हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो

छवि स्रोत,न्यू नकाब डिजाइन

तस्वीर का शीर्षक ,

भीगी भीगी सड़को पे में: हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो, ऐसे ही बातों बातों में आंटी ने बोला कि आज सिलेंडर खत्म हो गया और कल सुबह सुमन का पेपर है, चाय बनाने में समस्या होगी.

प्रेगनेंसी में नींद की गोली

अब तो ऐसा मन कर रहा था कि चाहे जो हो जाए, आज तो इसकी चूत को चोद ही दूँ. शराब कितनी पीना चाहिएजीजू का लंड पिस्टन की तरह मेरी चूत में भीतर बाहर भीतर बाहर हो रहा था.

नेट के पल्लू के अन्दर से मेरा ब्लाउज दिख रहा था, ब्लाउज भी गहरे गले का, पतले कपड़े का था, शायद ब्लाउज में से मेरे निप्पल का शेप भी शर्मा सर को दिख रहा होगा. पीरियड मिस होने के ७ दिन बादअगली सुबह आने से पहले हम साथ नहाये और उसको नहाते हुए मैंने रगड़ कर चोदा.

हम लोग सो चुके थे, तभी अचानक बाहर से कुछ अजीब सी आवाज सुनाई पड़ी तो हम लोग आवाज सुन कर बाहर आ गए.हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो: सवेरे वे जाने लगे, अपनी पैंट पहन ही रहे थे कि मैंने कहा- तबियत हो, तो एक बार फिर हो जाए.

ठंडी हवा में दोस्तो … चांदनी रात में चूत मारने का मजा ही अलग होता है.उसे इस बात के लिए तैयार कर लिया कि वो लंड घुसने के समय गांड का छल्ला न कसे.

हिंदी सेक्सी व्हिडीओ सेक्सी - हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो

मैंने मासूम बनते हुए कहा- ठीक है मम्मी, आप मेरे सामने ही योग सीख लिया करो.वो उसको लेकर चले गए और भाभी को बोल कर चले गए कि रोहन का ध्यान रखना.

मेरा मन बहुत कर रहा था कि इसको चोद दूँ, पर डर लग रहा था कि कहीं ये बुरा न मान जाए. हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो एक दिन मैंने खुद ने सोचा कि वो अपनी जगह सही हैं, उनकी भी इच्छा होना लाजिमी है क्योंकि वो भी एक औरत हैं … और सामाजिक डर के कारण घुट घुट कर जीने को मजबूर हैं.

आप प्लीज अपनी कहानी बताइये ना!अंकल बोलने लगे- अरे बेटा अभी रहने दो, फिर कभी देखते हैं.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो?

अब मैं अपना पूरा लंड उसकी चूत से बाहर निकाल लेता, फिर झटके से एक ही बार में पूरा घुसा देता. इससे भाभी तड़प उठी और कहने लगी- आपका लंड बहुत मोटा है … यह मेरे अन्दर नहीं जा सकता. उन्होंने मुझे बेड पर लुढ़का कर उल्टा कर दिया और मेरी अंडरवियर खींच दी.

मैंने अपने आपको रोका और जूली की तरफ देखते हुए बोला- तुम अपनी कमर को क्यों उचका रही हो?वो बड़ी ही साफगोई से बोली- मेरी चूत के अन्दर जहाँ-जहाँ खुजली हो रही है, तुम्हारे लंड से वहाँ-वहाँ खुजलाने का मन कर रहा है! कितनी मीठी होती है यार ये खुजली. मैं सुमन की चूत के ऊपर लंड रगड़ने लगा और निशाना लगाकर अन्दर दबाव बनाने लगा. तभी पटेल का दोस्त, जो मेरे सीने में टांगें फैलाए बैठा था, वह बोला- और तेज चाट बंध्या की चुत … जोर जोर से चाट इसकी चुत … अब यह गर्म हो रही है … दो चार मिनट में खुद चुदवाने के लिए बोलेगी.

मैं उसको चाय देकर जाने लगा तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरी तरफ प्यार से देखने लगी. मैं नवाज भाई को यह बता नहीं पाया कि उनसे गांड मराए दो महीने हुए हैं, उन्होंने मेरी कसके रगड़ दी थी. बोली- क्या सिर्फ देखते ही रहोगे या कुछ करोगे भी?फिर अपने मुख को उसकी चूत के पास ले जाकर मैंने अपनी जीभ से उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया और जीभ से उसकी चूत को चोदने लगा।वो अभी भी शरमा रही थी लेकिन मैं पागल हुआ जा रहा था। एक भरी-पूरी जवान लड़की मेरे सामने नंगी खड़ी थी। फिर ऊपर आकर मैंने उसके बोबों को चूसना शुरू कर दिया। उसे भी मजा आने लगा.

दो-तीन झटकों बाद मैंने लण्ड निकाल लिया।कुछ देर बाद जब हम लोग उठे और चादर को देखा तो उस पर खून लगा हुआ था। वो मुस्कुराने लगी और मुझसे चिपक गई।मैंने गुलाबो को अपनी बांहों में ले लिया, मैंने उसको किस किया और हसीं और जबरदस्त सेक्स के लिए ‘थैंक यू’ कहा. एक रात मैंने सपना देखा कि मैं निक के रूम पे बिल्कुल नंगी हूँ और उसका बड़ा लंड चूस रही हूँ.

सर ने मम्मी की चूत को चाटना नहीं छोड़ा, तो मम्मी ने सर से कहा- अब चोद भी डाल साले.

उसने मेरी कमर पर अपने दोनों हाथ लेकर मेरी गांड को अपने लण्ड पर दबाया जिससे मैं भी उसके लण्ड पर बैठने लगी.

अब मेरा लंड भी मीना की चूत के ऊपर था और कड़क हो चुका था!मैंने अपना अंडरवीयर उतार दिया और अब मैं और मीना एक दूसरे के जिस्म से चिपके हुए सम्भोग से पहले की कामक्रिया का आनंद ले रहे थे. पजामी की साइड से उसकी बड़ी सी गांड देखकर मेरा लंड पेंट में ही उफान मारने लगा. कुछ 7-8 मिनट तक ऐसे ही धीरे धीरे झटके मारने के बाद मम्मा ने कहा- आह मेरे राजा, अब तुम मेरी ओखली में अपने मूसल को जितनी तेज़ी से चाहो … ठोक सकते हो.

उसकी छाती ज्यादा मजबूत तो नहीं दिख रही थी लेकिन फिर भी अच्छी लग रही थी. अब वो कभी भी बाहर निकल सकती थीं, इसलिए मैं जाकर बाहर बरामदे में बैठ गया. दूध जैसी गोरी-चिट्टी, लाल-गुलाबी होंठ वाली वो अप्सरा शरमाते हुए और भी हसीन लग रही थी!मैंने उसके कान में कहा- तुम तो बेहद हसीं हो हो मेरी जान …धीरे से मैंने उसके चेहरे को ऊपर किया.

सोनल- दिशा, अब तुम्हारी बारी अपने मम्मे दबवाने की है, जा बैठ जा अपने जीजाजी के लौड़े पर.

तभी बाहर से सोनू हंसते हुए बोली- धीरे भैया … झंडा गाड़ना है … कोई पिलर नहीं … ही ही ही. उसने धीरे से कान में कहा- जुल्फी तुम्हारा टाइट हो गया ना?मैं भाभी की बात पर शर्मा गया, मैंने कहा- हां. अंदर जाकर वो पूछने लगी कि क्या इंपोर्टेंट बात है?मैंने हिम्मत जुटा कर सीधे ही उससे पूछ लिया कि तुम अपने बाथरूम में रात को क्या करती हो लाइट जला कर?यह बात सुन कर वो एकदम से शॉक हो गई.

वो भी मस्ती से मेरे कम को अपने जिस्म पर महसूस करने लगी अपनी मम्मों पर वीर्य को फैला कर मलने लगी. हर बार मेरा लिंग जैसे ही वसुन्धरा की योनि के दीर्घतम छोर को जाकर छूता, वसुन्धरा का मुंह भी इसी अनुपात में खुल जाता. जैसे ही मम्मी ने आंख खोली, मुझे देख कर उनके चेहरे का रंग उतर गया और वो अवाक हो गईं.

जानकारी हुई, तो मालूम हुआ कि वो मेरे घर से पास ही में रहते थे, तो मिलना आसान था.

उस समय मैंने देखा कि मेरा बाप कुछ ज़्यादा ही मेहरबान बना हुआ था क्योंकि मैं तब तक चुदाई के मामले में पूरी ट्रेंड हो चुकी थी तो मैंने उन पर नज़र रखनी शुरू की. मैं- सुन साली … तू अभी से मेरी रंडी है, तू आज अपने घुटनों के बल चलकर रूम तक आ.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो सुमेर और पारो हमारे पास आये तो सुमेर मुझसे बोला- भाई, तेरे में गजब का स्टैमिना है, सारी रात तुम गुलाबो को चोदते रहे और लगा ही नहीं कि यह तुम्हारी पहली चुदाई है. कभी कभी मुझे लगता है कि जो औरतें चुदाई में असंतुष्ट हैं, चुत की चुदाई की भूखी रह जाती हैं, मैं उनको चोद कर उनको आनन्द प्रदान करूं और थोड़ा पुण्य कमा लूँ.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो आखिर में शीतल भाभी ने कहा- तुमने तो मेरा पूरा जिस्म देख लिया, अब तुम भी तो अपने कपड़े उतारो. तभी बड़ी चाची यानि स्नेहा और मायरा की मम्मी ने मेरे पास आकर मेरे सर पर हाथ फेरा और कहा- तुम लोग बात करो, मैं तुम्हारे लिए कुछ लाती हूं.

पहली बार आज हाथ से लंड को पकड़े हुए थी, मैं बता नहीं सकती उस पल मुझे क्या फील हो रहा था.

புண்டையை காட்டு

फिर ताई ने अपने पेटीकोट से अपनी चूत को साफ किया औऱ ताऊ के लंड को साफ कर दिया. आंटी ने हंस कर कहा- आज कैसे दरवाज़ा खटखटा रहे हो, उस दिन तो सीधे अन्दर आ गए थे?उनकी ये बात सुनकर मुझे थोड़ी शर्मिंदगी सी महसूस हुई, मैंने उन्हें सॉरी कहा. करीब 9 बजे रात को मेरे घर के नंबर पर फोन बजा, घर के सारे फोन मैं ही उठाती थी क्योंकि मम्मी यह नहीं जान पाती थीं कि किसका फोन है.

सर ने लंड पर मम्मी के हाथ का टच महसूस किया तो वे भी मम्मी के दूध दबाते हुए बोले- अच्छा वो बात. मैंने उसके मोमे दबाये, चूचियों को चूसा और सारा की चुत में उंगली करने लगा. काफी देर एक दूसरे को चूमने के बाद उसने मेरी गांड को अपने दोनों हाथों में थामा और मेरी गांड हो थोड़ा ऊपर उठाया.

ये कह कर उसने कदम आगे बढ़ाया तो वो लड़खड़ा गई और उसके मुँह से निकला- आउच …मैं- क्या हुआ?रिया- मुझे कमर में दर्द हो रहा है … आउच … कमर की नस चढ़ गई शायद … मुझे बहुत दर्द हो रहा है.

भाभी का विरोध काम होता देख, मैंने उनके हाथ छोड़ दिए और दोनों हाथ से उनके बड़े बड़े तरबूजों को मसलने लगा, उनके होंठों को अपने होठों में लेकर चूसने लगा. मैं उसकी तरफ घूम गया तो उसने प्यार से मेरे दोनों निप्पल्स पर किस किया और कहा- जानेमन, कॉफी की क्या ज़रुरत थी, अपना लंड मुंह में डाल देते … मैं खुद ही उठ जाती!मैंने उसके चूचों के निप्पलों को अपने अंगूठे और उंगली से पकड़ कर भींच दिया और उसके होंठों पर एक लम्बा सा, गहरा सा चुम्बन दे दिया. निशा ने शिल्पा की तरफ मुँह कर रखा था और अपनी गांड को हल्के से पीछे कर रही थी.

उसके बाद मैंने उसके बालों को हटाया तो देखा कि उसकी कुर्ती के पीछे चेन लगी हुई थी. माँ और बाबा तो कहीं गए हुए थे पर घर पर बड़े भैया और आशा भाभी दरवाज़ा खुला छोड़ कर भूल गए और रसोई में ही चुदाई कर रहे थे. शुभी ने बताया कि उसका बॉयफ्रेंड भी श्वेता को चुदवाने के लिए बार-बार कहता रहता है.

जैसे ही पूरा लंड चुत के अन्दर गया, तो भाभी बोलीं- अब कुछ शांति हुई है मेरी इस साली को. मैंने पांच मिनट के बाद अपनी पूरी स्पीड बढ़ा दी और कुछ ही धक्कों के बाद उसके पैर कांपने लगे.

लेकिन फिर भी मैंने अपने लंड की सफाई को लगातार जारी रखा और लंड की पूरी तरह से साफ सफाई होने के बाद मैंने सरसों का तेल लगाकर अपने लंड की मालिश कि और उसे पूरा 8 इंच लंबा और 2. अभी 5-10 धक्के उसने और मारे कि उस झनझनाहट की लहर मेरी नाभि से उतरता हुआ योनि तक चला गया. वो ‘ह्हाआ ह्ह्ह ऊओह्ह ह्ह आअह ह्ह्ह्ह …’ की मादक आवाजें निकाली जा रही थी.

सुबह होने को थी और सब एक बिस्तर पर नंगे बदन गिर कर एक-दूसरे से लिपट कर सो गये.

हां इतना पता चला कि उसका आदमी अब वो मजा नहीं देता था, जो कभी दिया करता था. मैंने ठान लिया था कि कॉलेज में एक सुन्दर लड़की को ही अपनी गर्लफ्रेंड बनाऊंगा. निशा बोली- अभी नहीं, शिल्पा को अच्छे से सो जाने दो … अभी ऐसे ही काम चलाओ.

कहानी का पिछला भाग:तलाकशुदा माँ की अगन-3अगली सुबह जब मैं उठा तब मम्मी घर के काम कर रही थी और मैंने भी अपनी सामान्य दिनचर्या की और एक शॉवर लिया और कपड़े पहनकर लिविंग रूम में आ गया. ख्वाहिश तो पूजा की चूत मारने की थी मगर अभी तो पूजा की चूत उपलब्ध हो नहीं सकती थी.

फिर ताई ने अपने पेटीकोट से अपनी चूत को साफ किया औऱ ताऊ के लंड को साफ कर दिया. मैंने उससे कहा- क्यों नहीं, तुम मेरी सब से प्यारी सहेली हो तभी तो तुम्हें यह दिखाने के लिए यहाँ लाई हूँ. मैं- ले … और तेज!प्रिया- हां भैया और तेज तेज …मैं- मज़ा आ रहा है न मेरी बहन को चुदने में!प्रिया- हां भैया, बहुत मज़ा आ रहा है.

सेक्सी बिहार के सेक्सी

मैंने कहा- हाँ, बोलो?रोहन- आज जब एलेक्स और जॉन घर आये थे तो वो मुझसे कुछ पूछ रहे थे.

मैंने रिया की तरफ देखा और पूछा- चलें या कुछ और दिक्कत है?उसने कहा- अब चलो. अब मैं करवट लेकर अपनी बीवी की तरफ मुँह करके हो गया अपना दांया पैर पूजा की कमर के बाजू में रख दिया. मेरे घर के पास ही खुला मैदान है उसके आगे जंगल शुरू हो जाता है तो मोर्निंग वाक् पर जाने वाले लोग मेरे दरवाजे के सामने से ही होकर गुजरते हैं.

मैं उन लोगों की बातें तो नहीं सुन पाती थी क्योंकि मैं कुछ दूर पर खड़ी रहती थी और वो अपने ब्वॉयफ्रेंड से बात करती रहती थी. मैं सोचता था कि यदि मुझे ऐसी मशीन मिल गई तो मैं सबसे पहले अपने भूतकाल में जाकर अपनी मम्मा को पटाऊंगा और उन्हें बहुत मजे से चोदूंगा. डॉग सेक्सी गर्ल्सप्रिया सच में गजब की रांड लग रही थी खुले बाल, एकदम वाइट बॉडी और उसके दूध शानदार तरीके से उछल रहे थे.

हमारी एक और चुदाई हुई जिसमें मैंने उसकी अलग अलग पोजीशनों में चुदाई की. जब वो चल कर जा रही थीं, तो उनकी गांड एकदम ऐसे मटक रही थी, जैसे दो बॉल आपस में हिल रही हों.

अभी तो आपको बताया था कि वो पटाखा वाला सीन मेरी जिन्दगी में है ही नहीं. उसका मस्त गोरा बदन पूरा लाल हो चुका था, चुत पूरी सूज गई थी, मम्मों पर मेरे उंगली और दांत के निशान दिख रहे थे. वो मेरे जोर देने के कारण अपने मुँह में पूरा का पूरा लंड लेना सीख गई हैं.

अब मेरे पति ने अपने दोनों हाथों से मेरे चूतड़ फैलाकर पीछे से अपना तगड़ा लंड मेरी चुत में घुसाने लगे. जब मैं अपने लंड को अंदर डालने से रोक देता था तो सोनू नीचे से अपने चूतड़ उछालती थी और मुझे कहती- करो. प्लीज इसे बाहर निकाल लो … मुझे नहीं चुदना तुमसे! तुम बहुत जालिम हो! यह क्या लोहे की गर्म रॉड घुसा डाली है तुमने मुझ में! निकालो इसे … प्लीज बहुत दर्द हो रहा है … मैं दर्द से मर जाऊँगी … प्लीज निकालो इसे!और गुलाबो की से आँखों से आंसू की धारा बह निकली.

कुछ तो करो मालकिन, मेरा मन शांत नहीं हो रहा है, वर्ना मैं छत पर से कूद जाऊंगी!मैंने उसे झिड़कते हुए कहा- शांत हो जा पगली.

मैं बोला: यहां दरवाजे पर खड़ा होकर नहीं कर सकता, इंपोर्टेंट बात है. अगले दिन मैं सुबह ही नहा लिया और अपने लन पर से सारे बालों को अच्छे से साफ़ कर लिया.

उसने मुस्कुरा कर मेरी छाती में दोनों हाथ से हल्के हल्के मुक्के मारे. मैं बहुत जोर से चीखी और चिल्लाई- फट गई मेरी चुत … मार डाला रे बहुत दर्द हुआ …मुझसे अब दर्द बर्दाश्त नहीं हो रहा था. कुछ पल बाद मैं अपने मुँह में सरिता एक चुची लेकर चूसने लगा और एक हाथ से दूसरी चुची मसलने लगा.

मैंने उनकी एक नहीं सुनी और लंड चूत के छेद पर रख कर जोर का एक झटका दे दिया. चूंकि मुझे रोहन के दोस्तों के लंड से चूत चुदवानी थी तो थोड़ी वैक्सिंग भी करवानी थी, इसलिए रोहन ने भी बोल दिया कि मसाज ब्वॉय को बुला कर मैं अपनी बॉडी की मसाज और वैक्सिंग करवा लूँ. तो मैंने उसको अपनी बांहों में उठा कर बेड पे लिटा दिया और उसके दोनों हाथों को पकड़ कर उसके होंठों पर किस करने लग गया.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो तो दोस्तो, कमेंट्स में बताइये कि आपको कैसी लगी हमारी ये वर्जिन साली की बुर की कहानी?लेखक के आग्रह पर इमेल आईडी नहीं दिया जा रहा है. पूजा के चूचों को भींचते हुए उसकी चूत की गहराई अपने लंड से नापने लगा.

तमिल बीएफ वीडियो

यह घटना आज से लगभग आठ वर्ष पूर्व की है जब मैं पहली बार घर से जॉब करने राजस्थान के अलवर शहर में गया था. कहानी पर कमेंट्स और अपनी राय के लिए नीचे दिए गए मेल आई-डी पर मेल करें. मेरी कहानियाँ आपको पसंद आ रही हैं, इसका प्रमाण यह है कि आप मुझे अपने मेल भेज रहे हैं.

उसको नंगा देख कर मुझे ऐसा लग रहा था, जैसे जन्नत से कोई हूर उतर आई हो. फिर जब रानी के होश हवास दुरुस्त हुए तो वो मेरा मुंह चूम के धीमी आवाज़ में बोली- राजे, प्यार में चुदाई के बाद एक दूसरे को जीभ से चाट के सफाई करनी होती है. सपने में सुंदर लड़कियों को देखनावसुन्धरा अब पहले से ज्यादा सहज़ हो चुकी थी और अब वक़्त आ गया था कि एक मर्द, इक मर्द की तरह पेश आकर एक स्त्री के नारीत्व को संपूर्णता प्रदान करे.

उसने दो तीन कलर्स की ब्रा उठाईं और मुझसे पूछने लगी कि इनमें से कौन सी वाली अच्छी है.

जैसे जैसे मेरा लन अंदर बाहर हो रहा था वैसे वैसे मुझे आनंद आ रहा था और सरनी नीचे पड़ी बहुत कामुक आवाजें निकाल रही थी. सामने पम्मी आंटी साड़ी को घुटनों तक उठा कर अधलेटी सी पड़ी थीं और उनके प्यारे प्यारे दोनों दूध मुझे आकर चूस लेने का निमंत्रण दे रहे थे.

वह मेरे लंड को बाहर निकाल देना चाहती थी लेकिन मैंने ऐसा नहीं होने दिया. सुमेर और पारो हमारे पास आये तो सुमेर मुझसे बोला- भाई, तेरे में गजब का स्टैमिना है, सारी रात तुम गुलाबो को चोदते रहे और लगा ही नहीं कि यह तुम्हारी पहली चुदाई है. जैसे ही मैं गिरा और चीखा, मुनारा भाभी की आवाज़ आई- अरे रोहन क्या हुआ?मैं बोला- भाभी आकर मेरी हेल्प करो … मैं गिर गया हूँ.

प्लीज़ मुझे मां बना दो!अमर ने पिंकी का मुँह अपनी तरफ उठाया और उसके आंसू पौंछते हुए पिंकी को मां बनाने का वायदा कर दिया.

मैंने ऐसा थोड़ी ही देर ही किया था कि कल्पना भाभी अपना सर इधर उधर झटकने लगीं. वैसे तो मुझे ब्रा पहनने की जरूरत ही नहीं है, बिना ब्रा के ही मेरी चूचियां तन कर खड़ी रहती हैं. बैचलर डिग्री लेने के बाद मैंने अपने इन्टरेस्ट के चलते एक कोर्स ज्वाइन किया, जो दो साल का था.

राजस्थान की लड़कियों की सेक्सीनिशा- आअह ऊओह्ह ह्हह ऊओ ह्ह आआ ह्ह्ह और जोर से चाटो … आह जोर जोर से चाटो आहह!मैं जोर जोर से उसकी चूत के दाने को चाटने लगा. कुछ देर के बाद सुषी नॉर्मल हो गई और उसने मुझे बेड पर लेटा दिया और मेरे अंडरवियर पर किस करने लगी.

हिंदी बीएफ इंडिया

मैंने बोला- भाभी दे दे न!तो भाभी हंस कर बोलीं- क्या?मैंने बोला- चुत. कुछ देर के बाद उसको मजा आने लगा और वह अपनी गांड में आराम से मेरी उंगली को लेने लगी. मम्मी मुझे अब भी बच्चा समझ रही थीं जबकि मैं ही उनकी प्यासी और चुदासी चूत के लिए मनोज सर का लंड खोज कर लाया था.

मैं उसके विश्वास में बेफिक्र हो गई और अन्दर कमरे में, जहां चारपाई लगी थी, वहां आशीष और मैं पहुंच गए. वो धीरे धीरे नज़दीक आता गया और हम दोनों एक दूसरे को चूमने चाटने भी लग गये. मैंने उसे पूछना सही समझा- अमीषी तुम्हारी कोई बात … जो नहीं करनी हो?वो बोली- आज आप हर तरह से फ्री हो बाबू.

गुलाबो ने अपनी टांगें मेरे चूतड़ों से और बांहें मेरे कंधे पर लपेट दी थीं और अपने नितम्बों को ऊपर की ओर उठा दिया. मैं यह भी जानता था कि जब यह इतने सारे लड़कों के साथ गुल खिला चुकी है तो मेरे साथ करने में ज्यादा नखरे नहीं करेगी. इस स्टाइल में मैंने जब लंड को उनकी योनि पर रखा, तो लंड मोटा होने की वजह से उनकी योनि में ‘परर्रर्रर्रर …’ की आवाज के साथ घुस गया.

वो उठ कर मेरे उपर बैठ गई और अपनी दोनों टांगों को मेरी कमर पर लपेट लिया. दिशा मेरे पास आई और मैंने उसे अपनी गोद में उल्टा बैठाकर उसके मम्मे दबाने लगा.

अपने हाथ में मेरे लिंग का साइज़ अनुभव करते हुए उसका मुंह और आँखें यूं खुली हुई थी जैसे कोई न-काबिल-ए-यक़ीन चीज़ से दो-चार हो रही हो.

मेरी चाची ने सारे कपड़े उतारे हुए थे और वह मेरे भाई के लिंग से खेल रही थी. भूत वाला गानामेरी उंगली का सिरा तो योनि की दरार के ऊपरी हिस्से पर स्थित चने के दाने के साइज़ के भगनासे पर आ कर ठहर गया लेकिन वसुन्धरा के मुंह से जोर-जोर से कराहें … कराहें क्या एक तरह से चीखें निकलने लगी. बोरोलीन लगाने के फायदेइतने में सृजन भाभी ने अपने पर्स से 500 का नोट निकाला और मेरे पैसे भी दे दिए. वो उठ कर मेरे उपर बैठ गई और अपनी दोनों टांगों को मेरी कमर पर लपेट लिया.

मगर एक बार जब वह खुल जाती है तो उनके अंदर सेक्स की ऐसी ज्वाला भड़क जाती है जो मर्दों से कई गुना ज्यादा आग फेंकती है.

उसके बाद जैसे ही मैं पीछे मुड़ा, मैंने देखा कि वो खड़ी हो गई है, उसकी आँखों में एक अजीब सी प्यास थी, मानो वो मुझसे बोल रही हो कि विकास आओ और मुझमें समां जाओ. उसके बाद जब मैंने उसकी हालत पर ध्यान दिया तो मैं रुका, उसके पास गया। उसकी आँखों में आंसू थे, वो रो रही थी।मैं उसकी गांड में लण्ड डाले वैसे ही उससे सट कर उसके ऊपर लेटा रहा. मगर शरीर की चाहत के लिए कभी कभी मम्मा अपनी चूत में उंगली या मूली या गाजर डाल कर खुद को संतुष्ट कर लेती थीं.

मेरे पड़ोस में सुमन के पापा का ननिहाल था और वह उसी शहर से पढ़ाई कर रही थी. और मित्रो, होना भी यही चाहिए; कोई आपको अपनी जीवनसाथी के साथ यौन के आनन्द का भोग लगाने के लिए तैयार है तो उसे आपसे बस यही एक उम्मीद होती है कि आप उसकी वाइफ के साथ जो पल बितायें, उन्हें हसीन यादगार बना दें ना कि सेक्स के बाद उसे या उसकी वाइफ को ब्लैकमेल करें. फिर मैंने उसके पैर चौड़े किए और बीच मैं आकर अपने लंड को, जो इस समय फटने की स्थिति में आ चुका था … उसे उसकी सलवार के ऊपर से ही सही जगह लगाया और लंड का दवाब चूत पर डाल कर झटके मारने लगा.

बंगाली रंडी सेक्स

अब मैंने भी बेशर्म होने की सोची और खड़े खड़े ही स्कर्ट के अन्दर हाथ डालकर मेरी पैंटी उतारकर अंकल के हाथ में थमा दी. मैंने ध्यान रखा कि मेरा लण्ड मेरी नयी दुल्हन की चूत से बाहर न निकले. एक लम्बी और गहरी किस करने के बाद बोला- तुम बहुत सुन्दर हो और प्यारी भी हो.

दोस्तो, इस कहानी के प्रथम भागकच्ची कली मसल डाली-1में अब तक आपने पढ़ा मेरी और मेरे पड़ोस में रहने वाली एक कामवाली की जवान कमसिन लड़की मेरे साथ अकेली मेरे कमरे में है और हम दोनों नंगे हो गए थे.

मैंने उससे इस सम्बन्ध में लेकर काफी बातें की और आखिरी में इस बात को लेकर हम दोनों राजी थे कि हमारी बातें होती रहना चाहिए.

अब वे दोनों एक दूसरे के होंठों को फिर से चूसने चूमने लगे; दोनों ही अपनी अपनी लाज शर्म खो चुके थे. अब जब मैंने तुम्हे आधी नंगी देख ही लिया है तो अब तुम शर्म छोड़ कर मुझे प्यार करने दो. मूवी सेक्सी फिल्म हिंदी मेंमैंने सोचा कि क्यों न मामा के साथ मिलकर एक-दूसरे का लंड हिलाया जाए.

आप मुझे मेरी ईमेल आइडी पर मैसेज करके मुझसे सम्पर्क कर सकते हैं … मैं सभी का रिप्लाई देता हूँ. उसकी चीख निकलने से पहले ही मेरे मुँह के ढक्कन ने उसकी चीख को दबा दिया. हम दोनों एक दूसरे से तब अलग हुए, जब दोनों एक एक बार झड़ गए हालांकि मम्मा मुझसे जल्दी झड़ गई थीं लेकिन मज़ा दोनों को पूरा आया.

उसने भी मुझे और मेरे खड़े लंड को देखा और शरमा कर मुझसे दोबारा लिपट गयी. मेरी इस बात से वो चौंक गयी और उसने कहा- तुम ऊपर आए थे?मैंने कहा- हां मैं ऊपर आया था और जब देखा कि कोई नहीं है, तो नीचे आ कर बैठ गया.

लेकिन मेरे अन्दर भी सिर्फ आजीविका के बारे में सोचना जैसी सोच से अलग है, ये मुझे बाद में पता चला.

जैसे ही उन्होंने पानी खत्म किया, मैं उन्हें जाने का बोल कर बाहर के कमरे की तरफ जाने लगा. मैंने कहा- मेरा पहली बार है, इसलिए मैं तुमसे बिल्कुल अकेले में मिलना चाह रहा हूँ. वो पूछने लगी- आंटी कब आएंगी वापस?मेरा जवाब सुनकर उसने एक-दो बात इधर-उधर की ही की और फिर वो अपने घर चली गई.

न्यू पंजाबी सेक्सी फिल्म मैं उन्हें किस और स्मूच करता रहा और उनकी नंगी पीठ कमर पर अपने हाथ चलाता रहा. इस इन्सेस्ट कहानी के पहले भागतलाकशुदा माँ की अगन-1में आपने पढ़ा कि कैसे मैंने अपनी माँ और भी को सेक्स करते पकड़ा.

वो लोग बाहर चली गईं, जाते-जाते बोली कि गेट अन्दर से खुला रहेगा, हम दरवाजे पर ही बैठे हैं. आशीष बोला- बंध्या, तुम्हारी सील पहले से टूटी है, आज तो चुत की सील टूटने से निकलने वाला खून तो निकला नहीं … कहीं से भी एक भी बूंद नहीं टपकी. हम दोनों ने इस पूरी चुदाई के दौरान पोजीशन बदल-बदल कर सेक्स का मजा लिया था.

सेक्सी बीएफ देहाती माल

अपने लंड में बहुत सारा तेल लगा कर मेरी गांड के छेद में लंड का सुपारा सैट कर दिया. तो जागृति मेम ने मुझे ऑफर दिया- तुम मुझे गर्लफ्रेंड समझ कर कुछ करना चाहो, तो कर सकते हो, मैं मना नहीं करूंगी. इससे सरिता जोर से चिल्ला दी और ‘आह हां हाय ऊंई ऊंई हं हं …’ करने लगी.

आशीष बोला- बंध्या, आज पहली बार मैं तेरी बहुत ही मस्त चुत की चुदाई करने वाला हूं, तू भी आज पहली बार मेरे से चुदवाएगी. एक दिन हम दोनों कॉलेज से आ रहे थे तो मैंने हिम्मत की और फूलों की दुकान के पास गाड़ी रोक कर एक गुलाब का फूल ले आया.

बिना बात किये सिर्फ इशारे पर चुदाई करना और रतिक्रीड़ा करना एक अलग ही अहसास देता है.

तब उसने कहा- यार मगर उसे यह ना बताना कि तुमने मुझे भी ये सब देखने को दी थी. मैं मन ही मन खुश होने लगा कि आज तो बहन की चुदाई करने को मिलेगी और मेरी बहन शादी में नहीं गयी. उसके यार हमेशा उसके घर के आस पास इस उम्मीद में घूमते थे कि ना जाने कब उनकी बारी आ जाए.

मेरे सारे दोस्त मर्द दोस्त मुझे सेक्सी माल, चिकना माल, चालू, मस्त, सेक्सी मम्मे, सेक्सी गांड, आईटम गर्ल आदि अलग अलग नाम से बुलाते हैं. अगर तुम अपने दोस्त के साथ मेरी बात करवा सकते हो तो बताओ?मुझे इस वक्त उसके साथ बहस करना ठीक नहीं लगा. हाय दोस्तो, मैं प्रतिभा, चुदाई की कहानियां आपको बहुत पसंद है, मैं इस बात को भली भांति जानती हूँ.

हालांकि मेरी चूत कुँवारी तो नहीं थी पर उसका लंड काफी लंबा और मोटा था, तकरीबन 7 इंच का और 2.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो: मैं पहली बार उन्हें देख रही थी, कोई भी पहली बार देखे, तो इम्प्रेस हो जाये ऐसी उनकी पर्सनालिटी थी. वो हंस कर बोलीं- हम्म … मतलब अब बड़ा हो गया है तू!मैंने पूछा- कैसे जाना भाभी!भाभी बोलीं- तेरी सब शरारत समझती हूँ.

मैं बेड पर लेट गया और चादर को ओढ़ लिया, मैंने मिनी को भी बगल में लेटने का बोला. परंतु आज मेरी वजह से उनकी जिंदगी में थोड़ी बहुत खुशियां लौट आई थीं और मेरे लिए यह फक्र की बात थी कि मैं उनकी खुशियों का कारण बन सका था. एक दिन मैं ऐसे ही स्पा सेंटर पर अकेला था, तो मुझे एक कस्टमर की कॉल आयी और मसाज के लिए घर आने का आर्डर दिया गया.

उसने मेरी बात मानी और लिंग पर थूक मल कर चिकना किया और फिर पहले की भांति लिंग घुसाने का प्रयास करने लगा.

शाम को उपिंदर ने मुझसे कहा- परसों डैडी का जन्मदिन है, अपनी बहन और मम्मी को जालंधर बुला ले. उसने पहले तो मना किया, पर मेरे बहुत ज़ोर डालने पर वो मान गई, शायद उसके अन्दर भी मिलन की आग जल रही थी. आह-आह करते हुए मैं खलास हो गया और नंगा ही मैंने दरवाजा खोल दिया और अपनी चड्डी पकड़ाते हुए कहा- लो जान ये मेरा माल तुम्हारे लिये है.