सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी

छवि स्रोत,एचडी मूवी सेक्सी चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

२०२१ सेक्सी वीडियो: सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी, मैंने सोचा कि सपना है। लेकिन क्या पता था सचमुच मेरी मेरी पड़ोस की सविता भाभी ने ही चुम्बन किया था।मैंने आँखें खोलकर देखा तो सविता भाभी ने कहा- क्या राजू चुम्मा कैसा लगा?मैंने मुस्कुराते हुए कहा- बहुत जबरदस्त था.

नॉनस्टॉप सेक्सी वीडियो

और मैं पीछे से उनके चौड़े चूतड़ों को देखते हुए अपनी पैंट के ऊपर से लौड़ा सहला रहा था।मैं धीरे से भाभी के पीछे जाकर खड़ा हो गया और बोला- भाभी. मारवाड़ी मुस्लिम सेक्सीओके!और वो दोनों वहाँ से निकल गए।उनके जाने के बाद टोनी ने कोमल को ऊपर से नीचे तक देखा।कोमल- क्या देखता है रे साले.

वो रोज मेरी तरफ देख कर गंदे-गंदे इशारे करता था, जैसे बाहें फ़ैलाना, होंठों को गोल करके चुम्बन का इशारा करना, चूतड़ आगे पीछे करके चुदाई के इशारे करना…लेकिन मुझे इन सब का ज्यादा मतलब पता नहीन था पर समझती थी कि यह अच्छी बात नहीं है।ये सब देख कर मैं परेशान हो गई और एक दिन मैंने उससे बोल दिया- ये किस टाइप के इशारे करते हो तुम. हरियाणा सेक्सी चुदाई वीडियोमैं अन्तर्वासना का नियमित 5 साल से पाठक हूँ। मैंने यहाँ पर बहुत सी कहानियाँ पढ़ीं हैं.

और मैंने गद्दे को वापस कमरे में रख दिया। अब तक दोनों ने कपड़े भी नहीं पहने थे.सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी: इतना गाढ़ा गाढ़ा?तो मैंने संजना से कहा- ये तुम्हारे बचाव के लिए ही है और मैं तुम्हें चोद चुका हूँ.

मेरी यह हरकत भी उसने शायद सरसरी नज़र से देख ली थी लेकिन बिना कुछ रिएक्ट किए वो बाइक के पास आ गया और बोला- चल बैठ जा बाइक पर.फिर मैंने दूध पिया और काजल गिलास लेकर अपने काम में बिज़ी हो गई।मैं कॉलेज चला गया।यह स्टोरी बहुत लम्बी है.

सेक्सी वीडियो डाउलोड - सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी

जिससे लंड बाहर निकल गया।मैंने उसे फिर से लिटाया और इस बार मैं भी पूरे रंग में आ चुका था।लंड के टोपे को घुसा कर कुछ छोटे झटके देने के बाद फिर जो मैंने शॉट लगाए तो इस बार लंड उसकी चूत को चीरता हुआ अन्दर चला गया।मुझे पता था इस बार का झटका ऋतु सह नहीं पाएगी, मैं उसके होंठों को चूसने लगा.तुरंत ही उसके मुँह में घुसेड़ दिया।सुरभि ने आँख खोलते हुए कहा- रानी मत कर.

मुझे और चाहिए।मैंने ऋतु से पूछा- तुझे लंड देखकर डर नहीं लगा?तो ऋतु बोली- क्यों आज पहली बार देख रही हूँ क्या. सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी पर उन पर तो कोई असर ही नहीं था।वो अपनी जुबान को मेरी योनि के छेद में घुसाने का प्रयास करते.

मुनिया ने देर ना करते हुए अपने होंठ लण्ड पर रख दिए और बड़े प्यार से पूरा लौड़ा मुँह में लेकर चूसने लगी।रॉनी- आह ससस्स.

सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी?

प्रिया ने भी मुस्कुरा कर अपने हाथों में दोबारा से हमारे लौड़े थाम लिए और मसलने लगी।मैं सोच रहा था कि काश मेरे पास कैमरा होता. तो मैंने 69 की पोजीशन में आने के बारे में सोचा। मैं उल्टा हो कर भाभी की चूत को चूसने लगा. तो मैंने हल्के-हल्के झटकों से अपना पूरा लण्ड जूही की चूत में डाल दिया। मेरे इस प्रहार से उसकी आँखों से लगातार आंसू निकल रहे थे.

तो लगा कि उसकी गाण्ड अभी भी टाइट ही थी।मैंने एक उंगली डाल कर निकाल दी. लेकिन तुमनी गाण्ड को पेलने के लिए मना कर दिया।’‘अरे तो नहीं कब कहा मैंने. यह कहते हुए मैं बाथरूम गया और वहाँ से हेयर आयल की बोतल उठा लाया। फिर मैंने कुछ तेल उसकी गाण्ड के छेद पर डाला और कुछ अपनी उंगलियों पर लगा कर उसके छेद पर फेरने लगा। फिर मैंने अपनी एक उंगली उसके छेद में अन्दर कर दी।उसने दर्द की वजह से सीधा होने की कोशिश की और कराह कर बोला- भाई आहिस्ता डालो.

ये आप पर है।आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा में आपका प्यारा लेखकअभिजीत देवाले ‘चूतचोदू’[emailprotected]. घर के सभी लोग शादी में जा चुके थे और उन्हें अगले दिन वापस आना था। घर पर केवल हम दोनों ही थे. थोड़ा पास पहुंचा तो पता चला छतरी के नीचे कोई लड़की खड़ी है शायद उसकी स्कूटी खराब हो गई है और वो किसी की मदद पाने के लिए वहाँ बारिश में खड़ी हुई है।उसने मुझे हाथ के इशारे से रोका.

शायद आपको अच्छी लगे।मेरी बहन और मैंने कैसे एक-दूसरे के साथ सेक्स करना शुरू किया. आयशा के मम्मों को सहलाने लगी और टॉप के ऊपर से ही उसके निप्पलों को चूसने लगी.

अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था इसलिए मैंने भी देर न करते हुए उसकी टाँगों को अपने कंधों पर रख लिया और लंड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा।मैंने लंड को अन्दर घुसाने की बहुत कोशिश की.

क्या कर दिया बॉस ये बेचारी तो सच में लंगड़ा रही है।कोमल- चुप कर कुत्ते.

उसने आसमानी रंग की ब्रा पहन रखी थी।अब धीरे से उसके होंठ चूसते हुए उसकी ब्रा खोल दी। उसकी मस्त और टाइट चूचियाँ मेरे सामने थीं। मैं एक हाथ से चूची दबाने लग गया और दूसरी को मुँह में लेकर चूसने लगा।अब वो जोर से सिसकारी ले रही थी और मैं उसकी चूचियों को बारी-बारी से चूस और दबा रहा था। उसके मुँह से उत्तेजना वश आवाजें आ रही थीं ‘अअआ अआहह. रिजल्ट आया तो मैं पास हो गया।फिर मैंने कॉलेज में दाखिला ले लिया और कॉलेज जाने लगा।एक महीने बीतने के बाद अचानक वही लड़की मुझे कॉलेज में दिखी. मेरे प्रिय दोस्तो, अपने मेरी पिछली कहानियों को बहुत सराहा है।पूरे 38 महिलाओं की चूतसेवा करने के बाद मैं अपने आपको को बहुत खुशनसीब समझता हूँ। शादी-शुदा महिलायें हमेशा मुझमें दिलचस्पी दिखाती रही हैं।मैं बताना चाहूंगा कि मैं अपनी पत्नी से बहुत प्यार करता हूँ और सभी महिलाओं की भावनाओं का सम्मान भी करता हूँ।यह कहानी मेरी शादी के समय की है। बात उस दिन की है.

आज फिर आपके लिए एक नई कहानी ले कर आया हूँ।मेरी पिछली कहानी आप सभी के द्वारा काफी पसंद की गई थी और उसके काफी ईमेल भी आए थे, उसके लिए आप सब का तहे-दिल से शुक्रिया।आप जब मेरे बारे में सब जानते हैं तो मैं सीधे ही अपनी कहानी पर आता हूँ।मैं अपने भाई को उसके स्कूल से लेकर आता हूँ, बात दिसम्बर की है, एक दिन जब मैं उसे स्कूल से लेने गया. माँ के बड़े बोबे मेरे हाथों में समा नहीं रहे थे। बोबे मस्त मुलायम और नरम थे. तो मदन लेट गया और फिर सोनिया मदन के लण्ड चढ़ कर ऊपर लेट गई।फिर सोनिया को बोला- अब तू रिंकू का लण्ड चूस.

तो याद आया, मैंने एक कंडोम का पैकेट भी ले लिया, सोचा शायद काम आ ही जाएगा।मैं वापस आ गया। उसके बाद सब सोने लगे तो मैं साली के पास गया और हम दोनों बिस्तर पर पास-पास बैठे थे। उसका चेहरा देखकर ही मेरा खड़ा हो गया.

तो वो इस तरह से अपने हाथ उठाकर मुड़ गई कि उसका कमीज मेरे हाथों उतरने सा लगा, मेरे सामने उसकी पूरी नंगी पीठ और गोरी मखमली कमर आ गई।जब उसकी ब्रा की पट्टी तक दिखने लगी. क्योंकि मैं पहले ही अपना पानी निकाल चुका था।साथ ही मैडम की चूत चूसने से गर्म हो गया था. चाहे ये सब उसका पहली बार ही क्यों ना हो।शाज़िया के मना करते ही मैं शाज़िया की चूत पर मुँह रख कर उसकी चूत को चूसने लगा। एक तो शाज़िया पहले ही गर्म हो चुकी थी.

और मैंने उसके खुले हुए मुँह में वहीं से अपने वीर्य का निशाना लगाया।हम दोनों एक-दूसरे पूरी तरह सतुष्ट थे. और वो मेरा अंडरवियर उठाते हुए और दोनों हाथ से ऊपर उठाकर मेरी तरफ देखने लगी- ओह. वो भी सिसकारियाँ लेने लगी और मेरा साथ देने लगी।उसके रसीले मम्मों को चूसते हुए मैंने उसकी पैन्टी भी उतार दी।उसने अपनी झांटें पहले से साफ कर रखी थीं.

वे पूरी भीग चुकी थीं।मैं उनको इस रूप में बस देखते ही रह गया।उन्होंने कहा- ओह्ह.

कोई न कोई काम निकल आने की वजह से उसे नहीं चोद पाया था।उसके बाद मैंने अपना वो व्यस्तता वाला काम ही छोड़ डाला और एक नया जॉब पकड़ लिया।उसके बाद मैं गाँव गया. लगा जल्दी बहुत दर्द हो रहा है।मैंने नारियल का तेल निकाल कर भाभी को लिटाकर उनकी साड़ी ऊपर करके उनकी गाण्ड के छेद में तेल लगाया।फिर भाभी से कहा- भाभी मेरा लंड भी तेल मांग रहा है।भाभी ने तेल लेकर मेरे लंड पर लगाया और हल्के हाथ से लौड़े की मालिश करते हुए मुठ मारने लगीं।कुछ ही देर में मैं झड़ गया.

सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी इतने टाइट थे कि मसलने में अलग ही मजा आ रहा था।फिर मैंने उसकी चूत की तरफ हाथ बढ़ाया. फिर मैंने कहा- तुम कॉलेज इतनी सिंपल बन कर क्यों जाती हो?तो उसने कहा- लड़की हॉट दिखती है तो लड़के 100 बार कमेंट करते हैं और वो सब मेरे भाई को अच्छा नहीं लगेगा.

सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी जो हमें हमारे सेंटर तक ले गया। फिर हमने सेंटर के पास ही एक होटल में दो रूम बुक किए। पेपर होने के बाद अब हमारी रात की ही ट्रेन थी. मैं जानू हूँ कन्डोम का मतलब निरोध होवे है।ये चीजें देख कर तो पायल के पैर काँपने लगे कि अब क्या होगा।पुनीत- सर प्लीज़ यकीन करो ये मेरे नहीं है.

उठता हूँ।मैं यह बात सुनकर घर से जल्दी बाहर आया, फिर थोड़ी देर बाद में घर का दरवाजा खटखटाया।पूजा बुआ ने मुझे अन्दर आने को कहा और मुझे राकेश के पास छोड़ कर अन्दर चली गईं।राकेश- क्या बात है अवि.

राजस्थानी साड़ी सेक्सी

एक बार की बात है जब भाभी बच्चों को लेकर अपने मायके गई हुई थी गर्मी की छुट्टियों में. जबकि एक-दूसरे के लण्ड का जूस हम दोनों के मुँह में मौजूद था। ये एक जबरदस्त किस थी. वो भी उसने निकाल दिए।वो मेरे मम्मों को दबाने लगा और मेरे बदन पर हर जगह चुम्बन करने लगा और नाखून गड़ाने लगा।कुछ ही पलों में वो नीचे को होकर मेरी चूत को चाटना शुरु कर दिया।मेरी चूत से पानी निकल रहा था.

आपको ये मेरी कहानी कैसी लगी बताने के इमेल कर सकते हैं।[emailprotected]. दोनों बातें करते हुए मॉल पहुँच गए और सन्नी ने अर्जुन से कहा- अब चुप हो जाओ. मतलब हॉल में पूरा अंधेरा हो गया था।मैं सबसे किनारे पर बैठा था।मैंने एक ढीली सी जीन्स और एक टी-शर्ट और मेरी गर्लफ्रेण्ड ने भी एक ढीली सी जीन्स और ढीला टॉप पहना था.

तो पूरा लौड़ा चूत को चीरता हुआ जड़ तक अन्दर घुस गया और कोमल की उस दर्द से चीख निकल गई।कोमल- आह ह.

मैं वहाँ गया तो देखा रिया बाथरूम में है और मोबाइल बज रहा है।मैंने फोन उठाया तो एक लड़के की आवाज़ थी. मैं गांव की तरफ जा रहा था तो देखा एक जवान लड़का पास की झाड़ियों में पेशाब कर रहा था. अभी तो इस कहानी की बस शुरुआत हुई है। अगर मुझे आप लोगों ने मेरा उत्साह बढ़ाया तो मैं इस कहानी को आगे भी लिखूँगा और सबके सामने लेकर आऊँगा।वैसे भी अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है.

मुझे समझ नहीं आ रहा था।उसकी स्पीड तेज हो गई। आज तो मैं भी बहुत उत्तेजित था. और तो और मैंने उंगली निकाल कर अपना मुँह ही उनके पीछे लगा दिया और उनकी गाण्ड और चूत का रसपान करने लग गया।भाभी भी अपनी चूत पसार कर अपने मुँह से मदहोश कर देने वाली आवाज़ें निकाल रही थीं- इसस्स्शह. ’ कमरे में गूंजने लगीं।मैं जीभ को अन्दर तक ले जाकर चाट रहा था। यह मेरा पहला अनुभव था इसीलिए मुझे ज्यादा मज़ा तो नहीं आ रहा था.

पायल ने कुछ सोचा फिर चुप हो गई क्योंकि पार्टी में सन्नी भी उससे बहुत चिपक के मज़े ले रहा था। उसको पता था कि अगर उसको मौका मिला तो वो जरूर उसको चोदेगा।ऐसे ही बातें करते हुए वो दोनों घर पहुँच गए और नशे और थकान के कारण दोनों सो गए। उधर रॉनी भी देर रात को घर आ गया था और आते ही सो गया था।दोस्तो, अब जिस गेम के लिए यह कहानी शुरू हुई है. वो मेरे लण्ड को चूसने लगी, फिर बोली- चल अब जल्दी से मुझे चोद डाल!मैं अपना लण्ड उसकी चूत पर रख कर मसलने लगा।वो तड़पती हुई बोली- चल अब जल्दी से अन्दर डाल दे.

मैं- वो घर पर नहीं है।रमेश- कहाँ गई है वो?यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं- छोड़ो न उसे. और से मम्मों से खेलने लगा। साथ ही मैं उसकी चूत में फिंगर करने लगा।अब वो मुझसे बोल रही थी- मादरचोद. तो फिर?’‘मेरा मन उस पर आ गया।’‘मतलब?’‘उसके साथ सेक्स करने की इच्छा हुई।’‘उसका क्या रिएक्शन था?’‘सच कहूँ.

और वो मेरे लण्ड के गोटे को सहलाते हुए मेरा लण्ड चूसने में मस्त हो गई। कभी वो अपने एक हाथ से मेरी गोटियों को छेड़ती.

जो कल आपने मेरे साथ किया था।मैंने मुस्कुरा कर अपने छोटे भाई को देखा और कहा- ओके चल. ये बता पहले?अर्जुन- मेरा नाम तो तुझे पता होगा मगर मेरे बारे में जानने के लिए तुझे याद दिलाना होगा. यह मुझे बड़ी अच्छी तरह से मालूम था।प्रोग्राम की शुरूआत हो चुकी थी। सौम्या और मैंने दो-दो पैग ‘जेडब्लूबीएल’ (जॉनीवाकर ब्लैकलेबल) के लगाकर अपने कपड़ों के बोझ से खुद को हल्का कर लिया था। आशीष ने अपने होंठों पर से जीभ फिराई.

और खूब चोद-चोद कर खुश रखना। अभी के लिए मैं बिना तुम्हारा लण्ड लिए चली जाती हूँ. जो मुझे मेल करते हैं मेरी स्टोरी पढ़ते हैं।दोस्तो, मुझे बताना न भूलें.

उसने मेरा परिचय उससे यह कह कर कराया कि रामलीला में बुकिंग करने आए हैं।थोड़ी देर की नार्मल बातचीत के बाद वो लड़का वहाँ से चला गया और अब हम दोनों जने कमरे में अकेले थे।उसने मुझे कपड़े उतार कर आराम से बैठने को कहा. मैंने बिस्तर में वहीं तकिया टिका दिया और आराम से बैठ गया।उसका हाथ पकड़े रहा। दोस्तों क़िसी लड़की के साथ सेक्स करना भी एक आर्ट है और यह सबके बस की बात नहीं होती।क्योंकि किसी के हाथ पकड़ने में और नाड़ा खोलने में बहुत अन्तर होता है. उन्होंने कुछ जलजीरा और चाट मसाले निकाले और उनको उसमें डाल कर खा गईं.

सेक्सी वीडियो लंड चोदने वाला

जिस वजह से मेरी भाभी घर पर अकेली रह जाती थीं।भाभी हफ्ते में एक-दो बार हमारे घर पर जरूर आती थीं, देवर होने के नाते उनके साथ मेरा हँसी-मजाक चलता रहता था।मेरी भाभी काफी सेक्सी और खूबसूरत हैं। वैसे भी भाभी चाहे जैसी भी हो.

मैं अपने हाथ को उसके हाथ के ऊपर रख कर आगे-पीछे करने लगा।फिर थोड़ी देर बाद उसके हाथ दर्द करने लगे. मैं नाश्ता लगा रही हूँ।उस समय उसने ग्रे कलर की साड़ी पहनी हुई थी और वो उस समय भी बहुत गजब की लग रही थी। लेकिन मैंने खुद को काबू में रखा और फ्रेश होने के लिए बाथरूम में चला गया। फ्रेश होने के बाद हम लोगों ने साथ-साथ नाश्ता किया और फिर आया मेरे वापस आने का समय।अब जूही ने मुझको एक विजिटिंग कार्ड दिया और कहा- इस पते पर चले जाओ. मान लो पुनीत के पास 3, 7, 9 पत्ते हैं और रॉनी के पास इक्का गुलाम और 5 हैं.

लेकिन मजा बहुत आया था।फिर उसने बोला- तुझे पता है सेक्स क्या होता है?मैंने कहा- मुझे नहीं मालूम है?उसने मुझे बोला- जब लड़का-लड़की एक-दूसरे के साथ बिना कपड़ों के जिस्मानी सम्बन्ध बनाते हैं उसे सेक्स कहते हैं।मैंने बोला- अच्छा. कुछ ही पलों में वो पूरी रंडी की तरह मेरा लण्ड चूस रही थी। मुझे भी बहुत मजा आ रहा था. इंग्लिश बीपी सेक्सी ओपनमैं गालियाँ सुन कर और जोश में आ गया और मैंने उसकी चूत में तेज-तेज झटकों की बरसात करना शुरू कर दी।मेरा लण्ड बहुत तेजी से उसकी चूत से लड़ रहा था और वो पागलों की तरह खुद के निप्पलों को मसल रही थी।मैंने देखा कि वो अपने दोनों बड़े-बड़े मम्मों को खुद अपने हाथों में लेकर मसलते हुए पूरे जोश में भींचते और दबाते हुए सीत्कार कर रही थी।खुद के निप्पलों को रगड़ते हुए.

इसी कारण इतना फूल गया है।भाभी ने लण्ड को सहलाना चालू किया और अब मेरे लण्ड को चूसने लगीं।मैंने भी हगने के बाद घर आकर लण्ड और हाथ-पैर नहीं धोए थे. तो मैंने उनकी कमर को जोर से पकड़ी और ज़ोर-ज़ोर से जीभ को अन्दर बाहर करने लगा।तभी वो झड़ गईं.

तब तक मैं उसको चोदने के लिए रेडी करता हूँ।सन्नी- ठीक है मैं उनको भेज कर आता हूँ. तो वहाँ 2 ही कमरे खाली थे।हमने वो दोनों कमरे ले लिए और कमरे में जाकर फ्रेश हुए, फिर घूमने के लिए निकल पड़े।ताजमहल देखा और बहुत दूसरी जगह भी काफी कुछ देखा. तो देखना वो तुम्हारे माथे इसको लगा देगी और उसके बाद वही पत्र शाम को सन्नी तक पहुँचा दिया।फिर क्या था सन्नी आग-बबूला होकर दूसरे दिन गाँव गया और आशा को ऐसी-ऐसी बातें सुनाईं कि वो हैरान हो गई उसके बच्चे को हरामी की औलाद बताया। उसने आशा की एक ना सुनी और उसको फटकार कर वो गुस्से में वहाँ से निकला।तभी अर्जुन और मुनिया से टकरा गया उसके बाद आशा ने आत्महत्या कर ली.

जबकि वो सही थीं।मैं सिर्फ़ खामोश खड़ा था।तब वो बोली- बात ऐसी है कि हम सहेलियों ने कुछ दिन पहले एक ब्लू फिल्म देखी थी. पर बात नहीं कर पाता।ऐसे ही एक दिन मैं उदास बैठा था… तो एक दोस्त मेरे पास आया और पूछा- क्या बात है भाई. पाठको, आपने अभी तक पढ़ा कि मैं अपने पति के साथ उनकी विकृत मानसिक स्थिति का इलाज करने के लिए एक डॉक्टर की राय मान कर सेक्स का एक तरीका ‘ब्रूटल सेक्स’ का प्रयोग कर रही थी और उसी क्रम में मैं आज रात उनके साथ पेश आ रही थी।अब आगे.

मैंने भी उसे दोनों हाथों से मजबूती से जकड़ लिया।हम दोनों की साँसें तेज-तेज चलने लगीं। वो कितनी गरम थी उसकी साँसों से महसूस हो रहा था।मैंने पूजा की चूचियाँ दोनों हाथों से पकड़ कर रखी थीं और उसकी निरंतर आवाज आ रही थी- आआआह्ह ह्ह्ह्ह.

पता चला कि उसने अन्दर कुछ भी नहीं पहना था।मैंने उनकी चूत में उंगली को डाला. और सारा पानी चाट लिया और दूसरी फिंगर उसके मुँह में दे दी वो भी फिंगर में लगा सारा पानी चाट गई।मैंने उसको बिस्तर से नीचे उतार कर दीवार के साथ उल्टा खड़ा किया और अपना लण्ड फिर से उसकी गाण्ड में ठोक दिया। इस बार उसको दर्द भी नहीं हुआ.

इसीलिए कोई दिक्कत नहीं हुई और वो ऊपर से मुझे ठोकने लगा।मैं उसके लंड को हाथ से पकड़े हुए पूरा मजा ले रहा था. फिर मैंने उसकी चूत में अपना पानी निकाल दिया।वो अब खुश थी… फिर मैंने उसकी 7 दिन में गाण्ड भी मारी. आंटी खाना और कमरे का सारा काम करके अपने घर चली जाती थीं।आंटी का रंग सांवला था.

मोनू ने मेरा हाथ पकड़ लिया।मैंने कहा- मुझे देखने दे तेरा बरमूडा इतना ज्यादा क्यों उठा हुआ है।मोनू का चेहरा शर्म से लाल हो गया और बोला- सॉरी दीदी. लेकिन मुझे सब सुनाई और दिखाई दे रहा था।फिर मॉम ने सपन को खाना दे दिया और बोली- मैं नहा कर आती हूँ।वो नहाने चली गईं. वो पंजाबी थीं तो पंजाबी औरत का मज़ा तो आप जानते ही हैं।मैंने उनकी चूत पर से अपना मुँह हटा कर उनके लिप्स पर आ गया।वो उतावली हो कर मेरे कपड़े उतारने लगीं और मेरे लंड से खेलने लगीं।जैसे ही मैं उनके हाथ से लंड निकाल कर उनकी चूत पर रखने लगा.

सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी जिनको मैं भैया बुलाता था।हालांकि उम्र में वो मुझसे 8-9 साल बड़े थे. पायल पैर फैला कर घोड़ी बन गई और पुनीत ने अपना लौड़ा उसकी चूत में घुसा दिया और स्पीड से उसको चोदने लगा।पायल- आह्ह.

वरुण धवन की सेक्सी

ऐसे बातें करते हुए हम दोनों ने फ़ोन चुदाई का खूब मज़ा लिया यहाँ तक की हम दोनों ने असली चुदाई जैसे ही मज़ा लिया और उसकी पैंटी गीली हो गई थी और मेरे लंड ने भी असल में रस छोड़ दिया था।हम अक्सर ऐसे करते रहते हैं. मैं उसको चोदता रहा।कुछ देर की ठुकाई के बाद वो मस्त हो गई और अकड़ सी गई. वो मुस्कुराने लगी और मेरी आँखों में देखने लगी।मैंने पूछा- आज पढ़ाई नहीं करनी है क्या?तो वो बोली- करनी है.

मैंने कहा- तुम्हारे चूचे भी तो बड़े-बड़े हैं।हम दोनों को एक-दूसरे के सामान दबाने में बहुत मजा आ रहा था। मैंने उसकी ब्रा को ऊपर करके उसके मम्मों को बाहर निकाल लिया।वाह. सो वो जीन्स-टॉप में आई थी। मेरी नज़र उसके मम्मों से हट ही नहीं रही थी. जोधपुर जिला सेक्सी वीडियोमैंने भी जल्दबाज़ी ना दिखाते हुए उसके चूचुकों से छेड़छाड़ जारी रखी और उसकी चूत को सलवार के ऊपर से ही छेड़ने लगा।उसकी कुँवारी चूत ने पानी छोड़ दिया था।इस बार जब मैंने उसके नाड़े को खोलना चाहा.

तो मैंने नाड़ा खोला और उनको सीधा कर दिया। फिर उनकी सलवार के अन्दर हाथ डाल कर पैंटी पर से उनकी चूत सहलाने लगा।तभी बुआ ने मेरा सर पकड़ा और अपने मम्मों पर रख दिया। मैं उनके मम्मों को चूसने लगा। वो मेरे सर पर हाथ घुमाने लगीं.

मेरा लण्ड कड़क हो गया था।मैंने उसकी कमीज के बटन एक-एक करके खोल दिए। उसने एक छोटी और सुन्दर सी ब्रा पहन रखी थी. तो वो दोनों ट्रक के बाहर ही खड़े थे।ट्रक ड्राइवर ने मुझसे आगे ले जाने के लिए पैसे माँगे।मैंने कहा- पैसे की तो कोई बात नहीं हुई थी।मैं डर के मारे काँपने लगी.

जब मैं 12वीं की पढ़ाई कर रहा था और हॉस्टल में रहता था और तब मेरी पहचान कोमल (बदला हुआ नाम) से हुई। कोमल एक भरपूर माल किस्म की गदराई हुई लड़की थी. जो उसकी नाभि के नीचे से बंधी हुई थी और चेहरे पर बहुत हल्का सा श्रृंगार और बहुत हल्की सी लिपिस्टिक अपने होंठों पर लगाई हुई थी। वह किसी अप्सरा से कम नहीं लग रही थी।उसने मुझको जोर से आवाज़ लगा कर पूछा- मुझको प्रीत विहार जाना है, क्या आप मुझको रास्ता बता सकते हैं?मैंने आगे बढ़ कर उसको रास्ता बता दिया. अनीता दीदी की आवाज़ में एक अजीब सा उतावलापन था, उन्हें शायद ऐसा लग रहा था कि हम भाई-बहन आपस में ही चुदाई का खेल न खेलते हों।इधर उन दोनों की बातें सुनकर मेरी आँखों की नींद ही गायब हो गई। मैंने अब हौले से अन्दर झांका और उन्हें देखने लगा। वो दोनों बिस्तर पर एक-दूसरे के साथ लेटी हुई थीं और दोनों पेट के बल लेट कर एक साथ किताब को देख रही थीं।तभी दीदी ने फिर पूछा- बोल न नेहा.

तो मैं प्रीत से बोला- जान अगर नेहा भाभी होगी तो कोई प्रॉब्लम तो नहीं है आपको?प्रीत बोली- नहीं, कोई प्रॉब्लम नहीं है।इतने में अचानक जोर-जोर से बारिश बारिश होने लगी तो मैंने प्रीत का हाथ पकड़ कर उसके पीछे खड़ा होकर उसकी कमर पर हाथ से सहलाते हुए बोला- बेबी, आज तो बारिश भी हमारे साथ है।प्रीत बोली- मुझे भी ये ही लग रहा है।इतने में नेहा आ गई.

जो उसके हलक में घुसता चला गया।उसके मुँह की गर्मी से अब मुझ और भी ज्यादा मज़ा आने लगा और उसको भी वो मेरा लण्ड पूरा मुँह में लेकर ज़बान के नीचे दबा कर चूस रही थी।तकरीबन दस मिनट तक ऐसे ही लण्ड चूसने के बाद मैं भी आउट ऑफ कंट्रोल हो गया, मेरा पानी भी अब नोक तक आ गया था. मेरे अन्दर आग लगने लगी और मेरी पैन्टी भीग गई, लगभग 6 महीनों से मैंने आनन्द नहीं लिया था।मोनू ने अचानक मेरी एक चूची मुँह में ले ली, मैंने उसका सर पकड़ कर अपने साथ भींच लिया, मोनू बिल्कुल बच्चे की तरह चूसने लगा. पता नहीं अभी तक मैं इसे क्यों नहीं पकड़ पाया था।उसके मम्मों को चूसते हुए मैंने पैन्टी भी नीचे कर दी, आज चूत पर बाल नहीं थे, मैंने उससे पूछा- आज तो तुम चुदने के मूड से आई हो क्या?इतना सुन कर वो शर्मा गई।उसने पूछा- भैया आपको नहीं करना क्या?मैंने कहा- मेरी प्यारी बहन तुम्हारी सेवा करना तो मेरा काम है.

शर्मा के सेक्सीथोरी देर मेरे मुरझाए लंड को चूसने के बाद वो बोली- मैं चलती हूँ फिर मिलेंगे।हमारी अगली चुदाई की कहानी अगले कहानी में सुनाऊँगा. मैं बोला- आप भी कम जानदार नहीं हैं दीदी!थोड़ी देर दीदी ने नानुकुर के बाद ‘हाँ’ कर दी।मैं दीदी से बोला- मैं आपके घर अभी आ रहा हूँ।दीदी ने मना किया- कभी बाद में आना.

सेक्सी नंगी ब्लू फिल्म वीडियो

थोड़ी देर तक ऐसे ही ड्रामा चलता रहा।दोस्तो, इस कहानी में चुदाई का एक जबरदस्त खेल होने वाला है जो आप सबको हैरत में डाल देगा. यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं उठा और किसी तरह उसकी एक टांग अपने एक हाथ से उठाकर और दूसरे हाथ से उसकी गाण्ड के पीछे ले जाकर उसकी चूत में अपना लण्ड धकेलने लगा. अब तू और मैं मिल कर सोनिया की चूत फाड़ते हैं।अब मदन और रिंकू ने सोनिया की चूत में एक साथ लण्ड डाल दिए। सोनिया को दर्द तो हो रहा था.

या फ़ेसबुक पर भी आप सेम आईडी से मुझसे मिल सकते हैं।दोस्तो, मैं ‘वन गर्ल मैन’ हुआ करता था. लेकिन ज़्यादातर मुंबई में ही रहती थीं।नीचे का एक बेडरूम मेरा था और एक बेडरूम मेरी बहन का था. ताकि लोग रजिस्ट्रेशन के लिए आसानी से आ सकें। पहले ही दिन से काफ़ी लोगों ने अपने रजिस्ट्रेशन करा लिए जिनमें से एक लड़की थी.

जबकि मेरी गर्ल फ्रेंड आयशा से कम खुली थी)सुरभि ने हर बार की तरह दरवाजा खट-खटाया. 34 साल की होकर भी तुम किसी कुंवारी लड़की से कम नहीं हो।’‘ऐसे मत बोलो. वो दोनों बगल के कमरे में चले गए।मेरी प्लानिंग के अनुसार सब सही चल रहा था।फिर दीपक बोला- चलो देखते हैं दोनों को.

साले कुत्ते ने इतने से काम के 20000 ले लिए।टोनी- मानना पड़ेगा बॉस आपको. तभी वो काँपने लगी और इधर-उधर को अपनी गाण्ड हिलाने लगी।उसने अचानक पूरी पीछे को होकर मेरा लंड अपनी चूत में पूरा लेने की कोशिश की.

जिससे मुझे भी बहुत ख़ुशी मिले।मेरे पूछने पर उसने यह भी बताया कि माँ बीच में नहीं जागती.

मैंने भी उनके बालों को पकड़ नीचे दबा दिया और अपने टाँगों को फैला दिया. मौसी का चुदाई सेक्सी वीडियोदोनों ऐसे ही जगह बदल-बदल के मेरी खूब चुदाई करते रहे और आखिर में मेरी चूत में ही झड़ गए।मैं थोड़ी देर वहीं नंगी पड़ी रही।फिर मैंने दम साधी और खड़े होकर अपने कपड़े उठाने लगी. इंग्लिश लव सेक्सीइसलिए मैंने चाल चली। मैंने उसकी टाँगें खींच लीं और फिर लौड़ा अन्दर डाल दिया और मैं खड़े रहकर ही उसकी चूत खोदने लगा।जैसे ही वो चुदाई की मस्ती में आ गई मैंने उसे टाँगें पकड़ कर उल्टा घुमा दिया और मेरी रानी बन गई घोड़ी. इसको बुर या चूत बोलते हैं।मैंने कहा- बुर क्यों कहते है क्या ये बुरी होती है और चूत कब कहते हैं?उसने बोला- बुर जब तक रहती है जब तक किसी ने अपना लण्ड उसमें नहीं डाला हो.

क्योंकि अभी से मुझे भीगने का बिल्कुल भी मन नहीं था।मैं वहीं खड़े बाहर गेट की तरफ टकटकी लगाए अपने दोस्त का इंतज़ार करने लगा। तभी किसी ने पीछे से मेरे ऊपर रंग की बाल्टी डाल दी। अचानक इस हमले से मैं अचकचा गया और गुस्से से पीछे मुड़ कर देखा तो सारिका ‘खी.

अब थोड़ी देर में जब सबके सामने कपड़े उतारोगी तो शर्म नहीं आएगी क्या. उस अंग को आदमी का ‘हॉट-स्पॉट’ कहते हैं।जैसे मेरा ‘हॉट-स्पॉट’ मेरे कान के पीछे की जगह है. बाद में मेरे पिता जी का तबादला हो गया और मेरी यह कहानी बंद हो गई।बाद में कई साल बाद वो मिली.

और आखिरकार वो शब्द मेरे कानों में पड़ ही गए जिनके लिए मैं सुबह से प्रार्थना कर रहा था. उन्होंने कपबोर्ड में से कन्डोम का पैकेट निकाला और कहने लगीं- मैं जानती थी तू मुझे चोदेगा जरूर. अब मेरी जीभ उसकी चूत में चल रही थी और उसकी उंगली मेरे सर के बालों में।वो भी नीचे अपनी गाण्ड को इस तरह हिला रही थी.

देहाती भोजपुरी वीडियो सेक्सी

लेकिन मैंने ग्रेजुएशन में एडमिशन लेने के साथ ही कंप्यूटर कोर्स भी ज्वाइन कर लिया था. अब मेरी बारी थी, मैंने अब धक्के जोरदार मारना चालू कर दिए, वो भी पूरा जोश में थी।मैंने धक्के मार-मार के उसकी गांड लाल कर दी. जब गाड़ी अपने स्टॉप पर रुकी।गाड़ी रुकते ही हम एक-दूसरे से हट गए, उसने कहा- जरा यह तो पता करके आओ कि अगला स्टॉप कितनी देर बाद आएगा।मैं उसका इशारा समझ गया। अब उससे रुका नहीं जा रहा था। मैंने नीचे उतर कर पानी की बोतल ली और पूछने पर पता चला कि अगला स्टॉप 15 मिनट की दूरी पर है और उससे अगला 2 घंटे की दूरी पर है। यानि अगले स्टॉप के बाद हम असली मजे ले सकते थे.

उसका भाई हरीश मेरा अच्छा दोस्त था, मैंने उससे फिल्म देखने का बहाना बना कर उसे मॉल में उसकी बहनों के साथ बुलाया और वो मान गया।शाम 7 बजे वो और वो अपनी बहनें मंजू और किरण दोनों को लेकर आ गया।मैंने चार टिकट ले ली थीं.

पर मेरा मन आज कुछ मस्ती करने का था। मैं ऑफिस जाने से पहले सुबह बार-बार अपनी पत्नी को छेड़ रहा था। मेरी पत्नी प्रिया की चूत भी शायद मचल रही थी.

तो मुझे कोई खतरा नहीं था।अपनी सीट पर आकर मैंने उससे कहा- मैंने हमारे लिए पिछली डबल बेड वाली सीट बुक कर दी है. मैं सिस्टम के सामने बिल्कुल नंगी बैठी अपने मुसम्मियों और अपनी चूत को रगड़ने लगी और बहुत ज़्यादा गरम हो गई।चुदास की मस्ती से मेरा सारा जिस्म काँप रहा था और मैं पसीने से लगभग गीली हो गई थी।अभी मैं सेक्स में पूरी तरह डूबी भी ना थी कि इसी दौरान डोरबेल बजी. चोदने वाली सेक्सी चूतवैसे ही भाभी ने मेरे होंठों पर अपने हाथ रख दिए।इससे पहले मैं कुछ समझ पाता.

आ जा।वो बिस्तर पर चित्त लेट गया और मैं उसके लंड को अपनी चूत में सैट करते हुए बैठ गई।तो वो बोला- बैठना नहीं है. वो अहसास बहुत अच्छा था। मैं उसके चूतड़ दबाने लगा और वो और ज्यादा कुलबुलाने लगी और अपनी चूत को मेरे लंड पर रगड़ने लगी।वो सिसकारी निकालने लगी. वो ये बात कहते हुए मेरा हाथ दबा कर हँस पड़ी।मैंने उसको बोला- क्या तुम अभी कर सकती हो?मैंने सोचा कि वो मज़ाक कर रही है.

मैं भी जान बूझकर वहाँ पेशाब करने खड़ा हो गया ताकि उसका लंड देख सकूं और मेरी इस हरकत को वो भी देख रहा था।काफी अच्छा लंड था उसका. मैं चूसता हुआ उनके निप्पल से पेट और पेट से चूत तक आ गया।जैसे ही मैंने उनकी चूत को नंगा करके उस पर अपनी जीभ को लगाया.

तो मैंने भाभी को किस किया और उठाया। उसके बाद मैंने उस लड़की को भी भाभी की मदद से चोदा।यही है मेरी सच्ची कहानी।मुझे मेल जरूर करें।[emailprotected].

आखिर मैंने बहुत हिम्मत जुटाई और उससे कह दिया- तृषा तुम बुरा नहीं मानो. मुझे शाम तक जाना है।इतना सुनने की देर थी कि उन्होंने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और मेरे चेहरे को एक हाथ से ऊपर उठा के बोला- मुझे लगता है. जो हवलदार से ज़ोर-ज़ोर से बातें कर रहे थे और पुनीत भी उनके साथ बोल रहा था।पायल ने जब उनकी आवाज़ सुनी वो झट से उसकी गोद से उठी और उनकी तरफ़ भाग गई। पीछे से बदल सिंग भी उनकी तरफ़ हो लिया।सन्नी- पायल तुम ठीक तो हो ना उसने कोई बदतमीज़ी तो नहीं की ना?टोनी- मैंने पायल को बस टच किया तो तेरे को बड़ा गुस्सा आया था.

घोड़ा की चुदाई सेक्सी वीडियो तो वहाँ वो ही अंकल उस सीट पर बैठे हुए थे। उन्होंने उस लड़की को अपनी वाली सीट पर जाने के लिए बोला।वो सीट मेरी साइड में ही थी. हम कारनामा ऐसा जो कर रहे थे।हम खूब एक-दूसरे के होंठों को चूस रहे थे.

चूत फाड़ने का मजा मुझे मिल चुका था और अब उसे मजा देने की बारी थी।मैंने अपना लण्ड धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करना शुरू किया। उसके बाद मैंने उसे बिस्तर के किनारे लाकर और जैसा कि पॉर्न फिल्मों में देखता हूँ. जो इतने तेज़ होते कि मेरे मुँह से सिसकारी के साथ निकलता- प्लीज धीरे. लेकिन कल की तरह उसने आज भी पी ली थी और वो मस्ती में नाच रहा था।मेरे लिए भी अच्छा मौका उसको जी भर कर देखने का.

दोस्त की बहन सेक्सी वीडियो

जिनका नाम है सोनाली।सोनाली के बारे में बता दूँ। सोनाली की उम्र क़रीब 42 साल है और सोनाली एक बेहद ख़ूबसूरत औरत है। वो उन हसीन भाभियों में से है. मेरा 8″ का लण्ड इतने उफान पर आ गया था कि क्या कहूँ।पहली बार जब किसी को कोई लड़की मिलती है. अब मेरे लौड़े का मज़ा भी तो तुझे देना है।टोनी- बॉस ये अर्जुन तो पक्का चोदू है तब तक हमारा क्या होगा?सन्नी- सालों सबर कर लो… उसके बाद पूरी रात लगे रहना।सन्नी वहाँ से मुनिया को वापस अन्दर ले गया और वो सब अर्जुन का खेल देखने लग गए।दोस्तो, अब कहानी का अंत आ गया है तो सबकी चुदाई एक साथ दिखानी पड़ेगी.

उसकी एक बहन थी, प्यार से सभी उसको नीतू बुलाते थे।एक दिन रिंकू ने मुझसे कहा- यार तू मेरी छोटी बहन को पढ़ा दिया कर. ऑफिस में या घर पर भी चुदाई करवा लेती थीं।अब अगले भाग में उनकी बेटी के साथ क्या हुआ वो भी लिखूँगा।.

मैं भी झड़ने वाला हूँ।मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी, वो कुछ देर के बाद झड़ गई, मैं भी झड़ने के करीब आ गया था, कुछ देर के बाद मैं भी झड़ गया।उसने मुझे कस कर बाँहों में जकड़ लिया, मैं भी उसकी चूचियों के ऊपर पड़ा रहा।कुछ देर के बाद उसने मेरा लंड और मैंने उसकी चूत को साफ़ किया।फिर हम लोगों ने कपड़े पहने और कुछ देर तक एक-दूसरे के बाँहों में पड़े रहे। हम लोग सुबह 6 बजे उठे.

और कहा- तो मैं तेरा सारा डर खत्म कर देता हूँ ना!वो बोली- पहले दरवाजा बंद कर लो।मैं दरवाजा बंद करने गया. लेकिन फ़र्क सिर्फ़ इतना था कि आज वो चुदवा रही थी और मैं देख रही थी।ब्लू-फिल्म के चलते-चलते मैंने अपनी गाण्ड में भी उंगली की और चूत में भी मजा लिया।अब तो आदत ऐसी हो चुकी थी कि चूत में उंगली करने के बाद मैं अपनी उंगली मुँह में लेकर ज़रूर चूसती थी।मैं अपनी फीलिंग नहीं बता पा रही हूँ कि मैं उंगली करते और चूसते हुए कितना मस्त हो गई थी।अब वो वीडियो ख़त्म हुआ. मैं बिहार का रहने वाला हूँ।यह घटना मेरे जीवन की एक सच्ची घटना है… इस घटना में किसी तरह का काल्पनिकता या बनावट नहीं है।बात उन दिनों की है.

मन करता है कि ऐसे ही राकेश जी के नीचे जिंदगी गुज़ार दूँ।मैंने टाइम देखा तो 4 बज रहे थे। मैं जूस पीने लगी. तो वो तंबू बन गया और बुआ के दोनों चूतड़ों के बीच की दरार में जाने लगा।मैं और पीछे को हुआ. अब इतना मज़ा लेना तो इनका बनता है ना।टोनी- अरे मैं तो मजाक कर रहा हूँ.

वो बताती है कि उसके पति में कोई कमी नहीं है, वो भी अक्सर उसे पूर्णानन्द तक ले जाता है लेकिन उसे पाने पति के साथ यौन सम्बन्ध बना कर ऐसा लगता है कि जैसे वो किसी गैर के साथ सेक्स कर रही हो.

सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी: मेरी एक गर्लफ्रेंड है, मैं उस से बहुत प्यार करता हूँ, वो भी मुझसे बहुत प्यार करती है, लेकिन अब उसकी शादी हो गई है. मैं उसकी चूत को पी रहा था।फिर कुछ देर में मेरा लण्ड खड़ा हो गया और मैंने उसे नीचे लेटा दिया और खुद उसके ऊपर चढ़ गया, मैं अपना लण्ड उसकी चूत के ऊपर रगड़ने लगा।अब फिर से उसके मुँह से ‘आआ.

ऐसा हो नहीं सकता।पूजा से टाँगें टच होने से मेरे अन्दर का शैतान जैसे जाग सा गया हो।मैंने पूजा की तरफ देखा. तो उसने धक्के मारने शुरु किए। उसके हर धक्के से मैं मज़े से ऊपर उछलती और चुदाई का मजा लेना चालू कर थोड़ी देर बाद हम दोनों ने अपना पानी छोड़ दिया।बाद में देखा तो बेडशीट खून से लाल हो गई थी, हमने वो चेंज की और सुबह जब मैं उठी. आज ही तुमको नौकरी पर रख लेते हैं।मैं ख़ुशी-ख़ुशी उसके घर की तरफ चल दिया।हम लोग घर पहुँच चुके थे जो कि एक आलीशान बंगला था। वॉचमैन ने हम लोगों के लिए गेट खोल दिया और जूही कार ले कर अन्दर आ गई।जूही ने मुझको बैठने का इशारा किया और बोली- मैं अभी चेंज करके आती हूँ.

मैं उधर ही साक्षी और टीटी के सामने बैठ कर बाहर को सूसू करने लगी।फिर मैंने अपने कपड़े पहने.

इस चुदाई में भाभी एक दो झड़ चुकी थीं।मैंने अपना सारा पानी चूत में नहीं डाला. जब वो हमारे घर आई तो कुछ लम्हों के लिए तो मैं उसके मासूम हुस्न के जलवों में खो कर ही रह गई, मुझे लगा जैसे मेरा दिल धड़कना भूल गया है।उस पर नया-नया शवाब आ रहा था. मैं उनके पीछे खड़ा होकर उन्हें चोद रहा था और भाभी थोड़ा सा झुक कर अपनी चूत की खुजली मिटवाते हुए खाना भी बना रही थीं।मैं उनके पीछे से उनके बर्तन बजा रहा था.