एक्स बीएफ देहाती

छवि स्रोत,शकीला सेक्स व्हिडीओ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो लवर: एक्स बीएफ देहाती, शबनम तो केवल एक लम्बी सी शर्ट डाले थी, नायरा ने एक टी शर्ट डाल ली और एक शॉर्ट्स भी पहना क्योंकि टी शर्ट तो उसके पेट पर ही रुक गयी थी.

संतोषी मां का फिल्म

जब वो वीडियो खत्म हुई तो राखी गांड उठा-उठा कर अपने छेद में मेरी जीभ का मजा ले रही थी. एक्सएक्सएक्स रिलीज़ दिनांक औरमैं मामी को चूमाचाटी करते हुए बोलूंगा- नहीं मामी अब क्यों रुकूं, उस टाइम मैं छोटा था, ज्यादा आपके इशारे नहीं समझ पाया था.

हम दोनों मर्दों ने भी अपनी टी-शर्ट उतार दी और उन्हें भी बिकनी पहनने के लिए बोला जो वो दोनों ख़ास गोवा के लिए ही लायी थीं. बीपी नंगी सीनउसकी चूत में दो उंगलियाँ डाल कर मैंने सारा पानी निकाला और उसके चुचों पर मल दिया और बोला- सच पूछो तो तुम दोनों बहनों की चूत बहुत मस्त है.

मैंने एक और प्लान बनाया, जब चाची आने वाली थीं, तो मैंने एक सेक्स किताब टेबल पर रख दी.एक्स बीएफ देहाती: इतने में भाभी की चुत ने पानी छोड़ दिया और वो निढाल होकर बेड पर गिर गईं.

अंशु ने ब्रा और स्कर्ट टॉप पहना बिना चड्डी के, उपिन्दर शर्ट पैंट में, नीचे कुछ नहीं … मम्मी साड़ी में और मैं सलवार कमीज़ में।हम सारा समान ले कर पार्क में पहुंचे। गाड़ी से उतरने लगे तो अंशु ने कहा- मालिनी साड़ी उतार दे.हमने एक दूसरे को बांहों में भर लिया और होंठों को सटा करके स्मूच करने लगे.

सकसीविडीय - एक्स बीएफ देहाती

जब हम दोनों सुबह 7 बजे जागे, तो फिर से हम दोनों चुदाई के लिए गर्म हो गए.उसके बाद मैंने एक सुबह 4 बजे के करीब फोन किया तो उसने मेरा फोन उठा लिया.

” कहकर महेश ने अपनी बेटी की पेंटी को नीचे करके निकाल दिया और बेड पर बिठाकर अपनी बेटी ज्योति की गीली चूत को चाटने लगा. एक्स बीएफ देहाती मुझे वो दिन याद आ गए, जब हम पसीने से लथपथ घंटों चुदाई का खेल खेला करते थे.

कई बार जब मैं सामने से आ रहा होता तो वो मुझे आंख मार देता था और अपने लंड को मुझे दिखाते हुए सहलाने लगता था.

एक्स बीएफ देहाती?

जैसे-जैसे दिन बीत रहे थे अब वो मेरे साथ खुल कर बात करने में शर्म महसूस नहीं कर रही थी. उसके पैसे लौटाने के बाद मैंने उसकी पैंटी को खींच दिया और उसकी योनि को चाटने लगा. मैं स्टडी की खिड़की से देख देख के बहुत उत्तेजित था और मुठ मारते हुए एक बार अपना माल गिरा चुका था.

सुनील आज्ञाकारी बच्चे की तरह दीपा की गोरी गोरी नाजुक उंगलियाँ दबाने लगा. उसके एक बाद मैं और मेरे पिता जी कानपुर उनके बेटे के एक साल होने पर उसके जन्म दिन पर पर गए थे. दोस्तो, आप विश्वास नहीं करोगे, उस दिन मैं कहानी भी चाची और बेटा के सेक्स की ही पढ़ रहा था.

आमतौर पर औसत लम्बाई का लंड भी औरत को पूर्ण रूप से संतुष्ट कर सकता है. अब मेरे हर धक्के के साथ मुझे ऐसा लग रहा था कि मेरा लंड उसकी चूत में सामने किसी दीवार से टकरा रहा है. और आज जब छाया ने किंग के बारे में बताया तो मन मचल गया।मुझे माफ़ कर दे बेटा … मैं तुझे बताती भी तो क्या बताती! इस छाया ने ही मुझे पहले भी फँसाया था तेरे दोनों चाचा के साथ और आज मेरे अपने सगे बेटे के साथ क्या करवा दिया।मुझे छाया पर बहुत गुस्सा आ रहा था.

राहुल मेरी मम्मी के सामने मुझे बहन मानता था, तो मुझे मालूम था कि मम्मी राहुल के नाम पर मुझे मना नहीं करेंगी. अब वो फिर से गर्म हो गई तो मैंने उससे पूछ लिया- सेक्स करने का मन है क्या?तो वो बोली- हाँ यार … मगर मिलेगा कहाँ?मैंने मजाक में ही बोल दिया- अगर मन है तो बता … मैं किसी का इन्तजाम कर देती हूँ, जो तेरी प्यास बुझा दे.

अगले दिन सुबह नौ बजे मेरी नींद खुली, तो वो ऐसे ही नंगी पड़ी हुई सो रही थी.

उसने उस दिन वही ब्रा पहनी हुई थी जिसमें मैंने अपने लंड का माल निकाला था.

मैं- आप उसकी क्या लगती हो?आंटी ये सुनकर एक मिनट के लिए सकपका गईं- किसकी!मैं- जिसका सूट आपने पहना है?वो- किसकी बात कर रहा है?मैंने अपनी फ्रेंड का नाम बतायावो- तुझे कैसे पता चला कि मैं उसकी कोई हूँ?मैं- क्योंकि आपने कहा था कि मुझे क्या मिलेगा. वही ऑफिस पॉलिटिक्स शुरू हो गई कि किसका किसके साथ चल रहा है, कौन किससे चुद रहा है. इसलिए जब मैं आई तो उनके चेहरे पर निश्चिंतता के भाव भी झलकने लगे थे.

फिर उन्होंने आकर टिश्यू से मेरा चेहरा और बूब्ज़ साफ किये और साथ लेट गए मेरे!थोड़ी देर बाद मैंने अपने कपड़े पहने और उन्होंने मुझे मेरे घर छोड़ दिया. मैं बताना चाहूंगी कि वो दिखने में भले ही साधारण सा था, लेकिन वो था काफी दिलकश. मगर मेरे दोस्त की उत्तेजना इतना बढ़ गई कि उसने मेरी बीवी को बीच में ही अपनी गोद में उठा कर पानी से ऊपर कर दिया.

मगर कई बार जब मैं लैट्रिन करने के लिए बाहर जाती थी तो कई दारूबाज लोगों ने मेरे साथ छेड़खानी की थी मगर किसी ने भी अपना लंड मेरी चूत में घुसाने की कोशिश नहीं की थी.

आपको सरेआम अंग प्रदर्शन करती सेक्सी लड़कियां या फिर चूमा-चाटी करते हुए कपल्स दिख जायें तो कोई हैरानी न होगी. वो कहने लगी कि पारिवारिक संकोच के कारण वो पार्लर में नहीं आ सकती है. वो बोली- ठीक है, जैसी आपकी मर्ज़ी!फिर मैंने प्रिन्स को बेड पर बैठाया और उसका हाथ नीता के बूब्स पर रख दिया.

इससे मयूर उदास हो गया था और उसी के प्यार में पूरी जिंदगी कुंवारा बैठने वाला था. ज्योति ने अपनी टांगों को पौंछने के बाद थोड़ी देर तक अपने बालों को पौंछा और फिर तौलिया बेड की तरफ फ़ेंक दिया। ज्योति ने तौलिया फेंकने के बाद अपनी पेंटी को उठाया और सीधी होकर उसे पहनने लगी।महेश का पूरा जिस्म ज्योति के सीधे होते ही मज़े से कांप उठा। अपनी बेटी की गुलाबी चूत जिस पर एक भी बाल नहीं था, उसे देख कर महेश के मुंह का पानी सूखने लगा. मैं कॉलेज जाने लगा, वहां मेरी दोस्ती अजय नाम के लड़के से हुई और ये दोस्ती मेरे लिए सेक्स के मामले में वरदान साबित हुई.

अब वो रोज रात को मेरे बोबे दबाता और अपना लंड मेरी गांड पर घिसता था.

नीरू तुम भी एक ही सांस में खींच जाओ पेग!यह बोल कर मैं बिल्कुल नंगा हो गया. वो मुझे अपने कमरे में ले गयी और मेरे अन्दर आते ही उसने कमरे का दरवाजा बंद कर दिया.

एक्स बीएफ देहाती नायरा के बड़े बड़े मम्मे देख कर शबनम बोली- नायरा की बच्ची, मेरा एक काम कर दे. उसके बाद हम दोनों ने अपने अपने कपड़े पहने और जाने की तैयारी करने लगे.

एक्स बीएफ देहाती इतना सुनकर तो मैं संदीप पर मर ही मिटी, क्योंकि आप भी जानते ही हैं कि एक लड़की चुदना तो बहुत बुरी तरीके से और किसी खिलाड़ी से ही चाहती है, पर जब भी प्यार का मामला आता है, तो उसकी पहली पसंद कोई अनाड़ी और शरीफ इंसान ही होता है. उसमें एक बहुत अच्छी ड्रेस थी विद पैंटी … इस ड्रेस में ब्रा नहीं पहनते थे, इसलिए ब्रा नहीं थी.

फिर वन्दना नीरू की तरफ मुंह करके मुझसे अपनी चूत चटवाने लगी और खुद ने अपने होंठ नीरू के होंठों पर रख दिये.

एक्स एक्स एक्स एचडी सनी लियोन

पर अब दर्द एकदम से बढ़ गया और मैंने उसको छाती पे हाथ रख कर रोकने की कोशिश करी।उसने पूछा- क्या हुआ?मैंने कहा- अभी रुक जाओ, दर्द हो रहा है बहुत।सचिन बोला- ज्यादा हो रहा है क्या?मैं बोली- हाँ काफी चीस हो रही है।उसने कहा- अब तो एक ही तरीका है फिर।मैंने कहा- क्या?उसने कहा- एक गहरी सांस लो!तो मैंने ली. कोई दस मिनट बाद मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ, तब मैंने उनसे पूछा- मोसी में पानी छोड़ने वाला हूँ … क्या करूँ?उन्होंने गांड उठाते हुए कहा- अन्दर ही छोड़ो. कुछ देर यूं ही पड़े रहने के बाद मैं उठी और उसको अपने ऊपर से हटा कर बगल में किया.

मैं खड़े खड़े थक गया था, सो वहीं नीचे बैठ गया और सिर्फ उनकी बातें सुनने लगा. उसके बाद मैंने भाभी की चूचियों को हाथों में दबोच लिया और तेजी से उसकी पीठ पर झुक कर उसकी चूत को चोदने लगा. फिर मैंने रीता की टांगों को खोल कर उसकी चूत पर जीभ को रख दिया तो उसने अपनी टांगें घुटने से मोड़ कर ऊपर कर ली और वो अपनी चूत को चाटने के लिए कहने लगी.

सुनील और मनोज की गर्म साँसे दीपा से टकरा रही थी और खुद दीपा भी अब शायद मन तैयार कर चुकी थी मस्ती करने का.

कहानी का पूरा मजा लेने के लिए नये पाठकों को यह सब जानना जरूरी हो जाता है. फिर जहां लंड का मुँह दो छेदों में विभक्त होता है, एक धागा सा लगा रहता है, उधर आंटी अपनी जीभ से लंड को कुरेदने लगीं. पूरा लंड अन्दर करने के बाद मैंने धीरे धीरे उसकी गांड चुदाई करने लगा.

मैं समझ तो नहीं पाया कि वो तीनों आपस में क्या बातें कर रही थीं मगर कुछ तो बात थी जो वो आपस में एक दूसरे को बता रही थीं. ” नीलम ने अपने ससुर को जवाब देते हुए कहा।बेटी जब तुम्हें मेरा छूना अच्छा लगता है, मेरे क़रीब आने को दिल करता है तो फिर तुम्हें किस चीज़ की चिंता है. जब बहू बाथरूम में अपनी चुदी हुई चूत धोने गयी तो ससुर भी पीछे पीछे पहुँच गया और …परिवार में सेक्स की स्टोरी के पिछले में आपने पढ़ा कि महेश ने अपनी बहू की चूत बाथरूम में ले जाकर फिर से गर्म कर दिया और उसे अपना लंड भी चुसवा दिया.

चाची के दो छोटे छोटे बच्चे भी थे, पर चाची तो ऐसे लगती थीं कि अभी कॉलेज में पढ़ती हों और अभी उनकी शादी भी न हुई हो. जीजा की बातें सच निकली, यह विवेक का लौड़ा तो बिल्कुल लोहे की पाइप जैसा बड़ा मोटा है और बहुत मजेदार है.

शबनम भी हंस कर कह देती- तुम्हें नायरा के ही चुसवा देती हूँ, मेरी फिगर खराब मत करो. तब तक के लिए आप लोग मेरी नाम की मुठ मारें और अबकी बार सारा वीर्य मेरी गान्ड में डालें।आप लोग कमेंट्स कर सकते हैं।. उसके मुँह से बेटे से चुदने की बात सुनकर मैं विराट को लेकर सोचने लगी.

मुझे पता लग गया था कि इसकी चूत को अब चुदाई के लिए तैयार करने का यह सही मौका आ गया है.

श्वेता दीदी- अरे … तुम बात करो … मैं यहीं पास में ही हूं ना … कोई दिक्कत नहीं होगी. वो दोबारा से भाभी की चूत की तरफ आया और चूत में जीभ को डाल कर अंदर तक भाभी की चूत को चोदने लगा. तभी मैंने सबा को रोका, तो सबा मुझे गुस्से से देखने लगी … क्योंकि वह गर्म हो चुकी थी और मुझे छोड़ना नहीं चाहती थी.

बाथरूम में जाकर उसने फव्वारा चालू कर दिया और पानी का तापमान सैट किया. मैंने देखा तो सुखविन्दर चुपके से उसे देख रहे थे,वो झुक कर अपनी टांगों में क्रीम लगा रही थी.

अब आते हैं चाची जी के मुद्दे पर …जब धीरे धीरे मेरा चाची को भी देखने का नजरिया बदलने लगा था, तो मुझे बस ये हो गया था कि किसी भी तरह चुत और गांड मारनी है. थोड़ी देर और इंतजार करने के बाद मैं हॉल में आ गयी और वहां से भी जेठजी को आवाज लगाई. फिर अभय ने मेरी चूत में नीचे हाथ ले जाकर देखा तो उसके हाथ में खून लग गया था.

सेक्स पॉर्न विडिओ

मेरा भीगा बदन ऐसे लग रहा था … मानो मैं सीढियों से चढ़ कर नहीं, बल्कि चुद कर आयी हूं.

वो हो गई, तो रोहित उससे सट कर संजू की तरफ करवट बदल कर लग गया और उसने मेरी बीवी की चूत में लंड को फिर से घुसा दिया. मैंने उसकी टांग पकड़ कर उसकी गांड में लौड़ा घुसेड़ दिया और गांड चुदाई करने लगा. ध्यान से देखा कि उनकी मालदार कमर, सुडौल और उभार लिए भारी चूचे और मटकती गांड.

मैं लखनऊ में ही एक निजी आईटीआई कॉलेज में हॉस्टल में रह कर पढ़ता हूं. चूत में घुसा हुआ लंड भी अब अन्दर बाहर हो था और गांड में घुसा लंड भी. प्यासी चूतउसके लंड चूसने का अंदाज बड़ा मस्त था … आह क्या साली रंडियों के जैसे लंड चूस रही थी, मुझे मजा आ रहा था.

नहीं तो अब तक मेरा फव्वारा बन जाना था।खैर, मैंने उनके हाथ को दुबारा अपने लंड पर रख लिया और अपने होंठों से उनके कान को हल्का सा चूस लिया। मेरी गर्म सांसें उनकी गर्दन और गालों पर पड़ रही थी मेरे होटों से ‘करो न मामी … अह्ह्ह!’ निकल गया. मन कर रहा था कि इसको भी पूरी आजादी दे दूं लेकिन भारतीय होने के नाते थोड़ा लिहाज करना भी जरूरी था.

मैं तो प्यार के मारे मयूर से लिपट गई और उसको अपनी बांहों और टांगों में जकड़ लिया. मुझे उन लड़कों से चुद कर बहुत मजा आता है और मैं हर दिन कहीं ना कहीं उनसे चुदने लगीउनका नाम मेहुल(23) सलीम(22) राजा(22) और लखन (21)थेएक दिन मेरा चुदने का मूड नहीं था और वो चारों मुझे उस रूम में ले गए और चोदने लगे. मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा था कि ये वही शालिनी है या कोई और।उसने ट्रे को टेबल पर रख दिया जिसमें एक गिलास में दूध था और एक कप में चाय थी.

मैं उसके हाथ में अपना लौड़ा देकर कम्बल के अन्दर ही हिलाने को बोला और मैं उसके गांड में उंगली करने लगा. तभी अचानक से भैया ने मेरी गांड के छेद में लंड रखकर एक जोर का धक्का दे मारा. पता नहीं उस वक़्त मेरे मन में न जाने क्या आया, मैंने उससे कहा- ऐसा जरूरी नहीं है.

मैं उसके गले लग गई, उसने भी मुझे गले से लगा लिया और बोला- मेरी जान, क्या माल लग रही हो अब!तो मैं शर्मा गयी।फिर वो मुझे एक जगह ले गया.

”शुड आई वेट नेकेड फ़ॉर माय मास्टर?” (क्या मुझे तुम्हारे इन्तजार में नंगी रहना चाहिए)नो नो, मैं जल्द ही आने की कोशिश करूंगा. मैं मामी को चूमाचाटी करते हुए बोलूंगा- नहीं मामी अब क्यों रुकूं, उस टाइम मैं छोटा था, ज्यादा आपके इशारे नहीं समझ पाया था.

शायद उसका अमृत कलश छलकने वाला था और परमीत नीचे बैठी जीभ निकाले हुए अमृत बूंदों की प्रतिक्षा कर रही थी. साइट पर मैंने कहानियों के अंत में पाठकों के जबरदस्त संदेश देखे और उनके संदेशों ने मुझे लोवर टी-शर्ट उतार फेंकने पर विवश कर दिया. इतना कह कर वो हमारे क्लास की तरफ आगे बढ़ी, वो सारे लोग कुछ ना कह सके.

अंदर बेड पर जाकर में सीधे लेट गई और उनके बॉस ने सीधे मेरी पेंटी और ब्रा मेरे शरीर से अलग कर दी. नीता उम्म्ह… अहह… हय… याह… करके उसके माल की पिचकारियाँ महसूस करती रही और मैंने भी अपना माल निकाल दिया. मेरी ब्रा जैसे ही उनको दिखाई दी उन्होंने मेरे कबूतरों को अपनी उंगलियों में दबोच लिया और मुझे बेड पर लेकर गिर गये.

एक्स बीएफ देहाती दीपा ने सुबह जल्दी उठकर पूड़ी सब्जी बना ली थी क्योंकि मनोज को बाहर निकलते ही पूड़ी आलू याद आते हैं. जैसे ही मैं उसके दोनों निप्पलों को चूसने लगा, उसने मेरे सर के बाल अपने दोनों हाथों से पकड़ कर गांड उठा उठा कर मुझे चोदना शुरू कर दिया.

एक्स एक्स एन एक्स मूवी

अब महेश ने ज़ोर ज़ोर से धक्के मार मार कर लंड ज्योति की गांड के अंदर बाहर करना शुरू कर दिया. तुम जानते हो होटल में …मेरे इतना कहते ही वो समझ गया कि मेरे कहने का क्या मतलब है. मैंने लेडी बन कर ही उसको बताया कि वो लड़का तो अहमदाबाद में रहता है.

वो बोले जा रही थी- ये सब गलत है … ये पाप है, किसी को पता लगा … तो बदनामी हो जाएगी. पता नहीं कितनी ही बार मैंने भाभी की चूचियों की घाटी को देख कर अपने कमरे की दीवार और दरवाजे पर वीर्य की पिचकारी छोड़ी हुई थी. हमको सेक्स करना हैहालांकि एक दूसरे की हालत किसी से छिपी नहीं थी, फिर भी खुल के सामने आना हर किसी के वश की बात नहीं होती.

मैंने पीछे से भाभी की चूत को सहलाया और उसकी गीली चूत को एक दो बार रगड़ा.

उसके गालों में हंसते समय डिम्पल बन रहे थे जिससे उसकी सुन्दरता और भी अधिक मादक लगने लगती थी. इस वक्त मोसी एकदम बिंदास लेटी हुई थीं, उनकी गहरे गले की मैक्सी से उनकी चूचियों का पूरा नजारा दिख रहा था.

कुछ देर के बाद मेरा वीर्य निकलने को हुआ तो मैंने अपनी गति धीमी कर दी. फिर संजू लंड से नीचे उतरी, तो उसकी चूत से ढेर सारा वीर्य रोहित के लंड पर ही गिर गया. उसकी मौसी यानि कि अनिता जिसने अमृता से मुझे मिलवाया था, उसके पेट में मेरे बच्चे ने दुलत्तियां मारनी शुरू कर दी थीं और उसको पेट में तकलीफ रहने लगी थी.

अगर मुझे कोई गलती हो गई हो, तो अपना समझ कर माफ़ कर देना और आप लोगों को मेरी पहली सेक्स स्टोरी कैसी लगी … ये बताना जरूर दोस्तों मुझे आपके ईमेल का इंतजार रहेगा.

ऐसे चोदने में उसकी चूत काफी टाइट लग रही थी, तो थोड़ी देर में मैं थकने लगा. मैंने उसकी इस बात पर उसको सामने से नजर भर कर देखते हुए एक प्यारी सी स्माइल दे दी. वो एक दम कड़क था और एक भी बाल नहीं था उस पर!सर लंड हाथ में पकड़ा के आगे पीछे करवाने लगे.

नहीं सेक्सउसने कहा- हां अब बताओ जान कि आपने मुझे क्यों याद किया था?मैंने मयूर को सब कुछ बताया कि मैं तुमसे शादी करना चाहती हूं और हम दोनों अपने होने वाले बच्चे के बारे में प्रतीक को बता देते हैं. कितना लम्बा और मोटा था उनका ओफ्फ … मेरी तो जान ही निकल गयी उनके साथ करते हुये!”नीलम अपने पति को जलाने के लिए जाने क्या क्या बोल गयी.

सनी लियोन का पोर्न

पर मैं अपनी ओर से कुछ शो नहीं करना चाहती थी कि मैं भी चुदाई के लिए तैयार हूँ. थोड़ी देर में ही उनकी बुर ने पानी छोड़ दिया और वो नीचे अपनी बहन पर पसर कर गिर गईं. लेकिन अभी कोमल का नर्म व्यवहार ये साबित कर रहा था कि उसने पिछली बातें भुला दी हैं.

शायद चाची ने भी मेरी नजर को एक दो बार नोटिस कर लिया था, पर वो बोली कुछ नहीं. तुमने क्या सुना है और लोग हमारे बारे में क्या बात कर रहे हैं मुझे उससे कोई लेना देना नहीं है. ” कहकर मधुर कुछ पलों के लिए चुप हो गई।मुझे मधुर की इस बात पर कई बार बहुत गुस्सा आता है वह एक बार में कभी पूरी बात नहीं बताती।बाद में उसने बताया कि जब वह और गौरी बाज़ार से आये तो वह पहले तो दौड़ कर पानी लाई और फिर चाय का बनाने का पूछा। मैंने कहा कि चाय थोड़ी देर रुक कर पियेंगे। मैं थक गई हूँ पहले थोड़ा सुस्ता लेती हूँ। तो वह बोली आप थके हैं तो मैं आपके पैर दबा देती हूँ.

चाची बोलीं- संजय बहुत ही गयी चुसाई … अब थोड़ी चुदाई भी करो … मैं तुम्हारे लंड से चुदना चाहती हूँ. भाई के लंड को इस तरह से तना हुआ देख कर मेरी चूत में भी खुजली होने लगी. वो बोलने लगी- इतना मजा तो मुझे मेरे पति के साथ नहीं आया, जितना कि आज तुम्हारे साथ आया है.

एक बार हम दोनों ने मिलकर एक लड़की को भी चोदा था, वो कहानी बाद में लिखूंगा. ब्यावर जाते वक्त में राजस्थान रोडवेज की बस में गेट से आगे की 2 लोगों वाली सीट पर बैठा और पास वाली सीट पर अपना बैग रख दिया.

कुछ ही देर में मेरी चूत से पानी निकलने लगा था … जिससे अन्दर चिकनाहट बढ़ गई थी.

लेकिन ज़रा सा अंदर जाते ही मुझे इतना दर्द हुआ कि मैंने उसे एकदम अपने पीछे से हटा दिया. सेक्सी वाले फोटोबुआ ने मेरे गाल पर तमाचा जड़ दिया और बोली- बातें मत चोद हरामी, मेरी चूत को चोद जल्दी. सोनम कपूर सेक्स वीडियोउन्हें वाशरूम में घुसे 5-7 मिनट हो गए थे … कोई भी समझ सकता था कि अंदर क्या हो रहा होगा. हमने कुछ देर रेस्ट किया और फिर से यशिमा का हाथ मेरे लंड से खेलने लगा.

जब पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया तो वो बोली- अब धीरे धीरे इसको बाहर निकालो और दोबारा से ऐसे ही ट्राई करो.

मुझे देख कर वो मुस्कराई और कहने लगी- इतनी देर से पीछा कर रहे हो, क्या बात है?इससे पहले कि मैं उसको कुछ जवाब देता हमारे पास वेटर आकर खड़ा हो गया. मेम ने भी मुझे चूम कर कहा- अब भी मूवी देखने का इरादा है?मैंने कहा- बिल्कुल नहीं … चलो चलते हैं. मैं खड़े खड़े थक गया था, सो वहीं नीचे बैठ गया और सिर्फ उनकी बातें सुनने लगा.

मैं भी उसकी रोटी की तरह फूली चूत चाटता जा रहा था और साथ में उसके मम्मों को भी दबाए जा रहा था. अन्दर पेटीकोट तो था नहीं … मुझे लगा कि पक्के में वो एकदम नंगी ही आई होगी. मैं थोड़ा रुका रहा, फिर भाभी ने इशारा किया … तो मैं अब धीरे-धीरे उसकी बुर में अपना लंड अन्दर-बाहर करने लगा.

बहन को चोदा वीडियो

सीमा बोली- अगर इतना सब कुछ हो गया तो फिर ग्रुप सेक्स में क्या बुराई है?अब सबको होश आया कि बातचीत कहाँ चली गयी है. ” नीलम ने शर्म से अपना मुँह दूसरी तरफ कर रखा था।बेटी इसमें तुम्हारा कोई दोष नहीं है, बस हम दोनों इंसान हैं और गलती तो इन्सानों से ही होती है. अन्दर वाले कमरे में जाते समय उसने मुझे एक बार पलट कर देखा और फिर तेज कदमों से अन्दर चली गई.

मैंने उनके चूचों को चूस चूस कर लाल कर दिए, उनके चूचों पर पूरे लाल लाल निशान हो गए थे.

मेरा लंड अभी एक इंच ही अन्दर गया होगा कि उन्हें बहुत तकलीफ होने लगी.

अब तक की मेरी इस सेक्स कहानी के प्रथम भागकॉलेज टीचर के साथ फर्स्ट टाइम सेक्स का मजा- 1में आपने पढ़ा था कि श्रेया मैडम मुझसे चुदने के लिए चुदासी हो चली थीं. फिर मैंने उससे कहा- लेकिन कुछ और है … जो तुम्हारे हाथों और तुम्हारे गालों से भी ज्यादा सॉफ्ट है. खेत में भाभी की चुदाईमेरी तरफ देख कर बोली- तुम्हारी मसाज सर्विस की तरह तुम्हारा लंड भी बहुत मस्त है.

दोस्तो … आप विश्वास नहीं करोगे मुझे इतना मजा आ रहा था कि चाची जी मुझे मुट्ठी मारते हुए देख रही थीं और साथ के साथ अपने चूचों को भी रगड़ रही थीं. हालाँकि उसके बेटे के बहुत सारे दोस्त थे लेकिन उनमें से उसका सबसे अभिन्न मित्र था अंकित. दोनों के हाथ सिर के ऊपर कर दिए जाएं और दोनों पैरों को चौड़ा कर दिया जाए जिससे कि चूत लहरों के सामने खुल जाए और फिर समुद्र की लहरें उन पर आने दी जाएं.

अन्दर पेटीकोट तो था नहीं … मुझे लगा कि पक्के में वो एकदम नंगी ही आई होगी. चाची के साथ मैंने आगे क्या क्या मजे लिए और कैसे मैंने उनकी गांड मारी, वो सब अगली सेक्स कहानी में लिखूंगा.

उसके बाद हम दोनों ने अपने फोन नम्बर भी एक्सचेंज कर लिये और दोनों के बीच में फोन पर भी बातें होने लगीं.

मैंने चाची की पैंटी उतार दी और जीभ पूरी अन्दर तक डालकर चूत चाटने लगा. दो मिनट के बाद उसने जब लंड को बाहर निकाला तो उसकी लार से पूरा लौड़ा चमक उठा था. एक दिन उसने मुझे पार्टी के लिए बुलाया- मेरे पास पार्टी के लिए दो टिकट्स हैं, तू चलेगा?मैं- लेकिन मैं अभी तक पार्टी में गया नहीं हूँ.

चोदी चोदा सेक्सी वीडियो वो मेरी गोद में दोनों पैर फैला कर बैठ गईं और लंड को पैंट के ऊपर से ही सहलाने लगीं. मेरे भाई साहब यानि कि भाभी के पति रोहतक में ही एक कम्पनी में ड्राइवर की नौकरी करते हैं.

मैंने तीनों के पेग बनाये और उनमें लिम्का डाला जो हमने रास्ते लिया था. शबनम बोली- मुझे लग रहा है कि सीमा और राजीव अंडरगारमेंट्स पहन कर आये हैं. जॉली मुस्कुराया और रिया को अपनी गोद में लेकर अपने बेडरूम में घुस गया.

हिंदी बुर चुदाई

वो उसी अवस्था में लंड को चूत से बिना बाहर निकाले आगे पीछे करने लगी. कुछ देर बाद मैं उठा और उसके बाद मैंने चाची जी की पूरी बॉडी पर किस किया. मुझे गुस्सा आ गया और मैंने अपना पेशाब से भरा हुआ मुंह उसकी पकड़ छुड़ाया और फिर बाथरूम में जाकर थूक दिया.

पर मामी की साँसों के भारीपन और गति से मुझे अंदाजा हो गया कि वो भी पानी छोड़ने लग गयी हैं।यह मेरे लिए बहुत ज्यादा था और मामी के अनुभवी हाथ कुछ ज्यादा ही तड़पा रहे थे और ऊपर से उनकी चूत की छुवन।तभी मामी रुकी और मेरे पेट पर हाथ रख दिया. अब मेरा मन भी करने लगा था कि उनके लंड को पकड़ लूं लेकिन दुल्हन वाली शर्म अभी भी रोक रही थी.

उसने एक कपड़े से चूत को साफ किया, मेरे लंड को भी पौंछा और वो घोड़ी बन कर मेरे सामने आ गयी.

इस तरह हम फिर एक बार इस बात को बेपर्दा होने से बचा लेंगे कि कौन किसके साथ था. फिर मैंने सबा के माथे के बीच में अपने होंठों से किस किया और उसे घर छोड़ दिया. उसके बाद पापा ने मेरी चूत को अपने हाथ से टटोला और उसको अपने हाथ से सहलाने लगे.

मगर मैं तो तब तक किसी लड़की की चुत चाट सकता हूँ, जब तक वो पानी न छोड़ दे. पहले एक बार खेत में राउंड लगा कर आते हैं और उसके बाद दोनों साथ में ही सो जायेंगे. आप लोगों को मेरी चुदाई की कहानी कैसी लगी … प्लीज मुझे कमेंट करके जरूर बताएं.

आप सबका अच्छा फीडबैक मिला, तो मैं अपनी चुदाई की दूसरी कहानी भी भेजूंगी.

एक्स बीएफ देहाती: जिससे उसका लंड भी गर्मी महसूस करने लगा और पैंट के ऊपर से दिखने लगा. वो तड़फने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ मुझसे बाहर निकालने को कहने लगी.

उसकी हज़ार से ज्यादा फोटो फेसबुक पर थी जिनको मैंने डाउनलोड कर लिया था. कोई पांच मिनट बाद सबा की बोली बदल गई और अब सबा मस्त होकर लंड ले रही थी- आह … आह जोर और जोर से चोदो … आह … आह … और जोर से. मैंने चाची से रसोई में जाकर कपड़े ठीक करने का कहा और मैं दरवाजा खोले के लिए अपनी अंडरवियर पहनने लगा.

मयूर से मेरा मिलना अब बहुत ही कम मिलना हो पाता था, परंतु हम दोनों के बीच मैसेज वगैरह तो पूरे दिन चालू ही रहते थे.

” महेश ने भी अपनी धोती उठाकर पहनते हुए कहा और चुपचाप वहां से निकल गया।नीलम तुम बापू के साथ नंगी? नहीं! मुझे अब भी अपनी आँखों पर यकीन नहीं हो रहा है. मेरी चूत पर लंड को रगड़ने के बाद मेरी चूत पर पापा ने लंड के टोपे को लगा दिया और गच्च से अपना मोटा लंड मेरी चूत में घुसा दिया. आतिफ उस वक़्त घर पर नहीं था तो शबनम ने उसको रुक कर इंतज़ार करने के लिए बोला.