देसी चुदाई बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,कामसूत्र सेक्स फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

তেলুগু সেক্স: देसी चुदाई बीएफ वीडियो, उसे रोकेगा कौन?वो मान गई और हम काफी रात तक एक-दूसरे के साथ बात करते रहे और ये सोचते रहे कि कब हम दोनों एक-दूसरे के करीब होंगे।क्योंकि आज की इस घटना के बाद न मैं ही अपने आप को रोक सकता था.

कर्नाटक सेक्सी कर्नाटक सेक्सी

और काफ़ी लड़के मुझे बहुत उल्टा-सीधा बोलते रहते थे। लेकिन पता नहीं क्यों ये सब मुझे अच्छा लगता था।उसी समय कॉलेज की एक लड़की ने मुझे बताया कि जिस लड़के को मैं पसंद करती हूँ. दिल्ली की सेक्सी हिंदीएक से भले दो और बातचीत करते रास्ता कट जाएगा।मैंने उसे अपनी बाईक पर पीछे बिठा लिया और शहर की तरफ चल पड़ा। बातचीत करते हुए मैंने उसके बारे में.

’‘फिर यह सुन कर शीला वहाँ से शर्मा कर भाग गई।’मित्रो, इसके बाद जो कुछ हुआ वो सब आप समझ सकते हैं तब भी मैं इसका विस्तृत विवरण भी लिखना चाहता हूँ। आप सभी अपने ईमेल भेजिएगा. सेक्सी कैटरीना कीथोड़ी देर बाद मैं काजल के कमरे की तरफ गया लेकिन उसने अन्दर से लॉक किया हुआ था।वैसे वो हमेशा बिना लॉक किए ही सोती थी.

तो मैं नेट पर लाइव मैच देखने लगा।पाक खेल चुकी थी और इंडिया लक्ष्य का पीछा करते हुए 2 विकट खो चुका था। ये बात मैंने अपने दोस्त को बताई- इंडिया की 2 विकट हो गई हैं यार.देसी चुदाई बीएफ वीडियो: जैसे मुझे तुमसे प्यार हो गया और तुम्हें पा लेना चाहता हूँ।उन्होंने बड़े प्यार से मेरे होंठों को चूम लिया।उनके होंठों का अपने होंठों पर स्पर्श मिलते ही मैंने उन्हें कस कर पकड़ लिया और मेरी आँखें बंद हो गईं।उन्होंने अपने होंठ मेरे होंठों से अलग किए.

जिससे सपना को कुछ राहत मिली।तभी मैंने अपना लंड बाहर निकाले बिना पूरा खींचकर पूरी ताक़त के साथ दुबारा पेल दिया.इसी लिए मैं पहले से मालिश करते आ रही हूँ।मैंने उनके मुँह से लण्ड शब्द सुना तो मैं उनकी चुदास को समझ गया और मैंने कहा- हाँ ठीक है न माँ.

सुहागरात की पहली चुदाई - देसी चुदाई बीएफ वीडियो

और पिछले 10 दिन से मेरे शेर ने कुछ खाया नहीं था। उस कमरे में मेरे और उसके सिवा कोई नहीं था.शायद उसे गर्मी सी लगी और फिर अन्दर कर लिया।अब उसका चेहरा और थोड़ा सा हाथ रज़ाई से बाहर आ गया था।मैंने उसके हाथ को कवर करने की सोची। तभी मुझे याद आया कि अब भी वो नशे में होगी। मैं एक बार उसके दूध छू लेता हूँ।मैंने उठ कर देखा कि दीवान पर मम्मी और भाई सो रहे थे.

को पकड़ कर कुछ आगे किया और फ्री कर ली। मेरा कहने का मतलब मैंने अपनी कमीज को कुछ आगे की तरफ करके लूज सी की ताकि कुछ हवा अन्दर जा सके और इससे मुझे कुछ आराम भी मिला।मुझे पता नहीं चला कि मेरी क़मीज़ का गला काफ़ी आगे बढ़ गया है और मेरे पसीने में भीगे मस्त मम्मे. देसी चुदाई बीएफ वीडियो जो गर्लफ्रेंड बना पाऊँ।मैं सोच रहा था कि आज बहुत अच्छा मौका है भाभी को पटाने का.

जो वो लगातार नोटिस कर रही थी।उसने कहा- देखो तुम मेरे बहुत अच्छे फ्रेंड हो.

देसी चुदाई बीएफ वीडियो?

मैं वहीं आती हूँ।’संतोष ने जल्दी से एक चादर लेकर चौकी पर डाल दी।मैं धीमे-धीमे चलते हुए चौकी पर लेटने से पहले अपने टॉप को निकाल कर केवल ब्रा और स्कर्ट में लेट गई। मेरी ब्रा में कसी चूचियों को देख कर संतोष एकटक मुझे देखने लगा।‘क्या देख रहे हो संतोष. उसने देर ना करते हुए मेरी चूत पर अपना लंड रखा और एक ही झटके में पूरा 7 इंच का मुस्टंडा लंड मेरी चूत में पेल दिया।जैसे ही लंड मेरी चूत में गया. एक लम्बा समूच किया और केक काटने लगे।ऐसा लग रहा था जैसे हमें सारे जहाँ की खुशियाँ मिल गई हों।मैं बहुत खुश था… ऐसा जन्मदिन सबके नसीब में थोड़े ही होता है और न ही हर किसी को ऐसा हम-सफ़र मिलता है।मेरी तो नजर आज उसकी खूबसूरती से हट ही नहीं रही थी।हमने केक के एक टुकड़े को अपने होंठों में दोनों तरफ से लिया और खाने लगे.

मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया, उसने भी मेरा पूरा साथ दिया।फिर क्या था. साली इतनी क्यूट थी कि सभी लड़के उसे सिर्फ़ एक बार देखने के लिए मेरे मामा के घर के चक्कर लगाते थे।मैं जब भी वहाँ जाता. मुझे भाभी के मुँह से ये सब बातें सुन कर और जोश आ रहा था और मैं और ज़ोर-ज़ोर से भाभी की चूत में उंगली करने लगा और साथ में उनकी चूत को चाट करके पूरा गीला कर चुका था.

अगले भाग में मिलते हैं। अपने ईमेल जरूर भेजिएगा।कहानी जारी है।[emailprotected]. फिर आधा लंड मुँह में लेकर अन्दर बाहर करने लगी।‘रीता लगता है जीजा जी से बहुत सीखा है?’‘अरे एक दिन मैंने जीजा जी-जीजी को चुदाई करते देख लिया और जीजा जी को पता लग गया. वो अपनी कोचिंग क्लास गई हुई थी।मुझे जल्दी आया देखकर माँ ने पूछा- आज इतनी जल्दी कैसे आ गया?मैंने कहा- हमारे कॉलेज में एक फंक्शन हो रहा था.

दोनों थोड़ी देर तक ऐसे ही बात करने लगे। फिर से उन दोनों ने एक बार चुदाई की।ये थी मेरी वास्तविक आँखों देखी घटना आपको कैसी लगी प्लीज़ अपने कमेंट्स मुझे मेरी मेल पर भेजिएगा।[emailprotected]. और इतने में थोड़ी देर बाद प्रीत आई और उसने मौसा-मौसी को नमस्ते किया।पर मेरी नजर उसके चेहरे पर थी और जब भी मुझे देखती तो शर्मा कर नजर नीचे कर लेती।प्रीत बोली- आंटी आज मेरा जन्मदिन है और यश मेरे यहाँ ही खाना खा लेगा.

मैं सीधा लेटता हूँ और तुम मुझ पर आकर घुटनों को नीचे करके मेरे लण्ड पर बैठ जाओ और मेरे लण्ड को अपनी चूत में पूरा ले लो और फिर ऊपर-नीचे होकर मुझे चोदो।फिर नीलम ने ऐसा ही किया। शुरू में तो वो डिसबैलेंस हो गई.

मैंने धीरे से उसके साइड में आए हुए लंड पर हल्के से हाथ रखा और दबाकर देखा।हाय, क्या लंड था.

आपकी मैडम के कितने कॉल्स आए थे।मैं हँस दिया और मोबाइल पकड़ कर वेब हिस्ट्री चैक की. उसके चेहरे पर एक ज़हरीली मुस्कान छाई हुई थी, वो जो चाहता था वो उसने पा लिया था।काफ़ी देर तक पार्टी चलती रही. ओअओ अओअ अओअओ अओअ होहोहोह ओह्ह्होहहो…इसी के साथ उसके अंग में तेज थिरकन होने लगी और वो एकदम से झड़ गई, मैं उसका पूरा का पूरा पानी पी गया।अब मैंने अपने कपड़े भी उतार दिए और मेरा 7 इंच का लण्ड देख कर वो हैरान रह गई। मैंने उसे लण्ड चूसने को बोला.

तब बुआ अपने बच्चों को पिक्चर देखने या फिर चाचा के घर खेलने भेज देती थीं।उस दिन भी पूजा बुआ ने अपने बच्चों को पिक्चर देखने भेज दिया।जब मैं बुआ के घर पर गया. मुझे थकान महसूस हो रही थी इसलिए मैं भी नाश्ता करके और संतोष को काम समझा कर बेडरूम में आराम करने चली गई।घर में मेरे और संतोष के सिवा कोई भी नहीं था. तो मुझे एकदम से झटका लगा। मेरे बैग में मैडम के घर की किताब मिली। मैं उसे भूल ही गया था.

अब ये तीन लंगूर भी यहीं हैं इनका कुछ इंतजाम करके दोनों साथ में साली की ठुकाई करेंगे।अर्जुन- वाह.

और काफ़ी लाइट्स लगी थीं।मुझे तो उन्होंने बिस्तर पर पटक दिया और इस दौरान मेरी साड़ी जाँघों तक आ गई थी।वो बोले- तुम्हारा स्क्रीन टेस्ट कैमरा के सामने होगा।मैं बोली- मैं तैयार हूँ. बहुत मार पड़ी थी यार। मैं बचपन से ही बड़ा मनचला रहा हूँ।चलो ये सब बाद में. उसका नाम हिना था और वो एक स्पोर्ट की खिलाड़ी थी। हम दोनों अक्सर बातें करते रहते थे, मैं उसे चाहने लगा था.

तो वहाँ से उस लड़के ने आवाज़ लगाई- वहाँ से क्या देख रही हो मैडम, इधर आ जाओ. ?मैं बोला- मैंने आपको डैड के साथ कई बार सेक्स का मज़ा लेते हुए देखा है. तो एक खासियत भी देता है। दोस्तो, बताना चाहूँगा कि भगवान ने मुझे लण्ड मस्त दिया है.

बहुत मज़ा आ रहा है सर जी।अपना मज़ा और बढ़ाने के लिए मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाला और बिस्तर से उतर गया। मुझे पता था कि वो घोड़ी नहीं बनेगी.

लड़की पागल सी हो गई और रवि के हाथ अपने चूचों पर रखते हुए उसे फिर से अपने ऊपर खींच लिया औऱ उसका लंड अपनी चूत में ले लिया।रवि भी पूरे जोश में था. मुझे और चाहिए।मैंने ऋतु से पूछा- तुझे लंड देखकर डर नहीं लगा?तो ऋतु बोली- क्यों आज पहली बार देख रही हूँ क्या.

देसी चुदाई बीएफ वीडियो फिर थोड़ी देर बाद पूरे हाथों से उसके गले को सहलाता रहा।मैंने आँखें तिरछी करके देखा. तो सन्नी ने पायल को अपने साथ आने को कहा और वो उसके साथ जाने को मान गई।सन्नी ने टोनी को इशारा कर दिया कि वो पायल को लेकर जा रहा है.

देसी चुदाई बीएफ वीडियो इसकी मोटाई से ही अहसास हो रहा था कि आज मेरी बहन को इसे झेलना भारी पड़ेगा. पर रोज की तरह सुबह जल्दी उठ भी गए।सुबह माँ भी जल्दी उठीं।अब माँ की तबियत कुछ ठीक लग रही थी, मैं सुबह फिर हगने गया.

’मैंने अब आहिस्ता-आहिस्ता झटके मारने शुरू कर दिए।आंटी ने कस के मुझे गले से लगा लिया। अब उनको भी बहुत मज़ा आ रहा था। आंटी की चूत बहुत सॉफ्ट थी.

सेक्सी वीडियो बीएफ खचाखच

मैं नाश्ता लगा रही हूँ।उस समय उसने ग्रे कलर की साड़ी पहनी हुई थी और वो उस समय भी बहुत गजब की लग रही थी। लेकिन मैंने खुद को काबू में रखा और फ्रेश होने के लिए बाथरूम में चला गया। फ्रेश होने के बाद हम लोगों ने साथ-साथ नाश्ता किया और फिर आया मेरे वापस आने का समय।अब जूही ने मुझको एक विजिटिंग कार्ड दिया और कहा- इस पते पर चले जाओ. खुद उस पर सवार हुआ और फिर से उसकी चूत में लौड़ा ठोक दिया।वो समझ ही नहीं पाई कि अचानक ये क्या हो गया।एनी- अरे यू क्रेजी. आख़िर मैं भी पिछले 3-4 महीनों से चुदाई के लिए तड़प रही थी।मैं उनके लंड पर कूदने लगी.

तुम साइट्स देखने के लिए तैयार रहना!वो मुस्कुराई और मैं दादी से मिलने चला गया। हमारी दादी हमारे पास ही रहती हैं और मेरा बहुत ख्याल रखती हैं। दादी किसी काम के लिए मुझे बुला रही थीं।मुझे ऑफिस जाना था. उसके हाथ में जाते ही वो छोटी सी चीज़ दोगुने आकार की हो गई और मेरी गर्लफ्रेण्ड मेरी तरफ देख कर बोली- बाबू तुम आज मुझे जाने दो. मैं उनके पीछे से ही उनके मम्मों को दबाने लगा।भाभी थोड़ा मना करने लगीं और अपने आप को मुझसे छुड़ाने लगीं। फिर मुझे धक्का देकर अलग कर दिया.

जिसके कारण उसके पैर में चोट आ गई। मैं दीदी को तुरंत टैक्सी में ले कर घर वापस आ गया। जब लौटा तो देखा माँ घर पर नहीं थीं।मैंने फ़ोन करके पूछा.

पर उसकी चारपाई छोटी होने की वजह से सही स्पीड या तालमेल नहीं बन रहा था।वो समझ गया और बोला- तुम नीचे लेट जाओ. तो उन्होंने मौका देख रसोई में मुझे पकड़ लिया और अपना लौड़ा पजामे से निकाल मुझे पकड़ा दिया। मेरे हाथ का स्पर्श पाते ही उनका लौड़ा तन गया। इससे पहले कि मैं कुछ बोल पाती. आंटी ने मुझसे कहा- आज तुम यहाँ ही रह लो।मैंने कहा- आप मम्मी को फोन करके बता दें।आंटी ने मम्मी को फोन किया और बताया- वीर को आज मेरे पास रहने दें.

वो ये भी समझती है कि मुझे भी कॉलेज में लड़कियों के साथ घूमना पसंद है. जिनको पढ़कर मेरा भी दिल अपनी आप बीती लिखने का किया और मैं हाजिर हूँ अपनी कहानी के साथ।जब मैं 18 साल का हुआ था. जब मैं 12वीं की पढ़ाई कर रहा था और हॉस्टल में रहता था और तब मेरी पहचान कोमल (बदला हुआ नाम) से हुई। कोमल एक भरपूर माल किस्म की गदराई हुई लड़की थी.

मैं गांव की तरफ जा रहा था तो देखा एक जवान लड़का पास की झाड़ियों में पेशाब कर रहा था. मैं और भी मस्ती में चुदाई में मशगूल हो गया था।भाभी इतने लगी शायद वो झड़ने की स्थिति में आ चुकी थी।फिर अचानक मैंने भी स्पीड बढ़ा दी और झड़ गया।झड़ने के बाद मेरा मन अन्दर से बुरे अहसास से भर गया कि यह मैंने क्या कर दिया।किसी भी इन्सान पर हवस और बुरी नजर या कामवासना सर पर चढ़ जाती है.

पर दोस्तो, इतना डिटेल में इसलिए लिखा कि आप इस कहानी के साथ अपने आपको जोड़ सकें। यहाँ मौजूद सभी लड़के यह जानते हैं कि किसी लड़की को सेक्स के लिए तैयार करने में कितना टाइम लगता है. मैं दिल्ली का अरुण एक बार फिर से आप सभी के लौड़ों में जान डालने और लड़कियों की चूतों से पानी निकालने के लिए आप सभी के सामने अपनी एक और बिल्कुल नई कहानी लिखने जा रहा हूँ।दोस्तो, कहानी की नायिका मेरी गर्लफ्रेंड शाज़िया है. उसमें एक लाल रंग की साड़ी पहने हुए एक औरत मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी।उसने इशारे से मुझे अपनी कार में आने का निमंत्रण दिया.

इससे जी हटा दो। दूसरी बात… मुझे गांड मारने का शौक है। मनीषा इसके लिये तैयार नहीं होती इसीलिये मनीषा के सामने लंड खड़ा नहीं होता।मैंने कहा- बस.

एक ही चुदाई में रंडी बनने को तैयार है?मैं- नहीं यार ऐसी कोई बात नहीं है. तो वो मुझे लेने आया था। मैं उसके साथ उसके कमरे पर चली गई।उसके कमरे पर जाकर देखा तो केबल एक ही बिस्तर था। उसने बोला- पूर्वा तुम थक गई होगी. तो उसने मुझे अन्डरवियर भी उतारने का इशारा किया। मैंने देर न करते हुए अपनी अन्डरवियर भी उतार दी।जब मेरा लण्ड बाहर आया.

मैं उसके शरीर की गर्मी महसूस कर सकता था।करीब दस मिनट तक मैं उसे चूमता रहा। अब मैंने अपने दाएं हाथ से उसके एक मम्मे को पकड़ लिया। उसने मेरा हाथ हटा दिया. मुझे लग रहा था कि मैं अंकल को खुद में समा लूं।इधर मेरे हाथ मेरी बुर और मम्मों के अंगूरों पर तेज़ी से थिरक रही थी.

अब मुझसे भी नहीं रहा जाता।’मैं तुरंत उठ कर उसकी टाँगों के बीच में आ गया. हम शाम तक वापस आ जाएंगे!मेरे मन में तो रिया की बुर और चूची नंगे दिखने लगे।दोस्तो, मामा-मामी के चले जाने के बाद मैं दरवाजा बंद करके अन्दर आ गया।मैंने रिया को देखा. मम्मे दबा रहा था।उसने अब दूसरा मम्मा मेरे मुँह में ठूंस दिया।जब तुम औरत का एक स्तन चूसते हो तो वो दूसरा स्तन अपने आप चूसने के लिए दे देती है।उसके हाथ मेरे बालों में घूम रहे थे, अब मैं उसके पेट पर किस करता हुआ नीचे पैंटी पर आ गया।पैंटी के ऊपर से उसकी महक को सूँघ रहा था.

बीएफ सकेसी

मैंने तुम्हारा जैसा बहुत लड़का लोग को केवल 5 मिनट में ठंडा करके यहाँ से वापस भेज दिया है.

मैं उदास हो गया।ऐसे ही एक साल बीत गया, कभी-कभी हमारी बात होती रहती थी।एक दिन मैं मार्केट जा रहा था जहाँ बस स्टैंड होकर जाया जाता है. क्यों शर्मा रही हो?मैं- पहली बार किसी मर्द के सामने में इस तरह आई हूँ।भाई ने कहा- शर्मा ना. पर उन्होंने उसे चूसा नहीं। एक मिनट में ही भाभी की चूत ने पानी छोड़ दिया.

फ़िर थोड़ी देर बाद वो भी अपनी गाण्ड उठा-उठा कर चुदवाने लगी।उसकी चूत इतनी गीली थी कि धक्कों से ‘फ़क. तो मुझे यह भी देखना है कि मेरी कहानी आप लोगों को कितनी पसंद आती है। मुझे इन्तज़ार रहेगा आपके जवाब का।अगर आपको लगे कि यह कहानी आगे बढ़े. सेक्स ऐप डाउनलोडपता नहीं कैसे!फिर उसने मेरा लोवर और पैन्टी भी उतार दी, अब मैं उसके सामना पूरी नंगी पड़ी थी।फिर मैंने कहा- तुम भी अपने कपड़े उतार दो।तो उसने भी अपने कपड़े उतार दिए।उसका लंड 7.

ब्रा भी निकाल कर फेंक दी और मैं काजल के मम्मों पर मानो टूट पड़ा।मैं उसके एक मम्मे को चाटने लगा और दूसरे चूचे को हथेली में भर कर मसलने लगा। कुछ देर तक ऐसा करने के बाद मैंने उसकी पैन्टी को उतार कर उसकी कुँवारी चूत के अन्दर अपनी जीभ डाल दी और उसकी चूत को कुत्ते की तरह चाटने लगा. अपनी आज की इस हरकत के बारे में सोचने लगा।मैंने अपने आपको कभी भी ‘गे’ नहीं माना.

फिर मैंने दूध पिया और काजल गिलास लेकर अपने काम में बिज़ी हो गई।मैं कॉलेज चला गया।यह स्टोरी बहुत लम्बी है. लेकिन किचन की लाइट से मुझसे सब साफ़-साफ़ दिख रहा था।सपन ने बोला- आजा किसी का डर नहीं है मेरी जान. मुझे भी आज पहली बार इतना मज़ा आ रहा था। मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी पूरे कमरे में हमारी आवाजें गूंज रही थीं।नीलम को चोदते हुए मैंने नीलम से पूछा- मज़ा आया मेरी जान?तो वो बोली- हाँ राजा.

मैं अब धीरे-धीरे लण्ड को अन्दर-बाहर करने लगा।चुदाई ने अपनी ताल और चाल तय कर ली थी और उधर मानो सोनी ने अपनी मस्त आवाजों ‘आह्ह्ह्ह. वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी।अब मैं आगे बढ़ते हुए अपना एक हाथ उसके दूध पर ले गया और उसे दबाने लगा और किस भी करता रहा। दस मिनट तक चूमने के बाद उसने बोला- चलो बेडरूम में चलते हैं।मुझे क्या एतराज़ था. कि वो तो पूरी गीली है।मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ डाल दी।वो ‘आआ आआआ आआह्ह्ह.

पर तभी उसने मुझे देख लिया और अपना दुपट्टा ठीक कर लिया।मैं भी डर गया था।उस दिन के बाद मैं बस उसके निप्पल के बारे में ही सोचता रहता था कि कैसे मैं बस एक बार उसे चूस सकूँ।उसके नए और भरे-भरे शरीर को उसके पुराने कपड़े ठीक से नहीं ढंक पा रहे थे। उसके बड़े-बड़े मम्मे चुस्त होते कपड़ों में एकदम दब से जाते और उसके सूट के गहरे गले से बाहर झाँकने लगे थे। उसकी वो बल खाती कमर की कटिंग.

अब वो पूरी नंगी संगमरमर की मूर्ति तरह लग रही थी।मैंने उसके चूचे चूसना शुरू किए। फिर मैंने उसकी चूत की वो चटाई की. पर मैं फिर भी उतना अच्छे से नहीं लिख पाता हूँ।कुछ लोग झूठी स्टोरी को भी इस तरह लिख देंगे कि वो पूरी रियल ही लगने लगती है।अब ज्यादा टाइम ना लेते हुए.

तब जब रात में मेरे मामा जिन्हें घर में सब गब्बू मामा कह कर बुलाते थे. जिससे उसकी गाण्ड पूरी उघड़ी हुई दिख रही थी। उस समय उसने काली जीन्स पहनी हुई थी।यह देखते ही मेरा लण्ड खड़ा हो गया और मैं उसके नजदीक चला गया। मैं अपना मुँह उसकी गाण्ड से 2 इंच दूरी पर रख कर सूँघने लगा, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।फिर मैंने अपना मोबाइल निकाला और उसकी गाण्ड की पिक ले ली. मैंने फिर से एक और झटका लगाया तो इस बार लौड़े का टोपा ही अन्दर गया था कि वो एकदम से उछल गई.

तो उसने मुझे नम्बर दे दिया।फिर मैं वहाँ से चला आया।इसके बाद कभी-कभी मैं उसे कॉल भी कर लेता था।एक दिन मैंने फिर से उसे अपने दिल की बात बताई. जब आपका पार्ट्नर धक्के मारे तो हल्की मादक आवाज़ निकालें और उसको सहयोग दें. इसी लिए उसने समझदारी से काम लिया और सीधी रॉनी के पास गई और चक्कर आने का बहाना बना कर उसको बाहर ले गई.

देसी चुदाई बीएफ वीडियो वो रूम एक बहुत ही आलीशान रूम था। एक बहुत बड़ा गोल बिस्तर लगा हुआ था. आंटी- कैसी गर्लफ्रेंड चाहिए तुझे?मैं समझ गया कि आंटी के बोलने का क्या मतलब है।मैं बोला- आंटी आपके जैसी.

बीएफ भेज दिया

लड़की ने टांगें थोड़ी फैला दी जिससे रवि बिल्कुल उसकी छाती पर लेट गया. तभी उस दिन का प्लान फ्लॉप हो गया, सब मेहनत पानी में चली गई।मेरा दोस्त बहुत गुस्सा हुआ, मैं भी गुस्सा था. क्योंकि उस समय कोई गयारह बज रहे थे।दरवाजा बंद करके वापस आया और साली को बाँहों में भरकर चूमने लगा, उसने भी मुझे कसके पकड़ लिया.

उसका उसके पति की साथ तलाक का मुकदमा चल रहा था। उसके एक बेटा 19 साल और बेटी 16 साल की थी. मैंने देखा तकिया पूरी तरह से भीग गया था, उनका सफ़ेद और गाढ़ा रस मेरी योनि से बह कर बाहर आने लगा. મોમ સેક્સक्योंकि एक तो सीआईएसएफ़ वाला आ रहा था ऊपर से उसकी बहन को भी सब पता लग गया था।‘तो भाभी आपने ऋतु से क्या कहा कि सब तो बहुत पहले से चल रहा है।’‘अरे पागल जिस तरह तेरी गाण्ड फटे जा रही है.

केवल ब्रा पर साड़ी लपेटी थी। क्या सेक्सी माल लग रही थी।उसने पूछा- क्या देख रहे हो?मैंने कहा- दीदी आप बहुत सुन्दर लग रही हो।वो शर्मा गई।मैंने पूछा- आप ब्लाउज पहनना तो भूल ही गई हो।तो उसने कहा- मुझे मालूम है.

पर मुझे इतना दर्द नहीं हो रहा था।वैसे भी मुझको इतनी चुदाई की तो आदत ही थी। वो सो गई और मैं भी लेट कर अपनी चूत सहलाते हुए चुदाई के इस मजे को सोचने लगी।सुबह हमारी ट्रेन 11 बजे स्टेशन पर पहुँचना थी. इतने में वो मेरे होंठों पर अपने होंठों को रखते हुए बोलीं- अब तुम्हें रोज़ मुझे वही आनन्द देना होगा.

वो भी नीचे से गांड उठा-उठा कर झटके मार रही थी।उसके मुँह से ‘आह्हह्ह. हालांकि तब मुझे पता नहीं था कि मेरा लण्ड खड़ा क्यों होता है।एक दिन मैं मेरी पूजा बुआ के घर काम के लिए गया था। मेरे चाचा ने मुझे पूजा बुआ के घर उनके पैसे देने के लिए भेजा था। मैं हमेशा देखता था कि पूजा बुआ की सहेली का भाई राकेश अक्सर एक दिन के लिए आता है। जब भी पूजा बुआ की सहेली का भाई राकेश उनके घर आता. बस ये सब देख रहा था।दोस्तो, मुझे इस कहानी को लिखने में बहुत मजा आ रहा है और इसके अगले हिस्से में मैं वो लिखना चाहता हूँ जो वास्तविक मुलाक़ात करने में होता है.

दोस्तो, मेरा नाम रोहित है और यह मेरी सच्ची कहानी है, मैं पहली बार लिख रहा हूँ.

आख़िर मैं भी पिछले 3-4 महीनों से चुदाई के लिए तड़प रही थी।मैं उनके लंड पर कूदने लगी. हमारे घर से कुछ ही दूर पर मेरे मामाजी का घर था। उनके घर में मामा-मामी और उनके एक लड़का जो दसवीं में है. और नीचे से दो उंगली से उसके जी-स्पॉट को नीचे से ऊपर की ओर रगड़ रहा था।वो इतनी अधिक जंगली सी हो उठी थी कि जैसे मेरे सर के बाल नोंच ही लेगी। फिर अचानक से उसने अकड़ते हुए अपना पानी निकाल दिया.

लड़कियां हस्तमैथुन कैसे करती हैपर अब इस मदहोशी के लम्हे में हमने रुकना ठीक नहीं समझा और दूसरे दौर में मैंने उसकी चूत पर वैसलीन लगाई और अपना लौड़ा उसकी चूत पर लगाकर थोड़ा सा धकेला. मैं तो एकदम से तड़फ़ उठी।उसको चूम लिया तो भाई ने बोला- ये सब क्या चल रहा है?मैंने कुछ नहीं बोला और उठ कर उसका लंड लपक कर अपने मुँह में ले लिया।भाई तो ये देख कर दंग रह गया और बोला- चल आज तुझे मैं असली चुदाई का मज़ा देता हूँ।फिर भाई ने मेरे सारे कपड़े उतार कर फेंक दिए।मैंने भी भाई के सारे कपड़े उतार दिए, अब हम लोग एक-दूसरे में खो गए।भाई ने मेरी चूत चाटना शुरू कर दिया.

बीएफ सेक्सी चाइना वीडियो

वो बोले- क्या आप देहरादून जा रहे हैं?मेरे ‘हाँ’ कहने पर वो बोले- यह मेरी साली है. लेकिन एक शख्स था जिसके बारे में अक्सर सोच सोच कर मैं मुट्ठ मारा करता था और वो थे मेरे ताऊ जी के लड़के संदीप. मैं धीरे-धीरे उसका हाथ सहलाने लगा, उसको यहाँ-वहाँ टच करने लगा।ममता- क्या करते हो.

माँ मेरे लण्ड की तेल से मालिश करती थीं।भाभी के आने के बाद कई बार मैं भाभी के साथ भी जाता था। कई बार भाभी ने भी मेरे लण्ड की मालिश की है। भाभी भी मुझे अपने पास ही हगने के लिए बिठाती थीं।अब जब मैं बड़ा होने लगा. उसका ‘इतना’ लंबा और इतना मोटा है।कोमल ने हाथ के इशारे से टोनी को लौड़े के बारे में बताया।टोनी तो बस कोमल को देखता ही रह गया. तुम जैसे घटिया आदमी के फ्लैट में मुझे रहना पड़ रहा है।सन्नी- अबे साले.

जिसको मेरी ही तरह एक जवान लड़के से पहली नज़र में ही प्यार हो गया और वो भी उसके सपने देखने लगा. और उन लम्बी टाँगों के आखरी छोर पर 36 के आकार के दो मचलते गोले फिट थे. पर मैं वहाँ से निकल गई और कार में बैठ कर घर वापस आ गई।आज भी जब सोचती हूँ तो यकीन नहीं आता कि वो मैं ही थी। इतनी डेरिंग और इतनी स्टूपिडली मेरे अलावा कोई और नहीं कर सकता.

जो उसे मिला।अब मैं आपको आगे की कहानी बताती हूँ।उस रात उसने मेरी चूत का जम कर बाजा बजाया और मैं भी खुलकर उसका साथ देकर खूब चुदी. और ये सब देखकर भी अंजान भी रही।’ पवन तुम ठीक सोचते थे कि ऋतु को जब पता लग गया है।अब पवन की गाण्ड भी फटने लगी.

मैंने अपनी बीच वाली उंगली को उसकी चूत की दरार पर सैट किया और हल्का सा दबाव देकर उसकी चूत की दरार में उंगली फिट कर दी।मेघा ने जांघें और कस कर भींच लीं। अब तक हम मेन रोड पर आ गए थे। अपनी उंगली उसकी चूत की दरार पर दबाते हुए मैंने कहा- मेघा मुझे कार के गेयर भी बदलने हैं.

बाकी बातें शॉपिंग के बाद करेंगे।जैसे ही दोनों अन्दर गए अर्जुन की नज़र पायल पर गई उसकी क़ातिल जवानी देख कर अर्जुन का लौड़ा एकदम से तन कर खड़ा हो गया और उसके मुँह से आह निकल गई।सन्नी- क्या हुआ तुम्हें?अर्जुन- अब क्या बताऊँ यार. करीना कपूर के साथ सेक्सऔर फिर ट्रेन चली गई।ये सब देख कर मेरा दोस्त विनोद मुझसे बोला- साले. लड़कियां बाथरूम मेंतो उसने उतार दीं और बिस्तर पर आराम से बैठ गई।मैं भी उसके बगल में बैठ गया और उससे बातें करने लगा।बातों ही बातों में मैंने बोला- अपना हाथ दिखाओ. तुम्हें पूरी तरह से ओपन देखना चाह रहा हूँ।वो- तो फ़ोटो भेजूँ?मैं- हाँ डार्लिंग.

पूरे बिस्तर पर खून लग गया था।कुछ देर चुदवाने के बाद वो भी जोश में आ गई.

मुझे तो पहले ही आपकी नियत पर शक हो गया था कि आपके मन में भी मेरे लिए कुछ काला है।सन्नी- अब ये काला-पीला तो मैं जानता नहीं. प्लीज मेरी प्यास बुझा दो।मैंने भी बिना टाइम लगाए उसकी चूत पर लंड रख दिया।उसने डरते हुए कहा- बाबू. मुझे ऐसा लग रहा था। मैं सिर्फ और सिर्फ उसके बारे में ही सोचने लगा कि कैसे इसे अपने प्यारे लंड से चोदूँ।मैं दूसरे दिन कॉलेज नहीं गया, मैंने घर में कहा- आज मेरा जाने का मन नहीं है।पिताजी ने कहा- ठीक है.

इतने में मैं भी पानी लेकर आ गई।मैंने देखा कि मास्टर ज़ी का लण्ड 100 तोपों की सलामी दे रहा था और वो जोश में आ चुके थे।मेरे होश उड़ गए कि अब क्या होगा. फिर भी मैं सो गई। शाम के 4 बजे मेरी नींद खुली तो मैंने देखा कि रोहित भयंकर दर्द से बुरी तरह तड़प रहे हैं और वो पोटी भी नहीं कर पा रहे हैं। मैंने हॉट वॉटर से उनकी गाण्ड की 3 दिनों तक खूब सिकाई की और दवा लगाई. तो उसका हाथ और पैर मेरे शरीर से खिसक गए और वो भी जाग गया।हमारी नजरें मिलीं.

गर्ल डॉग बीएफ

लण्ड पर लगी मूत की कुछ बूँदें भी भाभी चाट रही थीं।मेरा गाँव का देशी लण्ड भाभी के मुँह में पूरा जा ही नहीं रहा था. वो मैं आपको अगले भाग में पूरा किस्सा ब्यान करूँगा।[emailprotected]. क्योंकि उसको पता था चूत चटवाने से उसकी उत्तेजना बढ़ जाएगी और वो जल्दी झड़ जाएगी.

समलैंगिक यानि गांड मारना और मरवाना बुरी बात है!लेकिन दोस्तों मैं आपको बता दूँ कि जैसे आप लोग लड़की की हर चीज को देखकर उसे पसंद करते हो.

अन्दर उसने ब्रा भी नहीं पहनी थी जिससे उसके 30″ के चूचे साफ दिखाई दे रहे थे.

आयशा के मम्मों को सहलाने लगी और टॉप के ऊपर से ही उसके निप्पलों को चूसने लगी. ’ निकल रही थी, वो मस्त होकर अपनी चूत चुसवा रही थी।मैं भी अपनी जीभ से उसकी चूत में अन्दर तक चाटता. गावठी झवाझवीमैंने एक ही धक्के के साथ अपने पूरे लण्ड को उसकी चूत में जड़ तक घुसा दिया।थोड़ी देर रुकने के साथ ऊपर-नीचे करना शुरू किया।कुछ देर दर्द से बिलबिलाने के बाद वो भी अपनी कमर हिलाकर मेरा साथ देने लगी।करीब दस मिनट के इस खेल के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया।उस रात मैंने उसे तीन बार चोदा। अब जब भी मौका मिलता है.

मेरे घर में सभी काफी हंसमुख स्वभाव के हैं ख़ास तौर पर मेरे डैडी और मेरी बहन बहुत ही हंसमुख हैं. फिर रुक गया और दूसरे बोबे पर हाथ रख कर उसको दबाने लगा।अभी मैंने चूचा दबाना शुरू ही किया था कि वो जाग गई. मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी और वो फिर छूट गई। उसकी चूत ने ढेर सारा पानी बाहर निकाल दिया.

’मैंने जोर-जोर 2-3 झटके और लगा दिए मेरा पूरा लन्ड पूजा की बुर में जड़ तक चला गया।पूजा की आँखें लाल हो गईं. मचल रही थी और मुझे अपने अन्दर समाने की कोशिश कर रही थी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !पसीने में तर-बतर हम एक-दूसरे में खोये हुए थे और प्यार के उस अथाह समुंदर में गोते लगा रहे थे.

नेहा की शादी नहीं हुई है अभी इसलिए वो हर रोज़ अपनी तड़पती चूत लेकर सो जाती है।एक दिन नेहा की मुझे काल आई.

आज तेरी कुतिया से भी बुरी चुदाई करूँगा।कुछ देर तक अपना लौड़ा मुझसे चुसवाने के बाद बाद वो मेरे मुँह में ही झड़ गए।फिर उन्होंने मेरे चूचे चूसने शुरू कर दिए और 20 मिनट बाद उनका लंड फिर तन गया। अब उन्होंने मुझे घोड़ी बनाकर मेरी चूत में अपना मूसल लौड़ा पेल दिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !उनका लंड मेरी चूत में नहीं जा पा रहा था. मैं आपका बदन पोंछ कर पाउडर लगा दूँ?उनकी मौन मुस्कराहट देख कर मैंने उनके बदन पर से तौलिया को सामने से खोल दिया और उनके नंगे जिस्म को एक छोटी तौलिया से मस्ती से रगड़ कर पोंछना शुरू किया। पहले गर्दन. पता नहीं उस लड़की ने मेरे पास वाली सीट पर आने से इन्कार भी नहीं किया और उसके चेहरे पर एक प्यारी सी मुस्कान भी आ गई।मुझे समझ में नहीं आया कि वो क्या चाहती थी.

मारवाड़ी नंगी कल छुट्टी है हम दोनों की और मेरी मनपसंद मूवी आ रही है… प्लीज देखने दो ना. अधिक देर तक सहना उसके बर्दाश्त के बाहर हो गया तो उसने पैन्ट निकाल दी और बिस्तर पर आकर टेक लगा कर बैठ गया।सन्नी- एनी तुम दोनों की चुदाई देख कर मेरा लण्ड भी जोश में आ गया। अब इसको चूस कर थोड़ा आराम दे दे।एनी- आह्ह.

उसका आधार कार्ड बनाते समय मैं उसका हाथ पकड़े रहा और उसकी तरफ देखता रहा।क्या गर्मी थी उसके हाथों में. ये तुमने क्या किया?मैंने बड़ा गर्व अनुभव करते हुए कहा- किस किया और क्या?परी- इसे किस करना कहते हैं?मैं- और क्या?परी- लगता है तुमने आज तक कुछ भी नहीं सीखा. हम दोनों ने भरपूर सेक्स किया।दोस्तो, आपको मेरी कहानी कैसी लगी प्लीज जरूर बताइएगा। ये मेरी सच्ची कहानी है.

हनुमान की बीएफ

फिर सविता भाभी तालाब से बाहर निकल गई तो मैं भी नंगा ही बाहर आ गया और ऐसे ही खड़ा हो गया।भाभी ने मेरे लंड को देखकर कहा- आज इसने मेरी तन की आग बुझाई. कहीं यह तो नहीं कह रहे हो कि मैं चुदने चली गई थी। आप तो मेरी चूत देखकर बता देते हो कि चुदी है या नहीं. अब मैंने झुक कर उसके होंठों पर चुम्बन करना शुरू कर दिया और एक हाथ से उसके मम्मों को दबाने लगा। साथ ही मैं अपने लण्ड को अन्दर-बाहर भी कर रहा था.

अभी किसी मॉडल से कम नहीं हो।’ अकरम अंकल ने अम्मी के गोरे सफ़ेद जिस्म को चूमते हुए कहा था।‘हा. वो भी अब तक काफी खुल चुकी थी।मेरी रिवॉल्विंग चेयर के पास आ कर खड़ी हो गई।मैंने अपना सीधा हाथ उसके चूतड़ों पर रखा और हल्के से दबाते हुऐ अपनी तरफ खींच लिया.

उसने साफ़ मना कर दिया और रोने लगी।थोड़ी देर बाद चुप हुई तो मैंने कहा- सिर्फ़ छूना ही है.

तुझे बस उसको छू कर मज़े लेने को कहा था तूने उसकी चूत में उंगली कर दी और उसको पकड़ भी लिया।टोनी- अरे बॉस उस टाइम मेरे को कंट्रोल ही नहीं हुआ. पहली बार में ही ‘मैंने लंड मुँह में दे दिया…’ अक्सर भारतीय लड़कियां आसानी से लंड चूसती नहीं हैं।मैंने लौड़े पर थूकने के बाद उसकी चिकनी चूत पर थोड़ा थूक लगाया और अपने हाथ में लंड पकड़ कर उसकी चूत पर सैट किया और आगे तो धकेला. छाती के दो बटन खुले हुए जिनमें से उसकी छाती के बाल बाहर आ रहे थे जो उसके मर्द होने का अहसास करा रहे थे।शर्ट के नीचे हल्के ब्लू कलर की जींस थी जिसमें उसकी मोटी मोटी जांघें thighs कसी हुई थी.

आपकी मैडम के कितने कॉल्स आए थे।मैं हँस दिया और मोबाइल पकड़ कर वेब हिस्ट्री चैक की. चलो घूमते हुए बात करते हैं।बात करते हुए मैंने उनको डाइट चार्ट की बात छेड़ दी तो उन्होंने मुझसे कहा- मुझे भी बता दो न. इसलिए उसकी स्वीकृति के बाद मैंने यह कहानी आपके सामने परोसी है।अब इसे मिठाई समझ कर खाना या चिकन.

वो बोली- तो मतलब आज तक तुम कोरे हो?तो मैं समझ गया कि भाभी कुछ मूड में है।मैंने बोला- हाँ भाभी.

देसी चुदाई बीएफ वीडियो: मैं उसे ज़ोर-ज़ोर से रगड़ने लगा।कुछ ही पलों में मैंने नीचे घास पर लेट कर उसे अपने ऊपर 69 की अवस्था में ले लिया।अब वो मेरा लण्ड और मैं उसकी चूत को चाटने लगा। धीरे-धीरे उसे मज़ा आने लगा। वो मेरा मुँह अपनी चूत पर दबाने लगी और मैं भी उसकी चूत को ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगा।वो जोश में आ गई. उनके निप्पल भूरे रंग के थे जो छाती के भीगे बालों में मस्त लग रहे थे.

इसलिए उन लोगों ने जल्दी से कपड़े पहन लिए और बाहर को आने हो हुए।फिर अन्दर से दरवाजे से आवाज़ लगाई- दवाजा खोल दो. तो याद आया, मैंने एक कंडोम का पैकेट भी ले लिया, सोचा शायद काम आ ही जाएगा।मैं वापस आ गया। उसके बाद सब सोने लगे तो मैं साली के पास गया और हम दोनों बिस्तर पर पास-पास बैठे थे। उसका चेहरा देखकर ही मेरा खड़ा हो गया. वो किसी लड़की को प्यार करने लगता है और उसके मना कर देने के बाद वो मुंबई चला गया जहाँ उसने अपनी काम-पिपासा को बाजारू रंडियों से शांत किया।अब उसी की लेखनी से आगे.

पर मुझे मालूम नहीं था कि उसे मुठ मारना कहते हैं। उसी तरह आज मैंने अपने आइटम को हिलाना शुरू कर दिया।किताब पढ़ते-पढ़ते आखिरी पेज पर कुछ लिखा था, शायद वो मैडम ने लिखा था ‘मेरे पति का लण्ड 6 इंच लंबा है।’यह पढ़कर.

कुछ महीनों के लिए दिल्ली में हूँ।मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और यहाँ पर रोज हिन्दी सेक्स स्टोरी पढ़ने का आनन्द लेता हूँ. तब भी वो मुझसे एक ही बात बोल रही थी- आप अच्छे हर बात सच बताते हो और लड़के तो झूठ बोल देते हैं।फाइनली उसने मुझसे ‘लव यू Love You’ बोल दिया. और देखने लगी।मैं उसको मैसेज में पिछली चुदाई के यादगार लम्हों के बारे में बता रहा था.