बांग्ला बीएफ देसी

छवि स्रोत,सेक्सी गाने भेजिए

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी सैक्स विडियो: बांग्ला बीएफ देसी, मैं उठकर दरवाजा बंद करके बिस्तर पर आ गया और मैंने भाभी की साड़ी पेटीकोट को उतार दिया.

वायरल वीडियो 2020

बाहर आते ही समीर का लंड मैंने मुँह में ले लिया और चूस कर उसका पानी निकाल कर पी लिया. सील पैक लड़की कीनंदा बोली- तू ये मांसाहारी कब से हो गयी?रुचिका बोली- एक बार खाओगी तो दूसरी बार खुद इच्छा करोगी.

अब मैंने उसके सिर को पकड़ा और जोर-जोर से लंड को ऊपर-नीचे करने लगा और अगले ही पल मैं झड़ गया. मुझे चोदा चोदीकहानी के तीसरे भागअजनबी लड़की के घर में सेक्स का मजामें अब तक आपने पढ़ा था कि हम दोनों नंगे थे और बिस्तर पर चुदाई की तैयारी कर रहे थे.

मेरी मौसी के बेटे बेटी हमारे घर आये तो ममा ने उन दोनों को आपस में किस करते देख लिया.बांग्ला बीएफ देसी: अन्तर्वासना की स्टोरी पढ़ कर लंड को हिलाया, उसका पानी निकला, फिर सोया.

मुझे चोदने वाले मर्द का लंड मुझे पसंद आना चाहिए और उस वक्त मेरी चूत में आग लगी होनी चाहिए.मैंने अपना सर उसके कंधे पर रख दिया, तो सोनाली ने मुझे अपनी बांहों में कस लिया.

चोदा चोदी बताओ - बांग्ला बीएफ देसी

दारू पीते हुए वो वेटर बोला- मेरे स्टाफ के साथी चार लड़के मेम से मिलना चाहते हैं.अब बात शै की थी कि क्या हम दोनों मियां बीवी की औलाद की ख्वाहिश वो शै के जरिये पूरी हो रही है.

मैंने थोड़ी देर में ही फोन किया तो मिहिका ने फोन उठाया और बोली- हैलो, कौन बोल रहे हो!मैं बोला- राज. बांग्ला बीएफ देसी मैं खून से लथपथ बुर चोदने का मजा लेते हुए तेज गति से हचक हचक कर चोद रहा था.

कुछ देर बाद मास्टर ने अपने लंड को फिर बाहर खींचा और उन्हें घुमा कर डॉगी पोज में कर लिया.

बांग्ला बीएफ देसी?

अब हम दोनों के अलावा कोई तीसरा है क्या … जो हमें देखेगा?नीता तैयार हो गयी. मैंने सोनू से पूछा- ये कौन है?तो उसने बताया ये आंटी पड़ोस में ही रहती हैं. मैं हर उस पल में, जब वो मेरी कामपाश में बहना चाहती थी, अपना एक कदम आगे बढ़ा देता.

अच्छा रूचि कैसा लगा मेरा ये दोस्त?रुचिका बोली- मम्मी, आप भी कमाल की चीज हो. मुझे शारीरिक सुख अभी तक किसी ने नहीं दिया था, न ही मैं किसी लड़की के संपर्क में था. एक हाथ से लंड और दूसरे हाथ से मेरे टट्टे सहलाते हुए रेशमा की जीभ मेरे सुपारे की जबरदस्त तरीके से मालिश करने लगी.

कभी वो मुझको कुर्सी पर उल्टा करके मेरी गांड मारने लगता तो कभी मुझको खड़ा करके पीछे मेरी गांड में लंड ठोक देता तो कभी नीचे झुका कर मेरी गांड मारता. कहानी के पिछले भागबहन की चुदक्कड़ जेठानी की बेटी चोदीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैंने नंदा की बड़ी बेटी रुचिका की धमाकेदार चुदाई कर दी थी और आज रात उसे अपने लंड का गुलाम बना देना चाहता था. मम्मी पापा को जब भी मौका मिलता है, ऊपर वाले कमरे में जाकर मॉम डैड सेक्स करते हैं.

वो मुझे बिल्कुल नोंचे जा रही थी और मैं भी उसके जोश का जवाब अपने जोश से दे रहा था. मैं कभी होंठ चूसने लगता, तो कभी उसके मम्मों को मुँह में भरके चूस लेता.

बहुत कोशिश करने के बाद जब उसका लंड मेरी चूत में नहीं गया तो मैंने उसके लंड को खुद ही अपनी चूत के छेद में लगा दिया.

पर अब समझ आया कि सबकी अपनी जरूरत होती है, अपनी लाइफ के मजे लेने ही चाहिए.

उसने मुझे कार जल्दी वापस लाने को कहा था, उसे किसी जरूरी काम से बैंक जाना था. मैं उसके लंड को अपने हलक में भर कर चूस रही थी और तब तक दूसरे बाबा ने मेरी चूत पर अपना लंड टिका कर एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर पेल दिया. वो भी अपनी गांड को धीरे धीरे उठा कर मेरे लंड के दबाव पर अपनी चुत पर रगड़ने लगी थी.

उन्होंने मेरी चूत को देखा और मेरे दोनों पैरो को एक साथ झटके से फैला दिया और अपना मुँह चूत पर लगाकर चाटने लगे. मैंने विलास की गांड को दोनों हाथों से पकड़ कर अपने लंड पर दबाव बनाए रखा था. सर ने मुझे चुप कराने के लिए मेरे मुँह में लंड देने का तय कर लिया था.

और यदि मैं हल्ला करती तो बगल के रूम में और जो 8-10 लोग सोए हुए थे, वह भी जाग जाते और हमारी इज्जत का क्या होता.

भाभी बोलीं- ब्रा उतार का चूसो न!मैंने झट से भाभी की ब्रा उतार कर उनके कबूतरों को आज़ाद कर दिया और दोनों हाथों से चूचे दबाना और मसलना चालू कर दिया. हल्की ड्रिंक के साथ खाना खाकर हम दोनों बैठे और अपनी फैमिली के बारे में एक दूसरे से बात करने लगे. उनके चुत चूसने के अंदाज से ऐसा लग रहा था, पापा को इसी दिन का इंतज़ार था.

मैंने फिर से बोला- सही बोला ना मैंने कि आपने बहुत दिनों से लंड नहीं लिया है. इससे उसका पेट हिलने लगा, गुदगुदी के कारण वो थोड़ी गहरी आहें भरने लगी. आह तुमसे चुदने के लिए ही बनी हूं मैं … आह आह हचक कर चोदो मुझे … मेरी जवानी, मेरा हुस्न, ये इश्क़ बस तुम्हारे लिए ही है … आह चोदो मुझे, चोदो माय लव.

उसने शायद नीचे जाकर अपने स्टाफ के साथियों को मेरे बारे में सब बता दिया.

मेरा शरीर काफी आकर्षक है क्योंकि मैं जिम और अपने खाने पीने पर काफी ध्यान रखता हूँ. मेरी लाइफ की एक फंतासी थी काला और मोटा लंड … और उस तरह के लौड़ों के साथ ग्रुप सेक्स करना.

बांग्ला बीएफ देसी सुमंत और महंत पहली बार लंड और चुत के दंगल में शामिल होकर ज्ञान प्राप्त कर चुके थे और अब वो दोनों अपनी दीदी को चोदना चाहते थे. वो दर्द से चिल्लाने लगी- आअहह उह आह मर गई … अम्मी मर गई … आंह निकालो … मेरी चूत फट गई.

बांग्ला बीएफ देसी एक दिन मैं उसके चूतड़ पकड़ कर उसे कुतिया की तरह चोद रहा था और वो तेज़ तेज़ चिल्ला रही थी. मैंने पूछा- ये तुमने कैसे जाना कि मोहल्ले के मर्दों के लंड से लार टपकने लगती है?आरजू ने बताया- एक बार सब्जी लेकर मैं घर आ रही थी तो पीछे से ना जाने कौन जोर से मेरी गांड दबाकर भाग गया था.

मैं दुल्हन की तरह सज संवर गयी और बेड पर चुनरी ओढ़ कर बैठ गयी।बेड पर मैंने गुलाब की पत्तियाँ डलवायी हुई थी.

इंग्लिश हिंदी सेक्स मूवी

[emailprotected]ओपन सेक्स का मजा कहानी का अगला भाग:प्राइवेट सेक्रेटरी की कुंवारी गांड चुदाई का मजा- 2. मेरे गांव वाले घर में मेरे दादा-दादी, चाचा-चाची, ताऊ-ताई और भैया भाभी हैं. वो महिला फिर से बोली- सर, अगर आप बोलने में शर्मा रहे हैं, तो ये पेन लीजिये और लिख कर बता दीजिये.

उसकी टांगें पूरी तरह से फ़ैल गई थीं और मुझे अपनी जीभ उसकी चूत में अन्दर तक चलाने में आसानी होने लगी थी. एक दिन हम दोनों पढ़ाई के बीच बात कर रहे थे तो मैं उसका हाथ पकड़ कर उससे बात करने लगा. सना ने हिंदुस्तान आने की इच्छा भी जाहिर की लेकिन पTकिस्तानी पासपोर्ट होने के कारण उसे वीसा नहीं मिल सकता था.

तो दादाजी बोले- बहू, मैं मुखिया जी से बात करके देखता हूँ शायद वो हमें कुछ समय दे।तो माँ बोली- नहीं ससुर जी, मुझे पता है वो नहीं मानने वाला है.

पहले तो उसे थोड़ा थोड़ा दर्द हुआ पर जैसे जैसे मैंने अपनी स्पीड पकड़ी, वैसे वैसे उसका दर्द मज़ा में बदलता चला गया. मैं खुश भी था और कुछ बुरा भी लग रहा था कि आज हम अंतिम बार सेक्स करेंगे. दीदी की गांड बहुत बड़ी लग रही थी, मैं गांड दबाने लगा, मुझे मज़ा आ रहा था.

मैंने धक्का देना बंद कर दिया और उसे सांत्वना देने लगा, उसके दूध चूसने लगा. आज मैं 5 साल बाद अपनी जिंदगी में घटी सेक्स घटनाओं और कामुक अनुभवों एक सेक्स कहानी से फिर शुरू करने जा रहा हूँ. मैंने कहा- क्या हुआ?भाभी बोलने लगी- मेरे बस की नहीं है तुम्हारा लंड लेना.

अब मैंने उससे पूछा- मेरा साथ कैसा लगा?उसने सर झुका कर कहा- तुम बहुत स्वीट हो. लेकिन चूत बहुत ज्यादा टाईट थी जिस वजह से लंड अन्दर जा ही नहीं था और उसे बहुत दर्द होना शुरू हो गया था.

रेशमा का सर अपने गोटों से हटा कर मैं खुद सामने लगे सोफे पर जाकर बैठ गया और रेशमा वैसे ही बिस्तर के किनारे बैठ कर मुझे घूरने लगी. मैं बाथरूम की तरफ बढ़ा तो बाथरूम के सामने, उसके अंडरगारमेंट्स वहीं फर्श पर पड़े थे. कुछ कहानियों में थ्रीसम सेक्स होता है, लड़की की चूत और गांड में एक साथ लंड चलते हैं.

मैंने उसे नंगा किया और देखा कि उसका लंड काफी मोटा और 6 इंच लम्बा था.

मेरे मुँह से वापस से ‘आहह … यहांहा बेदर्दी … ओहहह … मार दिया …’ निकल गया. यंग गर्ल Xxx स्टोरी मेरे किरायेदार की कमसिन कुंवारी बेटी की बुर चुदाई की है. एक सप्ताह बाद जब फाइल दुबारा से आई तो मैंने उस पर पर्सनल इंस्पेक्शन का नोट लगा कर पेंडिंग फाइल्स में रख दी.

चेतना से पता चला कि शैली भाभी ने अपनी बहन को फोन पर रीना के साथ रिश्ते तय होने की सूचना दे दी है. एक दिन मेरा बागपत जाना हुआ तो मैंने उसको फोन किया कि मैं बागपत आया हूँ.

मेरा मन मयूर के जैसे नृत्य करने लगा क्योंकि शायद सेक्स की गोली ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया था. कितना संभालकर रखा है तुमने अपनी जवानी को!ऐसा कहते हुए मैंने उसकी आंखों पर से हाथ निकालकर उसे जोर से अपनी बांहों में कसा और चूमने लगा. तो ये अजीब सा अनुभव नीता सह नहीं पाई और उसका पूरा शरीर अकड़ने लगा था.

दिसावर खबर दिसावर खबर

वो महिला बच्चों को सुला कर आई और मेरे सोफा के पास लगे अपने बिस्तर पर लेट गई.

मैंने उसकी गांड मारनी शुरू कर दी और ड्यूरेक्स का स्प्रे उसकी चुत में डालता रहा. मेरी सिसकारियां निकलने लगी थी, इससे अमन को हिम्मत मिली और उसने मेरी पैंटी के अंदर हाथ डाल दिया और मेरी क्लिट को मसलने लगा।अब मैं सातवें आसमान पर पहुंच चुकी थी. अपना फ़ीड्बैक नीचे दी हुई मेरी ईमेल आइडी पर दें ताकि आगे मैं अपने अनुभवों को और भी बेहतर तरीक़े से आपके साथ साझा कर सकूँ।[emailprotected].

मैंने अपने लंड को आहिस्ता आहिस्ता जोर देकर सुपारे तक बाहर निकाल लिया. मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से भींचा और शॉट मारने की तैयारी कर ली. टाइट करने की दवामामी मुझे बुरा भला कहती हुई गालियां देने लगीं- बहनचोद, थोड़ी सी भी रहम नहीं की.

बाइक्स की बात करूं, तो लगता था कि रॉयल एनफील्ड जिसे बुलेट भी कहते हैं, उस जैसी महंगी बाइक से लड़कियां जल्दी पट जाती हैं. रात के 11 बज चुके थे और हम दोनों ही नशे में एक दूसरे के बगल में बैठे हुए थे.

मेरी छोटी सी चूत में इतना बड़ा लंड मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मेरी पहली बार चुदाई हो रही है. राज ने पहले मेरी चूत चाट कर साफ की और बाद में वो मोनिका की चूत चूसने लगा. शाम को मैंने अपने आपको हर तरह से एकदम क्लीन किया और एक सेक्सी सा गाउन पहनकर तैयार हो गयी.

मैंने अंडरवियर उतार कर उसे कैद से आजाद कर दिया और फिर से ऊपर वाली को लेकर सोचने लगा. कमरे में चाची ने मुझे देख कर कहा- क्या तुम्हें ताश खेलना आता है?मैंने कहा- हां चाची. मैंने नीचे झुककर उसके एक चुचे को मुँह में भर लिया और उसे और तेज़ चोदने लगा.

इसके बाद मैंने सना से कहा- फोटो वाली पोजीशन बनाओ जिसमें उसने अपनी गांड उठा कर फोटो शूट करवाया था.

मुझे भाभी की चुत चोदने में ऐसा लग रहा था जैसे मैं किसी कुंवारी लौंडिया को चोद रहा हूँ. उससे बात करने पर मुझे पता चला कि वो इस समय अकेली रहती है और किसी काम की तलाश में है.

चूत में लंड फंसा कर वो मजे में गांड हिलाने लगी और आराम आराम से चुदने लगी. मैंने चुपके उसके पीछे से जाकर देखा तो वो अन्तर्वासना में भाई बहन सेक्स कहानी पढ़ रही थी. मेरी पिछली कहानी थी:अन्तर्वासना ने प्यासी चूत को लंड दिलायाआज मैं आप सभी के समक्ष अपनी एक नई सेक्स कहानी लेकर प्रस्तुत हूं.

इसलिए वो मुझसे बोलती है कि आपसे चुदने का मज़ा ही कुछ ओर होता है … मैं आपसे ही चुदती रहना चाहती हूँ. चूत फैलाने से नीता की चूत का रस बाहर आकर नीचे फर्श पर टपकने लगा था. इसलिए वो मुझसे बोलती है कि आपसे चुदने का मज़ा ही कुछ ओर होता है … मैं आपसे ही चुदती रहना चाहती हूँ.

बांग्ला बीएफ देसी मेरी आवाज सुनकर मेरे चूतिया हस्बैंड ने हल्के से आंख खोली और बोले- क्या हुआ?मैं बोली- कुछ नहीं, सो जाओ … मुझे चुदने दो. ब्रा के अन्दर से झांकते उसके तने हुए दूध और नीचे छोटी सी पैंटी में छुपी हुई उसकी चूत, मुझे और ज्यादा दीवाना बना रही थी.

योनि क्या है

मेरे निप्पल पर घूमती उसकी जीभ की चमक सीधे मेरे लौड़े की तरफ बढ़ने लगी थी. आपका हर्षद मोटे[emailprotected]फोरप्ले सेक्स की कहानी का अगला भाग:बरसात में अजनबी लड़की की कुंवारी चूत मिली- 4. उसके बाद मैंने वापिस से धक्का लगाया तो इस बार पूरा लंड पार्किंग एरिया में घुस गया था.

शादी के पहले जब कई लोगों से चुदवाने की आदत पड़ जाती है तो फिर कभी छूटती नहीं है. मैंने भाभी की चूत से मुँह हटाया और गांड के नीचे तकिया लगा कर भाभी के पैर ऊपर उठा दिए. पूरे नंगे फोटोनई जगह होने के कारण मुझे नींद नहीं आ रही थी और अपनी चाची और भाभी की बड़ी चूचियों को देख कर मैं बहुत उत्तेजित हो गया था.

उसकी लार नीचे टपकते हुए उसकी चूचियों को भी गीला करने लगी थी पर रेशमा ने किसी भी चीज की तरफ ध्यान ना देते हुए पूरे लगन से मेरे लौड़े को चूसना जारी रखा.

कुछ देर बाद मैं उसकी गांड में झड़ गया और लंड का सारा पानी उसकी गांड में निकाल दिया. फोन में से आवाज आई- कौन जान!मैं- जान, प्लीज मजाक मत कर मेरा बच्चा … बहुत नींद आ रही है यार!फोन से फिर आवाज आई- एक बार नंबर चैक करो, फिर बात करो.

लॉकडाउन की वजह से सब स्कूल और कोचिंग बंद हो गए थे तो उन्होंने मुझसे सम्पर्क किया कि हम तो एक ही बिल्डिंग में हैं तो कोरोना का ख़तरा भी नहीं है. सरिता ने मेरी तरफ आंख मारकर जब ये बोला, तो मैं समझ गया कि ये भी मेरे लंड के लिए सैट हो गई है. उसने रुक कर लंड को जोर-जोर से अपनी जीभ पर मारना चालू किया और फिर से चूसने लगी.

अब अदिति ने भी एक पैर बाजू में फैलाकर मुझे चूत सहलाने को जगह दे दी.

मम्मी चाची की चूत चाटने लगीं और चाची के कंठ से सेक्सी सिसकारियां ‘आह आह ऊह ऊह हाय आ मजा आ गया आह …’ निकलने लगीं. इस बार पांच मिनट बाद मैंने उसकी चूत में अपने लंड की पिचकारी मार दी और हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर लेट गए. उसके तने हुए दूध और पीछे उभरी हुई गांड किसी को भी अपना दीवाना बना सकती थी.

सेक्सी न्यूज़मैंने तेल लेकर उनके कंधे से लगाना शुरू किया और पूरी पीठ को तेल से चिकना कर दिया. मेरे पति ने आजतक कभी मेरे मम्मों को इतने प्यार से सहलाया भी नहीं है.

పంజాబీ సెక్స్

उसके दो दो किलो के चूतड़ जोर जोर से उछल उछल कर मुझको आमंत्रित करने लगे थे. अदिति की गुलाबी चूत मेरे सामने थी और उसकी मांसल गोरी गांड मेरे लंड को उकसा रही थी. ये सुन कर मैं थोड़ा कन्फ्यूज हो गया कि साली चैलेंज देकर गई है या निमन्त्रण दे गई है.

वो बोला- चलिए आपको दिखाता हूँ!वो मुझे अपने साथ ऊपर ले जाकर दिखाने लगा. मैं सोचने लगा कि अब कैसे पता करूँ?तो मैं अपना लंड धीरे धीरे आगे पीछे करने लगा. कुछ ही देर में दोनों 69 की पोजीशन में आ गए तथा पापा सोनम की चूत चाटने लगे.

मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया और वो भी मुझसे ऐसे चिपक गई, जैसे मैं उसका नाराज शौहर होऊं. मैं- दवा वाली बात या फिर कुछ और …भाभी शर्मा कर बोली- और क्या बात?मैं- यही कि दवा से झाग बहुत बना और दवा लगाने से घाव वाली जगह ने पानी भी फैंका. वो भी हमारे साथ सेक्स करने को राजी हो जाए, तो स्वैपिंग में मज़ा आ जाएगा.

मुझे टनटनाते हुए उसके लंड के दर्शन हुए तो मेरी खुशी का ठिकाना न रहा. फिर अचानक से मेरी गांड के छेद में जोरों से खुजली हुई और मैं उंगली से गाउन के ऊपर से ही छेद को जोर जोर से खुजाने लगी.

तभी उसने 2-3 चमाट मेरी गांड पर मार दीं जिससे मेरे मुँह से ‘आह … आह …’ की आवाजें निकलने लगीं.

मैंने अपनी जीभ बाहर निकाल दी और अपने होंठ उसकी चूत के मुँह पर लगाकर उसका योनिरस पीने लगा. सबसे अच्छी वाशिंग मशीनआज तक ऐसी कोई लड़की या आंटी नहीं मेरे लंड के नीचे से नहीं निकली, जिसे मैंने पूरी तरह से संतुष्ट न किया हो. सेक्स करने के सही तरीकेमैं कमरे की ओर बढ़ने लगा तो मैंने देखा कि रेखा बिना कपड़ों के नंगी सोई हुयी थी. मैंने उसके पैर कसके पकड़ रखे थे और खड़े रहकर ही उसकी चूत पर लंड का पूरा दबाव बनाए रखा था.

लेकिन आज तुम मेरी कली का फूल बना दो, मेरा कुंवारापन दूर करके मुझे एक औरत बना दो हर्षद.

अब ताबड़तोड़ चुदाई होने लगी, जिससे दुनिया का सबसे प्यारा म्यूजिक बजने लगा. अगले दिन मैंने कैसे भाभी की गांड मारी, ये आपको अगली चुदाई कहानी में बताऊंगा. भाभी बोलीं- इसमें इतनी गहरी सांस लेने की क्या बात है … मैं तो तुम्हारी भाभी हूँ, मुझसे कैसा शर्माना … एक बार बोलो तो कि किधर से लेनी है, मैं तुरंत दे दूंगी?मैं समझ गया कि भाभी पूरी मस्ती में हैं और मुझे अपने ऊपर चढ़ने देंगी या नहीं ये बात जरा और क्लियर हो जाए.

मुझे भाभी कि ये अदा और भी प्यारी लगी कि मुझे बिना मेहनत के मजा मिल रहा था. उसके मुँह से गर्म और वासना से भरी हुई सिसकारियां निकलने लगी थीं- आआह आह आह इश्श आहह!उसके दोनों हाथ मेरी कमर को जकड़े हुए थे. उससे मेरी बात उस हद तक चली जाती थी कि मुझको मुट्ठी मार कर सोना पड़ता था.

बिहारी सेक्सी वीडियो चाहिए

तभी पीछे से आवाज आयी- अरे सुनिए मेमसाब!मैं जैसे ही पीछे मुड़ी तो देखा वह हमारे दरवाज़े के अन्दर पहुंच चुका था और उसने अपनी धोती जानबूझ कर गिरा दी. स्कूल स्टूडेंट सेक्स लाइफ कैसी बीती मेरी … पढ़ें इस कहानी में! मेरे स्कूल के साथी मेरे ऊपर मरते थे. अब वो भी पूरी गर्म थी, कभी लिप-किस तो कभी गर्दन के पास किस कर रही थी.

इसलिए मैं जब सेक्स कर रहा था तो सबसे पहले एक उंगली ही डालने लगा था, फिर दो उंगली डालने की सोचता.

इतने में मुझे लगा कि मैं अब झड़ने वाला हूँ, तो मैंने उसे चेताया- बेबी, मेरा आने वाला है.

नहाते समय एक बार फिर से लंड चूत चैतन्य हो गए और मैंने फिर से उसकी ताबड़तोड़ चुदाई करना शुरू कर दी. मुझसे उसकी हालत देखी नहीं जा रही थी और मुझसे भी नहीं रहा जा रहा था. रंडियों का नंगा नाचवो मेरा मूसल लंड देख कर डर गई और बोली- हाय … इतना बड़ा … मैं नहीं ले पाऊंगी … मेरी तो चूत फट ही जाएगी.

मैं अभी भी कभी कभी अपने फोन पर सविता की फ़ोटो देखा करता था लेकिन मुझे ये पता नहीं था कि अब वो कहां रहती है. भाभी कसमसा रही थीं और ऊपर की और उचक कर लंड लेने के लिए उचक रही थीं. मैंने उससे पूछा- तुम्हारा कोई बॉयफ़्रेंड है क्या?उसने कहा कि पहले तो कई रहे थे, मगर बाद में एक ज्यादा पसंद आ गया था.

जब मैं फ्रेश होकर आया तो स्वीटी मैडम ने एक पजामा और बिना आस्तीन की गर्म बनियान टाइप का टॉप पहना हुआ था. खुद को संभालते हुए मैं अञ्जलि के साथ बाथरूम में घुस गया और अञ्जलि को गोद से उतारा.

वह मेरा सिर पकड़े अपने लंड की तरफ खींच रहा था शायद वह अपना पूरा लौड़ा मेरे मुँह में अन्दर तक पेल देना चाहता था.

मैंने अपनी नजरें अपनी मम्मी की जांघों की तरफ की तो उन्होंने अपनी कुर्ती से अपनी जांघें ढांक लीं. मैं उसका लौड़ा पकड़ कर हिलाने लगी और वह प्यार से मेरे बूब्स दबाने लगा. सुनीता लंड को खड़ा होते देख कर गर्व से लंड हिलाने लगी और लंड से बात करने लगी.

हिंदी रेसिपी वीडियो उधर ननद-भाभी डिनर की तैयारी में रसोई में चली गईं और बाहर बैठक में अम्मा बाबूजी बतियाने में मशगूल थे. रेखा ने दोनों कप भर दिए और मुझे एक देकर कहा- चलो सोफे पर बैठकर पीते हैं.

मेरे पास एक ही रास्ता था; हॉट सेक्स विद वाइफ!इस सेक्स कहानी में मेरी बीवी का दिल कैसे बदल गया, उसी को मैंने लिखा है. उनका मुँह लंड चूसते समय ऊपर नीचे हो रहा था और छितरे हुए बाल उड़ रहे थे. फिर से एक बार मेरे होंठों पर किस किया और फिर से केक को लेकर मेरी गर्दन से लेकर मेरी छाती पर फैला दिया.

छक्के का सेक्सी वीडियो

मैंने अपने बालों को झटकारते हुए अपना सर पीछे की तरफ किया और पीछे का नजारा देख कर मेरे पैरों के नीचे से जमीन सरक गई. बाथरूम के बाहर मेरे सामने बिना किसी कपड़ों के एक पूर्ण नग्न लड़की ने बाथरूम के अन्दर दाखिल होने के लिए सिर्फ एक पैर अन्दर रखा था कि उसे बाथरूम के अन्दर मैं दिखा, वो भी बिल्कुल नंगा और ऊपर से सोनम की बिल्ली संग सम्भोग मिलन की प्यास से टनटना कर नत्थूलाल साहब कड़क, खूंखार और विकराल लाल स्ट्रॉबेरी जैसा अपना फटा सिर टोपे से बाहर निकाले हुए थे. टी-शर्ट भीगने से उसकी लाल रंग की ब्रा में कैद उसके मम्मे साफ़ दिखने लगे थे.

उसके कोमल स्पर्श से मैं होश में आ गया और अपना सर उठा कर नीता को देखने लगा. मैं उन्हें अपने सूने घर में ले आई थी और उनसे अपनी दूध रेखा दिखाती हुई हस्तरेखा दिखा रही थी.

इस बार मैंने अनीशा से कहा- मुझे तुम्हारी गांड मारनी है क्योंकि मुझे तुम्हारी गांड पसंद आ गई है.

मैंने कहा- भाभी, मैंने तो पहली बार किसी की चूत चुदाई का सुख लिया है. मैंने जोश में आकर अपनी बीच वाली उंगली अदिति की चूत में डाल दी और अन्दर बाहर करने लगा. जल्दबाजी में मुझसे रुका ही न गया और मैंने उनके मुँह में रस निकाल दिया.

मैं पीछे लग गया था और होटल में जाते देख कर मैं समझ गया था कि भाभी ने फिर से मास्टर के लंड से मजा लिया होगा. इतने में चाची जी अन्दर आ गईं और बोलने लगीं- क्या पकड़ने की बात हो रही है देवर भाभी में. उसके तने हुए स्तन और निपल्स को मैं गाउन के ऊपर से ही देख पा रहा था.

टी-शर्ट भीगने से उसकी लाल रंग की ब्रा में कैद उसके मम्मे साफ़ दिखने लगे थे.

बांग्ला बीएफ देसी: खैर … मैं चाय पीकर उसका इंतजार करता रहा कि कब वो कप उठाने आए तो एक नजर भर कर उसका दीदार और कर लूं. तीन चार महीने में दो दिन के लिए आता है और रात को पांच मिनट तक चोदकर अपना पानी छोड़ देता है और सो जाता है.

मैंने सुपारा गांड में फंसाया और जब तक भाभी कुछ कहतीं मैंने एक धक्का दे मारा. फिर उसने स्लीवलैस गोल्डन ब्लाउज में से हाथ ऊपर करके अपने अंडरआर्म्स आगे कर दिए और थोड़ा दूसरी तरफ झुक गयी. मैंने खड़े होकर नीता की दोनों टांगें दोनों तरफ फैलाकर अपने लंड का चिकना सुपारा नीता की चूत की फांकों में रगड़ने लगा.

फोन में से आवाज आई- कौन जान!मैं- जान, प्लीज मजाक मत कर मेरा बच्चा … बहुत नींद आ रही है यार!फोन से फिर आवाज आई- एक बार नंबर चैक करो, फिर बात करो.

मैं खुश भी था और कुछ बुरा भी लग रहा था कि आज हम अंतिम बार सेक्स करेंगे. नवाज साहब भी शहर में नए थे, वे कुछ घबराए से थे कि आगे क्या और कैसे होगा. इस अवस्था में नत्थूलाल को देखकर अञ्जलि ने ‘इश्श …’ करती आवाज में गहरी सांस ली.