

बीएफ एप्स डाउनलोड

अपने नये फ्लैट में शिफ्ट हुए हमें तीन महीने ही हुए थे कि हमारे सामने वाले फ्लैट में भी एक परिवार रहने आ गया. मैंने कहा- तो जिनकी शादी नहीं हुई है वो ऐसा नहीं कर सकते हैं क्या?भाभी बोली- कर तो सकते हैं लेकिन …मैं बीच में ही बोल पड़ा- तो फिर भाभी, मैं भी आप पर चढ़ सकता हूं न!भाभी ने मेरे मुंह पर हाथ रख दिया और बोली- चुप कर, मुझे अपना काम करने दे। बहुत बेशर्म हो गया है तू। यह कह कर उन्होंने मुझे किचन से बाहर धकेल दिया. फिर मैंने उसकी छाती के बीच में तने हुए उसके गहरे भूरे रंग के निप्पलों को बारी-बारी से चूसना शुरू कर दिया.

दीक्षा का मैसेज आया- क्या कहना हैं बोलो?मैं- तुम बुरा तो नहीं मानोगी?दीक्षा- अरे बोलो तो सही … क्या बात है, मैं पक्का नहीं बुरा मानूंगी. उधर के जोड़े किस कदर एक दूसरे से लिपट कर रोमांस करते हैं कि आपको अच्छी खासी डबल एक्स ब्लू फिल्म का लाइव शो देखने को मिल जाएगा.

लेकिन मैं सोच रहा था कि शायद तुम्हारा मन इनसे चुदने का नहीं हो इसलिए मैंने मना किया था मगर तुमने तो सारी हद पार कर दी.

नम्रता ने मेरे यह शब्द सुनते ही मेरे लंड पर अपना शिकंजा कस लिया और खेलने लगी. सोनल ने अपना पैग खींचा और वो अपनी भाभी राधिका के टास्क का इन्तजार करने लगी. करीब दस मिनट तक ये खेल चला, फिर सनी जी ने बंटी जी को इशारा किया और अपना लंड मेरे मुँह से निकाल कर सीधा मेरी गांड की तरफ आ गए.

फच-फच की आवाज तेज हो चुकी थी, मेरे धक्के के कारण रेखा का जिस्म हिल रहा था और साथ ही उसकी चुचियां भी हिल-डुल रही थीं. बहुत खटखटाने पर जब दरवाजा नहीं खुला तो मैं अपनी खिड़की के रास्ते से अंदर आ गया. फिर वो फुसफुसा कर बोली- क्या देख रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं बस वीडियो देख रहा हूँ.

मेरी चूत से पहले तो कुछ पानी सा निकला मगर उसके बाद साथ ही यूरीन भी निकल गया क्योंकि मेरा तो यह पहली बार ही था.

फिल्म बीएफ फिल्म सेक्सी: फिर आख़िरकार भाबी के नर्म हाथों में मेरा लंड आ गया था, जिसे भाबी सहलाने लगी थीं. उसने मुझसे वादा किया कि वह मेरी चूत में लंड तब तक नहीं घुसाएगा, जब तक मैं ही उससे लंड की मांग न करने लगूं.

इसके बाद मैंने मामी से मेरी एक फ्रेंड की बात छेड़ी और उनसे कहा कि वो आज लव मैरिज करने जाने वाला था. यही सब सोच कर मैं आराम करने लगा।शाम को उसने मुझे चाय पीने के लिए बुला लिया. मैं उसे चोर नज़रों से देख रहा था और सोच रहा था कि काश यह माल मेरी गर्लफ्रेंड बन जाए.

कुछ देर तक उसके चूचों को चूसने के बाद जब बात मेरे कंट्रोल से बाहर होने लगी तो मैंने एक हाथ से अपनी पैंट की चेन खोल दी और सोनू का हाथ पकड़ कर अपनी पैंट की जिप पर रखवा दिया.

फिर उसने मेरे निक्कर को इलास्टिक से चुटकियों से पकड़ा और ऊपर उठाया और झुक कर मेरे लंड को देखने की कोशिश करने लगी. मैंने एक रूम बुक किया और कमरे में जाकर चैक किया कि कहीं कोई कैमरा आदि तो नहीं लगा रखा है. फिर भाभी ने पीठ मेरी तरफ कर ली और आइने के सामने खड़ी होकर ब्रा और कच्छी को उतार कर एक तरफ फेंक दिया.