बीएफ फिल्म देना बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी चोदने वाली फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्सी फिल्म सेक्स: बीएफ फिल्म देना बीएफ, कुछ ही देर में कुलीन ने अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल दिया और मुझे चोदने लगा.

बीएफ ओपन सेक्स वीडियो

निशा का हाथ मेरे लोअर के अन्दर था और वो मेरे लंड को पकड़ कर सहला रही थी. हिंदी में वीडियो बीएफ फिल्ममैं एक फ़िल्मी गाना गा रहा था- तुम अगर मिल जाओ तो जमाना छोड़ देंगे हम.

कोई 2-3 मिनट बाद मैंने तीसरे झटके में अपना लंड पूरा अन्दर डाल दिया था. बीएफ सेक्सी फिल्म हिंदी बीएफसलोनी- रियली? ऐसा क्या देखा आप ने मेरे में जो किसी ने नहीं देखा? और आपने देख लिया? आप झूठ बोल रहे हैं.

मौसी भी मेरे पति की तरफ आकर्षित हो गईं। उसके मन में आया कि जब मैं रीमा के पति का लण्ड अपनी बुर में क्यों न पेलूं? मैं तो पेलूँगी।शाम को मैंने मौसी से कहा- यार, आज मैं तेरे पति का लण्ड पियूँगी।वह बोली- मैं भी तेरे पति का लण्ड पियूँगी.बीएफ फिल्म देना बीएफ: मैंने भाभी को औंधा कर दिया और पीछे से भाभी की चुत में धक्का मारा, तो आधा लंड चुत में घुस गया.

इसी के साथ मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और जोर जोर से चूसने लगा.क्योंकि मेरी बहन अब सीधी होकर सो रही थी, इससे उसकी बुर साफ़ दिख रही थी.

ब्लू पिक्चर बीएफ चुदाई - बीएफ फिल्म देना बीएफ

क्या चिकने चूतड़ थे उनके … चूतड़ों के बीच छोटा सा गुलाबी रंग का छेद था.फिर मैंने पूछा- तुम क्या कहना चाहती हो?उसने मेरी आँखों में देखा और बोली- बुद्धू कोई लड़की, एक लड़के को बुलाकर अकेले में.

जीजू- इसमें क्या गलत है शिवांगी? आखिर तुम मेरी साली हो और साली पर तो जीजू का हक होता ही है. बीएफ फिल्म देना बीएफ अब भाभी मेरे लंड के नीचे लटक रहे मेरी गोटियों को मुँह में लेने लगीं और फिर लंड चूसने लगीं.

मैंने उससे कहा- मजा आ रहा है ना!वो- हां अंकल बहुत मजा आ रहा है … और करो.

बीएफ फिल्म देना बीएफ?

मीरा ने उसे अगले ही पल अपने मुँह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. मैंने दिशा से कहा- दिशा, तुम अपनी बहन के साथ मिलकर लेस्बियन किस करो. उसने छटपटाहट जारी रखी किन्तु तब तक मेरी उंगली उसकी योनि के ऊपरी भाग से होते हुए उसकी योनि की दरार में जा पहुँची.

मगर एक दिन सीमा के जाने के बाद श्लोक के साथ शराब पीकर मैंने नशे में उसकी बीवी वीणा की चुदाई कर दी. उस दिन हम मौसम का आनन्द लेते रहे और अपना पूरा ट्यूशन का समय वहीं पर बिताया. मैंने मम्मी से बोला- आपके बेटे का लंड क्या मेरे लंड से भी बड़ा है?मम्मी बोलीं- मेरी आंखों पर पट्टी बंधी है, मैंने आपका लंड तो नहीं देखा लेकिन अनुमान से बता सकती हूं कि मेरे बेटे का लंड कुछ ज्यादा ही बड़ा है.

आह … क्या एहसास था! उसका थूक और लार भी उस समय मुझे मीठा लग रहा था।एक बार फिर से मैं उसके नंगें शरीर के ऊपर आया और उसको गली देते हुए और उसकी गाली सुनते हुए मैं उसे चोदने लगा. अगर आप सबका अच्छा सपोर्ट मिला, तो मैं अपनी दूसरी कहानी आपको बहुत जल्द बताऊँगी. मैं पहले तो चित लेटा था, फिर मैंने भी करवट बदल कर चेहरा उनकी तरफ कर लिया.

इससे आगे की कहानी मैं बाद में बताऊँगा कि कैसे शुभी के बॉयफ्रेंड ने मेरी गर्लफ्रेंड श्वेता की चुदाई की. जब से मैंने उसको देखा था तभी से मैं उसको चोदने के सपने देखने लगा था.

अबकी बार वो पहले से ज़्यादा ज़ोर से चीखी पर मेरा मुँह होने के कारण उसकी चीख दबी रह गई.

वो न अपनी टांगों को भींच पाई, न अपने आप को पीछे कर सिकुड़ने की कोशिश कर पायी.

दूसरे हाथ में रोहन का लंड था जिसे मैं हिला हिला कर और ज्यादा कड़क बना रही थी. रितेश ने मीरा को बिस्तर पे लिटाया और उसकी कमर के नीचे तकिया लगा कर उसने मीरा की पानी छोड़ती चुत को चूमा और अपना मोटा लंड उसकी चुत में फंसाते हुए एक ही झटके में पूरा घुसा दिया. उन्होंने मेरे लंड को बहुत देर तक मज़े लेकर चूसा और जब मैं झड़ा तो चाची मेरा सारा वीर्य भी पी गईं.

मायरा ने एक छोटी सी स्माइल दे दी और बोली- चाय अच्छी लगी या मेरी चुम्मी?मैं उसे कुछ कहने ही वाला था कि तभी स्नेहा आ गई. सारा बोली- तुम अब जिसको मर्जी चोदो, जिसके साथ साथ मर्जी सुहागरात मनाओ मुझे कोई फ़र्क़ नहीं, लेकिन हर बार तुम्हें अपना पानी मुझमें ही छोड़ना पड़ेगा क्योंकि मुझे हर हाल में जल्दी से जल्दी तुम से बच्चा चाहिए. मेरी उंगली का सिरा तो योनि की दरार के ऊपरी हिस्से पर स्थित चने के दाने के साइज़ के भगनासे पर आ कर ठहर गया लेकिन वसुन्धरा के मुंह से जोर-जोर से कराहें … कराहें क्या एक तरह से चीखें निकलने लगी.

मैंने पूछा- जान, तुमको ज्यादा दर्द तो नहीं हुआ?वह बोली- नहीं, शुरू में हुआ था मगर उसके बाद मजा आया.

थोड़ी देर में उसने अपने हाथों से मेरे स्तनों तथा चूतड़ों को बारी बारी से दबाना, सहलाना और मसलना शुरू कर दिया. मैंने मासूम बनते हुए कहा- ठीक है मम्मी, आप मेरे सामने ही योग सीख लिया करो. मैंने उसकी टांगों के बीच में आकर अपने लंड को चूत की फांकों में ऊपर से नीचे तक फेरा, तो वो गनगना उठी और जल्दी लंड लेने को उतावली सी होने लगी.

मामी की चूत तो जाग रही थी जिसका अंदाजा मुझे उसकी चूत से निकलने वाले रस से हो गया. मुझे दिमाग में एक ही बात चल रही थी कि यार चंद पैसे के लिए मैंने क्या कर दिया. सर भी मम्मी के ब्लाउज से दिखते उनके गोरे मम्मों पर नजर गड़ाए हुए थे.

इसी तरह मैंने भी अपने बारे में थोड़ा बहुत राज उसके सामने खोलने शुरू कर दिया था.

फिर मैं चाय नाश्ता करने के बाद जाने लगा, तो वो रोने लगी और मुझे जोर से किस किया. अब आगे:जैसे ही आशीष ने अपना लंड का सुपारा मेरी गांड में घुसाने की कोशिश की, मुझे दर्द महसूस हुआ.

बीएफ फिल्म देना बीएफ बारह बजे प्राची ने होटल के बाहर आकर मुझे कॉल किया और मुझे दरवाज़ा खोल कर रखने को बोला. मैंने लंड चूत पर सैट किया और जब तक नीरजा संभलती, मैंने एक शॉट में अपना पूरा 8″ का लंड नीरजा की चूत में पेल दिया.

बीएफ फिल्म देना बीएफ मेरे मुँह से चूत और बुर शब्द सुनते ही वो शरमा गईं और अपना चेहरा मेरे सीने से छुपा लिया. थकान की वजह से अब मेरे मन में ख्याल आने लगा कि या तो अब वो झड़ जाए या मैं झड़ जाऊं.

भाभी ने कहा- अरे जुल्फी तुम कब आए?मैंने कहा- बस अभी थोड़ी देर हुई, आप कहाँ थीं भाभी?उसने कहा- मैं रूम में थी, रेस्ट कर रही थी.

लड़कियों के नंबर सेक्सी

और फिर अनचाहे ही मेरी उंगलियां सुरेश अंकल को याद करते हुए मेरी चूत पर जा पहुंचतीं और मोती सहलाना शुरू कर देतीं. अब अंकल बेड पर चढ़कर मेरे नजदीक बैठ गये- नीतू … अब मुझे तुम्हारी शर्ट को खोलना पड़ेगा. मुझे गांड मसलने में बहुत मजा आता है, मैं लड़कियों की गांड पर चमाट मारना बहुत पसंद करता हूँ.

मैंने उसकी चूचियों को देख कर होंठों पर जीभ फिराई और कहा- तुम कहो तो तुम्हारा भी पेट फुला दूँ. उसी समय ताऊ ने लंड को चूत में पेल दिया और ताई की ‘आं … धीरे …’ की आवाज निकल गई. मगर असलियत तो यही है कि वो मेरी चूत का और मैं उसके लंड की दीवानी हूँ.

मैं- सही कहा आपने … तो क्या आप फिर से तैयार है मज़ा लेने के लिए?सहमति में कल्पना ने सर हिलाया.

मैंने उसकीछोटी बहन की चूतकैसे मारी, यह मैं आपको अगली सेक्स कहानी में बताऊंगा. जब भाभी ने उससे पूछा तो उसने गर्दन हिला कर दर्द रूक जाने के संकेत दिया लेकिन उसे नींद आ गयी क्योंकि उस पर अभी भी शराब का नशा था. मैंने भी मम्मा की टोन में पूछा- तो बताओ कैसे होती है शादी?अपनी मम्मा सौम्या ने कहा- पहले मेरी मांग में सिंदूर भर … फिर मुझे मंगलसूत्र पहना … फिर उसके बाद सुहागरात.

मेरी बीवी मुझसे सुबह चुदवा लेती है क्योंकि मेरी बीवी को मेरा जल्दी सुबह खड़ा हुआ लंड बहुत पसंद है. तो मैं और मोहित एक दूसरे को देखने लगे कि ये भाभी भी चूत चुदवाने के लिए बावली हो रही है. चूंकि मुझे रोहन के दोस्तों के लंड से चूत चुदवानी थी तो थोड़ी वैक्सिंग भी करवानी थी, इसलिए रोहन ने भी बोल दिया कि मसाज ब्वॉय को बुला कर मैं अपनी बॉडी की मसाज और वैक्सिंग करवा लूँ.

पर मैंने भी ठान लिया था … मिसेस शर्मा पर ऐसा इम्प्रैशन जमाऊँगी के मुझे देखते ही वो सन्न रह जाएगी. कुछ ही देर में उसने मेरे लंड को तेजी के साथ पूरा का पूरा चूसना शुरू कर दिया.

मैंने रोहित को कुछ नहीं कहा और न ही उसे यह पता लगने दिया कि मैं जाग रही हूँ. मैंने सोनू की चूत में अपना सुपारा अंदर किया, सोनू पीछे मुड़कर मेरी तरफ देखने लगी. अब अपनी मम्मा सौम्या को फिर से पीछे से अपनी बांहों में भरकर मैं उनकी चूत पर लंड और उनकी सुराहीदार गर्दन पर अपने होंठ रगड़ने लगा.

अब आगे भाई बहन Xxx स्टोरी:मैं- प्रिया, कुछ खाने का मन है?प्रिया ने मुस्कुराते हुए अपनी टांगें खोल दीं- आज इसे खा लो जी भरके!मैंने देखा कि उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था.

मैंने क्या क्या सोचा था कि इसको पटा कर चोद कर मजा लूंगा लेकिन इसके पास तो पहले से ही लंड की जुगाड़ है. उसकी बड़ी बड़ी आंखें थीं, पूरे 6 फिट लंबाई और मजबूत कसरती शरीर का सांड जैसा लगता था. फिर अंकल मुझे अपने बिस्तर पर ले गए और उन्होंने एक एक करके मेरे सारे कपड़े उतार दिए और अपने भी सारे कपड़े उतार दिए.

” कह कर मैंने अपने बाएं हाथ से वसुंधरा के लहंगे के नाड़े को उठा कर जरा सा अपनी ओर खींचा ताकि लहंगे का नाड़ा, गिरह के एकदम पास से कैंची के खुले मुंह की निचली बाजू और कैंची की ऊपर वाली बाजू के बीच में आ जाए लेकिन इस चक्कर में वसुंधरा बिल्कुल ही मेरे साथ आ सटी. वात्सायन के अनुसार ऐसे पैरों वाली स्त्रियां बौद्धिक रूप से अत्यंत विकसित, प्राकृतिक तौर पर संकीर्णयोनि अर्थात तंग योनि वाली, पति को सुख देने वाली प्राण-प्रिया और उत्तम संतान को जन्म देने वाली होती हैं.

अन्दर … और अन्दर वो चलता गया, चूत के लिप्स को खुला रखते हुए क्लिटोरिस को छूता हुआ वो पूरा 8 इंच अन्दर तक चला गया था. मैं बस चादर पकड़े उन्हें देखता रहा और वो धीरे धीरे अपना लंड मेरी गांड में अन्दर डालते रहे. मैंने मौक़े की नज़ाकत को देखते हुए वसुन्धरा के बाएं निप्पल को अपने मुंह में लिया और चुमलाने लगा.

रंडियों का मोबाइल नंबर

हालांकि वसुंधरा की पीठ थी मेरी ओर लेकिन उसे इस बात का बाखूबी अंदाज़ा था कि मेरे ज़ेहन पर क्या गुज़र रही थी.

मैंने सोचा कि आज घर पर तो कोई है नहीं तो क्यों ना अपनी चूत पर से बाल ही साफ कर लूं। बाल साफ करने के बाद मैं खूब अच्छी तरीके से नहाई और नहाने के बाद मैं नंगी ही कमरे में आ गई।जैसे ही मैं कमरे में आई तो मैं जीजू को कमरे में बैठा देखकर चौंक गई, मुझे पता ही नहीं चला कि जीजू हॉस्पिटल से कब वापस आ गए. ’मैंने अंकल का लंड मुँह में लिया और उनके चूतड़ों को अपनी बांहों के घेरे में ले लिया. नम्रता ने मेरी तरफ देखा, मैंने अपने हाथ झटक कर चुप रहने का इशारा किया.

वो जोर से चिल्लाने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ पर घर में कोई था नहीं, तो मैंने उसका मुँह बंद किया और दूसरे जोरदार झटके के साथ पूरा लंड चूत में उतार दिया. रानी के कहे अनुसार मैंने भी जीभ निकाली और रानी की चूत के आस पास चाटना शुरू किया. बीएफ सेक्सी पिक्चर ब्लू बीएफउसका लिंग पूरे उफान पर था और किसी गुस्सैल नाग की भांति फनफना रहा था.

मैं तो सिंगापुर चला जाऊंगा, तो अभी अपना मिलन होगा कि नहीं, वो मैं नहीं बोल सकता कि तुझे कब मिलूंगा. फिर मैंने उसका लोअर थोड़ा नीचे सरका दिया, मैंने उसकी पेंटी भी नीचे सरका दी और जाकर उसकी टाँगों के बीच बैठ गया और उसकी फ़ुद्दी में अपनी जीभ देने लगा.

मतलब जितनी देर में एक मालगाड़ी बंद फाटक से निकलती है और फाटक खुलता है, उतनी देर में हम दोनों की क्रॉसिंग चुदाई हो जाती है. मैंने एक दो बार फिर से हाथ नीचे लेकर जाने की कोशिश की, पर उन्होंने मुझे हर बार रोक दिया. मेरी सैलरी बहुत ही कम थी, मात्र 10000 रूपए मिलते थे, जिसमें से 3000 मेरा पीजी का किराया खाना आदि का लगता था और बचते थे 7000, जिनको मैं अपने घर पर दे दिया करता था.

वो सिसकारियाँ भरने लगी- आअहह … आआहह … मम्म्मम … आआ आआआ … आआआ … अह्ह।चाची सिसकारते हुए बोल रही थी- ओह भाई, ऐसे ही, ऐसे ही अपनी दीदी की चूत चुदाई कर, हाँ-हाँ और जोर से, इसी तरह से ज़ोर-ज़ोर से धक्का लगाओ भाई, इसी प्रकार से चोदो. मैं गिलास लेकर उठा और पीछे की तरफ से जाकर सारा दूध वाशबेसिन में डाल दिया. नम्रता मुझे इस तरह घूरते देखकर बोली- इस तरह क्यों घूर रहे हो?मैंने कहा- मलाई अभी बाकी है.

दो मिनट तक मेरे होंठ चूसने के बाद उसने उठकर अपने कपड़े पहन लिये और बाहर चली गयी.

(सलोनी का मतलब सांवली होता है) मैंने खुद को राहुल बताकर मोबाइल में अपने आप को व्यस्त कर लिया. आदाब दोस्तो, मैं आमिर खान हैदराबाद, मेरी इस सेक्सी कहानी पर आप सबकी ढेर सारी ईमेल मिलीं, आप सबके इस प्यार के लिए बहुत शुक्रिया.

ऐसे में जब नीचे जोर से पटेल मेरी चुत चाटना शुरू रखा, तो मेरी चुत में कुछ हरकत सी होने लगी और अब मेरे बदन में आज पहली बार एक नई फीलिंग आई. इस बार जब मैं गांव आया था, तो मुझे पूरे 4 साल बाद गांव आने का मौका मिला था. दोपहर के समय यही कोई दो बजे के करीब भाभी ने मुझे फ़ोन किया और बोली- मैं घर आ रही हूँ.

थोड़ी देर ऐसे ही करते हुए मेरा सारा पानी निकल गया और कुछ पल के लिए मैं शांत हो गया. तभी सोनिया ने गांड उठाते हुए मेरा लंड अपनी चूत की जड़ तक लिया और कहने लगी कि आह आज काफी दिनों बाद मुझे लंड का मजा मिला है. मिनी ने ये सुनते ही खुशी से मेरे दोनों आंखों और गालों पर किस किया और मुझे टाइटली जकड़ कर लेट गई.

बीएफ फिल्म देना बीएफ मैंने पहले भी बोला था कि तुम पहली नज़र में मुझे अच्छी लगीं, तभी जब पता लगा कि हम दोनों की मंजिल एक है तो … आगे तुम खुद जानती हो. मेरी माँ चाहती थी कि वह अच्छे से सिलाई व बुटीक का छोटा-मोटा काम सीख जाए। फिर मेरी मम्मी ने उसकी मम्मी को फ़ोन करके यहां रहने के लिए बोल दिया था और उसकी माँ मान भी गई थी।भावना के बारे में मुझे एक बात पता थी कि उसका कई लड़कों से चक्कर चल रहा था और अभी भी उसका एक बॉयफ्रेंड है। ये बात पता चलने के बाद मैं भी उसे चोदने की फिराक में लगा हुआ था.

हाथ की कढ़ाई टांके

मैं 12वीं कक्षा तक लगभग 18 लड़कियों को प्रपोज कर चुका था, पर पता नहीं क्यों हर किसी से ना ही सुनने को मिला. वह बार बार उठने की कोशिश करतीं और मैं कमर पकड़कर उनको फिर से लंड पर बैठा लेता. उसने झड़ते ही अमर की कमर को अपने नाखूनों से नौंच लिया और अमर की टांगों से अपनी टांगें लपेट ली.

मुझे चूमती हुई उसने एक एक कागज़ दिया और बोली- मेरे जाने के बाद इसे पढ़ लेना. नफीसा ने कराहते हुए कहा- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गई … बहुत दर्द हो रहा है जुल्फी. इंडियन बीएफ आंटीउस दिन के बाद जब भी परी मेरे सामने आती तो मैं उसके चूचों के साथ-साथ उसके पूरे बदन को घूरने लगता.

बुर की दोनों फांकें एकदम फूली हुई थीं, जैसे पावरोटी एक दूसरे से चिपकी हुई हों.

कुछ पल के लिए मेरी पलकें झपकना ही भूल गईं और मैं कभी उनके चेहरे को देखता, तो कभी उनके बुर को देखता. जब मैं उनकी छत से गुजर रही थी तो मुझे उस छोटे से कमरे के अंदर से कुछ आवाजें आती हुई सुनाई दीं.

जो चाची मेरे भाई को अपना बेटा मानती थी वह मेरे भाई के लिंग को हाथ में लेकर सहला रही थी. मैंने अपना लंड अपनी दोनों जांघों के बीच दबाकर रखा और मैं बेड पर किनारे पर बैठ गया. इस मदहोश आवाज को अमर ने समझ लिया और नारी सुलभ लज्जा को मसलते हुए वो ब्लाउज के ऊपर से ही पिंकी की चूचियां दबाने लगा.

पटेल बोला- तूने अपनी झांटें साफ़ की हुई हैं … बंध्या तू बड़ी चुदक्कड़ है … आगे जाके रंडी बनेगी क्या … अपनी मम्मी की तरह … मैं सब जानता हूं तेरे घर के बारे में.

तुम अपना काम करती रहो तब तक मैं तुमको यहीं किचन में ही थोड़ा मजा दे देता हूँ. हम दोनों कुछ ही दिनों में अब स्टूडेंट और टीचर नहीं रह गए थे, आपस में दोस्त बन गए थे. हम दोनों के पानी के मिलने से दिलिया के चेहरे पर एक अजीब सा सकून था.

सेक्सी बीएफ हिंदी इंग्लिश वीडियोउसने मेरी चूत को एक कपड़े से साफ़ किया और उसके बाद वो अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मुझे चोदने लगा. मैं कुछ बोल नहीं पा रही थी मगर सच में मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा था उस समय क्योंकि मैं नहीं चाहती थी कि मेरी सहेली पिंकी उसकी आंखों के सामने मेरे साथ ये सब होता हुआ देखे।अभी तो एक ही पेपर हुआ है, 5 तो बाकी हैं ना, सेंटर में इतनी सख्ती कर दूँगा कि एक दूसरे से भी कुछ पूछ नहीं सकोगी.

चोदने वाला वीडियो

मैं दिलिया को बेकरारी से चूमने लगा। चूमते हुए हमारे मुंह खुले हुये थे जिसके कारण हम दोनों की जीभ आपस में टकरा रही थी. इसलिये अधिकतर समय स्टॉफ रूम खाली ही रहता था और मेरी किस्मत शायद थोड़ी अच्छी थी कि जब मेरा खाली पीरियड होता, तो उसी समय उसकी भी कोई क्लास नहीं होती थी. मैंने मन में सोचा कि भाभी आप जैसी पटाखा मजा लेने के लिए मिल जाए, तो मन फुलझड़ी सा खिल जाए.

एलेक्स ने मुझे अपने पास आने का इशारा किया तो मैं बेड पर उसके पास चली गई. तब उन्होंने फिर से अपनी कमर को उठा कर पैंटी और अपनी चूत के साथ को कुछ समय के लिए तोड़ दिया. उन दिनों मैं छुट्टी में घर आया था तो मैं अपने घर की छत पर धूप में बैठा था.

वो … मैंने आज अंजलि को दे दी सर …” पिंकी ने हड़बड़ा कर कहा।ओह … हां … इसकी तो और भी बड़ी-बड़ी और मस्त हैं. थोड़ी देर चुत चोदने के बाद उसकी गांड का दर्द कम हो जाता, तो वो फिर से मेरा लंड चुत से बाहर निकाल देती. मैं दिखने में इतना सुंदर तो नहीं हूँ कि लड़कियां मुझे देखते ही अपनी खोल दें मगर जब उनकी खुलती है तो फाड़ने में कोई कसर भी नहीं रहती है.

मैंने हंसते हुए उसे फिर से पकड़ लिया और उसके गले और उसके पूरे चेहरे पर किस करने लगा. चिकनी चुत में अमर का मोटा लंड फांकों को चीरता हुआ घुसा तो पिंकी भाभी की एक तेज चीख निकल पड़ी.

अब मैंने अपने मस्तिष्क में टाइम ट्रैवल मशीन बनाने की ठान ली ताकि पास्ट में जाकर मैं अपनी मम्मा सौम्या को चोद सकूं और सौम्या की जिंदगी में खुशियां भर सकूं.

मैं उसके हर प्रोजेक्ट को सबसे पहले करके दे देता, ये देख कर उसको अच्छा लगता. हिंदी बीएफ देहात वालावह बोली- पहले आप मुझसे एक वादा करो कि आप इस बारे में किसी से कुछ भी नहीं बताएंगे. सनी लियोन बीएफ हिंदी मूवीआज भी जब मैं अपना पहला लिप किस याद करती हूं, तो धड़कन तेज हो जाती हैं. लेकिन मम्मा ने मुझे प्यार से झिड़कते हुए कहा- अच्छा बेटा, अपनी मम्मा को मक्खन लगा रहा है.

उसे देख कर मेरे अन्दर एक अजीब सी हलचल हुई, मेरा लंड फुंफकार मारने लगा.

मैंने कहा- तुमने पहले कभी सेक्स किया है?वह बोली- यह कैसा सवाल है?मैंने कहा- मैं तो बस ऐसे ही पूछ रहा था. फ़िर जब चूत ढीली हो गई, वो भी अब बहुत गर्म हो गई थी और बार-बार बोल रही थी- अब डाल दो. मैंने उसकी सलवार थोड़ी नीचे कर दी और ऊपर मुँह लगाकर उसके होंठों को चूसने लगा.

जब तक मैं उनके मायके के घर पर रहा, मैंने उनको बहुत बार चोदा और उनको अपनी चुदाई से संतुष्ट किया और उसके बाद मैंने उनको कई बार अपने घर पर भी चोदा और बहुत मज़े किए. मैंने उससे पूछा- सोनिया सब लोग कहां हैं, कोई दिखाई नहीं दे रहा?जबकि उसके घर में उसके 3 भाई थे और मेरे मामा और मामी भी रहते थे. उसकी चूत की झिल्ली फट गई थी और खून उसकी जांघों से बहता हुआ नीचे आने लगा.

मरयम नवाज़

नम्रता मेरी बात को समझ तो गयी लेकिन फिर बोली- लेकिन यहां पर मैं कहां से दूध और मलाई ले कर आऊं?मेरी नजर अभी भी उसके मम्मे पर टिकी हुयी थी. वह बोली- तो फिर रोका किसने है?इतना कहते ही हम दोनों ने एक दूसरे के कपड़े उतारने शुरू कर दिये. उसकी चीख निकल पड़ी- आईई … ई ईई … उफ्फ ओ … उम्म्ह… अहह… हय… याह…शिखा के चेहरे को देख कर मैं उसका दर्द समझ गया और मैंने अपना धक्का वहीं पर रोक दिया.

आप तो जानती हो कि मेरा काम ही है अपने पार्टनर को अच्छे से खुश करना.

मैंने कहा- क्या तुम नहीं जानती हो कि पहली बार करने पर खून निकलता है.

मैंने अपनी टी शर्ट उतार कर अलग फेंक दी और फिर अपनी जीन्स भी उतार दी. जाते हुए प्राची ने मिनी के होंठ पर किस किया और अच्छे से एन्जॉय करने को बोली. ब्लू पिक्चर बीएफ पिक्चर हिंदी मेंफिर मैंने भाभी को वहीं आंगन में लेटा दिया और उनके पूरे बदन को सर से पैर तक चाटने लगा.

फिर उनका हाथ जो मेरी पीठ पर था, अब मैंने अनुभव किया वह मेरे चूतड़ सहला रहा था, उन्हें मसल रहा था. इसके बाद मैंने अपने दोनों हाथ उनके पायजामे की इलास्टिक पर रख दिए और उसमें अपनी उंगली फंसा दीं. आप मेरी इस स्टेप मॉम सेक्स स्टोरी पर अपने विचार भेजने के लिए मुझे मेल करें.

मेरे पड़ोस में सुमन के पापा का ननिहाल था और वह उसी शहर से पढ़ाई कर रही थी. उसके बाद मैं उसके पेट पर किस करता हुआ नीचे की तरफ आने लगा और मैंने उसकी लोअर को उतार दिया.

नीतू आज शाम को तुम एकदम खास दिखनी चाहिए … शर्मा जी की पत्नी पर कड़क इम्प्रैशन पड़ना चाहिए.

दरवाजे पर पहुंचते ही भाभी ने सेनेटाइजर निकाला और खुद को, मुझको और साथ लाए हुए सामान को सेनेटाइज किया. मैं भी यह समझ रही थी मगर मैं चाहती थी कि वो खुद ही अपने मुँह से कुछ कहे. फिर मैंने आंटी से कहा- आंटी, कल का सब कुछ सही है न … कल आना है ना?आंटी बोलीं- हां जरूर.

बीएफ सेक्सी एचडी फुल एचडी पर अब इन सब का क्या फ़ायदा था! अब तो जो होना था वो हो चुका था और हम दोनों भी यही तो चाहते थे. मैं बेड पर जाकर उसके चूचों पर टूट पड़ा और उनको दबाते हुए उसके होंठों को चूसने लगा.

गरम भाभी बस सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे चलती बस में एक देसी भाभी और एक गोरे टूरिस्ट की आपस में सेटिंग हुई. भाभी ने अपना सर पीटते हुए कहा- हे भगवान कैसा बुद्धू देवर दिया है आपने … ये तो कुछ समझता ही नहीं है. कहानी आपको कैसी लगी इसके बारे में आपकी प्रतिक्रियाओं का मुझे बेसब्री से इंतजार रहेगा.

चूड़ी जो खनके हाथ में

मैं कल शुभी को तुम्हारे पास ले आऊंगी मगर जो कुछ भी करना है तुम खुद ही कर लेना. उस फ्लोर पे एक और फैमिली रह रही थी, उस फ्लोर पे बाकी के सब फ्लैट खाली ही पड़े थे. मैंने सोचा कि जो कोई भी है, अगर इसकी चूत मारने को मिल जाए तो कैसा रहे?बस फिर क्या था, मैं उसको चोदने के सपने देखने लगा.

मेरा मन तो कर रहा था कि उसको अभी नंगी करके चोद दूँ, मगर मैंने किसी तरह से खुद पर कंट्रोल किया. उसने मेरी तरफ सवालिया नजरों से ऐसे देखा मानो वो जानना चाह रही हो कि वो डायरेक्टर उसकी मुट्ठी में कैसे आ सकता था.

ऊऊऊ ऊऊ हम्मम्म हम्मह उउम् उउम …मैं भी उसका पूरा साथ दे रहा था और वह मजे से अपनी चूत को चुदवाने लगी.

लेकिन कुछ भी हो, मीना एक स्त्री है उसका सम्मान हर हाल में होना चाहिए, उसकी इच्छा के विरुद्ध उसके साथ संभोग करना उचित नहीं था. उसने दो तीन कलर्स की ब्रा उठाईं और मुझसे पूछने लगी कि इनमें से कौन सी वाली अच्छी है. मैंने उसके गोलों को महसूस किया तो मेरे बाबूलाल अपनी औकात दिखाने लगे.

वो दोनों नंगे ही बिस्तर पर ही थोड़ी देर लेटे रहे, फिर एक दूसरे को चूम लिया. मगर मैं हैरान था कि यह साली लंड को चूत में डलवाने से मना क्यों कर रही है. मैंने जोर-जोर से लंड के टोपे की त्वचा को आगे-पीछे करते हुए, पूजा की चूत और चूचियों के चित्र मन में बनाते हुए अपने लंड को आनंद देने की पूरी कोशिश की.

फिर मेरे किसी दोस्त ने मुझे एक रूम के बारे में बताया, जिसका चार्ज 500 रूपए था.

बीएफ फिल्म देना बीएफ: इस दूसरी चुदाई में पता नहीं मैं कितनी बार झड़ चुकी थी और अब मन कर रहा था कि अंकल हट जाएँ तो मैं लेट कर चैन की सांस लूं. वो भी पहले पहल तो एकदम से सिहर गई और फिर अपनी टांगें खोल कर मेरे सर को अपनी चूत पर दबाते हुए ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाजें करने लगी.

कहाँ मैं उसको चोदने की प्लानिंग कर रहा था मगर वो पहले से ही मुझसे चार कदम आगे निकली. उसका शौहर उसको खुश नहीं कर पाता और उस वजह से हम दोनों में थोड़ी अनबन होती रहती है. कुछ ही पल बाल भैया ने लंड को भाभी के मुंह से निकलवा दिया और उसके गीले होंठों पर फिराने लगे.

जब भाभी पूरी तरह से गर्म हो गई तो वह खुद ही मेरा लंड लेने के लिए मचलने लगी.

आगे मेरे साथ भी कोई घटना घटित होगी, तो मैं उसकी कहानी आपके लिए लिख सकूंगी. ” कह कर मैंने अपने बाएं हाथ से वसुंधरा के लहंगे के नाड़े को उठा कर जरा सा अपनी ओर खींचा ताकि लहंगे का नाड़ा, गिरह के एकदम पास से कैंची के खुले मुंह की निचली बाजू और कैंची की ऊपर वाली बाजू के बीच में आ जाए लेकिन इस चक्कर में वसुंधरा बिल्कुल ही मेरे साथ आ सटी. मैं भी मदहोश होता जा रहा था और उस हॉट डॉक्टर की चुत रगड़ता जा रहा था.