बीएफ हिंदी जानवर

छवि स्रोत,स्वाथी नायडू

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ हिंदी में सेक्स: बीएफ हिंदी जानवर, लेकिन जैसा भी था एक स्थाई लंड मिल गया था, तो कैसे भी करके उससे चुदाई कर लिया करती थी.

हिंदी में नंगी ब्लू पिक्चर

मैंने आकृति आंटी से कहा कि आप आज से इस बारे में रिट्ज से कोई भी बात नहीं करेंगी. साड़ी डिजाइन दिखाइएअब मैं चाहता हूँ कि कोई जवान और हैंडसम लड़का मेरी बीवी को मेरे सामने चोदे.

अमन … चोदो … आह्ह … चोदो मुझे … तुम्हारे मामा में वो दम नहीं है जो मेरी प्यास को बुझा सके।मैं भी मामी की कामुक बातों से प्रेरित होकर उनकी गांड को पकड़ कर तेजी के साथ चूत में लंड के धक्के देने लगा. आने वाला सेक्सीतभी शायद उसे अपनी चीख का अहसास हो गया था इसलिए उसने खुद अपना मुँह अपने हाथ से दबा लिया था.

फिर मैंने भाभी का शर्ट उतार दिया और ब्लैक ब्रा के ऊपर से ही उनके दूध मसलने लगा.बीएफ हिंदी जानवर: इतने में रमेश अंजलि के मम्मों को कस कर दबा दिया, जिससे उसका मुँह खुल गया और रमेश ने उसी पल अपने लंड को मुँह में डाल दिया.

उसने आगे बताया कि सुरीली पहले तो बहुत हैरान हो गयी थी कि जब उसने आपकी और आपकी दीदी की जबरदस्त चुदाई की कहानी पढ़ाई थी.मेरे ससुर के हाथ मेरी चूचियों पर आ गये थे और वो मेरी नाइटी के ऊपर से मेरी चूचियों को जोर जोर से दबा रहे थे.

करीना कपूर एक्स एक्स - बीएफ हिंदी जानवर

दूसरे ही हफ्ते मैंने कल्पना की गांड की चुदाई भी की और हम दोनों ने एक दूसरे का पानी का स्वाद भी ले लिया.सारा ने लकी की टी शर्ट उतार दी और उसके बरमूडा का बटन खोल कर ज़िप नीचे की.

दो मिनट तक हम दोनों थोड़ी बहुत इधर उधर की बातें हुईं, फिर मैं चला आया. बीएफ हिंदी जानवर मैंने पहली बार वेब कैम सेक्स चैट तब की जब मैं कॉलेज के सेकेंड इयर में था.

उसने मेरा एक हाथ पकड़ा और अपने लंड के पास ले जाकर उसे पकड़ने का इशारा किया।मैंने शर्माते हुए उसके लंड को अपने हाथ में ले लिया। उसका लंड मेरे हाथों में नहीं समा रहा था.

बीएफ हिंदी जानवर?

कुछ ही देर में उसने मेरी शर्ट का बटन पूरा खोलकर मेरी ब्रा के ऊपर से चूचियों को दबाना शुरू किया. एब बार एक सहेली अपने पति के साथ दूसरी के घर आयी तो …हैलो फ्रेंड्स, मैं रोहित 45 साल का विवाहित पुरुष हूँ. अब मैं जेठजी के लंड को अपने हाथों में आगे पीछे करने लगी और मुँह से सुपारे को चूसने लगी.

मैंने दीदी को बोला- देखो, क्या आपको ऐसा ही लड़का चाहिए था?उसने मेरी तरफ देखा. द्वितीय वर्ष में था। तभी मेरी दोस्ती फेसबुक पर एक दीप्ति नाम की लड़की से हुई।दीप्ति मिर्ज़ापुर की रहने वाली थी और विद्यापीठ के एफिलिएटेड कॉलेज से बी. जब मैं उससे कॉफ़ी पीने के लिए मिली, तब नवीन मुझे पहचान गया और बोला- तू तो वो अंजलि है ना … जो इकबाल के अड्डे पर डांस करती थी.

मुझे भी काफी दिन बाद लंड चूसने को मिला था तो मैं भी पूरी तन्मयता से लंड चूस रही थी. मैंने उसकी चिकनी जांघों को चौड़ा किया और अपने लौड़े को उसकी चिकनी चूत से रगड़ा. [emailprotected]सिस्टर Xxx कहानी का अगला भाग:बहनों की अदला बदली और ग्रुप सेक्स- 2.

कार्तिक ने अपनी प्रोफाइल में अपनी फोटो नहीं लगाई थी इसलिए एक दिन मैंने कार्तिक से उसकी फोटो मांगी. लेकिन साली पूरी रांड थी इसलिए मुझे पटाते हुए बोली- देखो, तुम ये बात किसी से मत बोलना और न ही चेयरमैन से कुछ कहना.

कुल मिलाकर आप कह सकते हो कि चुदाई के मामले में मुझे बहुत ज्यादा गंदापन पसंद है.

जेठजी ने एक बार लंड थोड़ा बाहर निकाला और फिर से मेरे मुँह में जोर से लंड को घुसा दिया.

आंटी के जिस्म की कसावट एकदम टॉप क्लास की थी और वो एकदम गोरी सी महिला थीं. रोशनी में सरिता भाबी उसे देख कर चौंक गयी और उसके मुँह से निकला- अरे तू तो वही लड़का है, जो मुझको देखता रहता है. पर उसको बहुत तेज़ दर्द हो रहा था और छटपटाहट में उसने मुझे धक्का दे दिया.

जिसको पहनने से वो रस्सी सुरीली चूत और गांड के अन्दर ही रहने वाली थी. अपने बेटे के मोटे लंड को सामने देखकर कुसुम की सांसें गर्म होने लगी थीं. हम दोनों ने कुछ देर एक दूसरे को चूमा और उसके बाद हमने अकेले घर में ओरल सेक्स किया.

मैंने पूछा- तुम्हारे पास कोई टच वाला मोबाइल है, उसमें मैं अपने छोटू का फ़ोटो भेज देता हूं.

वो मेरे दोनों चूचुकों को अपनी उंगलियों से मींजते हुए उन्हें प्यार करने लगा. पर उन दोनों ने कहा कि एक बार हम तीनों बाथरूम में साथ में नहा लेते हैं, फिर चले जाएंगे. रोमी बोला- क्या तुम्हारी गांड अभी तक किसी ने नहीं मारी है?सरिता भाभी बोली- नहीं … मेरी गांड अभी तक किसी ने नहीं मारी.

मुझे चोद दे … प्लीज।मैंने उसकी चुदास को समझा और चुदाई के लिये तैयार हो गया. उसकी उईई ईई ऊईई आहह की सिसकारियां निकलने लगी।अब वो भी अपनी गांड चलाने लगी मैं लंड को अंदर तक पेलने लगा।उसने बताया कि उसके पति से उसका झगड़ा है, वो मायके में रहती हैं और 3 माह से उसकी चुदाई नहीं हुई है।मैंने देखा कि सब गहरी नींद में सो रहे थे. अब भाभी मचल गईं- मेरी चुत में लंड डालो जान … कब से तड़पा रहे हो अब लंड पेल भी दो यार.

मेरे लंड हिलाने से जीजू को मजा आने लगा और वो कमर को आगे पीछे करते हुए लंड को ज्यादा सहलाने का इशारा करने लगे.

पड़ोसन की चूत की कहानी के पिछले भागचूत में लंड लेने का जुगाड़में अब तक आपने पढ़ा था कि इस बार भाभी ने अपना शिकार अपने नए किरायेदार विजय को बनाया. फिर उसने कुसुम से पूछा- क्या तुम भी रोहन से साथ सेक्स करना चाहती हो?इस पर कुसुम शेखर से इतना ही बोल पाई- शेखर, मैं आपको धोखा नहीं देना चाहती.

बीएफ हिंदी जानवर थोड़ी देर में मेरी बीवी वापस आ गयी और रानी की सास ने उससे कहा कि इसको स्टडी रूम में ले जाओ. एक दिन रात में उन्होंने मुझे नॉनवेज जोक्स भेज दिए, जिसमें चुदाई की बातों का खुल कर बखान किया गया था.

बीएफ हिंदी जानवर निप्पल उसकी उंगलियों से मिंज रहे थे और होंठों पर उसके होंठ जमे हुए थे. क्या मैं ऐसा कर पाया?अब तक जंगल सेक्स कहानी के पिछले भागसबसे छोटी मामी को अपना लंड दिखायामें आपने जाना कि मैं किस प्रकार उर्मिला मामी जी को चोदने के इरादे से जंगल में लेकर गया और फिर किस तरह से मैंने जानबूझकर मामी जी के उरोजों को दबा दिया था.

अब मुझे कुछ समझ आने लगा था और मेरे बदन में चीटियां सी रेंगने लगी थीं.

स्टार सेक्सी फिल्म

फिर उसका टीशर्ट ऊपर की तरफ करके उसके दोनों बड़े बड़े चूचों को हाथ में पकड़ कर मसलने लगा और जल्दी-जल्दी पीने लगा. एक फुल फोटो में तो नंगी सुरीली बिल्कुल जन्नत की हूर की तरह दिख रही थी. उसने मुझे आवाज लगाई और चटाई पर उल्टी लेट गई।मैं तेल लेकर दीदी की मसाज करने के लिए आ गया।दीदी की गांड बहुत सेक्सी लग रही थी.

मुझे पता चल गया था कि लौड़ा इस जरा से छेद में घुसेगा, तो आज पक्के में इसकी चूत बुरी तरीके से फट जाएगी. वो टांगें हवा में उठा कर मुझे अपनी चूत के अन्दर दबाने लगी- आह साले फाड़ दे … मेरी चुत भभक रही है. वो अपने दांतों से मेरी अंडरवियर को नीचे खींच रही थी और उसने कुछ ही पलों में मेरी पूरी अंडरवियर को नीचे कर दिया.

कुसुम ने कच्छे के ऊपर से अपने बेटे के लंड को पकड़ लिया और उससे खेलने लगी.

हर साल मैं नासिर जी को ही राखी बांधती हूँ, लेकिन इस बार नहीं बांधी थी. मैंने उसे समझाया कि हमारे जिस्म की जरूरत अगर पूरी नहीं हो रही है, तो उसे मिटाना गलत नहीं है. मैंने उन्हें बेड पर सीधा लिटाया और उनकी चुत को धीरे धीरे मसलने लगा.

वे अपने दोनों हाथों से मेरी कमर को पकड़कर धक्का लगा रहे थे, मुझे पीछे अपनी तरफ खींच रहे थे. भाभी ने भी अपनी नशीली आंखों से विजय को देखा और कहा- इरादा तो कच्चा खा जाने का है मगर इधर दरवाजे पर खड़ी रखोगे, तो कैसे खा पाऊंगी?विजय ने दरवाजे से हटते हुए भाभी को अन्दर आने का इशारा करते हुए कहा- कितना अन्दर आओगी जान … मेरी तो नली ही टूट जाएगी. मुझे उसके बारे में बाद में मालूम हुआ कि ये लड़की इस बिल्डिंग में अकेली रहती थी.

तभी उसने मेरे होंठ छोड़े और बोली- यही प्यास है न … कैसा लगा!इस बार मैंने उसे चौंका दिया और उसके होंठों को अपने होंठों में जकड़ लिया. आकृति आंटी तो दिन में या कभी मुझे रात भर के लिए बुला लेती थीं, जिसमें कभी रिट्ज की चुदाई होती, तो कभी आकृति आंटी की.

वो बोली- राज तुम मेरी तरफ खिसक जाओ।अब मेरी हिम्मत धीरे धीरे बढ़ने लगी थी। मैंने उसकी नाईटी ऊपर करके उसकी जांघों पर हाथ फेरना शुरू कर दिया।उसे भी मज़ा आने लगा था, उसने अपनी टांगें मेरी कमर पर लपेट दी।मैं समझ गया कि उसकी तरफ से हां है।मैंने उसकी नाईटी में अपना हाथ डाल दिया उसके बूब्स मसलने लगा. आज मैं जेठजी की हर इच्छा को पूरी करने को तैयार थी और उन्हें अपने हुस्न के जादू में फंसा लेना चाहती थी. एक पल को तो कुसुम उस तम्बू को देख कर मुस्कुरा उठी, फिर पास जाकर उसके लंड के उभार को बहुत गौर से देखने लगी.

इस पर सुमेधा बोली- अरे यार, अभी भी हम सब किसी 21-22 साल की लड़की से कम नहीं हैं, बस कोई मिले तो.

करीब शाम आठ बजे आंटी का फ़ोन आया और वो बोलीं- बेटा तुम हमारे घर आ जाना. अब मैं सोचने लगी कि मेरी हवस की आग मुझे यहां तक क्यों खींच लाई!मुझे न जाने क्यों बहुत आत्मग्लानि महसूस हो रही थी. उन्होंने अच्छे से थूक लगाया, तो मैंने भी उनकी चुत को थोड़ा सा चाट कर गीला किया और उनकी फुद्दी पर लंड रख तेज झटका दे मारा.

मुझे ऐसा लग रहा था कि कोई मेरे ब्लाउज को फाड़ कर मेरी चूचियों को जोर-जोर से दबा कर जूस ले. इधर इकबाल मुझे कॉल करता क्योंकि उसके अड्डे पर मेरी डिमांड बहुत हो गयी थी.

मैं उसके लंड को अपनी चूत में बर्दाश्त करती रही।फिर उसका निकलने को हो गया. चुत चटवाने के कुछ देर बाद वो मस्त आवाज में बोली- सच में आज बहुत दिन बाद ऐसा मजा आया. अगले दिन आकृति आंटी ने मुझे करीब शाम को साढ़े आठ बजे अपने घर जाने को बोला और ये भी बताया कि उसने रिट्ज को भी ये बोला है कि मैं दो दिनों के लिए बाहर जा रही हूँ, तो तुम अकेली रहोगी.

लकवा इन हिंदी

ये बोल कर बसंत ने मेरी चड्डी नीचे खींच दी और मेरी बड़ी बड़ी घुंघराली काली झांटों में छिपी मेरी कोमल चुत उसके सामने नुमाया हो गई.

मैं रोज़ रात को अश्लील पिक्चर और अन्तर्वासना पर कहानी पढ़ कर अपनी चूत में उंगली करके अपने आपको दिलासा दे रही थी. ’ कहा और उनकी तरफ देखने लगी कि अब क्या है भोसड़ी के अब जाओ … यहां क्या मां चुदाने के लिए बैठे हो. हमारे बीच अब पहले से ही बोलचाल का व्यवहार था, तो हम दोनों सोने से पहले थोड़ी बहुत बात कर लिया करते थे; थोड़ी मस्ती मजाक भी कर लिया करते थे और सो जाते थे.

मैंने भी अपने लौड़े को तेज़ तेज़ करना शुरू कर दिया।उसकी सिसकारियों से मुझे और जोश आ गया।मैंने उसे बिस्तर से उठाकर सोफे पर झुका दिया और उसकी गान्ड में लन्ड घुसा दिया और तेज़ तेज़ चोदने लगा. कुछ देर बाद मैंने उससे कहा- पूजा, सही से चाटने तो दो मुझे … क्या लुक लुक कर रही हो. कैलकुलेटर ओपन सेक्सीउसकी चुत से काफी सारा पानी निकलने लगा जिससे मुझे धक्का लगाने में आसानी हो गई.

उन्होंने एक दूसरे के कान में कुछ फुसफुसाया और फिर वो उठकर नीचे चली गयी।मुझे लगा कि मीनू नाराज होकर नीचे गयी है।दो मिनट के बाद मामा भी उठकर नीचे चले गये. मैं राज़ एक बार से एक गर्लफ्रेंड सेक्स चुदाई की कहानी लेकर हाजिर हूँ.

इस बार कुसुम की चीख पहले से तेज़ निकल गई थी और उसकी आंखों से आंसू की बूंदें भी छलक आई थीं- ऊऊओह येस … कितना मोटा है तेरा लंड रोहन … आहह मज़ा आ गया … उम्म्म … ओह … यसस्स. और फिर इसी तरह काफी तरह के झूलों पर झूल कर जब रिट्ज थक गई तो हम वहीं एक गार्डन में आ गए. आपको ये चुदाई का मजा कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं.

जाते जाते मैंने उसकी गांड पर एक चपेट मारकर बोला- अबकी बार इसका नंबर है, तैयार चिकनी करके रखना. थोड़ी देर में मैंने अपना माल भी उसकी चूत के हवाले कर दिया और हम दोनों एक दूसरे से लिपट कर नंगे ही सो गए. अब कुसुम ने बोलना शुरू किया- देखो रोहन … जो हम लोग आज करने वाले थे, वो एक तरह का पाप है.

अचानक मैंने बाहर जाकर उसे आवाज लगाई- अरे साली जी, क्या हाल चाल हैं?चंचल मेरी आवाज सुन कर एकदम उठ कर बैठ गई, उसने किताब को चादर के नीचे छिपा दिया.

जंगल सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मैं बहाने से अपनी सबसे छोटी मामी को अपने साथ जंगल में ले गया. आखिर में उन्होंने बोला कि आज काफी दिनों बाद मैंने किसी से इतनी देर और इतनी बात की है.

मेरे ममेरे भाई और बहन शहर में रहकर पढ़ाई करते थे और बड़े मामा दूसरे मकान में रहते थे।गर्मियों का मौसम था। घर में मेरे नाना-नानी थे लेकिन वो लोग नीचे सोये हुए थे. आपको तो समझ आ ही गया होगा कि मुझे जो चाहिए था, वो शायद आज मुझे मिलने वाला था. करीब 5 मिनट तक हम दोनों ने किस क़िया, फिर मैं नीचे उनके मम्मों पर आ गया.

मैंने सहारा देकर उसे उठाया और फिर उसको धीरे धीरे उसके रूम में ले गया. यह बात उस वक्त की है जब मैं कॉलेज के दूसरे साल में गई थी। हम लोग अपने ग्रुप में 5 लड़कियां थीं और हम सभी लडकियां अपने आप में ही मस्त रहती थी।कॉलेज की बाकी लड़कियों या लड़कों से हमें कोई मतलब नहीं रहता था। बारी बारी से हम सभी लडकियां चुदाई का मजा ले चुकी थीं मगर कभी भी किसी को इस बात की भनक नहीं लगी।तो जब मैं कॉलेज के दूसरे साल में गई तब तक मैं कुँवारी थी. जब मैंने कोई विरोध नहीं किया, तो उसने अपना हाथ और अन्दर ले जाकर मेरी चुचियों से टकरा दिया.

बीएफ हिंदी जानवर उसे याद करके लंड हिलाने लगा और झटके मारने लगा थोड़ी देर में मेरा पानी निकल गया. उसने लंड सहलाते हुए कहा- ठीक है लेकिन मैं तुम्हारे लंड पर बैठकर चुदाई करूंगी.

घोड़ा कुत्ता का सेक्सी वीडियो

मैंने इसी समय उसकी कमर पर हाथ रख कर एक जोरदार ठुमका लगाते हुए उसकी आह निकाल दी. सारा बोली- तो लाओ मेरे लिए भी कोई मोटा सा लंड, जिससे मैं अपनी खुजली मिटाऊं. और फिर पूरा कोन खत्म हो जाने के बाद उसके अन्दर की सारी आइस क्रीम मेरे लंड पर लपेट दी.

मगर कमल को न जाने क्या सूझी कि उसने अपने होंठों को सारा के होंठों से सटा दिया और लकी को भी आगे आने का इशारा कर दिया।लकी ने भी सारा के बाल हटाकर उसकी गर्दन पर चूमना शुरू किया और उसने अपना एक हाथ आगे से ऊपर करके उसके मम्मों को दबाना शुरू किया. पांच मिनट में ही वो जोर जोर से सिस्कारियां लेने लगी- आआह … अम्म्म्मा. किन्नर के सेक्सी वीडियोफिर धीरे से मैंने भाभी की टी-शर्ट को ऊपर कर दिया और उन्हें किस करते हुए सामने आ चुकी ब्रा को भी ऊपर को कर दिया.

जब हम सभी लोग खाना खाने बैठे, तब मेरे एक तरफ मेरी वाइफ मधु बैठी थी और मेरी दूसरी बाजू में मेरी साली चंचल बैठी थी.

पर विजय मानने वाला नहीं था उसने तो सरिता को ताबड़तोड़ चोदना शुरू कर दिया था. विजय यह देख कर सोच में पड़ गया कि सरिता की चूत का छेद लाल था और चूत काली थी.

दरअसल ये सब रोहन का ही प्लान था कि जब मॉम मुझे जगाने आएगी, तो मैं अपना लंड मॉम को दिखाऊंगा, जिससे मैं आगे बढ़ने की शुरुआत कर सकूं. फिर से एक बार आंटी ने मेरे होंठों से शुरू होकर मेरे पूरे चेहरे और मेरे गले पर चूमना चालू कर दिया. अब तो वो दोनों लोग अपने साथ कोई ना कोई को ले आते हैं और मेरे दोनों छेद में लंड पेल कर मेरी सैंडविच चुदाई करते हैं.

मैंने पूछा- क्या हुआ मॉम?तो वो बोलीं- तेरा लंड तो तेरे बाप से भी बड़ा है.

वो बोली- मैं बन जाऊं फिर?मैंने मामी की ओर हैरानी से देखा तो वो जोर जोर से हंसने लगी. इतने में सड़क पर कुछ ट्रेफिक कम हुआ और मेरी सारी सहेलियां सड़क पार करके चली गईं. [emailprotected]सेक्सी बहू की कहानी का अगला भाग:मेरी बीवी ने मेरे बड़े भाई चुत चुदवाई- 2.

करीना कपूर की एक्स एक्स एक्स वीडियोलकी ने सारा की फ्रॉक में ऊपर से अंदर हाथ डाल दिया और उसके निप्पल दबा दिए. पहले तो उसने पेमेंट के लिए मना किया मगर मैंने कहा- एकाध दिन की बात होती तो मैं भी नहीं कहता, पर ये तो रोज का मामला है, इसलिए आप मेरी बात मान लीजिएगा.

जापानी लड़कियों की सेक्सी फिल्म

मैंने कुछ धक्के तो इतनी जोर के मारे थे कि मायरा को लगा होगा कि मेरा पानी निकल रहा होगा. मैंने उसके चेहरे को थोड़ा सा ऊपर उठाया और उसके कोमल से होंठों को धीरे से अपने होंठों से छुआ. अनुराधा की गोरी कमर का साइज़ अट्ठाईस इंच और उभरे हुए मुलायम चूतड़ों का साइज़ चौंतीस इंच था.

मगर अब मैंने एक पल का समय भी ख़राब नहीं किया और उसकी चूत को चूसने लगा. इन भाभियों को किताबों के अन्दर देखकर भी ऐसा लगता, जैसे ये अपनी चूत किताब से बाहर निकाल कर देती हैं. पहले तो मैंने सोचा कि सुनील ऐसे ही बोल रहा होगा, वो क्यों अपनी सगी बहन को मुझसे चुदवाएगा और वैसे भी मेरी दीदी युविका इसके लिए राज़ी नहीं होने वाली थीं.

जेठानी वहां नहीं थी तो मैंने फटाफट नाइटी पहनी और अपने बेड पर कमर के नीचे तकिया लेकर लेट गई. उसने ऐसा पहली बार किया होगा लेकिन उसकी खुशी को अपने समय में कैद कर लिया. मामी ने झट से मेरे होंठों पर अपनी हथेली रख दी और बोलीं- शुभ शुभ बोला करो.

मगर अभी इस महामारी के चलते काफी दिनों से मुझे किसी से चुदने का कोई मौका नहीं मिला था. एकदम गुलाबी चूत … बिल्कुल साफ … बिना बालों की चूत थी उफ़ … लंड की मां चुद गई थी.

हालांकि उसकी इस मामूली सी तड़फ से ऐसा साफ़ दिख रहा था कि वो पहले भी मिथुन से चुद चुकी है.

जब चंचल अपने पजामे को ढक रही थी उतनी देर में मैंने चंचल की बेडशीट के नीचे रखी किताब को बाहर निकाल कर अपने हाथ में ले ली. अंग्रेजी गानाहम दोनों नेपोर्न फिल्मदेख देख कर लगभग सभी स्टाइल में सेक्स किया है. मस्तानी फिल्मवहां पर हम दोनों की चूत और गांड कैसे ठुकी?नमस्कार मित्रो, मैं आज फिर हाज़िर हूँ अपनी हॉट रंडी सेक्स स्टोरीमैं बेशर्म कालगर्ल बन कर चुद गयीका अगला भाग लेकर। उम्मीद हैं कि आपको मेरी कहानी पसंद आ रही होगी।इस कहानी को सुनकर मजा लें. मुझे बहुत जोर की पेशाब लगी … तो मैं पेशाब करने बाथरूम में जाने लगा.

मैंने भाभी के मम्मों को चूसते हुए ही उनके पेटीकोट का नाड़ा खोल कर गिरा दिया, जिससे भाभी अब सिर्फ ब्रा और पैंटी में आ गई थीं.

कभी मैं चुत की फांकों को जीभ से चाटता, तो कभी चूत के अन्दर अपनी जुबान डाल कर चूत के रस को साफ़ करने लगता. फिर हम दोनों हाथ पकड़े एक दूसरे के साथ घूमने लगे; रेस्तरां में खाना खाने गए. फिर सुबह से दोपहर आकृति आंटी घर पर खाली और अकेली रहती थीं क्योंकि रिट्ज स्कूल में रहती थी.

ऐसा नहीं था कि मैं अपनी चूत पहली बार चुदवा रही थी लेकिन अब तक जिन जिन से भी चुदवाया था उन सबका लौड़ा इतना बड़ा नहीं था जितना सागर का है. जेठजी ने अपने दोनों बड़े बड़े हाथों की उंगलियों से मेरे बाएं स्तन के निचले हिस्से को चारों तरफ से घेरा बना कर जोर से निचोड़ दिया, जिससे मेरा स्तन ऊपर की ओर उभर गया. उसका लंड खड़ा होते ही मैं उसके लंड पर चढ़ गई और वूमेन ऑन टॉप की पोजीशन में आकर उससे अपनी फुद्दी मरवाने लगी.

भाभी सेक्सी वीडियो भोजपुरी

तुम्हारी इतनी कसी चूत तो किसी बिना चुदी हुई लड़की की ही होगी, जो अभी मिलना मुश्किल है. पता नहीं, इस बात से मुझमें ऐसा क्या जोश भर गया था कि मैं उसको किस करते हुए ऊपर चला गया और जोर जोर से होंठों पर चुम्बन करने लगा, उसके होंठों को काटने लगा. मैं जब उनकी चुत में जोरदार धक्कों के साथ लंड को अन्दर बाहर करता, तो धक्कों की पट पट की आवाज पूरे कमरे में गूंजने लगी थी.

मैं उसे देखते हुए बोला- जान, बड़ी कमाल की लग रही हो … तुम्हें यूं देख कर मेरा लंड तन कर तंबू जैसा बन गया है.

सुरीली के कातिल शरीर ने मुझे उस टाइम की याद दिला दी, जब मैं मेरी बहन को शुरू में चोदता था.

मैंने लंड चूसना छोड़कर उनकी आंखों में देखा, तो जेठजी ने मुझे उठाया और पलंग पर लिटा दिया. फिर दो दिन बाद में दिल्ली आ गया आते समय रास्ते भर पुलिस वाली रजनी को याद किया और दो बार मुट्ठी मारी. राजस्थान saxअपने बेटे की जीभ का स्पर्श अपनी चूत पर पाकर कुसुम की मादक चीख निकल गई और वो उसी पल झड़ने लगी.

मैं बिहारी में कहूँ, तो बिल्लो रानी कही, तो जान दे देयी, हाय रे मोर बिहार वाली विपाशा. चुदाई के बाद या चुदाई से पहले चूत से बहते हुए मूत को पीना भी मुझे बहुत मस्त लगता है. करीब बीस मिनट की ताबड़तोड़ ठुकाई के बाद मैं आकृति आंटी की गांड में ढेर हो गया.

ये सुनकर पूजा डर गई और बोली- चल ठीक है … मैं मम्मी को कुछ नहीं बताऊंगी, तू भी मत बताना. उसकी टांगें उठा कर मैंने अपने कंधे पर रख लीं और लंड अन्दर डालकर उसकी गांड मारने लगा.

किसी तरह से फिर मैंने उनको रिक्वेस्ट की और मनाया तो वो मान गयी और ऊपर सोने के लिए तैयार हो गयीं.

फिर एक दिन मुझे किसी काम से गोपालगंज जाना था तो मैं गाड़ी लेकर निकल गया. आपको ये चुदाई का मजा कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं. कुसुम अब शेखर से बोलने लगी थी- तुम घर में आते ही मुझे चोद दिया करो … और सुबह जाने से पहले भी चोदकर जाया करो.

सीआईडी दिखाइए हम लोग नए साल की मस्ती में कुछ दूर तक घूमेंगे और थोड़ी देर में वापस आ जाएंगे. मेरा लंड काफी तेज तेज धक्कों के साथ जाकिरा की चूत में अंदर बाहर हो रहा था.

मैं बस मुस्कुरा कर रह गया और मैंने बताया कि ये मेरी एक परिचित की आंटी की बेटी है. रोहन ने अन्दर का नजारा देखा कि उसकी मॉम अन्दर नंगी बेड पर लेटी हुई थी और उसकी आंखें बंद थीं. दीदी अपनी उंगली को अपने मुंह में लेकर चूस रही थी और एक हाथ से अपने निप्पलों को मसल रही थी.

तामिळ सेक्सी गर्ल

मैंने बारी बारी से एक एक बोबे को मुंह लगाकर पीया और मामी मेरी पैंट को खोलने लगी. करीब दो मिनट बाद मेरा दर्द कम होने लगा और अमित ने मेरे मुँह को छोड़ दिया. उसने मुझे अपनी नयी ड्रेस दिखायी और उसके उस रूप को देखकर मेरा दिल घायल हो गया.

इसलिए मां मेरी मौसी के यहां चली गयी और नाना-नानी भी अपनी दूसरी बेटी से मिलने के लिए चले गये. मैं नीचे बैठ गया और भाभी की गदराई हुई गोरी और मोटी जांघों को देखकर एकदम से गर्मा गया.

मैंने अपने सारे कपड़ों को खोल दिया और शॉवर चालू करके अच्छे से अपने खड़े लंड को पकड़ कर उसे मसलने लगा.

पास ही में खड़े सोनू ने भी ये आवाज सुनी, तो वो उस आवाज के दिशा में आगे आने लगा. उसी समय मैंने अपनी कमर को भी ऊपर की ओर धकेला और अपने बाएं हाथ से जेठजी की कमर को पकड़ कर चुत की ओर धकेलने का इशारा किया. मुझे जिन्दगी में आज पहली बार किसी मर्द के होंठों और जीभ का टच अपनी चुत पर मिला था.

निशा भाभी- मतलब फुद्दी लंड का मिलन!मैं- वो तो है ही … अभी फुद्दी चूसने का मज़ा भी बाकी है जान. इतना बड़ा लंड तो असलियत में मैं पहली बार देख रही थी इतना बड़ा लौड़ा तो मैंने सिर्फ अश्लील पिक्चरों में अफ्रीकन लोगों का देखा था. उस जूस के साथ मेरी चूत का कामरस भी मिलता हुआ उसके मुँह तक जा रहा था.

वो भी जब मैंने पहले उससे उसकी चूचियों का नाप पूछा तो उसने ब्रा का साइज़ बता दिया था.

बीएफ हिंदी जानवर: हमें सही वक्त भी नहीं मिल रहा था क्योंकि उस टाइम हम दोनों के एग्जाम थे तो हमने एग्जाम खत्म होने पर सेक्स करने का फैसला किया. तो वो बोली- आंटी नहीं अंजुमन बोलो राज!मैंने एकदम से झटके से लंड उसकी मखमली चूत में घुसा दिया और अंजुमन की चीख और आंसू निकलने लगे.

अब मैं वहीं पर रुक गया क्योंकि लंड मोटा और लम्बा था और आरिफा की चूत बहुत टाइट थी. जब मैं पैग लेकर ग्राहक के नजदीक जाती, उस समय कोई मेरी गांड पर थप्पड़ मार देता, तो कोई मेरे दूध दबा देता, कोई मेरी चुत सहला देता. फिर मैंने घर पर कॉल करके बता दिया कि हम दोनों सुबह आएंगे, बारिश होने से आने के लिए कोई साधन नहीं मिल रहा है.

अंत में कुछ आइस क्रीम मेरे लंड से बह कर गोलियों तक भी आ गयी थी, जिसको आकृति आंटी ने चाट चाट कर साफ की.

मुझे चुप देखकर जेठानी ने मुझसे पूछा- तुझे अपने जेठजी पसंद आए?मैंने सर झुकाये हुए ही हां में सर हिला दिया. लिली के बदन के बहुत मादक महक आ रही थी, जो मुझे उसकी तरफ खींच रही थी. आह क्या बताऊं … उस वक़्त वो इतनी सेक्सी लग रही थी कि अगर उसकी मम्मी न होतीं … तो उसको वहीं पटक कर चोद देता.