राजस्थानी बीएफ ब्लू

छवि स्रोत,पेशाब करती महिला

तस्वीर का शीर्षक ,

मस्ती चुदाई: राजस्थानी बीएफ ब्लू, मैंने तुम्हें बचपन मैं ही बिना कपड़ों का देख लिया है और वैसे भी कल रात को तो …रेणु ने मेरे मुँह पर हाथ रख दिया और झट से अपनी टी-शर्ट उतार दी.

मिया खलीफा ब्लू फिल्म

देसी कॉलेज गर्ल सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरे कहने पर एक लड़की जो मुझसे कई बार चुद चुकी थी, ने दूसरी लड़की की चुदाई के लिए जुगाड़ किया. चोदो मुझेउसी बात सुनकर मैं एकदम से सकपका गई और बोली- नहीं, मैं कुछ नहीं देखती थी.

वो मादक आवाजें भरने लगी- आआह … आह!देखते ही देखते उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. बड़े बड़े दूध दिखाएंउसके बाद क्या हुआ?दोस्तो, कैसे है आप सभी लोग!मेरा नाम सागर है और मैं 28 साल का हूँ.

नीचे झुका हुआ लंबा दाड़ी वाला मर्द अपना खड़ा लंड नेहा की गांड में आधा डाल चुका था.राजस्थानी बीएफ ब्लू: पन्द्रह मिनट की जबरदस्त रगड़ाई के बाद चचा थक गए और मेरे बगल में लेट गए.

जब मैंने घर की बेल बजाई तो अन्दर से आवाज़ आई कि गेट खुला है, अन्दर आ जाओ.मैंने ऋतु को मनाया कि वह सनी से बात करे और उसको अपनी बातों से अपनी तरफ आकर्षित करे.

बकरा दिखाओ - राजस्थानी बीएफ ब्लू

भाभी मुस्कुरा कर बोलीं- क्या हुआ?मेरे मुँह से न जाने किस झौंक में निकल गया- आप बहुत सेक्सी लग रही हो.सनी उसकी चूची मुँह में भर कर चूसने लगा, जिससे ऋतु को कुछ आराम मिला.

मैंने उसको उत्तर देते हुए कहा- कुछ नहीं होता प्रीति … इतनी आवाज भी नहीं आएगी, तो मजा कैसे आएगा. राजस्थानी बीएफ ब्लू उसके ऐसा करने पर मैं भी एकदम से सिहर सी गई और हल्की हल्की ‘आह … उह … उफ्फ् …’ की सिसकारियां भरने लगी.

जब मैंने लंड निकाला तो मेरा वीर्य मेरे दोस्त की अम्मी की गांड निकलने लगा।अब मैं भी साइड में लेट गया।थोड़ी देर बाद नफीसा उठी और उसने मेरे लंड को चूस कर साफ़ कर दिया।तब वो रसोई से बिरयानी लेकर आई; हम दोनों ने साथ में खाना खाया।बिरयानी खाकर दोनों बैडरूम में आ गए.

राजस्थानी बीएफ ब्लू?

मैंने उन्हें देखा तो भाभी ने मेरा हाथ पकड़ा और बेडरूम की तरफ जाने लगीं. जब तक भाभी चिल्लातीं, मैंने दूसरी ठोकर मार दी और अपना पूरा लंड गांड की जड़ में पेल दिया. सनी दोनों हाथों से उसकी चूची दबाने लगा और उसके जिस्म पर हाथ फेरने लगा.

‘प्लीज़ जान अब चोद दो मुझे … प्लीज़ जान चोद दो … अब नहीं रुका जा रहा अपना लंड डाल दो इस चूत में. पापा खुश हो गए और मुझसे बोले कि चढ़ जाओ और लंड इसकी गांड में पेल दो. उसने मेरे गार्डन को देखने की ईक्षा जाहिर की तो मैंने अगले दिन उन्हें शाम में चाय पे बुला लिया।भाभी ने अपना मोबाइल नंबर दिया तो मैंने नंबर सेव करने के लिए उनका नाम पूछा.

जब भी घर में उन्हें कोई दूसरी चूत नहीं नहीं मिलती मतलब अम्मी, आपा, बाजी आदि न हों तो वो खाला की चुत चुदाई कर लेते थे. उसने 5 मिनट के बाद मुझे अंदर आने के लिए आवाज़ लगाई।मैं अंदर आया तो मेरे होश उड़ गए. वो फिर से चीखी … मगर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को लगा रखा था तो आवाज निकल ही नहीं पाई.

मामी- ओह्हम्म ह्हम्म आह आह और और आह ह्हम्म आह उफ्फ उफ़्फ़आ हहम्म आह्म्म आई दर्द हो रहा है जालिम आह छोड़ दे. मेरी चूचियां उसके सीने से रगड़ रही थीं और मुझे बेहद उत्तेजना होने लगी थी तो मैंने अपनी आंखें मूंद लीं और उसके स्पर्श का सुख लेने लगी.

मैंने कहा- नहीं, आज में किचन में ही चोदूंगा।पास रखी चटाई बिछाकर मैंने नफीसा को लिटा दिया और उसकी चूचियों को मसलने लगा.

वह चुदाई का आनंद लेने लगी भरपूर … कहने लगी- मुझे भरपूर मजा आ रहा है।उसकी चुदाई करते हुए मुश्किल से 4 से 5 मिनट हुए होंगे वह झर गई।लेकिन मैंने धक्के देने चालू रखें।थोड़ी देर बाद वह भी फिर से मजे लेने लगी और मेरा साथ देने लगी.

जब मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूं तो मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाल लिया और पिंकू को सीधी लिटाकर उसकी दोनों टांग फैलाकर उसकी कुंवारी चूत चूसने लगा और दोनों हाथों से उसके बूब्स दबाने लगा. ना चाहते हुए भी मैं उसे देख कर अपने ब्वॉयफ्रेंड के लंड से कंपेयर करने लगी. मंजू पहली बार मेरे सामने नंगी नहीं हो रही थी पर आज उसके गाल में शर्म की लालिमा सी थी.

फिर ये भी पता चल गया था कि सेफ पीरियड कब होता है, कब बिना निरोध के चुदाई कर सकते हैं. मैंने उसके बालों को पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और उसके होंठों को किस करने लगा. फिर बिना कंडोम के ही राहुल ने इक्शाना की चूत पर अपना लंड टिकाया और एक जोर का धक्का दे मारा जिससे इक्शाना की गीली चूत के राहुल का पूरा लंड एक बार में ही घुस गया.

उसके हां कहते ही मैंने उसके सर को मेरे लंड के सुपारे पर ही पटक दिया और उसके बालों को अपने हाथों से पकड़ कर मेरे लंड को उसके मुँह में दे दिया.

आप कमेंट्स बॉक्स में, ईमेल पर … या फिर किसी भी सोशल प्लेटफार्म पर मुझे बता सकते हैं. पर जैसे ही दीदी ने हाथ बढ़ाकर मुझे रोका उनके बूब्स एकदम नंगे हो गए क्योंकि उनके बाल उनके बूब्स से हट गए थे. इससे मेरा उत्साहवर्धन होगा और मैं अपने जीवन के कुछ और रोमांचक व कामुक पल आप लोगों के साथ सांझा करूंगा.

उईईई … अअअ अअअ … उफ़्फ़फ़ … मर गईईई!”प्रीति के मुंह से ऐसी चीखें सुन कर मैंने उसकी और देख कर आंख मारी और पूछा- मजा आ रहा है ना डार्लिंग?जवाब में उसने भी मुझे आंख मारी और बोली- डार्लिंग, सच में मुझे आज लग रहा है कि मेरी चूत में आज ढंग का लन्ड गया है. मेरा उन्नीसवां जन्म दिन आया तो भाई मेरे लिए एक सेक्सी स्कर्ट टॉप उपहार लाये. मेरी मदद के लिए मीना ने मंजू को अपने साथ रखना शुरू कर दिया, जिससे मुझे और मंजू को ज्यादा मौके मिलने लगे.

एक गैरमर्द के कठोर लंड की याद करते ही ऋतु मन ही मन खुश हो गई और उसकी गीली चूत में एकदम से खुजली बढ़ गई.

भाभी ने एक दूध अपने हाथ से पकड़ा और बोलीं- बूब्स मसलने के बाद इनको चूसने में भी मजा आता है. तब दीदी ने पहली बार सिसकारी ली और बोल पड़ी- उफ्फ मेरे भाई … यह कि तुमने क्या कर दिया!अभी भी मैं वैसे ही स्थिति में था, मतलब मेरे हाथ दीदी के बूब्स पर थे और मेरा लंड दीदी की गांड पर दब रहा था.

राजस्थानी बीएफ ब्लू दिनेश ने मुझे सहलाना दबाना शुरू किया तो अपने अगले चरण के लिये तैयार होने में मैंने उसी रगड़ाई का सहारा लिया।जब दोनों अच्छे गर्म हो गये तो इस बार उसने बेड से नीचे उतर कर मुझे बेड के किनारे खींच लिया और टांगें पूरी तरह खोल कर मेरी योनि सामने उभार ली।इस बार तेल की जरूरत नहीं थी…खुद से पैदा चिकनाई ही काफी थी और अंदर घुसाते में जो कसावट मिली. एक बीवी के लिए उसके शौहर का लण्ड बहुत मायने रखता है।मेरा शौहर आया, मेरा घूँघट उठाया, मेरी खूबसूरती की तारीफ की और अपने मुकद्दर की सराहा।सारे रस्मो-रिवाज़ पूरे करने बाद वह मेरे कपड़े खोलने लगा और मैं उसके कपड़े!आखिर में मैं पूरी तरह नंगी हो गयी.

राजस्थानी बीएफ ब्लू जब मैं वहां से निकलने वाला था, तभी अचानक से मौसम खराब होने लगा और बारिश होने लगी, जिससे मैं थोड़ी देर के लिए वहीं रुक गया. ये सीन देखकर मैं भी बेकाबू होने लगा तो मैंने भी अपने कपड़े उतार डाले और सिर्फ चड्डी पहने हुए कमरे में घुस गया.

मैं अपनी जीभ उसके चूत के चारों तरफ जोर-जोर से घुमा रहा था और अपनी ज़ीभ और होठों से उसकी चूत को निचोड़ कर चूस रहा था.

हिंदी बीएफ उत्तर प्रदेश

उन्होंने एक हाथ से मेरे चूतड़ पकड़ कर मुझे उठाया और अपने लंड को मेरी गांड की छेद पर सैट कर दिया. [emailprotected]स्वैपिंग सेक्स कहानी का अगला भाग:चुत की अदला बदली में चुदाई का मजा- 2. मैंने भी मौका देखकर चौका मारा और अगले ही पल मैंने भाभी के कोमल और दूध जैसे सफेद दूध को अपने एक हाथ से मसल दिया.

अपनी सास की चाल का हाल मैंने ही बदला था, ये मेरे बीवी को पता नहीं था. ये लंड सहलवाने का काम हम दोनों के बीच चुदाई के सबंध बनने की शुरुआत थी. उस समय मुझे अपने पैरों में एक अलग कमजोरी महसूस हुई … और रोज की तरह मेरा लंड आज सलामी नहीं दे रहा था.

मीना मेरा हाथ पकड़ अपने कमरे में ले गई और खुद बाहर जाकर दरवाज़ा बंद कर आई.

तुम्हारी साली इतना ज़ोर ज़ोर से चिल्ला रही थी, जैसे पहली बार चुद रही हो. फिर तुम अभी भाई बहन की चुदाई वाली वीडियो देख रही थी ना!पिंकू बोली- तुम मेरे भाई हो, भाई बहन में यह नहीं हो सकता. तब मैंने सलीम से पूछा क्या हुआ था- तरन्नुम गुस्सा क्यों हो गई?सलीम नशे में रोने लगा और बोला- मैंने उससे कहा कि मुझे तुम्हारे साथ करना है.

इस समय भाभी मेरे सामने बैठी थीं, वो मुझे झुक झुक कर खाना परोस रही थीं. मैं उस दिन के बाद से दो दिन घर से निकली नहीं!लेकिन तीसरे दिन शाम तक मैं खुद को रोक नहीं सकी और मैं घर से बाहर निकल गई. दादी मस्त आवाज कर रही थीं- अंह अंह उँह!जब मेरा होने वाला था तो मैं रुक गया.

इस 20 मिनट में उसने मेरे हाथ पर अपनी चूत के झड़ने से थरथराते हुए अपने पानी से 4 बार वर्षा की. उन्होंने ब्लैक कलर की ब्रा पहनी हुई थी, जो उनके ब्लाउज से साफ़ दिख रही थी.

मैंने उनकी चूत और चूची का बुरा हाल कर दिया था, शरीर का एक एक अंग आगे पीछे चूमता रहा था. मामा ने मामी का ब्लाउज खोलकर ब्रा उतार कर दूर फैंक दी और उनके बड़े-बड़े दूध दबाने लगे. ये कहकर मामी ने मेरा हाथ पकड़कर अपनी जांघ पर रखा और अपना हाथ मेरी जींस के ऊपर सीधे मेरे लंड पर रख दिया.

वो भी चुदाई की बहुत बड़ी लोलुप हैं इसलिए वो भी मेरे मोटे लंड से चुत चुदवाने के लिए खुद ही नंगी हो जाती हैं.

मैन टू मैन सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं अपने दोस्त से गांड मरवा रहा था तो एक अंकल को पता लगा गया. मामी- अगर मुझे पता होता तुम इतना अच्छे तरीके से चोदते हो, तो पहले ही तुमसे चुदाई करवा लेती. फिर उसने एक घूंट में ही आधा गिलास खाली किया और सिगरेट का कश लेकर मेरी चुचियों की तरफ घूर कर देखने लगा.

बाहर आकर एक सिगरेट पीने लगा और अपनी मम्मी की चुदाई की वीडियो को सोचने लगा. अब आगे भाई ने सेक्सी बहन की गांड मारी:फिर मुझे अपने ऊपर बिठाते हुए कहा- आहिस्ता से लंड को चूत में लेते हुए बैठो!जैसे ही मैं बैठी लंड पर … फच से पूरा लंड मेरे चूत में घुस गया।एक मीठा सा दर्द हुआ और मेरी आँखें बड़ी हो गयीं.

मैं बाथरूम में चला गया और बिना दरवाजा लगाए भाभी की मस्त चूचियों को याद करके मुठ मारने की सोचने लगा. अंजू कसमसा कर दूर होने लगी पर पीछे अलमारी और मेरी मजबूत पकड़ से वो हिल भी नहीं पाई. अब्बू खाला की चुचियों को ज़ोर ज़ोर से दबा रहे थे, जिस कारण उनकी चुचियों में दर्द हो रहा था.

देखने वाली बीएफ पिक्चर

उसने दरवाज़ा खोला और मैं अंदर आ गया।मेरे अंदर आने के बाद उसने दरवाज़ा बंद कर लिया.

आप लोग मुझे मेल करके बताएं कि मेरी जीजा साली सेक्सी स्टोरी आपको कैसी लगी. उठ कर मम्मी ने सामने से रोटी वाली मिट्टी के तवे को उतार दिया और अपना नाड़ा भी ढीला करके बैठ गईं. मतलब हम दोनों काफी क्लोज हो गए और अपनी ‌सीमा भूल कर एक दूसरे में खो गए.

’मामा उठकर तैयार होने चले गए और मामी वहीं लेटकर लम्बी लम्बी सांसें लेने लगीं. वैसे भी कोरोना काल में थोड़ी सी तबियत खराब बताओ, तो अधिकारी अपनी गांड फटी के चक्कर में छुट्टी दे देते हैं कि कहीं इसे कोरोना तो नहीं हो गया है. किशना भगवान फोटोतब मैंने आगे बढ़ कर कहा- क्यों ना हम शर्त लगाकर जेंगा खेलें, जो पहले टॉवर गिराएगा, वह अपना एक कपड़ा खोलेगा.

अब अभिषेक ने मुझसे बोला- जैसे यह तुम्हारा लन्ड चूस रही थी वैसे ही अब तुम इसकी चूत को चाटो।मैं अपना मुंह उसकी चूत के पास ले गया तो मुझे बहुत ही अच्छी खुशबू आ रही थी. मैंने उसकी चूची को ऊपर से दबाया, उसकी चूत को साड़ी के ऊपर से सहलाते हुए बोला- इसकी प्यास मैं बुझा कर रहूंगा।उसने भी मेरा मजा लेते हुए कहा- अच्छा जी, देखते हैं बुझा पाओगे कि नहीं।मैंने सोचा था कि उसी रात में हमारे बीच कुछ ना कुछ हो जाएगा.

यह मेरी पहली सेक्स कहानी है, जो मैं आप सबके साथ शेयर कर रहा हूं, अगर कोई गलती हो जाए तो मुझे माफ़ कर दीजिएगा. मैं जब उनके ऑफिस में गया, तो भाभी के ऑफिस में उन्हें देख कर मेरा मुँह खुला का खुला ही रह गया. दीपक और प्रकाश ये देखकर हैरान रह गए कि आखिर ये है क्या?दीपक मेरे पैरों के नजदीक आया और उसने मेरे पेटीकोट के अन्दर अपना सर डाल दिया.

मीना- मैंने तुमसे कहा था कि मंजू छोटी है, तुम्हारा सह नहीं पाएगी, पर तुम तो उसके साथ जानवर जैसे बन गए थे. मैं इस मजे को अगले भाग में आगे लिखूंगा, तब तक आप मुझे मेल करना न भूलें. फिर उन्होंने मेरे पास आकर कहा- तू शांत लेटी रह, नहीं तो अभी ही तेरी सारी करतूतें तेरी दीदी को बता दूँगा.

तो मैंने क्या किया?नमस्ते दोस्तो, मैं मस्तराम आपके सामने एक सेक्स कहानी पेश कर रहा हूँ.

भाभी ने अपनी गांड उठा दी थी और उनकी लगभग पूरी चुत मेरे मुँह के कब्जे में आ गई थी. पर जैसे ही बिस्तर पर मैं उसके ऊपर आया तो वो मुझे धक्का देकर बाहर आ गई।फिर सलीम बोला- राज मेरे भाई, आज मेरा जन्मदिन है.

यदि तुम कहो तो मैं अभी तुम्हारे ऊपर चढ़ जाऊं!उसने कहा- यार, बगल में मम्मी सो रही हैं, इधर कैसे चुदाई हो पाएगी?मैंने कहा- तो एक काम करो … मैं तुम्हारी चुत चूस लेता हूँ और तुम मेरे लंड को चूस लो. एक साल पूरा हो, इससे पहले ही लॉकडाउन शुरू हो गया, जिसकी वजह से वह घर वापिस आ गई. फिर कुछ देर बाद दीदी बोली- भाई, मेरे समझ नहीं आ रहा मैं क्या बोलूं? तुम मेरे भाई हो, मुझे बहुत अच्छे लगते हो पर मुझे अजीब लग रहा है.

फिर भाभी ने मेरी तरफ करवट ली और उन्होंने अपना एक हाथ मेरी जांघों पर रख दिया. मुँह में झड़ने के बाद साले को तसल्ली न हुई थी तो वो मेरी जांघों के बीच सारे कपड़े उतारकर आ गया. शीमेल सेक्स कहानी में पढ़ें कि दवाइयों के साइड इफ़ेक्ट से एक जवान हैण्डसम लड़के में लड़कियों के गुण आने लगे.

राजस्थानी बीएफ ब्लू दो बार चुत चोदने के बाद अब्बू ने खाला से बोला कि सरसों का तेल ले आओ और मेरे लंड की मालिश कर दो. मेरे गालों पर, पीठ पर, होंठ पर, बूब्स के ऊपर छाती पर उन दोनों के होंठ चलने लगे.

एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ चुदाई वाली

साफिया बोली- और उसके बाद?फ़िरोज़ बोला- उसके बाद भी देखेंगे क्या होता है!तो यही कहानी है फिरोज और उसकी भांजी साफिया की चुदाई की!आपको कैसी लगी यह लॉकडाउन सेक्स कहानी? आप मुझे मेल करके बताइएगा. बाप रे बाप क्या लौड़ा है उस मादरचोद का!और कोई कहती- मैं तो अपनी सहेली के अब्बू का लण्ड पीती हूँ. मैंने अभिषेक से पूछा- लंड क्या होता है?तो नीतू और अभिषेक दोनों हंसने लगे.

कुछ देर तक चुत चाटने के बाद वो उठा और उसने अपनी चड्डी को भी उतार दिया. एक हफ्ते से ज़्यादा हो गए तेरी मस्त चूत और ये सॉलिड मोटे चूचे देखे हुए. रंगोली बनाना बताइएकमरे के अन्दर जाने के बाद वो दोनों किस करने लगे और उस लड़के ने शिल्पा दीदी की ड्रेस उतार दी.

फिर उन्होंने मेरी दोनों चुचियों को उंगलियों से मींजना शुरू कर दिया.

ऐसा मैंने पहले कभी नहीं किया था तो मुझे बहुत ही आह्लादित करने वाले आनन्द की अनुभूति हो रही थी. वो इस वक्त अपने लंड पर तेल लगा रहे थे, जिससे तेल गांड पर भी लगता जा रहा था.

वापस आते ही वो मेरी शर्ट उतारने लगी और मेरे दोनों निप्पलों को बारी बारी से चूसने लगी. तभी सनी के धक्के बहुत तेजी से पड़ने लगे और उसके मुँह से आवाज निकलने लगी. लेकिन जल्दबाजी नहीं करनी थी।मैं बोला- पिंकू, खाना वाना जल्दी बना ले.

ज्योति ये सुनकर एकदम अवाक रह गई और बोली- अरे तूने ये सोचा भी कैसे कि मैं विजय से शादी करूंगी?किशन बोला- मम्मी परसों जब आप सोशल मीडिया पर विजय अंकल की फोटो देख रही थीं, तो मैं समझा कि आप दोनों के बीच कुछ है, इसलिए मैंने ये बोला.

सन्नी बोला- यार मेरे भाई पहला स्वाद मुझे लेना है … चाहे एक मिनट ही सही, लेकिन इसकी चुत में लंड पहले में ही डालूँगा. बात आगे बढ़ कर सेक्स तक कैसे पहुंची?सभी चुत वालियों को मेरे खड़े लंड का सलाम और सभी लंडधारियों को नमस्कार. पर इन सबमें हम लड़के भूल जाते हैं कि उस लड़की ने आपको कितने मौके दिए कि आप उसको पटा सको.

देहाती सेक्सी वीडियो गानासमता- विकास जी, मैं 11 साल से राजनीति में हूँ, सब चीजों को जानती हूँ. जोया के बाथरूम से जाने के बाद मैं लंड की मुठ मारी और कमरे में आ गया.

सेक्सी ब्लू वीडियो बीएफ हिंदी

भाभी को अन्दर गर्म गर्म महसूस हुआ और कहने लगीं- क्या तुमने पानी अन्दर निकाल दिया?मैंने कहा- हां भाभी. वो लंड निकालने की बार बार मिन्नत करने लगी- आंह निकाल ले आशु … मेरा दम घुट रहा है … तूने काट दिया मेरा जिस्म … निकाल ले आशु प्लीज़ … मैं जिन्दा नहीं बचूंगी … आंह!तभी मुझे उसकी चूत से कुछ बहता हुआ सा लगा. झड़ कर मैं भाभी के ऊपर ही लेटा रहा और थोड़ी देर अलग होकर भाभी के मुँह में लंड डालने लगा.

आपने कभी खेत की चुदाई का मजा लिया है? अपने विचार कमेंट्स में जरूर बताएं. मैंने उसके एक दूध को पीना शुरू कर दिया, तो वो गर्म सिसकारियां भरने लगी- आआ अहह उउम्म्म उउइई … धीरे चूसो न … आंह मजा आ रहा है. एकदम मस्त आम जैसी चूचियां थीं उसकी!मैंने एक को पीना शुरू कर दिया और दूसरी को एक हाथ से दबाने लगा.

पति से झगड़े के बाद मैं प्यासी रहने लगी। मेरी प्यासी चूत में किसके लंड का पानी बरसा, मेरी चुदास भरी स्टोरी में जानें!यह कहानी सुनें. मैंने दीदी से कहा- दीदी क्या आप मुझे अपनी बुर का रस नहीं पिलाओगी?अब दीदी ने कहा- बिल्कुल मेरे भाई, मेरी बुर का रस तुम्हारे लिए ही है, बस निकलने ही वाला है. सनी का लंड उसकी चूत के हर अवरोध को फाड़ता हुआ पूरा जड़ तक अन्दर घुस गया और ऋतु की चूत की धज्जियां उड़ गईं.

पूरे कमरे में फच फच की आवाज़ आ रही थी और मामी की सिसकारियों से सारा माहौल गर्म हो गया था. वो चुप हो गईं तो मैंने मैंने उनसे रोने का कारण फिर से पूछा तो भाभी उठीं और उन्होंने मुझे कस कर गले से लगा लिया.

हम दोनों ने थोड़ा आराम किया और बाद में मैंने आंटी की डॉगी स्टाइल में गांड मारी.

मामी- अगर मुझे पता होता तुम इतना अच्छे तरीके से चोदते हो, तो पहले ही तुमसे चुदाई करवा लेती. लेडीज सेक्सीअंकल की बहन की उम्र 28 साल, जिस्म 32 – 30 – 34, रंग हल्का सांवला था पर देखने में ऐसे लगती जैसे कामवासना की मूर्ति हो. कुर्सी इमेजमैंने भी उसके सर के बालों को पकड़ कर उसको अन्दर पेटीकोट में ही ले लिया. मम्मी भी अपनी दोनों टांगें हवा में उठा कर अंकल के मोटे लंड का भरपूर मजा ले रही थीं.

मैं टीवी के सामने सोफे पर बैठी और जॉन मुझे देख कर बोला- विप्स नाम है आपका राइट! यू आर वैरी प्रिटी एंड हॉट … क्या करती हो?मैं- थैंक्यू जॉन … यू आर हैंडसम गई एज वेल … मैं थर्ड इयर में पढ़ रही हूँ.

दोपहर में जब नाना नानी आराम कर रहे थे, तब मामी ने मुझे कमरे में बुला लिया. वो मेरी बात सुनकर मुस्कुरा दीं और बोलीं- प्लीज प्लीज … बस मैं नहा लूं. मेरा काम भी होने वाला था, मैंने उनका सिर पकड़कर लंड पर दबा लिया और उनके मुँह में 5-6 धक्के लगा दिए.

मैंने उसकी चैट के स्क्रीनशॉट ले लिए ताकि मैं उसको यह दिखा कर उसके साथ सेक्स कर सकूँ. मेरे हाथ खाली थे … लेकिन अब मैं खुद ही चाह रही थी कि ये लड़के पूरा काम करें. मैंने उनकी गांड के नीचे पिलो लगाया और उनकी टांगों को अपने कंधे पर रख लिया.

केवल हिंदी बीएफ

डर के मारे गांड तो फट रही थी, फिर भी मैं अपनी आदत से बाज नहीं आ रहा था. चाचा के जाने के बाद भतीजा चाची सेक्स वासना शांत करने में ऐसे लीन हो जाते थे कि मानो हम दोनों पति पत्नी हों. मैंने कहा- पहले कभी मरवाई नहीं है क्या?वो बोला- हां काफी बार मरवाई है.

मैं प्रिया के होने की वजह से ज्यादा कुछ नहीं कर सकता था इसलिए कुछ देर बाद मैं भी सो गया.

तभी चाची ने अपने गाउन में हाथ फेरना शुरू कर दिया और बोलीं- न जाने मुझे क्या होने लगा है.

सविता भाभी को उनका घरेलू नौकर मनोज अपनी पहली चुदाई की घटना बता रहा था. कुछ देर बाद आंटी को चूसते चूमते हुए मैं नीचे उसकी नाभि तक आ गया और नाभि में जीभ से कुरेदने लगा. दीवाना सेक्सउसने घुटने के बल बैठ कर मेरी टांगें फैला दीं और मेरी चूत पर अपना लंड सैट करने लगा.

मैंने रेखा से कहा- आंटी, पैग बनाओ!उसने और मैंने एक एक पेग पीया।बुआ ने मना कर दिया था तो मैंने उसे कहा- ठीक है।अब मुझे मस्ती चढ़ने लगी और झटकों की रफ्तार बढ़ा दी. कहानी के पिछले भागस्टूडियो में साली के नंगे जिस्म का मजा लियामें आपने पढ़ा किफिर प्रीति बोली- अच्छा जीजू, वो ड्रेस कब पहननी है? या ऐसे ही नंगी रहूं?यह बोलकर वो हंसने लगी. मैंने कहा- अरे भाभी इतने कमजोर थोड़ी हैं आपके दूध!भाभी हंस कर बोलीं- अगर उखड़ जाता … तो फिर तुम्हारे भैया क्या दबाते?मैंने कहा- अरे नहीं भाभी … मैं तो बस चैक कर रहा था कि आपके दूध कैसे हैं.

प्रिया के सो जाने के बाद मैंने गर्लफ्रेंड को किस करना शुरू कर दिया और उसके मम्मों को दबाने लगा. वहां जाने पर उसने देखा कि फ्लैट पर एक नौकर था, जिसे विकास ने बाहर आउट हाउस में भेज दिया.

मेरे पास कई सारी लड़कियों के प्रपोजल भी आए … पर जैसा कि मैंने बताया कि मुझे सेक्स में ज्यादा लगाव नहीं था.

उसकी दोनों आंखें बंद थी और उसने अपनी चड्डी भी नहीं पहनी थी।हम तीनों क्लास में गए और उसे भी रंगे हाथों पकड़ लिया था लेकिन सोनाली को कुछ पता नहीं था कि उसके आसपास क्या हो रहा है. उसे तो मानो बस इसी पल का इंतजार था … वो जल्दी से अपने पैरों के बल बैठ गया और धीरे से मीना की पैंटी नीचे करने लगा. सास के हाथ से चाय लेने के बहाने से मैंने उनका हाथ पकड़ा, तो वो घबरा गईं और यहां वहां देखने लगीं कि कोई देख तो नहीं रहा.

नेपालन की चुदाई लेकिन मैं पढ़ाई में जरूर पीछे था, पर सेक्स के मामले में उनसे कहीं आगे था. अब आगे हॉट कॉलेज सेक्स कहानी:शैंकी ने मेरी चूत पर हथेली फेरते हुए हल्के से एक हाथ मार दिया.

सपना ने लौड़े पर अपनी जीभ फिराई और सुप्प की आवाज करके मेरे लंड को मुँह में अन्दर कर लिया. जब मैंने मना कर दिया तो अभिषेक ने कहा- ठीक है, तुम मेरे कंधे पर खड़े हो जाओ और खिड़की से देखो कि कौन है. चूंकि वहां गोबर के कंडे भरे थे तो इतनी जगह नहीं थी कि दो लोग आसानी से खड़े हो सकें.

शिल्पी राज का बीएफ वायरल

मेरे लंड की कुछ चोटें इतनी खतरनाक लगीं कि भाभी के आंसू टपक आए और वो ‘आआह ईई आआह मर गई रे. हुआ कुछ यूं कि गांव में अब्बू के दोस्त फहीम की बीवी की तबियत खराब हो गयी. हैलो फ्रेंड्स, आप उत्तराखंड के एक गांव की इस सच्ची सेक्स कहानी का मजा ले रहे थे.

मेरे ऐसा करने से वो इतनी जोर से सिसकारी कि अगर हम कहीं और होते तो पक्का उसकी आवाज़ बाहर सुनाई दे जाती. फिर मैंने उन्हें नाश्ता दिया और उनकी दवाइयाँ दी।उन्होंने फिर मुझे कहा कि उन्हें नहाने जाना है.

फिर बातों ही बातों उसने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने बोला- नहीं.

इस पर वह कसमसाया तो जरूर … लेकिन जिद तो नहीं कर सकता था तो बस वहशियों की तरह मुझे पूरे बेड में रगड़ने लगा।दिनेश को पता था कि करने को उसे ही मिलना है तो वह उस वक्त रमेश को ही मुझ पर हावी होने दे रहा था।जैसे पहले रमेश ने मुझे रगड़ा था, वैसे ही उलटते पुलटते फिर रगड़ा और इस बार तो मेरे होंठों पर तक अपना मोन्स्टर कॉक रगड़ डाला. तो मैंने प्रिया की चुत की एक घंटे तक चुदाई की और हम दोनों तृप्त हो गए. मैंने उसे अपने से अलग किया और बोला- तू ये क्या कर रहा है?उसने कहा- तुझे प्यार करने को जी कर रहा है.

दोपहर में जब नाना नानी आराम कर रहे थे, तब मामी ने मुझे कमरे में बुला लिया. अब जब भी मुझे मौका मिलता, मैं उसको नहाते हुए देखने की कोशिश करता और उसे नंगी देख कर चोदने के सपने देखता रहता. मामी- आह्ह आह्ह आउच … वो छेद मत छेड़ो बेबी … उसमें मैंने कभी नहीं करवाया.

मामी मेरे बालों में हाथ फिराती हुई बोलीं- तुम्हारे मामा के बाद तुम दूसरे हो, जो मेरे इतना करीब हो.

राजस्थानी बीएफ ब्लू: कुछ ही पल में मीना के चूतड़ उछलने लगे और वो मादक सिसकारियां भरने लगी- अह्ह्ह्ह उह्ह्ह मां और नहीं आंह!मैंने जल्दी जल्दी उंगली चूत में चलाईं और मैं उसके बूब्स भी दबा रहा था. मेरी चूचियां सनी के सीने में दबी हुई थीं और उसका लंड मेरी चूत में टुनकी मार रहा था.

तब मैं दीदी के कूल्हों के ऊपर बैठ गया क्यूंकि चुदाई की शुरुआत जो करनी थी. अब वह जोर शोर से अपनी चड्डी के अंदर हाथ डाल कर हिला रही थी और अपने दूध को मुंह से काटने की कोशिश कर रही थी।तभी अभिषेक ने फिर से बोला- क्या हुआ, मुझे भी बताओ. मैं पीछे से जाकर उनसे चिपक गया और कसकर हग करते हुए दोनों हाथ उनके पेट पर बांध लिए.

मैंने समझाया- देख पिंकू, तुझे एक लंड की जरूरत है और मुझे चूत की! वैसे भी एक लंड की प्यास चूत ही बुझा सकती है चाहे वह बहन की ही क्यों ना हो!तब मैंने झूठ बोल दिया- मेरे दोस्त और उनकी बहन भी तो आपस में चुदाई करते हैं.

मैं मामी की चुत को चाटने के साथ साथ उनकी कचौड़ी सी चुत में अपनी उंगली भी कर रहा था. झड़ने के बाद अब्बू लेट गए और उस रात में एक बार चुदाई का राउंड और चला. मेरी ये पहली सेक्स कहानी है, आप लोगों को पसंद आयी या नहीं, मुझे मेल जरूर करें.