ससुर बहू की चुदाई वाली बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी सेक्स फुक्किंग वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ वीडियो का फोटो: ससुर बहू की चुदाई वाली बीएफ, दीदी बोली- तुमने मेरे सारे कपड़े उतार दिये लेकिन अपने कपड़े नहीं उतारे.

इंग्लिश सेक्सी एक्स एक्स एक्स

मैंने कहा- चलो अभी उसकी चूचियां दबाओ और उसे नंगी करो … मैं देखती हूँ कि तुम्हारे साथ कैसे नहीं करती. मारवाड़ी चुतवह हल्की सी मुस्कान के साथ मेरे गाल पर चुम्बन करते हुए बोली- कोई बात नहीं।तभी आयशा नीचे उतरने लगी तो मैंने पूछा- कहाँ जा रही हो?वो मुस्कराती हुई बोली- टायलेट जा रही हूँ, चलोगे क्या?मैंने भी तुरंत हाँ कर दी।तो आयशा बोली- नहीं, कोई देख लेगा.

मेरी उंगली लेने में स्वीटी को दिक्कत हुई … उसकी चीख निकल गई उम्म्ह… अहह… हय… याह… मतलब स्वीटी पहली बार चुदने जा रही थी, वो बिल्कुल सीलपैक माल थी. ইন্ডিয়ান সেক্স ভিডিওअनामिका से मैंने कहा- क्या तुम मुझे अब भी याद करती हो?उसने कहा- जब तक तुमको देखा नहीं था, तब तक तो मुझे तुम्हारी कुछ भी याद नहीं आती थी.

मेरे भाई ने मेरी चूत पर अपनी जीभ लगा दी और मेरी चूत की फांकों में ऊपर से नीचे तक जीभ फेरते हुए चूत चाटने लगा.ससुर बहू की चुदाई वाली बीएफ: मेरी जीभ जो एक बार चलना शुरू हुई, तो कभी जीभ चूत के अन्दर जाती, तो कभी पुत्तियों पर चलती.

मैं- हां तभी तो जब तक पूरा चाटकर साफ नहीं कर लेता, तब तक तुम्हारी चूत को छोड़ता नहीं हूं.इसके बाद की और भी कहानियां हैं, अगर ये कहानी आपने पसंद की और मुझे मेल लिखे तो मैं आगे भी लिखती रहूँगी.

देसी सीएनएक्सएक्स - ससुर बहू की चुदाई वाली बीएफ

धक्के लगाने के लिए लंड को आगे पीछे करने की कोशिश करने लगा मगर लंड थोड़ा सा हिलकर रह जाता.इधर एक बात ध्यान देने योग्य थी कि उसे असहनीय पीड़ा हुई लेकिन उसने मुझे रुकने को नहीं कहा.

एक हम और एक शर्मा अंकल की फैमिली। शर्मा अंकल की बेटी की डेस्टिनेशन वेडिंग हो रही थी तो वो एक महीने के लिए शहर से बाहर गये हुए थे। ये बात मुझे पता थी। लेकिन शायद मेरी बहन को ये बात नहीं पता थी।पूरे फ्लोर पर मैं और मेरी नंगी बहन ही थे। मैंने सामान वहीं रखा. ससुर बहू की चुदाई वाली बीएफ मतलब अब वो तो मेरी बुर तो चाट ही रहे थे, साथ ही उनका लंड मेरे मुँह के आस पास था.

उन्होंने उस दिन हाथ में बेलन लिया हुआ था और उन्होंने उस बेलन को अपनी चुत पे सैट कर रखा था.

ससुर बहू की चुदाई वाली बीएफ?

भाई बोला- साली कुतिया तुझे आज मैं रंडी बना दूंगा और आज के बाद तू मेरी रखैल बन कर रहेगी. ग्रुप सेक्स की इस हॉट इन्सेस्ट स्टोरी में आपने पढ़ा कि मेरे सामने मेरी बीवी, बहन और मदमस्त साली तीनों नंगी थीं. ऊपर कमरे में जाने के थोड़ी देर बाद ही मेरा दोस्त अपनी गर्लफ्रेंड के रूम में चला गया.

पैंटी उतरते ही मेरी आंखों के सामने साफ गुलाबी बाल रहित चूत उभर कर आ गई. ये मेरी पहली कहानी है, इसलिए जो भी गलतियां दिखें, प्लीज़ उन्हें नजरअंदाज करते हुए माफ कर देना. वैसे तो उसकी उम्र अभी 18 की ही हुई थी लेकिन उसके चूचों का उभार बड़ी ही जल्दी खिलने लग गया.

इससे पहले मां कुछ कहती मैंने राहुल से कहा- राहुल, तू मां को घर छोड़ कर आ जा, हम तब तक यहीं रुकते हैं. मौसी की हल्की सी आह तो निकली, पर इस बार उन्हें ज्यादा फर्क नहीं पड़ा. मैंने कहा- चलो अभी उसकी चूचियां दबाओ और उसे नंगी करो … मैं देखती हूँ कि तुम्हारे साथ कैसे नहीं करती.

अनुषी एकदम से गर्म हो गई थी और वो गांड उठाकर अपनी चुत को मेरे मुँह में घुसाने लगी. मैंने वसुन्धरा को ब्यूटी-पार्लर के गेट पर उतारा और उसको जैसे ही आप तैयार हो जायें, मुझे सैल पर कॉल कर दें, मैं आप को लेने आ जाऊंगा.

मैं टॉयलेट में जाकर पेशाब करने लगा और जब मैंने मूतने के बाद लंड को हिलाया तो लंड में हवस सी जाग उठी.

उसने अपनी एक टांग को मेरे दोनों टांगों के बीच फंसा कर दूसरी टांग को मेरी कमर पर चढ़ा दी.

(बोलो एक और मेरे मालिक, आग्रह करो मारने के लिए)उसने कांपते हुए दर्द भरी आवाज में कहा- यस्स … प्लीजज … वन्स हम्म वन्स मोर्रर्र … मास्टर (हां मेरे मालिक, कृपया एक और लगाएं)उसकी आवाज से जाहिर था कि उसे दर्द हो रहा था. मेरे पास एक पुरानी साइकिल थी स्कूल जाने के लिए जो यदा कदा मुझे सताती रहती थी, कभी पंक्चर कभी पैडल टूटना कभी चैन टूट जाना कभी हैंडल ढीला; इन्हीं सब मुसीबतों से जूझते हुए मैंने स्कूल पास किया. मेरे भैया का एक दोस्त है जिसके बारे में यह कहानी में आपको बताना चाहती हूँ.

काजल अपनी नशीली आंखों से खुद की चुदाई होते देख रही थी और वो अपने मुँह से तेज़ तेज़ सिसकारी निकाल रही थी- अह्ह्ह … ओह्ह्ह मेरे राजा … चोद दे अपनी रानी को … अह्ह्ह्ह ओह्ह शह्ह्ह … और तेज़ धक्के मारो न … तेरी रानी की चूत में बड़ी खुजली है … अह्ह्ह … निकाल दे अपनी रानी की चूत का पूरा पानी … आह मजा आ गया … आह. तभी आंटी मेरे लंड को छोड़ कर उठ गईं और अपनी साड़ी और पेटीकोट निकाल दिया. बेडरूम में जाके बुरका निकाल कर मैं पलंग पे लेट गयी और उसकी हरकतों को याद करके स्माइल करने लगी.

उसके निप्पल हिमालय की चोटी के जैसे नुकीले थे जिनको महेश ने अपने मुंह में भर लिया था.

मेरी उसे चोदने की इच्छा आज पूरी हो रही थी … इतनी जल्दी कैसे छोड़ देता. फिर घोड़ी पोजिशन में नम्रता खुद ही हो गयी और अपने कूल्हे को थपथपाते हुए बोली- राजा. फिर हमने एक रूम ले लिया, वहां जाकर मौसी बिस्तर पे बैठ कर बोलीं- तू कुछ खाने के लिए ले आ.

इस आवाज को रोकने के लिए उसने अपने एक हाथ को पीछे अपने चूतड़ों पर लगा लिया जिससे उसकी चूत थोड़ा और आगे आ गई. मैंने अपनी गीली उंगलियों को नम्रता के नथुनों के पास किया और उसको सूंघाते हुए उंगलियों को चाटने लगा. जब वो अच्छे से पाद चुकी, तो मुझसे बोली- मेरे पादने का तुम बुरा तो नहीं माने न?मैं- नहीं मैं क्यों बुरा मानूंगा.

उसने मुझे किस करने के बाद मेरी सलवार का नाड़ा खोल दिया और मैं पेंटी में रह गयी.

मुझे नहीं पता वो दोनों कब से इस तरह एक-दूसरे की प्यास बुझा रहे थे लेकिन दोनों के अंदर सेक्स जैसे कूट-कूट कर भरा हुआ है. जो बात मैं आपको बताने जा रहा हूं वह बात करीब 7-8 महीने पहले की है।उस दिन रविवार था तो जॉब से मानसी की छुट्टी थी। सुबह मैं मानसी से पहले उठ गया और तैयार होकर बैठा था। उस दिन मैं कुछ ज्यादा ही जल्दी उठ गया था.

ससुर बहू की चुदाई वाली बीएफ आह्ह … जीजू … आपका लंड कितना मस्त है … दीदी तो बहुत किस्मत वाली है … ओह … और जोर से करो जीजू … आपके लंड को लेकर तो मेरी चुदास बढ़ती ही जा रही है. उसके सीधा होते ही मैंने उसकी एक चूची के निप्पल को मुंह में भर कर गप्प से अंदर ले लिया.

ससुर बहू की चुदाई वाली बीएफ खाना खत्म करते ही उसने मेरे होंठों पे होंठों जड़ दिए और किस करने लगी. ये आवाजें मुझे और भी ज्यादा उत्तेजित कर रहीं थीं।रेलगाड़ी अपनी पूर्ण रफ्तार से चल रही थी और मैं भी उतनी ही रफ्तार से चोद रहा था। फिर करीब 4-5 मिनट बाद उसे खड़ा करके उसका एक पैर वाशबेसिन पर रख दी और खड़े होकर चुदाई करने लगे।और कुछ ही देर बाद आयशा की चूत ने पानी छोड़ दिया, वो बोली- अब बस करो, मैं थक गयी हूँ.

उसे दर्द हुआ। लेकिन वो कुछ नहीं बोली।लौड़े को अंदर उसकी चूत में घुसाने के बाद मैंने उसकी चूत को पेलना शुरू कर दिया.

कामसूत्र फिल्म सेक्सी

परंतु अब मेरी शादी होने वाली है, तो क्या सुहागरात के दिन मेरे पति को पता चल जायेगा कि मेरा योनि भेदन हो चुका है. सायमा का पति किसी प्राइवेट कम्पनी में काम करता था।उसका घर कुछ ऐसे बना हुआ था कि सायमा का रूम मेरे रूम से साफ़ नज़र आता था। एक दिन सायमा के रूम का दरवाज़ा खुला था. अब मुझे इस चुदाई में बहुत मजा आ रहा था और मैं नीचे से अपनी गांड उठा उठा कर भाई का मूसल अपनी चूत में ले रही थी.

उसके चूचों को मुंह में लेकर में चूसने लगा और उसके निप्पलों को पीने लगा. आप सभी तो जानते ही हैं कि एक शराबी पति के साथ पत्नी का कैसा रिश्ता होता है. एक गिलास मोसम्बी का रस और कुछ काजू, बादाम, पिस्ते और अखरोट एक तश्तरी में रखे थे.

तो जैसे कि आप लोग जानते हो कि उन औरतों ने मेरे कपड़े नहीं दिए और थोड़ी देर बाद मेरे मौसी के कपड़े भी उतरवा दिए.

वसुन्धरा का मुंह खुला और उसके मुंह से जोर से ‘आह’ की सिसकारी निकली और इसके साथ ही मेरी जीभ वसुन्धरा की पकड़ से छूट गयी. आंटी बोलीं- क्या हुआ?मैंने कहा- पहले अंकल को तो खुश कर दो … तब तक मेरा लंड ऐसे ही चूसो. मैंने घर में तमाम जरूरी जगह ताले लगा कर मेनगेट बंद किया और कार की ड्राइविंग सीट संभाली.

मुझे बहुत मज़े आ रहे थे, मैं चाहती थी कि बस वो दिन भर ऐसे ही करता रहे।फिर उसने मुझे उल्टा किया और मेरी गांड में अपनी मोटा लोड़ा घुसा दिया. वो शायद यह सब इसलिए करना चाहते थे क्योंकि उनको लग रहा था कि दीदी के साथ लाइव सेक्स दिखाकर वो मुझे भी फिर से सेक्स के लिए तैयार कर लेंगे. चूंकि मैं देखने में अच्छा था और मेरी बॉडी भी काफी फिट थी इसलिए लड़कियां जल्दी ही मुझे पसंद कर लेती थीं.

मैंने अपने लंड के सुपारे को उसकी गांड में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया, तो वो आहें भरने लगी. मेरे पूरे बदन को चूमने के बाद नीचे वाले लड़के ने मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया.

मैंने एक आंख से हल्का सा अंदर झांक कर देखा तो जो नज़ारा मुझे दिखा उसने मुझे सन्न कर दिया. अगर आप इस कहानी के बारे में कुछ भी बात करना चाहते हैं तो मेल करके जरूर बताएं. उससे रहा नहीं गया, वो मुँह पीछे करके मुझे किस करने की कोशिश करने लगी। मैंने पीछे से उसके बाल कस कर पकड़ कर उसके उसकी गर्दन सीधी की और आइस को उसके कंधों पर रगड़ने लगा। वो तिलमिलाने लगी.

जब सारा सुहागरात का पूरा किस्सा सुना चुकी तो ज़रीना कहने लगी- आमिर, आप बहुत अच्छे तरीके से चुदाई करते हो … आप तो इंगलैण्ड चले गए थे और आपने नूरी खला को बोला था आपकी कई गर्लफ्रेंड थी.

आपको बता दूँ कि वो दोनों इतनी हॉट हैं कि कोई भी उनको एक बार देखकर चोदने का जरूर सोचेगा. वो चुदास भरे स्वर में कहने लगी- आह … जान प्लीज़ लंड डाल दो, अब नहीं सहा जा रहा है. इसी समय दिमाग में थोड़ा मस्ती करने को सूझा … सोचा ज्यादा तो नहीं, पर थोड़ी देर के लिए मस्ती तो कर ही सकता हूँ.

टेबल पर रखे सामान की तरफ इशारा करते हुए मुझे नाश्ता करने के लिए कहा. अब हम दोनों को रोज फेसबुक पर और व्हाट्सैप पर घन्टों बात करते रहने की एक आदत सी पड़ गई थी.

दिलिया तेज़-तेज़ साँसें ले रही थी और पागलों की तरह मुझे चूम रही थी।मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया। अब दिलिया का खुद के ऊपर काबू नहीं रहा था, वो मेरे लोड़े को हिला के बोली- जल्दी से अपना हथियार डाल दो मेरे अंदर! अब मेरे से रहा नहीं जा रहा है. मैं भाभी को मनाने लगा- प्लीज़ भाभी, कुछ नहीं होगा, बस एक बार मार लेने दो. मैंने बोला- अरे यार तेरे पति क्या सोचेंगे?तो वो बोली- कुछ नहीं, मैं बात कर लूंगी … और आज रात का खाना तू मेरे घर पर ही खाना.

सेक्सी ब्लू वीडियो में हिंदी

कूलर को मैंने अपने कमरे में लगाने के लिए मानसी से पूछा तो वो बोली- ठीक है.

उसने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया और बोला- बंध्या, मेरी नज़र में तो तू दुनिया की सबसे मस्त आइटम है और दुनिया की सबसे चुदक्कड़ लड़की है. इस पर सारा बोली- इनसे क्या शर्म … ये सभी मेरी बहने हैं!और वो खुद तफसील से हमारी सुहागरात की पूरी दास्ताँ सुनाने लगी. वो दरवाजे छेद पर आंख लगाकर झुकी हुई थी और मैं उसकी गांड के छेद पर अपने लंड को लगाकर रगड़ने लगा.

अब मेरे दिल में हवस की जगह प्यार उमड़ रहा था। मैंने उसकी आंखों पर किस किया और अपने लण्ड के टोपे को उसकी चूत पर लगाया और उसकी आंखों में आँखें डाल कर देखने लगा. अब आगे:दोपहर का खाना खाकर काजल और दोनों माँ बेटी ने बाजार में जाकर शॉपिंग करने का प्लान बनाया. बंगाली चुदाई दिखाओजब वो नीचे झुकी तो उसके सूट के अंदर से मुझे उसकी सफेद ब्रा में पैक चूचे दिख गये.

चूत में लंड को लेकर भाभी को मजा आने लगा और वो मुझे प्यार करते हुए गर्दन पर चूमने लगी. मैंने पहले तो उसके चूचों को खूब चूसा और फिर मैं धीरे-धीरे किस करते हुए उसके नीचे की तरफ चला जहां पर उसके काले झाटों के बीच में उसकी चूत छिपी हुई थी.

इसके बाद रानी ने मुझे अपना स्वर्ण अमृत पिलाकर तृप्त किया और मैं मस्ती के समुद्र में गोते लगता हुआ घर चला गया. मैं लड़कियों, भाभियों, आंटियों मतलब सभी चुत की देवियों की चुत और गांड का गुलाम एक आंटी की चुदाई की कहानी सुनाने जा रहा हूँ. चूंकि मेरे अन्दर एक कमी कहिये या अच्छाई कहिये, वो ये कि मैं स्लिम फिट हूँ, ज्यादा मोटा नहीं हूँ.

मैं भी गांड उठा कर मादक सिसकारियां लेने लगी और वो मेरी चूत को चाटने लगा. उसके पास से जाने का मन तो मेरा था नहीं, पर क्या करते, जाना तो था ही. उनके एक खेल के अनुसार मुझे आंख पर पट्टी बाँध कर तीनों के बारी बारी से मम्मे मसल कर ये तय करना था कि पहले दूसरे तीसरे क्रम के अनुसार मैंने किस किस के मम्मे दबाए थे.

मैंने उसकी पूरी बॉडी को प्यार से देख रहा था, तो उसने शर्मा कर हाथों से चेहरा छिपा लिया.

बातें करते करते हम दोनों गर्लफ्रेंड ब्वॉयफ्रेंड के जैसी बातों पर आ गए. भाभी गांड उठाते हुए बोली- यार अब बर्दाश्त नहीं होता … मुझे और मत तड़पाओ … जल्दी से अपने लंड को मेरी चुत में डाल कर मुझे तृप्त कर दो.

ऊपर से मेरे मुंह में लंड अंदर-बाहर हो रहा था और नीचे से दूसरे लड़के की उंगलियाँ चूत में अंदर-बाहर जा रही थीं. वो अपने आप को नंगी देख कर घबरा गई और गुस्से से बोली- तू ये क्या कर रहा है मेरे साथ … तुझे शर्म नहीं आती क्या?मैं चुपचाप उसके सामने नंगा खड़ा हुआ था. अक्सर मैं पूरी नंगी हो जाती और पापा के उतारे हुए पसीने की गंध वाले कपड़े पहन कर रात में सोना मुझे बहुत भाता था.

हम अलग हुए और एक दूसरे की बांहों में आकर एक दूसरे के मुँह को चूसने लगे. अगले दिन रात को मैंने उनकी गांड भी मारी, जिसका मजा मैं बयान नहीं कर सकता. मैंने जब अपनी पैन्ट और चड्डी को हटा कर लंड को निकाला, तो मेरी बहन अपने भाई का लंड देखकर दंग रह गई.

ससुर बहू की चुदाई वाली बीएफ दिशा भी अब मेरे साथ चुदाई का मजा ले रही थी और मोन कर रही थी- आह आह ओह अआ अह आह ओह फक मी ओह जीजू!राधिका अपनी चूत में उंगली डाल कर बोली- वाह मेरे राजा … दो नई चूतें क्या दिला दीं, तुम तो अपनी बीवी को ही भूल गए. मैंने उसको पीछे से घोड़ी बनाके उसकी चुत में लंड पेला और चूत मारने लगा.

बीपी सेक्सी वीडियो बताइए

कुल मिलाकर कामुक पुरुषों के लिए आँखें सेंकने वाली चीज हूं मैं!मैं विवाहिता हूं, दो बच्चे हैं दोनों अभी स्टूडेंट्स हैं, मेरे पति उच्च सरकारी सेवा में हैं और मैं स्वयं किसी बैंक में अधिकारी वर्ग में हूं. मुझे सॉफ्ट ड्रिंक्स या शरबत पसंद नहीं … सेहत के लिए बुरे होते हैं … और तुमको तो मुक्केबाज़ी भी करनी है इसलिए ताक़त वाली चीज़ें हैं सब … और हाँ अगर आँखें पूरी तरह से हरी न हुई हों तो मैगज़ीन गिर गयी है, उठा लो और मज़े से देखो अपनी फेवरिट हीरोइन को!” मैडम की मीठी आवाज़ सुन के यूँ लगता था जैसे दूर कहीं हल्के हल्के से घंटियां बज रही हों. राधिका समझ गई और वो घुटने के बल बैठ कर मेरा लोअर निकालकर लंड हाथ में लेकर कर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

मुझे कुछ अटपटा सा लगा, तो वह बोली- तू दोपहर में दरवाजा खुला रखना, मैं आ जाऊंगी. यह जगह सेफ नहीं लग रही है लेकिन आपकी ख़ुशी के कारण मैंने ऐसा किया है. वीडियो चुदाई वीडियो चुदाई वीडियोअगर तुम हमारा साथ दोगी तो हम तुम्हारे साथ कोई जबरदस्ती नहीं करेंगे.

वो मेरे से कस कर चिपकी हुई थी और मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत पर रगड़ रही थी.

भाभी ने मुझसे कहा- सूरज, दिखा तो सही अपना औजार … जरा मैं भी तो देखूं कि ये बार बार क्यों तेरे औजार को बहुत बड़ा कह रही है. तब भी भाभी को ये नहीं मालूम चल सका था कि मैं अपनी बीवी शालू की गांड में लंड पेल रहा था.

दीदी ने रेड कलर की ब्रा पहनी हुई थी जिसमें उसकी गोरी चूचियां फंसी हुई थी. फिर मैंने उसकी कच्छी थोड़ी सी नीचे सरका दी थी और उसको टेढ़ा लेटा दिया. मुझे नहीं पता काजल ने मेरी पैंट में तने हुए लंड को देखा या नहीं लेकिन मैं खुद ही अपने तनाव को अपने दूसरे हाथ से छिपाने की कोशिश करने लगा.

फिर बातों बातों में मैंने उससे पूछा- हिना जी, आपकी पुसी पर एक भी बाल नहीं है, क्या लगाती हो आप?तो वो बोली- पंकज जी, ये तो ऊपर वाले का उपहार है, जिसकी वजह से मेरी पुसी पर आज तक एक भी बाल नहीं आया … में कुछ लगाती भी नहीं हूँ, बस फेयर एंड लवली क्रीम लगाती हूँ.

उस दिन क्लास शुरू होते ही प्रिया मेरे पास आई और उसने अपनी नोटबुक में एक सवाल लिखा हुआ था. अब आगे:उत्तेजना के वश मैंने ये सब कर तो दिया था मगर मुझे अब अपने आप पर पछतावा सा हो रहा था कि मैंने ये क्या कर दिया. नम्रता बोली- यह क्या कर रहे हो यार?मैं- मजा ले रहा हूं और जब मजा लेना है, तो पूरा मजा लेना है.

मस्त चुदाई वाली वीडियोतीन बजे स्कूल की छुट्टी हुई तो मैं सीधे स्टाफ रूम में मैडम से कापियों वाला बंडल ले आया और उसको अपने साथ घर ले गया. मैं देव कुमार जयपुर राजस्थान से इस कामुक सेक्सी कहानियों के विश्वविख्यात अन्तर्वासनाx.

देसी पिक्चर ब्लू

कामिनी मेरी क्लाइंट से बात करने के बाद बहुत ही हॉट फील कर रही थी, लेकिन कुछ बोल नहीं रही थी. कुछ ही देर बाद मुझे लगा कि मैं झड़ जाऊंगा, तो मैंने उससे कहा- मेरा निकलने वाला है. नम्रता के ब्लाउज को मैंने बनियान की तरह ऊपर कर दिया, तो ब्लाउज में फंसी हुई उसकी चूचियां अपने तने हुए निप्पल के साथ बाहर आ गईं.

और वसुन्धरा जी! आप भी ध्यान रखना प्लीज़! हम घर नहीं गए, कोई कारण ही नहीं था घर जाने का. कुछ मिनट बाद दारू ने असर किया, तब तक उन दोनों के लंड भी अपने अपने छेदों में सैट हो चुके थे. मैं समझ गया कि तीर निशाने पर लगा है, इस बीच कोकाकोला की बोतल आधी हो गई थी.

वो एक बार तो थोड़ी सी उचक कर बेचैन हुई मगर मैंने अगले ही पल उसके होंठों को भी चूसना शुरू कर दिया. ऐसा मैंने पहले कभी नहीं किया था उसके साथ। वो छूटने की कोशिश करने लगी। वो तेज-तेज सिसकारियाँ ले रही थी. फिर वो झड़ गया और उसने कंडोम उतार फेंका और मेरे ऊपर लेटकर मेरे बूब्स चूसने लगा.

ताऊ जी बोले- हां, तुम्हारी चूत के लिए मेरा ये लंड भी काफी टाइम से तरस गया था. कुछ देर बाद उसने मेरी गांड में ही अपना वीर्य छोड़ दिया और मेरे ऊपर से उतर कर मेरे साइड में साथ लेट गया.

फिर सुमिना ने उसे अपने ऊपर से हटाते हुए उसको पीछे किया और वो अपने घुटनों पर आ गया.

जब निहारिका आई, तो मैंने उसको समझाया- निहारिका, जो रात को हुआ, मैं उसके बारे में कुछ नहीं बोलूंगी. সানি লিওনের এক্সमोनिका की चुत पहले ही गीली थी तो ज्यादा परेशानी नहीं हुई; लंड फिसलता हुआ अंदर घुस गया. सनी लियोन सनी लियोन सेक्सी वीडियोफिर मैंने काजल की नाभि के अन्दर मेरी जीभ घुसा कर उसकी नाभि की चुसाई करना चालू कर दी. हम दोनों खुले आसमान के नीचे दरी पर एक दूसरे से गुत्थम गुत्था हो गए.

मैंने उसकी गांड के छेद में जैल डाला और मेरे लंड पर भी तेल लगा कर उसको सीधे लेटा कर उसकी गांड के छेद पर लंड रख दिया.

मैंने उसकी जुल्फों को हटाते हुए कहा- कहां चल दीं जानेमन?मेरी नाक को दबाते हुए नम्रता बोली- फ्रेश होने जा रही हूं, उसके बाद तुम्हारे घर चलना है. बाप बोला- हां बेटी … उंगली से चुदवाकर अपना छेद फैलवा लो, जिससे जो लड़का तुम्हारी दीदी को चोदेगा, वह तुमको भी तेल लगाकर चोद देगा. जब मैं कौतूहल वश बेडरूम की तरफ मुड़ा, तो देखा कि भाभी कपड़े पहन रही थीं.

उसने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया और बोला- बंध्या, मेरी नज़र में तो तू दुनिया की सबसे मस्त आइटम है और दुनिया की सबसे चुदक्कड़ लड़की है. फिर भी मैंने कुछ नए गरबा और डांडिया स्टेप्स सीखने के लिए एक गरबा क्लास ज्वाइन कर लिया. दिन तो पूरा अच्छा था, लेकिन मैं रात में उससे एसएमएस से बात कर रहा था.

देसी आंटी का सेक्स

मेरी हालत देख वो बोला- मेमसाब, कोई परेशानी है तो बताइये, शायद मैं आपकी कोई मदद कर सकूँ!तो मैं बोली- मेरी कमर में बहुत दर्द है. सभी मदमस्त चूत़ों को मेरे सांवले लंड का गुलाबी सलाम और सभी पाठकों को मेरा नमस्कार. काफी देर तक उसकी गांड को चोदने के बाद मैंने उसकी गांड में अपना माल गिरा दिया और फिर हम दोनों भाई-बहन सो गये.

वह काम करने की हालत में नहीं थी तो हमने उसे अगले दिन सुबह आने के लिए कह दिया.

इस बारे में मैं आगे खुलासा करूंगा, आप मेरी कहानी पढ़ते रहिये और मजा लीजिये.

मैं मानती हूँ कि तेरे भैया अब मेरी चूत को शांत करना जरूरी नहीं समझते लेकिन मैं उनकी पत्नी हूँ और इस तरह से मैं तुम्हारे साथ कुछ नहीं करना चाहती. हम दोनों का पानी छूटने लगा और फिर वो अपने कपड़े पहन कर सो गई और मैं अपने घर आ गया. हिनदी बियफमैंने फिर अपने हाथों से उसकी चुत को खोलकर लंड को सैट करके फिर एक जोरदार झटका मारा.

वे मेरे घर आते, तो मैं कभी उनके सामने झुक कर झाड़ू लगाने लगती, कभी पौंछा लगाने लगती. उस दिन अंकल ने दवा खा कर मुझे लगातार एक घंटे तक चोदा, मेरी चूत अंकल के हाथ भर के लौड़े से चुद चुद करके सूज गई थी. रात को उसी की पायल की आवाज आती है और इसीलिये रात में कोई भी उस गौशाला में नहीं जाता।लेकिन मैं इन बातों को नहीं मानता था क्योंकि मैं शहर का रहने वाला लड़का था.

मगर फिर सोचा कि देखूं तो सही ये हरामी आखिर है कौन जिससे सुमिना अपनी चूत चुदवा रही है. उसके बाद आई होली, होली का दिन मेरी लाइफ का सबसे अच्छा दिन रहा या ये कहूँ कि उसकी लाइफ का सबसे बुरा दिन रहा.

तब भी मैंने उसकी तरफ सवालिया नजरों से देखा तो उसने मुझसे बोला- मैं तुमको पसंद करने लगा हूँ.

अब उन ठरकी अंकल ने मेरे होंठ चूसना चालू कर दिए ‘मूऊऊऊ … आआह … मुईई … उई … मूऊऊआ. मामी भी मुझे अपने मुँह से खाने का कौर खिला देतीं, तो मैंने उनके पूरे होंठों समेत निवाले को खाते हुए अपने होंठों से दबाए रहता. उसका मुँह चोदते चोदते, मैं उसके सूट के ऊपर से उसकी चूचियों को मसलने लगा.

देसी लड़की की चूत चुदाई जब तक मेरा पूरा वीर्य काजल के गले के नीचे नहीं उतर गया, तब तक मैंने अपना बेकाबू लंड काजल के मुँह से बाहर नहीं निकाला. पर कुछ में तो मेरे सुबुद्ध पाठकों के वाक़ई में लाज़बाब सुझाव थे या बहुत ही बुद्धिमत्तापूर्वक आलोचन.

मैंने अदिति को फोन किया और उससे पूछा कि वो कौन सी ट्रेन से आ रही है. मैंने वसुन्धरा को ब्यूटी-पार्लर के गेट पर उतारा और उसको जैसे ही आप तैयार हो जायें, मुझे सैल पर कॉल कर दें, मैं आप को लेने आ जाऊंगा. जब लड़की के शरीर में उभार आना शुरू होता है तब से ही उसको कुछ अजीब सा महसूस होने लगता है.

xxx बाप बेटी

सुमेर बोला- पहली बार कुंवारी लड़की की झिल्ली फट जाती है और थोड़ा बहुत खून निकलता है. कुछ देर के बाद मैंने उसके कंधे पर हाथ रख कर जैसे ही उसकी चुची के ऊपर रखा तो आतिशा बोली- नहीं भैया, ये ठीक नहीं है. अब हमने अपनी सेक्स स्थिति बदलने की सोची।वीणा ने अपनी गीली चूत में से सना हुआ मेरा लंड बाहर निकाला और कमरे की स्टडी टेबल पर अपने स्तनों को टिका दिया। वीणा अपने पांव पर खड़ी होकर अपने पूरे शरीर को टेबल पर लेटा चुकी थी.

अब आगे:जीजा का लंड मेरी चूत में अंदर-बाहर हो रहा था और मैं मस्ती से जीजा के लंड के साथ चुद रही थी. मैं क्या जवाब देती … मैंने लाज के मारे अपना मुंह हथेलियों में छिपा लिया.

वो ऐसे होंठ चूस रही थी जैसे उनको खा जायेगी। वो गले तक जीभ उतार कर होंठ चूस रही थी। वो मेरे ऊपर थी.

अब विक्की को मेरा सहारा मिल गया था, तो उसने निहारिका का लोअर उतार दिया. चाटो बॉस!! मजा आ रहा है … ओह्ह … ओह्ह्ह्ह” मैं अपनी गांड उठा उठाकर कह रही थी. फिर मैंने उससे बोलना ठीक समझा और एक दिन मैं उससे बात करने के लिए ऑफिस जल्दी आ गया.

मैंने भी पीछे से उसे पकड़ लिया और उसके बूब्स दबाते हुए उसकी गर्दन में किस करने लगा. मैं उससे कुछ बातचीत होने की उम्मीद कर रहा था किंतु उसने आज भी कुछ नहीं कहा. मैंने अंजलि के नंगे चिकने बदन के हर अंग को अच्छी तरह से मसला और उनको तेल पिलाया.

आस पास के इलाके में कौन सी लड़की का किसके साथ चक्कर चल रहा है … वगैरह वगैरह.

ससुर बहू की चुदाई वाली बीएफ: उन पर उसने सफेद रंग का दुपट्टा डाला हुआ था जो उसके गले पर वी-शेप बनाता हुआ उसके चूचों पर होता हुआ नीचे की तरफ नुकीला होकर उसके पेट तक पहुंच रहा था. माँ के चूचे अब मेरी आंखों के सामने पहली बार बिल्कुल नंगे हो चुके थे.

अब जब मुझसे रहा न गया तो मैं उठा और दबे पांव गौशाला की तरफ बढ़ने लगा ताकि किसी को शक न हो।मैं जैसे-जैसे गौशाला की तरफ बढ़ रहा था पायलों की आवाज बढ़ती जा रही थी. उसने कहा- अभी मेरा और मन है तेरी चुदाई करने का!मैंने उसे बताया- मन तो मेरा भी है … पर मेरे सास ससुर आ जायेंगे. उनके पीहर के परिवार में किसी की मृत्यु हो जाने के कारण आंटी भी बाहर चली गईं.

मैं जल्दी से उसके कमरे के पीछे के रास्ते से गया और हल्का सा धक्का देते ही दरवाजा खुल गया.

फोन रखते ही मैंने जीजा से कहा- जीजा अभी खेल खत्म मत करो, मैं अभी बहुत प्यासी हूं. मेरी 38 इंच की चूचियां हाहाकारी हो गई हैं, चिकनी कमर 30 की हो गई है और 42 इंच की गांड हो चुकी है. मैं काजल से चिपक गया और वापस उसकी एक चूची को मुँह में लेकर चूसने लगा.