एक्स एन एक्स एक्स बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,इंडियन देसी सेक्सी फिल्म वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

भारतीय सेक्सी फिल्में: एक्स एन एक्स एक्स बीएफ सेक्सी, इसके बाद बहुत अच्छा सा मेकअप किया मैंने।चूँकि मैं आज बहुत दिनों बाद ऐसे तैयार हो रही थी तो मुझे तैयार होने मे मज़ा भी आ रहा था और साथ ही होने वाली चुदाई का रोमांच मेरी चूत को बार बार गीला कर रहा था।मैंने अपने आप को एक माल बना लिया था जिसे देखकर धीरू अंकल का पैन्ट में ही पानी निकलने वाला था.

मारवाड़ी सेक्सी पिक्चर भाभी

आश्चर्य की बात तो यह थी कि रागिनी को चोदते समय निकलने वाला मेरा वीर्य, इस समय कुछ ज्यादा ही मात्रा में निकला था जिससे भाभी की पूरी चूत लबालब भर गई थी. सेक्सी पाठवा व्हिडिओउसने उत्सुकता से पूछा- आप मेरा हाथ भी देख लेंगे?मुझे लगा कि मेरा प्लान सही दिशा में जा रहा है.

मैंने बाहर देखा तो पीहू अपने शरीर में तेल लगा कर मालिश कर रही थी और मम्मों को अपने हाथ से दबा रही थी. सेक्सी पिक्चर देसी लड़कीमैंने एक हाथ से विजय के लंड को निक्कर के ऊपर से पकड़ लिया और उसको मसलने लग गई.

लण्ड चूंकि लंबा था अतः लोअर में सीधा नहीं हो रहा था फिर भी आँटी की चूत पर अड़ गया था.एक्स एन एक्स एक्स बीएफ सेक्सी: मैंने कभी अपने पति का लौड़ा मुँह में नहीं लिया था लेकिन अंकल को लौड़ा चुसवाना बहुत अच्छा लगता था.

इस बार कॉलेज का एक टूर्नामेंट वाराणसी से दूर एक गांव में हो रहा था.ललिता भाभी की रफ्तार अचानक तेज हो गई और उसकी चूत ने जल्दी पानी छोड़ दिया.

सेक्सी वीडियो ब्लू फिल्म देहाती - एक्स एन एक्स एक्स बीएफ सेक्सी

गेट वे ऑफ इंडिया, मरीन ड्राइव, जूहू बीच चौपाटी होते हुए एक मॉल में आ पहुंचे, जहां मनीष के एक मित्र भावेश भाई का शोरूम था.ललिता भाभी की गांड अब पूरी खुल चुकी थी और लंड आसानी से अन्दर बाहर हो रहा था.

गोलगप्पे की तरह फूली हुई मेरी बुर में अपना थूक लगाते हुए वो मुझसे बोले- बोल? तैयार है न तू?मैं भी उस वक्त बहुत गर्म हो गई थी. एक्स एन एक्स एक्स बीएफ सेक्सी खैर … शायरा तो शायद आज भी घर पर ही रहने वाली थी, मगर मैं कॉलेज आ गया.

मैंने कहा- मजा नहीं आया क्या?मम्मी बोलीं- बहुत ज्यादा मजा आ रहा है यार!मैंने अपना लोवर निकाल दिया और देखा वो मेरा लंड देखने की कोशिश कर रही थीं.

एक्स एन एक्स एक्स बीएफ सेक्सी?

मैंने अदिति की चूचियां मसलते हुए कहा- देखो अदिति, मेरा लंड तो पहले से ज्यादा ज्यादा और लंबा हुआ ही है लेकिन तुम्हारी चूत भी एक साल तक ना चुदने की वजह से कुछ सिकुड़ गयी है. जैसे ही मैंने उसकी चूत से लंड को बाहर निकाला तो उसने मेरे लंड को मुंह में ले लिया. शादी के 12-15 दिन बाद वो मुझे भी शादी करने के लिए समझाने लगी मतलब उसने अपना इरादा बदल दिया था, पर वो अभी भी मेरे साथ यौन संबंध रखना चाहती थी.

कुछ ही देर में आँटी के निचले हिस्से में हरकत हुई और आँटी ने अपनी जांघों के हिस्से से मेरे लण्ड पर दबाव बना दिया. फर्क सिर्फ इतना है कि गुलाब मधुमक्खी को शहद देता है और चूत, लंड से सफेद शहद यानि वीर्य लेती है. वो गपागप … गपागप … लंड चूस रही थी।मैंने 2 उंगलियों से चोदना शुरू कर दिया.

मैंने बोला- अभी बहुत कुछ बाकी है मेरी जान … अभी तो तुम इसी तड़प के साथ रोमांस फील करो. वो रात में कभी कभी वीडियो कॉल करती, तो अक्सर नंगी होती या फिर उसका पति उसके साथ संभोग कर रहा होता था. उसके बाद सनी ने मेरे मुंह में लंड देकर चुसवाया और उसका लौड़ा फिर से पूरा सख्त हो गया.

लंड चूसते चूसते जब काफी देर हो गई, तो अंकल ने अचानक मुझे अलग किया और खड़े हो गए. उनके घर गया तो पता चला कि उनका पति एक हफ़्ते के लिए किसी काम से बाहर गया है.

दिव्या मेरी जान … कल जबसे तुम्हें देखा है, तब से तुम्हें चोदने का मन कर रहा है.

कुछ देर तक तो हम शर्म से बैठे देखते रहे, पर जैसा कि हम सभी औरतें ही थीं, तो हमारे बीच में ज्यादा देर शर्म नहीं रही.

लेकिन जैसे जैसे मैं बड़ा होता गया, मेरा मन उनको चोदने को होने लगा था. कुछ झटकों बाद मैं उसकी गांड में झड़ा तो उसने अपनी गांड भींच ली और लंड को पूरा निचोड़ लिया. उसकी बुर बहुत टाइट थी, आधा लण्ड अन्दर गया लेकिन सोनल कराहने लगी थी.

दूसरी तरफ ममता भी अपना मुँह खोल कर ज़्यादा से ज़्यादा मेरे लंड को मुँह में लेकर चूस रही थीं. पापा के अन्दर आते ही मैं अपने मम्मों को साबुन लगाने लगी और अपने चेहरे पर भी साबुन लगा लिया ताकि पापा पूरी तरह अपनी आंखें सेंक सकें. तो मैंने सोचा कि यह आदमी 8 बजने का ही इन्तेजार कर रहा था क्या?मैंने जैसे ही दरवाजा खोला … वो मुझे देखकर जैसे कहीं खो गए और बहुत देर तक मुझे ऊपर से नीचे तक घूरते रहे.

अपने लंड को सहलाते हुए मैंने कहा और मेरी सास भी मेरी हरकत देख रही थी.

मैं उसके चेहरे को निहार रहा था और अपनी उंगलियों से उसके चेहरे पर आए बालों को हटा रहा था. उसने मेरा सर पकड़ लिया और अपनी गांड ऊपर उठाते हुए मेरे मुँह पर चुत अड़ाने लगी. जब सुबह हम दोनों उठे तो बेड के हाल देख कर हम दोनों की हालत ख़राब हो गई.

सुरेश साला एक तगड़ा मर्द था और हर तरह से डील डौल में भी उसका कोई मुकाबला नहीं था. रचना अब गर्म होने लगी, उसकी कामुक आवाजें मेरे कानों में गूंज रही थीं. मगर हम दोनों अभी भी व्हाट्सएप पर सेक्स चैट करते हैं तथा जब भी समय मिलता है, हम एक दूसरे के फ्लैट पर आकर प्यार और चुदाई कर लेते हैं.

रीना के गोल गोल चूतड़ों के बीच गहरी फंसी चौंतीस इंच नाप की जालीदार लाल पैंटी में सिर्फ़ सामने एक पान बनाया हुआ था और ब्रा में कैद चुचों के सिर्फ़ चूचुकों को ढका गया था … इस जालीदार ब्रा पैंटी के सैट ने उसके पूरे नंगे जिस्म पर चार चांद लगा दिए थे.

भैया ने मेरा सर पकड़ लिया और कहा- अब तू चूस!बस भैया ने जोर से झटका मारा और लॉलीपॉप का आगे वाला हिस्सा मेरे मुँह में चला गया, जिससे मेरा मुँह में दर्द होने लगा. हम दोनों एक दिन जब डिनर ले रहे थे तो शेखर जी बोले- यह भूरा आपका बड़ा अहसानमंद है.

एक्स एन एक्स एक्स बीएफ सेक्सी अगले दिन मैंने अपने घर के काम किए और जब पति काम पर चले गए तब मैंने ऑटो वाले के लंड को याद किया और बाथरूम में चली गई. जब मैंने उसका चेहरा देखा तो रचना रो रही थी, उसकी आंखें लाल हो गयी थीं.

एक्स एन एक्स एक्स बीएफ सेक्सी फिर उसने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरी गांड के छेद में अपनी जीभ से मजा देने लगा. आपा- पागल बूब्स मत बोल, चूची बोल … बूब्स में वो फीलिंग्स नहीं है, जो चूची कहने में है.

नहाते वक़्त मैं दिव्या के नाम की मुठ मारने लगा और ज़ोर ज़ोर से आहें भरने लगा.

बीएफ फिल्म एक्स एक्स एक्स

उसने फिर से गाली देना शुरू कर दिया- भोसड़ी वाले, समीना क्या क्या बोलती थी तेरे बारे में … और तू इतनी जल्दी बह गया मादरचोद … अपनी बहन को घर से चोद कर आया था क्या … जो बह गया. उसने आंखें बंद कर उसे पहले सूँघा और एकाएक गिलास अपने मुँह में लगाते हुए पूरा का पूरा वीर्य अपने मुँह के अन्दर करके पूरा गटक गई. मैंने कई बार अपने इस शौक के कारण बड़े मजे भी लिए हैं और इसी शौक ने मुझे कई किस्म के लंड भी दिलाए हैं.

अगले 4-5 धक्कों में वो झमाझम झड़ती रही। फिर वो थोड़ी शांत हो गयी लेकिन मेरे धक्के जारी रहे. सोनी की चूत से कुछ खून जैसा बह रहा था हालाँकि वो काफी कम मात्रा में था. अगली सेक्स कहानी में आपको समीना के साथ ब्लोजॉब और अनल सेक्स के बारे में लिखूंगा, जो कि उसका पहला अनुभव था.

संजू ने ये देखा तो मजा लेते हुए विक्रम को अपने पास बुलाया और देखा उसके लंड पर अभी भी उसका गाढ़ा वीर्य लगा हुआ था.

आप कितना भी बचिए लेकिन विपरीत लिंगी के लिए प्रेम के साथ कहीं न कहीं वासना दबे पैर आ ही जाती है. इससे अनामिका जैसे पागल हो उठी और सीत्कार भरते हुए बोली- आह जीजू … चूस लो अपनी जान के रसील आम … आपको बहुत पसंद हैं ना … आह पूरा रस निकाल लो. मैं अधखुली आंखों से देख रहा था कि मेरी बीवी सरदार का पूरा लंड मुँह में ले जा रही थी और बड़े प्यार से चूस कर पूरा बाहर निकाल रही थी.

तभी बाथरूम से शैली ने आवाज लगाई- ईशा तू आ गई?ईशा आई थी, वो खाना देकर वापस चली गई. भाभी इस बात को जानती थीं तो उन्होंने मेरे लंड को चूस चूस कर फिर से खड़ा कर दिया. बाप बेटी सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरा भाई मम्मी को चोद चुका था, मैं भी पापा के साथ सेक्स करना चाहती थी.

मैंने उसके मम्मों पर संतरों का रस भी निचोड़ दिया और फिर से गर्दन को चूसते चूसते मम्मों को चूसने लगा, उन्हें जोर जोर से दबाने लगा. यह बड़ी बहन चुदाई कहानी हिंदी तब की है, जब अम्मी एक दिन किसी रिश्तेदार के घर शादी में गयी थीं.

मैंने कहा- भैया ऐसी भी कोई लॉलीपॉप होती है … जिसे चूसने के बाद है मस्त नींद आ जाती है!भैया ने कहा- हां ऐसी यह बड़ी वाली लॉलीपॉप होती है जिसे चूस कर तुम्हें बहुत अच्छी नींद आएगी. आपको मेरी ये हिंदी सेक्स सेक्स Xxx कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करना न भूलें. फिर अचानक से मैंने उसे रोकते हुए कहा- बस अब और नहीं, अब तो चोद ही दो मुझे … अब मैं और नहीं रुक सकती.

अब आगे भाभी सेक्स पोर्न कहानी:थोड़ा रुककर मैंने धीरे से धक्का मारना शुरू कर दिया, अब वो भी चुप थीं.

लंड चूत में अन्दर बाहर होने से पचा पच पचाक पच पच पचाक पच की मादक आवाजें बेडरूम में गूंजने लगी थीं. वह कहने लगी- राज! ऐसे तो बहुत मज़ा आ रहा है, तुमने … यह … सब कहां … से सीखा? क्या … तुम्हारी चाची ने … सीखा दिया क्या?अब मैं उन्हें क्या बताता कि चाची मुझे इस काम में ट्रैंड कर चुकी थी. हम दोनों घर आकर मस्ती करने लगे और उसे एक बार पूरी मस्ती से चोद कर मैं अपने घर निकल गया.

मैं आँटी से उम्र में काफी छोटा था लेकिन कद काठी में आँटी और अंकल दोनों से मजबूत था. मेरे लंड में ना जाने कहां से पहली बार इतना पानी निकला था कि मुझे विश्वास नहीं हुआ.

मैंने कहा- तुम कुछ मदद करो न!मां बोली- मैं भी चाहती हूँ सब खुल कर हो … पूरा परिवार मज़े ले. मैंने मोबाइल के सामने देखा और जोर से बोल उठी ताकि मोबाइल में मेरी यह आवाज साफ रिकॉर्ड हो जाए- विजय, मुझे तुम्हारा लंड चूसना है. साथ ही मेरी तेज और कामुक उत्तेजना से भरी आवाजें भी गूंजने लगीं- उफ़्फ़ यस आई लाइक इट … ओह्ह आह उह उफ़्फ़ मम्मी मर गई … आह उफ़्फ़.

बीएफ पिक्चर देखने वाली बीएफ

जय ने पीछे से मेरी गांड में लंड धकेल दिया था और मुझे बहुत जोर का दर्द हुआ.

पुरुष शुरू से ही काम-वासना से पीड़ित रहा है, ना जाने कितने रजवाड़े इस वासना की आग में जल गए। स्त्री अगर रतिरूप है तो वो ज्ञानपुंज भी है।स्त्रियों ने सदैव पुरुषों को मार्गदर्शित किया है. घर के मेनगेट को खोलकर मैं अब कुछ देर ऐसे ही नीचे घूमता रहा, फिर वापस ऊपर आ गया. उसी दिन मैंने रात को राकेश को बांहों में भर लिया और कहा कि आप टेंशन मत लो.

धीरे धीरे करके आंटी मेरे लौड़े पर आ गईं और हल्के से लंड पर किस कर दिया. ये उसका घर है? तू मरवाएगा क्या मुझे … अगर वो आ गयी तो जानते हो क्या होगा?”मैंने अभी तक ममता को बताया नहीं था कि ये किसका घर है, इसलिए उसने थोड़ा डरते हुए कहा. सेक्सी वीडियो गांड में डालने वालीमगर मैं कहां मानने वाला था … मैंने सारिका की टांगों को जबरन अलग अलग कर दिया और धीरे धीरे से उसकी चुत पर जीभ घुमाने लगा.

आपको जितना मज़ा चूत मरवाने में आएगा, उससे ज्यादा गांड मरवाने में आएगा. मेरे कहने पर उसने शर्मिंदगी में अपनी जीभ बाहर निकाली और कुत्ते की तरह गर्दन को ऊपर नीचे करके हामी भरी.

इतना टाइम में मेरा लंड प्रीकम छोड़ चुका था, मगर दम साधे मैं लगा रहा. यह बात अभी से लगभग 2 साल पहले की उस वक्त की है जब मैंने पहली बार अपनी सौतेली मम्मी की चुदाई की थी. फिर मैंने डॉक्टर साहिबा को बोल दिया कि जैसा आपको सही लगे, कर दीजिएगा.

सफ़र सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं ट्रेन से जाते समय मुझे सीट नहीं मिली. वो मेरे कंधे को गीला करती रही!मैं- ज़ारा! मेरा वो मतलब नहीं था!ज़ारा- तो क्या मतलब था?मैं- पहले नॉर्मल हो जाओ!उसे उठाकर मैंने सोफे पर बिठाया और उससे कुछ दूरी बनाते हुए मैं भी बैठ गया. सेक्सी लंड से चुदाई कहानी में पढ़ें कि पड़ोस में आये परिवार का एक जवान लड़का मुझे पसंद करने लगा.

अचानक संजू नीचे से अपने कमर उचकाने लगी, मतलब उसका दूसरी बार झड़ने वाली थी.

उसने भी सोनी को पापा से बात करने को बोला और खुद भी उसका साथ देने या बात शुरू करने को भी तैयार था. मेरे दिमाग में खुराफात सूझी, तो मैंने उन दोनों बाबाओं से कहा- बाबा जी मेरा हाथ देख कर बताइए न कि मेरी शादी कब तक होगी?इस पर दोनों बाबाओं ने एक दूसरे को देखते हुए कुछ इशारा किया.

चुदाई की तो मुझे भी जल्दी हो रही थी इसलिए मैंने देर ना करते हुए उनकी चूत पर लंड सैट किया और एक झटका दे मारा. आज भी वो माँसल नितंबों का घर्षण वैसा ही था जो किसी भी पुरूष का पुरूषत्व हिला दे।वो इठलाती हुई रसोई में चली गई. कुछ मिनट के आराम के बाद मैं सर उठाकर अदिति को देखने लगा तो वो आंखें बंद करके लेटी थी.

तभी भाभी रूम में आ गईं और मुझे जागा देख कर मेरे होंठों पर किस करके मुझे अपने फ्लैट में जाने को बोलीं. उस दिन मैंने अपने ऑफिस से छुट्टी ले ली और अगले 3 दिन तक घर पर ही रहा. मैं- कल्लू कौन? कब?शेखर- अरे प्रेमा, वही औरत जिसकी भूरा उस दिन चुदाई कर रहा था रसोई में! तुम आवाज न देते तो दोनों पकड़े जाते.

एक्स एन एक्स एक्स बीएफ सेक्सी फिर बातों बातों में हम दोनों गर्म हो गये और करिश्मा भाभी को मैंने नंगी कर लिया. मैंने चूत के दाने को चूसना शुरू कर दिया और 5 मिनट में ललिता भाभी की चूत का झरना बहने लगा, जिसे मैं पी गया.

इंग्लिश बीएफ सेक्सी चोदा चोदी

अब वो जॉब पर भी जाने लगी थी तो अब हमारा मिलना भी सिर्फ शनिवार या रविवार को ही होने लगा. और जब हम दोनों के नंगे शरीर एक दूसरे से टकराये तो मैं आपको बता नहीं सकता कि मुझे कितना आनंद आया. मैं एक दोस्त के साथ एक दिन के लिये रुक गया था क्योंकि वह मुझे स्टेशन पर लेने आया था.

जल्द ही वो झड़ गई मगर मैं लंबी दूरी का घोड़ा था … मैं बस उसे चोदे जा रहा था. रूचिका आंटी ने पापा को एक लिपकिस करते हुए कहा- मेरी गांड तैयार है मेरे जानू … बस जरा आहिस्ते से मेरी गांड में अपना लंड पेलना. बीपी सेक्सी बीपी बीपी सेक्सी बीपीकोई और लड़की तो होगी ना?इतने में वो बोली- सॉरी मेम, अभी कोई फ्री नहीं है। आप कल आओ!इस पर मुझे बहुत तेज गुस्सा आया। और आये भी क्यों ना … आज मेरे भाई के साथ मेरी सुहागरात थी।और ये नखरे दिखा रही थी।मैं उसे गुस्से में डांटने लगी। वो बार-बार रिक्वेस्ट किये जा रही थी और मैं सुनने को तैयार नहीं थी।इतने में वहाँ का ओनर आ गया।फिर वो रिसेप्सन्नीस्ट बोली- सन्नी सर आ गए.

”उन्होंने मेरी कमर को दोनों हाथों से थामा और अचानक से एक जोरदार शॉट दे मारा.

इतने में वो खिलखिला कर हंस पड़ी और बोली- कभी किसी लड़की के कबूतर देखें हैं आपने?मैंने कहा- नहीं. तभी उन्होंने लंड फिर से मुँह से निकाल कर मेरी टांगों को अपने कंधों पर रख कर मेरी गांड में डाल दिया और फिर से मेरी गांड मारने लगे.

मैं और अनामिका साथ में दीवार के सहारे फर्श पर शॉवर के नीचे बैठ गए थे. शायरा को देखकर तो लगता था कि उसका पति कोई बहुत ही सुन्दर और हैंडसम होगा, मगर उसका पति तो थोड़ा मोटा और सांवला था, जिसका पेट भी बाहर निकला हुआ था. लंड को बुर में लेने में उसे तकलीफ़ हो रही थी लेकिन वो चुदना भी चाह रही थी.

बीवी बोली- वो सब तो ठीक है, मगर मुझे लग रहा है कि उसे पैसों की नहीं बल्कि हमारी बेटी की जरूरत है.

फिर उन्हें बिस्तर पर लिटा दिया और उनका लंड फिर से चूसना शुरू कर दिया. मगर प्लीज जबरदस्ती मत करना और ऐसा कोई काम मत करना जिससे कल को तुम्हारी बदनामी हो।मैसेज पढ़ते ही मेरे चेहरे पर मुस्कुराहट आ गई। मैंने मन ही मन शशि को धन्यवाद दिया. कुछ देर बाद मैंने उसकी चूचियों से लंड निकाला और उसके ऊपर से उठकर खड़ा हो गया.

सेक्सी भोजपुरी एक्स एक्ससमीना भी चुदाई का ये रंगीन नज़ारा देख कर अपनी चूत में उंगली कर रही थी. मैं उससे बस ‘आप आप’ कहके ही बात करता रहा ताकि उसे ऐसा ना‌ लगे कि मैं उससे कुछ ज्यादा ही चिपक रहा हूँ.

रोमांटिक गाना सेक्सी

अब आगे गे स्टूडेंट वर्जिन गांड स्टोरी:मुझे वो सब देख कर अजीब सा नशा छाने लगा जबकि अंकल लंड सहलाते हुए मेरे बगल में आकर बैठ गए. उन हाथों पर अपने हाथ फिराते हुए कहा- हेड आफिस से तीन इंटर्न रखने की मंजूरी आई हुई है और उनको मैंने ही रखना है. मेरे मुँह से गालियां सुनके उसने गर्दन ऊपर की और हंसकर मेरे तरफ देखते हुए मेरा लंड किसी रंडी की तरह चूसने लगी.

[emailprotected]लेखक की पिछली कहानी थी:दोस्त की प्यासी बीवी को उसी के सामने चोदा. फिर बातों बातों में हम दोनों गर्म हो गये और करिश्मा भाभी को मैंने नंगी कर लिया. मैंने कई बार अपने इस शौक के कारण बड़े मजे भी लिए हैं और इसी शौक ने मुझे कई किस्म के लंड भी दिलाए हैं.

इस सबका मैंने क्या क्या जुगाड़ किया और किस तरह से अनन्या को पूरी चुदक्कड़ बना दिया, इस सबका विवरण फिर किसी और दिन किसी नई सेक्स कहानी में लिखूंगी. जिस हिसाब से भाभी खुल कर बात कर रही थी तो मुझे लग भी रहा था कि भाभी चुदने के इरादे से ही आयी हैं. इसके तुरंत बाद उसने अपना लंड का टोपा मेरी गांड के छेद पर रख दिया और लंड गांड में पेल दिया.

अगले भाग में इस जवान लड़की की सेक्सी कहानी में क्या हुआ, वो लिखूंगी, आप मेल जरूर कीजिएगा. वो भी मुस्कुराते हुए मेरी पास आई, तो मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपनी गोद में बिठा लिया.

सुमंत, महंत और अर्चना, पहली बार अनु से मिलकर बहुत खुश हो गए क्योंकि अनु दीदी बहुत मिलनसार और सेक्सी माल हैं.

नहीं तो मैं तुम्हारे मुँह में नहीं अपना पानी निकाल दूँगी।मैंने कहा- भाभी आने दो पानी को, मैं तुम्हारा नमकीन टेस्टी पानी पीना चाहता हूँ।और फिर मैं और जोर जोर से भाभी की चूत चाटने लगा. हिंदी सेक्सी पिक्चर पिक्चरनहाते वक़्त मैं दिव्या के नाम की मुठ मारने लगा और ज़ोर ज़ोर से आहें भरने लगा. मां बेटा का सेक्सी देहातीमुझे लगा कि मेरे गीले बालों को देखकर कई लड़कों के लंड से पानी तो निकल ही गया होगा. आज मैं आपका अपना तरुण कुमार, आपके सामने अपनी एक सच्ची आपबीती को एक सेक्स कहानी के रूप में सामने रख रहा हूँ.

मैं जानता था कि अगर मैं एक कदम आगे लूंगा तो वो भी फिर चुदने के लिए आराम से तैयार हो जायेगी.

मनोज ने मुझको देखा तो एकदम से बोल उठा- जान, तुम तो बहुत खूबसूरत हो. हम दोनों ने अपने अपने कंबल ओढ़ लिए क्योंकि बस में बहुत ठंडक हो गई थी. मैंने उसकी पूरी साड़ी निकाल कर फेंक दी, साथ ही पेटीकोट भी निकाल दिया.

काफी देर तक समीना को एक ही पोजीशन में चोदने के बाद मैंने पोजीशन बदलने को कहा. उन्होंने मुझे फिर से गाल पर चुम्बन किया और मेरे होंठों से अपने होंठ चिपका दिए. लेकिन तुम बड़े उतावले हुए जा रहे हो … तुम मुझसे प्यार करते हो या मेरे साथ यह सब कुछ करना चाहते हो?विजय बोला- नहीं शालू, ऐसी बात नहीं है … मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं, और दिल से तुम्हारी बहुत इज्जत करता हूं.

सेक्सी बीएफ लोड करने वाला

आँटी ने आँखें बंद किये किये अपने दोनों हाथ मेरी कमर पर कस लिए और लण्ड के ऊपर अपनी चूत को धीरे धीरे हलचल करते हुए रगड़ने लगी. हम दोनों घर आकर मस्ती करने लगे और उसे एक बार पूरी मस्ती से चोद कर मैं अपने घर निकल गया. मैंने उसके ब्राउन कलर के निप्पलों को काट काट कर लाल कर दिया और उसके मोटे मोटे मम्मों के ऊपर अपने प्यार के निशान बना दिए.

मैंने धीरे धीरे उसकी मैक्सी ऊपर कर दी और उसकी जांघों को सहलाने लगा।मैंने कहा- आंटी, आपको गर्मी नहीं लग रही क्या?वो बोली- लग रही है.

मैंने उसकी ब्रा उतार कर फेंक दी और उसके बूब्स मसलने लगा।अब उसके हाथ मेरे लौड़े पर आ गए.

ज़ारा- तभी तो मेरी सारी बातें मान लेते हो!मैं- अच्छा चलो ठीक है, रात में करेंगे चुदाई! जबरदस्त वाली!ज़ारा- आपसे कान खुश करवा लो बस!मैं- पक्का!ज़ारा- छोड़ो भी!मैं- वादा!ज़ारा- मुकर तो नहीं जाओगे?मैं- नहीं मुकरुंगा जान!अब वो हुयी थोड़ा पीछे और मेरे गाल पर चूम लिया तो मैंने भी उसे चूमकर रात की चुदाई पर मोहर लगा दी. कोई जवाब नहीं आया।मैं सीधा उसके रूम पहुंचा तो वो वहां भी नहीं थी।मैंने उसे फ़ोन लगाया वो बोली- राज मैं बाहर आई हुई हूं, आज तुम घर मत आना. सेक्सी फिल्म बिहारी सेक्सीफिर मैं भी उसके बूब्स दबाने लगा।वो मस्ती में लंड को चूसती जा रही थी.

फिर बिना कुछ कहे मेरे होंठ उसके प्यारे लाल सुर्ख होंठों से टकरा गए और हम दोनों एक दूसरे को ऐसे चूमने लगे जैसे कि ये पहली और आखिरी बार का प्यार हो. उसने मुझे इतनी जोर से भींचा कि उसके हाथ में दबोचा हुआ तकिया की रुई फटकर बिखर गई थी. सनी का लंड मेरी गांड में पूरा उतर गया और वो नीचे से जोर जोर के धक्के देने लगा.

स्नेहा मन में सोचने लगी- हम्म … तो ये बात है, दीदू थकान का नाटक करके रात भर गपागप लंड पेलवाती रही अपनी भोसड़ी में, अभी बताती हूँ. मेरी कहानियों के बीच में इतना लम्बा अन्तराल आने के लिए मैं आपसे क्षमा चाहता हूं.

चलो अभी तो अपने कपड़े उतारो, मैं तुम्हारी चुत का पूरा इंतज़ाम करके ही आई हूँ.

फिर उसकी ब्रा को खोलकर चूचों को आज़ाद कर दिया। उसके चूचे मानो मुझे निमंत्रण दे रहे थे कि आओ शौर्य आज इन्हें दबा दबा कर इनका दूध निचोड़ डालो।ब्यूटी ने मुझसे कहा- शौर्य अब मैं तुम्हरी रंडी हुई, मुझे तृप्त कर दो मेरे सैयां जी।मैं उसकी चूचियों को चूसने लगा. हम दोनों के पास एक ही बर्थ थी तो उसने उसी पर एक साइड में बैग को लगा लिया. रेशमा ने भी उतनी ही शिद्दत से मेरे चुम्बन का उत्तर देते हुए अपनी जीभ मेरे मुँह में देकर रोक दी.

देहाती सेक्सी पिक्चर हिंदी वो कुछ झिझकी मगर फिर तुरंत लिंग को मुँह में ले लिया।वो धीरे-धीरे मुझे मदहोश कर रही थी. शायरा ने पता नहीं‌ क्या कर दिया था कि वो मेरे दिमाग से निकल ही नहीं रही थी.

मैं जब किसी वजह से न आ पाता तो मेरे पास गांव में मेरे निवास पर पहुंच जाते थे. धीरे धीरे दारू का सुरूर मेरे ऊपर छाने लगा तो मैं रेशमा से कहा- एक बार चख़ तो लो जानेमन … मज़ा करना ही है, तो खुलकर करो. वो बोली- आज रात यहीं रुकूंगी, फिर मैं कल सुबह की फ़्लाइट से दिल्ली चली जाऊंगी.

बीएफ एक्स एक्स एक्स हिंदी में

फिर तो बस एक पल एक दूसरे की आंखों में देखा और अगले ही पल हम दोनों एक दूसरे के होंठों को जोर जोर से किस करने लगे. भाभी टांगें फैला कर ज़ोर ज़ोर से ‘आआ हहहा आह आआहा आआ अह्ह्ह्हा अ राजा जी … चूस लो आह. मैं बुदबुदाता हुआ कराह रहा था- आअहह रंडी सतवंत … चूस मेरा लौड़ा आज़ा साली आअहह.

”मैंने अपने बैग में से बियर के दो कैन निकाले और सोनल से गिलास लाने के लिए कहा. अब वो नीचे झुक कर मेरा लंड अपने मुँह में भरकर मस्त ब्लोजॉब देने लगी.

रूम में ही एक चार फिट की दीवार बनाकर एक बाजू आने जाने को रास्ता कर रखा था और इधर बेडरूम बनाया था.

उसके बाद रवि ने अपनी लंड सनी के लंड के साथ सटाकर मेरी गांड में घुसाना शुरू कर दिया. मैं वहां से आ गया लेकिन मैंने आज भाभी के चेहरे पर वो सामान्य मुस्कान की बजाय कामुकता वाली मुस्कान देखी. लेकिन एक दो दिन देखने के बाद मुझे लगा कि ये लौंडिया शायद उम्र में मुझसे काफी छोटी है.

कुछ देर की मस्ती के बाद उससे रहा नहीं गया और उसने अपनी एक टांग को अपने लोअर बाहर निकाल दिया और मेरे लंड में थूक लगा कर मेरे ऊपर चढ़कर बैठ गयी. वो दोनों नवविवाहित थे और मेरे फ्लिअत के साथ लगते एक डबल बेडरूम फ्लैट में रहने आये थे।24 वर्षीय वैभव और मैं वैसे तो हमउम्र थे मगर उसकी शादी मुझसे पहले हो गयी थी. प्लीज़ मेरी ट्रेन हॉट सेक्स कहानी पर में अपने विचार मेल करना न भूलें.

जैसे ही मुझे उनके वापस जाने की बात मालूम हुई; तो मेरे मुँह से एकदम से निकल गया- आप चली जाओगी, तो फिर मेरा भी पार्क आना बंद हो जाएगा.

एक्स एन एक्स एक्स बीएफ सेक्सी: मेरी गुप्त फेंटेसी के बारे में किसी को नहीं पता था कि मैं बॉन्डेज सेक्स और मर्दों पर राज करने जैसे शौक भी रखती हूं. उसकी दोनों टांगों को ऊपर उठा कर खुद उसकी दोनों टांगों के बीच में आ गया.

उसने मेरी एक खूबसूरत सहेली को देखा तो …नमस्कार दोस्तो, मैं सारिका कंवल आज फिर से आपके लिए एक रोचक लेस्बियन सहेली की कहानी लेकर प्रस्तुत हूँ. अपनी बेटी के इस कामुक आलिंगन को देखकर मेरे लंड में झटके लगने लगे थे और सोच रहा था कि अब सोनी छोटी नहीं रही, वो तो औरत बनने के ख्वाब सजाये हुए है और उसका ये ख्बाव आज मेरे दोस्त के मोटे लंड से चुदकर पूरा भी होने जा रहा है।वैसे तो इससे पहले वो इन सब चीजों से अनजान थी लेकिन एक मर्द के हाथ का स्पर्श औरत को खुद ही लाइन पर ले आता है और वो स्वयं ही सब कुछ उसके सामने खोलकर रख देती है. उसके माँसल नितंबों के बीच से लिंग अंदर-बाहर जाना मुझे रोमांचित कर रहा था। जिन नितंबों की कल्पना में मैंने कितनी बार वीर्य बहाया था, आज उन दोनों माँसल नितंबों के ऊपर मेरा अधिकार था.

निर्मला जी सुन्दर महिला हैं, वो सोसाइटी के मार्किट में ब्यूटी प्रोडक्ट्स की शॉप चलाती हैं.

इन्द्रेश अंकल ने अपनी बीवी रूचिका आंटी को लिप किस करते हुए कहा- डार्लिंग, हमारी बेटी और बहू भी चुदने के लिए आ रही हैं … क्या करें? लंड तो कम पड़ जाएंगे. आँटी ने चूत में हाथ डाला तो हाथ लार से चिकना हो गया था जिसका अर्थ था कि चूत से रस डिस्चार्ज हुआ था. और इस बीच अंकल के लंड को याद करके एक बार चूत में उंगली भी डाल ली और पानी भी निकाल लिया.