बीएफ फिल्म खपाखप

छवि स्रोत,लिंग कैसे बड़ा करें

तस्वीर का शीर्षक ,

दुल्हन फिल्म सेक्सी: बीएफ फिल्म खपाखप, मैं अपने लंड को धीरे धीरे उसकी गांड पर रगड़ने लगा लेकिन वो ज़रा भी नहीं हिली.

मां बेटे की चुदाई दिखाओ

पहले तो उसने खुल कर साथ नहीं दिया था … लेकिन होंठों के चुम्बन के बाद वो भी खुल कर मेरा साथ देने लगी थी. सेक्स वीडियो इंदौरअर्शिया के टॉप की का गला काफी गहरा होने के कारण उसके बोबों के बीच की लाइन साफ़ दिख रही थी.

मैं सोचने लगा कि अनन्या ऐसी है!‘ये सब क्या है अनन्या?’‘मैं बताती हूँ. केरळ सेक्सीजैसे ही हमारी नजरें मिलीं, वो मुस्कराया और बदले में मैं भी हल्की सी मुस्कुरा दी.

बाहर पहुंच कर मैंने मैम को कॉल की तो एक मिनट बाद मैम आ गयीं और बाइक पर बैठ गयीं.बीएफ फिल्म खपाखप: मुझे लगा कि भाभी को वाशरूम जाना होगा तो मैंने गाड़ी एक पेट्रोल पंप पर रोक दी.

लंड ने सटासट अन्दर बाहर होना शुरू किया तो मैंने पीहू की कमर पकड़ कर एक बमपिलाट धक्का मारा.उसकी आंखों में शोखी देख कर मुझे लगने लगा था कि दिल्ली की लौंडिया है, साली लंड लेने में ज्यादा नखरे नहीं करेगी.

ब्लू फिल्म चलने वाला - बीएफ फिल्म खपाखप

मुझे अपनी बीवी की बात विश्वास नहीं हो रहा था … तो मैंने ये कह कर नजरअंदाज कर दिया कि ऐसे तो सब कह देते हैं.मैंने उनका ब्लाउज खोल कर उनकी दूध जैसी सफेद चूचियों को बाहर निकाला और दोनों मम्मों को जोर जोर से मसलने लगा.

फिर जब थोड़ी देर में उन्होंने मुझे इशारा कर दिया, तो मैं फिर से शुरू हो गया. बीएफ फिल्म खपाखप इसके कुछ देर बाद अंकल जी ने मेरी पैंटी भी उतार दी और मेरी कमसिन चुत देख कर बोले- तुम अभी वर्जिन हो?मैं बोली- जी.

उसके गर्म शरीर को हाथ लगाते ही मेरे पूरे शरीर में करंट सा लग गया था.

बीएफ फिल्म खपाखप?

इस बार वो मुझसे चुदाई के लिए कहने लगे थे, तो मैंने मन बना लिया था कि अरविन्द जी से फिर से चुदने का मन बना कर ही जाना है. मैं अपनी बहन को वो वीडियो दिखायी तो …हैलो फ्रेंड्स, मैं मानस एक बार फिर से आपको अपनी बहन की चुदाई की कहानी में भिगोने ले आया हूँ. मैं सोचने लगा कि अब तो बीवी साहिबा के साथ बोर हो चुका हूं, अब मजा तो इसी की मारने में आएगा.

वो मेरी बात मान गयी लेकिन उसने एक बात पूछी- तुम मुझे कितने दिन में मुझे मिलोगे?मैंने उससे कहा- मैं एक कमरा किराए पर ले लेता हूँ. मैंने पर्दे की ओट से देखा कि विराट भी सब कुछ भूल कर अपना 8 इंच का लंड वहीं हिलाने और मसलने लगा था. मैं उसकी बात से चौंक गई और हंसने लगी- ये कैसी बात … पहले गर्म फिर ठंडा!वो मेरे बदले हुए रूप से अचकचा गया और बोला- आहहां … गर्म ठंडा बाद में होता रहेगा.

भाई बहन सेक्स की कहानी मेरे और मेरी बहन के बीच तब की है जब बारिश में हम दोनों चुदाई का आनन्द ले रहे थे … या यूं कहें कि बारिश में स्वर्ग का सुख भोग रहे थे. जब मैंने उसके मुँह से ये सुना कि ये भी मेरे साथ सेक्स में शामिल होना चाहती है, तो मुझे यकीन ही नहीं हुआ. अभी सेक्स कहानी अधूरी है, इसमें मेरी दोनों बहनें मेरे आशिक के लंड से कैसे चुदीं, उसका वर्णन भी आएगा.

मेरा लंड शीना भाभी की चूत की गहराई में उतरकर उसकी चूत को रगड़ रगड़ कर चोदना चाह रहा था. मेरे दोनों दूध चूसने के बाद वो आगे बढ़ा और मुझे खड़ा करके मेरी जींस और पैंटी नीचे करके मेरी चूत चाटने लगा.

तो मैं तुरंत उसके ऊपर आकर उसके होंठों पर अपने होंठ लगाकर चूसने लगा और धीरे-धीरे उसकी चूचियों को भी सहलाने लगा.

उसने- तुम साड़ी ही पहनती हो या कभी जींस टॉप या मिडी स्कर्ट भी पहना है!मैं- जी, सिर्फ साड़ी ही पहनती हूँ.

मुझे वो बर्दाश्त नहीं होता क्योंकि कोमल शाम से ही मुझे सिग्नल दे रही थी. मैंने कहा- किस्मत वाला तो हूं तभी तो जाटनी को उसके घर में खानदानी पलंग पर तीन रात चोदा … वो भी कुंवारी जाटनी की सील तोड़ी. उसने अपने नीचे पड़े घाघरे की जेब से एक शैम्पू जैसा निकाल कर लंड में धीरे धीरे लगा दिया.

मैंने खोला तो बहुत सारे वीडियो थे और सब भाई बहन चुदाई के वीडियो थे. मैं उसकी बात से चौंक गई और हंसने लगी- ये कैसी बात … पहले गर्म फिर ठंडा!वो मेरे बदले हुए रूप से अचकचा गया और बोला- आहहां … गर्म ठंडा बाद में होता रहेगा. मैं बिना रुके चलती रही, लेकिन तभी एकाएक बारिश बहुत ही ज़्यादा तेज़ होने लगी और हमको मजबूरी में रुकना पड़ा.

मैंने सोचा कि शायद आप व्यस्त हैं तो मैंने दीदी से पूछा था कि क्या भाई कुछ ज्यादा ही बिजी हैं, जो हमारी तरफ नहीं देख रहे हैं.

मेरी क्लास के स्टूडेंट्स मेरे बहुत चाहने वाले थे या कहूँ कि बहुत से लौंडे और टीचर लोग मेरी चुत चोदने की फिराक में थे. जिन लोगों ने इस होटल रूम Xxx कहानी पिछला भाग नहीं पढ़ा है, उनके लिए बता दूँ कि मैं निर्वाण 6 फीट लम्बे चौड़े कद का मस्त लौंडा हूँ और अब तक कितनी ही चुत का रस अपने 7 इंच लंबे और ढाई इंच चौड़े लंड को पिला चुका हूं. मेरा लंड सुबह से ही शीना की चूत को चोदकर उसकी दोनों फांकों को अलग करने के लिए बेताब था.

अगर आप सभी लोगों को पसंद आई और प्यार मिला, तो मैं अपने जीवन की बहुत सी घटनाओं को यहां लिखूंगा, जो कि बिल्कुल सच्चाई पर आधारित होंगी. इन सेक्स कहानी पढ़ कर मुझे बड़ी उत्तेजना होती है और अक्सर लंड को मुठ मार कर शांत करना पढ़ाता है. देसी हॉट गर्ल सेक्स कहानी दिल्ली में रहने वाली एक कुंवारी लड़की की पहली चुदाई की है.

उसके मैसेज के मुताबिक़ उसके मम्मी पापा शाम को शॉपिंग पर बाहर निकल गए.

तीन साल में पहली बार मैं और शरद एक दूसरे से इतने लंबे समय के लिए अलग रहे थे. चुत से लंड को जैसे ही बाहर निकाला, तो वो चूत के खून से और पानी से सना हुआ था.

बीएफ फिल्म खपाखप अशी को गमन के लंड को चूसते हुए इमेजिन करना, उसकी चुत में गमन का लंड जाते हुए सोच कर मेरे लंड में अलग ही तरंग उठने लगतीं और मैं बहुत उत्तेजित होकर मुठ मार लेता. अब ये बात साफ़ हो चुकी थी कि वो मेरे साथ लंड चुत गांड चुदाई का खेल खेलने को राजी थी.

बीएफ फिल्म खपाखप तभी हमारी सोच पर रोक लगाते हुए परेश की आवाज आई- आपको ऐतराज ना हो तो बगल के कंर्पाटमेंट में मेरी सीट है, आप वहां शिफ्ट हो सकते है क्या? हम फैमिली हैं … तो प्लीज़ हमें सहयोग कीजिएगा. भरे हुए गाल थे भाभी के … इसके साथ ही 42 साइज की उनकी मोटी मोटी चूचियां थीं, जो देखते ही ऐसा आभास कराती थीं मानो उनके ब्लाउज को फाड़कर अभी ही बाहर निकल आएंगी.

लेकिन मुझे अभी भी यकीन नहीं है क्योंकि तुम इतनी खूबसूरत और इतनी हॉट हो … तो कोई ना कोई तुम्हारे पीछे पड़ा ज़रूर होगा.

अमीषा पटेल सेक्स वीडियो

मेरा पल्लू कब का नीचे गिर चुका था और अब तो मेरा ब्लाउज भी शरद ने उतार कर जमीन पर फेंक दिया था. उसने दो मिनट तक मेरी तरफ देखा और जब उसे लगा कि मैं नींद में ऐसा कर रहा हूँ, तो उसने भी धीरे से अपना एक हाथ अपनी चूत के अन्दर कर लिया. वो बदस्तूर अपनी मौसी की ओर देखते हुए बोली- आपसे ये उम्मीद नहीं था मौसी … क्योंकि मैं आपको अपने दुख सुख का साथी समझती थी.

शबाना चोकर भर रही थी तो मैंने कहा- शबाना तुम्हारे हाथ बहुत खूबसूरत हैं, जुम्मन बड़ा किस्मत वाला है जो तुम्हारे जैसी खूबसूरत औरत उसे मिली. बहुत देर तक मैं अर्शिया की चुत चोदता रहा, अर्शिया भी गांड को हिला हिला कर अपनी चुत चुदवा रही थी. मैं अंकल आंटी के घर में अपने घर की तरह ही रहता था, वो दोनों भी मुझे बहुत प्यार करते थे.

कभी अंकल जी मेरे ऊपर चढ़ कर मुझे चोदते तो कभी कभी गोद में लेकर, कभी डॉगी स्टाइल में चोदने लगते.

उसकी चूत पर बहुत सारा साबुन लगा कर एक उंगली सटाक से आधी उसकी चूत में सरका दी. वो अपना पल्लू कुछ इस तरह से सैट करती हुई … जिससे उनकी चूचियों के दीदार मुझे होते रहें, बोलीं- हम लोग खुले विचार वाले हैं. मैंने कहा कि ये सब श्रेया ने तुमको बताया!उसने कहा- मैंने सब अपने तरीके से पूछा था … तो उसने मुझे सब बता दिया.

[emailprotected]यंग सिस्टर सेक्स कहानी का अगला भाग:अपनी सगी जवान बहन की चूत चुदाई- 2. मैंने कहा- इतनी जल्दी क्या है हनी!मैंने झट से मेरी पोजीशन चेंज कर ली और उसकी चुत की ओर अपना मुँह लेकर आ गया. मैं मस्ती से आंटी के एक निप्पल को पी रहा था … और दूसरे दूध को मसल रहा था.

अर्शिया अपने मुँह से एकदम धीमी आवाज में कामुक सिसकारियां निकाल रही थी- आअह्ह् … आआअ ह्ह्ह … भैया आराम से करो … आअ ह्ह्हह. फिर हम दोनों ने नेट पर एक सुहागरात वाली सेक्सी मूवी लगाकर मोबाइल में चालू कर दी.

मैंने अपना बैग पैक किया और चलने को हुआ, तो मैडम ने कहा- कुछ घास एडवांस में भी चलेगी?मैंने हंस कर उनके उठे हुए मम्मों को देखा और कहा- जी नहीं मैडम, मैं पूरी घास एक बार में ही खाऊंगा. उन्होंने बड़बड़ाते हुए कहा- ओह युवराज … यू आर सो गुड, कम ऑन मुझे और गीला कर दो. जहां पहले छोटा सा छेद भी नजर नहीं आ रहा था, अब वहां पर आराम से उसकी चूत का छेद बड़ा सा दिख रहा था.

जैसे ही हमारी नजरें मिलीं, वो मुस्कराया और बदले में मैं भी हल्की सी मुस्कुरा दी.

मेरी बस ये ख्वाहिश है कि एक बार तुम्हें जी भर के प्यार करना चाहता हूँ. नवीन- हां साली रंडी … तुझे पेल कर चोदूंगा … आह तेरी चुत में बहुत चुल्ल थी न चुदने की … आह ले साली मादरचोद मेरी पर्सनल रंडी … ले लौड़ा खा. कुछ देर बाद मैंने भी अपना सारा माल उनकी चूत में छोड़ दिया और निढाल होकर उन पर ही लेट गया.

जैसे ही मैं उसके आगे से मुड़ी, तो अचानक से चिकनी हो चुकी मिट्टी में मेरा पैर फिसल गया. मैं उन्हें देख कर रुका और उनसे पूछा- आपको क्या चाहिए … आप मुझको पिछले कुछ दिनों से देख रहे हो.

अब डायरेक्टर ने रश्मि को कुतिया बना दिया और पीछे से उसकी चुत में लंड रगड़ने लगा. मैं वापस रूम के अन्दर आ गया और चुपचाप उस कच्ची उम्र की प्यास को देखने लगा. वो एक ही झटके में नीचे गिर गईं और दर्द से कराहने लगीं … मुझ पर गुस्सा होने लगीं.

अंग्रेजी सेक्सी ब्लू

दस मिनट से कम समय में हम दोनों नंगे होकर एक दूसरे गुत्थम गुत्था थे.

मैंने कहा- क्या काम था तुझे?वो बोली- अंदर आकर बैठ तो सही, बताती हूं. मैं उनकी बात को मजाक में लेने लगा- क्यों मजाक कर रही हो मुंतजिर मैडम?उन्होंने मुझसे बोला- आपको मजाक लग रहा है!मैं चुप होकर उनकी तरफ देखने लगा. उसने मुझे कॉल किया और मुझसे पूछा- तुम कहां हो?मैंने बोला- क्यों अभी बताया तो था!वो बोली- मैं तुम्हारे रूम पर हूँ और इधर तो ताला लगा है.

मैंने मैम को ऐसे ही अन्दर धक्का दिया और उनको बांहों में थामे गर्दन को चूमते हुए अन्दर ले गया. तभी हमारी सोच पर रोक लगाते हुए परेश की आवाज आई- आपको ऐतराज ना हो तो बगल के कंर्पाटमेंट में मेरी सीट है, आप वहां शिफ्ट हो सकते है क्या? हम फैमिली हैं … तो प्लीज़ हमें सहयोग कीजिएगा. शादी में पहनने वाले गाउनफिर वो गांड हिलाती हुई पलट गई और दोस्त के लंड के ऊपर आकर अपने हाथ से लंड को गांड पर सैट करके धच्च से बैठ गयी.

यह सेक्स कहानी मेरी और मेरी एक गर्लफ्रेंड की है जिससे मैं बचपन से प्यार करता आ रहा हूँ. फिर एक दिन मैं शाम को छत पर टहल रही थी तो मुझे दीदी की किसी से फ़ोन पर बात करने की आवाज़ आ रही थी.

कुछ देर बाद जब मौसी से रहा नहीं गया तो उन्होंने कहा- जल्दी से अन्दर बाहर कर दे … कोई आ जाएगा, तो मजा किरकिरा हो जाएगा. सिर्फ उसकी आंखें और हल्की सी मुस्कान मेरे सामने थी जिसके जवाब में मैं उस वक़्त पता नहीं क्यों … पर उसकी तरफ देख कर मुस्कुरा दी. अब से मैं तुम्हारे साथ ही सेक्स करूंगी और तुमसे ही अपना बच्चा पैदा करूंगी.

कुछ देर बाद मैंने लंड निकाल लिया और सरोज को घोड़ी बना कर उसकी गांड में बिना थूक के झटके से लंड घुसा दिया. उसने मेरे मुँह में लंड घुसेड़ दिया और अपने लंड का सारा रस मेरे मुँह में निकाल दिया. अब दीदी के सेक्सी बदन का भार मेरे मुंह पर पड़ रहा था इसलिए दीदी अपनी गांड की गोलाईयों को गोल गोल घुमा कर मुझे अपनी चूत का रसपान करा रही थीं.

वो भीड़ के बहाने से तुरंत मेरे से चिपक गई और उसकी गांड ठीक मेरे लंड के ऊपर आ गई थी.

मैंने सोचा कि यही मौका सही है, जब मैं रितिका को पटाने की कोशिश कर सकता हूँ. मुझे महसूस हुआ कि कहीं मेरा निकल ना जाए तो मैंने अपने लंड को ऊपर तक ले जाकर फिर से ठांसा, तो नील के मुंह से ‘आहह आआआह …’ करके एक गहरी और लंबी सिसकी निकली.

कार्तिकेय- हैलो जानू … क्या कर रही हो!मैं- कुछ नहीं … बस तुम्हारे लंड का इंतजार कर रही हूँ. वो मेरी बीवी की चचेरी बहन थी, कुंवारी थी और अपनी पहली चुदाई का अनुभव लेना चाहती थी. निशा ने मुझे अपनी नशीली आंखों से देखा और अपने पतले और लाल होंठों से मेरे मुँह पर लगे उसकी चूत के रस को चाटने लगी.

नाज से पहले मैं पचासों झिल्लियां फाड़ चुका था लेकिन जो मजा आज आ रहा था, अद्भुत था. मैंने अपना लौड़ा मॉम की चूत पर सेट किया और पहली बार में एक जोरदार धक्का मारा. मैंने दूसरी आंख से उन्हें देखा तो वो मेरी तरफ अपनी साड़ी का पल्लू लेकर आने को हो रही थीं.

बीएफ फिल्म खपाखप मसल मसल कर उसके बोबे लाल हो गए थे, जो उसके गोरे बदन पर साफ नजर आ रहे थे. फिर मैं फ्रिज से बर्फ ले आया और रंगोली के माथे से उसे हल्के से छुआता गया.

मंगलसूत्र इमेज

मैंने उन्हें रोकने की कोशिश की, लेकिन उनके उस दोस्त ने मुझे बेड की तरफ धक्का दे दिया और मेरी गर्दन पर किस करने लगा. रात को मैं अपने रूम में नंगा ही बिस्तर पर लेटकर हमेशा की तरह चुदाई की कहानी पढ़कर मज़ा ले रहा था. सेक्स के लिए शादी थोड़ी करनी थी मुझे … इसलिए कामवाली बाई काम चलाने के लिए मिल गई.

उनके गीले बदन पर पेटीकोट चिपका हुआ था जिसमें से उनका बड़ा सा कूल्हे और बड़े बड़े चूचे साफ़ दिख रहे थे. अब शबाना नाज की चूत चाट रही थी, मैं शबाना को चोद रहा था और सांडे के तेल में डूबी ऊँगली मुमताज की चूत में चलाते हुए उसकी चूची चूस रहा था. पंजाबी कढ़ीउसने मेरे लंड के पास अपने नथुने लाकर एक लम्बी सांस खींची और होंठों से लंड को छुआ.

पर मैं भी फ्रेश हो गया और कोमल को इण्टरकॉम पर कॉल करके आगे का प्लान बनाने लगा.

उसके नंगे बदन को अपनी बांहों में भर लिया और बहुत ही कामुक तरीके से उसके पतले होंठों को चूसना शुरू कर दिया. अब से मैं तुम्हारे साथ ही सेक्स करूंगी और तुमसे ही अपना बच्चा पैदा करूंगी.

आह … क्या मस्त मजा आ रहा था … मुझे अपनी तपती चुत में मजा आने लगा था. डायरेक्टर ने उसके सारे कपड़े ड्राइवर के सामने खोले और चूचे दबाने लगा और लंड पेल कर दो चार मिनट में झड़ गया. मुंतज़िर- गुड मॉर्निंग फरमान कैसे हो!वो मुझे विश करके बातें करने लगीं.

दोस्तो, मेरी ये ब्रदर एंड सिस्टर सेक्सी स्टोरी आपको कैसी लग रही है … प्लीज़ मेल करना न भूलें.

इस चूमाचाटी के दौरान मैंने आंटी की गर्दन पर भी दांत के निशान बना दिए थे. अब मैं रोज रात को मम्मी और पापा की चुदाई देखने लग गयी और मेरा हाथ कब पता नहीं चूत पर जाने लग गया. थोड़ी देर उसकी चुत से खेलने के बाद मैंने अर्शिया की चड्डी को उसकी चुत के आगे से थोड़ा हटाया और एकदम मेरी नज़र उसकी चुत पर जा पड़ी.

गांड मार दोअक्सर आपने देखा होगा कि किसी इंसान से सामने बैठकर आप पूरी ज़िंदगी भर बात कर लेंगे, पर वही इंसान अगर आपसे कहीं बहुत दूर बैठा हो और आप दोनों के बीच संपर्क का माध्यम केवल टेलीफोन हो, तो एक समय के बाद बातें भी खत्म सी होने लगती हैं. मैंने कहा- देखा उठा लिया!वो हंस दी और मेरे लंड पर अपनी गांड घिसने लगी.

नंगी औरतों का डांस

साली साहिबा को मैंने एक मेज पर लिटाया और उसके मम्मों पर किस करके निप्पल को चूसने लगा. कुछ देर तक लंड चूसने के बाद मैंने उनको रोका- दीदी ऐसा मत करो, मैं झड़ जाऊंगा. तब तक वो मेरी गांड के पीछे से आकर मुझसे सट गए और उन्होंने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया.

मैंने अपना पूरा हाथ लिंग मुख पर फिराया और तौलिए जैसे उसके लिंग रस को पैंट के ऊपर से हाथ पर पौंछने लगी. मैंने पहली बार किसी लड़की को टू पीस में देखा था और उसके साथ नहाने को बेचैन हो रहा था. वो अपने हाथ से मेरे सर को पकड़ कर मुझे अपनी चुत पर दबाने लगी और चुत चाटने का इशारा देने लगी.

उसके मुँह से गुँ … गुँ … की आवाज़ निकलने लगी; साथ ही मोटे मोटे आंसू की लकीरें उसकी आंखों से निकलने लगीं. इस मुलाकात में मैंने एक बात पर गौर किया कि उसकी मम्मी मुझे छुप छुपकर बड़े ही सेक्सी अंदाज से देख रही थीं. अब आगे मेरी सेक्सी चुत चुदाई:कार्तिकेय ने कुछ ही दिनों में अपने दोस्त के कमरे का इंतजाम कर लिया था.

चल मादरचोद उल्टी लेट जा साली … तुझे भी मजा आएगा और मैं भी खुश हो जाऊंगा. उन्होंने कहा- कभी जरूरत नहीं होती है क्या?मैंने कहा- हां होती तो है … लेकिन क्या करूं!आंटी एक आंख दबा कर मुस्कुरा दी.

उसने उठ कर खुद को साफ किया और मेरा लंड भी बॉक्सर से साफ करके मेरे होंठों पर किस करके मेरी बांहों में लेट गयी.

मैंने शबाना की चोली की डोरी खींच कर उसकी चूचियां खोल दीं, उसे बेड पर लिटा दिया. डबल एक्स वीडियोमैम की गर्म सांसें उस मौसम में ब्लोअर का काम करने लगी थीं … या यूँ कह लो कि गर्म पानी या चाय से निकलती भाप का काम कर रही थीं. सेक्सी इंग्लिश पिक्चर बीपीथोड़ी देर में मेरे लंड से पिचकारी निकली और बाथरूम के फर्श पर गिर गयी. नंगे होने के बाद मैंने सरोज को लिटा दिया और उसकी टांगों को चौड़ा कर दिया.

इस समय मेरा लंड फूल कर उसकी पूरी चुत पर उसकी फांकों से भी मोटा हो रहा था … तो चुत में घुसना तो दूर, फांकों को अलग भी करना मुश्किल दिख रहा था.

उसने अपनी चूत साफ करते हुए ब्लड देखा और बोली- जीजू, साली आधी घरवाली होती है … आपने तो मुझे अपनी पूरी ही घरवाली बना लिया. वो धकापेल मचाए हुए बोल रहा था- साली मेरी बीवी मुझे मजा नहीं देती है इसलिए सेक्रेटरी रखता हूं. मेरी पिछली कहानी थी:ईमेल वाली गर्लफ्रेंड की चूत चुदाईमैं एक बार फिर से अपनी एक नई सेक्स कहानी के साथ हाजिर हूँ.

तभी मैंने एक नजर परेश पर मारी, तो वो मस्ती से सीन देख कर लंड हिला रहा था. मुझे जो कोई भी मर्द एक बार देख लेता है, तो उसका उसी समय मुझे चोदने का मन होने लगता है. मैंने पूरा लंड उसके मुँह मैं घुसा देना चाहा, पर वो उसके गले से टकरा जाता और वो घबरा कर लंड बाहर निकाल देती.

चामुंडा मां

और सुमन चिल्लाने लगी- ऊईई ईईई ऊई मम्मी बचाओ मर गई बचाओ!मैंने लंड को ढीला छोड़ दिया और उसकी चूचियों को मसलने लगा. जब मैंने भाभी की चुत में तेज तेज उंगली करना शुरू की तो शीना भाभी आंख बंद करके मचलने लगी. उनकी साड़ी ऊपर करके उनकी पैंटी नीचे सरका दी और अपना लवड़ा दीदी की बुर में पेल दिया.

उसने मुझे बैठने का इशारा किया, अब मैं उनके स्तनों को अपने मुँह में लिए था.

उसका नाम असीम है और वो हमारे ही मकान के पीछे सर्वेंट क्वार्टर में रहता है.

थोड़ी देर चूमने के बाद मैंने उसे जल्दी से पलटा दिया और मैं उसके ऊपर आकर उसे चूमने लगा. वो अपनी प्लानिंग के अनुसार दिल्ली आ गए और उन्होंने एक होटल में रूम बुक कर लिया. सुहागरात की चुदाई दिखाओएक मिनट से भी कम समय में हम दोनों बेड पर लेट गए और एक-दूसरे को चाटना चूसना शुरू कर दिया.

उनकी उम्र 40 साल की थी, पर उनके 34 के दूध इतने मस्त उठे हुए थे कि लंड की क्या औकात जो उनको खड़े होकर सलामी न दे. भाभी मेरे सीने पर नंगी पड़ी अपनी धौंकनी सी चलती साँसों को स्थिर करने की कोशिश कर रही थीं. लेकिन अंकल ने मम्मी को इस तरह पकड़ कर रखा था जैसे कोई शेर अपने शिकार को जकड़ लेता है.

दूसरी बार आप कब चुद गईं … बताओ न!तब दीदी बोलीं- रात में 2 बजे के बाद मैं विक्की से चुदी थी. वो जब भी मुझे देखता था, तो मैं उसे अपनी नशीली आंखों से देख कर एक कातिल सा इशारा कर देती थी.

सेक्स कहानी में आगे बताने से पहले मैं अपने फ्लैट पार्टनर के बारे में बता दूं, जो कि मेरे ऑफिस में साथ काम करता है.

मैंने शुरू में तो उनसे मैडम ही बोला, फिर एक दो बार उनका नाम भी लिया. अपनी बहन को अपने दोस्त से चुदते हुए देखने से मेरा काम तमाम हो गया था. उसने मेरी गांड भी दबा दी जिससे मेरी सिसकरी निकल गयी ‘अअअह …’वो थोड़ा पीछे को हटा और बोला- तुम्हारी कमर में नहीं … गुदा में दर्द है क्या!मैंने कहा- नहीं … उसे तो आपने मसल दिया था इसलिए आवाज निकली थी.

सेक्सी वीडियो मोनालिसा का मैं सोचने लगा कि अब तो बीवी साहिबा के साथ बोर हो चुका हूं, अब मजा तो इसी की मारने में आएगा. कुछ देर बाद मैंने लंड गांड से निकाल लिया और सरोज को घोड़ी बना कर गांड चोदना शुरू कर दिया.

मैं- निशा, जब हम ये सब कर ही रहे हैं तो तू बिना झिझक के इस रोमांस के मजे ले. दोस्तो, मैं मानसी रावत एक बार फिर से अपनी चुदाई की कहानी में आपका स्वागत करती हूँ. पर इस बार मैंने उन्हें रोक दिया- सर आपको पता है ना, हम क्या करने जा रहे हैं.

सेक्सी वीडियो कोरोना

मैंने अपना लंड उनकी चूत में आगे पीछे किया और तेज तेज धक्के लगाने लगा. क्योंकि हमें फोरप्ले करते हुए काफी टाइम हो चुका था और आज लौड़ा भी ज्यादा फुंफकार इसलिए मार रहा था कि मेरे जीवन में यह पहला मौका था जिसमें मुझे इतनी कमसिन लौंडिया चोदने को मिलने वाली थी. मैं पलटा, तो आंटी पूरी तरह नंगी थीं और वो मेरे हाथ को पकड़कर मुझे अपनी तरफ खींच रही थीं.

वो भी मुझे कभी एक चूसने को दे देतीं, तो कभी दूसरी चूची चुसवाने लगतीं. मैंने देखा कि मॉम एक खीरे पर कॉन्डम चढ़ाकर अपनी चूत पर अंदर बाहर कर रही थी.

उधर से उन्होंने अपने घर में फोन कर दिया कि मेरी ट्रेन छूट गई थी और मैं अब बाद में आऊंगी.

दो मिनट बाद ही मैं कोई गाना गुनगुनाता हुआ अन्दर आने लगा ताकि उसको अहसास हो जाए कि मैं आ रहा हूँ. मैंने सरोज से बोला कि अपना वादा याद है ना!वो बोली- जाटनी की जुबाण है … आज की रात तू मेरी अम्मा की तीसरी बेटी को भी चोदेगा. जब भी मैं जांघ को चाटते हुए चुत के पास पहुंचता, वो गांड उठा कर चुत को मेरे मुँह में में देने को कोशिश करती.

दो शायद उनकी सास थीं और एक नई नवेली दुल्हन जैसी ही थी, उसकी उम्र करीब 25-26 साल की थी. कभी वो मुझे अपने घर में बुला लेती है … कभी वो खुद मेरे रूम में आ जाती है. मैडम ने मुस्कुरा कर हां कर दी और बोलीं- क्या मुझे कुछ तैयारी करनी होगी?मैंने कहा- आपको तैयारी करने की क्या जरूरत है.

क्योंकि पूरी गाँव में मेरा दबदबा था, हर कोई मेरे अहसान तले दबा हुआ था.

बीएफ फिल्म खपाखप: फिर डायरेक्टर रश्मि के ऊपर चढ़ कर उसके बोबों में लंड रगड़ने लगा और उसके सिर की तरफ़ से कैमरा लिए राजू ने मेरी बीवी के मुँह में लंड दे दिया. क्योंकि जिस पल ये हुआ, वो बस कुछ सेकंड का था … पर इतना मधुरम था कि सोचने समझने की क्षमता समाप्त सी हो गई थी.

मैंने उससे कहा- इसे अपने मुँह में लेकर गीला कर दो ताकि आसानी से चला जाये. रोशन पूरी तरह नंगी हो गई थी और बड़े ही मज़े से सोढ़ी का लंड अपनी गांड में अन्दर बाहर करवा रही थी. वो शर्म से कुछ नहीं कह पा रही थी क्योंकि मैं उसके पति की बुराई जो कर रहा था.

वो कुछ देर तक सरिता भाभी को चिपकाए रखना चाहता था, पर उसने अपने आप पर संयम रखा.

सरिता भाभी ने अपनी नाइटी के उस भाग में, जहां चुचियां थीं, वहां थोड़ा पानी भी डाल दिया, जिससे उसकी रसभरी चुचियां साफ साफ दिखाई दें. वो तो अब इतना बिंदास हो गया था कि भरी क्लास में सबके सामने मेरी चूचियां दबा देता और मेरे गाल काट लेता. नमस्कार दोस्तो, उम्मीद करता हूँ कि सभी मर्दों के लंड खड़े होंगे और लड़कियां, भाभियां और आंटियां अपनी गीली चूत में उंगली डालकर इस रेल सेक्स कहानी का मजा लेंगी.