हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो साड़ी वाली

छवि स्रोत,गाना भोजपुरी सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

क्सवीडिओ हिंदी: हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो साड़ी वाली, मैं भाबी को इमोशनल करते हुए बोला- भाबी हमने भी तो कभी चुदाई नहीं की है … आपको मेरी कसम है, आज सिर्फ़ मेरे कहने पर कर लो … इसके बाद मैं कभी आपको लंड चूसने के लिए नहीं कहूँगा.

𝐒𝐞𝐱 𝐯𝐢𝐝𝐞𝐨

थोड़ी देर बाद मैंने उसके गालों पर चुम्बन किया और अपने होंठ उसके होठों पर जमा दिये. ஹிந்தி பிஎப்मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर उठाई और उसके खूबसूरत कबूतरों की चोंच अपने मुँह में भर ली.

”फिर मेरा चेहरा अपनी जांघों के बीच में लेके उसने लौड़ा मेरे मुंह में दे दिया। मैं चूसने लगी।तभी अंशु आ गयी।अंशु कल कामिनी की मम्मी को बुला ले!”क्यों उनका यहां क्या काम?”अरे उसकी बेटी से हम दोनों शादी करेंगे तो उसके सामने करेंगे न!”वो मान जाएगी? कुछ गड़बड़ न हो जाए?”तू चिंता मत कर वो बहुत खुश होगी. सासु जमाई की सेक्सीबंटी जी उठ गए और सनी जी ने सीधा जोर से कूदते हुए अपना लंड एक सेकंड में अन्दर पेल दिया.

वो बोली- बाप रे इतना बड़ा और गर्म है तुम्हारा ये …मैंने कहा- इसका कोई नाम भी होता है.हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो साड़ी वाली: आपके जज़्बात की कदर करती हूँ, पर जो नहीं हो सकता, वो कभी नहीं हो सकता.

मैंने बेडशीट अपनी मुट्ठियों में दबा ली और दर्द को सहन करने की कोशिश करने लगी.दस बारह मिनट की चुदाई में दीदी दो बार झड़ चुकी थी और अब मैं भी झड़ने वाला ही था.

सेक्सी पिक्चर नंगे पिक्चर - हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो साड़ी वाली

भाभी जब कमरे में दाखिल हुई तो उनकी नजर मेरी लुंगी के नीचे लटक रहे मेरे लंड पर गई, मेरे बड़े से लंड को देख कर भाभी एकदम से वहीं रुक गई.उसके बाद मौसी ने मेरे उफनते लंड को अपने गर्म मुंह में भर लिया और तेजी के साथ मेरे लंड को चूसने लगी.

काजल ने सुमिना की तारीफ करते हुए कहा- बहुत सुंदर लग रही हो …काजल के मुंह से अपनी तारीफ सुनकर सुमिना खुश हो गई. हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो साड़ी वाली मेरी देसी कहानी आपको कैसी लगी?[emailprotected]इससे आगे की कहानी:सलहज को चोदा पत्नी जैसे यात्रा में.

मेरा मन करता है उसकी मखमली सॉफ्ट पीठ को खूब चूमूं, चाटूं, काटूं, खाऊं.

हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो साड़ी वाली?

वो बोली- चाचू ये ग़लत है आप ऐसा कैसे कर सकते हो यार?मैं- अच्छा तुम कर रही थी, तो सही था. वहाँ से वापस आने के बाद संजीव ने मुझे होटल में बुलाया और हमने एक बार और चुदाई की. मेरी उम्र 37 साल है, लेकिन कोई भी मुझे देख कर यह नहीं कह सकता है कि मैं इतनी उम्र की लगती होंगी.

तभी मैंने एक जोर का धक्का लगा दिया, जिससे मेरा आधा लंड उसकी गर्म चुत में अन्दर जा चुका था. मुझे नहीं पता था कि तुम्हारा लण्ड इतना बड़ा है वरना मैं नहीं चुदवाती तुमसे कभी भी।मैं बोला- मेरी रंडी बहुत मजा आएगा. उसके तुरंत बाद ही मैं बाथरूम में जाकर उसके नाम की मुठ भी मारने लगा.

एक रात अंकल और अम्मी रात को टहल रहे थे, तभी अम्मी जैसे ही नीचे जाने लगीं, अंकल ने उनका हाथ पकड़ लिया. चूंकि दिशा (साली) जीत गई थी, इसलिए नियमानुसार मुझे उसका टास्क पूरा करना था. नम्रता- ये क्या जानू, अब तो मजा आने लगा था … और तुमने अपना लंड निकाल लिया?उसके कूल्हे को फैलाते हुए मैं बोला- बस जान तुम्हारी गांड की गोलाई को देखने के लिये निकाला है.

मॉल में पहुंच कर ज्योति ने पहले मेरे लिए एक शर्ट और जीन्स पसंद की फिर हम लेडीज़ कपड़े के सेक्शन की ओर गए. मेरी … जान लोगे क्या? मैं … मर जाऊँगी … आह!इतना कहते कहते उसकी चूत से उसका पानी निकलना शुरू हो जाता है और परीशा का ऑर्गस्म हो जाता है.

अंकल की उंगलियां किसी एक्सपर्ट की तरह चुत के होंठों को ढूंढ रही थीं, चुत की दरार पर उंगलियां घूमते हुए उसका गीलापन बढ़ा रही थी.

वो भी उस पल का मजा ले रही थी।मैंने उसके फूल जैसे कोमल चहरे को उठाया.

उधर वो भी मेरे बेडरूम में आ नहीं सकता था, क्योंकि हमेशा ही घर के लोग रहते थे. उसने पीछे मुड़कर देखा तो एक आदमी उसके पीछे खड़ा था। उसका लन्ड मेरी मां की गांड में चुभ रहा था जो अभी पूरा कड़क नहीं हुआ था।मेरी मां थोड़ी आगे खिसक गई मगर भीड़ की वजह से वह फिर पीछे धकेल दी गई। अब फिर उस आदमी का लन्ड मेरी मां की गांड पर रगड़ खाने लगा. वो कहती है कि जो मजा तुम्हारे लंड से आता है वो मजा मुझे अपने पति के लंड से नहीं मिल पाता है.

मेरी चूत मेरे पानी से भीग गयी थी और उनका लंड मेरी चूत में पूरा अन्दर जा रहा था. मेरे गांव से पानीपत सिटी में पहुंचने के लिए 25 तो 30 मिनट लगते हैं, मैं ऑटो से जाती हूँ. उसने मेरा लंड चूसा और लंड चूस कर मेरा पानी निकाल दिया, पर पिया नहीं.

मैं भाभी के ऊपर टूट पड़ा और अपने लंड को बाहर निकाल कर भाभी के चूचों को पीते हुए उसकी चूत पर अपने लंड को रगड़ने लगा.

कामवर्धक दवा ने अपना पूरा असर किया था मौसी की चुदास पर इसलिए मौसी बस मेरे लंड से चुद कर शांत होना चाह रही थी. नम्रता- ये क्या जानू, अब तो मजा आने लगा था … और तुमने अपना लंड निकाल लिया?उसके कूल्हे को फैलाते हुए मैं बोला- बस जान तुम्हारी गांड की गोलाई को देखने के लिये निकाला है. मगर अब जब उसने खुद ही पहल कर दी थी तो मेरा लंड खड़ा होते हुए देर नहीं लगी.

उसके मम्मे भी दबाता था, उसके गांड के गोलों पे थपेड़े भी लगाता और उसकी प्यारी तोंद तो इतनी सेक्सी थी कि क्या कहना. उसकी मुलायम मखमली गांड, उसके जिस्म की मादक खुशबू मेरी सांसों को तेज़ कर रही थी. आज भी उनका कॉल आता है और वो बोलती हैं- देख तेरा बच्चा बहुत तंग करता है.

जो भी लड़की मेरे लंड को देखती थी, वो देखती ही रह जाती थी। धीरे-धीरे फिर मैं शादीशुदा औरतों को भी लंड दिखाने लगा क्योंकि शादीशुदा औरतों को लम्बे और मोटे का लंड का महत्व ज्यादा पता होता था.

मैंने पूछा- फिर आप जैसे जवान लड़के कैसे मन लगाते हो?उसने पूछा- क्या मतलब?मैंने कहा- अरे यार आपके जैसे सेक्सी और तगड़े लड़कों का बिना सेक्स किये कैसे टाइम निकलता है?मेरी ये बात सुनकर वो दोनों एक दूसरे को देख कर शर्मा गए. मैं रोज कभी चूत में खीरा या बैंगन डाल कर खुद को शांत करती, पर लंड की कमी खलती रहती.

हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो साड़ी वाली मैं मूलतः आगरा का नहीं था, जिस वजह से मेरा टिफिन एक कैंटीन से आता था. मेरा नाम अहमद है और मैं मेरठ के पास एक गाँव का हूँ लेकिन अभी मेरठ सिटी में रहता हूँ। अभी मेरी उमर 29 साल की है.

हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो साड़ी वाली मैंने मेरा शर्ट को नीचे किया और स्तनों को शर्ट के ऊपर से सहलाते हुए बोली- आह … दर्द हो रहा है … कितने जंगली हो आप. उसने सफेद रंग की लंबी से ढीली से शर्ट, जो ट्रांसपरेंट थी, पहन रखी थी और मेरी दी हुई काली ब्रा और पैंटी जो पानी की बूंदों के पड़ने से रोशनी में साफ दिख रही थी.

फिर जब हमारे होंठ अलग हुए, तो अदिति मेरी तरफ देख क़े मुस्करायी और मेरे माथे पे और गालों पे किस करके मेरे ऊपर ही लेट गयी.

चोदा चोदी खुल्लम-खुल्ला वीडियो

हमारे चुंबनों की आवाज और हमारी सांसों की आवाज से कमरे का माहौल बहुत गर्म हो गया था. इस बार मैंने आगे बढ़ते हुए भाभी के लोअर को उनकी पेंटी के साथ ही उतार दिया और उनको बिल्कुल नंगी कर दिया. जिंदगी में पहली बार मुट्ठ मारने में इतना मजा आया मुझे क्योंकि रात को तो मैं थका हुआ था लेकिन रात भर नींद लेने के बाद लंड में एक अलग ही जोश भर गया था और सुबह-सुबह की एनर्जी थी लौड़े में।तभी मेरी नज़र वहां पड़ी हुई ब्रा और पैंटी पर पड़ी.

बाकी तेरी मर्जी…ठीक है … जैसा तू कहे।” काजल ने सुमिना की ज़िद के सामने घुटने टेक दिये. फिर क्या था … बंटी जी मेरी गांड पकड़ कर सनी जी को कहा- चुसाया तुमने पहले था … अब इसकी गांड पहले मैं मारूँगा. मौसी की चूत में अपने तने हुए लौड़े को लगाकर मैं मौसी की छाती पर जैसे झूलने लगा था मैं.

हर रोज मैं अपने एक दोस्त से यही सब बातें करता रहता था कि जीवन में एक लड़की नहीं है यार … मैं लड़की कब पटा पाऊंगा.

उसका लंड मेरी चुत की अन्दर की दीवार पे बहुत रगड़ रहा था और मीठे दर्द के साथ खुशी ही खुशी मिल रही थी. अब मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं खुद जल्दी से जाकर अभी का अभी मधु को चोद दूँ. वसुन्धरा ने अपनी बायीं टांग मोड़ कर मुझे अपनी योनि छूने से रोकने की कोशिश की तो सही लेकिन चूँकि मेरी बायीं टांग, वसुन्धरा की बायीं टांग के ऊपर थी इसलिए इस बार वसुन्धरा अपनी कोशिश में कामयाब नहीं हो पायी और ऐन नाभि के नीचे पहुँचते ही अपना हाथ पैंटी के इलास्टिक के अंदर से नीचे की ओर बढ़ा दिया.

अमृता ने अपने बॉयफ्रेंड को प्रेमपत्र लिखे थे जिन्हें लेकर वो उसे धमकाता रहता था और मिलने के लिए बुलाता रहता था और वो और उसके दोस्त अमृता के बदन से खेलते रहते थे. अब तक रात के 10:00 बज गए थे हम बाथरूम से बाहर कमरे में नंगे ही आ गए. इसके बाद चूमा चाटी हुई और उन्होंने मेरी ब्रा और पैन्टी निकाल कर मुझे नंगा कर दिया.

वो बोलीं- क्यों जब से आए हो, तब से अर्चना अर्चना ही कर रहे हो, तुम्हें वो पसंद है क्या?मैं- ऐसा कुछ नहीं भाभी, बस मैंने तो यूं ही बोला. बात राहुल ने शुरू की और बोला- जैसा आपको पता ही है कि हमारे साथ क्या प्रॉब्लम है.

इसके बाद मैं सपना चेहरे की तरफ बढ़ा और अपना लंड सपना के होंठों पर रख दिया. मगर पिछली बार इतना सब कुछ हो जाने के बाद मैं ज्यादा देर तक उससे दूर नहीं रह सका. अजय ऋतु की पैंटी को चाटने लगा और तब तक ऋतु ने अपनी टी-शर्ट भी निकाल दिया था और अब वो ब्रा और पैंटी में रह गई थी.

मैं अर्पित इंदौर का रहने वाला उच्च शिक्षित युवा हूँ और एक सम्पन्न परिवार से सम्बन्ध रखता हूँ.

मुझे यह बात जंच गई, मैं और चाची दिल्ली चले आए और मैंने एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब कर ली. भाभी- क्यों?मैं- मुझे कोई आपके जैसी मिली ही नहीं जिसे देख कर रातों की नींद हराम हो जाये. एक तरफ आंटी को खुश कर दिया था और दूसरी तरफ मुझे चोदने का प्लान बना लिया था.

मौसी कई बार कह चुकी थीं कि वो राजनीति में इतने भी न घुसें कि उनके आपसी सम्बंधों में दरार आनी शुरू हो जाये मगर मौसा ने उनकी बात नहीं सुनी. दीदी के चूसने से लंड जल्दी ही झड़ गया और दीदी मेरा पूरा माल चट कर गयी.

इसी मौके का फायदा उठाते हुए मैंने अपने लंड को एकदम से उसकी योनि के प्रवेश द्वार पर रख दिया और उसकी चूत के दाने पर रगड़ते हुए उसकी चिकनी चूत के स्पर्श का मजा लेने लगा. तभी भाभी ने शरारत भरी मुस्कान से कहा- अब देखते ही रहोगे देवर जी या फिर चलोगे भी. मगर साथ ही इस बात की खुशी भी थी कि मैं कमल के लंड तक पहुंचने में कामयाब हो गया था.

सेक्सी ग्रुप व्हाट्सएप नंबर

लण्ड का सुपारा चूत के मुंह पर रखा और अन्दर धकेला लेकिन इस पोजीशन में उसकी चूत और भी टाइट हो गई थी.

आंटी की चुदास बता रही थी कि वो चुदाई की ललक में कितनी अधिक बेबस थीं. उस वक्त मुझे लगा था कि कुछ बाजार का छोटा मोटा काम होगा, लेकिन मैं गलत था. नम्रता ने अपनी टांग को मेरी कमर पर रख कर मुझसे और कस कर चिपकने लगी.

रजनी ने हँसते हुए बेशर्मी से उसके डोले दबाये और बोली- मैनऽऽऽ!राहुल को पता नहीं क्या सूझा, उसने रजनी को बगल से चिपटा लिया और उसे चूमना चाहा. मगर सुमिना मेरी बहन थी इसलिए उसके बारे में अपने मन में ऐसे ख्याल लेकर आने की इजाजत मेरा ज़मीर मुझे कतई नहीं दे रहा था. चुदाई की ऑडियो कहानियांएक दिन बातों बातों में बात निकली कि गिन्नी कार चलाना सीखना चाहती है लेकिन हैप्पी सिखाता नहीं.

जैसे जैसे लंड अंदर जाता गया मेरा लौड़ा उसके खून से फिर से लाल हो गया. कुछ पल में वो एकदम नंगा उसके सामने हो जाता है।परीशा एकटक अपने पापा के लंड को देखने लगती है.

जब वो थोड़ा शांत हुई, तो मैंने अपने लंड को थोड़ा थोड़ा आगे पीछे करने लगा. मैंने उसको जोर से अपनी बांहों में भींच लिया और उसको गर्दन पर काटने लगी. कुछ पल बाद लंड में कुछ सुरसुरी सी हुई तो मैंने लंड अन्दर बाहर करना चालू किया.

मैंने ठीक 10 बजे उसकी सोसाइटी के बाहर पहुंच कर उसको कॉल किया, तो उसने बोला कि बस पांच मिनट. कोशिश आखरी सांस तक करनी चाहिये यारो …मिल गई तो चूत और नहीं मिली तो उसकी माँ की चूत।मैने अपने सभी साथियों (लंड, आँखें, होंठ-मुँह-जीभ, कान-नाक, हाथ, दिल और दिमाग) की आपातकालीन बैठक (एमर्जेन्सी मीटिंग) बुलाई. मैंने दोनों हाथ उसके कमर पकड़ के खींचा, वो मेरे नंगे बदन से और सट गयी.

मेरे मुँह से अचानक ही निकल गया कि नहीं भाबी, मैं तो आज ही आया हूँ और आपने मुझे देख भी लिया.

”बेबी बोली- दूसरी बात मैं यह सोचती हूँ कि क्या गिन्नी की किस्मत भी मेरी जैसी है?क्यों? अब गिन्नी को क्या हो गया?”अब पढ़ेंउस बेचारी का हाल भी मेरे जैसा ही दिखता है. फिर बाद में कैसे अनुषी मुझसे चुद गई, उस रंगीन चुदाई की कहानी को आपके सामने पेश कर रहा हूँ.

लेकिन मुझे इतना होश तो था कि मैं अपने आस-पास हो रही आवाजों को सुन सकूं. कुछ देर बाद उसने धक्का देकर मुझे बेड पर गिरा दिया और मेरी शर्ट खोलने लगी. मैं उन्हें चूमता हुआ बेडरूम में ले आया और उन्हें बेड पे गिरा दियाचाची- बदमाश … मुझे कहीं चोट लग जाती तो?मैं- मैं लगने नहीं दूंगा.

मैंने उसकी चुत को उसी पैंटी से साफ किया और उसकी चुत में एक वाइब्रेटर, जो मैंने उसकी नजरों से छुपा के आज ही ख़रीदा था, ठूंस दिया. अब तक काफी देर से चुदाई होने के कारण हम दोनों पसीने से भीग गए थे, लेकिन पंखा की हवा से हम दोनों लोग को सेक्स करने में आनन्द आने लगा था. आस-पास चुपचाप अच्छे से देखा, तो कोई नहीं दिखायी पड़ा और फिर हम दोनों ही नंगे छत पर टहलने लगे.

हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो साड़ी वाली उसे देख कर वो थोड़ा डर गई- यश ये तो बहुत ही बड़ा है … बहुत दर्द होगा इससे तो?मैंने उसे प्यार से समझाया- पहली बार है, दर्द तो होगा ही … पर मैं तुमको दर्द कम से कम दूँगा. आज रेशमा मामी ने जींस और टॉप पहना हुआ था, जिसमें वो एक मस्त लौंडिया के जैसे दिख रही थीं.

हाऊ टू सेक्स

मैं भी उसकी ही तरह छत के दो-तीन चक्कर लगा कर उसके सामने खड़ा हो गया. मेरा जो साढ़ू है, वह लगभग काम के सिलसिले में हर समय घर से बाहर ही रहता है. किरायेदार का परिवार जबसे हमारे घर में आया था, तब से मैं भाभी से कम बात करता था, ऐसा नहीं था कि मेरा उनसे बात करने का मन नहीं होता था, दिक्कत ये थी कि घर में सब होते थे इसलिए उनसे बात करने का मौका नहीं मिल पाता था.

फिर दो मिनट बाद वो हुआ जिसने अंदर मेरे अंदर काम की ज्वाला एकदम से ही भड़का दी. बस फिर क्या था, जैसी उसकी शक्ल थी, उसी तरह से मैंने उस पर लाइन मारना शुरू कर दी. প্রিয়াঙ্কা চোপড়ার সেক্স ভিডিওमोटे और बड़े लंड के कारण भाभी चीखने लगीं- ओये माँ … थोड़ा हौले से करो ना … दर्द हो रहा है.

मैं अक्सर डिक्शनरी में योनि, लिंग, सम्भोग, स्तन, शब्दों के पर्यायवाची खोजती जिनसे मुझे एक सुखद अनुभूति मिलती.

मैंने कहा- ठीक है मां, हम भी बस निकल रहे हैं यहां से।पार्किंग में आने के बाद पांचों के पांचों गाड़ी में बैठ गये और फिर वही वाली स्थिति बन गई जो आते समय थी. फिर मैं बोला- जान एक बात पूछूँ?वो बोलीं- जी हां पूछो …मैं पूछा- कॉलेज में जब आप स्टूडेंट थीं, तब आपने कितने लंड लिए थे?रेशमा बोलीं- दो के लंड लिए हैं.

कैसे दोनों से नजरे मिलाऊंगा? रीना को इस घटना के बारे में क्या बताऊंगा?मुझे तो कल रात क्या हुआ था यह पता भी नहीं था. मैं बोली- बेटा रोज सुबह मैं तेरा मूत और बीज पियूंगी … आज से सुबह से चाय कॉफ़ी बन्द. उसने अपने हाथों में मेरी दोनों टांगों को उठा लिया और मेरी चूत में जीभ को अंदर घुसा-घुसा कर मुझे मजा देने लगा.

और अब कौसर को यकीन हो गया कि उसे चोदने वाला मर्द अहमद नहीं, कोई और है.

लेकिन बहन के आग्रह के आगे मजबूर होके मैंने अपनी इच्छा का त्याग कर दिया. मैंने अपना लण्ड उसके मुंह में दे दिया तो मजे से चूसने लगी, कुछ देर में बेबी थक गई तो बोली- कितनी देर लगाओगे?अभी कहाँ?”मेरी जान लेनी है क्या?”नहीं, गांड लेनी है. राहुल को उसकी बेबाकी में ईमानदारी दिखी और उसने भी दोस्ताना प्यार से उसके माथे पर किस किया … और मुस्कुरा दिया.

స్వాతి నాయుడు తెలుగు సెక్స్ వీడియో” वसुन्धरा के मुँह पर मेरा नाम पहली बार आया था, वो भी ‘मिस्टर’ या ‘जी’ जैसे किसी अलंकार के बिना. सोनम रानी, फिर तो एक ही तरीका है कि तू किसी से जी भर के चार छः बार चुदवा ले.

मोहम्मद सेक्स

हमने तो अभी प्लान ही नहीं किया, लेकिन वो बहुत बार ट्राय कर चुकी है. पूरा लंड पेलने के बाद अंकल ने अम्मी की चूची मुँह में दबाई और लंड के धक्के लगाना शुरू कर दिए. जब मुझसे रुका न गया तो मैंने उसका मुंह अपनी तरफ घुमा लिया और उसके होंठों को चूसने लगा.

मैंने तीनों के लिए चाय बनाई और नंगी ही उनके सामने चाय लेकर चली गयी. साथ ही मेरे दोनों हाथ उसके चूतड़ों को दबाने और मसलने में लगे हुए थे. मैं मामी के करीब बैठ गया और मैंने उनसे पूछा- वाह … मुझे भी तो बताओ कैसे मजे किए.

बस यही सब सोचकर वह परेशान हो गई थी। सच बताऊं भैया तो गुस्सा मुझे भी बहुत आया।आप ऐसा कैसे कर सकते हैं? मगर फिर मेरा दिमाग ठनका. मैं सोच रहा था कि देवताओं के पास ऐसी ही अप्सराएं थीं जिनसे वो तपस्या में लीन मुनियों में भी कामवासना जगा देते थे। मैं सारी उम्र इसका गुलाम बन कर रहने को तैयार था. मैं तो अपनी तरफ से पूरी कोशिश करता रहता था कि किसी को इस बात की भनक न लगे कि मैं मोबाइल में पॉर्न मूवी देख कर मुट्ठ मारता हूं और नंगी तस्वीरों वाली किताबें अपने पास रखता हूं.

अब अजय उसकी दोनों टांगों को खोल कर उसकी टांगों के बीच में अपना मुंह डालकर उसको जीभ से चाटने लगा. सच बात तो ये कि मैं किसी को अपना कौमार्य समर्पित करूं तो वो कम से कम मेरे मन को अच्छा तो लगे, अब इतनी भी गयी गुजरी नहीं थी मैं कि किसी को भी अपनी बेदाग़ जवानी, अपनी सील बंद चूत यूं ही परोस दूं.

भोला के लंड से चुदते हुए मैं मजा ले रही थी और भोला ठाकुर मेरी चूत में अपने मोटे लंड को पेलता जा रहा था.

मौसी ने फिर धीरे से मेरी बनियान को ऊपर करके मेरी फ्रेंची को नीचे खींच दिया और मेरा तना हुआ लौड़ा बाहर आ गया. मां की चुदाई वीडियो सेक्सीएक हाथ से मेरे बाल पकड़ लिए और दूसरे हाथ से मेरी गांड पे ज़ोर ज़ोर से मारने लगा. सेक्सी गांव के वीडियोफाड़ डाल मेरी चूत को … आज मेरी चूत का भोसड़ा बना दे … और जोर से चोदो … और जोर से चोद।बेजन्ता आंटी के भावों से मैं समझ गया कि वह झड़ने वाली है. खैर मेरी ये इच्छा भी उदयपुर में आकर पूरी हुई।मैं एक साल पहले यहां पढ़ाई करने आया था और एक रूम लेकर रहने लग गया। मैं जिस रूम में रहता था वहीं पास में एक कपल भी रह रहा था.

उसके होंठों के पास अपने होंठों को ले जाकर देखा, तो उसकी सांसें तेज हो चली थीं.

पर समय जो थोड़ी देर पहले तक तेजी से भागा जा रहा था, उसकी गति अब काफी कम हो चुकी थी. चुदाई के बाद कोमल उठ कर ताऊ जी के साथ बाहर नाली के पास गई और ताऊ जी ने उसकी चूत पर पानी गिरा कर उसे साफ़ करने का बोला. वह छोटी उम्र से मामा के घर चली गई थी और जब जवानी की दहलीज पर आ गई यानि 18 बरस की हो गई, तब वो जवान और खूबसूरत हो कर वापिस आ गई.

एक दिन मुस्कान का उसके पति शिशिर के साथ झगड़ा हो गया था, तो उस दिन शिशिर ने मुझसे बहुत देर तक फ़ोन पर बात की थी. उस घर में मेरी शादी करवा कर आज वो भी पछता रहे हैं, पर मैं उन्हें खुश हूँ, ऐसे दिखा देती हूँ. जिंदगी में पहली बार भाभी के बारे में सोच कर मेरा लंड इस तरह से खड़ा हो गया था।सुबह हुई तो भैया ऑफिस चले गये थे। मैं भाभी से नज़रें नहीं मिला पा रहा था.

शादीशुदा औरत को कैसे पटाया जाए

बस फिर क्या था मैं उस पर गिद्ध सा टूट पड़ा और कुत्तों की तरह उसके होंठों को चाटने लगा. मैं- क्या मेरा लंड चाचा से भी बड़ा है?चाची- तुम्हारे, चाचा का भी कोई लंड है? लंड तो तुम्हारा है. मैंने पूछा- अच्छा, अब कब मेरे लण्ड की सवारी करोगी? कल फिर आऊं क्या?भाभी बोली- ना बाबा ना … अब तो एक हफ्ते तक मैं किसी से भी नहीं चुदवाऊंगी। मेरा अब मन नहीं है।मैंने कहा- अच्छा जब भी मैं गांव आऊंगा तो मुझे अपनी चूत चोदने का मौका तो दोगी न?वो बोली- हां क्यों नही … अगर मौका मिला तो जरूर दूंगी। चलो अब जाओ यहां से, मैं बहुत थक गई हूं.

मेरा दिल कर रहा था कि मैं अदिति को बेडरूम में ले जाऊं और उसे बांहों में ले कर खूब प्यार करूँ … उसके ये रस भरे होंठ चूस लूँ, उसकी ये मांसल जांघें और उठी हुई गांड सहला दूँ.

वो बोली- भूख लगी या नहीं?मैंने कहा- हां बहुत जोर की लगी जानेमन … खिला दो कुछ.

मैंने एक और जोरदार शाट मारा और मेरा पूरा लंड उसकी कसी हुयी चूत की गहराइयों में खो गया. जब तो काफ़ी मज़े से चूत चाट रहे थे तुम अपनी भाभी की … और वो भी बड़े चाव से देवर का लंड चूस रही थी. मिस्टर सेक्सीयूं ही मुझसे बात करते-करते एक दिन बाबा अपनी पढ़ाई के लिए कानपुर आया.

आप तो जानते ही हैं कि मुझे किसी लड़की के साथ जबरदस्ती करना पसंद नहीं है. उसका कहना था- तुम नहीं थके तो आ जाओ, मैं भी तैयार हूं जंग के लिये।फिर मैंने अपना लिंग एक ही झटके में अंदर डाल दिया और अक्षिता के मुँह से फिर एक सिसकारी निकली. उसने कहा- यार सॉरी बाइक खराब हो गयी, रास्ते में ही मैकेनिक के पास खड़ी कर दी.

फिर भाभी ने देखा कि मैं भी उनको देख रहा हूँ तो वो फिर शरमा कर वहां से उठ गई और भाग कर अंदर चली गई. ओय्य्य्य … क्या कर रहा है… हट … हट छोड़ … छोड़ मुझे!” कहते हुए उसने अब दोनों हाथों से मेरे सिर के बालों को पकड़कर मुझे ऊपर खींच लिया।स्वाति भाभी के इस तरह के व्यवहार से मुझे खीज तो हुई मगर बाल खींचने से मुझे दर्द भी हो रहा था इसलिये मैं उसकी जाँघों के बीच से उठकर सीधा खड़ा हो गया और मायूस सा चेहरा बना के स्वाति भाभी की तरफ देखने लगा.

जैसे ही उसका कुछ दर्द कम हुआ, मैंने लंड हल्का हल्का अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

मैं बीच में सबको रोकते हुए बोला- देखो बच्चा आप लोगों की लाइफ को बचा सकता है. उस किताब में विदेशी स्त्री पुरुषों की नंगी तस्वीरें थीं और कुछ हिंदी कथाएं भी थीं. मेरा मन करने लगा कि अपनी गांड को उठा कर अपनी चूत उसके मुंह में धकेल दूं लेकिन मैं सौरव को ही मौका देना चाहती थी.

सेक्सी नंगे सीन वीडियो मैंने कहा- तुम यहां क्या कर रही हो? किसी ने देख लिया तो कोई क्या सोचेगा?वो बोली- देखने दो, मुझे किसी की परवाह नहीं है. मैंने कहा- भाभी, क्या आपको मेरे साथ अच्छा लग रहा है?भाभी ने मेरे गाल पर हाथ फेर दिया और कहा- मैं इसी प्यार की तो भूखी हूँ.

मैंने कहा- सोचो अगर मैं लड़की होता इस ट्रक में अकेला तो कब का …ये कह के मैं रुक गया, तो वो दोनों बोले- तो क्या करते बताओ बताओ?मैं समझ गया कि मेरा काम हो जाएगा. मेरा घर ऊंचाई पर है, तो वहां से पूरा गांव रोशनी में जगमगाता दिखाई देता है. मैंने कहा- अरे हां मेरी चुदासी बहनिया, मैं तो भूल ही गया था कि मेरे पास तो रामबाण रखा हुआ है.

गुजराती गर्ल्स

मैं अपने आप पर ही भरोसा करने वाला और अपनी दुनिया में ही मस्त रहने वाला लड़का हूँ … तथा मुझे यारी दोस्ती का भी कुछ शौक नहीं है क्योंकि आजकल की दोस्ती सिर्फ सिर्फ पैसों तक ही सीमित हो जाती है. प्लान के मुताबिक मानसी ने एक नंगी तस्वीरों वाली किताब पहले से ही अपने बिस्तर पर तकिये के नीचे रख ली थी. मैंने खिड़की से कमरे में देखा तो लाईट बंद थी पर नाईट लैम्प जल रहा था।मैंने सोचा कि अगर मैं दरवाजा खटखटा कर अब्बू को बुलाऊंगा तो मेरी बीवी कौसर को पता चल जायेगा और वो शर्मिंदा होगी.

तब मैं उससे रोजाना हंसी मजाक की बातें करने लगा और तब वो मुझे देखती और मुस्कुरा देती थी. मैंने फिर से उसको अपनी बांहों में पकड़ा और उसकी गर्दन को चूमने लगा.

वे हर बात एक दूसरे से शेयर करते थे, यहाँ तक की पहली बार सेक्स भी एक दूसरे को बता कर किया था.

सुमन भाभी चूत चुसाई से एकदम से मचल उठीं और मुझसे कहने लगीं- अब अपना लंड मेरी चुत में डाल दो, अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है. उसकी शादी को भी 2 साल हो गए हैं और उसको अभी तक कोई बच्चा नहीं हुआ है. मैंने कहा- हां यार आज तुमको नाइटी में देखा, तो कण्ट्रोल नहीं हो रहा.

कुछ देर बाद मामा आ गए, मैं उनसे मिला और हालचाल पूछ कर अपने घर जाने लगा. इसलिए वो हमेशा ही मुझे कहती है कि आप अपनी वासना की भूख मिटाने के लिए किसी लड़की को खोज लो, मैं इसमें कोई आपत्ति नहीं करूँगी, बल्कि आपका सहयोग ही करूँगी. आपको जगाया भी था उन्होंने लेकिन आप जागे ही नहीं।मैं- अच्छा … किसने जगाया था मुझे?पुष्पिका- भाई ने। अच्छा चलो, आप जल्दी से फ्रेश हो जाओ मैं ब्रेकफास्ट तैयार कर देती हूं आपका.

वह भाभी की चूत में जाने के लिए जैसे भीख मांगने लगा था मगर भाभी थी कि उस पर जरा भी दया नहीं कर रही थी.

हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो साड़ी वाली: ”ओह, सच्ची? फिर तू मेरा भी काम तमाम करवा दे न?”नहीं सोनम, वे अंकल बहुत अच्छे हैं मैं उनसे ऐसी बात नहीं बोल सकती कि आप मेरी सहेली को भी फक करो, मेरे बारे में क्या सोचेंगे वो?” कहीं ऐसा न हो कि वे मुझसे भी किनारा कर लें, न बाबा न ऐसा मैं नहीं कर सकती. उसने मेरे टॉप के अंदर अपना हाथ डालना चाहा पर उसके मोटे हाथ के लिए जगह नहीं थी तो उसने मेरे गले के पास टॉप को पकड़ के नीचे खींच दिया उससे मेरा एक दूध बाहर आ गया.

उसने कहा कि उसके दोस्त ने उसको अपने घर बुलाया है और रोहन के अलावा उसने एक और दोस्त को भी बुलाया है. बारह बजते ही मैं अपने कमरे से बाहर निकल कर पीछे की दीवार से कूद कर ऋतु के घर के पीछे जाने लगा, तो उसी समय अनुषी ने भी मुझे देख लिया. अचानक ही वसुन्धरा ने मेरे दाएं हाथ को अपने बाएं उरोज़ पर से उठाया और मेरे दाएं हाथ को अपने हाथ में पकड़ कर जगह-जग़ह से चूमने लगी और मेरी तर्जनी और मध्यमा उंगली अपने मुंह में लेकर बेसब्री से चूसने लगी.

वहां ज्योति ने एक शार्ट फ्रॉक गुलाबी रंग की पसंद की जो काफी हॉट फ्रॉक थी.

जीजा मुझे चुदते हुए देख कर भोला को गाली देने लगे, बोले- मादरचोद, तूने ये बात करने के लिए मुझे अपने नौकर के साथ भेजा था? तुझे शर्म नहीं आती? ये छोटी सी बच्ची तेरी पोती की उम्र की है और तू इसकी चूत को चोदने में लगा हुआ है! हरामी साले, तुझे नर्क में भी जगह नहीं मिलेगी. इधर मेरा हाथ उसकी जांघों से होता हुआ चूत पर पहुंच गया और मैंने उसके क्लिट को सहलाना शुरू कर दिया. उसके बाजू भी बहुत मजबूत थे और उसके बाइसेप्स का आकार भी काफी सुडौल था जिसमें कट पड़े हुए थे.