बीएफ मीनिंग इन हिंदी

छवि स्रोत,सामूहिक सेक्सी कहानी

तस्वीर का शीर्षक ,

हॉट बीपी सेक्सी वीडियो: बीएफ मीनिंग इन हिंदी, वह इतने सालों से मेरे लिए तड़प रहा है और आपको भी कई बार बोला मुझसे दोस्ती के लिए तो कुछ समय तो मुझे भी दीजिए उसे परखने के लिए!ऐसा तो हो नहीं सकता कि आज रात में मैं उसका लण्ड खाऊँ और कल मेरी गांड पर लात मार दे, मुझे मना कर के रण्डी घोषित कर दे.

अमरपाली दुबे का सेक्सी पिक्चर

अब समय था पूरा लंड अंदर तक डालने का; तो मैंने धीरे धीरे रफ्तार तेज कर दी और एकदम से जोर लगा कर अपना पूरा लन्ड उसकी चूत में डाल दिया. भोजपुरी सेक्सी गाना हॉटअब तक पहले वाले पैग का असर खत्म हो गया था और साली साहिबा को फिर से सर्दी ने घेर लिया था.

तो पिंकी ने हैंड टॉवल से चूत को साफ़ किया और रवि से कहा- आओ जान, अब तुम इसे फाड़ो. काजल अग्रवाल हीरोइन सेक्सी वीडियोमैंने सर से पूछा- क्या देख रहे हो सर?उनका बेख़ौफ़ जवाब मिला- तुम्हारे बूब्स.

अगर तू रेडी है तो बता?मेरी हालत ऐसी थी कि मैं कुछ सोच नहीं पा रही थी.बीएफ मीनिंग इन हिंदी: पास में खड़ी दिव्या ने भाई को नीचे से नंगा होकर मेरी चूत में लंड डालते हुए देखा तो वो भी अपनी जीन्स को निकाल कर अपनी चूत में उंगली करने लगी.

मैं घर की पिछली साइड से नीचे उतरा और भैसों के कमरे के पास सीढ़ी लगाई और मौनी के घर की छत के पास चढ़ गया.हां मगर मेरी चुत का भी ख्याल रखना और अनन्या को इस बात का पता नहीं लगना चाहिए कि मेरी तुम्हारी सैटिंग है.

सेक्सी पिक्चर भेजो चलने वाली - बीएफ मीनिंग इन हिंदी

सेक्स कहानी का हर शब्द उनके द्वारा ही लिखा गया है, मैं बस ये कहानी भेज रही हूँ.जो शीना की दिल की बात थी, उसकी ख्वाहिश थी मेरे लण्ड से चुदवाने की … वह तो अब बहुत ही अच्छे से पूरी हो रही थी और मेरे तो हर तरह से मजे ही मजे थे.

मेरे गहरे गले वाले कुरते से मेरे बड़े बड़े चूचे देख कर कोई भी फिसल जाता था, तो ये तो सर ही थे. बीएफ मीनिंग इन हिंदी तभी मैंने मॉम से कहा- पापा को भी कुछ नहीं पता चलेगा, आप मुझ पर भरोसा कर सकती हो.

अब आगे कालगर्ल सेक्स कहानी:मेरी चुत में उसके लंड का पानी टपका, तो मैं झट से उठी और बाथरूम से चुत की सफाई कर ली.

बीएफ मीनिंग इन हिंदी?

जब मोम पिघलने लगा तो मैंने उसकी छाती पर पिघलता मोम टपकाना शुरू कर दिया. वीर्य से सनी दादी की चूत साफ करके मालू ने दादी से पूछा- दादी मैं थोड़ी देर के लिए बगल वाले कमरे में जाऊं. मुझे महसूस हुआ कि मेरे लिंग को प्रीति ने अपनी योनि रस ने भिगो दिया था, जिसकी वजह से लिंग आसानी से अन्दर और बाहर हो पा रहा था.

और साथ ही मैंने योगेश की चड्डी नीचे की तरफ खींच कर उतार दी।अब मैं और योगेश पूरी तरह मादरजात नंगे थे।मैंने देखा कि आज योगेश का लंड नाग जैसा फुफकार रहा था।योगेश अब मेरी कमर को चूम रहा था।जब उसने अपनी जुबान मेरी नाभि में डाली तब मेरे मुंह से ‘आहह हहह अहह … उईई ईश्स … मर गई …’ इस तरह के सीत्कार फूटने लगे।योगेश ने अब मेरी कमर से नीचे मेरी जांघों के सबसे ऊपरी भाग को अच्छे से चूस चूस के काटना शुरू किया. हम लोगों का जीवन बड़ा सुखमय व्यतीत हो रहा था लेकिन चार साल पहले कुछ ही दिनों के अन्तराल पर हम दोनों के साथ अचानक घटी घटनाओं ने हम दोनों का जीवन छिन्न भिन्न कर दिया. वो- क्या … क्या कहा तुमने?शायरा अब चिल्लाते हुए मुझे मारने को दौड़ी और मैं भागा.

और करते भी क्यों नहीं … जब नशे में हों तो बात अपने आप निकलने लग जाती है. होटल में साकेत भैया ने दीदी की जाँघों पर हाथ डरते हुए उनकी बुर को अपनी उंगलियों से सहलाया था. मैंने अपनी उंगली से उसकी गांड में क्रीम डाल दी और आगे पीछे करने लगा.

अब उसकी स्पीड सच में तेज हो गयी थी और मुझे मेरी गांड में दर्द सा होने लगा था. यह सब करके उसने अपनी नाइटी भी उतार कर फैंक दी और पूरी तरह से नंगी हो गई.

उसने भी नशीली आंखों से मुझे देख कर कहा- आज तक मेरे बीएफ ने भी कभी मेरी बुर को नहीं चूसा था.

दोस्तो, इस पारिवारिक चुदाई की गन्दी स्टोरी के अगले भाग में चूत चुदाई का रस और भी ज्यादा छलकेगा.

मैंने जल्दी जल्दी में नाश्ता किया और अपने कमरे मैं ड्रेस चेंज करने लगा. ताजमहल की तरह बेदाग़ चुत थी उसकी … जिसको मैंने उंगलियों से खोलने की कोशिश की. कोई 15 मिनट तक उसनेमेरी गांड मारी, अब उसका लौड़ा झड़ने वाला हो गया था.

आज मैं आपको अपने जीवन की दास्तान बताने जा रहा हूँ, आशा है आपको पसंद आएगी और जो लोग अपने जीवन में कुछ नया करना चाहते हैं उन्हें कुछ जानकारी प्राप्त हो सकेगी. लेकिन गोपाल की स्थिति थोड़ी अलग है क्योंकि उसकी बेटी सीमा करीब 28 साल की हो गई है. उनके हाथ लगाते ही मेरा लंड और ज्यादा टाइट हो गया, लेकिन मैं इतनी जल्दी तो चूत में लंड डालने वाला नहीं था.

शायरा ने वैसे ही झूठमूठ का गुस्सा दिखाया था मगर रात को खाने के समय वो अपने आप ही मुझे बुलाने आ गयी.

रिचा की कुंवारी चुत को सहलाते सहलाते मैंने अपना पैंट निकालकर एक तरफ फैंक दिया. कभी अपने भतीजे या भांजे से फ़ोन पर सेक्सी बातें करती, कभी अपनी सहेलियों से बात करते समय उसके सामने अपनी चुत पसारे पड़ी रहती और वो मेरी बुर चाटता रहता. मैं अपने पति के गले में कुत्ते का पट्टा डाल कर अक्सर उसे घर में यहां वहां घुमाती और उसे बताती कि कुत्ते कैसे बैठते हैं.

सपना जोर जोर से चिल्लाने लगी- उन्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… सीसी सी सी सी मेरे मुंह में दे साले … मेरी चूत में नहीं जाना चाहिए था भोसड़ी के … उई मर गयी कुत्ते … मेरी चूत फट गयी आज!तभी अंशिका की भी चीखें निकल गयी. फिर जब कामवाली चली गई तो उसने दरवाजा बंद कर दिया और वो मेरी तरफ देखकर मुस्कराने लगी. फिर मैंने रूम की चाबी को डोर मैट के नीचे रख दिया और कागज पर एक मैसेज लिख कर छोड़ दिया- तुम्हें आज मेरे नियम मानने होंगे, चाबी मैट के नीचे है.

वंदना ने रूम बुकिंग के बारे में रेसेप्शननिस्ट से बात की तो बोली- आपका रूम नंबर 202 है और वो खुला ही है.

अब मैंने उसको घुमाया और उसकी पीठ को अपनी ओर करके उसकी ब्रा को खोलने लगा. इसके बाद धीरे धीरे पानी मामी की गांड से माल निकलता आ रहा था और मैं चाटता जा रहा था.

बीएफ मीनिंग इन हिंदी ”इतना कहकर भैया रुक गए। अब तो उनका सिकंदर जोर-जोर से उछलकूद मचाने लगा था।फिर क्या हुआ?” भाभी ने पूछा।अरे … होने को क्या था वहीं इच साली का गेम बजा डाला। बाप … क्या मस्त पूपड़ी थी अपुन को भोत मज़ा आया। उसने खुश होकर अपुन को पहनने को नए कपड़े दिए, एक हज़ार रुपया बी दिया और नाश्ता बी करवाया. अपनी वासना शांत करने के लिए मैंने …दोस्तो, मैं समिता, आज अन्तर्वासना के इस मशहूर पटल पर आपको अपनी माँ बेटा सेक्स की सच्ची कहानी बता रही हूँ.

बीएफ मीनिंग इन हिंदी फिर उसने अपना मोबाइल नम्बर भी मुझे दे दिया और हम लोगों की फोन पर भी बातचीत होने लगी. वो नंगी हो गई तो मैं कभी उसके मम्मों को चूसता … कभी प्यासी चूत में उंगली करता … कभी नीचे आकर उसकी चूत चाटता और उसकी चूत का स्वाद उसके होंठों को चूस कर उसे भी दिलाता.

इस सबका मजा लेते हुए मेरी बीवी शिल्पा मुझसे बात करते हुए इशारे से राहुल को मना कर रही थी.

बांग्ला बीएफ वीडियो दिखाओ

मेरा मन कर रहा था कि साले को मार मारकर चटनी बना दूं लेकिन अभी मैं कुछ नहीं कर सकता था. घर आकर मैंने वो दवाई सीधा शायरा को नहीं दी बल्कि मकान मालकिन को देना उचित समझा. मुझे किस करते करते कब उनका हाथ मेरे मम्मों पर चला गया था, मुझे पता नहीं चला.

मैं सोफिया के ऊपर चढ़ गया और उसके ऊपर लेटते हुए उसको किस करने लगा और मेरे लन्ड को उसकी चूत पर ठहरा दिया. फिर से मैंने लंड सैट किया और इस बार मैंने लंड के सुपारे को पहले भाभी की मखमल जैसी चुत की फांकों पर रगड़ा ताकि चुत का मुँह खुल जाए और धक्के मारने से सीधा अन्दर जा सके. वो बोली- फिर?मैंने कहा- शायद उनके लिए यह सब रोज का काम हो गया था, पर मुझे जितना भी पता था, वो सिर्फ सेक्स वीडियो देखकर ही जान पाया था.

मेरी नजरें चिपक गयी उसकी चूचियों पर।उसने अचानक मेरी तरफ देखा और वो समझ गयी कि मैं क्या देख रहा हूँ, वो मुस्कुरायी और अपने टॉप को थोड़ा खिसकाया और लिखने लगी।अब उसकी चूचियों का दीदार नहीं हो रहा था तो मेरी नजर उसकी गांड पर गयी।टाइट जीन्स पर उसकी गांड की गोलाई ने मेरे लंड को खड़ा कर दिया.

उस पूरे पीरियड उसने मुझे हचक कर चोदा और माल मेरी चुत में ही गिरा दिया. मां उनके दोस्तों को खाना खिलाने के लिए मुझे वहीं छोड़ कर रसोईघर में चली गई थी. बस अपनी स्पीड में चल रही थी और हम तीनों केबिन में अपनी मस्ती में थे.

उनके होंठ रस से भरे जैसे लग रहे थे … जैसे ये मेरे चूसने के लिए ही बने थे. इस अचानक हमले से उसकी तेज चीख निकल गई- उई मां मर गई … आह फट गई मेरी!उसकी चीख बता रही थी कि अभी तक उसने छोटे लंड ही लिए होंगे या बहुत टाइम बाद चुद रही होगी. करीब एक घंटे तक चले डिस्कशन के बाद डॉक्टर दीपाली ने सीमा को बाहर भेज दिया.

फिर तुम जानते हो ही आज कल लड़कों की लुल्ली को लंड में बदलने का ज़्यादा टाइम नहीं लगता. अब इस सेक्स कहानी का अंतिम भाग आपके अगली बार लिखूंगा … जिसमें शायरा मेरी हो जाएगी.

इस बार भाभी ने कोई एतराज नहीं जताया … तो मैं उनके मदमस्त मम्मों को सहलाने लगा. मैंने अपनी बाइक उसके घर के अन्दर खड़ी की और उसके पीछे पीछे अन्दर पहुंच गया. हालांकि हमारी स्लीपिंग बर्थ का कंपार्टमेंट बंद था, तो कोई भी हमें देख नहीं सकता था.

वो ट्राउज़र और टॉप पहने थी।मैंने उन्हें एक सेट दे दिया बनाने को और बैठ गया।वो सब बनाने लगी और मैं अपना पैर धीरे धीरे ऊपर ले जा रहा था.

रूम पर पहुंच कर वो मुझे डराते हुए बोला- यार वो बहुत गुस्सा हो रही थी. बस यह हम दोनों की आखिरी बातें थीं, कुछ ही समय बाद भाभी का स्टॉप आ गया था और वो मुझे अलविदा कहकर बस से उतर गईं. सभी बहुत गर्मजोशी से मिले … किसी के चेहरे पर कोई टेंशन नहीं थी, लड़कियां ज्यादा उछल रही थीं.

मैं और जोर से धक्के लगाने लगा- ये ले मेरी जान मेरा लंड खा!वो चुदते हुए खुशी में पता नहीं क्या बड़बड़ाए जा रही थी. वैसे भी मॉम को पता है कि मैं रात को पढ़ने उसके घर जाती हूँ … बस कल ही नहीं गई थी.

रामू बाम की शीशी लेकर आया और उसने आरिषा के पैरों पर बाम मलनी शुरू कर दी. मैं उस अहसास से आज बिल्कुल भी बाहर नहीं आना चाह रही थी कि तभी दरवाजे की घंटी बजी और आवाज आई. आपको मेरे बिस्तर में भाबी की गर्म जवानी कैसी लगी, कमेंट्स में जरूर लिखें.

इंग्लिश में सेक्सी डबल बीएफ

मैंने उसके दोनों कंधों पर काट लिया और वहां लव बाईट्स के निशान पड़ गए.

मैंने देखा कि विक्रम का लंड पैंट के बाहर से काफी बड़ा और पूरा फूला हुआ लग रहा था. ये दवाएं कुछ ऐसे हैं, जिन्हें मैं खुद किसी फार्मेसी स्टोर में जाकर नहीं माँग नहीं सकती हूँ. रंग से काली थी, मगर भरा-पूरा बदन देखकर लगता था कि बहुत लंड ले चुकी है.

वैसे दोनों के घर वालों को पता था और घर वालों के कहने पर ही दोनों का साथ में रहना तय हुआ था क्योंकि उसके मामा की लड़की गाँव से आकर नये शहर में अकेली कहाँ रहती।जब मुझे रोहित ने बताया कि उसने मेरी दीदी के यहाँ से कमरा खाली करके दूसरी जगह किराये पर कमरा ले लिया है तो मुझे बहुत बुरा लगा. इसी तरह कुछ देर मुझे प्रिंसिपल ऑफिस में ठोकने के बाद अभिषेक ने मुझे खिड़की से बाहर किया और खुद भी बाहर आ गया. सेक्सी वीडियो मशीन द्वाराइसलिए इस बार मैंने शायरा के मम्मों पर बस एक किस करके डाइरेक्ट चुत पर जाने की सोची.

मैंने चाची को पकड़ कर अपने नीचे लिया और मैं ऊपर चढ़ के ज़ोर ज़ोर से चाची को चोदने लगा. वो पूछने लगा- बता कहाँ लेगी मेरे रस को? चूत में या मुंह में?मैंने कहा- चूत में अपने रस डाल साले।वह चूत में अपना गर्म वीर्य डालने लगा और चोदता रहा.

हम दोनों की नजर एक दूसरे पर पड़ी और दोनों एक दूसरे को निहारते रह गये. एक बार फिर से वो मेरे होंठों पर टूट पड़ा और जोर जोर से मेरे रसीले होंठों को चूसने लगा. हम दोनों का मन करता था कुछ करने का … पर मिलने का मौका नहीं मिल रहा था.

उनकी नजर मेरी जांघों से होकर मेरी चूत को जैसे ढूंढने के मकसद से एक जगह जाकर टिक गयी. आखिरकार मेरे लण्ड से पिचकारियाँ निकली जो पहले मैंने संजना के मुख में कुछ छोड़ दी और कुछ पिचकारियाँ शीना के मुख में छोड़ दी. कुछ देर तक उसके हाथ की कोमलता को झेलने के बाद मेरा नियंत्रण छूट गया और मैं अपनी चड्डी में ही स्खलित हो गया.

मैं उसकी बुर को मस्ती से चूसने लगा और उसकी चूत के दाने को उंगली से कभी जीभ से टच करने लगा.

मगर अंकल मेरे हाथ हटाकर मेरे सीने को दबाने लगे। ब्रा के ऊपर से ही मेरी चूची के निप्पल चूसने की कोशिश करने लगे।आवेश में आकर अंकल ने मेरी ब्रा पकड़ के खींच दी जिसकी वजह से मेरी ब्रा टूट गई. इससे आंटी भी खुश रहने लगीं और उनके घर के सब लोग मेरा कुछ ज्यादा ही ध्यान रखने लगे.

बस 15-20 ज़ोरदार शॉट लगा कर मैंने कंडोम में पानी छोड़ दिया और न्यासा के ऊपर ही लेट गया. तभी दीदी ने आवाज लगाई- अर्णव हुआ क्या?मैं लड़खड़ाते हुई आवाज में बोला- हां दीदी हो गया. उसने उठ कर मुझे फिर से जैल पकड़ाई और फिर से घोड़ी बन कर अपनी गांड का मुँह मेरी ओर कर दिया.

नेहा की चुदाई करते समय उसकी बहन देविका खिड़की से झांक के देख रही थी, इस बात को हम दोनों जान गए थे. तब तक अगर परिवार वालों के साथ रही तो मम्मी, पापा भैया भाभी और हम सबके बच्चों को भी खतरा है. मैं घर चला गया और अपनी लाइफ में बिजी हो गया क्योंकि मैं कॉम्पटीशन की तैयारी कर रहा था.

बीएफ मीनिंग इन हिंदी दरअसल मेरी कोई अपनी सगी बहन नहीं है इसलिए सोनाली और मेरे बीच बहुत प्यार था. उन्होंने नजरों को झुकाते हुए बोला- मैं तो आपके लिए चाय लाने वाली थी, लेकिन आप बाथरूम से निकले, तो मैं अपने आपको रोक नहीं पाई.

सेक्सी बीएफ बढ़िया चुदाई

मैं- वैसे एक‌ बात कहूँ, बुरा मत मानना, तुम्हारा फिगर सच में ही कयामत है. उसने बस इतना ही किया कि मेरे दोनों निप्पलों को बारी-बारी से चूसने लगा. मैं बस उसकी नाभि को चूस रहा था और हाथों से उसके मम्मों को मसल रहा था.

मैंने फिर एक बार पूरा लन्ड निकला और एक झटके में ही पूरा अंदर डाल दिया।मीना- आह … मर गई … आह… धीरे कर … जान निकाल दी हरामी. मकान मालकिन- तो क्या हुआ? अब पढ़ना है तो इतना तो करना ही पड़ेगा! और घरवालों की याद किसको नहीं आती. सेक्सी फिल्म सपना कीएक दिन जब उसका फोन आया तो मैंने कहा कि जब मैं इशारा करूं तो मेरे घर आ जाये.

पर अचानक डॉक्टर ठहर गया और मेरी दोनों चूचियों को बारी-बारी से पीने लगा.

मैंने बोला- वही, जो आपको चाहिए है और उसी के लिए आप अपनी उंगली को परेशान कर रही थीं. मैंने मना किया तो बोलीं- क्यों डर लग रहा है क्या मुझसे?मैंने कहा- नहीं मामी, ऐसी कोई बात नहीं है … मैं आपके पास ही सो जाऊंगा.

मेरा मन मस्ती में झूम रहा था और बार बार अपने ख्यालों में मैं रिचा के रसीले होंठों को चूम रहा था. मेरी सहेलियो, आप अच्छे से जान लो कि अगर पति कब्ज़े में है, तो जिंदगी आपकी मुट्ठी में हैं. मेरे प्यारे दोस्तों को मेरे यानि मुन्ना की तरफ से मेरे खड़े लंड का सलाम.

मेरा मतलब पता नहीं शिल्पा कब से राहुल से चुदवा रही होगी … इसलिए अभी मेरे लिए सब देखना ही सही था.

इसके बाद धीरे धीरे पानी मामी की गांड से माल निकलता आ रहा था और मैं चाटता जा रहा था. मैंने मुक्के चलाये, उसको नौंचा, लेकिन उनके ऊपर कोई फर्क नहीं पड़ रहा था. मैंने फिर भी उससे कहा- ठीक है तुम बताओ, कौन सी दवा लेनी है?दोस्त की सिस्टर ने मुझसे बहुत रिक्वेस्ट करके बोला- मुझे बच्चा गिराने वाली मेडीसिन चाहिए.

कुंवारी लड़की की सेक्सी हिंदीभाभी रामू से बोलीं- रामू मुझसे नहीं रुका जा रहा है जल्दी से अपना लंड चुत के अन्दर डाल दो … मुझे नहीं पता, जो होगा देखा जाएगा. हम दोनों के मुँह पर मास्क होने के कारण और थोड़ा दूर बैठी होने के कारण मैं आई-कॉन्टेक्ट के माध्यम से बात करने की कला सीख गया था.

चाइनीस बीएफ चुदाई

मैं उसे चूमते हुए बोला- मेरी रानी बस इस बार बर्दाश्त कर लो … आगे से मजा ही मजा है. तब अभिषेक ने अपना लंड का टोपा मेरी गांड के छेद पर सैट किया और एक ज़ोर का झटका मारा. हालाँकि जब उन्होंने मुझे खींच कर ऊपर किया तो मैंने सोचा की अब उनसे बात करनी ही चाहिए.

एक मिनट बाद मैं पूरे जोश में अपना पूरा लंड धीमे से लंबे झटके मारते हुए घुसा रहा था और भाभी मजा लेते हुए अपनी कामुकता को कन्ट्रोल कर रही थीं. जब मैंने उनसे इस कहानी को अन्तर्वासना पर लिखने की बात कही, तो उन्होंने शर्माते हुए मुझे हां तो कह दी, लेकिन बोला कि उनका ओरिजिनल नाम इस्तेमाल ना करूं. मेरे लिए ये सब नया था लेकिन मजा आ रहा था। कहानी को अब आगे बढ़ाते हैं।सिनेमा हाल से निकल कर हम लोग रेस्टोरेंट गए, खाना खाया वापस घर आ गए.

मॉम ये बोल ही रही थीं कि अंकल ने बचा हुआ लंड भी मॉम के चूत में पेल दिया. थोड़ा रुक कर मैं उसके बदन को सहलाने लगा और उसकी चूची को अपने मुँह में लेकर उसका दर्द कम करने लगा. इस स्टाइल में मैं ज़ोर ज़ोर से शॉट मार रहा था, जिससे उसके चुचे ज़ोर ज़ोर आगे पीछे हो रहे थे.

वो लंड को पहले चुत के मुहाने तक खींचता था, फिर उसी तेज़ी से जड़ तक समाहित कर देता था. वहां पर मेरे परिवार में मेरे ससुर के छोटे भाई के बेटे यानि मेरे एक देवर की शादी थी.

हमारी बेटी ही थी, जिसकी वजह से हम दोनों एक दूसरे का साथ निभा रहे थे.

मैंने भी उसका हाथ निकालने की कोई कोशिश नहीं कि बल्कि अपनी सहमति दे दी. पापा बेटी सेक्सी वीडियोवो आंखें नचाते हुए मेरी तरफ देखने लगी, तो मैं उसके गाल खींच कर एक चिकोटी ले ली और कहा- ऐसे क्या देख रही हो … जल्दी से मुँह में ले लो. हिंदी बोलने वाली सेक्सी व्हिडिओफिर उन्होंने अपनी जांघों पर तेल लगाया और एक टांग को पलंग पर रखकर मालिश करने लगी. मुझे ये सीन काफी हॉट लगा, तो मैं खिड़की की आड़ में खड़ा होकर सास का हस्तमैथुन देखता रहा.

भाभी के मुँह से दबी सी आवाज निकली- आआ … आह्ह्ह ह्ह्ह्ह … उईईई माँआअ … मरर गई.

जब से मैंने तेरी चूत को मजा लिया है तब से तेरी दीदी को चोदते हुए भी मुझे तुम ही दिखाई देती हो. वह लंड पेलता हुआ बोला- बस सर जी, ऐसी ही ढीली किए रहें और कॉपरेट करें. और हाँ जनाब … फ़ोटो अपने हथियार की ही भेजना, दूसरे के हथियार से अपनी मर्दानगी साबित मत करना।चलो! आपको ज्यादा बोर नहीं करते हुए सीधा कहानी पर आती हूं.

उसकी खुशबू ने मुझे ऐसा मदहोश किया कि मैं पागल हो गया।अब मैं और नीचे आया और जैसे ही उसकी चड्डी उतारने लगा उसने मेरा हाथ पकड़ लिया।मैंने कहा- मेरा हक़ है। तुम नहीं रोकोगी मुझे!फिर मैंने चड्डी उतार दी और उसकी रसभरी चूत मेरे सामने थी. वो मेरी मॉम को भाभी कहते हैं और कभी कभी हल्का बहुत मजाक भी कर लेते हैं. मैंने उसकी चूत के लाल लाल दाने उसके जी स्पॉट और उसके अंदर तक सभी जगह अच्छी तरह चूसा.

बीएफ सेक्सी लड़कियों की सेक्सी

उसके बाद मैंने बाहर निकाल कर थोड़ा सा ऊपर करके अन्दर दबाया और तेजी से घुसा दिया. मुझे तो अब जैसे उसकी आदत सी हो गयी थी और शायरा तो अपने पति को ही भूल गयी. इस वक्त वो हल्के ब्लू कलर की साड़ी में आई थीं और वो एक स्लीबलैस ब्लाउज पहने हुई थीं.

वो फर्स्ट सेक्स के कारण चिल्लाने लगी तो मैंने उसके मुंह को दबा लिया.

सर मुझे समझाने लगे- बेबी … प्लीज़ पहली बार में थोड़ा होता है … थोड़ी देर रुको … फिर तुम्हें भी अच्छा लगेगा.

अब शायरा को कुछ लेना तो नहीं था मगर वो दोनों सेल्सगर्ल उसके पीछे ही पड़ गयी थीं. जब मैंने मामी के मुँह से लंड बाहर निकाला, तभी वो राहत की सांस ले पाईं. भोजपुरी सेक्सी डांस गानाएक दिन रात में मुझे नींद नहीं आ रही थी और मेरे बेड पर ही मेरे साथ और भाई लोग भी लेटे थे.

फिर अपनी किताब लेकर अहाते में आकर लेट जाता और उनकी पैंटी और ब्रा को खूब चाटता और अपने लंड पर रगड़ता रहता. उईई आह्ह्ह्ह पिता जी … अपना लंड डाल दो ना … अपनी बेटी की चूत में!” ज्योति ने इस बार अपने चूतडों को उछाल कर ज़ोर से सिसकारी भरते हुए सारी शर्म को त्याग दिया. लेकिन रात में भाभी के कमरे में जाना खतरे से खाली नहीं था क्योंकि मेरे पापा बहुत गुस्सैल किस्म के थे, उनसे मेरी बहुत फटती थी.

मेरी आँख अपने आप बंद हो गई। धीरे से उन्होंने मेरे ब्लाउज को मेरे जिस्म से अलग किया।मेरे दोनों बड़े बड़े दूध ब्रा के बाहर निकलने को बेताब थे. क्या आपने कभी भी बस में सेक्स किया है … क्या आपने किसी भाभी के साथ सेक्स किया है.

मैंने कहा- इतनी ऊंची ऊंची बातें कर रहे हो अपने घरवालों से कभी पूछा भी है.

मुझे किसी भी तरह अब अपनी चूत के लिए एक लौड़ा चाहिए था … मेरी चूत की आग मुझे रात दिन सोने नहीं दे रही थी. फिर बारी बारी से मेरी चूत चोदने के बाद वो मेरे मुंह के पास लौड़े लाकर खड़े हो गये. लगभग पांच मिनट लंड चूसने के बाद संजू उठी तो विक्रम उसके मुँह में जीभ डालकर चूसने लगा और उसने मेरी बीवी संजू को बेड पर प्यार से लिटा दिया.

कार्टून सेक्सी घोड़ा मुझे इतनी उत्तेजना हो गयी कि मेरा लंड फटने को हो गया और मैंने एकदम से वीर्य छोड़ दिया. संजू पीठ के बल बेड पर गिरी और विक्रम ने बिना एक पल की देर किए, संजू की पैंटी को उसके बदन से अलग कर दिया.

मुझे शायरा की‌ अब गोरी चिकनी नंगी गर्दन महसूस हो रही थीं मगर ना तो शायरा कुछ बोल रही थी और ना ही मैं कुछ बोल रहा था. ”अपने मन में फूट रहे लड्डुओं को सम्भालते हुए मैं मासूम बनकर बोला- ऐसा कैसे हो सकता है भाभी?हो सकता है, विजय. उन्होंने बताया कि मैं इस चुदाई में एक बार अंत में तुम्हारे साथ फिर से झड़ गई थी.

गांव की चुदाई सेक्सी बीएफ

बाहर दो ही कुर्सी थीं, दीपा वापिस मुड़ी एक और कुर्सी लाने तो वहाँ इतनी जगह ही नहीं थी कि तीन कुर्सी और टेबल पड़ सके. उसने बताया कि उसके हस्बैंड नहीं हैं, यही कोई आठ साल पहले उनकी डेथ हो गयी थी. सबसे पहले तो मैं रोहित को अपने साथ बाज़ार ले कर जाने लगा और हर रोज़ उसको उसकी पसंद की चॉकलेट दिला देता.

जैसे ही टोपा अंदर घुसा, आशा ने एकदम गांड ऊपर को उछाली और बोली- हाय साहब जी, जरा धीरे करो … बहुत मोटा है आपका लन्ड!मैंने फिर से एक धक्का मारा. थोड़ी देर में श्रेया का मैसेज आया- कहां हो तुम?मैंने कहा- लाइब्रेरी.

तो दीदी ने पहले तो मना कर दिया लेकिन जब मैंने दो-तीन बार कहा तो दीदी ने हाँ कर दिया और कहा- ठीक है, चली जाओ लेकिन जल्दी आ जाना।अगले दिन मैं जाने के लिए तैयार हो गयी.

उसी समय इत्तेफाक से एक फोन आ जाने के कारण मुझे कुछ जरूरी काम निकल आया. मैं वैसा ही कर रहा था, इसीलिए शायरा मुझे अपने दिल से किस कर रही थी. 5 इंच का लंड ही लिया था और वो भी पिछले 2 महीने से उसकी चुत के दर्शन नहीं कर पा रही थीं.

उसने बताया कि उसके हस्बैंड नहीं हैं, यही कोई आठ साल पहले उनकी डेथ हो गयी थी. उस एक डेढ़ महीने के अंतर में उनसे दो तीन बार और मिला और उनकी गांड को एन्जॉय किया. अब अगली बार इस कॉलेज लवर सेक्स कहानी में मैं आपको अनन्या की चुत चुदाई की कहानी का मजा दूंगी.

उसके बाद मैंने उनके दोनों स्तनों को एक साथ पकड़ा और दोनों निप्पलों को एक साथ चूसने की कोशिश करने लगा.

बीएफ मीनिंग इन हिंदी: मेरी मॉम ने मुँह खोल कर उस लड़के का लंड मुँह में ले लिया और उसका सारा माल निगल लिया. मकान मालिक अंकल दारू बहुत पीते थे और घर पर ज्यादा पैसा भी नहीं भेजते थे.

वो बहुत कहता रहा लेकिन मैंने नहीं चूसा।फ़िर रोहित ने मेरे पैरों को खोल दिया और मेरी चूत करीब से देखने लगा. मैं रोने लगी और वो मेरे होंठों को चूमते हुए मुझे सहलाने लगा और चुप करवाने लगा. कभी होंठों पर, कभी गाल पर, कभी कान पर, कभी गरदन पर … मैंने उसे बहुत चूमा … सच में बड़ा मज़ा आ रहा था.

जैसे-जैसे उंगली चूत को सहलाती जाती, वैसे-वैसे मैं मदहोशी के आलम में डूबने लगी.

कुछ देर बाद उसने मेरी टीशर्ट उतार दी और मेरी छाती को चूमने और चाटने लगी, फिर उसने मेरे लोअर को भी उतार दिया और मेरे कच्छे में हाथ डाल कर मेरे लन्ड को पकड़ लिया. मेरे चुदक्कड़ साथियो, आपको मेरी गर्लफ्रेंड Xxx कहानी कैसी लगी … अपनी राय से मुझे अवगत कराएं. उस अंधेरे में मैं देख सकती थी कि गांव के जवान लड़के मुझे घूर रहे थे.