सेक्सी पिक्चर बीएफ में

छवि स्रोत,सेक्सी ब्लू फिल्म हिंदी में फुल मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

गैलरी ब्लू फिल्म: सेक्सी पिक्चर बीएफ में, मैं आपको उन भाभी के बारे में क्या बताऊं … बड़ी ही मस्त माल दिख रही थीं.

घोड़ा सेक्सी दिखाइए

अब तक तो मैं अपने ही हाथ से लंड को रगड़ा करता था मगर औरत के हाथ में तो जैसे जादू होता है. नवरा बायकोची सेक्सी बीपीहम दोनों चाय पीने लगे और भाभी साथ में बैठी हुई मंद मंद मुस्कराती रही.

मैंने दो टिकट लिए और प्लेटफार्म पर खड़े होकर ट्रेन आने का इन्तजार करने लगे. अंग्रेज वाला सेक्सी फिल्मआंटी की मोटी गांड को देख देख कर चोदने में जो मजा मिला वो निराला ही था.

आंटी की चुत चुसाई का सीन देखकर पास में खड़ी आंटी की सहेली ने तो अपना होश ही दिया और वो मेरे बदन को पीछे से चाटने लगीं.सेक्सी पिक्चर बीएफ में: दोस्तो, मैं खुमान मेरी चालू बीवी की कहानी के पिछले भागसेक्स की गुलाम मेरी बीवी की चुदाई-1में लिख चुका हूँ कि मेरी बीवी को मैं हर रात चार बार चोदता था तब भी उसे लंड की भूख बनी रहती थी.

वो बोला- क्या हुआ?मैं बोली- तुम अपनी आंखें बंद करो, मुझे शर्म आ रही है.मैं जोर जोर से उनकी गांड में लंड को ठोकता रहा और मामी की चुदाई का पूरा मजा लिया.

सेक्सी अँप - सेक्सी पिक्चर बीएफ में

फिर मैंने अपनी स्पीड काफी तेज कर दी और धकापेल चाची की चूत चोदने लगा.मैंने सीमा की चूत में लंड डाले रखा और अपने मुंह से बहुत सारा थूक उसकी चूत के दाने पर गिरा दिया.

अमन ने लबालब अपने लंड के पानी से मेरी चूत को भर दिया और बहुत देर तक अमन मेरे ऊपर ही पड़ा रहा. सेक्सी पिक्चर बीएफ में पहले मैं जबअन्तर्वासना नंगी कहानीपढ़ता था तो सोचता था कि इस साईट की सारी कहानियां काल्पनिक होती होंगी.

मैंने उनकी कमर को पकड़ लिया और जोर जोर से धक्के लगा कर मामी की चुदाई करने लगा.

सेक्सी पिक्चर बीएफ में?

पार्क में ही मौसा का लंड निकाल कर चूसते हुए मुंह में लेने का मौसा ने मेरा वीडियो भी बना रखा था. मैं उसका पूरा साथ दे रही थी।जोश में मैंने उसकी शर्ट के सारे बटन तोड़ दिये और शर्ट उतार दी।फिर उसने मेरे पूरे कपड़े उतार दिये सिर्फ पैंटी को छोड़कर!और वो धीरे-धीरे मेरे बदन को चूमता और चाटता हुआ नीचे बढ़ता गया।वो मेरे पेट और नाभि को चाटने लगा. जब सासू मां की चूत की में खुजली होती थी और वो मुझसे मेरा लंड लेने के लिए बोलती थी.

मैंने कहा- किस बात को लेकर?वो बोली- वो मेरे साथ रहने के लिए कुछ भी करने को तैयार हैं. रेशमा- झूठ मत बोलो यार … आप बहुत हैंडसम हो … मैं मान ही नहीं सकती हूँ कि आपकी गर्लफ्रेंड नहीं है. फिर मैंने कहा- माफ करना भाभी … पर कुछ तो कारण होगा?तो उन्होंने कहा कि सब होता है … पर पता नहीं क्यों मैं हमल से नहीं हो पाती.

वो अपनी मैक्सी को ऊपर उठाकर अपनी चूत को सहलाने लगीं और अपनी चूत में उंगली करने लगीं. आदमी बोला- मेरा एक दोस्त है, अगर तुम कहो तो उसे बुलाऊं?मां बोली- ठीक है कल बुला लेना. मोनिका ने पैंटी निकाल दी और मैंने उसे पोजीशन में लेकर उसकी चुत में अपना लंड अन्दर डाल दिया.

उस दिन और रात और उसके अगले आधे दिन हमने खूब चुदाई की। खास कर मैंने उसकी गांड खूब मारी क्योंकि मुझे लड़की को गांड चुदाई के बाद लंगड़ाते हुए चलते देखने में आनंद आता है. तो मैं उसके पीछे पीछे गेट तक गया और जल्दी से गेट बंद करके वापस आ गया.

रात में ही किसी अन्जान आदमी से अपनी चूत चुदवा ली और वो भी केवल उसकी बातों से इम्प्रेस होकर!हैरानी की बात ये थी कि उनका भाई भी साथ में था तब भी उनके अंदर इतनी हिम्मत थी कि वो किसी का लंड बीच में सफर में ही ले लेती हैं.

बुआ कहने लगीं- कोई एक दिन की बात हो तो बात समझ आ जाती, मगर ऐसे कैसे चलेगा.

मैंने जोर जोर से चोदना शुरू किया तो सरला की कसमसाहट उसके आनन्द को बयान कर रही थी. और फिर एक के बाद एक करीब नौ दस गर्म तेज फुहारें माँ की चूत के अंदर गहराई में समाती चली गयीं।इसके साथ ही माँ की पकड़ भी ढीली पड़ती गयी. मैंने इससे पहले अपनी जो सेक्स कहानीसीनियर लड़की की सहेली की चुदाईलिखी थी, आज उसी से आगे की घटना को लेकर मैं आपके सामने हाज़िर हूँ.

यहाँ तक कि लण्ड की खाल भी पीछे जाती थी खींचने पर और फिर आधा सुपारा उसी में छिप जाता था अगर खाल छोड़ देता था।मैं 24 साल का नौजवान था और मैंने एम. मैं उसके साफ दिल प्यार से बहुत प्रभावित हुई और मैंने उसको अपने सीने से लगा लिया. मैंने उसकी चूत में लंड घुसा दिया और उसके मुंह दर्द और आनंद भरी आह्हह … निकल गयी.

उसने अपना मुँह मेरे लंड पर लगाकर मेरा लंड अपने गुलाबी होंठों के बीच में दबा लिया और हाथों को लंड के नीचे ले जाकर मेरे आंडों को सहलाने लगीं.

वो मेरे सिर को अपनी चूचियों में दबाने लगी और मैं उसके निप्पलों को दांतों से खींच कर हल्का काटने लगा. राधिका और मोनिका दोनों की शर्ट में उनकी ब्रा को महसूस किया जा सकता था. फिर मैं अपने ससुराल गया तो मैंने अपनी सास की चुदाई अपनी आंखों के सामने होते हुए देखी.

मगर जो एक बार गांड चुद गई तो फिर आकाश सर का रास्ता आसान हो जाने वाला था. मैं आशा करता हूं कि मेरी यह बस में चुदाई स्टोरी आप सभी को पसंद आएगी. राज- भाभी आज आप हमारी रंडी बनने वाली हो … पता है न आपको!मैं- हां, मेरा शिबू मुझे रंडी बनाना चाहता है … तो मैं भी रंडी बनने को तैयार हूं.

10 बजे तक डिनर करके अंकिता अपने रूम में चली गयी और मैं उन दोनों का इंतजार करने लगी.

एग्जाम तो मुझे वैसे भी नहीं देना था क्योंकि जिसे ये पता लग गया हो कि आज उसकी मां चुदने वाली है तो वो बंदा फिर क्या एग्जाम देगा?वहीं पर टाइम पास करने के एक घंटे बाद मैं घर की तरफ गया तो देखा कि वही गाड़ी मेरे घर के बाहर खड़ी थी. क्या तुझे मजा आया था?इतना खुल कर बोलते हुए आंटी ने जल्दी से आगे आ कर मेरी पैंट की चैन खोल दी और मेरे लंड को हाथ में ले लिया.

सेक्सी पिक्चर बीएफ में थोड़ी देर बाद भाभी ने मेरा हाथ अपने ब्लाउज से निकाल कर हटा दिया और धीरे से बोलीं- ये क्या कर रहे हो तुम?उनकी इस अचानक हुई प्रतिक्रिया से मैं तो एकदम से डर गया और उनसे अलग हो गया. पानी छूटने के बाद मेरे बदन की जान जैसे सूख गयी थी और मैं ढीली होकर नीचे पड़ गयी.

सेक्सी पिक्चर बीएफ में फिर मम्मी के रूम में घुसने के साथ ही वो जोर जोर से सिसकारते हुए कहने लगी- आह्ह फक मी जान, चोद दो मुझे. मैं नशीली आँखों से दीदी की चुसी हुई चुत को देखता हुआ सीधा खड़ा हुआ और अपना लंड अन्दर डालने की कोशिश करने लगा.

वो मेरे बारे में ऐसे खयाल कैसे ला सकता है, मुझे पाने के बारे में कैसे सोच सकता है?वो बोले- ठीक है फिर, तुम ये मान लो कि तुम उसकी मां नहीं हो.

मुनमुन धमा

फिर ऐसे ही दौर चलता रहा, मेरी गर्लफ्रेंड आती रहीं और पिंकी सबका ख्याल रखती रही. उनके छोटे छोटे बाल, चौड़ा सीना, चमकते चेहरे और काली यूनिफॉर्म मुझे बहुत आकर्षित करती थी. दीदी ने मेरे कंधे पर दोनों हाथ रख दिए- राज सच बताना … तुम इसके लिए राजी तो हो न?मैं- दीदी, मैं आपके लिए जान भी दे सकता हूं.

अब उसने मेरे दस इंची लंड को ऊपर किया और लगातार मेरे लंड की गोटियों को गांड के छेद को चूसने और चाटने लगी. मैंने उनसे पूछा- माल कहां लोगी?तो उन्होंने कहा- मेरे अन्दर ही गिरा दो … आह … न जाने कब से मेरी चुत सूखी पड़ी है. मैंने कहा- कैसे पता चल जाएगा?वो बोली- मकान मालिक यहीं सामने रहता है और मेरे रूम पर कौन आता-जाता है सब साफ नजर आता है।मैं- तो फिर एक काम करो कि तुम ही मेरे घर आ जाओ।सीमा- मगर तुम्हारे घर में तो तुम्हारी फैमिली भी होगी.

मैंने निढाल स्वर में कहा- आह तुमने अपने मुँह में ही ले लिया!मेरा सारा वीर्य पीने के बाद पिंकी बोली- आप जैसे अमीरों का अमृत कहां रोज-रोज नसीब होता है.

लवली, मैं और पापा, हम तीनों भी रात भर आपस में चुदाई का मजा लेते रहे. मैंने धीरे से उसके कान के पास अपना मुंह ले जाकर कहा- ये अमृत मुझे अब दोबारा कब मिलेगा?वो बोली- जब आपका मन करे ले लेना. मौसी भी मेरी पीठ पर अपने नाखूनों को चुभा रही थी जिससे पता चल रहा था कि मौसी को मेरा लंड लेने में कितना मजा आ रहा था.

उनके लिए बहुत सारी चॉकलेट भी लेकर गया और साथ में ही एक डॉटेड कॉन्डम भी. मैंने उसे अपनी बांहों में भरा और उसके बूब्स को चूसते दबाते हुए उसे अपने लंड पर दबाने लगा. मैंने उसके लंड की चमड़ी को पीछे किया, तो एकदम लाल सुपारा, जो प्री-कम से भीगा था … चमकता हुआ दिखने लगा.

फिर रोशन लाल ने अलीज़ा को फिर से सोफ़े पर सीधा लेटा दिया और जोर जोर से ठोकने लगा. फिर उसके तलवे और एड़ियों को चूमने लगा।उसके बाद दीदी के घुटनों को चूमते हुए उसकी बुर के पास आकर एक किस किया। अब दीदी के पैरों को फैलाकर मैं घुटनों के बल बैठ गया और मैंने ऐसे बैठ कर अपने लन्ड को दीदी की बुर पर सेट किया.

मेरा मन फिर से जिया की चूत चोदने का हो रहा था लेकिन उसने सोने के लिए कह दिया. और गूंज रही थी मेरी चूत में लंड के अंदर बाहर होने की फच फच की आवाज।बीच-बीच में नीरव मेरे नितंबों पर थप्पड़ भी मार रहा था जिस थाप भी बहुत मधुर लगती थी।मानव और नीरव दोनों ने अपनी चुदाई की स्पीड दुगनी कर दी।क्या मजेदार अनुभव था।क्योंकि मानव मुझे गाड़ी में एक बार चोद चुका था इसलिए वह भी इतना जल्दी नहीं झड़ने वाला था. इस पोज में कमर को उठाते हुए पेट को ऊपर करते हुए शरीर को पुल के आकार में करना होता है.

उसके बाद दीदी ने एक गिलास में दारू डाली और दूसरे में जैसे ही डालने लगीं मैंने उन्हें रोक दिया.

तभी उसने मेरा लंड अपने मुँह से निकाला और फुसफुसाते हुए मुझसे बोली- विशू जी, अब आप मुझे इतना क्यों तड़पा रहे हो, जल्दी से अपना मूसल मेरी चूत में डालकर मेरी चूत की चटनी बना दो. ओहो क्या नजारा था यार वो!फिर आंटी मुझे बेडरूम में ले गईं और सुहागसेज पर मुझे बिठाकर किचन में चली गईं. घर आकर मौका देखते ही भाभी मुझसे चिपक कर किस करने लगीं और गले लग कर थैंक्स बोलने लगीं.

हुआ यूं कि प्रीति की चुदाई के बाद कोई और भी था, जो मुझ पर नज़र रखे हुए था. ताई ने मेरे और मेरे दोस्त के लंड के पानी को उंगली से छूकर देखा तो वो समझ गयी कि क्या गिरा हुआ है मगर वो कुछ बोली नहीं.

वो बोली- ठीक है, मैं खाने की तैयारी पहले से कर लूंगी और केवल चपाती बनाने का काम रह जायेगा. वो देखने में अच्छा था लेकिन बहुत ही ठरकी किस्म का इन्सान लग रहा था. जिया ने चालाकी से मुझे उन दोनों के पास से हाटने के लिए अंदर भेज दिया था.

घोड़ों का सेक्सी पिक्चर

मैंने दूसरे दिन पीयूष को फोन किया और बोला- मुझे कुछ पेपर्स पर आंटी के साइन चाहिए.

उनके पति भी शादी के बाद से ही उनकी गांड चोदने की फिराक में थे जिसके बारे में जिया मेम भी अच्छे तरीके से जानती थी. मेरा लंड अभी करीब 3 इंच चूत से बाहर था तो फिर से मैंने बिना निकाले लगातार 2 से 3 झटके जोरदार लगा दिए जिससे मेरा 7 इंच का लंड साधना की चूत में जड़ तक घुस गया. एक जवान लड़की टॉपलेस होकर केवल ऊपर से ब्रा और नीचे से जीन्स में मेरे सामने खड़ी हुई थी.

दस मिनट तक वो मेरी चूत को चाटता ही रहा और मैं एक बार फिर से झड़ गयी. मामी मेरे लंड को अपनी उसमें (चूत में) ले लेती है और फिर मुझे धक्के मारने को कहती है. eat a peach सेक्सीपूरी यात्रा के मध्य में मैं गांव के खेतों को सिमटते उनकी जगह को छोटी छोटी सी झुग्गी झोपड़ियों में बदलते हुए देख रहा था.

मैंने उसके लंड को ऊपर से ही किस किया … तो वो एकदम से पागल हो गया और मेरे गालों को सहलाने लगा. इस अहसास का मजा लेते हुए मुझे मुश्किल से एक मिनट भी नहीं हुआ था कि मुझे आभास हुआ कि माँ अब मेरे ऊपर ही लेट जाने की कोशिश करने लगी है.

कांता आंटी की भारी भरकम चूत चोदने वाला मेरा लण्ड ललिता की नाजुक चूत चोदकर निहाल हो गया था. वो बोली- क्या हुआ? अपनी भाभी की गांड की चुदाई नहीं करेगा क्या?गलती से मेरे मुंह से निकल गया- मैंने तो अपनीगर्लफ्रेंड की गांड चुदाईभी कभी नहीं की है. मैं सन्न रह गया और उनसे बोला- जीजा जी आप क्या बोल रहे हो?जीजा जी- मैं जो बोल रहा हूं, वो सोच समझ कर बोल रहा हूं.

मैंने पूछा- कौन सी शर्त?तो उसने कहा- अब तुम बिना कंडोम के चोदोगे … तभी करूंगी. मैंने पूजा को सेक्स के लिए फंसाया था लेकिन पूजा ने मां को बोल दिया कि ट्रेन में जिस दिन वो मेरे साथ आ रही थी उसी दिन उसने वहीं ट्रेन में ही मेरे से चुदवा लिया था. मगर मुझे डर लगा रहता था कि कहीं मेरी बीवी अपनी चूत की आग को शांत करवाने के लिए किसी बाहरी आदमी को फिर से न पकड़ ले.

सलोनी मेरे लौड़े को अपने मुँह में रख कर आराम से अन्दर बाहर कर रही थी.

तब उसने कहा- हाँ, आज मेरा तन और मन शांत हो गया है।मैंने उसे कहा- माँ और इच्छा है तो बता?उसने तुरंत मना कर दिया और कहा- नहीं रोहित, अब दोबारा नहीं. वो मुस्कुरायी, उसने कहा- मेरा जवाब दो।मैं नीचे बैठा उसके पैर के अंगूठे से चूसना शुरू किया.

‘आहह … ऊऊहह …’शिबू ने मुझे बेड पर बैठा दिया और उसके दोस्त कुर्सी लगा कर सामने बैठ गए. वो नीचे बढ़ रही थी कि उसने मेरे लंड को अंडरवियर से लंड बाहर निकाला और उसे देखने लगी। मेरे अंदर एक अलग लहर दौड़ गयी. इस पोज में कमर को उठाते हुए पेट को ऊपर करते हुए शरीर को पुल के आकार में करना होता है.

मैंने अनजान बन कर पूछा कि कौन पूछ रहा था?तब उन दोनों ने बताया यार वही दोनों चिकनी आई थीं, क्या नाम है उनका. वो मेरी चूत की गर्मी को अब ज्यादा देर बर्दाश्त नहीं कर पाया और फिर मेरी चूत में ही झड़ने लगा. फिर उन्होंने कहा- पिछले एक साल से मेरे शौहर ने मुझे हाथ तक नहीं लगाया है.

सेक्सी पिक्चर बीएफ में सुभाष ने बताया कि वो दोनों उसके जिगरी दोस्त थे और धंधे में पार्टनर भी थे. उसकी बात सुनकर मैं प्यार से उसके लंड को अंडरवियर के ऊपर से सहलाने लगी.

साउथ इंडियन सेक्सी फिल्म

उसके बाद मैंने धीरे धीरे उसकी चूत में अपने लंड को आगे पीछे करके हिलाना शुरू किया. उसने कहा- प्लीज़ एक बार और चूसो न!मैं झट से उठी और उसके मुर्दा लंड को चूसने लगी. मैंने ऐसा ही किया और मनोहर ने मेरी चूत में फिर से अपना लंड पेल दिया.

मैंने कुछ रुक आकर लंड बाहर निकाला और उनकी चुत कपड़े से पौंछ कर उन्हें घोड़ी बना दिया. रोशन लाल अलीज़ा की चुत पर ऊपर से नीचे तक जीभ फेरता हुआ कहने लगा- आह … क्या मस्त चूत है बहन की लौड़ी की … आह आज तो तेरी चुत को मस्त कर दूंगा. सेक्सी भाभी पाकिस्तानीतो आंटी बोलीं- बबलू कुछ दिन के लिए ऑफिस के काम से टूर पर गया हुआ है.

मैंने उसी क्षण निर्णय ले लिया कि अब मैं भी किसी की परवाह नहीं करूंगी.

मुझे माँ का हाथ हिलता हुआ दिखाई दिया और फिर रघु के हाथ भी। शायद माँ उसके कच्छे में हाथ डाल कर उसके लण्ड को खड़ा कर रही थी. उन्होंने आते ही कहा- बेटा, बहु के मायके वालों का संदेशा है कि वो लोग लेने नहीं आएंगे.

मुझे ये देख कर खुशी होती थी कि मैं इतनी सेक्सी हूं कि लोगों के मुंह से लार टपकवा सकती हूं. शादी का लहंगा उठाकर ललिता बेड पर हाथ टिकाकर घोड़ी बन गई और बिना कॉण्डोम के चुदवाया. तो मैंने उसका इलाज कैसे किया?हाय मेरे दोस्तो, मैं आपकी अंजलि … मुझे फ्री सेक्स कहानी पर आप सभी से मिलना बहुत अच्छा लगा.

फिर पापा ने मुझे बुलाया और कहने लगे- तुम्हारी मां की शिकायत है कि तुम उनकी चूचियों को घूरते रहते हो.

जब अंडरवियर उतार रहा था तो आंटी मेरे लंड को हवस भरी नजर से देख रही थी. मैंने लवली को सरप्राइज़ देने के लिए अपने ससुराल बिन बताये पहुंचने का मूड बना लिया. ”ऐसी आवाजें सुन कर मैं पूरे जोश में आ गया और मैंने मां को नीचे पटक लिया और उनकी चूत में लंड घुसा कर चोदने लगा.

तारक मेहता सेक्सी फोटोना जाने खुदा ने किस कलम से मेरी किस्मत लिखी थी, जो मेरे लंड को ऐसी हूर की परी मिली. अगर आज आप पूरी कर सको तो?वो बोले- क्या इच्छा है?मैंने कहा- मुझे फिल्म देखनी है.

विवाह पिक्चर वीडियो में

मगर रोशन लाल ने उसके दोनों गाल दबा कर लंड को अलीज़ा के मुँह में घुसेड़ दिया. कोई दस मिनट की चुदाई के बाद दीदी हांफते हुए झड़ गईं, लेकिन मैं अभी भी बहन की चुदाई कर रहा था. )कमर तो ऐसी है कि एक बार हाथ लगाओ तो बस हटाने का मन ही न करे, इतनी भरी हुई और गदराई हुई।और अब दिल थाम कर बैठ जायें.

उसकी आवाज इतनी उत्तेजक थी कि मेरी स्पीड को तेज होते हुए बिल्कुल भी देर न लगी और मैंने तेजी के साथ जिया मेम की चूत में जोर जोर से धक्के लगाना शुरू कर दिया. मां की झांटों का मेरे बदन से रगड़ खाना मेरे पूरे जिस्म में एक गुदगुदी पैदा कर रहा था. मैंने फिर से चोर नज़रों से आंटी को देखा कि वो मुझे देख रही हैं या नहीं.

उधर मैं मोनिका के ऊपर चढ़ कर उसकी चुत में लंड पेल कर धक्के लगाने लगा. चार चार चूतों की चुदाई एक ही दिन में करने के बाद मैं काफी कमजोर सा महसूस करने लगा. मेरे पेट से होते हुए वो नीचे पैंट के हुक तक पहुंच गयी और उसने मेरी पैंट के हुक को खोल दिया.

रिश्तो में चुदाई की इस स्टोरी में पढ़ें कि मैं होली खेलने मामा के घर गया तो मामी अकेली थी. मैंने उनकी कार में वो सामान रखा और उनसे कहा- अच्छा आंटी अब मैं चलता हूँ.

मैं उसके चेहरे पर पापा के लंड को चूत में लेने की तड़प देख पा रहा था.

करीब 9:05 बजे पर अंजना की मॉम पूजा सिंह और डैड मोहित सिंह … दोनों हाथ में बैग लिए बाहर निकले. सेक्सी वीडियो सीजीरसगुल्ले जैसी मुलायम और मीठी सी उनकी चूत … आह गुड़िया बुआ का कहना ही क्या था. व्हिडिओ सेक्सी मराठी पिक्चरउनका कभी सेक्स करने का मन करे तो सीधा मेरी साड़ी ऊपर करके मेरी चूत में लंड डाल देते थे. मुझे उनकी आंखों में अजीब सी कशिश दिख रही थी, जो मुझे मोहित किए जा रही थी.

इस बार रोशन लाल ने अलीज़ा की ड्यूटी अपने फार्महाउस पर लगवा दी, इधर वो मीटिंग करता था और सबको पार्टी देता था.

जब मुझे मालूम चला तो मैंने भी जानबूझ कर अपनी जलवे दिखाने शुरू कर दिये. ये कह कर मैंने हाथ में लिया लट्ठ उसे डराने के लिए बिस्तर पर दे कर मारा तो वो कहने लगी- नहीं राहुल, नहीं, मैं तेरी माँ हूँ. कुछ मिनटों तक ऐसे ही करते करते लंड वापस अपने विकराल रूप में आ गया और इस बार भाभी बिना वक़्त गंवाए लंड को चूसने लगी.

क्योंकि घर वालों को मेरी आदतें मालूम थीं कि मैं काफी लड़कीबाज किस्म का हूं, इसलिए उन्होंने इस बात पर विशेष ध्यान दिया था. मैं दो तीन मिनट तक बुआ के दोनों स्तनों को बारी बारी से चूसता और मसलता रहा. 15 मिनट तक विक्रांत ने मेरी चूत को इसी स्पीड से चोदा और फिर हम दोनों साथ में ही झड़ गये.

न्यू सेक्स इंडियन

फिर मैं नीचे बढ़ा, बूब्स की नाली यानि क्लीवेज चाटी क्योंकि ब्रा पहने हुए थी इसलिए पेट पर चला गया. मैंने दूसरा झटका दिया तो उसके मुंह से आह्ह निकल गयी और मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया. लेकिन रोहित तो मुझे बराबर किस कर रहा था। मेरे बूब्स को अपने मुंह में लेकर चूस रहा था और मैं बस चुपचाप लेटी थी।मेरे मुंह से अपने आप ही आहें निकल रहीं थी। वह मेरे सारे जिस्म को चाट रहा था।उसने कब मुझे अपने आगोश में ले लिया मुझे पता ही नहीं चला। मेरे हाथ अब स्वत: ही उसकी कमर पर चलने लगे थे.

मैंने वहीं पर बैठे हुए अपनी नाइटी के नीचे से हाथ देकर अपनी ब्रा और पैंटी को उतार दिया.

उसके बाद मैंने लंड को यूं ही डाले रखा और मौसी के होंठों को पीने लगा.

वो बोली- तुमने आज से पहले तो कभी ये नहीं लगाया, फिर आज क्यों लगा रहे हो?मैंने कहा- इसको लगाने से आपको दर्द कम होगा और मजा ज्यादा आयेगा. ऊपर से उसने केवल टॉवेल लपेट रखा था … जिससे उसकाआधा नंगा जिस्ममेरे लंड में हवा भर रहा था. गुजराती मारवाड़ी सेक्सी पिक्चरवो कोई लड़की तो नहीं है ना कि एक बारे में ही अपनी चूत में लंड लेने के लिए तैयार हो जायेगी और वो भी तब जब उनकी चूत की चुदाई अपने ही बेटे के लंड से होने वाली हो!वो बोली- आपको अभी कुछ दिन और सब्र करना होगा.

भाई बहन सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरे दोस्तों ने मुझे सेक्स कहानी की किताबें पढ़वाई. मंजू मेरे लंड को अपने मुँह से खींच खींच कर पूरा माल निकाल रही थी और चाट रही थी. काफी देर बाद वो दोनों झड़े और इस बीच प्रीति भी न जाने कितनी बार झड़ी.

कभी एक जांघ फैला कर तो कभी सीधी लेट कर दोनों जांघें आधी उठा कर फैला लेती थी. लंड को चूत में घुसवाकर वो मेरे लंड पर कूदने लगी और खुद ही उछल उछल कर चुदने लगी.

मौसी की चूत शेव करते वक़्त चूत से पानी भी बाहर आ रहा था, जिससे उनकी चूत गीली हो रही थी.

ऐसा मजा तो मुझे कभी किसी चीज में नहीं मिला था जितना पापा मेरा लंड चूसते हुए दे रहे थे. चूतड़ों पर हल्का सा दबाव पड़़ता तो अपनी एड़ियां उठा कर रेखा मेरे और करीब आ जाती. उन्होंने अपना आधा बदन मेरे ऊपर रखकर मेरी छाती पर सर रख दिया और मुझसे चिपक कर लेट गईं.

सेक्सी मूवी हिंदी में सेक्स मन कर रहा था कि बहन की चूत में लंड से चोद चोद कर उसकी चूत को फाड़ दूं. छुट्टी के समय उसके निकलने से पहले मैंने उसको कहा- घर आते हुए एक मेडिकल स्टोर से कॉन्डम का एक पैकेट ले आना.

चुदाई होने के बाद लवली ने कहा- मां, ये आपने क्या किया? अपने दामाद को भी नहीं छोड़ा आपने?सास बोली- तेरी वजह से ही तो कर रही हूं. मेरा तो अभी टोपा ही अन्दर गया था, लेकिन उनकी चीख बता रही थी कि आंटी की चुदाई कभी अच्छी तरह से नहीं हुई थी. दस दिन तक घर में हम अकेले रहने वाले थे और ये सोच सोच कर मैं खुश भी हो रहा था.

राजस्थानी हिंदी पिक्चर सेक्सी

फिर मैंने अपनी स्पीड काफी तेज कर दी और धकापेल चाची की चूत चोदने लगा. मैं- अरे आप भी क्या बोल रही हो आंटी … मैं सबको थोड़ी ही करता हूँ? मैं तो बस आपके आराम के लिए ये सब कर रहा हूं. आप इस देसी सेक्सी कहानी के बारे में कुछ कहना चाहते हैं तो मुझे मेरी ईमेल पर संपर्क कर सकते हैं अथवा नीचे कमेंट बॉक्स में अपने विचार लिखना न भूलें.

रंग से मैं थोड़ी सांवली हूं लेकिन मेरी गांड कुछ ज़्यादा ही बड़ी है. मुझे उनका नम्बर मालूम ही नहीं था, तो ये नम्बर मेरे लिए एक अनजान नम्बर था.

आपका शरीर तो जैसे किसी परी का है, अगर आपको बुरा न लगे तो क्या मैं आपको देख कर मुठ मार लूं?मैंने उसकी इस बात का कोई जवाब नहीं दिया और उसने शायद मेरी खामोशी को मेरी हां समझ लिया.

जब मैंने सर उठा कर बिस्तर पर देखा, तो उस बेड की बेडशीट पर बहुत सारा खून पड़ा था. ये कह कर मैं भाभी की गर्दन पर किस करते करते उनकी गांड दबाने में लग गया. हम एक दूसरे को पसंद करने लगे।मगर वो शादीशुदा होने की कारण मेरी आगे बढ़ाने में फटती थी.

आपको आंटी की गांड चुदाई की ये अन्तर्वासना सेक्सी हिंदी स्टोरी कैसी लगी, मुझे इसके बारे में जरूर बताना. लेकिन ये तुम्हें सबक सिखाना चाहता था कि ब्लैकमेल किसे कहते हैं … और शायद तुम समझ भी गयी होगी. आज तुम पूरी की पूरी मेरी होने जा रही हो, मैं तुम्हें कुछ नहीं होने दूंगा.

तो जी हां, जैसे मैंने बताया कि मेरी गर्लफ्रैंड है जो दिखने में बहुत अच्छी है.

सेक्सी पिक्चर बीएफ में: [emailprotected]पड़ोसन की चुदाई कहानी का अगला भाग:जवान पंजाबन को चोद कर औलाद दी-2. फिर मैंने सोनम और रीना को कैसे चोदा, ये मैं अगली कहानी में लिखूंगा.

हमने खाना बनाया और दोनों ने साथ में खाया और फिर बैठ कर बातें करने लगे. वो नीचे बढ़ रही थी कि उसने मेरे लंड को अंडरवियर से लंड बाहर निकाला और उसे देखने लगी। मेरे अंदर एक अलग लहर दौड़ गयी. उन्होंने मुझसे कहा कि अब रहा नहीं जाता, मुझे चोद दो मेरे राजा … और मेरी इस प्यासी निगोड़ी चुत का बाजा बजा दो.

मैंने घर का दरवाजा बंद किया और मौसा के साथ नहाने के लिए बाथरूम में घुस गयी.

जब मैं झड़ने के करीब हुआ तो मैंने उससे कहा- मैं झड़ने वाला हूँ, बोलो मैं अपना बीज कहा निकालूँ?दोनों ननद-भाभी जोर से चिल्लाते हुए बोलीं- विशू जी, आप अपना बीज अंदर मत डालना. पर मैं तुम्हारी सहमति के बगैर कुछ भी नहीं करूंगी। अगर तुम्हें पसंद नहीं तो मैं नीरव को मना कर दूंगी।मानव ने कुछ सोचकर कहा- मेरी समझ से तो नीरव का प्रस्ताव स्वीकार कर सकती हो। हो सकता है कि इससे हम लोगों की सेक्स लाइफ ज्यादा शिक्षित और ज्यादा अच्छी हो जाए।उसकी बातें सुनकर मेरा तनाव दूर हो गया और मैं भी उत्सुक हो गई. उस दिन जब सुबह विक्रांत बेड पर लेटा हुआ था तो मैं उसके रूम में झाड़ू लेकर पहुंच गयी.