देहाती देहाती बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,कामवाली का सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

चुत सेक्सी वीडियो: देहाती देहाती बीएफ वीडियो, माँ पापा के जाने के बाद अगले दिन मैं दीदी के घर गया, तो पता चला कि उनकी देवरानी कहीं गयी हुई है.

न्यू सेक्सी नंगी

मुझे उनकी इस हरकत पे हंसी सी आ गई क्योंकि उनके उस हाथ में डिल्डो भी था और हाथ हिलाते हुए ऐसा लग रहा था, जैसे वो मुझे अपना डिल्डो दिखा रही हों. कॉलेज गर्ल हॉट सेक्सीदो घंटे बाद उठ कर मैंने उनसे कहा- अब से अब घर में या तो पूरी नंगी रहोगी या सिर्फ पेंटी में रहोगी और जब बाहर जाओगी तो बिना पेंटी के ही जाओगी.

मैं उनको घोड़ी की तरह बना के पीछे से अपना लंड उनकी चुत में डालने लगा. नया सेक्सी वीडियो चालूयहाँ तक कि उसने बापू के आधे लंड को अपने मुँह में ले लिया और चुसकने लगी.

सुमेर से तेल मांगा, सुमेर ने तेल की शीशी से उसे तेल दिया, उसने लंड पर लगाया, थोड़ा तेल मेरी गांड पर चुपड़ा और लंड पेल दिया.देहाती देहाती बीएफ वीडियो: रात में करीब एक बजे के बाद उनका कॉल आया- नींद नहीं आ रही है?मैं- आपको देखकर नींद गायब हो गयी है, आपके पति कहाँ हैं?सुकन्या- सो रहे हैं.

जिस दौरान खून बहता है, उस दौरान न सेक्स करते हैं न ओरल। फारिग होने के बाद लड़की साफ सुथरी हो जाती है.मैंने बहू की चूत को मुग्ध भाव से निहारा; बहूरानी की चूत के दर्शन मुझे सदा से ही अत्यंत प्रिय रहे हैं.

डॉग लड़की सेक्सी पिक्चर - देहाती देहाती बीएफ वीडियो

मतलब राशिद से थोड़ी कम ही थी और इस बात से जहां मुझे थोड़ी मायूसी हुई, वहीं अहाना को शायद ज्यादा खराब लगा था।लेकिन उसने हमारी मायूसी पर कोई ध्यान दिये बगैर दो बाल्टी पानी गैलरी में उड़ेल दिया और उसमें फिसल गया।फिर अहाना ने पहल की.मैं उनको किस करने लगा, तो आपा मुस्कुराती हुई बोलीं- तू बहुत ज़िद्दी है.

इसका मतलब ये भी हुआ कि आपको लंड का इन्तजार रहता है, अब वो चाहे मेरा हो या भैया का हो. देहाती देहाती बीएफ वीडियो उसका पिता देर से आएगा, यह जान कर खाना खाने के बाद पद्मिनी सभी बातों को भूलकर सोने चली गयी.

मैंने उन्हें ठहरने का इशारा किया और उठ कर तेल की शीशी उनके हाथ में दे दी.

देहाती देहाती बीएफ वीडियो?

तो स्पीड बढ़ाऊँ?तो उसने हाँ बोला और फिर उसे उसे थोड़ा जोर से चोदने लगा और लंड भी अन्दर डालता गया. वो मुझे बोल रहा था- मैं तुमको बहुत अच्छे से चोदूँगा और तुमको मुझसे चुदवाने में बहुत मजा आएगा. मुझे अपने द्वारा लगे जा रहे धक्कों से ज्यादा आर्थर द्वारा उसकी गांड में मारे जा रहे धक्कों का अनुभव हो रहा था, मुझे उसके नताशा की गांड में मारे जा रहे धक्के चूत में स्थित अपने लंड पर भी महसूस हो रहे थे.

मैंने लंड बाहर निकाल कर पहले उसकी चुत की मलाई को चाटा, फिर चुदाई चालू की. आप सबको लग रहा होगा कि कम्मो का क्या हुआ उसे मोबाइल दिलवाया कि नहीं. लेकिन थकान की वजह से ऑफिस में बहाना करके छुट्टी ले ली।दोपहर में नूतन का फ़ोन आया- भाई, मैं तेरे गेट के बाहर हूं, मम्मी और दी कल आएंगे क्यूंकि उन्हें उन लोगों ने रोक लिया।वो मेरे कमरे पर आई.

तभी पीयूष ने मेरी लैगी के अन्दर हाथ डाल दिया और बोला कि मैंने तुम्हारी चूत आज तक नहीं देखी. चूत के आस पास का सारा भाग, जांघों का काफी बड़ा भाग, समस्त झांट प्रदेश रेखा रानी के मधु और मेरे वीर्य से सना हुआ था. तो कहने लगी- कैसे पासिबल होगा?मैंने कहा- अभी काम वाली को आने में टाइम है… तब तक?तो बोली- ठीक है लेकिन थोड़ा जल्दी करना!मैं मम्मी को पकड़ कर दूसरे कमरे में ले गया, उनकी सलवार उतरवा दी और उनकी चूत चाटने लगा.

भाभी ने अपना हाथ पीछे करके लौड़े की लंबाई और मोटाई का जायज लिया और मेरी तरफ घूम गई. अब मेरा फ्रेंड अपना लंड मेरी वाइफ के मुँह में दे कर चुसवाने लगा और रंजीत मेरी वाइफ की चुत चाटने लगा.

तो क्यों न हम लोग भी मस्ती करें, टेंशन लेकर क्या फायदा! सब लोग मिलकर मम्मी को नंगी कर के खूब मज़े लेंगे और फिर भैया इसकी कोख में अपना बच्चा भी टिकायेंगे!इतना कहकर शीतल सुनील की गोदी में में जाकर बैठ गयी! उसने भी झपट लिया उसे और शीतल की जाँघें सहलाने लगा.

वो बोलीं- ठीक है, चलो देखते हैं।तो इस प्रकार मेरी कहानी का एक भाग और ख़त्म होता है, लेकिन अभी बात बाकी है.

बताओ?’ मेरी दिलचस्पी फिर पैदा हो गयी।बताती हूँ। इससे अच्छा मौका और कहां मिलेगा।” वह हंसती हुई किचन की तरफ चली गयी।कहानी जारी रहेगी. शुरू में तो मैं उनसे ज्यादा बात नहीं करता था क्योंकि उनकी प्रोफाइल में पिक नहीं लगी थी. थोड़े ही टाइम में वो गरम हो गईं और बिस्तर पर टांगें पसार कर चित्त लेट गईं.

अगर आपको मेरी चुदाई की कहानी अच्छी लगी हो तो प्लीज़ आप रिप्लाई जरूर कीजिए. भले ही लड़की छिनाल हो, इधर मैं भी वन्द्या की गांड में अपना पूरा लौड़ा घुसा रहा हूं. भाभी को दर्द हो रहा था लेकिन फिर भी वो बोल रही थीं- डाल दो अपना लंड मेरी गांड में… फाड़ दो इसे भी.

लगातार 15 मिनट तक किस करने के बाद वो बोलीं- चलो बेडरूम में चलते हैं.

फिर मैं उनके पास गया और पूछा- खाला, ये सब क्या है?खाला बोली- आमिर, आज तुम्हारा इम्तेहान है. फिर दो दिन हमने बहुत चुदाई की और मैंने भाभी को अलग अलग स्टाइल में चोदा. मेरे भी बर्दाश्त करने की सीमा नहीं नहीं रह गयी थी और फिर हम दोनों के होंठों का एक साथ मिलन हो गया.

अब वो चली गई, बाद में उसने फ़ोन किया और कहा कि उसे नीचे दर्द हो रहा है और चलने में दिक्कत हो रही है. दस मिनट तक ऐसे किस करने और उसके बूब्स दबाने के बाद मैंने मेरा हाथ उसके पैंटी के अंदर डाल दिया और आगे पीछे करने लगा जिससे वो और गर्म हो चुकी थी. मैं तो होश में नहीं था करीब दस मिनट से ज्यादा की एकता की गांड चुदाई के बाद मैंने उसे ऊपर से हटाया और डॉली को बेंच पर लेटा दिया.

मैं सोचने लगा कि जब मुँह में इतना मज़ा आ रहा है तो चूत में लंड को कितना मज़ा आएगा.

ये कुर्ता ठीक उसके घुटनों पर तक ही आता था, मगर ये कुर्ता स्लीवलैस था और पद्मिनी पर काफी बड़ा लग रहा था. हालाँकि वो बड़े रफ तरीके से मेरी धर्मपत्नी की चूत मारने में लगा हुआ था लेकिन क्योंकि नताशा को भी नशा चढ़ा हुआ था, इसलिए उसे मजा आ रहा था और वो भी खूब जोर-जोर से चिल्लाते हुए आर्थर के लंड को अपनी चूत में पिलवा रही थी.

देहाती देहाती बीएफ वीडियो ऊपर दिनेश ने अब मेरे एक दूध को पकड़कर इतने जोर से दबा दिया कि मेरी चीख निकल गई. उस वक़्त कहाँ थी आपकी यादाश्त?मैंने फिर से बनते हुए कहा- आप शुक्र करो कि मैंने ससुर जी और सासू जी को नहीं बताया यह सब… वरना वो रात को ही बुआ जी को बुला लेते और आपकी इस हरकत के बारे में बताते.

देहाती देहाती बीएफ वीडियो मेरी गीली चूत से अन्तर्वासना के सभी पाठको को आपकी प्रभा का सेक्स भरा नमस्कार!दोस्तो, अपने मेरी पिछली कहानीमाँ बेटा सेक्स: बेटे ने मेरी हवस मिटाईको इतना पसंद किया उसके लिए आप सभी का अपने जिस्म से शुक्रिया अदा करती हूँ. मेरे मुँह से निकल गया- क्या कमाल की मेन्टेन करके रख है बॉडी को, आपको मसाज की कोई जरूरत ही नहीं है.

मैं जब उसको उठा कर बेड पे ला रहा था, तब उसकी चूची से मेरा हाथ छू रहा था, जिस वजह से मेरा लंड अपने आकार में आ गया था.

रश्मिका मंदाना हसबैंड नेम

अब मैं धीरे धीरे खड़े होते हुए उनके पेट से लेकर फूली छाती तक अपने मुलायम हाथ और अपने चेहरे को रगड़ते हुए ले गया. धीरे धीरे मेरी रफ़्तार भी मैंने बढ़ा दी, मैं आंटी को पूरे जोर के साथ चोद रहा था, पूरे कमरे में फच फच थप थप की आवाज में गूंज रही थी, साथ ही आंटी की सिसकारियां भी गूंज रही थी. भाभी ने गुस्सा होते हुए कहा- ये तुमने क्या आम आम लगा रखा है, अभी तक तो मैंने उसको खाया भी नहीं है.

सही मौका देखकर मैंने अपना लंड ज्योति की चूत के छेद पर सैट किया और एक जोरदार धक्का लगा दिया, जिससे मेरा लंड ज्योति की चूत को फाड़ता हुआ करीब 3 इंच तक घुस गया. इस पोज़ में वो बड़े तगड़े तगड़े धक्के मार सकती थी और वैसा ही कर रही थी. इतना सुनते ही उसने मुझे धक्का देते हुए लिटा दिया और अपने खड़े हुए लंड को एक ही झटके में मेरी चुत में घुसेड़ दिया.

बिंदु ने पूछा- तब बताओ कुत्ता सबसे पहले कुतिया से क्या करता है?वो बोला कि वो अपनी ज़ुबान से कुतिया की चुत चाटता है.

मुझे तुमने एक रंडी बना दिया है, अब देखना मैं तुम्हारे घर की सभी औरतों को कैसे रंडी बनाती हूँ. बापू नहीं चाहता था कि उसके सिवाए कोई और मर्द उन मुलायम जिस्म के हिस्सों को छुए. यही कोई 9 बजे के आसपास मुझे दीदी ने जगाया तो मैं उठ कर हाथ मुँह धोने चला गया.

मैं तैयार थी, मैंने लाल साड़ी पहनी थी, जमाई जी के साथ ट्रेन में बैठ गयी। मेरे बगल में जमाई जी बैठे थे जमाई जी मेरी कमर में हाथ डाल दी. अब मेरा हाथ अपने आप ही दिनेश के लंड पर चला गया और दिनेश का लंड हाथों में पकड़ा, उससे पहले अपने आंसू पोंछे, अपने आप दिनेश का लंड हाथ से रगड़ने लगी और अपने मुँह तरफ खींचने लगी. मैंने कारण पूछा- क्या हुआ… कुछ तकलीफ हुई क्या?भाभी बोलीं- यार इस तरह का सेक्स मैंने जिंदगी में पहली बार किया है… ये खुशी के आंसू है प्रकाश… मैं ऐसी कभी नहीं झड़ी थी… ये पहली बार हुआ है.

वो मुझे बोल रहा था- तुम्हारे साथ एन्जॉय करने में अलग मजा है!और वो बोल रहा था- तुम मेरे एक फ्रेंड से भी चुदवाओगी. फिर मैंने पूछा- लेकिन हम ये सब करेंगे कहाँ?तो अंकल बोले- मेरा रूम सुबह 10 बजे तक खाली रहता है, कल आओगे क्या?मैं बोला- ठीक है, आ जाऊंगा।फिर अंकल ने मेरा नम्बर लिया और मैंने भी उनका नम्बर ले लिया और मैं काम पर चला गया.

मेरे रूम पे आते ही उसने इशारे से मुझे पास बुलाया, मैं उससे कुछ पूछता, उससे पहले ही उसने कहा- वाशरूम में छिपकली है, मैं कपड़े कैसे चेंज करूं?मुझे उसकी बचकानी बात पर हसीं और प्यार दोनों आ रहा था. पूजा, अगर तुम्हें सही लगे तो क्या हम एक दूसरे के काम आ सकते हैं?पूजा बोली-पापा जी, मैं कुछ समझी नहीं?ससुर बहू की कामुकता और चुदाई की हिन्दी सेक्स कहानी जारी रहेगी. लालजी का लंड इतना मोटा और बड़ा था कि वो एक बार में मेरे छोटे से मुँह में घुस ही नहीं रहा था.

मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था क्यूंकि रोज़ मैं आपके लम्बे लन्ड को सिर्फ देखती ही थी और उस दिन आपका लन्ड मेरे हाथ में था.

इसके बाद वो पद्मिनी के पास आया और बोला- चलो बेटी तुम्हें नहला दूँ, पसीने से भीग गयी हो और मेरे रस से भी सनी हो. मैं चाचा के कमरे में पहुँचा तो देखा कि वे बैग में अपना सामान पैक कर रहे थे और चाची पास में खड़ी थीं. मुझे लग रहा था कि भाभी मुझसे खफा हैं लेकिन उनके गुस्से में भी वो बात नहीं थी, जैसे एक प्रेमिका अपने प्रेमी से खफा हो जाती है.

अगले दिन सुबह सुबह भाभी के पति का कॉल आया और उन्होंने बताया कि वो आज और नहीं आएंगे. उसकी जवान कड़क चुची आह… कसम कोई हिज़ड़ा ही होगा जिसका लण्ड खड़ा ना हो जाए मेरी नंगी बहू को देख कर!मुझसे रुका नहीं गया, मैंने उसकी एक चुची क़ो चूसना चालू किया तो पूजा भी जाग गई- पापा क्या हुआ? आपका लंड तो फिर से मूसल जैसा कड़क हो गया.

फिर मैंने उससे कहा कि तुमने मुझे रोका क्यों नहीं?तो उसने कहा- मैं आपको दु:खी नहीं करना चाहती थी. सिर्फ जवान लड़के ही नहीं बल्कि सभी मर्द की नज़र पद्मिनी की जांघों पर और उसकी चाल पर ही होती थीं. मैंने कहा- उस अधिकारी के बारे में पूरी जानकारी जब आपको मिल जाए तो मुझे फोन कर देना.

हॉलीवुड की सुपरहिट फिल्म

अब जब मुझे एक ब्वॉयफ्रेंड की जरूरत थी, जो कि मुझे जवान होने का मज़ा दे, मेरी चुत और चूचियों को प्यार करे और मेरा कुँवारापन तोड़कर मुझको औरत होने का मज़ा दे.

मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या बोलूँ और क्या मांगूं!मैंने कुछ देर सोच कर कहा कि मैं एक रात आपके साथ बिताना चाहता हूँ. फिर मैंने पूरे दम से और बेरहमी से बहूरानी की चूत की चटनी बनाना शुरू की. एक दिन सुबह भाभी जान ने मेरे दरवाजे पे दस्तक दी, मैंने दरवाजा खोला तो कहने लगीं कि मेरे घर पे चीनी खत्म हो गई है, थोड़ी चीनी दे दो.

मैं भी एकता को झुक के किस करने लगा और डॉली एकता की गांड पर हाथ फेरने लगी. हम दोनों ने अपने अपने पार्ट्स को साफ करने की बात का खूब प्लान बनाया, फिर उस दिन का इंतज़ार करने लगे. विधवा भाभी की सेक्सी पिक्चरमैंने ऐसा ही किया, उसी दिन रात को मैंने एफबी पर एक एकाउंट बनाया, जिसमें सारी जानकारी डाल दी.

मैंने देर न करते हुए उसकी चूत पर किस कर दिया, इसके लिए वो तैयार नहीं थी, पर उसे मज़ा आया, उसने कहा- बस किस ही करना. करीब दस मिनट धकापेल मुझे चोदने के बाद अंकल की गति और तेज़ हो गई तो मां ने कहा- अंदर ही… अंदर ही।इससे पहले मैं कुछ समझ पाती, मेरी चूत में अंकल का वीर्य आ गया था जिससे मुझे बहुत राहत मिली।अब अंकल ने मुझे चूमा और फिर अपना बड़ा सा लंड निकाला और बोला- मजा आया बेटा?मैंने शर्माते हुए कहा- जी अंकल, बहुत मजा आया।फिर तभी मां के फोन पर पापा का फोन आ गया तो माँ ने फोन स्पीकर पे कर दिया.

उनको मस्ती सूझी तो उन्होंने मुझे गिरा कर खुद मेरे ऊपर चढ़ गईं और लंड पर उठने बैठने लगीं. ऐसे हर मकाम पे, जहाँ नौकरियों के लिये लोग जाते हैं, उनकी जिस्म की ज़रूरतों के मद्देनज़र इंतजामात रहते ही हैं लेकिन पीछे औरतों के लिये कोई इंतजाम नहीं।उनकी ज़रूरतों को समझता ही कौन है. मैंने बहुत सी भाभियों को अपने जाल में फंसाया है और उनका फायदा भी उठाया है.

” वह बोला।वाओ…” मैं बोली।हाँ… अइसन ही थी सुहागरात पर!” वह बोला।तो क्या किया तुमने?” मैंने पूछा।फाड़ दी थी… बहुत रोई थी!” वह बताने लगा।” अच्छा… मगर हमें तो मजा आ रहा है. जब वापस आया तब पता चला कि दीदी और जीजा के बीच किसी बात पर कहासुनी हो गयी और जीजा जी गुस्सा होकर गेस्टरूम में चले गये हैं।दीदी ने मुझे खाना दिया और कहा कि मैं अपने लैपटॉप पर कोई अच्छी मूवी लगा दूँ. तभी अचानक उन्होंने मुड़ कर देखा, मैं हक्का बक्का रह गया क्योंकि वो मुझे इस तरह देख कर मुस्कुराते हुए चली गईं.

फिर मैंने एक ज़ोरदार धक्का लगा दिया तो उसकी चूत में मेरा पूरा लंड चला गया.

लेकिन अब क्या हो सकता था, मैंने सोचा कि जो हो रहा है होने दो… अभी मैं अपना मजा क्यों खराब करूं!मैंने अपना वीर्य अपनी बहन की चूत में ही छोड़ दिया और उसके ऊपर से हट कर उसकी बगल में लेट गया. रेखा रानी- ओये… लड़की हूँ… तुझे और कैसे संदेशा देती अपनी इच्छा का… मैंने कहा अगर समझदार होगा तो यह इशारे पढ़ लेगा, नहीं तो यह है ही नहीं मेरे लायक… अच्छा एक बात बता तू किरण को जूसी रानी क्यों कहता है.

जब उसमें एक सेक्सी सीन आया तो आपा बोलीं- मुझे नींद आ रही है, मैं सोने जा रही हूँ. क्या अपने पिता का प्यार स्वीकार करेगी? क्या एक पढ़ने जाने वाली लड़की पढ़ी लिखी ऐसे बेहूदा बात को मानेगी? बग़ावत कर बैठी तो?? क्या करेगा बापू तब? उसको हमेशा के लिए खो देगा. लगभग 5 मिनट तक चूत के आस पास मसाज करता रहा क्योंकि चूत के आस-पास मसाज करने से औरतों को बहुत सुकून मिलता है और उन्हें मजा भी आता है.

मेरी सेक्स कहानी के पिछले भागवो कौन थी-2में अपने पढ़ा कि मैं अपने गाँव गया हुआ थाचाचा की बेटीकी शादी में… सर्दियाँ थी, रात को मैं रजाई में सोया हुआ था, मेरी बगल में कोई लड़की सोई हुयी थी, मैं उसके बदन के साथ खेलने लगा था. मेरी पूरी नींद खत्म हो चुकी थी, मैं भगवान से प्रार्थना कर रही थे कि जल्दी से 7 बजें और मेरा छुटकारा हो. मेरी यह कहानी कोई बनाई हुई नहीं बल्कि सच्ची घटना है जिसने मेरी लाइफ को बदल कर रख दिया.

देहाती देहाती बीएफ वीडियो वो ‘फक मी हार्ड… चोदो मुझे… फाड़ दो मुझे!’ बोल के सिकसकारियाँ भरने लगी. दूसरी चुदाई के बाद उसकी नींद लगते हीमैंने उसकी नाभि में जीभ फिराई तो उसका भी वही नतीजा निकला जो पहले निकला था.

डॉग सेक्स वीडियो कॉम

पहले बापू के कहने पर अपनी जीभ को लंड के ऊपर वाले हिस्से पर फेरा, फिर और एक बार फिर से. भाभी मेरे लंड से खेल रही थीं…लंड तैयार था… मैंने भाभी को नीचे लिटाया और बोला- आप चुदने के लिए तैयार हैं?तो बोलीं- कभी कभी जल्दी से भी डाल दिया करो, मुझे चीखने का मजा लेना अच्छा लगता है. अन्दर ही अन्दर मैं बड़ा खुश हो रहा था कि मेरी बात बनती नज़र आ रही है, मैंने निशा को टेलीफोन नम्बर दिया और बोला- ये लो उस लड़के का नम्बर, उसका नाम रवि है, उससे बात कर लेना मैं भी उसको कह दूँगी.

रात को दस बजे वो सब एक दूसरे की चूत और लंड से खेल कर बाहर जाने लगे. जिस पर अंजलि भी सिसकारी भरने लगी!तभी शीतल ने शिवानी की स्कर्ट उठा कर बियर उड़ेल दी जिससे शिवानी की पैंटी गीली हो गयी और मुझे बोली- भैया, अब आगे बढ़ो और पूरी पैंटी चाटो!मैंने शिवानी की स्कर्ट उठा कर उसकी चूत पैंटी के ऊपर से चाटनी शुरू कर दी. चुदाई नंगी सेक्सीआज घर जाकर पद्मिनी को ज़रूर चोदूँगा… पता नहीं उस टीचर ने उसकी सील तोड़ी है या मुझको ही काम तमाम करना पड़ेगा… देखूंगा… पता नहीं अगर सील तोड़नी पड़ी तो चिल्लाएगी या हल्ला करेगी.

बापू पद्मिनी की चूत की ओर इशारा करते हुए बोला कि चलो आज हम दोनों एक साथ नहाएँगे.

भाभी- चोद सूरज मुझे चोद दे… मेरी गांड और चूत फाड़ दे… आह आह सूरज आह यस आह. पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…मैं मुम्बई में पढ़ता था, एक बार मैं ट्रेन से मुंबई से कानपुर लौटा तो चुपचाप घर में आ गया.

मैंने कहा- मैं मतलब नहीं समझी?उसने कहा- तुमने देखा नहीं था सुबह मेरे होंठों का क्या हुआ था. मैंने थोड़ा उसकी कमर और चूतड़ों को सहलाया और थोड़ा टांगों को खोलने को कहा. उसको किस करते करते मैंने अपना एक हाथ पीछे से उसकी पेंटी के अन्दर डाल दिया और उसके गोरे गोरे और मुलायम चूतड़ों को सहलाने लगा.

दीदी की चीख निकलने को हुई, मुझे मालूम था कि दीदी की चीख निकलेगी, इसलिए मैंने पहले ही अपने होंठों का ढक्कन उनके मुँह पर लगा दिया था.

फिर लंड और उसकी गांड के छेद पर वैसलीन लगा कर लंड अन्दर डाला तो उसने जम्प किया और बोली कि मुझे नहीं मरवानी गांड. फिर जब मुझे अपनी और पलटकर उन्होंने मेरे लिंग को हाथ लगाया तो वो पूरी तरह खड़ा को गया. वही हाल मेरा है, मुझे रात में नींद नहीं आती है, मैं हमेशा जिस्म की प्यासी रहती हूँ। मैंने पिछले 3 सालों में केवल 10 या 12 बार सेक्स किया होगा, यदि औरत को एक बार सेक्स की लत लग जाए वह फिर सेक्स के बिना नहीं रह सकती, उसकाप्यासा जिस्मकुछ भी करवा सकता है.

मियां खलीफा मियां खलीफा सेक्सी वीडियोमैंने उसके होंठों को अपने होंठों में लेकर कैद कर लिया और रुक कर किस करते हुए उसकी जीभ को चूसने लगा. सोनिया की इन हरकतों की वजह से पापा मम्मी बहुत परेशान रहते थे और डरते थे कि कहीं छोटी लड़की भी उसके नक़्शे कदम पे न चल पड़े.

सेक्सी फिल्म ब्लूटूथ सेक्सी

मंजू ने मुझे अपने गले से लगा कर कस लिया था और उसकी कमर इतनी तेजी से ऊपर नीचे हो रही थी मानो लहरा रही हो. यह सुन कर मैं बिल्कुल चुप हो गई क्योंकि अब कुछ बोलने को बाकी ही नहीं बचा था. वो मुझे गाली देने लगीं- बहन का लौड़ा साला, क्या कर रहा है? मेरी जान लेगा क्या?नीचे उनकी चुत में बर्फ थी, लेकिन वो पसीने से लथपथ थीं.

तभी लालजी बोला- तुमनेहिंदी ब्लू फिल्ममोबाइल में देखी है?तो पीयूष बोला- सारा दिन लालजी भैया यही करता हूं. कितना सेक्सी है, इस्स्स… इसकी छाती, आह्ह्ह्ह… इसके निप्पल, ओह्ह्ह्ह… इसके तो होठों को चूस लूं, हाय रे क्या जिस्म है इसका, और कैसे चोद रहा है, इस्स्स… आह्ह्ह्ह… कैसे मज़े से चुदवा रहा है. मैंने धीरे धीरे लंड बाहर निकालने का नाटक किया और जैसे ही लंड 3 इंच बाहर आया, मैंने एक और धक्का मार कर पूरा लंड उसकी चुत में पेल दिया.

मेरा लंड 8 इंच का है, वो भी मोटा खीरा सा है, हां थोड़ा काला जरूर है, मगर मस्त है. यह देख कर अंजलि ने कहा- तुम लोग भाई बहन आपस में भी सेक्स करते हो?इस पर शीतल हंसी और बोली- ये मेरे भैया से ज्यादा मेरे पति हैं, जब मम्मी के पेट में भैया अपना बच्चा टिका देंगे तो भैया फिर मुझसे शादी कर लेंगे. उन्होंने मेरे बालों को कसके अपने हाथों में भींच लिया, जिसके कारण दर्द से मेरी भी आह निकल गई.

पिछले भाग में आपने पढ़ा कि कैसे रज़िया मेरे और नितिन के साथ मज़े लेने के लिये तैयार हो गयी थी और मैं उसे नितिन के कमरे में ले आया था और हमने मज़े शुरू कर दिए थे. वो हंस कर बोली- यार मेरी ग़लती थी कि मैंने तुमसे उसका लंड शेयर नहीं किया.

आप आकर कह देना कि मैं वन्द्या को ड्रेस दिलवाने ले जा रहा हूं फिर घर पहुंचा दूंगा।सुरेन्द्र जीजा बोले- अब आप के लिए कल का पूरा कार्यक्रम रद्द करना पड़ेगा, चलो ठीक है परसों तैयार रहना अपनी मनपसंद ड्रेस के लिए… मैं सुबह नौ से दस के बीच आ जाऊंगा।मैं सच में खुश हो गई कि परसों मुझे मेरे पसंद की ड्रेस मिलेगी.

तो पाठको, एक अचंभित कर देने वाली कहानी पढ़ने के लिए तैयार हो जाएँ, मेरे साथ जो कुछ हुआ, शायद ही ऐसा किसी व्यक्ति के साथ हुआ हो. राजस्थानी देसी लड़की की सेक्सी वीडियोवे उसे हैरान देख कर बोले- मेरा थोड़ा बड़ा है पर दूसरे को तकलीफ न हो इसका ख्याल रखता हूं।वे खड़े खड़े ही मेरी मारते रहे, मैं मस्ती से आंख बन्द किये चूतड़ हिलाहिला कर गांड मरवा रहा था।जीजाजी बोले- इस बार तो मजे ले रहे हो, उस बार तो तुम बहुत फड़फड़ाए थे. अमेरिका सेक्सी हॉटउस पार्सल में एक बेल्ट से बंदा हुआ रबर का लंड था, जो 8 इंच लंबा और 2. अब मैंने चाची की चूत की दरार को सहलाना शुरु किया, साथ ही अपनी जीभ से उनकी नाभि से खेल रहा था.

चाची ने बड़ी चाची की चुत को मुँह से चोद कर एक गहरी कराह भरी और बोलीं- अरे ये ताला बहुत दिन से बन्द पड़ा है जरा प्यार से कर मादरचोद.

मुझे अब जाने क्या होने लगा, वहां बहुत गुदगुदी होने लगी, मैं उछलने सी लगी. जब सुबह हुई तो मैंने देखा सासू मां अपने काम करने में बिज़ी थी और सुबह सुबह मेरा लंड भी सख़्त हुआ पड़ा था. क्योंकि हम दोस्त की तरह थे तो मैंने कह दिया कि दीदी आप तो बहुत सेक्सी लग रही हो.

खैर… आधी रात को वो मेरे कमरे में आया और बोला कि आज बदले का दिन आ गया है… तुम तैयार हो जाओ, जो थप्पड़ मारा था… उसका बदला आज चुकाना होगा. उसकी आंखें बंद हो गईं तो मैंने एक हाथ से नीचे लंड को एडजस्ट किया और फिर उसके मम्मों पर हाथ ले गया. अब मैंने धीरे धीरे धक्का मारना शुरू किया, तो वो भी मेरे पीठ को सहलाने लगी और कमर को दबाने लगी.

शार्ट कॉमेडी स्टोरी इन हिंदी

हल्का हल्का नशा अब चढ़ने लगा था, मैं शीतल की जान्घें सहला रहा था, अंजलि और शिवानी देख रहे थे और उनकी आँखों से चढ़ता हुआ जोश मुझे साफ़ दिख रहा था!मैं शिवानी की जान्घें ताड़ रहा था और शीतल के कान में कहा- शीतल इन दोनों को भी चुदवा मुझसे!इस पर शीतल ने कहा- भैया क्या अंजलि और शिवानी दीदी की जान्घों से बहती हुई बियर पीना चाहोगे?मैंने हामी भर दी. अन्तर्वासना पढ़ने वालों की सेवा में चूतनिवास के लंड के इकतीस तुनकों की सलामी!यह कहानी जो मैं प्रस्तुत करने जा रहा हूँ, वह मेरी सगी वाली साली रेखा से मेरे शारीरिक सम्बन्ध जुड़ने की दास्तान है. मैंने गुस्सा होते हुए उनसे पूछा कि ये वीडियो कब बनाई?तो एक बोला- कल नाइट में.

तीसरा विकल्प है आत्महत्या… ऐसा करना कायरता है। आखिर मज़बूरी में मैं किसी भी तारीके से खुद को बहला रही हूँ, परन्तु ऐसा मैं कब तब करूंगी? क्या विवाह का सुख इतना ही होता है? पापाजी, अब आप ही बताइये कि मैं क्या करूँ?पूजा की बातें सुनकर मुझे अपने बेटे अंकुश पर बड़ा गुस्सा आ रहा था.

थोड़ी देर में सोनू चिकन लेकर आ गया, मैंने चिकन बनाया और सबसे पहले शिवानी को खिला दिया.

ऐसे ही मैंने एक दिन कहा- हमेशा ऐसा ही होगा या सामने से भी किस होगा?तो उसने फिर से मना कर दिया. वो मेरे लंड को कच्छे के ऊपर से ही पकड़ कर बोलीं- जब तक ये अन्दर नहीं जाएगा, शांति नहीं मिलेगी. नेपाली वीडियो फिल्म सेक्सीवो तो एकदम से मेरे बदन से चिपट गई और जोर जोर से चुम्बन करने लगी- पापा, मैं तो कब से इंतज़ार कर रही हूँ, वहां दिन रात हम दोनों चुदाई करेंगे.

मुझे आज पूरी उम्मीद हो गई थी कि रानी की चुत में मेरा लंड भी घुस जाएगा. अंकल ने बोला- अरे नहीं, सेक्स में क्या करते हो?मैं बोला- अंकल, मैंने पहले कभी किया नहीं… और मुझे मुम्बई आये हुए भी एक ही महीना हुआ है, मुझे इस बारे में कुछ भी पता नहीं है।वो बोले- ठीक है, कोई बात नहीं! मुझे चोदोगे क्या?पहले तो मैं एकदम से घबरा गया कि ये अंकल क्या बोल रहे हैं, फिर मैंने भी सोचा कि इसी के लिए तो हम दोस्त बने हैं तो मैंने हाँ बोल दिया. सामने हॉल में अंकल-आंटी बैठे चाय पी रहे थे तो मुझे देखते ही अंकल बोले- अरे रोहण बेटा, बाहर क्यों खड़े हो, अन्दर आओ.

अब इन्तजार है कि कोई और ग्राहक मिले और आशा करता हूँ कि कोई औरत ही मिले. इसका असर यह हुआ कि दो तीन चुदाइयां देख कर ही उसकी भूखी चूत को कुछ ज़्यादा ही भूख लगने लगी.

पद्मिनी को उसके वीर्य का स्वाद शुरू में तो अच्छा नहीं लगा, पर जल्दी ही मैं उसे गटक कर पी गयी.

मैंने मन में सोचा कि तेरे जैसी न जाने कितनी तरक्कियां मेरे लौड़े के नीचे से निकल चुकी हैं. ऐसे करते करते वे कुछ ही देर में थक गयी- पापाजी बस … अब नांय है मेरे बस का. इससे वो फिर से उह आह करने लगी।मैंने तब उसको समझाया कि पहली बार में दर्द होता ही है और इस दर्द को हर एक लड़की को एक ना एक बार सहना ही पड़ता है.

वीडियो में इंडियन सेक्सी जब उन्हें मजा आने लगा तो फिर भाभी जी खुद अपनी कमर उठा उठा कर मुझसे चुदने लगीं और मेरे लंड को अपने अन्दर तक डलवाने लगीं. तो मैंने पूछा- क्या देख रहे हो?तो वो दोनों बोले- आपकी चुदाई की क्सक्सक्स वीडियो देख रहे हैं.

मेरे एक हाथ से मैंने उनकी मैक्सी को जाँघों तक ऊपर उठा दिया और हाथ फेरने लगा. मैंने पूछा- अच्छा? कब सपना देखा तूने इस चुदाई का?रेखा बोली- मैं क्यों बताऊँ? मैं न बताती अपने सपने को… यह तो मेरा प्राइवेट मामला है. पहले मैं आपको चाची के बारे में बता दूँ, चाची का नाम पूजा है, जो बहुत गदराई हुई हैं.

ओपन हिंदी सेक्स

मुझे अपने ऑफिस के काम के चलते भाभी से बात करने का अधिक टाइम नहीं मिल पा रहा था. हालाँकि इस खासियत का बाद में बहुत फायदा मिला जब कुछ रानियां घर में आने जाने लगीं. इसलिए बेहतर रहेगा कि यदि आपने कहीं इस वीडियो की कॉपी रखी हो तो उसे भी डिलीट कर दो.

उसके बारे में सोच कर मैं थोड़ा नर्वस भी था और उतेजित भी कैसा होगा? क्या होगा? लेखक है तो ना जाने उसका व्यवहार कैसा होगा? इत्यादि!कुछ देर बाद राज आया, हम दोनों ने हाथ मिला कर एक दूसरे का स्वागत किया, शुरू शुरू में तो हम दोनों काफी चुप थे लेकिन फिर बात होनी शुरू हो गयी, बातों बातों में राज ने मुझे ड्रिंक्स के लिए पूछा तो मैं मना नहीं कर पाया. जब तक इस्तेमाल होना नहीं शुरू होतीं तब तक छोटी रहतीं, इस्तेमाल होने लगेंगी तो बढ़ जायेंगी।” अहाना ने उन्हें सहलाते हुए कहा।ऐसा नहीं था कि उसका हाथ ‘वहां’ पहली बार लगा हो, लेकिन आज अजीब सा महसूस हुआ.

अंत में भाभी ने मेरे माथे पे किस किया और बोला- तुमने मुझे आज बहुत खुश किया.

मैंने पूछा- अच्छा? कब सपना देखा तूने इस चुदाई का?रेखा बोली- मैं क्यों बताऊँ? मैं न बताती अपने सपने को… यह तो मेरा प्राइवेट मामला है. मैंने दोनों का रस चाट कर साफ कर दिया, दोनों का एकदम टेस्टी पानी था. तभी उसने एक हाथ से मेरी पैन्ट की बेल्ट खोल कर पैन्ट उतार दी और अंडरवियर के ऊपर से लंड को पकड़ कर मसलने लगी.

मैंने महसूस किया कि भाभी जाते हुए बड़ी इठला कर गांड मटकाते हुए गई थीं. तब जूसी रानी को एक बार चोद के सुला दिया और चले गए घर में ठहरी हुई रानी की आगोश में. आंटी उठी, उन्होंने मेरा टीशर्ट और बनियान उतार दिया, फिर उन्होंने मेरी जींस का बटन खोला, जींस उतार दी, अब मैं सिर्फ अंडरवियर में आंटी के सामने था.

यह कहकर मॉम ने अपना एक दूध का थन पकड़ कर और एक हाथ से नवीन का सर पकड़ कर अपना चूचा उसके मुँह में ठूंस दिया और जैसे ही नवीन ने मॉम का निप्पल चूसना शुरू किया, मॉम आह.

देहाती देहाती बीएफ वीडियो: मगर यह बात किसी से भी ना बताना क्योंकि जब भी कोई अच्छा काम सोचा जाता है तो बहुत सी अड़चनें आ जाती हैं. सुकन्या जी ने अपना पता वगैरह सेंड करके बता दिया और साथ ही साथ गाड़ी या बाइक लाने के लिए भी मना कर दिया था.

इसी बीच गर्मियों की छुट्टियां आ गयीं और इनके सास-ससुर अपने पोते यानि कि सुकन्या जी के बेटे को लेकर गाँव चले गए. अगले दिन उसने मुझको फोन करके बताया कि उस अधिकारी की वाइफ ने उसे डाइवोर्स दे दिया है. उसने दस मिनट तक मेरे लंड की सवारी की और बोली- जान मैं थक गई हूँ अब मुझसे इस तरह से नहीं हो पाएगा.

अब कमरे में एक चुत और दूसरा लंड था, जो एक दूसरे को देख रहे थे और दंगल होने की राह देख रहे थे.

मैं गाड़ी में बैठ गई और बैठते ही उसने मेरा मुँह अपने लंड पर रखवा दिया, जो पहले से ही पैन्ट से बाहर निकला हुआ था और पूरी तरह से खड़ा हुआ था. खाला का घर काफी बड़ा था, मुझे रात में अलग कमरा सोने के लिए दिया और मैं सोने के तैयारी करने लगा. भाबी गांड उठाते हुए बोलीं- मत सताओ यार… अब डाल भी दो… कितना तड़पाओगे?एक बात बताऊं दोस्तो… भाबी की चूत 9 साल से भले ही चुद रही हो लेकिन अभी भी 18 साल की लड़की की तरह उनकी चुत के दोनों होंठ चिपके हुए थे.