हिंदी सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी लेडीस की

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्सी चला दो: हिंदी सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ, सो ऑफिस भी नहीं गया और फोन पर 3 दिन की छुट्टी ले ली। मैं फरीदाबाद पहुँच कर एक होटल में बैठ गया और बीयर पीने लगा। लगभग 2 बजे मधु का फोन आया कि यश को मैं एयरपोर्ट पर छोड़कर आ गई हूँ।मैं बोला- ठीक है.

ब्लू बीएफ बीएफ फिल्म

मेरा वेट अराउंड 58 किलो है और मेरी कमर 27 के आस पास है… इसलिए वो ड्रेस जो कि मेरी स्किन से चिपक गई थी, उसकी वजह से मेरी कमर का ऊपर का हिस्सा भी बहुत मस्त लग रहा था. सपना चौधरी बीएफ सेक्सी वीडियोखेलते खेलते वो कभी मेरी जाँघों को छू लेते तो कभी मेरी पीठ पर हाथ फेर रहे थे.

मैंने प्रिय के बाएं निप्पल को मुंह में ले कर चुमलाया, तत्काल प्रिया मेरे लिंग को अपनी योनि की ओर खींचने लगी. नई बीएफ एचडीमैं अपनी ज़ुबान से उसकी चुत चाटने लगा और उसकी चुत के होंठों को अपने होंठों में दबा के चूसने लगा.

पर उसका लंड बार बार मेरी चूत से फिसल रहा था, तो फिर मैंने ही उसके लंड को पकड़कर मेरी चूत में डाला और फिर धीरे धीरे पूरे लंड को अपनी चूत के अन्दर तक डाल लिया.हिंदी सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ: मैं और पीयूष दोनों एक दम नंगे दोनों के बदन पर एक भी कपड़ा नहीं था, एक दूसरे से लिपट गये.

मैंने सर उठाया और कहा- क्या हुआ मेम?वो बोलीं- तुमको नहीं पता क्या?मेम मुझे कैसे.मेरा नाम राहुल कुमार है, उम्र 23 साल है, वैसे तो मैं थोड़ा पतला दुबला हूँ पर लंबाई अभिषेक बच्चन जैसी है.

जानवर वाला सेक्सी वीडियो बीएफ - हिंदी सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ

थोड़ी देर में वो आई तो मैंने आते ही उसे पकड़ लिया और बहुत ज़ोर से हग कर लिया.तो तुम अब दूसरी जगह भी जाओ इंटरव्यू के लिए!”नहीं इन्होंने बोला है कि ये फोन करेंगे.

फिर मैंने उसके कन्धों को थोड़ा और उचकाया, और इस बार थोड़ा और नीचे तक दबा दिया. हिंदी सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ नीला ने अपने हाथों का दबाव बढ़ाया और पूछा- तुम पानी में देर तक साँस रोक सकते हो तो तुमको ये मजा अभी मिल सकता है.

हमारे जिस्मों की ताप पर ऐ सी की कूलिंग भी कोई असर नहीं डाल पा रही थी.

हिंदी सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ?

मैंने कहा- नमस्ते अंकल, आंटी नहीं है घर पर?वो कड़क आवाज में बोला- हाँ हैं. मनन- मुझसे दोस्ती करोगी?रीमा- हम तीनों तो आते ही दोस्त बन गए ना, तो पूछने की क्या बात?मनन- अरे. मेरे हाथों ने भी माँ को जकड़ लिया और मेरे हाथ उनकी कमर से नीचे सरकते हुए उनके चूतड़ों पर टिक गए.

अब तो मेरा बुरा हाल हो गया, पहली बार मैंने अपनी चाची को वासना भरी नज़रों से देखा था. प्रिया की योनि के पद्म दल फिर से सिकुड़ कर योनि की गुफा को फिर से अत्यंत संकरा बना चुके थे, इसी कारण मेरी उंगली प्रिया की योनि के जरा सी अंदर जाने से प्रिया के मुंह से दर्द भरी सिसकारी निकली थी. पर मैंने अंजलि को पीछे से अपनी दोनों बांहों में कस के जकड़ रखा था, मैं बोला- ऐ चोर लड़की… क्या कर रही थी? बता क्या चुरा रही थी?अंजलि- जी कुछ नहीं… मैंने कुछ नहीं चुराया यहाँ से!मैं- मैं पुलिस वाला हूँ, तुम चोरों को मैं अच्छी तरह जानता हूँ, हम पुलिस वालों को चोरों की जुबान खुलवाना आता है.

मैंने कहा- तो फिर चूसो ना!वो बोली- आपका इतना बड़ा लंड मेरे मुँह में नहीं आएगा. मैं कभी उसकी चुत को ज़ुबान से चोदता, तो कभी उसके क्लाइटॉरिस को दांतों से काट लेता. इसलिए ताई जी ने उसकी मुलाक़ात मेरे साथ करवा दी थी, वो सारा दिन मेरे साथ ही बिताती थी.

उसने आँखें खोलीं और फूलो से सजा हुआ कमरा देखकर हैरत से बोली- ये सब क्या है मयंक?मैंने बोला- आज शादी हुई है, तो अब सुहागरात भी होनी चाहिए. सभी मित्रों का शुक्रिया, आप सब लोगों ने मेरी माँ की चूत की पिछली कहानीचुदक्कड़ मां की चूत चुदाई देखी मैंनेजो कमेंट्स किए कि आपको मेरी कहानी बहुत अच्छी लगी… इसके लिए आप सभी का बहुत धन्यवाद.

उसके मुँह से मुझे चोदने की बात सुन कर मुझे जितनी खुशी हुई, मैं कह नहीं सकती थी, मगर मैंने आशीष के लंड को अपने चूतड़ों से उठाते हुए कहा- चंदर मुझ पर रहम करो, मैं कोई बाजारू लड़की नहीं हूँ.

बेडशीट सफेद थी तो खून ज्यादा लग रहा था।ये सब निशा देख कर बोली- जानू, अब ये सब तो होना ही था… अब मुझे तुम खुश कर दो।अब मैं भी उसकी चूत में ताबड़तोड़ धक्के लगाता रहा, अब निशा भी साथ दे रही थी और नीचे से अपनी गांड ऊपर कर कर के चुदवा रही थी।इस पोज़ में मैंने उसे दस मिनट चोद चोद के उसकी हालत खराब कर दी.

अब मैं उसकी बुर से अपना लंड निकालने लगा तो देखा कि उसकी बुर और मेरे लंड में सफेद सफेद उसका ढेर सारा पानी ने जम कर किसी सफेद सर्फ के झाग की तरह पूरे बालों को ढक लिया था. उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और आइसक्रीम मेरी चुत में अन्दर तक डाली, मेरी चुत में आइसक्रीम गर्मी से पिघल कर बाहर आने लगी और वो मेरी चुत चाटने लगा. उसी समय मेरे पति को सर्दी और बुखार हो गया, इस वजह से उन्होंने और मैंने सेक्स से थोड़ा दूरी बना ली.

फिर टी-शर्ट के ऊपर से ही मैंने उसके मम्मों को अपने हाथों में ले लिया और एकदम धीरे धीरे सहलाने लगा… साथ ही उसके होंठों पर, गाल पर, गले पर किस भी किये जा रहा था. कुछ दिनों के बाद मेरा ट्रान्स्फर ऑर्डर आया तो मैंने वो कम्पनी छोड़ दी क्योंकि मैं पुणे को छोड़ के कहीं बाहर जाना नहीं चाहता था. अजीब हालत थी मेरी… बिना अंडरवियर के मेरा लिंग पजामे को तम्बू बनाये हुये था.

उसने इतना कहा ही था कि वो अकड़ गई, उसकी आनन्द भरी चीखें निकलने लगी, उसकी चूत का रस बहने लगा, मुझको उसका पानी मेरे लंड को पूरा भिगाता हुआ महसूस हुआ.

रोशनी फिर से उछल पड़ी और गुस्से में आ गई- तुम तो क्लिट्स ढूंढ रहे थे, तुमने कहा था कि क्लिट चूत के ऊपर वाले हिस्से में होती है. मैं- वाह… उस दिन आपकी मेरे लिए क्या प्लानिंग है?माँ- कल तुम माँ के लिए एक सुंदर सी ब्रा पेंटी और एक नाईट गाउन खरीदोगे और उनको अपने हाथ से लिखी एक चिट्ठी के साथ गिफ्ट करोगे. थोड़ी देर इसी प्रकार चूसने के बाद बोली- राजे… तुमने मस्त कर दिया… अब बड़ा मज़ा आ रहा है… पता है राजे ऐसी मस्त कर देने वाली चुदाई मुझे अपने पति से कभी न मिली… तू तो यार चुदाई का कलाकार है… राजे राजे राजे…उसका सुन्दर मुखड़ा अपने मुंह से चिपका के मैंने उसके होंठ चूसने शुरू कर दिये.

और फिर दोनों अंदर बाहर एक साथ गांड में और चूत में अपना लन्ड करने लगे, मुझे बहुत तकलीफ हो रही थी।इतने में अंकल ने मेरे नीचे चूत की तरफ देखा और बोले- अरे यार सुरेंद्र, मैं कितना लकी हूं, यह वन्द्या तो सच बोल रही थी, उसको आज तक किसी ने नहीं चोदा, मैं बहुत भाग्यशाली हूं जो आज मैंने वन्द्या की सील तोड़ दी. कामिनी की चूत में तो पहले ही आग लगी थी, वो झट से अपनी टांगें फैला कर विवेक के लंड पे बैठ गई और आगे पीछे होने लगी. फिर कुछ देर बाद भाभी को आराम मिला, भाभी ने नीचे से थोड़ा हिलना शुरू किया तो फिर मैं समझ गया कि अब भाभी का दर्द शांत हो गया है, फिर मैंने भाभी की चूत में धक्के पे धक्के लगाना शुरू किए और अब भाभी भी मेरा साथ देने लगी और अपनी गांड उठा उठा कर मजा लेने लगी.

वे एक आंटी हैं, आंटी का नाम मीना है, मैं उन्हें मीना आंटी कह कर बुलाता हूँ.

उसने मेरे बाल पकड़ लिए और मेरे पूरे चेहरे को अपने मम्मों पे खींच लिया. अंजलि ने पीछे मुड़ कर देखा तो वो बोली- क्या हुआ भाई साब, रसोई में क्यों आ गए, यहाँ बहुत गर्मी है.

हिंदी सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ मैंने अपने दोनों हाथों की एक एक उंगली उसकी लेगी में फंसाई और उसे नीचे सरका दिया. मैं आपको बताने जा रहा हूँ कि किस प्रकार मैंने मम्मी की सहेली को चोदा.

हिंदी सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ उस दिन मैंने उसको 1000 रूपये दे दिए थे क्योंकि वह एक ग़रीब घर से थी. सेजल भाभी एक हाथ से नीचे से मेरे लंड की गोटियों को सहला कर जोश में उम्म्ह… अहह… हय… याह…” कह देतीं, तो मैं अपनी स्पीड बढ़ा देता.

मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाल लिया और चूत के ऊपर रगड़ने लगा और अपना काम-रस उसकी चूत के ऊपर गिरा दिया उसने भी मेरे लंड रस को अपनी पूरी चुत पर मल लिया.

ब्लू फिल्में सेक्सी ब्लू फिल्में

मैंने उसे सीधा लिटाया और उसकी पैंटी उतार कर उसकी चूत पर लंड रगड़ने लगा. खाना खाने के बाद आंटी बोलीं- मैंने तुम्हारे रुकने का इन्तजाम ऊपर के रूम में कर दिया है, तुम थक गए होगे, जाकर आराम कर लो. नताशा ने अपने कूल्हों को नीचे की तरफ बिठाना शुरू कर दिया और जुड़वा टोपों तक ले आई!हाँ, थोड़ा और…” मैं बोला.

अब तो मेरा बुरा हाल हो गया, पहली बार मैंने अपनी चाची को वासना भरी नज़रों से देखा था. आआह आआह… स्सस्स…”उसने चूत के पास तक हाथ लगाया- यहाँ से होते हुए… यहाँ से होते हुए… यहाँ तक…चूत से टचिंग क्या हुई, मैंने तो गनगना गई. मैं उनको विजुअल डिक्शनरी से पढ़ाता था, जिसमें सारे पिक्चर बने होते हैं.

ये सब सुन कर मैं और जोश में आ गया और फिर उसके 10 मिनट बाद मेरा भी पानी निकल गया.

मैं- क्या हम बेस्ट फ्रेंड बन सकते हैं?माँ- फ्रेंड्स तो हम हैं ही!मैं- ऐसे वाले नहीं… बेस्ट फ्रेंड्स जिनके साथ हम कुछ भी शेयर कर सकें… अपनी प्रॉब्लम्स, अपनी फीलिंग्स… चाहें वो कैसी भी हों!माँ- कैसी भी फीलिंग शेयर करने के लिए तुम अभी बच्चे हो. सच कहता हूं दोस्तो, आज तक मुझे सेक्स करने में इतना मजा कभी नहीं आया था जो मजा उस दिन आ रहा था।अब मैं पारुल की नाभि को किस करने लगा तो पारुल तड़फ उठी और अपनी कमर को ऊपर नीचे करने लगी और लम्बी लम्बी सांसें लेने लगी. कामिनी उस को देख कर इतनी खुश हुई कि बस पूछो मत!उसने जेब से एक गिफ्ट निकाला और मेरी बीवी कामिनी से बोला- उंगली कहाँ है मैडम आपकी?और एक रिंग पहना दी.

मुझे देखते ही वो अपना लंड सहलाते हुए बोला- तुम्हारी माँ बहुत ही मॉडर्न हैं और मुझे लगता है वो तुम्हारे पापा को पूरा मस्त करके रखती होंगी. वो शर्मा गईं और मादकता से कहने लगीं- चूतिये मुझे पता था, तू बहुत तेज़ है साले गांडू. पारुल ने भी बोला- ठीक है, तुम जो चाहो ले लो!मैंने कहा- ठीक है!जैसे ही हम धारूहेड़ा पहुँचे, पारुल ने मुझे कहा- गाड़ी रोक लो!और 2000 रुपये दिए, बोली- एक विह्स्की की बोतल और 4 बीयर ले लो!दोस्तो अब तो मैं जन्न्त में घूमने लगा.

रवि ने बोला कि आज शाम को कहीं घूमने चलते हैं, गुंजन को भी ले चलते हैं. रीमा- क्या हुआ?मैं- तेरे चुचे तो वैसे ही टाईट है, आसमान को देखते रहते हैं तो तुझे ब्रा पहनने की क्या जरूरत.

मैंने उसके लंड की गोटियों पर भी हाथ फिराना और सहलाना चालू कर दिया, जिससे उसकी गरम आवाजें निकलने लगीं. ये क्या कर रहे हैं… कोई देख लेगा!”वो देखो उस साइड… सब मस्ती कर रहे हैं…” मैंने नजर घुमाई तो वे मेरे को गले से लगा कर किस करने लगे. जीजा बोले- क्या मस्त माल हो वन्द्या… तुम अभी तक कितने लन्ड ले चुकी हो?मैं बोली- यह क्या बोल रहे हो जीजा, आज तक मुझे किसी ने छुआ भी नहीं है, आप भी मत करो.

तभी अम्मी मेरी कुर्ती उतार के ब्रा ऊपर से मेरे दूध दबाने लगी और मेरे पीछे बैठ के पीछे से मेरे गले में मेरे कान के पीछे किश करने लगी.

अब भाभी अपनी कमर उठाकर मेरी उंगली अपनी चूत में अन्दर तक ले रही थीं. धीरे धीरे उसकी गरदन से होते हुए मम्मों की घाटी पर आकर उसकी चूचियों को चूसने लगा, फिर और नीचे जाकर उसकी नाभि में जीभ घुसा दी और फिर मैं उसकी फुद्दी तक पहुँच गया. मैं बोला- तो अब तुम मुझे मजा दो!शायद उसका मन तो था लेकिन थोड़ी झिझक थी, मेरे समझाने से उसने मेरी बात मान ली और झट से मेरा लंड अपने मुँह लेकर चूसने लगी.

मैंने अपनी वाइफ को इशारा किया तो वो धीरे से बोली- ये है क्या?मैंने कहा- हां यही है. कुछ मिनट के बाद मैंने माँ को अपने नीचे लेटा लिया और उनकी जी स्ट्रिंग पेंटी उतार कर मम्मी की मदमस्त चूत पर अपनी जुबान फेरना शुरू कर दी.

मैंने उसको उसके और मेरे घर वालों से छिपा कर एक मोबाइल दिया और उससे कहा कि अभिलाषा मैं रोज तुम्हें इस पर कॉल किया करूँगा. हेलो दोस्तो, मैं नील पुणे से एक बार फिर से आया हूँ मेरी हिंदी एडल्ट कहानी में मेरा एक और अनुभव आप लोगों से बांटने के लिए. इतने एक मीठी सी आवाज़ आई- एक्सक्यूज मी!मैंने सर उठा कर उसकी तरफ देखा.

हिंदी मराठी बीपी सेक्सी वीडियो

मगर मैं उसके लिए कुछ ना कुछ जरूर करूँगा क्योंकि उसकी आप जैसी खूबसूरत बहन, जो मेरे पास चल कर आई है.

मेरी सारी निजी बातें उनको पता थीं और मुझे उनकी सारी बातें मालूम थीं. वो कहते हैं न अगर किसी चीज को दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसको मिलाने के लिए जुट जाती है. फिर हमने बियर पी, फिर मस्त चुदाई की दो बार… दोनों बार चूत औरगांड की चुदाईकी.

इसके अलावा वह शादीशुदा लग रहा था, मतलब उसे रोज़ चुदाई करते हुए अच्छा अनुभव हो चुका था और अपने चोदू लंड से बड़ी आसानी से वह मेरी लंड की प्यास बुझा सकता था. भैया ने जब भाभी की चुचियां मसली थीं, तब उनका पल्लू हट गया था, जो अब भी हटा हुआ था और भाभी ने अपने पल्लू को ठीक करने की जगह उसको एक तरफ कर दिया था और वो अपनी चूचियां तान कर दारू का मजा ले रही थीं. देसी आंटी की चुदाई बीएफसोनी ने कहा- नवीन इधर मम्मी और भाई दोनों हैं, हम आज सब कुछ नहीं कर सकते.

पांच-सात मिनट बाद प्रिया थोड़ा सहज़ हो गयी और मेरी ताल पर अपनी ताल देने लगी, इधर मैं अपना लिंग उस की योनि से बाहर खींचता तो प्रिया अपने नितम्ब पीछे खींच लेती और जैसे ही मैं अपना लिंग उस की योनि में आगे धकेलता, प्रिया अपने नितंब ऊपर को उछालती।हर थाप के साथ मेरा लिंग, प्रिया की योनि में थोड़ा और ज्यादा गहरे समाने लगा. मैं आज आपको एक कहानी बताने जा रहा हूँ, जिसमें मैंने पूनम भाभी की इच्छा पूरी की.

तो मैं उस जगह को देखता हूँ जहाँ चूत होती है। अब वो सिर्फ पैन्टी में बची थी।मैंने उसके पैटी को उतार कर कहा- शकुंतला एक और बड़ा मजा पाने के लिए तैयार हो जा।उसने जो बोला उस बात पर मुझे आज भी गर्व है।बोली- बिना चोदे तुमने मुझे जन्नत के मज़े दिला दिए। हर आशिक को तुम्हारे जैसा ही होना चाहिए। इतना होने के बाद अभी और क्या बचा है. जमाई जी मुझे सजी संवरी देख कर हिल गये और मुझे दुल्हन की तरह पकड़ कर बिस्तर पर लिटाया और बड़े आराम से मेरे होंठों की लाली चूसने लगे. पहले मैंने अपनी जीभ से उसके होंठ को चाटा, फिर उसके नीचे के होंठ को अपने दोनों होंठों के बीच दबा कर चूसने लगा.

वो मेरे लिए खाना लाया, मेरी इच्छा नहीं थी तो उसने अपने हाथों से थोड़ा खिलाया. तो उसने लंड बाहर निकाल लिया और मेरे पूरे चेहरे पर अपने लंड का पानी निकाल दिया. कुछ देर बाद परीक्षित ने अपने लंड को मेरी चूत में डाला और फिर चिंटू ने गांड में पेल दिया.

दोस्तो, मैं आपको ये बताना चाहूंगा कि इस कहानी की एक एक लाइन सच्ची है.

सामने सोनी को देखकर मैं हतप्रभ रह गया; मैं जल्दी से अपनी लुंगी को सही करने लगा लेकिन इस चक्कर में लुंगी थोड़ी सी उठ गयी और तना हुआ लंड का बाहरी हिस्सा दिखने लगा। मेरे ख्याल से सोनी की नजर उस पर पड़ चुकी थी।सोनी यह बोलती हुयी कि मेरी ‘तबियत कैसी है’ कहते हुए तब तक अन्दर आ चुकी थी।मैं दरवाजे को बन्द करते हुए अन्दर आया, तब तक पलंग के पास पड़ी हुयी कुर्सी पर बैठ गयी और उसकी नजर मेरे लैपटॉप पर पड़ चुकी थी. वो- ओह… क्या सोच रहे थे?मैं- जब मैं तुम्हें देखता हूँ तो लगता है तुझमें पूरा पागल होकर समा जाऊं.

जैसे ही मैंने ये जाना कि अब मुझे चूमना छोड़ देना चाहिए और बाकी चीजों पर ध्यान देना चाहिए, तो मैंने उसके होंठों से धीरे धीरे चूमते हुए कान की ओर अपना रुख मोड़ लिया. अब मुझे थोड़ा सा अच्छा लगने लगा और मैंने विनय को बोल दिया- अब ठीक लग रहा है विनय. पूजा और भाभी दोनों ने मुझसे अपनी खूब चूत चुदाई करवाई, बहुत चोदा और मजा भी हर बार दुगना हो जाता.

मेरी पिछली कहानी पर आए एक मेल ने मेरी होली को सच में रंगीन और लाजवाब बना दिया. आम तौर पर तू मुझे मौसा जी नमस्ते” कह कर ही टाल देती रही है लेकिन उस दिन जब मैं और सुधा तेरे घर गए थे तो क्या हुआ था तुझे?”उस दिन? उस दिन आप के आने से ज़रा पहले मेरी अपने पापा से जोरदार बहस हुई थी और उस टाइम मैं दिल से आप को याद कर रही थी. मॉम ने मुझे एक दिन टोका कि जो उस लड़के के साथ किया, यदि वो बहन के साथ किया तो तुझे मार डालूँगी.

हिंदी सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ मैंने पहले भी लड़की चोदी थी, लेकिन यकीन मानिए इस रिश्ते को शायद इस असीम शान्ति के लिए ही पवित्र रिश्ता कहा जाता है. इस तेज झटके के बीच अचानक लगा जैसे मेरी मूत निकल गई और मैं धड़ाम से माँ के ऊपर गिर पड़ा.

सेक्सी ब्लू फिल्म दिखाइए हिंदी

बहूरानी की पारदर्शी नाइटी, जो सामने से खुलने वाली थी, में से उसके गुलाबी जिस्म की आभा दमक रही थी; उसने ब्रा या पैंटी कुछ भी नहीं पहना था. मैं जल्दी से अपनी पेंटी ठीक करके वन पीस नीचे खिसका कर वहां से निकलने का सोच ही रही थी कि अचानक उस लड़के ने पीछे से मेरा हाथ पकड़ लिया. मगर कुसुम पूरी घाघ थी, वो मेरे पास आकर बोली- चल जरा चाय पी कर आते हैं.

मेरा संयम भी खत्म हो रहा था; मैंने उसको सीधा लिटाया और उसकी एक टांग अपने कंधे पर रख कर अपना 6″ का लंड उसकी चूत पर रख दिया. मैंने देखा रेस्टोरेंट खाली था, तो धीरे से उसके गाल में किस कर दिया. सेक्सी वीडियो बीएफ गर्ल्सशुरू में तो मुझे भी खराब सा लगा, पर न जाने क्या हुआ कि मेरा मन भी वासना से भर गया.

मैं झट से उठा अपना कंडोम निकाल कर बाहर फेंका और फटाफट कपड़े पहन कर तैयार हो गया.

वो मेरे घर अक्सर आया करती थी तो मैं उसे सेक्स के बारे में बताती और कहती कि आज मेरे पति ने किस तरह से मेरी मस्त चुदाई की. मैं बोली- छोड़ कुत्ते कमीने, मत कर साले, घटिया जीजा, मादरचोद छोड़!जो गालियां आती थी, सब दे डाली और रो भी बहुत रही थी पर जीजा को कोई भी फर्क नहीं पड़ रहा था, वो फिर से अपना लन्ड घुसाने में लग गए.

मेरी क्लास में 4 मैडम और 4 सर अपने अपने सब्जेक्ट पढ़ाने के लिए आते थे. मैं अंजलि की गर्दन पर किस करने लगा और उसके कान को मुँह में लेकर हल्के हल्के काटने लगा. ”पर राहुल मुझे झांट साफ़ करना नहीं आती, आप अपनी झांट साफ़ करते हैं क्या?”अरे पगली मेरे पास तो बहुत सारे औजार हैं, मैं तो झांट के नए नए शेप भी बनाता हूँ.

मैं- आज क्या हो गया है आपको… इतनी रात तक कैसे बातें कर रही हो?माँ- आज मेरे पति बाहर गए हैं, घर पर नहीं हैं, तो मुझे किसी का कोई डर नहीं है.

रात को 10 बजे उसने बहन को सोते हुए देखा और पक्का करके कि वो सो गई है, मेरे पास आ गई. उसके चहरे पे गुस्सा साफ झलक रहा था और गुस्सा क्यों ना हो, मैंने काम ही ऐसा जो किया था. हम दोनों कुछ देर बेड पर पड़े हांफते रहे, भाभी मेरी पीठ को सहलाती रहीं और मुझे गर्दन पर चूमती रहीं.

बीएफ सेक्सी कार्टून वीडियोहैलो फ्रेंड्स, मेरा आप सभी को नमस्कार, मेरा नाम आर्यन है, मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. फिर पूरे सुपारे को मुँह में भरके चूसने लगी, तो मैं भी अपने लंड को उसके मुँह में अन्दर डालने लगा.

ओपन व्हिडिओ सेक्सी व्हिडिओ

अब तो विक्रम का बुरा हाल था और वो अपने लंड को सम्भाल ही नहीं पा रहा था. आने वाले क्षणों में मिलने वाले आनन्द का तस्सवुर कर के प्रिया ने भी आँखें बंद कर के मुझे ज़ोर से अपने आलिंगन में ले लिया. नए पाठिकाओं और पाठकों के लिए बताना चाहता हूँ कि मैं एक खूबसूरत जिस्म का मालिक हूँ, जिसकी वजह से लड़कियां मेरी तरफ काफी आकर्षित होती हैं.

नताशा के हलक से चीख निकल गई, लेकिन मैंने उसके मुंह को चोदना नहीं छोड़ा और हाथों से उसके कन्धों को उचका कर नीचे दबाना और तेज कर दिया. अर्पिता ने चुटकी बजा कर मुझे जगाया और बोली- ये सब तुम्हारे लिए है! आओ इन्हें चूसो, दबाओ, मसल दो… इस बार कपड़ो के ऊपर से नहीं सीधे मसल दो।मैंने कहा- मुझे सरप्राइज बहुत पसंद आया!अर्पिता- हँ… ये सरप्राइज नहीं है! ये तो हमेशा तुम्हें ऐसे ही मिलेंगे. वो सब मेरी तरफ आए, मेरे करीब आकर ठहरे, इतने करीब कि मैं एक लड़के की तो साँसें महसूस कर सकती थी और तभी वे मुझे देखकर पलट कर वापस चले गए.

मुझे हमेशा से ही भड़कीले रंग वाली पेंटी ज्यादा पसंद है तो मैं तो उसको इस मादक रूप में देखकर अपने आपको नहीं रोक पाया और मेरा हाथ अपने आप ही मेरे खड़े लंड पर चला गया. मैं भी उस वक्त पता नहीं किस मूड में आ गई थी कि मुझे उसका ये जबरन पकड़ कर चूमना बुरा नहीं लग रहा था. मगर मैं कहना चाहती हूँ कि मैं एक शादीशुदा औरत हूँ और अपने घर को और अपने परिवार को सबसे पहले देखना ज़रूरी होता है.

चाची ने पूछा- आकाश बेटा, तुम मुझे ऐसे क्यों देख रहे हो?मैं- कुछ नहीं चाची, आज पहली बार मुझे पता चला है कि परियां स्वर्ग में ही नहीं, यहाँ धरती पर भी रहती हैं, जिनमें से एक आप हैं… आज आप बहुत सुन्दर लग रही हैं. उसके होंठों पे अपने होंठों को रख दिए और 5 मिनट तक उसे गेट पर ही जबरदस्त किस किया.

जिस लड़की को मैं चोदना चाहता था, वो बिना किसी मेहनत के लिए चुदने के लिए तैयार थी.

अपने लंड को चुसवाते हुए ही आर्थर ने मेरी हमसफर को ऊपर उठा लिया और खुद सोफे पर जा लेटा. एचडी देहाती सेक्सी बीएफमेरा कद करीब पांच फीट आठ इंच है, रंग सामान्य है ना ज्यादा गोरा और ना ज्यादा काला!मेरे लंड की लंबाई करीब 6 इंच है और मैं मेरी कॉलोनी में बहुत फेमस हूँ, मैं सब से हंस बोल कर चलता हूँ, बड़ों को राम राम, नमस्ते, हमउम्र लोगों को हाय हेलो बोलता हूँ तो सब मुझे पसंद करते हैं. सुबह का बीएफवो भी मेरे साइड में बैठ गईं और पूछने लगीं- कौन सी मूवी है?मैंने बोला- हॉलीवुड की है. मैंने साइड वाली सीट ली थी, पीछे की लाइन में भी मूवी देखने वाले कम ही लोग थे और हॉल में अँधेरा भी था.

नमस्कार दोस्तो… मैं आपका दोस्त सोनू दोबारा आपके लिए अपनी कहानी लेकर हाज़िर हुआ हूँ.

इधर मैं और नाज चुदाई में लगे हुए थे, उसकी बातों को सुन कर मैं धकाधक उसकी चुदाई किए जा रहा था और उसके जोर जोर से हिलते हुए चुचे मुझे और जोश दिला रहे थे. पंकज ने रेखा को उल्टा किया और उसकी टांगें पकड़ कर बेड के नीचे लटका दीं और अपने लंड के सुपारे को रेखा की मस्त गोरी चिकनी भरी हुई गांड के छेद पर रख कर एक ही बार में लंड उसकी गांड में डाल दिया. मैंने जल्दी से अन्दर आकर गेट बन्द किया और उसको उसी टाइम पकड़ के गोद में उठा कर किस करने लगा.

हमारी ये धक्का पेल चुदाई लगभग 15 मिनट तक चली होगी, उस समय तक भाभी एक बार झड़ चुकी थी और अब मेरा भी निकलने वाला था तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और लगभग 15-20 शॉट के बाद मैं भी भाभी की चूत में झड़ गया. अब तो मेरा वासना से बुरा हाल होने लगा, मेरे मुँह से जोर जोर से आवाजें आने लगीं ‘आआह्ह्ह चाची आआह्ह्ह हय क्या चूसती हो… और जोर से चूसो और चूसो… और…’मैंने इतना कहते ही उनके मम्मों को अपने हाथ में ले लिए और जोर जोर से दबाने लगा. मेरे लंड की साइज़ 5 इंच है और मैं किसी भी लड़की को खुश करने में कभी भी कोई कसर नहीं छोड़ता हूँ.

इंग्लिश फिल्म सेक्सी वीडियो फिल्म

फिर मैं उसकी स्कर्ट उतारने लगा तो उसने अपनी गांड ऊपर उठा के स्कर्ट उतारने दिया. मेरी इस बात पर विनय ने भी मुझे कस लिया और मेरे होंठों को जोर से चूसना शुरू कर दिया. उसने अपने बदन पर एक बिल्कुल पतला सा गाउन डाल कर रखा था, जो रेखा के बदन को ढकने की एक नाकाम कोशिश कर रहा था.

भगवान् जाने! बस में अब एक्सट्रा स्लीपर उपलब्ध था भी या नहीं!सुधा ने बहुत सकुचाते हुए चाचाजी को फ़ोन लगाया गया और मसला बयान किया.

मैं अपने दोस्त के साथ रहता था, आज वो दूसरे दोस्त के कमरे में सोने गया था.

दोबारा आवाज़ लगाई… फिर कोई जवाब नहीं!अजीब बर्ताब कर रही थी लड़की!ख़ैर! मैं अपना कॉफ़ी का मग उठा कर प्रिया के दरवाज़े के पास आया और पूछा- प्रिया! ठीक हो?हूँ” की एक मध्यम सी आवाज़ सुनाई दी. हां जब पहली बार चुदोगी तो टांका टूटने से कुछ खून की बूंदें भी आ सकती हैं, मगर उतनी नहीं, जब असली सील टूटती है. काजल की बीएफ फिल्ममैंने कहा- मैं कुछ समझा नहीं?वो बोली- तुमको मुझे यानि मेरी कामवासना को संतुष्ट करना है, मेरे साथ सेक्स करना है.

भाभी के चुत रस की एक भी बूँद को बेकार किए बिना सारा रस मेरे हलक के नीचे उतर गया. कुछ पल मैं इस स्वर्गिक आनन्द का मज़ा लेता रहा और फिर प्रिया ने मुझे टहोका तो मैंने फिर से काम-क्रीड़ा शुरू की. जिससे मुझ पर नशा सा छा रहा था। मेरा दिल कर रहा था कि मैं चूत को खा ही जाऊँ। कभी-कभी मेरे दाँत चूत पर गड़ जाते, तो मधु एकदम तड़प उठती। मुझे उसे तड़पाने में मजा आ रहा था.

मैंने उसकी तरफ देखा और कहा- अब क्या ऐसे ही पेल दूँ?उसने कहा- कंडोम नहीं पहनोगे?मैंने कहा- नहीं चाहिए… मुझे ऐसे ही करने दो न. अगले दिन हम दोनों ने हाफ डे की छुट्टी की और कुसुम मुझको अपने घर पर ले आई.

इसी बीच मैंने उसकी गर्दन पर किस तेज किया और उसके बालों में हाथ फिराना चालू कर दिया.

कुछ समय बाद दोनों एक साथ झड़ गए मैं खड़े खड़े ही उनको पकड़ कर निढाल हो गई, न पकड़ती तो गिर ही जाती. भाभी की चुत अब बहुत रसीली हो गई थी और मेरी उंगली सटासट चुत में अन्दर बाहर ही रही थी. दीदी कामुकता के आवेश में बोल रही थी- राखी के दिन मेरे भैया, इस चूत लंड के रिश्ते को निभाना… चोद मेरे बही… अपनी दीदी की गर्म चूत को चोद चोद कर फाड़ दे!तभी दीदी मेरे दोस्तों के नाम ले लेकर बोलने लगी- भाई तू आशू का बुला ले, मैं उससे गांड मरवाऊँगी… भाई तो जग्गी को बुला ले… मैं उसका लंड चूसूंगी.

हिंदी बीएफ वाली फिल्म रुक जाओ।लेकिन वो तो मज़े से मेरी सवारी कर रहा था, उसने अपनी थोड़ी स्पीड बढ़ा दी, मैंने बेडशीट कस कर पकड़ ली. अब आगे:पूजा को बड़ी भाभी ने छोटी भाभी को बातों में लगाने को बोला और मुझे अपने बेडरूम में ले आईं.

फिर वो मुझे थैंक्स बोलने लगीं, तो मैंने बोला- अरे भाभी इसमें थैंक्स की क्या बात है, मेरी जगह कोई भी होता तो यही करता. उसका लंड अभी भी मेरे हाथ में था और जैसे ही मैंने अपने मोबाइल की टॉर्च जलाई मैं हैरान हो गया क्योंकि वो लंड वैसा ही था जैसा मैं सपनों में अक्सर देखा करता था!बहुत ही लंबा और सीधा लंड जिसके गुलाबी टोपे पर स्किन की एक परत थी पर लंड का छेद साफ देखा जा सकता था. फिर मैं अपनी जीभ उसके कान से गले तक फेर रहा था और हल्के से किस भी कर रहा था.

सेक्सी वीडियो डांस दिखाइए

मैं भी उसको ऐसे देख रहा था, जैसे मैंने भी आज उसकी जवानी के जाम को पी कर उसको खा जाने का मन बना लिया हो. बिंदु ने उसका बहुत गरम जोशी से स्वागत किया और बोली- तुम अपना घर ही समझ कर यहाँ आया करो. मैं भी उसको ऐसे देख रहा था, जैसे मैंने भी आज उसकी जवानी के जाम को पी कर उसको खा जाने का मन बना लिया हो.

फिर एक और जोर का झटका लगाया और पूरा लंड उसकी चुत में पूरा अन्दर तक पेल दिया मेरे आंड उसकी चुत के मुँह पर जम गए थे. 5 मिनट के बाद ही मेरा लंड फिर फुफकारने लगा और भाभी बोली- बहुत गरम हो यार तुम तो? इतनी जल्दी फिर से मूड में आ गए?मैंने कहा- भाभी, अभी असली काम करना तो बाकी है ना तो गर्म तो होना ही था.

अब मैं क्या पहनूं बताओ?सैम ने उसमें से एक उठा कर दी और कहा कि ये जल्दी से पहन लो.

एक दिन मैंने माँ का हैंडबैग चैक किया तो उसमें कुछ कंडोम के पैकेट मिले. आपको गुस्सा नहीं आएगा?मैं बोला- नहीं आएगा… क्या पता वो तुम्हें मुझसे अच्छी तरह से चोदे. काफ़ी देर ऐसे मज़े लेने के बाद मैंने बोला- रिया रूम पर चलें?तो उसने हां बोल दी.

मैंने ऐसे ही उसके उभारों को चूमने लगा, तो उसने नंगा होने का कह दिया. फिर मैं बाथरूम में जाकर अपना चेहरा साफ करके आई और मिरर के सामने बाल ठीक करने लगी. मेरे दोस्त ने मुझे सब कुछ समझा दिया और बोला- रात 12 बजे तक शायद वो लोग आ जायेंगे तो तू देख लेना!मैं बोला- कोई प्रॉब्लम नहीं, तू मस्त काम निपटा, मैं हूँ इधर!वो भी रुकना चाह रहा था लेकिन रात में कोई पूजा होनी थी तो घर चला गया.

तभी मैंने देखा कि अंकल का एक दोस्त दुबारा से फ्री हो गया, फिर तीसरा दोस्त आ गया.

हिंदी सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ: अब तक की सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि मैंने अपनी चुत की खुजली मिटाने के लिए अपने ड्राईवर को चुना और उससे हम मां बेटी ने काफी समय तक अपनी चूत की सेवा करवाई. उसकी फिगर क़रीब 38-32-40 की होगी।उसने मुझे काम समझने और डेवलपिंग के बारे में बहुत मदद की.

जब दीदी बेसुध पड़ी रहीं तो धीरे से अपने हाथों को पजामे से बाहर निकाल लिया. मेरी पिछली सेक्स से भरी कहानीपड़ोस की सेक्स की भूखी भाभी की नंगी चूतआप सभी ने पढ़ी और आप सभी पाठकों का बहुत अच्छा रेस्पॉन्स भी मिला. वो भी शर्माते हुए हां में सर हिला देती है और मैं उसे बांहों में भरके क्लिनिक के पिछले कमरे में ले जाता हूँ और उसे चूमता चाटना शुरू कर देता हूँ.

विवेक ने अपने मोबाइल पर गाना चला दिया और दोनों एक दूसरे को बांहों में लिये डांस करने लगे.

जैसे ही वो रुकी, मैंने अपन स्पीड तेज कर दी और उसको जोर जोर से चोदने लगा. दोस्तो यह सेक्सी कहानी बिल्कुल सच है और आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।अब मैंने पारुल को बोला- गाड़ी को साइड में लेकर किसी पेड़ के नीचे रोक दो ताकि रोड से थोड़ा दूरी पर रहे और कोई देख ना सके!पारुल ने गाड़ी साइड में लेकर रोक दी. मैंने मना किया कि प्लीज ये मत करवाओ मुझसे!तो बालू बोले हर लड़की का ये ड्रीम होता है कि उसे मस्त लन्ड चूसने को मिले! और तू कैसी बात कर रही है, कौन सा मेरा पहली बार चूस रही है, ले साली चूस!और मेरे होठों पर लन्ड को रगड़ने लगे.