हिंदी एचडी बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,जंगल में देसी सेक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीडीओ हिंदी: हिंदी एचडी बीएफ हिंदी, फिर भी उसकी कराहें निकल रही थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’वो एकदम से अपने हाथों से बिस्तर की चादर को पकड़ कर खुद को ऐसे किए पड़ी थी मानो उसकी चूत में कोई धारदार गर्म चाकू घुसा पड़ा हो.

ट्रिपल एक्स डॉट कॉम सेक्स व्हिडीओ

रात की चुदाई में सब कुछ भूल गई और जब सुबह तबस्सुम जाने को निकली तो मैंने उससे अपने दिल की बात कही. फकिंग वीडियोउस दिन के बाद एक बार आया था और बिना चुदाई किए ही चला गया था और जाते वक्त बोला था कि पिंकी तुम किसी अच्छे लड़के से शादी कर लो, मैं तुम्हारे साथ पूरी जिंदगी नहीं रह सकता.

उसने पहले उसकी बेटी को मेरी सीट पे सुलाने को कहा और फ़िर मैंने वैसा ही किया. चोदी चोदा सुहागरातबात ख़त्म करके उसने फोन को वापिस अपने कुर्ते में धकेल दिया और वापिस उन्ही लड़कियों की तरफ जाने लगी.

मैं तो अंकित को अच्छे से जानती थी, सुनीता ने मुझे सब कुछ बता जो दिया था.हिंदी एचडी बीएफ हिंदी: अरुण ने चूत को देखा तो देखता रह गया क्योंकि चूत के बालों एकदम डिज़ाइन से दिल का आकार देकर काटा गया था, जिससे वह और भी खिल उठी थी.

इससे मेरी गांड की खुजली और बढ़ जाती, तो मैं उस पेन्सिल को गांड में से निकाल कर चाटता और चूसता.उस रात को मैंने शीतल को 3 बार चोदा और फिर जब 5 बजे के करीब पास पड़ोस सब जागने लग गए तो मैंने उसे छोड़ने जाने की बात की.

सेक्स पोर्न सेक्स - हिंदी एचडी बीएफ हिंदी

तभी पता नहीं क्या हुआ, उनके शरीर में एक उफान सा आया और वे सिस्कारती हुई निढाल सी हो गयी.उस समय मैं स्कूल की छात्रा थी, एक बार फेल हो चुकी थी, मेरे घर में पढ़ाई का कोई माहौल नहीं था.

मैं और रितु जब भी बाहर घूमने जाते तो रितु गहरे गले के टॉप पहनती और वह भी ब्रा के बिना. हिंदी एचडी बीएफ हिंदी ‘आहह ऊँहह शई ससईई…’फिर मैंने सीधा होकर उनकी आंखों में देखा, वो मुझे नशीली आंखों से देखते हुए अपनी तन्हाई और जिस्म की भूख को दिखाते हुए मचल रही थीं.

और कुछ धक्कों के बाद उसने एक जोर से धक्का मारा और पूरा लंड चूत में चला गया.

हिंदी एचडी बीएफ हिंदी?

पर मामी को इस बात का पता चला गया और फिर एक दिन मैंने उनसे अपनी जरूरत के चलते कुछ पैसे की मांग की तो वो भड़क गई और मुझे लात मार के अपने घर से निकाल दिया और कहा- अब कभी मत आना यहाँ!शायद मामी ने अपने लिए कोई नया लंड खोज लिया था।तो प्रिय पाठको, आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी आप मुझे ईमेल के जरिये जरूर बताएं।आपकाऋषभ द्विवेदी[emailprotected]. जबकि मेरी खोपड़ी ने तय कर लिया था कि आज भाभी को पूरी तरह से खोल कर चोदना है. लेकिन उसकी पेंटी भी पजामी के साथ उतरने लगी तो उसने अपनी पेंटी को पकड़ लिया पर पजामी को उतर जाने दिया.

मैंने उसके हाथ में हाथ डाल के उसके बूब्स पर मुँह रखा तो वो तुरंत बिचक गयी. फिर मैं उसे लेकर एक मॉल गया वहाँ उसने पिज़्ज़ा और गोल गप्पे खाये, फिर वहां से बाहर आकर हम दोनों अपने अपने घर चले गए. उसने अपने पैर मेरी जाँघों पर रखा, थोड़ी कमर उठाई, मेरा लंड अपने हाथ में लिया, अपनी गान्ड के छेद पे मेरा लंड टिकाया और धीरे से अपनी गान्ड नीचे कर के मेरे लंड का टोपा पूरा घुसा लिया, धीरे धीरे अपनी गान्ड ऊपर नीचे करने लगी.

धीरे से मैंने उसके लंड को किस किया तो उसके मुँह से हल्की सी ‘अहह…’ निकल गई. जब आदमी ऊपर आता है, औरत के शरीर को मसलता है, तो मज़ा आ ही जाता है यार. मैंने नेट के ऊपर कई होटल सर्च किए और एक होटल को चुनकर उसके नंबर पर टेलीफोन किया.

जब हमारी शादी हुई थी तब मेरी बीवी को चुदाई कैसे करते हैं, ये मालूम ही नहीं था. मैंने बहुत सी भाभी और आंटी और लड़कियों के साथ चुदाई की है और हालत ये हो गई है कि मैं अब सेक्स के बिना नहीं रह सकता.

उसका एकदम नंगा बदन, बदन से फव्वारे का बहता हुआ पानी, उसके सिर से उतर कर गांड की तरफ जाता हुआ बड़ा मादक लग रहा था.

ऐसे ही कुछ देर हमारी बातें हुईं और इसी दौरान एक बार सेक्स की बात भी हुई.

इसी बीच कीकु जवाब दे गया, काँपते हुए उसने अपना पानी रूबी के मुँह में छोड़ दिया. मुझे ट्यूशन जाने की इच्छा भी नहीं होती थी लेकिन मेरे ट्यूशन में बहुत सी लड़कियां भी आती थीं, जिस वजह से मुझे उधर जाने में कुछ इंटरेस्ट मिलने लगा था. जब वो अपने दोनों हाथों को ऊपर किए हुए थीं, उस समय आंटी की भरी हुई चुचियां एकदम सामने से दिख रही थीं.

अच्छे होटलों में बाथरूम में बहुत खुशबूदार क्रीम रखी होती हैं, मैंने मेरे लौड़े के ऊपर क्रीम लगाई और हम फिर कमरे में आ गए. नूरी खाला शर्मा कर बांहों से अपनी छाती छुपाने लगी और मुझसे लिपट गयी. मैंने उसकी सलवार को उसके शरीर से अलग कर दिया और उसकी कच्छी को नीचे घुटनों तक ले गया और मैं ऊपर से दूध पी रहा था, तो मैं अपने पैरों से उसकी कच्छी को उसके पैरों तक ले गया.

मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था, क्योंकि दोपहर से ही मेरा लौड़ा चूत के लिए तरस रहा था.

इस तरह हम दोनों में बातचीत होने लगी और हम दोनों रोज ही साथ में आने लगे. वो बोल रही थी कि कब से इसका इंतजार ही तो कर रही थी, तुम कितने अच्छे हो. मैं यहाँ के लड़कों से बहुत घुल मिल गया था, तो दोस्ती के नाते सब दोस्तों को उनके अपने माल को चोदने के लिए कभी कभी रूम दे देता था.

मस्ती करने गई। पिंक पर्ल में पहुंचकर मैंने और सपना ने स्विमिंग पूल में नहाने के लिए अपने कपड़े उतारे। हम दोनों जैसे ही पानी में उतरी, मेरी शमीज भीग कर मेरे 32 साइज उरोजों से चिपक गई और मेरे चूचुक दिखाई देने लगे क्तोंकी उसके नीचे मैंने ब्रा नहीं पहनी थी. इसके बाद तो जैसा ब्लू-फिल्मों में होता है, हम दोनों ने कई बार वैसे भी किया. हमारे यहाँ की रीतियों के अनुसार जब किसी की मृत्यु हो जाती है, तो 12 दिनों तक बेड पर सो नहीं सकते.

मैंने रिसेप्शन पर पूछा- अभिलाषा कहां है?तो मुझे जवाब मिला कि अभिलाषा मैडम तो 6:00 बजे छुट्टी करके चली गई.

पापा कमाने के लिए मुंबई काम करने चले जाते हैं और आठ दस महीने बाद ही फिर वापिस आते हैं. दोनों की साँसें बहुत ही ज्यादा तेज़ हो चुकी थी और दोनों एक दूसरे की धड़कने को आराम से सुन और महसूस कर सकते थे… मयूरी अभी एकदम तृप्त महसूस कर रही थी.

हिंदी एचडी बीएफ हिंदी मैंने बहुत मना किया कि मैं चला जाता हूं, पर आंटी ने जिद करके मुझे पास ही सुला लिया. लेकिन तुझे अकेले जाना पड़ेगा, मुझे किट्टी पार्टी में जाना है!मैंने कहा- मम्मी पैसे तो दे दो?तो मम्मी ने मुझे अपना कार्ड दे दिया.

हिंदी एचडी बीएफ हिंदी अगले एक हफ्ते तक हम दोनों ने चुदाई का मजा लिया, फिर अदालत में जा कर शादी कर ली. फिर मेरे ज़ोर देने पर उसने बताया कि उसकी चुत की पहली चुदाई उसी ने की थी.

कोमल थक चुकी थी, वो बोलने लगी- अब रहने दो!लेकिन मेरा अभी झड़ा नहीं था तो मैं कोमल को बेड पर लेटा कर खुद उसकी टांगों के बीच मिशनरी पोजीशन में आ गया.

बलात्कार बीएफ वीडियो

अपनी चूत चुसाई से मेरी सास बुरी तरह मदहोश होकर सिसकारियां लेने लगीं. मैंने आज तक बहुत औरतों के साथ सेक्स किया है और सब को संतुष्ट किया है. उन्होंने तुरंत फिर से अपने हाथ से मेरा मुँह बंद किया और अपनी अंडरवियर मेरे मुँह में डाल दी.

उधर प्रभु अपने चोदने की रफ्तार बढ़ा रहा था, इधर रूबी और भी ज़ोर से मेरा लौड़ा चूसे जा रही थी. मैं उसकी चूत को चाटता रहा और वह आह… आह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह… आह… उई… उई… या…. वो ब्रा पैंटी में इतनी गजब की माल लग रही थी कि मन कर रहा था कि साली की ब्रा खोल कर नहीं, फाड़ कर इसके चुचे आजाद कर दूँ, पर मैंने अपने आप पर काबू रखा.

ओह, क्या ताकतवर मर्द था … इससे पहले मेरी चूत की आग किसी मर्द ने इस तरह 10-12 झटकों में नहीं बुझाई थी।क्योंकि अब मैं तृप्त हो चुकी थी तो मैंने उससे कहा- ढिल्लों, बस करो, मेरा हो गया है.

उसे सम्भालने के चक्कर में मेरा हाथ उसके चूचों पर चला गया और मैंने भी मौके का फ़ायदा उठा कर उनको मसल दिया. उन्होंने मुझे पूरी तरह से गीला किया और मुझे उलटा करके मेरी गांड को अपने सामने कर दिया. उसने मुझे फिर से सीधा लिटाया और मेरी चूत में अपनी जुबान डाल के चूसने लगा.

फिर उन्होंने मुझसे पूछा कि तुमने उसके साथ कुछ किया है?तो मैं अनजान बनने की एक्टिंग करते हुए बोला- क्या मतलब?इस बात पर भाभी ने अपनी जांघ खुजाने का बहाना करते हुए अपनी बेबी डॉल को और ऊपर तक चढ़ा लिया. दोस्तो, आंटी की गांड बहुत बहुत बड़ी थी जो मेरा सपना था वह पूरा हो रहा था. पेंटी उतारते से ही उसने अपना मुँह मेरी चूत में लगा दिया और मेरी चूत को चाटने लगा.

मैंने उसका फोन नम्बर मांगा, उसने तुरंत दे भी दिया और हम जुदा हो गए. चूंकि मैंने अपनी सीट ऑन लाइन बुक कर दी थी इसलिए मैं बस में अपनी रिजर्व सीट देखने लगा.

अंकित का लंड अंडरवियर के अन्दर ही इतना बड़ा लग रहा है, जब ये बाहर आएगा, तो क्या होगा. ”यह कहकर मैं आ गया, मैं जानता था कि जल्दी से कुछ नहीं मिलने वाला, बस थोड़ा टाइम और लगेगा. मुझे लग रहा था कि शायद भाभी मुझे और भी ज्यादा फंसाने के मूड में हैं.

आयुषी- वो मेरी सहेली मानसी ने मेरी विदाई की कुछ फोटो भेजी हैं जो उसने अपने मोबाइल से ली थी! आप भी देखो न …ये भावुक कर देने वाली हैं! देखो ना!उसने अपना फोन अपने पति की ओर बढ़ाया.

मैंने कहा- भाभी आज आप बहुत खूबसूरत लग रही हो तो आपकी एक पिक हो जाए. मैंने ऑफिस से छुट्टी ली और अपने दोस्त को बोल दिया कि मैं उसके रूम पर आ रहा हूँ. मंजू के मुख से ऊहह… ऊहह… की घुटी घुटी आवाजें आ रही थी जो मुझे मेरी कल्पनाओं के साकार होने का आभास करवा रही थी.

अगर मैं कुछ कहूँगा तो वो बहुत नाराज़ होंगे कि मैं उनकी बहन पर गंदी नज़र रखता हूँ. फिर वो बोली कि तूने मेरे तो सारे कपड़े उतार दिए और खुद क्यों पहन रखे हैं.

मैंने तो पहले जूस ऑर्डर किया, पर जब मैडम को वोड्का के शॉट लगाते देखा तो मुझे भी हिम्मत आ गई और मैंने व्हिस्की आर्डर कर दी. लेकिन अब हम दोनों को जब भी चुदाई का मन करता है तो हम खूब चुदाई का मजा लेते हैं. वो समझ गया कि अब उसकी प्यारी बेहेन कंवारी नहीं रही, उसने उसको लड़की से औरत बना दिया था.

बीएफ सेक्सी हिंदी बीएफ चुदाई

उधर छुट्टी वाले दिन मैंने चूत का पूरा मुंडन किया और उस पर सेंट छिड़क दिया, जिससे कोई भीनी भीनी खुशबू आए.

मैं वैसे ही दौड़ा तो मेरा पैर कैप्री में फंस गया और मैं बाथरूम के दरवाजे से होते हुए धड़ाम से बाहर की ओर गिरा. फिर मेरी शक्ल देख के भाभी बोलीं- अच्छा मेरे साथ चलो मुझे मार्केट जाना है, कुछ सामान खरीदना है. जैसे ही मैं उसकी चूत पर पहुंचा, तो उसने एकदम मुझे अपनी जांघों के बीच में कस लिया और मैं उसकी जाँघों को खोल कर उसकी चूत पर किस करने लगा.

मैं धीरे धीरे चूत में लंड को आगे पीछे कर रहा था तो थोड़ी देर बाद वो नॉर्मल होने लगी और आह्ह आःह्ह आआह्ह आआह्ह्ह की आवाज निकालने लगी तो मैं लन्ड को कुछ तेजी से अंदर-बाहर करना शुरू किया. अब मैंने उसे लेटाया और उसकी कमर के नीचे अपने कपड़े व उसकी कमीज़ और सलवार को रख दिया, जिससे उसकी चूत उभर गई. एक्स एक्स एक्स बिहारी सेक्सरूबी थोड़ा पीछे हट के झुकी, अपना सैन्डल निकालने को… उसकी वक्षरेखा देख के हम सब का लौड़ा तन गया.

मैं एकदम से पीछे हट गया तो उन्होंने मेरा सिर पकड़ कर फिर से चूत पर मुँह लगा दिया. वल्लिका- मैं कुछ समझी नहीं प्रभु?बाबा- तुम्हारी पवित्रता तुम्हारे पति के मार्ग में बाधक है.

मेरे लिए भी रुकना मुश्किल हो रहा था, फिर मैंने कस कर जोर लगाया और लंड दो इंच अंदर चला गया. शांत होने के बाद रमिता बोली- आप चिन्ता ना करो, आजकल में ही मैं आपको मेरी और अशोक की चुदाई का लाइव टेलीकास्ट दिखाती हूँ और फिर जल्दी ही आपकी चुत के लिए भी एक मोटे लम्बे लंड का इंतजाम करती हूँ. उसने जबरदस्त तरीके से चूस चूस कर मेरी चूत में से कई बार पानी निकाल दिया था.

फिर वो हल्के से मुस्कुरायी और अपने भाइयों से बोली- अभी तुम दोनों सो जाओ… कल जल्दी जागना है. आंटी जिस जोश से चुदवा रही थीं, उससे ऐसा लग रहा था कि इनके लिए तो दो-तीन लंड भी कम हैं. मैंने एक उधर बाहर की एक शराब की दुकान से हाफ लिया और वहीं किसी होटल का पता किया.

मैं और रितु जब भी बाहर घूमने जाते तो रितु गहरे गले के टॉप पहनती और वह भी ब्रा के बिना.

कई काम करता हूं!वहां कैसे पहुँचे?”मेरे एक मामा वहां हैं, उन्होंने फौज में भर्ती करवाने बुलाया था, भर्ती हो गया, दो साल काम किया, फिर छोड़ दिया, दुबई रहा… अब बंगलोर में हूं, कई तरह के काम किए, अब काफी कमा लेता हूं. आगे से कर न। क्यों गंदे छेद के चक्कर में पड़ा है।” अहाना ने कमजोर सा प्रतिरोध किया।गंदा छेद? हे हे हे हे.

हम दोनों एक दूसरे से लिपट गए और फिर से अपने होंठों को एक दूसरे के होंठों में फंसा कर जोरदार किस किया. वो बोली- मैं तो डरती थी कि आप नींद में हैं और ग़लती से यह हो रहा है. पर मैंने अपने हाथ और होंठ चलाने जारी रखे।फिर पीछे से नितिन भी अपने दोनों हाथ चलाने लगा.

लड़की बहुत ही चालू थी यार… ना उसने आवाज़ निकाली और ना ही किसी को पता लगने दिया. फिर मैं धीरे धीरे धक्के मारने लगा और आंटीजी भी मेरे साथ दे रही थी अपनी गांड को उछाल उछाल कर…फिर मैंने धीरे धीरे अपने गति तेज़ कर दी. मैंने अपने कपड़े उतारे, मैं केवल अंडरवियर में था, मैंने उससे कहा- तुम भी कपड़े उतार लो।उसने मुझे देखा, मुस्कुराया-अच्छा सर!उसने अपने पैन्ट शर्ट हेंगर पर टांग दिए.

हिंदी एचडी बीएफ हिंदी हम दोनों भाई बहन वातानुकूलित कमरे में पसीने से लथपथ एक दूसरे की बाहों में समा गए।मैं एक ही बार में इतना सेक्स कर लेता था। चाहते हुए भी दूसरी बार किसी औरत को चोदकर उसका बुरा हाल नहीं कर सकता था। रीना दीदी चीज ही ऐसी थी कि उन्हें रात भर चोदो तो भी कम पड़े किंतु एक बार में ही उनका बुरा हाल नहीं कर सकता था।और मुझे आज बहुत संतुष्टि का एहसास हुआ था इसलिए दूसरी बार सेक्स का ध्यान मैंने छोड़ दिया. जीजा जी ने पहले तो मना कर दिया, मगर दीदी के बार बार कहने पर उन्होंने कहा कि ठीक है.

देहाती सेक्सी साड़ी वाली बीएफ

सुरेश जी के तेजी के कारण उनके लंड ने पानी जल्द ही छोड़ दिया और वो निढाल हो कर मेरे ऊपर ही लेट गए. आम तौर पर किसी का भी पहली बार की चुदाई अजीब सी रहती है, लेकिन हमें काफी अनुभवी साथी मिली थी, उसने हमने सही आनन्द दिया. पद्मिनी ने फिर एक बार अपने बापू को लंड पैन्ट में सीधा करते देखा और होंठों को दांतों में दबाये एक छोटी सी मुस्कान के साथ नजरें नीचे कर लीं.

पर ये भी था कि मैंने जिससे भी सेक्स किया, उससे फुल मस्ती की और हर बार मेरे पार्टनर को भी बहुत मजा आया. शादी के दौरान जूसी रानी की बहन रेखा और उसके पति शशिकांत से एक बार परिचय तोहुआ था लेकिन शादी की भागमभाग में सब दिमाग से निकल गया था. हिंदी बीपी एचडीउनके व्यवहार से मैं समझ गया कि मोहतरमा आज बहुत खुश हैं, तो मैंने खुशी का राज जानने के लिए उनसे कहा- ये आज आप कहां पे अपनी खूबसूरती का कहर ढाके आ रही हैं?भाभी ने खुश होते हुए कहा कि आज किसी रिलेटिव के यहां फंक्शन था तो वहीं पे गई थी.

मैंने शुरुआत के दो चार धीरे धक्के मारे, इसके बाद एक जोर का धक्का मार दिया.

फिर मैं भी बहुत मुश्किल से अपना पानी रोक पा रहा था, तो मैंने भाभी को बोला कि अब मेरे से नहीं रुका जा रहा, आप बोलो कहां पानी निकालूँ. मेरे नीचे लेटते ही वो मेरे ऊपर चढ़ गयी, मेरे लंड को अपनी चूत पर सैट करके नीचे होने लगी और मेरा पूरा लंड उसकी चूत निगल गयी, फिर वो उछल उछल कर चुदने लगी.

मैं उनकी पीठ पर हाथ से उनकी नर्म त्वचा को मसलते हुए उनके माथे पर किस कर रहा था. मैंने पास जाकर उसे थोड़ा हिलाया, बोला- मिसेस रानी, वेक अप!उसने अधखुली आँखों से मुझे देखा और मेरा हाथ पकड़ लिया. मौके पर चौका मारते हुए मैंने उनके चूतड़ों पे अपनी गरम सांस छोड़ते हुए किस कर दिया.

मयूरी जिद करते हुए- भैया, दिखा दो ना प्लीज…विक्रम- हाँ मेरी जान… तू बिल्कुल देख ले और जो करना है वो कर इसके साथ… अब ये पूरी तरह से तुम्हारा है.

लाल जी का लंड बहुत बड़ा था जिसे देख कर मैंने उससे पूछा कि तेरा लंड इतना बड़ा कैसे हो गया? क्या कोई दवा लेता है?अब आगे. उसको शायद चुत में दर्द हुआ तो वह पूरा लंड घुसते ही बैठके खड़ी सी हो गई. उसने अपने सारे कपड़े उतार दिये, रूम की लाइट में उसका जिस्म चमक रहा था, अपना ब्लाउज उसने मेरी आँखों पे बाँध दिया.

चुदाई पिक्चरअगर खुल कर कहूँ तो मेरे बाप ने अपनी वासना को बुझाने के लिए अपने पैसे के बलबूते पर तुमसे शादी की थी. पर अब उसने अपने लंड की स्पीड एकदम से बढ़ा दिया और मेरे मम्मों को पूरी ताकत से दबाता और चूसता हुआ लंड पेले जा रहा था.

हरियाणा की बीएफ हिंदी

सब जगह तो किस कर रहा हूँ?तो भाभी बोलीं- अमित यार प्लीज़ अब ऐसे मत कर ना. मैं कभी उसके गाल पे तो कभी गले के नीछे कान के पास और सबसे खास उसके होंठों को अपने होंठों से चूसने लगा. चाचा ने अपने खेत में काम करने वाले उन दोनों से पूछा कि दो लड़के थे वहां, नहीं हैं उधर क्या?तो वह किसान बोले- नहीं, जब हम लोग अन्दर आए थे तब तो यहां कोई लड़के नहीं दिखे.

भाभी बोलीं कि आज मुझे मेरी चूत की मस्त चुदाई करवानी है, तो पहले मैं आपके लंड को एक बार मुँह में डाल कर पानी निकाल देती हूँ, फिर दुबारा से आपका लंड मेरी चूत की अच्छे से चुदाई भी करेगा और आप मेरे को अच्छे से गर्म भी करना. कहानी का पहला भाग:दोनों ने बड़ी आत्मीयता से हम लोगों के पाँव छूकर आर्शीवाद लिया. इसी बीच उसने मेरा हाथ अपने चूचों पर खींचा तो मैंने उसकी ब्रा उतारकर फिर से उसके मम्मों को चूसने लगा.

सच बताऊं दोस्तो तो मेरे जैसे नसीब वालों को ही मधु जैसी प्यार करने वाली मिलती है. मैंने उसे पलट कर देखा और पूछा- अब इतनी बारिश में कहाँ से लाओगे? ऐसे ही कर लो. मैंने उसे प्यार से किस किया और धीरे धीरे उसकी चूत पर अपना लंड फिराने लगा.

कई बार मेरी हरीश से कॉलेज में इस बारे में भी बात होती थी कि मेरे माता पिता तो सिर्फ घर में रहना ही पसंद करते हैं. ऐसे ही कुछ दिन बीत जाने के बाद मैंने एक दिन उस बच्चे को कार से जाते हुए देखा, जिसमें एक बहुत ही खूबसूरत पर थोड़ी मोटी औरत अपने साथ ले कर जा रही थी.

मैं अपने दोनों पैर झटकने लगी क्योंकि मुझे लगा कि पता नहीं टीचर जी क्या करेंगे.

जैसे ही मैं घर पर पहुँची तो गाड़ी से उतरते हुए मैंने राहुल को अपनी तरफ खींचा और उसके होंठों पर एक जोरदार किस कर दी, मगर राहुल ने इस बीच मेरा कोई साथ नहीं दिया. सेक्सी बफ इंडियनमैं कुछ नहीं बोला तो उसने मेरी तरफ देखा और चलती गाड़ी में मेरे गाल पे किस किया. ब्ल्यू फिल्मवो अपने बापू पर झुक कर पैंट को आहिस्ते आहिस्ते खोल रही थी और बापू उसको निहार रहा था. ” हम दोनों एक दूसरे को बांहों में पकड़े हुए ही दरवाजे की तरफ गए, बाहर देखा तो गार्डन में बड़े पेड़ की एक टहनी नीचे पड़ी थी और उसकी आवाज आई थी।अरे … रे … तेज हवा की वजह रे टहनी टूट गयी.

पद्मिनी ने धीमी आवाज़ में बापू को किस करते वक़्त कहा- आप अपनी पैंट नहीं उतारेंगे क्या?तो बापू ने कहा- तुम्हीं उतार दो ना, बहुत मज़ा आएगा मुझको.

अभी मैं खाना खाकर उसी के बारे में सोच रहा था कि तभी मेरा फ़ोन बजा, मैंने उठाया- हैलो कौन बोल रहा है?अरे मैं मधु बोल रही हूँ. मैंने उसकी कमर के नीचे अपना एक हाथ लगाया और लंड को धीरे धीरे हिलाने लगा. उसके बाद उसने अपनी चुदाई का काम शुरू कर दिया और मुझे कुतिया बना कर चोदा.

क्या हुआ वो सब? डर गयी क्या?”मेरे कान के पास चेहरा लाके वो बोल रही थी- नहीं. मैंने मेरे रूममेट को अपने एक दोस्त के यहां भेज दिया और बाकी सारे इंतजाम करके रात होने का इंतजार करने लगा. मैंने धीरे से दरवाजा खोला और ध्यान से सुना कि बेडरूम से पिंकी के चुदने की आवाजें आ रही थीं- आह.

2022 की बीएफ नई

कुछ लड़कियों और भाभियों ने मुझसे अपनी सेक्स लाइफ के बारे में भी जानकारी शेयर की और अपनी स्टोरी लिखने को बोला. आखिर सुमेर का पानी छूटा, अब वह लड़के की बुरी तरह चूमा चाटी कर रहा था- अरे यार, थोड़ी तो लगती ही है! मेरा भैया! मेरा दोस्त! चल नाश्ता कर ले!उसने जबरदस्ती उसकी जेब में दस का नोट डाल दिया- चल!उसके चूतड़ सहलाए, उसके कई बार चुम्बन लिए, पीठ थपथपाई, सीने से लगाया. उसने अपने सारे कपड़े उतार दिये, रूम की लाइट में उसका जिस्म चमक रहा था, अपना ब्लाउज उसने मेरी आँखों पे बाँध दिया.

कमीने ने आभार में मुझे ही किस कर लिया कि मैं कैसा नेकदिल दोस्त था कि उसके सूखे सामान के लिये रसीली बारिश का इंतज़ाम कर देता था।उस छोटे से घर में नीचे ऊपर दो कमरे थे और नीचे ही एक स्टोर जैसा कमरा भी था। नीचे कमरे में टीवी लगा हुआ था जिसपे कुछ प्रोग्राम देखते हम आपस में बतियाने लगे। बच्चा अपने खेलने में मस्त हो गया.

अच्छा होगा कि तुम मेरे साथ चुदाई की बिताई हुई घड़ियां एक हसीन सपना समझ कर भूल जाओ.

मैं बोली- बस इन दोनों के कपड़े उतार कर नंगी लिटा देना है, फिर दुल्हा-दुल्हन एक साथ सोएंगे और दोनों एक दूसरे को मिलकर चोदेंगे. एकदम से चल देने के कारण मेरे पैर लड़खड़ाए और मैं सीधा बृजेश के ऊपर जा गिरी. भाभि कि चुदाईफिर मैं उसका सर पकड़ कर अपना लंड उसके मुँह में अन्दर बाहर करने लगा और कुछ ही देर में मैं झड़ गया.

अब गांड में दिनेश का लंड जड़ तक पहुंचने लगा, जिससे मैं बिल्कुल पागल हो गई और चिल्लाने लगी- आह. उन्होंने मेरी पीठ पे अपनी पकड़ और मजबूत कर ली और मैंने उनकी गर्दन को ऐसा पकड़ा जैसे कि अब मैं उनकी गर्दन को मरोड़ ही दूँगा. जैसे ही मैंने लंड हाथ में पकड़ा, सर ने मेरी मुट्ठी में पकड़वा कर उसे रगड़वाने लगे.

भाभी ने कहा- ठीक है … तो जो उस निशा के साथ किया था, वही सब मेरे साथ करना होगा. गीता जैसे ही उसके दवाखाने में पहुँची तो उसने कहा- बैठो, मैं अभी आता हूँ.

शाम को अरुण ने घर फ़ोन करके कह दिया कि आज कुछ काम की वजह दूसरे सिटी में जा रहा है.

एक दिन, भैया और उनके कुछ फ्रेंड्स घर पर नाइट स्टे के लिए आए, उन सबका प्लान था कि सब साथ मिलकर छत पर सोएंगे, पर तभी रात को ज़ोर की बारिश हो गयी. खैर अब असल मुद्दे पे मैं आया और भाभी से बोला- भाभी आप वापस क्यों आईं?उन्होंने बताया कि लैपटॉप की बैट्री डाउन हो गई थी तो उसी का वो चार्जर लेने आई थीं. वो हमेशा बोलती थी कि दो रात जब वो अपने मौसी के बेटे यानि भाई के साथ होटल में रुकी थी तब दोनों के बीच कुछ नहीं हुआ.

क्सक्सक्स हद कॉम मेरा मन करता कि जाकर अभी उन्हें दबोच लूं!कसम से दोस्तो… बहुत ही माल चूतड़ थे मेरी मामी के! मेरी मामी का फिगर 36 34 38 ही रहा होगा।धीरे धीरे मैं मामी के बारे में सोचने लगा कि कैसे उनको चोदूँ! मैं रोज़ अपने रूम पर उनके नाम की मुठ मारने लगा. मगर ये नयी उमर के छोरे तो उन रंगीन तितलियों को इम्प्रेस करने के फेर में थे.

मैंने उससे कहा- चल डिल्डो बाँध और मेरी चूत की खुजली दूर करते हुए, अपनी चुदाई कैसे शुरू करवाई, वो पूरी तरह से बताओ. हर एक नए ट्रेनी की तरह मैं भी यह सोच कर खुश था कि अब तो लाइफ सैट हो गई. मैंने मम्मी को कहा कि आप लोग तो मुझसे बोली थीं कि आप लोग शाम को आ जाओगी?तो मम्मी बोली कि क्या करूँ बेटा शादी का घर है न.

लंका बीएफ वीडियो

मनोरमा ने उससे कहा- मुझे कल मिलना, यहाँ नहीं पहले मैं तुम्हारा टेस्ट लूँगी. चोली में से उसके भरपूर, तने हुए मम्में, नीचे की ओर सपाट पेट और गहरा नाभि कूप और लहंगे में से आभास देता उसकी सुडौल जांघों का आकार. ”मैंने उसे अन्दर बुला लिया और थोड़ी देर में ही उसके थोड़े से पैसे बदल दिए क्योंकि ज्यादा बदलने का नियम नहीं था.

अंकित ने मेरी चूत को अपनी जीभ से इतना चोदा कि मैं उसके मुँह में ही झड़ गई. मैंने धीरे से उनको अलग किया और छातियों को हाथों से पकड़ लिया और जोर से दबाने लगा, दोनों बूब्स एकदम लाल हो गए.

”यह कहकर मैं आ गया, मैं जानता था कि जल्दी से कुछ नहीं मिलने वाला, बस थोड़ा टाइम और लगेगा.

मैं- प्रिय श्लोक, मैंने तुम्हें देखा है रीना को घूरते हुए… उसकी गोरी टांगों और उसके पिछवाड़े को आते जाते निहारते हुए। माना कि स्वैपिंग की बात बताने से पहले तुम्हारी ऐसी कोई बुरी नजर रीना पर नहीं थी लेकिन उस दिन के बाद से मैंने तुम्हारी नजर का फेर महसूस किया है. मैं अब उसकी पीठ पे लेट गया और उसके दोनों बूब्स हाथ में दबा के दनादन चोदना चालू किया. मैंने शाम को उससे कहा- खाना नहीं खाना?तो बोला- मेरा खाना तो आज मेरा लंड तुम्हारी चूत से ही खाएगा.

मैंने भाभी से कहा कि भाभी आपको डोर बेल बजाना चाहिए न!उन्होंने कहा कि तुम दरवाजा बंद क्यों नहीं रखते?उनकी इस बात पे मैं चुप हो गया. इसकी मां को देखा था, यह कहीं से भी अपने मां बाप की बेटी नहीं लगती है. अब मुझसे रहा नहीं गया मैंने उनके पीठ पर का अपना हाथ हटाकर उनके तने हुए लंड पर रख दिया.

फिर मैं गाड़ी स्लो चलाने लगा और थोड़ा थोड़ा ब्रेक लगाकर उसके मम्मों की छुअन महसूस करता जाता.

हिंदी एचडी बीएफ हिंदी: सपना ने मेरे पास आकर मेरी 34 साइज गांड को पानी के अंदर मसलना शुरू कर दिया। मैं उस जाटणी की हिम्मत देख कर हैरान रह गई। वो पानी के अंदर मेरे सेक्सी बदना को सहलाने लगी. फिर मैंने उसके कपड़े खोल कर उसको ड्रेस पहना दी और उसको किस करते हुए बेडरूम तक आ गये.

अब उसने गीता को पूरी चुदक्कड़ बना दिया, जिससे गीता को हर समय लंड अपनी चुत में घुसा दिखता था. हेलो… अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार! मैं आज जालंधर जिला पंजाब से हूं, मेरा नाम रमनजीत सिंह (बदला हुआ) है, मैं सिख फैमिली से सम्बन्ध रखता हूं. इतने में मैंने एक झटके में ही अपना लंड अपनी सास की चूत की गहराइयों में उतार दिया.

हम दोनों उस समय फैजाबाद में ही रहते थे, वहीं हम दोनों की दोस्ती भी हुई थी।तो फैजाबाद में मेरी एक मामी भी रहती थी, मैं हर हफ्ते मामी के यहाँ जाकर उनसे मिलता था.

फिर मैंने मेरे लैपटॉप मैं एक सेक्सी मूवी प्ले कर दी और उसका मजा लेने लगे. तभी मैंने फिर से थोड़ा लंड को बाहर निकाल के एक जोर का धक्का मारकर पूरा लंड उनकी गांड में घुसा दिया, जिस कारण उनकी गांड के अन्दर की दीवारों को चीरता हुआ मेरा लंड जड़ तक घुस गया. घर से ओके मिलते ही उसने मुझे अपनी गाड़ी में लाकर बिठा दिया और पूरे रास्ते मुझको कभी किस.