बीएफ चुदाई अमेरिका

छवि स्रोत,माधुरी दीक्षित xxx com

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन+सेक्सी+विडिओ: बीएफ चुदाई अमेरिका, उस दिन मैं बिल्कुल एक प्रोफ़ेशनल रंडी की तरह अपने सगे भाई का लंड चूस रही थी.

चेनई एक्सप्रेस मूवी

मेरे दो बेटे हैं जो ग्रेजुएशन के बाद बाहर कहीं उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं. अद्भुत दृश्यमैडम मेरे सामने वाले सोफे पर बैठ गयीं और एक टांग दूसरी टांग पर टिका कर आराम से हो गयीं.

मैंने उसकी मस्त सी चूत को अपने हाथों से प्यार से छुआ और फिर उसकी टांगों को फैलाते हुए अपने होंठ उसकी चूत पर रख दिये. नंगी पिक्चर ब्लू पिक्चरमैंने कहा- जीजा आप बस चोदते रहो, अब मुझे मजा लेने दो अपनी चूत की चुदाई का.

मैं पूरी तरह से संतुष्ट हो गया था उसकी चूत में वीर्य निकालने के बाद.बीएफ चुदाई अमेरिका: फिर वो झड़ गया और उसने कंडोम उतार फेंका और मेरे ऊपर लेटकर मेरे बूब्स चूसने लगा.

मैंने अपने हाथ बेड पर उसकी बगल में टिका लिये और उसकी चूत में जोर से अपने लंड को पेलने लगा.दीदी जीजा की इस चुदाई को देखने के बाद मैं भी अपने रूम में वापस आ गई.

खाना सेक्सी - बीएफ चुदाई अमेरिका

मैंने अपनी रफ़्तार को और तेज़ किया और दो ही मिनट में मैंने फिर से चाची की चूत को अपने लंड के लावा से लबालब भर दिया.तभी आंटी मेरे लंड को छोड़ कर उठ गईं और अपनी साड़ी और पेटीकोट निकाल दिया.

एक दिन हमारी पोल खुल गयी, हम दोनों को मकान मालिक की बड़ी लड़की डोली ने देख लिया. बीएफ चुदाई अमेरिका मैं तुम्हारे लिए फ्रिज से कोल्ड ड्रिंक लेकर आता हूं तब तक तुम सीडी प्लेयर को ऑन कर दो.

सपाट पेट और बल खाती 32 इंच की रसीली खरबूजे जैसी मस्तानी गांड किसी का भी लंड खड़ा कर देने में सक्षम है.

बीएफ चुदाई अमेरिका?

निहारिका की सलवार मेरे छूटने से गीली हो गई थी, तो जब निहारिका ने सलवार उतारी, तो उसके चूतड़ों के दर्शन मुझे कई महीनों बाद हुए थे. मोनी की चूत ज्यादा फूली भी नहीं थी मगर इतना उभार तो बना रही थी कि मेरे हाथों को उसके स्पर्श का अहसास हो सके. आंखें मसलते हुए बोले कि बेटा मेरी आंख में कुछ गिर गया है, जरा देख तो क्या हुआ है.

मैं राधिका के पास जाकर बैठ गया और सोनल तरफ देखकर हल्की स्माइल दे दी. मुझे चुदाई का बहुत शौक है और जवानी भी मुझे इस बात के लिए मजबूर कर रही थी कि कोई चूत मिल जाए तो बस चोद दूँ. वो नीचे बिछौना बिछाते हुए बोली- आओ शरद, आज मैं तुम्हारी मालिश भी कर दूं.

उसे आधा अपनी चूत में डाल लिया और आधे में साबुन लगाकर मेरे गांड में पेल दिया. यह तो सब करते हैं किंतु वह तुम्हारी कच्ची उम्र थी जब तुमने हमें संभोग करते देखा। यह केवल एक बार नहीं अपितु बार-बार था।इस उम्र में जब किसी को पॉर्न फिल्म देखने को मिलती है तो उसका हाल भी यही होता है किंतु तुमने तो पॉर्न फिल्म को जीवन्त रूप में देखी थी. राजे आज तू यह रबड़ी मेरे दूधों पर रख के खाएगा … देख कितना मज़ा आएगा मादरचोद … तू भी क्या याद रखेगा कि क्या रबड़ी खायी थी.

उनके नाम अरविंद, बलवन्त, केशव और दिनेश था और सीनियर मैनेजर का नाम अनिल था. जब तक मेरा पूरा वीर्य काजल के गले के नीचे नहीं उतर गया, तब तक मैंने अपना बेकाबू लंड काजल के मुँह से बाहर नहीं निकाला.

हिमाचल में मिनिस्ट्री ऑफ़ एजुकेशन ने अपने बहुत सारे हाई-स्कूलों के लिए बहुत सारे कम्यूटर्स … बहुत सारे बोले तो कोई पांच सौ से कुछ ज्यादा ही कम्यूटर्स खरीदने का टेंडर निकाला था और टेंडर 28 नवंबर को खुलना था.

विकी खामोश बैठा रहा, मेरे हाथ का नींबू पानी था, इसलिए वो बड़े प्यार से पी रहा था.

नहीं रानी सोया नहीं बस थोड़ा सुस्ता रहा था … हो सकता है हल्की सी झपकी लग भी गयी हो. पहले तो मैंने उस आवाज पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया क्योंकि मैं समझ रहा था कि सुमिना अपने कमरे में कुछ काम कर रही होगी. और हो भी क्यों न … इतना मस्त गोरा बदन देख कर तो किसी का भी खड़ा हो जाता.

मैं मानती हूँ कि तेरे भैया अब मेरी चूत को शांत करना जरूरी नहीं समझते लेकिन मैं उनकी पत्नी हूँ और इस तरह से मैं तुम्हारे साथ कुछ नहीं करना चाहती. मैं जाने लगा, तो आंटी ने मुझे रोका और बोली- कल वैसे भी संडे है, तुम्हें ऑफिस तो जाना नहीं है, तो आज डिनर के लिए मेरे साथ चलो. उनकी फिगर तो इतनी कंटीली है, हे भगवान … क्या बताऊं; मेरी मॉम की मादक देह अच्छे अच्छों का ध्यान भटका देती है.

मैं एक चादर लपेट कर बाथरूम में गई तो मेरी टांगें बहुत दर्द कर रही थीं.

मैं चीखना चाहती थी, लेकिन मुँह में लंड होने की वजह से मेरी चीख ही नहीं निकल पाई. जनवरी के पहले ही दिन से स्कूल में ठंड की वजह से दस दिन की छुट्टी हो गयी थी. इस तरह से रात भर उन्होंने मुझे लगभग बीस बार चोदा और इतनी ही दफा मेरी गांड भी मारी.

फिर ताऊ जी का माल निकलने की तैयारी पर आ गया था शायद इसलिए उन्होंने बुआ को नीचे लेटने के लिए कहा. छुट्टी का दिन था, दोपहर को उपिंदर आया हुआ था। हम तीनों बैठे हुए थे। एक सोफे पे उपिंदर और अंशु, सामने दूसरे पर मैं। खाना पीना चल रहा था। अंशु के कपड़े उतरने शुरू हो गए थे। साड़ी ब्लाउज उतर चुका था और अब वो ब्रा और पेटिकोट में थी, दोनों का चुम्मा चाटी, दबाना मसलना चल रहा था।उपिंदर का फोन बजा, अंशु ने उठा के उसे दिया और मुस्कुरा के बोली- हमारी रखैल का है. वो मस्ती से चिल्ला रही थी- आआहह ओह प्लीज़ अब छोड़ दो … मुझसे सहन नहीं हो रहा है.

मेरा गोरा रंग, लम्बा कद, कटीले नयन-नख्श, रसीले होंठ, नितम्बों की मादक उठान और मेरी छातियों का वो जानलेवा जोड़ा सबकी आँखों में खटकने लगा.

रितेश जीजू ने अपना लंड पैंट से निकाल कर मेरे मुंह में दे दिया और मैंने भी बहते पानी में चूत धो डाली. मौसी ने एक बार फिर मेरी तरफ गुस्से से देखा और छी करते हुए मेरे लंड की तरफ झुक गईं और मेरे लंड को पकड़ कर सुपारे पर थूक दिया.

बीएफ चुदाई अमेरिका उनका लंड इतना गर्म था कि क्या बताऊँ … उनके लंड का सामने का भाग काफी मोटा था. मैंने कोल्ड ड्रिंक का गिलास अदिति की तरफ बढ़ाया तो उसने शर्माते हुए गिलास पकड़ लिया.

बीएफ चुदाई अमेरिका मैं चुपके से उसके लंड से चुदाई का मजा लेती रहती हूँ और घर वालों को भी कुछ पता नहीं चल पाता हम दोनों के सेक्स कांड के बारे में. मेरा मन तो कर रहा था कि अभी लंड डाल कर चोद दूं, लेकिन फट भी रही थी कि बुआ जाग न जाएं.

अजय ने गिलास रखा और मेरे बाल पकड़ के ज़ोर से खींचा और बोला- साली तू तो बहुत गर्म है … तेरी गर्मी निकालनी होगी, साली आज हम दोनों रंडी की तरह तेरी चूत चोदेंगे.

वाली सेक्सी बीएफ एचडी

रितेश जीजू ने अपना लंड पैंट से निकाल कर मेरे मुंह में दे दिया और मैंने भी बहते पानी में चूत धो डाली. इसी तरह यहाँ भी था, भाभी के और उसके पति के बीच सेक्स सम्बन्ध कुछ खास नहीं थे. जीभ का चूत पर अहसास होने के साथ ही उसने अपनी मुंडी घुमायी और बोली- अच्छे-अच्छे की औकात चूत के आगे फेल हो जाती है.

ऐसा कहते हुए मेरी चूत से एक फव्वारा सा फूट पड़ा और गर्म-गर्म रस बहने लगा. मैंने कहा- मैडम आप घर जाइये … मैं यह बंडल अपनी साइकिल पर आपके घर पर छोड़ दूंगा … आप समय बता दीजिये कि आप कब घर पर मिलेंगी?ठीक है राजे … तुम तीन बजे यहाँ से यह कापियां ले जाना … मैं साढ़े तीनतक घर पहुँच जाऊंगी. मेरी एक खास बात है, मैं जल्दी नहीं झड़ता … कम से कम आधे घंटे तक लगा रहता हूँ और ज्यादा से ज्यादा डेढ़ से दो घंटे तक बिना थके चूत पेल सकता हूँ.

” रानी ने मेरे बालों में उंगलियां फेरते हुए मेरे कानों में शहद घोला.

फिर मामी बहुत जोर से बोलीं- तुमने बहुत उंगली की और तुम मेरी एक झांट तक टेढ़ी नहीं कर सके, अब मेरा कमाल देखो. उसके दोनों पैरों को अपने कंधों पर रख कर अपने 6 इंच के लंड से बड़ी कोशिश के बाद हल्का सा झटका मारा, तो थोड़ा सा लंड अन्दर जाते ही सील टूट गई और खून निकल आया. उसका लंड बहुत मस्त था और मैं उसकी चुदाई से मदहोश हो गयी थी और मुझे उसके चोदने का स्टाइल भी बहुत अच्छा लग रहा था.

मुझे लगता था कि मम्मों के बड़े न हो पाने का कारण उसका पति था, जो एक शराबी था. भाबी- हां बिल्कुल … और अब तुम्हारे जैसा लंड इसे जल्दी नहीं मिला, तो पता नहीं इसका क्या हाल हो जाएगा. मैंने भी अपनी उंगली तेजी से अन्दर बाहर करते हुए बहुत अन्दर तक डालना शुरू कर दिया.

यहां अलग अलग लोगों की कहानी पढ़ कर बहुत ही अच्छा लगता है और साथ ही आनन्द भी खूब आता है. तो दोस्तो … कैसी लगी ये रियल चुदाई की घटना … सच में ग्रुप सेक्स में अलग ही मजा है.

मेरे पैरों पर जमी धूल की उन्होंने जरा भी परवाह नहीं की और पांवों की उंगलियां मुंह में लेकर चूसने लगे. सायमा ने बेसब्री दिखाते हुए मेरे अंडवियर को उतार दिया और मेरे तने हुए लौड़े को अपने गर्म मुंह में भर कर चूसने लगी. काफ़ी देर चोदने के बाद दिनेश हट गया और अनिल ने गांड मारना चालू कर दिया.

भाई ने कस के अपने होंठों से मेरे होंठ बंद कर दिए, मेरी चीख घुट के रह गयी.

हेतल मना कर रही थी क्योंकि वो जीजू से नाराज सी लग रही थी लेकिन मेरे जिद करने पर वो मेरे साथ उठ कर आई और उसी छेद से अंदर का नजारा देखने लगी. उसके बाद चौथे ने अपनी जींस में से बाहर निकला हुआ अपना लंड मेरी चूत पर सेट किया और मेरे ऊपर लेट गया. शायना बुआ ने बोला- मैं तो जिस दिन आई थी, उस दिन ही तूने मेरी अन्दर की आग को भड़का दिया था.

हफ्ते भर में मुझे पता लग गया कि वो प्रिया की सहेलियों में से एक है. ऐसा नहीं है कि मैंने अपनी बीवी की चूचियों का मजा न लिया हो, पर जिसकी मुराद मन में हो उसकी चूचियों को देख कर कौन न पागल हो जाए.

मुझे ऐसा लगने लगने लगा था, जैसे मुझे जिन्दगी में कोई अपना ही मिल गया था. मौसी के लेटने की वजह से उनकी कमर भी थोड़ी पीछे की ओर सरक गयी, जिस वजह से मेरे लंड और उनकी चूत के बीच में मेज़ का किनारा आने लगा. मुझे नम्रता के नग्न और गर्म जिस्म पर हाथ रखे हुए दो या तीन मिनट हुए होंगे कि मेरे हाथ ने अपने आप ही हरकत करना शुरू कर दिया.

जानवर वाले बीएफ सेक्सी

रूम सर्विस वाला आया, तो उसने एक रेड वाइन की बोतल कॉमप्लीमेंट्री दी, मिनरल वाटर दिया.

मैंने भी अपनी दो उंगलियां उसकी चुत में झटके से अन्दर डालीं और उसके मम्मों को दबाने लगा. उसकी चूत की चुदाई के साथ मैं अपनी एक उंगली से उसकी चुत के दाने को भी मसल रहा था. मगर कल के जैसे ही मोनी को अपने‌ बगल में सोता देख कर आज फिर से मेरी कामनाएं जोर मारने लगीं। मोनी ने उस रात सलवार-सूट पहना हुआ था इसलिये आज उसका बदन तो नहीं दिख रहा था मगर सूट के कसाव के कारण उसके अंगों का कटाव अलग ही नजर आ रहा था। मैंने एक बार तो अपने दिमाग से ये सब बातें निकालने की कोशिश भी की मगर मोनी को अपने बगल में सोती देख‌ कर मेरा दिल‌ मान ही नहीं रहा था।यह वासना चीज ही ऐसी होती है.

तभी उसने मुझे धक्का देकर बेड पर गिरा दिया और मेरे सारे कपड़े उतार कर मुझे पूरा नंगा कर दिया और मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी. सोनल के हाथ में सिगरेट फंसी थी, जिसे वो बड़े मजे से पीते हुए राधिका के मम्मों पर फूंक रही थी. सिक्स वीडियो सिक्स वीडियोवो थोड़ी शर्मा कर थोड़ा मुस्कुरा कर बोली- आपका!उसकी इस बात से मुझे जोश आ गया और मैंने एक जोर का झटका दे मारा.

मैं पहली बार कहानी लिख रहा हूँ, अगर मुझसे लिखने में कोई ग़लती हो जाए, तो प्लीज़ माफ़ कर दीजिएगा. लेकिन तू ऐसा क्यूं पूछ रही है?मानसी बोली- झूठ मत बोल चुदक्कड़, तू राज से ही चुदवाने के बाद तो ससुराल गयी है.

एक दो बार ऐसा किया ही था कि मौसी ने मेरे हाथ को हटाकर अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और अपनी चूत के छेद पर लगा कर आगे की तरफ सरक गईं. अलका- एग्जाम कैसा हुआ?मैं- अच्छा ही हुआ … और ये दोनों कहां हैं?अलका- सुबह से रूम से बाहर ही नहीं आए है. अम्मी बोलीं- क्यों … पहले तो तूने कभी नहीं बुलाया उनको?मैंने कहा- अम्मी वो स्टडी में मेरी बहुत हेल्प करते हैं … और भी काम में हमेशा मेरी मदद करते रहते हैं.

फिर वहां खड़ी चार औरतों में से तीन ने अपनी सलवार और एक ने अपनी साड़ी उतार दी. भाभी ने मुझसे कहा- सूरज, दिखा तो सही अपना औजार … जरा मैं भी तो देखूं कि ये बार बार क्यों तेरे औजार को बहुत बड़ा कह रही है. हर औरत को पहली पहली बार दर्द तो होता ही है और उसे उस दर्द को बर्दाश्त करना पड़ता है.

सुमिना के सामने हाय-हैल्लो से ज्यादा कुछ बात होना संभव भी नहीं था फिर भी मैंने उम्मीद बांधी हुई थी कि कभी तो उसके करीब जाने का मौका मिलेगा ही.

मैं भी उससे पूछ लेती थी- क्यों, तुझे भी अपनी चूत चुदवानी है क्या?वो बोल देती- नहीं, मैं तो बस वैसे ही पूछ रही थी. मैंने आंटी की चूत में उंगली डाल दी तो पता लगा आंटी की चूत पूरी गर्म हो चुकी है.

माँ के चूचे अब मेरी आंखों के सामने पहली बार बिल्कुल नंगे हो चुके थे. बड़ा होकर भी वो लुल्ली बच्चों के लॉलीपोप से बड़ी नहीं हुई होगी यह बात मैं दावे के साथ कह सकता था. मालूम हुआ कि मैडम जी के सास और ससुर किसी सत्संग में एक हफ्ते के लिए अमृतसर गए हुए हैं और उनका पुराना नौकर मोहन दास अचानक बीमार हो गया तो छुट्टी पर था.

फिर 15 मिनट बाद जब मैं उसके ऊपर से उठा, तो मैंने वापस उसको लेटाया और उसकी चुत फिर से चाटने लगा, चूसने लगा. मैं तो यार बस पागल ही हो जाता था … क्या बताऊं यारो … उसने फोन पर ही मुझे इतने मज़े दे दिए थे कि बस ऐसा लग रहा होता था कि ये सच में मेरा लौड़ा चूस रही हो. कुछ देर एक दूसरे को देखने के बाद मैंने मामी को लेटा दिया और उनके ऊपर आकर उनको किस करने लगा.

बीएफ चुदाई अमेरिका उस दिन क्लास शुरू होते ही प्रिया मेरे पास आई और उसने अपनी नोटबुक में एक सवाल लिखा हुआ था. इस पर उन्होंने हंस कर कहा- मैं अक्सर घर पर फ्री होती हूँ, तो थोड़ा टाइम निकाल कर बाहर फिटनेस सेंटर के लिए आ जाती हूँ.

ब्लू पिक्चर बीएफ पिक्चर वीडियो

और हल्की डरी हुई नंगी ही गेट की तरफ चलने लगी … उसकी चाल में लड़खड़ाहट थी. चूंकि मेरे अन्दर एक कमी कहिये या अच्छाई कहिये, वो ये कि मैं स्लिम फिट हूँ, ज्यादा मोटा नहीं हूँ. भाबी- हां बिल्कुल … और अब तुम्हारे जैसा लंड इसे जल्दी नहीं मिला, तो पता नहीं इसका क्या हाल हो जाएगा.

मैंने अपनी जिंदगी को इतना इंजॉय किया जिसकी मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी. इस पर भाभी ने हल्की सी स्माइल दे दी और मुझे नॉटी नज़रों से देखने लगी. चावला सेक्स वीडियोहॉल तक पहुंचते-पहुंचते हेतल के अंदर इतनी चुदास भर गई कि उसने मुझे सोफे पर लेटा लिया और खुद ही अपनी गांड में लंड को लेते हुए ऊपर-नीचे उछलने लगी.

हालांकि उनके चेहरे पर कोई अलग भाव नहीं थे, मुझे ऐसा लगा, जैसे उन्होंने ये सब जानबूझ कर किया था.

मैंने पूछा- तो कितने दिन में करते हैं भैया आपके साथ?भाभी- महीने में मुश्किल से बस एक या दो बार ही करते हैं. ”अपने मुंह से मेरे लंड को निकाल कर बोली- मुझे तेरा लंड चूसने में बहुत मजा आ रहा है.

उनकी टाँगों को मैंने अपने कन्धे पर रखा जिससे उनकी चूत की गहराई में मेरा लंड गोता लगा सके और वह यहा वहाँ न हिले जिससे मेरी लय ख़राब न हो. शानदार! जन्नत दिखा दी तूने दीपिका! और चूस बेटा! आह्ह …” रवि ने कामुक सिसकारी भरते हुए कहा. उसके बाद मैंने देखा कि उसकी चुत से खून निकल कर मेरे लंड औऱ उसकी चुत व जांघों पर लग गया था.

मैंने बहन को मैसेज किया- तैयार रहना!मैं घर पंहुचा तो उसने दरवाजा खोला.

और चुत भी टाइट होती है इसलिए आराम से घुसेड़ना और जितने प्यार से करोगे उतने दोनों को मजे आएंगे. मैंने अपनी जिंदगी को इतना इंजॉय किया जिसकी मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी. काफी देर बाद अपनी कुंवारी चूत चुदाई का मज़ा लेते लेते मुझे मेरी चूत के अन्दर कुछ अहसास हुआ.

हिंदी बीपी बताओउनकी बातों से पता चला कि वो भी मेरी ही तरह अकेली थीं … सब होते हुए भी कुछ नहीं।मुझे बातों बातों में समझ में आने लगा कि वे बहुत परेशान रहती हैं. उसकी चूची छोड़ मैंने उसके होंठों पर होंठ रखे, चूसने लगा तो वो भी चूसने लगी.

ब्लू पिक्चर बीएफ चोदने वाला

जब आंटी से रहा नहीं गया, तो उन्होंने अपनी गांड उठाते हुए कहा- अब डाल भी दो यार … क्यों मुझे तड़पा रहे हो. मैंने थोड़ा सा उसके पैरों को ऊपर उठाते हुए फैलाया और उनकी चूत के मुँह में लंड का टोपा लगा दिया. फिर सुमिना के इम्तिहान शुरू होने वाले थे और काजल ने अब हमारे घर पर आना कम कर दिया था.

मुझे सबसे पहले दिशा को चोदना था, इसलिए अगली बार मुझे सावधानी रखनी थीअब मुझे तीनों की पीठ सहलानी थी. बातें करते करते हम दोनों गर्लफ्रेंड ब्वॉयफ्रेंड के जैसी बातों पर आ गए. अंगूठे से अपनी जवान चूत को कच कच चुदवाने के बाद सरिता तो झड़कर बेड पर लेट गई थी, पर छोटी वाली में अभी भरपूर मस्ती चढ़ी थी.

भरा हुआ बदन, गोरा रंग, बड़े-बड़े मम्मे, उभरी हुई गांड, फ़िगर 36-30-38 से कम नहीं था। सायमा मेरे सामने वाले घर में रहती थी और रोज अपने घर की बालकनी में गांड हिला-हिला के झाड़ू लगाया करती थी. राधिका- इसका क्रेडिट मुझे जाता है, मेरी वजह से आज तुम दो हॉट अप्सराएं चोदने को मिली हैं. उसके बाद मैंने सायमा की चूत में जीभ डाल दी और उसकी चूत को अपनी जीभ से ही चोदने लगा.

उसने मेरी पीठ पे हाथ रखे हुए थे तो मेरी पीठ को उसने अपने नाखूनों से खरोंच दिया था. जहां पहले में किसी भी लड़की को देखते ही उसकी चूत के बारे में सोचने लगता था, अब पहले ये ख्याल आता था कि ये भी किसी की बहन ही होगी.

मैंने अपना लंड उनकी चुत से बाहर निकाला, तो मेरे लंड पर खून भी लगा हुआ था.

हालांकि अभी कुछ फाइनल नहीं किया है, लेकिन जब भी किसी कॉलब्वॉय या अन्य मर्द से चुदना होगा, तो सेक्स स्टोरी लिख कर आप सभी को जरूर बताऊंगी. सुपरहिट ब्लू पिक्चरफिर एक एक करके आठों उंगलियां चूसीं, तलवों के उभार चूसे, एड़ियां और टखने चाटे. आतंकवादी सेक्सी वीडियोमैं दर्द से चिल्ला उठी- भोसड़ी के मार डाला मुझे, निकाल बाहर अपना लंड … मुझे नहीं चुदवाना है. मेरी चूत में चीटियां सीं रेंगने लगीं थीं और मेरे पैर कंपकंपाने लगे थे.

उसने मेरी चूत को चूसा-चाटा और फिर अपना लंड मेरे मुंह में देने के लिए तैयार होने लगा.

काफी देर तक और अच्छे से मालिश करने के बाद उसने गप्प से लंड को अन्दर लिया और अपनी दोनों हथेलियों को मेरे सीने पर रखते हुए धक्के लगाने लगी. उसकी नंगी चूचियों को आज मैं पहली बार अपने हाथ में इस तरह से भर कर उनका आनंद ले रहा था इसलिए मेरे मुंह में जैसे पानी सा आने लगा उनको पीने के लिए. मैंने वैसा ही किया फिर उसने मुझे गोद में उठा कर अपनी कमर से लटका लिया.

फिर अचानक से हवा लगने के कारण उनकी लुंगी ऊपर हो गई और जीजा जी की अंडरवियर दिखने लगी. इस बार मेरा पूरा लंड मेरी बहन सोनल की चूत में जा रहा था, जिससे सोनल की आंख में आंसू आ गए थे. मैंने सोचा यदि अभी मना करूंगा, तो ये जो पहले का चूमा चाटी वाला खेल भी नहीं खेल पाऊंगा, तो मैं भैया की बात मान गया.

दोस्तों की बीएफ

उसके बाद मैं उससे फिर नहीं मिल पाया क्योंकि मैं पढ़ाई के लिए इंदौर आ गया था. एक मिनट के अंदर ही भोला का लंड मेरी चूत में ही सिकुड़ कर छोटा हो गया. उन्होंने दीदी के चूचों के बीच में ले जाकर अपने लंड को रगड़ना शुरू कर दिया.

रात के अंधेरे में मैं हेतल दीदी के बेड पर लेटी हुई तुम्हारा इंतजार कर रही थी.

वो मुझे फोन पर पॉर्न फिल्म दिखाने लग जाते थे और मेरे गालों को चूमने लग जाते थे.

…अब काजल मुझे मेरे नाम से बुला रही थी और बोल रही- ओह्ह् जिग्गू … माँआअ … मार डाला … ओह्ह मेरे राजा अब चोद दो अपनी रानी को … आह और तेज़ पेलो … और तेज़ … अह्ह्ह्ह ओह्ह्ह …काजल की चूत में मैंने तेज़ तेज़ धक्के मारना चालू किए और उसी के साथ काजल की कामुक चुदास से भरी सिस्कारियां पूरे रूम में गूंजने लगीं. तय कार्यक्रम के अनुसार शनिवार को सुबह सात बजे मैं और डॉली लखनऊ के लिए निकल पड़े, रास्ते में चाय नाश्ता करने के बाद लगभग नौ बजे डॉली के सेन्टर पहुंच गये. बाप ने बेटी को जबरदस्ती चोदाफिर उठ कर अलमारी में से साड़ी ब्लाउज पेंटी ब्रा सब निकाल कर मुझे दे दिया.

मैं फ़ौरन खिड़की से झाँक कर उस नीचे जाती हुई आवाज को सुनते हुए उसे देखने की कोशिश करने लगा. मेरा घर गांव में है, इसलिए मुझे सिटी में रूम किराए पर लेकर रहना पड़ता था. ये बात रवींद्र को वनिता पहले ही बता चुकी थी कि उसका पति बाहर जाने वाला है.

ये उसके उत्तेजना की चरम सीमा ही थी, जो उससे ऐसा करने को उकसा रही थी. उनके नाम अरविंद, बलवन्त, केशव और दिनेश था और सीनियर मैनेजर का नाम अनिल था.

मैं तो कहता हूँ आप मेरी अम्मी की रगड़ के चुदाई करो ताकि उन्हें कभी उस नकली लंड की जरूरत ही न रहे.

वसुन्धरा ने जल्दी-जल्दी अपने शरीर से ब्लाउज़ और अंगिया को मुक्त किया और मेरा दायां हाथ उठा कर अपने बाएं उरोज़ पर रख कर मेरे हाथ के ऊपर से ही अपने हाथ द्धारा अपने उरोज़ को दबाने लगी और मेरे धड़ का नीचे का हिस्सा नीचे से साड़ी समेत अपनी दोनों टांगों की कैंची में बाँध लिया. उसने मेरी आँखों में देखा और बोली- क्या ये सही रहेगा?मैंने कहा- मैं तुमको प्यार करता हूँ और तुमको पाना चाहता हूँ. फिर मैंने एक जोर का झटका मारा, अबकी बार मेरा आधा से ज्यादा लंड उसकी चुत में घुस गया था.

हिंदी पिक्चर फिल्म आंखें थोड़ी देर लंड चूसने के बाद वो सोफे पर टांगें उठा कर लेट गई और मुझे अपने ऊपर खींच लिया. पर तुम अपने पड़ोसी और रिश्तेदारों से कैसे छुपाओगे मुझे?कुछ देर सोचने के बाद एक जोरदार सा आइडिया मेरे दिमाग में आया और मैंने कहा- मैं सब संभाल लूंगा, तुम बस आ जाओ.

उसकी चूत का रस निकल जाने के बाद भी मैं उसकी चूत को चाटता रहा, जिसका नतीजा ये निकला कि वो फिर से गर्म हो गई,काजल आंखें बंद करके अभी भी हांफ रही थी. माँ बोली- राहुल, यह तुम क्या कर रहे हो?मैं चुपचाप नीचे ही देखता रहा. तभी अंकल भी मेरे पास आकर बैठ गए और मेरी टी-शर्ट के ऊपर से ही मेरे मम्मों को मसलने लगे.

सेक्सी भाभी चुदाई बीएफ

टॉवल से पसीना पोंछा, फ्रिज से जूस के दो पैक निकाले, पिये और ऐसे ही नंगे नंगे लिपटकर सो गये. मेरी पिछली सेक्स कहानीमामी ने अंकल को सेक्स के लिए बुलायाआप सबको बहुत पसंद भी आई थी, जिसको लेकर मुझे बहुत से ईमेल भी मिले थे. इस बार मैं भाभी की चूत के दाने को भी हल्के हल्के से अपने दांतों से काटते हुए चूसने लगा.

वो एकदम सिसक रही थीं और उनके मुँह से कामुकता से आह्ह … निकल रही थी. नारी भले ही किसी और टॉपिक में रूचि रखे न रखे लेकिन जब बात शॉपिंग पर आ जाती है तो उसको दुनिया में इससे रूचिकर विषय शायद ही दूसरा कोई लगता हो। अपनी चतुराई पर मैं फूला नहीं समा रहा था.

उधर वो दोनों लेकलान और मारव पूरे दम से मुझे दोनों छेदों से चोद रहे थे.

उन्होंने दीदी का एक पैर ऊपर की ओर करके उठा लिया तथा फिर एक बार जोर लगाते हुए पूरा का पूरा लंड दीदी की चूत में घुसा दिया. मैंने पूछा तो उसने बताया कि उसकी दीदी की डिलीवरी के चलते घर वाले हॉस्पिटल में गये हुए हैं. आधे घंटे तक वह ऐसे ही मेरे लंड पर उछलती रही और इस तरह चुदाई के बाद हम दोनों साथ में ही झड़ गये.

हम कभी लड़ते झगड़ते नहीं थे, हमें बस प्यार के अलावा दूसरा कोई शब्द याद ही नहीं था. जीभ का चूत पर अहसास होने के साथ ही उसने अपनी मुंडी घुमायी और बोली- अच्छे-अच्छे की औकात चूत के आगे फेल हो जाती है. लेकिन तभी अजय ने बगल की टेबल से अपनी व्हिस्की का नीट दारू से भरा हुआ गिलास मेरे मुँह से लगा दिया.

अन्दर जाते ही मैंने निहारिका को बेड पर लिटा लिया और और उसके ऊपर चढ़ गया.

बीएफ चुदाई अमेरिका: मेरा लंड हेतल की गांड में ही था और वो हर धक्के के साथ एक कदम बढ़ा रही थी. चूचों को मसाज देने के बाद वो बेकाबू हो गई और उसने खुद को मेरे हवाले कर दिया.

जब मैंने अपना लंड उसकी फुद्दी में घुसाया, तो हमारे अन्दर आग सी लग गई. मेरा लंड पूरा अन्दर चला गया और कमर पकड़ कर जोर जोर से शराब के नशे में झटके मारता रहा. करन ने खुश होकर मेरी साड़ी खींचनी शुरू कर दी और मैं घूमने लगी और मेरी साड़ी पूरी अलग हो गयी।मैंने कहा- काफी अनुभव लगता है साड़ी उतारने का?तो वो हंसने लगा।मैंने कहा- एक जादू देखोगे?और अपने पेटीकोट का नाड़ा खोल के उसे भी नीचे गिरा दिया। अब मैं सिर्फ अपनी सेक्सी लाल ब्रा और पैंटी में खड़ी थी और मेरे आधे चेहरे पर गिरे खुले बाल हल्के हल्के उड़ रहे थे और वो पूरे कपड़ों में था.

कुछ देर हम ऐसे ही नंगी चूत और लंड के मिलन के साथ रजाई में लेटे रहे.

वो परिवार बहुत ही मिलनसार था, तो थोड़े ही दिन में मेरी मम्मी से उन आंटी की दोस्ती हो गई और हमारा एक दूसरे के घर आना जाना चालू हो गया. मैंने उसके सिर को हल्के से पकड़ कर अपने लंड को उसके मुंह में धीरे-धीरे अंदर बाहर करना शुरू कर दिया. कभी अपनी चूचियों को दबाती, कभी अपनी उभरी हुई गांड को हिलाती और कभी अपनी चूत पर हाथ फिराने लगती.