कॉलेज वाली लड़कियों की बीएफ

छवि स्रोत,न्यू बीएफ सेक्सी मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी में बीएफ फिल्में: कॉलेज वाली लड़कियों की बीएफ, मन तो उससे चटवा कर साफ कराने का था लेकिन अभी उसका वक्त नहीं आया था.

बीएफ सेक्सी वीडियो इंडियन हिंदी

ठीक है आधे घंटे बाद मेरे लिखे पते पर पहुँच जाना, मैं भी घर पहुंच कर तैयारी करती हूँ. 2021 के बीएफ वीडियो मेंमैं- ठीक है दीदी, लेकिन एक बात तो बताओ ये आपने घर को फूलों से क्यों सजाया है?दीदी- वो तुझे कल पता चल जाएगा.

मेरी इंडियन सेक्स स्टोरी आपको कैसी लगी, मुझे मेल कर के ज़रूर बताए मुझे आपके मेल्स का इंतज़ार रहेगा. एक्स एक्स सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफउनके अंकल के घर में अंकल, आंटी और उनके दो बच्चे थे और उनका एक भाई भी उनके साथ रहता था.

मेरी ट्रू सेक्स स्टोरी पर अपने विचार मुझे अवश्य मेल करें![emailprotected].कॉलेज वाली लड़कियों की बीएफ: मैं उसका लंड चूसती रही और वो जोश में आकर आहें भरते हुए मेरे मम्मों को मसलता रहा.

वो मेरे बदन को नोंचने लगी और उसने अपनी टांगों को मेरी कमर के इर्द गिर्द कस लिया.अब मेरे मन में एक ही गाना बज रहा था, फिल्म बाजीराव मस्तानी के ‘आयत’ गीत का पैरोडी गीत ‘तेरा दूध पी लिया है, शरबत की तरह.

ब्लू फिल्म बीएफ ब्लू फिल्म सेक्सी - कॉलेज वाली लड़कियों की बीएफ

आज मुझे अपनी बेटी की कुँवारी गांड मारनी थी, इसका मैंने पिंकी से वादा किया था.लेकिन एक बार जय से चुदवाने के बाद मैं अपने आप को रोक नहीं पाई क्योंकि इसने मुझे बहुत ही अच्छी तरह से चोदा था.

माया ने अपने दूध सहलाते हुए अपना मुँह खोल दिया और उस्मान का लंड अपने गले तक जाता हुआ महसूस करने लगी. कॉलेज वाली लड़कियों की बीएफ कितना दम है मेरे लौड़े में!” कहते हुए अमित ने अपना लंड बाहर निकाल लिया और उस्मान को कुछ इशारा किया, जो माया नहीं देख पाई.

तुम बताओ, तुम कैसे हो?मैंने भी हंस कर कहा- मैं भी आपके ही जैसा ठीक हूँ.

कॉलेज वाली लड़कियों की बीएफ?

मैंने उस के लटकते संतरों को अपनी मुठ्ठियों में भींचा और धकापेल लंड पेलना जारी रखा. वो सीन के बारे में सोचते सोचते पता ही नहीं चला कि कब सुबह हो गई और मम्मी ने मुझे जगाया. हम लोग 69 की मशहूर पोजीशन में एक दूसरे को चाट कर समाप्त करने की नाकाम कोशिश करते करते दोनों चरम सुख को प्राप्त हो गए.

मैं जल्दी से उठकर बाथरूम चली गयी क्योंकि मुझे ज़ोर से सू सू आ चुकी थी, सू सू करने के लिए मैं नीचे बैठ गयी और ज़ोर लगाने लगी, सू सू के साथ मेरी गांड से बैंगन भी निकल गयी, जब मैंनेगांड में उंगलीडाली तो महसूस हुआ कि गांड का छेद पूरी तरह से गोलाई में खुल चुका था, अब मामा जी का लंड आसानी से जा सकता था. आज माया को अमित ने रंडी बना दिया था और वो जानता था कि अब वो जो चाहे माया से करवा सकता है. दिखने मैं अच्छा खासा में आज भी हूँ और तब तो मुझ पर नई नई जवानी का सरूर चढ़ा हुआ था.

जीजाजी ने बुआ को स्टोर रूम में जगह के बारे में बताया, बुआ स्टोर रूम में बिस्तर लगाकर खाना खाने चली गयी. मुझे सोता देख, मामी प्यार से मेरे सिर पर हाथ फेरती फेरती मेरे बगल में सोने का उपक्रम करने लगीं. मैं अपना लंड लिए … बस इंटरनेट के माध्यम से भाभियों और आंटियों से बात करते हुए अपना सपना पूरा करने की कोशिश कर रहा था.

मेरा भाई और बहन जो दोनों मुझ से छोटे हैं, दोनों मेरी मम्मी के साथ मामा जी के घर चले गए. मेरा दोस्त इमरान, जो मेरा रूममेट भी था, वो अपनी गर्लफ्रेंड से रात में जब गर्म गर्म बातें करता था तो वो बातें सुन कर मेरा लंड बार बार खड़ा हो जाता था.

शिवानी ने बाथ रूम में चूत को साफ़ किया और थोड़ा मुंह धो कर, क्रीम लगा कर दुबारा तैयार हो गई.

सामने का ये नजारा देखकर नवीन (शीला का पति) की हंसी छूटी- अरे यार, क्या तगड़ा है तुम्हारा लंड.

मेरी तो जैसे लॉटरी निकल गई हो, मैं बहुत खुश था कि ये तो अब मेरी है. रात के 11 बजे मम्मी बोलीं- माया, भाई की दवाई ला दो, हॉल में अलमारी में रखी है. मैंने एक बार फिर हिम्मत करके इशारा किया और इस बार इशारा करके मैं उठ कर बाहर निकल गया.

जब मैंने देखा तो मुझे 440 बोल्ट का झटका लग गया, मौसी नीचे कुछ भी नहीं पहने हुए थीं. वो बनावटी गुस्से में आकर मुझसे बोली कि चलो अब हटो, बहुत बातें हो गई. और कैसा सबक मिल गया उसको?फ्लॉरा- मुझे कुछ देर पहले पता चला संजय के बारे में.

मैं पूरे जोश में थी और मेरी जोश भरी सिसकारियां रूम में गूँज रही थीं.

रात को गोपाल चला गया तो मोना अब नीतू को गोपाल से चुदने के लिए मना रही थी. उनकी सांस उखड़ने लगी थी, तभी मामी ने 69 की स्थिति में आकर खेल का रुख बदल दिया. थोड़ी देर बाद चाचा और उनके दोस्त चुटकुले सुनाने लगे और सब हंसने लगे इधर चाचा अपना हाथ मेरी जाघों में चलाने लगे, मैं ब्लैक कलर का सूट पहने थी, सलवार के उपर से ही चाचा मेरी जांघों के बीच में मेरी चूत में कपड़े के ऊपर से ही उंगली करने लगे.

मम्मी चाचा को डांट रही थीं- देवर जी, तुम्हें इतना भी होश नहीं है कि कौन सी चीज कहां फेंकनी चाहिए, कल कंडोम वहीं पर पटक दिया जो धर्म को मिल गया था, यह तो शुक्र है कि वो मेरे पास ले आया, नहीं तो किसी को पता चल जाता तो क्या होता?चाचा बोले- भाभी मैंने तो ऊपर रखा था. इस दौरान संजय पूजा की गांड को हाथों से दबा कर मजा लेने लगा और पूजा भी उसके लंड को पकड़ कर दबाने लगी. रूपा ने जब 1-2 बार मुड़ के ज़रा नाराज़गी से उसे देखा तो उसने सोचा कि मैं जानबूझ के कुछ नहीं कर रहा तो भी ये औरत मुझ पे क्यों बिगड़ रही है? वो उस औरत को पीछे से देखने लगा.

मैं तो एकटक उसे ही देख रहा था कि कुछ ही देर में दूसरी परछाई भी आई और उसने कुछ खुसुर फुसर की सी आवाज में कहा- भाभी कहाँ हो?तो मुझे लगा कि यह तो मेरे चाचा की आवाज है.

थोड़ी देर तक मैं चाची की चूचियों को दबाता रहा और उनके गले और पीठ पर किस करता रहा. अब तो मैं अपनी बहन की चुदाई के सपने को किसी ना किसी तरह पूरा करने की कोशिश करने लगा.

कॉलेज वाली लड़कियों की बीएफ वैसे तो मैं रिच फैमिली से थी लेकिन मेरी मम्मी मुझे कभी आई फोन नहीं दिलाने वाली थीं. अब वे मेरा लंड सहलाने लगीं और मेरे मुँह को अपनी चूचियों में दबाने लगीं.

कॉलेज वाली लड़कियों की बीएफ मैंने भी देर ना करते हुए वैसलीन से उसकी गांड और अपने लंड की मालिश की. मुझे भी दर्द कम हुआ सा लगा तो मैंने अपनी गांड में उंगली डाल कर देखा.

मेरे देखते देखते आंटी ने अपने कपड़े उतारने शुरू किये और पूरी नंगी हो गई.

गोरा होने के उपाय लड़कों के लिए

मैं भी अपनी गुलाबी गर्म जीभ को उसके मुँह में डालकर चारों तरफ़ घुमाने लगी. दोस्तो, आप लोग तो जानते ही होंगें कि ऐसे नामों वाली लड़कियां कितनी सुन्दर और गोरी-चिट्टी होती हैं. वो इस सबसे कराह उठी और बोली- अब मैं केवल तुम्हारी हूँ तो थोड़ा आराम से करो ना.

पहले तो मैं सलमा की वजह से डर रही थी, पर सलमा खुद हम दोनों को आपस में उलझे देख कर उस अजनबी जवान के साथ लिपटी थी. दीदी संग चुदाई के बारे में सोचते ही मेरा लंड मेरी शेरवानी की पजामी में ही तम्बू बन गया था. एक रात जब मेरी आँख खुली तो भाभी रात को मेरी तरफ आकर भैया के ऊपर दूसरी टांग डाल कर सो रही थी। उनका एक पट नीचे मेरी तरफ था और गाण्ड आधी उघड़ी हुई थी। उस रात भाभी ने एक बहुत ही छोटा सा नाईट गाउन पहना था। उस गाउन के आगे के बटन खुले थे जिससे उनके मम्मे भी आधे बाहर निकले हुए थे.

चचाजान अपने सारे कपड़े उतारे बिल्कुल नंगे अपना तना हुआ मूसल लंड लिए हुए खड़े थे.

मैंने कहा- तुम ऐसे ही सोते हो क्या? तुम्हें शर्म नहीं आती?वो बोला- सॉरी भाभी गहरी नींद में सोने की वजह से अकसर मेरी लुंगी खुल कर इधर उधर हो जाती है. फिर वो बोली- क्या देख रहे हो?? मुझे चोदना नहीं चाहते क्या?फिर वो मेरा लंड पकड़ कर बोली- मेरी जान, आज ये लंड या लौड़ा, जो भी है मेरा है, मुझे ये लंड अभी मुँह में लेकर चूसना है. मुझे सोते वक्त किस करना, मेरे चूचों को दबाना और मेरी चूत पर हाथ फेरना.

सुबह अचानक ही गेट पर बजी घंटी के साथ नींद टूटी… उसने हाथ मार कर मुझे उठाया और मैं तुरंत ही टी-शर्ट और लोअर पहन कर दूसरी चारपाई पर जाकर लेट गया। रवि ने भी अपनी टी-शर्ट और लोअर डाली और उठ कर बाहर दरवाजे पर गया। गेट खोल कर देखा तो कोई लड़का गेट पर खड़ा था।लड़के ने कहा- अरै सीटू… खाड़़े मैं नहीं चालता के आज? (अखाड़़े में नहीं चल रहा क्या आज…)वो बोला- यार, मेरा एक दोस्त आया हुआ है. लगभग 15 मिनट के इस प्यार में पापा ने अपनी बेटी सुमन को एकदम नंगी कर दिया था और खुद के कपड़े भी निकाल दिए थे. यही सोचते हुए मैंने अपना लंड बहूरानी की चूत से सटाया और एकदम से पेल दिया लेकिन लंड फिसल गया, मैंने फिर से उसकी चूत के छेद पर लंड को बिठाया और धकिया दिया आगे.

किस करते करते उसका हाथ मेरे लंड पर चला गया। वो मेरी पैन्ट के बाहर से ही मेरे लंड को सहलाने लगी। मैं भी उसकी चूचियों को टच करने लगा। उसकी चूचियां काफी बड़ी बड़ी लग रही थी लेकिन दबाने में गुबारे की तरह नर्म लग रही थी. मैंने उससे ‘हाँ’ कह दिया- पर कोई प्राब्लम तो नहीं होगी, किसी को पता तो नहीं चलेगा?उसने कहा- डोंट वरी बेबी.

मैं नेहा दी को जोर जोर से चूमने लगा, दी की सांसें जोर से चलने लगीं और बीच बीच में वो मोनू आई लव यू. मैं उनकी रंडियों जैसी भाषा सुन कर समझ गया कि मेम को मुझसे चुदना है. वैसे पहले मुझे शक था कि शायद किसी और की बात होगी मगर जब हमारे कॉलेज का नाम सामने आया और हाँ इस केस के अलावा उस पर पहले से ही 2 केस हैं… किसी कॉलेज गर्ल को शराब पिला कर उसके साथ चोदन करने का मामला भी है.

फिर वो मेरे लंड को भी प्यार से अपने कंठ में अन्दर तक भर कर रखे हुए थी.

फिर यह प्रोग्राम कई दिनों तक चला, जब भी हमें मौका मिलता हम चुत चुदाई का खेल खेल लेते. मेरी चूत में से चिपचिपा सा पानी निकलने लगा और मेरी चूत में जलन होने लगी. लड़के ने उसके पैरों को फैला दिया, जिससे चूत के बीच की दरार दूर से दृष्टिगोचर हो रही थी.

क्या हुआ है तुझे?उसने मेरा हाथ झटका और एक जोरदार मुक्का मेरी छाती पर मार कर चली गई. नीता को और कस कर पकड़ कर एक हाथ मम्मों पे रख के दूसरे हाथ से नीता का नंगा पेट मसलते हुए पप्पू बोला- हा हा… अरे तेरी जैसी मस्त लड़की को छेड़ने के लिए ही एडमिशन लिया होगा उन्होंने.

मैं- आई वांट अ हग… अ टाइट हग!वो- तो आजा मेरा बच्चा…बस फिर हम दोनों ने गर्म आलिंगन किया, मैं अपना हाथ उसकी पीठ के ऊपर से घुमाते हुए उसकी गर्दन तक ले आया, अपने दाएं हाथ से उसका टॉप शोल्डर से सरकाया. मैंने अपने घर पर कहा और अगले दिन मैं यहाँ से दीदी के घर को निकल गया. थोड़ी देर बाद मेरा पूरा लंड उस की गांड में झड़ गया और पूरा माल उस की गांड में छूट गया.

अठरा वर्षे सेक्सी

वो मेरी पीछे से मेरी गर्दन को चूमे जा रहा था, मुझे उसकी तेज़ हो चुकी सांसों से बीयर की गंध आ रही थी लेकिन मजा भी आ रहा था.

मुझे बहन की चुत के अलावा कुछ भी नजर नहीं आ रही थी इसलिए चुत के मुँह को चौड़ा कर, लंड के टोपे को टिकाकर दबाव बनाया ही था कि बहन ने मुँह से लम्बी सांस लेते हुए गांड उछाल दी और अपनी चुत में मेरा पूरा लंड गटक लिया. मैं बहुत तेजी से रेखा की कुंवारी चूत चोद रहा था और उंगली से पिंकी की चूत को चोद रहा था. मैं बोली- भाई आपक़े सूसू के ऊपर में दवा लगा दूँ, फिर मुझे आप लगा देंगे ना.

मैंने अपनी उंगली से चाची की गांड के छेद के चारों तरफ और गांड में उंगली डालकर अन्दर तक क्रीम लगा दी. किसी ने मुझे थोड़ा आगे खींचा और झट सेमेरी गांड में अपना लंड डाल दिया।तभी रिया चिल्लाई- निकी, साले हरामी है रे ये लोग. भोजपुरी बीएफ सेक्सी भोजपुरी बीएफ सेक्सबुआजी के पास में सोए होने की वजह से वह अपनी सिसकारियों और अपनी साँसों को दबाने की कोशिश करने लगी.

अब तुझसे चुदवाना है तो पूरा दिल खोल के चुदवा लूँगी, उसमें मेरा ब्लाउज फटे या बाकी कपड़े गंदे हों तो भी कोई बात नहीं, मैं कुछ नहीं कहूँगी पर साले अब मेरी चूत को बराबर सहला. सामने से आती हुई गाड़ी की रोशनी में चाचाजी अपनी हवसी नजरों से मुझे घूर रहे थे.

कुछ देर तक भाभी ने मेरी मर्दानगी को निहारा और अपने गालों पर हाथ रख कर हैरत जताई. फिर राहुल ने मेरी गांड मारी और फिर दोनों ने मुझे गोद में लेकर एक साथ मेरी चुत और गांड मारी. साथ ही एक हाथ से उसकी चुत सहलाता और कभी उंगली को उसकी चुत में डाल देता.

शिवानी मेरे लौड़े को पकड़ कर जोर जोर से अपनी चूत के छेद और दाने पर रगड़ने लगी. मेरा दिल बहुत तेजी के साथ धड़कने लगा था और मेरी साँसें भी बहुत तेज चलने लगी थीं. ये तो ग़लत है मगर ऐसे तुम कब तक उनसे छुपते रहोगे? वो तुम दोनों को कभी भी पकड़ लेंगे?अतुल- नहीं.

आज भी जब मैं वो सब याद करता हूँ तो ‘फच फच…’ की वो आवाज़ मेरे कानों में गूंजती है.

उनकी सांस उखड़ने लगी थी, तभी मामी ने 69 की स्थिति में आकर खेल का रुख बदल दिया. मैंने शिवानी से उस की सेक्स लाइफ के बारे में पूछा तो बोली- आपने अभी तो मेरे हस्बैंड को देखा है, क्या वह मेरे लायक है?वह बोली- छोड़ो, इन लल्लुओं की बात मत करो.

फिर मैंने दीदी की चुत को चाटना शुरू किया, तो दीदी ने कहा- मेरे राजा. अब भाभी को भी चुत चुदाई का मजा आने लगा था, वो मेरा पूरा साथ दे रही थीं- आआहह. पप्पू का लंड नंगी नीता को देख कर और गर्म हो गया जिसे रूपा मस्ती से चूस रही थी.

जब वो सिर्फ ब्रा-पैंटी में रह गई तो मैं उसके पीछे आ कर उसकी ब्रा के हुक खोलने लगा, फिर ब्रा को उसके बदन से हटा कर पीछे से उसकी दोनों चुचियों को पकड़ कर दबाने लगा और उसकी गर्दन पे किस करने लगा. कुछ देर ऐसे ही लगातार चोदने के बाद मैंने मनोज को इशारा किया और मनोज और मैंने अपने अपने लंड बाहर निकाले और हमने दोनों लड़कियों को आमने सामने कर लिया. साली तूने खुद को इतना मेंटेंन कर रखा है जान, जिससे आज भी तू 30-32 साल की ही लगती है.

कॉलेज वाली लड़कियों की बीएफ मैं उसे बेड के एकदम नज़दीक ले आया, मेरी वाइफ ने अनजान बनते हुए पूछा- कहां चले गए थे? और अब ये लाइट बंद करो प्लीज़!मैंने कहा- करता हूँ यार… तुम बहुत मस्त लग रही हो, रोशनी में तुम्हें इस तरह पूरी नंगी देखने का मज़ा ही कुछ अलग ही है. उसने मेरे मुंह को हाथों से दबोच लिया और बोली- उंगली क्या गई तेरी चूत में… तेरी तो चीख निकल गई और आंसू बहा रही है, साली अभी तो ये उंगली भी लड़की की है.

सेक्सी फोटो नंगे फोटो

अरे एक ही चूत को चोदकर अगर तुम्हें कुछ अच्छा नहीं लग रहा तो मैं अपनी एक फ्रेंड को बुला लूँ?”मैं चौक गया. मैं सेक्स स्टोरी पढ़ते हुए कामोत्तेजित हो गई और अपने एक हाथ को चुत पर ले जाकर चुत सहलाने लगी, अपने हाथ को शलवार के अन्दर डाल कर चुत सहलाते हुए दाने को मसलने लगी. वो दोनों नहा कर नंगी ही बाहर आ गईं और बाबा की कामुक नज़र नीतू पर जम गई.

पानी में फिसल जाने से उनके घुटने में मोच आ गई थी, वो उठ नहीं पा रही थीं. कहो तो बात करवाऊं?” अंकल ने उस सतपाल नाम के पुलिस वाले के हाथ में कुछ पैसे रखते हुए कान में कहा. 2018 का सेक्सी बीएफऔर ऐसा कहते हुए रमेश ने भी अपना पैंट ऊपर से आधा खोल दिया, उसका फनफनाता हुआ लंड बाहर निकल गया.

पूरा हुस्न देख कर पप्पू बोला- क्या हुआ नीता? तुम क्यों इतनी ज़ोर से चिल्ला कर अपनी माँ को बुला रही हो?पप्पू को अपना भीगा जिस्म देखते देख कर नीता ज़रा शरमा कर कमरे में जा कर बोली- अंकल मम्मी कहाँ है? उसको कहो ना मेरे रूम में आएं.

धीरे धीरे तीर निशाने पर लगते देख मैंने कमरे में बैठ कर सेक्सी फिल्म देखने का आग्रह किया. मैं बाथरूम में गया तो मॉम की 38 इंच की चूचियां मेरे सामने थीं, मगर मॉम ने सलवार पहन रखी थी.

एक जवान मर्द के सामने नंगी होने के ख्याल से ही मैं सिहर गई थी। अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा थावो मेरे पूरे बदन से खेल रहे थे जिस भी हिस्से में उनका मन करता अपने होंठों से चूमने चाटने लगते, कभी मेरा चेहरा, गाल, कभी चूचियाँ, कभी पेट, जांघें, चूतड़, कमर गर्दन, बगलें!मैं पागल हुई जा रही थी… उफ क्या एहसास था. बाद में रोते हुए बोलने लगी कि मेरे शौहर ने इतने अच्छे से मुझे कभी नहीं चोदा. मेरी चुत ने भी अब जय के लंड से हार मान ली थी और अपना मुँह खोल कर उसके लंड को पूरा रास्ता दे दिया.

मुझ से मोबाइल लेकर स्क्रीन टच करने लगी, पर मेरे ऑफ़ करने के कारण ऑन करने के अलावा कुछ नहीं कर सकी.

हम क्या यहाँ बैठ कर मुठ मारेंगे?वीरू- यार मेरा भी मन पहले बरखा को चोदने का ही कर रहा है. उंगली से वो दाना दबा कर सिसकरियाँ भरती और दूसरे हाथ से मम्मे मसलती हुई आँखें बंद करके मस्ती कर रही थी. उसके बाद उन्होंने मुझे अपने साथ चलने को कहा, मैं उनकी गाड़ी में जा कर बैठ गई.

हिंदी बीएफ यारकुछ पल बाद मैं झड़ने वाला था और मामा को पता था कि जितना जोश में मैं हूँ उस हिसाब से मैं जल्द झड़ जाऊँगा. मैंने पूछा- क्यों … क्या भाभी को शादी के बाद कुंवारा लंड नहीं मिला था?आदमी ने हंस कर लिखा- हां मैंने शादी से सेक्स कर लिया था, इसलिए मेरी बीवी को कुंवारा लंड नहीं मिल सका था.

छोटी सरदानी

मैं बता देना चाहता हूँ कि मेरी दोनों मामियां आपस में सगी बहनें हैं. रूपा का पति सुबह जा कर रात में ही आता था और नीता का दोपहर का कालेज होता था इसलिए वो सुबह घर में ही रहती थी. जोशना ने वापस आकर चिल्लाते हुए कहा- दोबारा मेरे मुँह में झड़े तो फ़िर कभी नहीं चोदने दूँगी.

लड़के का नाम अतुल है उम्र 25 साल, दिखने में स्मार्ट है और लड़की का नाम बरखा है और इसकी उम्र 22 साल है. पायल की आज नाईट शिफ्ट है तो वो हॉस्पिटल चली गई है मुझे तुम्हें देखना है, तुम छत पर आओ. जब उसने रोना बंद किया, तब मैंने लंड एकदम धीरे धीरे आगे पीछे करना शुरू किया.

कुछ देर के बाद मैंने अपने धक्कों की स्पीड को बढ़ा दिया और अपने लंड से वंदिता की प्यारी सी चूत को तेज स्पीड में चोदने लगा. बहूरानी की चूत रस से सराबोर होकर बहने लगी थी, मैंने नेपकिन से उसकी चूत और अपने लंड को अच्छे से पोंछा और चूत में उंगली घुसा कर भीतर की चिकनाई निकाल कर अपने टोपे पर चुपड़ी और बहू को घोड़ी बना कर लंड को फिर से चूत के ठीये पर रख कर धकेल दिया. मैं बोला- चाची ये लड़कियों की नुन्नू कैसी होती है?चाची- सब मुझसे ही पूछेगा क्या? एक गर्लफ्रेंड बना ले, उसी से सब पूछ लेना और देख भी लेना.

मेरा लंड फिर खड़ा होने लगा, तो मैंने उसे चूसने को बोला और वो रजाई में घुस गई और लंड को मुँह में लेके चूसने लगी और एक हाथ से मेरी गोलियों के साथ खेलने लगी. उस के इन शब्दों को सुनकर मुझे तसल्ली हुई यानि कि कोई और औरत भी है, जो चुदना चाहती है.

मैं इतनी बेसब्री से तुझे ढूँढ रहा था और तू है कि ना मुझसे गले मिली.

साली शादी की तो एक ही चूत चोदने को मिलेगी लेकिन नहीं की तो तेरी जैसी मस्त गर्म चूत मिलेगी… और तू इस लौड़े से चुदवा कर तेरी सहेलियों को भी सुलायेगी मेरे नीचे… है ना?पप्पू की ज़िप खोल कर रूपा ने अपने दोनों पैर घुटनों में मोड़ लिए, जिससे उसकी साड़ी जाँघों से ऊपर खिंच गई और पप्पू को उसकी चूत दिखाई दी क्योंकि रूपा ने पेटीकोट के नीचे पैंटी ही नहीं पहनी थी. इंडियन सेक्सी बीएफ हिंदी मूवीखैर वो दोनों उठ कर नीचे चली गईं और मैं भी अपने घर के अन्दर चला आया. कुत्ता और लड़की का बीएफ फिल्म30 पर फोन आया, वो मुझसे बोली- मैं मेरा पता भेज रही हूँ, जल्दी घर चले आओ. इन रूम के चारों तरफ गलियारे में छोटे छोटे दीवार के पार्टीशन देकर रूम बनाए गए थे.

मैंने उसे शर्ट पहनाई और आखिरी बटन लगाने से पहले उसकी मर्दाना छाती पर एक किस की और हम वहाँ से बाहर निकल आए.

वैशाली ने कहा- हम ने आपको डिनर पर इन्वाइट किया है, ऐसे कैसे चले जाओगे?मैंने कहा- मैं तो डिनर 9 बजे करता हूँ, इतनी जल्दी कैसे करूँ, फिर आऊंगा. एक तरफ सीढ़िय़ाँ ऊपर की तरफ जा रही थीं और दूसरी तरफ एक रसोई बनी हुई थी. उसने कॅप्री और टी-शर्ट पहना हुआ था। टी-शर्ट में से उसकी मस्त रसीली चूचियाँ साफ़ साफ़ दिख रही थीं।उसने मुझे मुस्कुरा कर अन्दर बुलाया.

रविवार को दोपहर 11 बजे हम दोनों इन्दौर के सरवटे बस स्टैंड में एक दूसरे से मिले. ’मैं भाभी को अपनी तरफ़ घुमा कर सीधा किया और उनको दीवार से सटा कर उन के होंठ को चूसने लगा. मैंने झट से उनके बदन से उनकी टी-शर्ट को अलग कर दिया और अपनी टी-शर्ट को भी उतार दिया.

देसी जड़ी बूटी के नाम

तभी मूवी में एक सीन आया जिसमें लड़का बिल्कुल मेरी तरह एक लड़की की चूचियों की ओर देख रहा था. आहिस्ता-आहिस्ता वो मेरे ऊपर आ गई और मैं उसके गले को किस करता हुआ उसके मम्मों पर आ गया. तब तक मैं पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी इधर अंशुल ने मुझे भी उन लड़कियों के साथ एकदम से नंगी देखा तो उसने सबसे पहले अपनी शर्ट उतारी और फिर उसने अपनी पैन्ट उतारी.

उसके बाद उसने मेरे दोनों मम्मों को मसलते हुए अपने लंड के सुपारे को मेरी चुत पर रगड़ना शुरू कर दिया.

मैंने पूछा- ये ले सकोगी?वो बोली- हाँ… क्यों नहीं… जल्दी से डालो पापा.

मेरे दोनों हाथ अंजलि के चुचों पर थे और मेरा मुँह अंजलि की गर्दन पर टिका था. वो समझा कि ये साली गुजराती रूपाबेन को मज़ा आ रहा है, कुछ बोल ही नहीं रही है, देखें कब तक विरोध नहीं करती. बीएफ सेक्स वीडियो फुल मूवीउसके मजबूत हाथों का मेरे कोमल बदन पर करारा अहसास और उसके नर्म होठों से निकलती गर्म सांसें मेरे दिल और बदन के हर एक जख्म पर मलहम का काम कर रही थीं.

हम तीनों की जवानी एक साथ बरस रही थी, जवानी की इस बरसात में हमें बहुत मजा आ रहा था. मैंने उसको देख कर पक्का कर लिया कि आज तो पक्के में इसके साथ ही सुहागरात मनाऊंगा. उसने पहले भी मुझे ऑफिस में बताया था कि वो अपनी गर्लफ्रेंड को वीकेंड पे अपने रूम में लाता रहता है.

उसके दूधिया एक दम सुडौल गोल मम्मों को देखते ही मैं अपने होश खो बैठा. पप्पू अपनी जीभ रूपा के क्लीवेज पे घुमा कर पेटीकोट के नीचे हाथ डाल के एक हाथ से उसकी नंगी टाँगें सहलाते हुए और दूसरे हाथ से मम्मे ज़रा ज़ोर से मसलते हुए बोला- जल्दी तो नहीं रानी, बस तेरा गर्म और गोरा जिस्म नंगा देखने की ख्वाहिश है और कुछ नहीं.

उनकी बातें मुझे और उत्तेज़ित कर रही थीं, अब मुझसे रहा नहीं गया तो मैं बोल पड़ी- कमीनों जो करना है कर लो और ये पट्टी नहीं चाहिए मुझे.

एकाध मिनट की चुदाई के बाद बहूरानी की चूत रसीली हो उठी और लंड चूत में सटासट चलने लगा. जिसमें मैं पूरी ताकत से उनकी चुत में लंड पेल कर उन्हें चोद रहा था, वो भी पूरी स्पीड में. अब बाथरूम के दरवाजे से लॉक निकल जाने से उस छेद से बाथरूम के अन्दर का सीन दिखने लगा था.

देहाती गांव की लड़की की बीएफ मुझे देखते ही चाचाजी के चेहरे की रौनक बढ़ गईचाचाजी- जान, सानिया को क्यों साथ लाईं??मैं- अगर वो उठ जाती तो मेरे वहाँ न होने पर सब को जगा देती. जब तक नहीं मिला था तब तक मैं मोनिका की रोज कॉलेज से छुट्टी करता और घूमते इलाज ढूढ़ते.

गाड़ी की स्पीड बढ़ते ही मुझे ठंड लगने लगी, सो मैंने एक कम्बल को अपने ऊपर कंधों तक डाल लिया, जिसका एक सिरा चाचाजी ने अपने ऊपर डाल लिया. भाभी ने कहा- यार देखते ही रहोगे कि अन्दर भी आओगे, कोई देख लेगा जल्दी अन्दर आओ. अब सारे गोल घेरे बना कर खड़े हो गए और तीनों लौंडियां उनके बीच घुटनों के बल बैठ कर बारी-बारी से उन सभी के लंड चूस रही थीं और आहें भर रही थीं.

नवीन नाम के लड़के कैसे होते हैं

उसकी दर्द व आनन्द से मिश्रित कराहें, सिसकारियाँ निकाल रही थी- उम्माह… अह… हाह. मैंने शर्माते हुए कहा- आज जब मैं जय को जगाने गई थी तो उसकी लुंगी खुल कर बेड के किनारे पड़ी थी, तभी मैंने उसका लंड देखा था. अब बाथरूम के दरवाजे से लॉक निकल जाने से उस छेद से बाथरूम के अन्दर का सीन दिखने लगा था.

मुझे उन चारों के चूसने और चाटने में इतना मजा आने लगा कि मैं सातवें आसमान में उड़ने लगी और मुझे ज़न्नत सी दिखने लगी. उन को चाटा और उन को किस करते हुए और उस की ड्रेस से उस के बदन को किस करते हुए उस की छाती पर आ गया और किस करने लगा। फिर.

ऐसी पोजीशन में भी बदन में अजीब सी सनसनाहट, सुरसुरी होती रहती है और फिर एक स्थिति ऐसी आ जाती है कि दोनों पार्टनर मिसमिसा कर लिपट जाते हैं और चूत लंड की लड़ाई होने लगती है.

मैं खाना बनाने लगी, खाना बनाने के बाद मैंने किचन में ही खड़ी खड़ी स्लॅब पे प्लेट रख कर खाना खा लिया, खाना खाने के बाद मुझे आलस आने लगा, मैं बहुत थक भी गयी थी, सोचा कि किसी तरह बेड पर लेट लूँ?मैं बहुत कोशिश करके किसी तरह से करवट ले कर लेट गई. तू सच बोलता है, मेरी जैसी गर्म गुजराती औरत तेरे जैसे मर्द के हाथ आए तो पहले शर्माती है, पर फिर दिल खोल के मजा लूटने देती है. इतनी देर में सुगंधा की नजर मेरी शर्ट पर पड़ी जो पीछे से गंदी हो गई थी.

तो दोस्तो सेक्स स्टोरी को शुरू करने से पहले आपको बता दूँ कि वैसे तो कॉलेज के बाद एक और भी घटना हुई थी. अचानक उसने कहा- क्या मेरे चोदू बंदर, बस इतना ही दम है तेरे लंड में, मेरी पूरी प्यास भी नहीं बुझी और देख साला तेरा लंड मुरझा गया और मेरी चूत, अभी गरम है. थोड़ी देर बाद जब सब लोग सो गए तो वंदिता ने मुझे इशारा किया और मैं झट से उसकी चादर में आ गया.

कितना दम है मेरे लौड़े में!” कहते हुए अमित ने अपना लंड बाहर निकाल लिया और उस्मान को कुछ इशारा किया, जो माया नहीं देख पाई.

कॉलेज वाली लड़कियों की बीएफ: उनकी बातें मुझे और उत्तेज़ित कर रही थीं, अब मुझसे रहा नहीं गया तो मैं बोल पड़ी- कमीनों जो करना है कर लो और ये पट्टी नहीं चाहिए मुझे. फिर मैंने सोचा कि एक बार बैंगन डाल कर जाँच कर लूँ कि मेरी गांड मामा जी के लंड के आकार में खुली है या नहीं.

दोपहर को वर्षा वापस आई और खाना खाकर बोली- मुझे सर में दर्द है मुझे नींद आ रही है. हम बाहर निकलने लगे तो वो बोला- फोन दिखा कौन सा है तेरे पास?मैंने उसको फोन दिखाया तो उसने फोन मेरे हाथ से अपने हाथ में ले लिया और बोला- अब ये मेरा है… चल जा तू…मैंने कहा- यार, इसमें मेरे सारे कॉन्टेक्ट्स हैं, मैं तुझे दूसरा फोन लेकर दे दूंगा लेकिन ये फोन छोड़ दे…वो नहीं माना और मेरी आंखों से आंसू बहने लगे. कुछ मिनट आराम करने के बाद फिर से मेरा लंड खड़ा हुआ तो मैंने आंटी की गांड मारने की इच्छा जताई.

उनके चूचे कैसे होते हैं उसमें हड्डियां होती हैं या नहीं!इसी चक्कर में मैं अपनी बड़ी दीदी को… जब वो नहाने जाती थी.

मुझे नशा होने लगा, जिसका फ़ायदा सबने उठाया और मेरे सामने गोलाई में सब बैठ गए. मैंने किस करते करते मोनिका के चूतड़ दबाए, चूचे दबाए, उसने कोई आपत्ति नहीं जताई. थोड़ी देर बाद पूजा भी मेरा साथ देने लगी और कहती- अब जोर लगाओ, जितना लगा सकते हो.