सेक्सी वीडियो बीएफ बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,हिंदी सेक्सी वीडियो बीएफ साड़ी वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ एचडी बिहार का: सेक्सी वीडियो बीएफ बीएफ हिंदी, मेरी उम्र 25 साल है। मेरी शादी को अभी कुल 3 साल हुए हैं। शादी से पहले मैं एक छोटे से गाँव में रहती थी। शादी के बाद अहमदाबाद अपने शौहर के साथ रहने आई। यह अपनी सच्ची कहानी आपके सामने रख रही हूँ।कहानी लिखने में मेरा साथ देने वाले मेरे रियल हीरो आनन्द के साथ की मेरी चुदाई की यह सच्ची कहानी है।मेरे Cuckold शौहर सलीम को threesome का जो भूत चढ़ा था उसका नतीजा सलीम जो भी भुगत रहा हो.

सेक्स बीएफ इंग्लिश फिल्म

जब बन्ता और जीतो खाना खाकर उठने ही को थे तो सन्ता का बेटा बोल पड़ा- देखो मम्मी… अंकल-आंटी को पता ही नहीं चला कि हमने उन्हें कल रात का बासी खाना खिलाया है. सनी लियोन की बीएफ जबरदस्तीवो तो जानती थी।वो थोड़ा नर्वस हो कर बोली- नहीं वो भी लंड का मज़ा लिए बगैर ही आ गई है।मैंने कहा- वो क्यों?तो वो बोली- शादी की पहली रात को ही उसका पति कारगिल चला गया था.

ये बात है… अच्छा मान लो अगर वो तुमसे चुदवाना चाहे तो क्या तुम अपना लौड़ा उसकी चूत में डालोगे?अनुजा की बात सुनकर विकास का बदन ठंडा पड़ गया और दीपाली को चोदने की बात से ही उसका लौड़ा पैन्ट में तन गया जिसे अनुजा ने देख लिया।विकास- क्या बकवास कर रही हो तुम. कुत्ते की बीएफ सेक्सी वीडियोवैसे भी अंकल आने वाले हैं।हम दोनों ने एक-दूसरे को किस किया और चादर आदि साफ़ करने में लग गए।अगली कहानी में मैं आपको बताउँगा कि कैसे मैंने राधा की गाण्ड मारी।वैसे आपको क्या लगता है.

वो हमेशा रो-रो कर काम करती थीं और ऊपर से हमारी नानी भी थोड़ी सख्त मिज़ाज की थीं तो उनका मन और भी दुखी रहता था।एक दिन शाम को मामी को मैं उन्हें समझाने लगा और मुझे नहीं पता कि कब वो मेरी दीवानी हो गईं।उसके कुछ साल बाद मैंने हॉस्टल छोड़ दिया और मैं मामा जी के यहाँ रहने लगा।एक बार पापा जी मुझसे मिलने आए तो मामी जी ने बोल दिया- राज को यहीं रह कर पढ़ने दो.सेक्सी वीडियो बीएफ बीएफ हिंदी: कि आनन्द से उसकी पत्नी चुदवा रही है।अब 7 महीने हो गए उस बात को।एक दिन मुझे पता चला कि मैं प्रेग्नेंट हूँ। मुझे बहुत खुशी हुई.

फिर थोड़ी देर बाद उसे मैंने अपने ऊपर ले लिया और उसके होंठों को चूसते हुए अपने लौड़े उसकी चूत पर टिकाया और हल्का सा अन्दर को दाब दी.’ हम एक-दूसरे को चूस जाने को बेताब हुए जा रहे थे।उसने झट से मेरा टी-शर्ट उतार फेंकी और मुझे बाँहों में भर कर रगड़ने लगी।‘आहह.

चूत लंड की वीडियो बीएफ - सेक्सी वीडियो बीएफ बीएफ हिंदी

जिसे वो किसी तरह निगल गई।मैंने साक्षी को चूमा और क्योंकि कॉलेज की छुट्टी थी तो उसे बोला कि लीव के लिए अप्लाई कर दे, कल लेने आऊँगा वही चल कर खा लेना आई-पिल ओके।साक्षी भी रुआंसा मुँह बनाते हुए.लेकिन मैंने उसकी परवाह ना करते हुए अपना काम चालू रखा।थोड़ी देर बाद उसको मजा आने लगा वो अब सिसकारी ले रही थी.

सब तुम्हारी बहुत तारीफ कर रहे हैं।मैं कुछ नहीं बोली बस चुपके से पापा के पास आकर खड़ी हो गई।राजन- ले भाई किशोरी. सेक्सी वीडियो बीएफ बीएफ हिंदी ”और मैंने भी अपना लंड का पानी छोड़ दिया और मैं हाँफते हुए उनकी चूचियों पर सिर रख कर कस कर चिपक कर लेट गया।यह मेरी पहली चुदाई थी.

मुझे अब ऐसी ही एक्टिंग करनी है।देखते हैं… माया क्या करती है।फिर मैंने दरवाजे की घन्टी बजाई…तो थोड़ी देर बाद माया आई और उसने दरवाजा खोला।जैसे ही दरवाजा खुला.

सेक्सी वीडियो बीएफ बीएफ हिंदी?

लग रहा था कि उस पर भी चूत का नशा छा रहा था, वो एकदम मदहोश हो गई थी।वो मेरा लंड हाथ से पकड़ कर चूत में घुसाने की कोशिश करने लगी।मैं भी जोश में आ गया और मैंने अपना लंड उसकी चूत में लगा कर हलका सा धक्का दिया।पहली बार में तो मेरा लवड़ा अन्दर ही नहीं गया. करीब पांच बजे के आस-पास हम दोनों एक-दूसरे की बाँहों में निर्वस्त्र ही लिपटकर सो गए।कहानी का यह भाग यहीं रोक रहा हूँ।अब मैं क्या करूँगा. पैरों को ज़्यादा चौड़ा कर लेती है जिससे उसकी चूत का मुँह खुल जाता है।दीपक लौड़े पर थूक लगा कर टोपी चूत पर टीका देता है और आराम से अन्दर डालने लगता है।प्रिया- आहह.

तो मैंने थोड़ा और ज़ोर लगा कर लंड को धक्का मारा…उसके मुँह से चीख निकल गई… मैंने फिर से उसके होंठों पर अपने होंठों दिए और चूमने लगा. अनुजा ने उसे पानी पिलाया और उससे भागने का कारण दोबारा पूछा।तब दीपाली ने उसको सारी बात बताई।अनुजा- हा हा हा हा तू भी ना कुत्ते की चुदाई में ये भी भूल गई कि कहाँ खड़ी है और तेरी चूत में खुजली होने लगी. विजय अपना आपा खो बैठा और मेरी चूत में झड़ गया। उसके साथ ही मेरा भी फव्वारा निकल गया। हम दोनों एक-दूसरे को देख कर मुस्कुराने लगे।रानी- क्यों भाई.

उसकी आँखों की पुतलियों में लाल डोरे गहराते चले जा रहे थे और उसके मुख से बहुत ही उत्तेजित कर देने वाली दर्द भरी सीत्कार ‘आआआह्ह्ह ह्ह्ह आआआउउउ उउउम्म्म्म्म गुगुउउउ’ की आवाजें बड़े वेग के साथ रुंधे हुए (रोते हुए) स्वर में निकली जा रही थीं।मैं बिना उसकी इस दशा की परवाह किए. बड़ी मुश्किल से मैं उठी, अपने कपड़े लिए और बाथरूम में जाकर टब में गर्म पानी में बैठ कर चूत और गाण्ड को सेंकने लगी।मेरी अब वहाँ से उठने की हिम्मत नहीं थी।लगभग 7 बजे के आस-पास पापा वहाँ आ गए, मुझे उनकी आवाज़ सुनाई दी।पापा- नमस्ते राजन सर, क्या बात है. पर 19 साल की उम्र में स्तन चूसने का मेरा ये पहला अवसर था और इसी चीज़ का मैं मज़ा ले रहा था।अब जब बात खुल ही गई थी, तो मैंने अपने आपको मामी के साथ चिपका लिया.

और अब से मैं सिर्फ़ तुम्हारे लंड को ही लूँगी।मैं मस्त हुआ पड़ा था और चुदाई का पूरा माहौल बन चुका था।उसने मुझसे कहा- आज की रात तुम मेरे घर पर ही रहोगे।मैंने भी अपने घर पर फोन कर दिया कि आज रात में उनके घर पर ही रुकूँगा।दोनों लेट गए और एक-दूसरे से चिपका कर चूमने लगे और इस बार कोई रुकावट नहीं थी।उसके बाद तो हम चूमा-चाटी में कब हमारे कपड़े उतरना शुरू हो गए. लेकिन शायद कोई बंदिश सी थी जो हमें आगे बढ़ने से रोक रही थी।मेघा मेरी गोद से उठ कर चाय के कप रखने चली गई।मैं भी तब तक सम्भल चुका था।मेघा- और चाय चाहिए तो गरम करूँ?मैं बोला- तू इतनी गरम है जानेमन.

Bina Condom ke Meri Seal Todoसबसे पहले सेक्सी लड़कियों और भाभियों को मेरा नमस्ते।मैं दर्शन हूँ गुजरात से.

थोड़ी देर बाद मैं उसके और करीब खिसक गया और हम दोनों एक-दूसरे से चिपक कर फिल्म देखने लगे।उसके बाद मैंने उसके पैरों में अपने पैर डाल दिए और सहलाने लगा.

उसने मेरे पर्स से झांकती हुई चड्डी की तरफ इशारा किया और बोली- क्या तुम अपनी यह प्यार की निशानी मुझे दे सकती हो? मैं अपने किटी क्लब की सहेलियों को दिखा कर बताना चाहती हूँ कि ऐसा सही में हुआ है. इसे तेरी गाण्ड में?मैम- नहींईईई… ऐसा मत कर रोहन बेटा मैं तेरी रंडी मम्मी हूँ।मैंने एक ना सुनी और उसकी गाण्ड में मेरे थूक से गीला डिल्डो घुसेड़ दिया…मम्मी चिल्लाने लगी- आआआर… राआआहहह……हाईईई रीईईईईई ररमम्मीईई…कुछ देर के बाद उसे मजा आने लगा- आह्ह. कहानी का पिछला भाग:भाभी ने चोदना सिखाया-2मैं क्योंकि नौसिखिया था इसीलिए शुरू-शुरू में मुझे अपना लंड उनकी कसी हुई चूत में घुसाने में काफ़ी परेशानी हुई।मैंने जब ज़ोर लगा कर लंड अन्दर ठेलना चाहा.

ऐसी कोई बात नहीं है बल्कि गुड्डी मुझे रसगुल्ला खिलाने आई थी और रसगुल्ले का रस मेरे गालों में पोत कर भाग रही थी. अभी तो बहुत दिन बाकी हैं ओके बाय…दीपाली गाण्ड को मटकाती हुई स्कूल में चली गई मैडी वहीं खड़ा बस उसकी गाण्ड को देखता रहा।बस दोस्तों आज के लिए इतना काफ़ी है। अब आप जल्दी से मेल करके बताओ कि मज़ा आ रहा है या नहीं. हम शांत होकर निढाल से हो गए।मेरे प्यार का यह पहला स्खलन था।कुछ ही पलों बाद मैंने पायल के बदन पर हाथ फिराना चालू किया और उसकी चूत में ऊँगली करने लगा।उसकी चूत फिर से पनिया गई।इधर पायल के हाथ का मुलायम स्पर्श पाकर मेरा लण्ड भी खड़ा हो गया.

आप मेरे घर जाकर मदद कर दो।तो ताई जी ने ‘हाँ’ कर दी।मैं ताई जी को घर छोड़ आया।ताई जी बोलीं- बेटा अजय तेरी भाभी को भी ले आना।तो मैंने बोल दिया- मैं भाभी को पार्टी के समय तक ले आऊँगा.

मैं ऐसा क्यों कह रहा हूँ।उससे मैंने कहा- तुम उसमें सेक्सी दिखती हो।वो थोड़ी शर्मा गई।मैं वहाँ से चला गया फिर दीदी कपड़े धोने के लिए बाहर आ गई।मैं खिड़की से उसको देखता रहा. मैं उसे एकटक देख रहा था।उसने भी मुझे देखा मैं थोड़ा घबरा गया और उसके चेहरे पर एक शरारत भरी मुस्कान आ गईं।मैं भी मुस्कराने लगा।कुछ दिन बाद वो मेरे पास आई उसकी गणित की कुछ समस्याएँ थीं. वो बड़ी बेरहमी से मम्मे दबा रहा था बिल्कुल ऐसे जैसे संतरा निचोड़ रहा हो।फिर वो मुझको पलट कर मेरे गाल पर चुम्बन करने लगा और मेरे होंठ चूसने लगा.

पर वो छटपटाने लगी।मैंने उसके होंठों पर चुम्बन करना शुरू दिया जिससे उसका दर्द कम हुआ।फिर मैंने उसके जोश को बढ़ाने के लिए उसके कन्धों पर चुम्बन करना शुरू किया।अब उसका दर्द कम होने लगा और वो फिर गाण्ड उठा कर मेरा साथ देने लगी।मैंने उतना ही लंड अन्दर-बाहर करना शुरू किया. मगर मेरे लौड़े से भी कभी शिकायत का मौका नहीं दूँगा।दीपाली आगे बढ़ी और सुधीर को एक चुम्बन किया।दीपाली- आप चिंता मत करो. जिससे आप को ख़ुशी हुई?तो मैंने वक़्त की नज़ाकत को समझते हुए बोल ही दिया- तुम्हारे मुँह से ‘आई लव यू’ सुनकर.

तो उसमें भी जान आ जाती।दीपाली- क्यों बूढ़े आदमी का खड़ा नहीं होता क्या?विकास- होता तो है मगर बहुत ज़्यादा उत्तेजित होने पर.

क्योंकि मौसम कुछ ज्यादा ही ठंडा था।मैंने चाय खत्म की और आज उसने मेरा नम्बर माँगा- अगर कोई ज़रूरत पड़ी तो मैं तुम्हें बुला लूँगी. रविवार बस को छुट्टी मिलती है। वहाँ साले एक से बढ़कर एक हरामी देखने को मिलते हैं।अनुजा- हरामी कौन? मैं कुछ समझी नहीं यार?मीना- अरे यार मैंने बताया तो था.

सेक्सी वीडियो बीएफ बीएफ हिंदी मैंने उसे अच्छे ढंग से हल किया और फिर वो मेरे पास बैठ गई और बोली- आप इतना शर्माते क्यों हो?मैंने कुछ नहीं बोला. और ऊपर से वो सेक्सी भैंस थी और इतराएगी।तो मैंने उसकी तारीफ करना चालू किया और बात बन गई।धीरे-धीरे वो मुझसे खुलने लगी और अब तो खुद ही मेरे पास आके बैठ जाती।उसकी बातों से पता चला कि कॉलेज उसे पसंद नहीं आया और वो इसे छोड़ देगी।मैंने कहा- बिना कोर्स पूरा किए?तो उसका जवाब था- हाँ.

सेक्सी वीडियो बीएफ बीएफ हिंदी जिसे गाँव में बच्चा-बच्चा जानता था, ने ही ज्योति को कमरा दिलाया था।गोपाल इससे पहले कुंवारा था और सोचता था कि ज्योति को पटा कर चोद दे।सुबह से शाम तक ज्योति लड़कियों को सिलाई सिखाती।गोपाल एक प्राइवेट स्कूल में पढ़ाता था और ज्योति को भी कभी-कभी पढ़ा दिया करता था।धीरे-धीरे गोपाल ने उसे पटा लिया।कुछ दिनों बाद गोपाल ने अपनी बात कही- ज्योति. सर आपके पति हैं फिर भी आपको कोई ऐतराज नहीं कि ये मेरे साथ सेक्स कर रहे हैं बल्कि आप खुद इनसे मुझे चुदवा रही थीं.

?लेकिन अब मेरे होंठों ने अपनी प्यास बुझाने की ठान ली थी।मैंने उसे कसते हुए एक चुम्बन उसके दाहिने गाल पर जड़ दिया।सुन्दर.

देसी घाघरा सेक्सी वीडियो

फारूख खानरणजीत ने अपनी हाथ आगे कर के बटनों को खोल दिया और उसके शरीर से सूट को अलग कर दिया।रानी ने काले रंग की ब्रा पहन रखी थी और काले रंग की पैन्टी थी क्योंकि रणजीत ने एक झटके में ही पज़ामा भी उतार दिया था।अब वो सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में ही रह गई थी।रानी- मुझे नहाना है. बस खड़ी रही।मैंने उसकी कमर पकड़ कर उसे अपनी ओर खींच लिया और पागलों की तरह चूमने लगा।पहले तो वो एकदम शांत थी, बाद में वो भी चुम्बन करने लगी।करीब 5 मिनट हम चुम्बन करते रहे।फिर हम बस स्टैंड की तरफ निकल गए, हम लोग क्योंकि बस के समय से ही वहाँ पहुँच गए और हम लोगों ने पार्किंग में कार लगा दी।उसने कहा- मैंने पहली बार किसी को चुम्बन किया है।पार्किंग में सुबह 6. उनको अच्छी तरह से मालूम होगा कि यहाँ की औरतें कितनी मस्त होती हैं।उमर रियाद में नौकरी करते थे और उनकी बीबी आयशा दम्माम में टीचर थी।उमर हफ्ते में 2 दिन ही दम्माम में रहते थे.

जैसे कई महीनों से उनकी कटाई ना हुई हो और उस जंगल के बीचों-बीच किसी पेड़ की तरह लंड महाराज लटके हुए थे. पर मैंने डर के मार पी लिया।उसने मेरी रात के दस बजे तक तीन बार गाण्ड मारी। फिर मैं अपने घर चला आया।आपको मेरी कहानी कैसी लगी जरूर बताइएगा।वैसे अब मुझे गाण्ड मरवाने की आदत हो गई है।यदि कोई मेरी गाण्ड मारने के लिए मिलता है तो मैं तुरन्त अपनी गाण्ड खोल देता हूँ. मैंने कहा- मैं तुमसे प्यार करता हूँ और प्रेमी तो पति से बड़ा होता है।तो बोली- अच्छा ठीक है तुम्हारा ले लूँगी.

बड़ा मज़ा आएगा आज तो…अनुजा ने बगल में रखी दो काली पट्टी उठाईं और दीपाली को दिखाते हुए बोली।अनुजा- मज़ा ऐसे नहीं आएगा.

बड़ा दर्द हो रहा है।उसकी चीख इतनी तेज थी कि मैं भी डर गया।मैंने झट से उसके मुँह पर हाथ रख दिया और उसे चुप कराते हुए बोला- श्रेया धीरे बोलो. मेरा मन कैसे लगेगा?’पिंकी बोली- मैं तो बोलती हूँ।इतना कह कर उसने अपनी आँखें बन्द कर लीं।मैंने पास जाकर उसे गले से लगा लिया. ?’वो एकदम से घूम कर मेरे लन्ड पर बैठ गई और कुछ देर उसे अपनी चूत पर रगड़ने के बाद उसे अपने अन्दर लेने लगी.

जिसे देख कर एक कार में बैठा लड़का अपना लण्ड निकाल कर साक्षी को दिखाने लगा।यह सब देख कर मेरा लण्ड भी तन चुका था. मैं तुझे इससे भी मस्त मजा करवाती हूँ।मैं रसोई में गई और वहाँ से एक गाजर ले आई।‘अब इसका क्या करेगी तू ?’‘अब बस तू सोफ़े पर लेट जा. वो शांत चित्त हो कर लेटी हुई थी।मैं उसकी आँखों में और वो मेरी आँखों में देख रही थी।मेरे मन का शैतान पूरी तरह से जाग चुका था.

रुकने का नाम नहीं ले रहा था।मैं आनन्द के बदन से चिपकी हुई थी और उसके फटके पर मेरे दोनों मम्मों आगे-पीछे होने लगे।अब मेरी चूत ने उसके बड़े लंड को अपने छोटे से सुराख में एडजस्ट कर लिया था।अब आनन्द भी बड़ी मस्ती में आ गया था. कभी नहीं।तो मैं चुप हो गया फिर वो बोली- मुझे ले जाएगा क्या डेट पर?मैं तो शॉक हो गया, फिर मेरे मन ही मन में लड्डू फूटने लगे।मैंने ‘हाँ’ कर दी।उस दिन से हम खुल कर बातें करने लगे और एक दिन मैंने अचानक उसे ‘आई लव यू’ बोल दिया तो वो हँस पड़ी और ‘आई लव यू टू’ कहने लगी और मुझे फ़ोन पर चुम्बन करने लगी।फिर हम फ़ोन पर सेक्स चैट करने लगे गन्दी-गन्दी बातें करने लगे। उसने क्या-क्या पहना है.

कम ऑन’ की आवाज लगा रही थी उस वक्त उसके मम्मे जो उछल रहे थे, उसे देख कर मेरी उत्तेजना और बढ़ गई। वो मेरे सीने को सहलाते हुए झटके मार रही ही थी और साथ-साथ में मुझे चूमे जा रही थी।मैं उसके गोरे-गोरे मम्मों को पूरी ताकत से भंभोड़ रहा था।वो तो ‘आअहह आआअह… फक डियर कम ऑन फक मी. ’ वो बोली।‘पर दे तो दे यार… मैंने आज तक किसी की चूत नहीं मारी है…’ गोपाल सिर खुजलाते हुए बोला।ज्योति मान गई।उसने शनिवार की रात को आने को कहा।उस दिन सुबह उसने अपनी माँ को 5 हजार भेज दिए थे, उसकी फिक्र दूर हो गई थी।शाम के 6 बजे थे… आखिरी लड़की भी चली गई।गोपाल दाढ़ी-वाड़ी बनाकर और झांटें आदि बनाकर गया था।उन दिनों जाड़ों के दिन थे. जिसे गाँव में बच्चा-बच्चा जानता था, ने ही ज्योति को कमरा दिलाया था।गोपाल इससे पहले कुंवारा था और सोचता था कि ज्योति को पटा कर चोद दे।सुबह से शाम तक ज्योति लड़कियों को सिलाई सिखाती।गोपाल एक प्राइवेट स्कूल में पढ़ाता था और ज्योति को भी कभी-कभी पढ़ा दिया करता था।धीरे-धीरे गोपाल ने उसे पटा लिया।कुछ दिनों बाद गोपाल ने अपनी बात कही- ज्योति.

दीपाली ने पानी से अपने आपको साफ किया और तौलिया से जिस्म पौंछ कर बाहर आ गई और बिस्तर पर सीधी लेट गई।अनुजा- मेरी जान.

?’ उन्होंने पूछा।मैंने कहा- यहीं तो था तुम्हारे सामने लेकिन तुमने कभी ध्यान ही नहीं दिया।भाभी बोलीं- मुझे क्या पता था कि तुम्हारा इतना बड़ा होगा. मैंने देखा कि एक करीब 45 साल की औरत मेरी तरफ देख कर मुस्करा रही है लेकिन मेरे पास ज़्यादा सोचने का वक़्त नहीं था. मुझे घर भी जाना है वरना मम्मी गुस्सा हो जाएगी।दीपाली ने अपने कपड़े पहने और वहाँ से निकल गई।इसके आगे क्या हुआ जानने के लिए पढ़ते रहिए और आनन्द लेते रहिए।मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।[emailprotected].

देख कोई मसला बन गया तो बदनामी हो जाएगी और साना ने अपना अम्मी को बोला तो पूरी कुनबे में हंगामा हो जाएगा।लेकिन हसन ने कहा- तुम बोलो तो. वो करेगा।तो मैंने कहा- प्रीतेश तुझे कुछ याद है?तो वो बोला- क्या?मैंने- तूने मुझे कहा था कि जो मैं बोलूँगी.

मैं- और?मैम- तेरी रंडी… रंडी मम्मी, तेरी रखैल रंडी मम्मी, तेरी चुड़दकड़ रंडी मम्मी…मैं- और मैं कौन हूँ तेरा?मैम- मेरा मादरचोद रोहन बेटा. मैं झड़ने को हूँ।अब मैं झड़ चुकी थी और अमर अभी भी झड़ने के लिए प्रयास कर रहा था।उधर मेरे बच्चे के रोना और तेज़ हो रहा था। अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मैंने जोर लगा कर अमर को खुद से अलग करने की कोशिश करने लगी, साथ ही उससे विनती करने लगी कि मुझे छोड़ दे।मैं बार-बार विनती करने लगी- प्लीज अमर… छोड़ दो बच्चा रो रहा है. उसके लिए भी आपका बहुत धन्यवाद।लेकिन दोस्तो, मैंने जो कहानी लिखी है वो मेरी अपनी है इसमें मैं आप लोगों को शामिल नहीं कर सकता.

देसी सेक्सी तस्वीर

कि अब तुम मेरी चूत चाटो…’यह कह कर भाभी खड़ी हो गईं और अपनी चूत मेरे चेहरे के पास ले आईं।मेरे होंठ उनकी चूत के होंठों को छूने लगे।भाभी ने मेरे सिर को पकड़ कर अपनी कमर आगे की और अपनी चूत मेरे नाक पर रगड़ने लगीं।मैंने भी भाभी के चूतड़ों को दोनों हाथों से पकड़ लिया और उनकी गाण्ड सहलाते हुए उनकी रिस रही चूत को चूमने लगा।भाभी की चूत की प्यारी-प्यारी खुश्बू मेरे दिमाग़ में छाने लगी.

जो मुझे और मदहोश करने के लिए काफी थी।फिर मैंने भी उनके मम्मों को तेज़ रगड़ना चालू कर दिया और वो भी आँखें बंद करके मेरे लण्ड पर अपनी गाण्ड रगड़ने लगीं।अब वो कहने लगीं- राहुल, आज तो तूने मुझे पागल कर दिया. अब सुनो मैं जो पूछू उसका सही जबाव देना और जो बोलूँ उसको ध्यान से सुनना।दीपाली- ठीक है दीदी आप कहो।अनुजा- सबसे पहले यह बता कि तेरी उम्र क्या है. उसके बाद हमारी शादी हो गई।मेरी बीवी की फिगर 32-26-34 है, लम्बाई 5’3″ है, वो एकदम गोरी है, मैं उसे बहुत प्यार करता हूँ। मेरी ऊँचाई 5’5″ है मेरा लंड 4.

’ की सिसकारियाँ निकल रही थीं।मैंने उसकी शर्ट निकाल कर फेंक दी और उसकी मुसम्मियों को चूसने लगा।वो मेरा साथ दे रही थी. चलो इसको जाने दो…दीपाली ने एक नज़र मैडी को देखा जैसे उसका शुक्रिया अदा कर रही हो।मैडी- दीपाली मैं इनको ले जाता हूँ. अमरपाली दुबे की सेक्सी बीएफशायद मैं एक लम्हे के लिए बेहोश हो गई थी।मेरी दोनों आँखों से पानी निकलने लगा।आनन्द का पूरा का पूरा 9 इंच का लंड अब मेरी चूत के अन्दर घुस चुका था।मेरा दिमाग़ कुछ काम नहीं कर रहा था.

तुम दोनों चुदाई का मज़ा लेते रहोगे तो क्या मैं बेलन घुसाऊँगी अपनी चूत में… विकास एक बार तो मेरी भी चूत मार लो यार. चलो इसे धीरे-धीरे प्यार से समझा लूँगा।दो दिन तक मैंने बहुत प्यार से मनाया… पर वो मानने को तैयार नहीं थी।फिर मैंने थोड़ी ज़बरदस्ती भी की, पर वो तैयार नहीं हुई और मैं उस पर ज़्यादा ज़ोर ज़बरदस्ती नहीं करना चाहता था।मैं उसके जिस्म का एक भी अंग नहीं देख पाया था.

वो किसी परी से कम नहीं लग रही थी।मैंने दरवाजा बंद करते ही उसे अपनी गोद में उठा लिया और उसके होंठ चूसने लगा।वो भी पागलों की तरह मेरे होंठ और जीभ चूसने लगी।मैं उसे कमरे में ले गया. मैंने और जोर से चूसना चालू किया तो वो ‘इस्सस आआअह स्स्स्स्श्ह्ह्ह’ की आवाजें निकालने लगी।मैंने दांतों से खींच कर उसकी पैंटी अलग कर दी. मगर आज पता नहीं क्यों सब ध्यान नहीं दे रहे थे।विकास ने जब ये देखा तो गुस्सा हो गया और ज़ोर से चिल्लाया- क्या बकवास लगा रखी है.

अब जल्दी करो।मैं भी यही अब चाहती थी कि बच्चा सो जाए ताकि अमर भी अपनी आग शांत कर सो जाए और मुझे राहत मिले।अमर अपने लिंग को मेरे कूल्हों के बीच रख रगड़ने में लगा था, साथ ही मेरी जाँघों को सहला रहा था।कुछ देर बाद मेरा बच्चा सो गया और मैंने उसे झूले में सुला कर वापस अमर के पास आ गई।अमर ने मुझे अपने ऊपर सुला लिया और फिर धीरे-धीरे लिंग को योनि में रगड़ने लगा।मैंने उससे कहा- अब सो जाओ. ’वो एकदम से अकड़ कर फिर से झड़ गई उसके कामरस से मेरी ऊँगलियाँ भी भीग गई थीं जो मैंने उसकी पैन्टी से साफ़ कीं और फिर उसकी चूत को भी अच्छे से पौंछ कर साफ किया।फिर वो जब शांत लेटी थी तो मैं ऊपर की ओर जाकर फिर से उसके चूचों को चूसने लगा जिससे थोड़ी देर बाद वो भी साथ देने लगी. लगता है आज रात का मेरे लिए तुमने पूरा मायाजाल बिछा रखा है।तो वो हँसते हुए अपने हाथों से मेरे सर को पकड़कर अपने होंठों से चुम्बन करते हुए बोलने लगी- अब मैं बस तुम्हारी हूँ.

होगा ये बोलो अब तुम्हारी तबियत ठीक है न?फिर उधर से कुछ कहा गया होगा जिसके जबाव में माया ने कहा- अच्छा चलो.

विकास काफ़ी देर तक सवालों के निशान लगवाता रहा इस दौरान वो बार-बार दीपाली को देख रहा था और दीपाली भी बहुत कामुक मुस्कान दे रही थी।विकास को लगा शायद दीपाली कुछ कहना चाहती है क्योंकि वो बार-बार ऊँगली से कुछ इशारा कर रही थी. सो मैंने भी मन बना लिया और दर्द सहती रही।अमर का हर धक्का मुझे कराहने पर मजबूर कर देता और अमर भी थक कर हाँफ रहा था।ऐसा लग रहा था जैसे अमर में अब और धक्के लगाने को दम नहीं बचा, पर अमर हार मानने को तैयार नहीं था।उसका लिंग जब अन्दर जाता, मुझे ऐसा लगता जैसे मेरी योनि की दीवारें छिल जायेंगी।करीब 10 मिनट जैसे-तैसे जोर लगाने के बाद मुझे अहसास हुआ कि अमर अब झड़ने को है.

लुधियाना से आप सबके लिए एक नई कहानी लेकर आया हूँ।यह कहानी बिल्कुल काल्पनिक है।मेरा नाम वीरू है, मैं पंजाब में रहता हूँ।यह बात करीब 25 साल पहले की है. मैं भी आती हूँ।मैंने पूछा- आपने अभी स्नान नहीं किया है क्या?तो वो बोली- यार मैंने 2 महीने से किसी के साथ मजा नहीं किया. मैं तुम्हारा इन्तजार करुँगी।अब मैंने माया की गांड कैसे मारी जानने के लिए अगले भाग का इंतज़ार करें धन्यवाद।सभी पाठकों के संदेशों के लिए धन्यवाद.

और स्लीव्लेस पहना करो!भाभी- वहाँ शेव कैसे करूँ… डर लगता है, कट जाएगा तो?मैं- शेविंग का सामान दो मुझे. अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था और मैं अपनी ऊँगली को ही अपनी चूत में हिलाने लगी और अपनी आग को बुझाने लगी।मेरी आँखें लाल होती जा रही थीं और शरीर अकड़ता जा रहा था।तभी मैं उठ कर बैठी और पलंग के हत्थे को अपनी चूत में डालकर ऊपर-नीचे करने लगी और करीब 3 मिनट बाद पेशाब के साथ मैं झड़ गई तब मुझे कुछ शांति मिली।फिर उसके बाद मैं अब्बू के साथ घर चली गई।घर जाकर मेरे भाईजान ने मुझसे पूछा- तुमको क्या हुआ है. देखो कैसे झांक रही है झरोखे से…मैंने नलिनी भाभी को बाँहों में कसकर उनके लाल होंठों को चूमते हुए कहा।और उन्होंने मुस्कुराकर मेरे कान पकड़ लिए- हर समय पिटाई वाला काम करना चाहता है। अगर जाग गई ना, तो हल्ला हो जायेगा…चल अब सो जा वैसे ही.

सेक्सी वीडियो बीएफ बीएफ हिंदी केवल दो मिनट ही हुए होंगे कि उसने एकदम से मुझे धक्का देकर पलंग पर लेटा दिया और मेरा निक्कर उतार कर फेंक दिया और मेरे लन्ड को मुँह में लेकर चूसने लगी. मैं उसको वो फिल्म देख कर गरम होने का वक्त देना चाहता था।मैंने जल्दी से टॉयलेट से फ्री हुआ और छुप कर उसको देखने लगा।फिल्म शुरू होते ही वो चौंक गई कि यह कैसी मूवी है…बाद में उसने सब तरफ देखा.

पिक्चर सेक्सी सेक्सी पिक्चर

मैंने पोजीशन सैट की और लण्ड को उसकी चूत पर लण्ड लगा कर अन्दर की ओर हल्का सा धक्का लगाया।लण्ड का सुपारा उसकी चूत में चला गया, उसके मुँह से हल्की सी कराहने की आवाज आई।मैंने दूसरे धक्के में पूरा का पूरा लण्ड उसकी चूत में पेल दिया. जब खुद बात करनी हो, तब आना।मैंने इस डर से आनन-फानन में सीधे बोल दिया- आई लाइक यू ! और मैं तुमसे प्यार करने लगा हूँ।उसने हैरत में होकर बोला- व्हाट…!?!और वो इतना ही कह कर चली गई- मुझे कुछ समय चाहिए. जब मेघा उतर जाती और बस भी लगभग खाली हो जाती तो मैं रूचि के बगल में आकर बैठ जाता ताकि अंकिता की बातें जान सकूँ, लेकिन मुझे अच्छी तरह से पता था कि रूचि एक नंबर की चुप्पा है.

देखा तो सामने मेरी जान खड़ी थी।उसने हल्का गुलाबी रंग की नाइटी पहनी हुई थी। मैंने उसे अन्दर खींच लिया और बाँहों में लेकर चूमने लगा।हम एक-दूसरे को बेतहाशा चूम रहे थे. इसलिए मैंने उस हिस्से को बचा कर मालिश की।फिर उसकी जांघ पर मालिश की।उसको जाँघों पर मालिश करवाने में मजा आ रहा था।उमा को मैंने उसके पैर की ऊँगली तक मालिश दी. स्कूल वाली लड़की का बीएफतब तक वो एक बार झड़ चुकी थी।जब मेरे लण्ड ने वीर्य धार छोड़ी तो उसकी गर्मी से वो एक बार और झड़ गई।थोड़ी देर तक हम वैसे ही लेटे रहे जब हम उठे तो उसने बिस्तर पर खून और वीर्य के निशान देखे.

तुम दोनों चुदाई का मज़ा लेते रहोगे तो क्या मैं बेलन घुसाऊँगी अपनी चूत में… विकास एक बार तो मेरी भी चूत मार लो यार.

पर उस दिन मेरी गाण्ड में बहुत दर्द हुआ।फिर हम सारा दिन घूमे और रात को कुछ नहीं किया।बस बिना कपड़ों के एक-दूसरे के साथ बाँहों मे बाँहें डाल कर सोए।सच में चुदाई करने का अपना ही मजा है।आज मेरे बहुत से कॉल-बॉय के साथ सम्पर्क है और लड़कियों के साथ भी. तो सारिका आंटी खड़ी थीं। शायद उसे पता हो गया था कि मैं कितने बजे बापिस आता हूँ।उसने मुझे इधर आने को इशारा किया.

’उन्होंने मेरे दूध दबा कर मसलना शुरू कर दिया, मैंने भी उनके लौड़े से खेलना चालू कर दिया।‘मेरी जान, आज तुमको जी भर कर चोदूँगा. ससस्स चोदो आह्ह… अई कककक ज़ोर-ज़ोर से आह्ह… चोदो मज़ा आ रहा है मेरे लौड़ूमल आह्ह… मज़ा आ रहा है।विकास पर अब जुनून सवार हो गया वो सटासट लौड़ा पेलने लगा। अब उसकी रफ्तार बढ़ गई थी. उन्हें कहीं बाहर जाना था।उसे खाना खाने के लिए हमारे घर आना था, मैं उस लड़के को अपने साथ रखने के लिए मान गई।मेरे पति भी घर पर नहीं थे तो मैंने सोचा अच्छा है.

मेरे पास इतने ही हैं…’ गोपाल बोला।ज्योति की माँ को मोतियाबिन्द हो गया था, उनकी आँखों में जाला आ गया था।‘ठीक है मैं तेरे पैसे ले लेती हूँ। मैं अपने पास ने 3 हजार लगा दूँगी.

तूने मुझे वो दिया है जिसके लिए मैं बहुत दिनों से तड़प रही थी। इतने दिनों बाद आज मस्त मजा आया है। तू टेन्शन मत ले. मुझे ऐसा लग रहा था कि कब आनन्द मेरी चूत में लंड डालेगा और मुझे ठंडी करेगा।फिर आनन्द ने एक हाथ से लंड सैट करके चूत पर रखा. मुझे नेट पर काम है।मैंने कहा- हाँ ‘काम’ तो करना ही चाहिए।वो हँसते हुए चली गई।कहानी जारी रहेगी।आपको मेरी कहानी कैसी लगी मुझे जरूर मेल करिएगा।.

एचडी सेक्सी ब्लू बीएफजिम में हर रोज मैं अपने जिस्म को संवार कर रखती हूँ।मैं अन्तर्वासना साईट पिछले दो साल से लगातार पढ़ रही हूँ।मैंने अपना पहला साथी इसी साईट से ढूँढा था।ये बात यूँ शुरू हुई कि मेरी बॉय-फ्रेंड बनाने में कोई रूचि नहीं थी।मेरी क्लास की लड़कियों के कुछ के बॉय-फ्रेंड थे और सब ही अपने बॉय-फ्रेंड्स के साथ चुदाई कर चुकी थीं।मैं दिल्ली में रहती हूँ और आप सब जानते हैं कि यहाँ सब कुछ खुल्ला है. बस अभी बना देती हूँ।अनुजा बाथरूम में फ्रेश होने चली गई उसके साथ दीपाली भी चली गई।विकास वहीं लेटा रहा।जब वो दोनों बाहर आईं और कपड़े पहनने लगीं।विकास- ये क्या कर रही हो यार.

सुहागरात का सेक्सी वीडियो इंडियन

लेकिन चुदाई का उनका तरीका ऐसा है कि कोई भी लड़की उनको ना नहीं बोल सकती… क्या आराम से चोदते हैं, कसम से मज़ा आ जाता है।विजय- चल अब तू पापा के गीत गाना बन्द कर और अपना कमाल दिखा… मैं भी तो देखूँ ऐसा कौन सा जादू करेगी तू… कि इतनी जल्दी मेरा सोया लंड खड़ा हो जाएगा।मैंने एक हल्की सी मुस्कान दी और विजय के लौड़े के सुपारे पर अपनी जीभ घुमाने लगी. उन्हें देख कर तो मेरे दिल भी खफा हो गया था।तो उन्होंने कहा- अगर तुम प्रॉमिस करो कि किसी को नहीं बताओगी. चोदना चाहोगे?मैंने उससे कहा- मेरे साथ मजाक मत करो… तुम मुझे किसी को ठोकने का कह रही हो और शादीशुदा लड़की.

उसका फल शायद अब मिलने वाला था, पर वो फल इतना मीठा होगा मैंने सोचा भी नहीं था।बात कुछ दो महीने पहले की है. उसकी जांघें साफ दिख रही थीं।इस ड्रेस में कोई अगर उसको देख ले तो उस पर चोदने का जुनून सवार हो जाए।आजकल तो वैसे ही लोगों की सोच लड़की के लिए गंदी ही होती है. उसका नाम नवीन था।वो भी वहाँ छुट्टियों में आया हुआ था।उस वक्त वो 12वीं में था ओर मैं भी उस की हमउम्र थी।उसकी लम्बाई 5’7” थी और वो बहुत ही आकर्षक था। मेरी लम्बाई 5’3” थी और मेरा फिगर भी अच्छा है.

वो थोड़ी शर्मीले किस्म की थी।एक लड़की के इतने करीब होकर भी मैं कुछ नहीं कर पा रहा था।हॉस्टल में रहकर मैंने बहुत सारी ब्लू-फिल्में देखीं और अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरीज भी पढ़ीं. यहाँ तो हम कपड़े भी सामने ही बदलते हैं फिर ये दोनों तो हैं ही कमीनी।‘कमीनी हैं या कामिनी…’और हम दोनों ही हँसने लगे।पहले मिड के बाद छुट्टियां हुईं और हम सारे दोस्तों ने ‘बचना-ऐ-हसीनों’ देखने का प्लान बनाया. वहाँ ज़्यादातर टूरिस्ट आते हैं। अब जैसे कोई अंग्रेज आया तो उस साले को इंडियन गर्ल चाहिए बस हमारा मैनेजर भड़वा.

मैंने तिरछी निगाहों से पता चला लिया था कि मामी मेरे लण्ड को निहार रही हैं और क्यों ना देखतीं।मेरा शरीर अब गठीला हो चुका था. कि अब तुम मेरी चूत चाटो…’यह कह कर भाभी खड़ी हो गईं और अपनी चूत मेरे चेहरे के पास ले आईं।मेरे होंठ उनकी चूत के होंठों को छूने लगे।भाभी ने मेरे सिर को पकड़ कर अपनी कमर आगे की और अपनी चूत मेरे नाक पर रगड़ने लगीं।मैंने भी भाभी के चूतड़ों को दोनों हाथों से पकड़ लिया और उनकी गाण्ड सहलाते हुए उनकी रिस रही चूत को चूमने लगा।भाभी की चूत की प्यारी-प्यारी खुश्बू मेरे दिमाग़ में छाने लगी.

बस इसी सोच में घोड़ी बनी हुई अपना इम्तिहान दे रही थी और इस टेस्ट के दौरान ही मैं झड़ गई।विश्रान्त- बस अब टेस्ट पूरा हो गया.

फिर 15 मिनट बाद हम फिर से चुदाई के लिए तैयार हो गए।तब मैंने प्रिया को कहा- अब आपको कुतिया बना कर चोदूँगा, चल मेरी रानी अब कुतिया बन जा. ब्लू पिक्चर सेक्स मूवी बीएफआपका कितना बड़ा है।फिर मैंने उससे कहा- इसे मुँह में ले लो।लेकिन उसके मना करने पर मैंने जबरदस्ती उसके मुँह में मेरा 7 इंच का लंड डाल दिया और थोड़ी देर बाद वो उसे आईसक्रीम की तरह चूस रही थी।मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।पांच मिनट के बाद मैंने अपना लंड उसके मुँह में से निकाला और उसकी चूत में ऊँगली करने लगा और फिर बड़े प्यार से उसे चाटने लगा।उसकी उत्तेजना बढ़ती ही जा रही थी, वो कामुकता से सिसिया रही थी- ओह्ह. बीएफ पिक्चर हिंदी में सेक्सी पिक्चरहमारे होंठ एक-दूसरे से मिल गए और मेरा लण्ड उसकी चूत से बाहर निकल आया।कुछ देर तक एक-दूसरे की बाँहों में पड़े रहने के बाद मेघा का हाथ मेरे लण्ड पर आया।यह इशारा था एक और राउंड का !हम फिर से एक-दूसरे के साथ गुंथ गए।करीबन एक घंटे बाद हम सामान्य हुए और अपने-अपने कपड़े पहन कर पास के एक रेस्टोरेंट में जाकर लंच किया।शाम को हम सारे दोस्त मिले, हमने मूवी देखी पार्टी की फोटोज खींची. आज के पहले मुझे लौड़ा चुसाई में इतना आनन्द नहीं मिला था।फिर मैंने पास रखी बोतल उठाई और पानी के कुछ ही घूट गटके थे कि माया आई और दर्द भरी आवाज़ में बोली- राहुल आज तूने तो मेरे मुँह का ऐसा हाल कर दिया कि बोलने में भी दुखता है.

मैं अपने दूसरे हाथ से उसके टिप्पों को मसल रहा था, जिससे माया के मुँह से आनन्दभरी सीत्कार ‘आआअह ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह’ निकल जाती जिससे मैं अपने आप आनन्द में डूब कर उसके मम्मों को और जोर से चूसने और रगड़ने लगता।माया को भी इस खेल में इतना आनन्द आ रहा था जो कि उसके बदन की ऐंठन से साफ़ पता चल रहा था और हो भी क्यों न… जब इतना कामोत्तेजक माहौल होगा.

नहीं तो देवरानी आकर कहेगी कि तुम्हें कुछ नहीं सिखाया।मेरा हाथ अपनी चूचियों पर से हटाया और मेरे लंड पर रखती हुई बोलीं- इसे पकड़ कर मेरी चूत के मुँह पर रखो और फिर ज़ोर से धक्का लगाओ।मैंने वैसे ही किया और मेरा लंड उनकी चूत को चीरता हुआ पूरा का पूरा अन्दर चला गया।फिर भाभी चिल्ला कर बोलीं- उह्ह. काम करने दो हमको…बस दोस्तों आज के लिए इतना काफ़ी है। अब आप जल्दी से मेल करके बताओ कि मज़ा आ रहा है या नहीं. यहाँ आओ ना…मैं उनकी तरफ बढ़ा।अब उन्होंने अपनी चूचियों को फिर से दुपट्टे से ढक लिया था।मैंने नजदीक जाकर पूछा- क्या है भाभी?उन्होंने कहा- लाला ज़रा मेरे पास ही लेट जाओ ना.

तीन कॉफी भेजना मलाई मार के।रणजीत ने रानी को देखते हुए ‘मलाई मार के’ शब्द पर एक आँख दबा दी।रानी फिर शर्मा गई और मुस्कुरा दी। फिर दोनों के बीचबातों का सिलसिला चलता गया।रणजीत- रानी तुम बताओ. आजकल उन्होंने सलोनी को पटा लिया है और दोनों खूब मस्ती कर रहे हैं।किशोरी- क्याआआ? सलोनी भाभी के साथ?कहानी जारी रहेगी।. एक जबरदस्त चुम्बन के साथ मेघा ने मेरा लण्ड अपने मुँह में ले लिया और मेरी सिसकारी निकल गई।मेघा मेरे लण्ड को जोर-जोर से चूस रही थी।मैं भी अपनी गाण्ड उठा-उठा कर उसके मुँह को चोद रहा था।थोड़ी देर में ही मुझे लगने लगा मेरा पानी निकल जाएगा और तभी मेघा उठी और अपनी पानी से सराबोर चूत मेरे लण्ड के टोपे पर रख कर रगड़ने लगी।उसके मुँह से ‘आआअह्ह्ह… आह्ह्ह्ह ह्ह्ह सैम… आअह्हह्हह… डाल दो अपना लण्ड.

सेक्सी वीडियो बुर चोद

पर कुछ कर नहीं पा रही थी।मैं ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारते हुए गाण्ड मारता रहा और साथ-साथ उसके दूध के गगरों को मसलने लगा और कभी उसकी चूत को ज़ोर-ज़ोर से रगड़ने लगा।उसकी चूत का पानी बह कर उसकी गाण्ड की ओर आ गया. मेरी चूत से वीर्य निकलते हुए मेरी गाण्ड तक पहुँच रहा था।मैं लम्बी-लम्बी साँसें लेते हुए पड़ी रही। चूत से वीर्य निकलते हुए मेरी गाण्ड तक पहुँच रहा था।मैं तो इतनी थक गई थी कि सोफे पर ही पड़ी रही।मुझे होश तब आया, जब सुरेश जी ने मुझे हिला कर बोला- नेहा. बस लौड़ा जाकर सील से टच हुआ था।विकास ने कमर को पीछे किया और ज़ोर से आगे की ओर धक्का मारा। अबकी बार आधा लौड़ा सील को तोड़ता हुआ चूत में समा गया।दीपाली की तो आँखें बाहर को निकल आईं.

।’यह कह कर मैंने उसकी नाईटी और ब्रा दोनों उतार दी।आज पहली बार वो मेरे सामने अधनंगी हालत में बैठी थी।मैंने छुप-छुप कर तो कई बार दूध पिलाते हुए उसके स्तन देखे थे.

फिर रात को जब हम सोने के लिए छत पर गए तो मैं बता दूँ कि छत पर हम सब लोग सोते थे।मैं, प्रीतेश और मामा-मामी.

रोज़ माल गिराने से और नए-नए प्रयोग करने से उसकी झांटें गंदी हो गई थीं।सोनम टाँगें फैलाकर बड़े आराम से पड़ी थी और मैं उसकी चूत की शेविंग कर रहा था।पहले उसको साबुन लगाकर रेजर से उसके चूत के सब बाल निकाल दिए. !सोनी ने अनन्या की ओर देखा तो अनु ने कहा- मेरी तरफ क्यों देख रही हो… मैं तो वैसे भी पीरियड में हूँ… पर बी केयरफुल… हम्म. बीएफ सेक्सी डायलॉगकहानी का पिछला भाग:भाभी ने चोदना सिखाया-5भाभी पूरी बिल्ली जैसी लग रही थीं जो मलाई चाटने के बाद अपनी जीभ से बची हुई मलाई को चाटती है।भाभी ने अपनी गुलाबी जीभ अपने होंठों पर फिरा कर वहाँ लगा वीर्य चाटा और फिर अपनी हथेली से अपनी चूचियों को मसलते हुए पूछा- क्यों देवर राजा.

उसको कस कर पकड़ लिया और एक झटका लगाया तो आधा लंड अन्दर घुस गया।वो चीखी लेकिन मेरे होंठों में उसकी चीख दब कर रह गई।मैंने लंड को थोड़ा बाहर किया और एक तेज झटका और लंड झिल्ली तोड़ते हुए अन्दर तक गया. जिसे वो किसी तरह निगल गई।मैंने साक्षी को चूमा और क्योंकि कॉलेज की छुट्टी थी तो उसे बोला कि लीव के लिए अप्लाई कर दे, कल लेने आऊँगा वही चल कर खा लेना आई-पिल ओके।साक्षी भी रुआंसा मुँह बनाते हुए. उसका रंग साफ था और उसकी छवि बहुत ही अच्छी थी।उसका फिगर 32-26-34 का था।उसके होंठ एकदम गुलाबी थे और दोस्तों उसकी पिछाड़ी तो एकदम मस्त थी.

मैं तुम्हारा लौड़ा अपनी चूत में लेना चाहती हूँ।मैंने अपने लंड का सुपारा उसकी चिकनी चूत पर रखा और एक हल्का सा धक्का दिया, तो वो चिल्ला उठी- बहुत दर्द हो रहा है. मैं कल से साड़ी पहना करुँगी।मैंने कहा- क्या मैं तुम्हें छू सकता हूँ?वो बोली- क्या छूना है?तो मैंने कहा- तुम्हारे चूतड़.

जैसे मेरी तो लॉटरी लग गई।अब उसके पेट को चूमता हुआ मैंने उसकी सलवार खोल दी और नीचे कर दी और उसकी गुलाबी चूत चाटने लगा।क्या मस्त चूत थी…थोड़ी देर में वो झड़ गई.

मगर वो समझ नहीं पा रहा था।विकास- दीपाली खड़ी हो जाओ।दीपाली खड़ी हो गई और विकास को देखने लगी।विकास- जाओ स्टाफ-रूम में. कुछ देर बाद मैं नहाने जा रही थी तो उसने फिर पकड़ लिया।मैंने कहा- प्लीज़ नवीन मुझे जाने दो मुझे नहाना है।तो उसने कहा- जान यहीं नहा लो।लेकिन मैंने कहा- नहीं यार. तुम्हारी गर्मी को ठंडा करूँगा।वो मुस्कुरा दी और मेरे पास बिस्तर पर ही बैठ गई।मैंने उसके टॉप को उतार दिया और उसने मेरी शर्ट को उतारा।उसके गोल-गोल मम्मे मेरे सामने थे और मैं झपट कर उनको चूसने लगा.

राजस्थान का बीएफ सेक्सी वीडियो इधर आ और तेरी रंडी पत्नी की ब्रा निकाल…सलीम मेरे पास आया और पीछे से ब्रा का हुक खोला और ब्रा निकाल दिया और वहीं खड़ा रहा।तब आनन्द चिल्लाया- अब यहाँ क्यों अपनी माँ चुदा रहा है तू. Sharm Haya Lajja aur Chudai ka Maja-3मैं धीरे-धीरे उसकी चूत का स्वाद लिए जा रही थी और निशा भी अपने हाथ मेरे सिर पर दबा कर मजे ले रही थी।ऐसा करीब 20 मिनट तक चलता रहा, अब हम दोनों बहुत थक चुके थे।फ़िर मैंने निशा से कहा- यार तूने मु्झे आज बहुत मजे करवाए हैं, आज का दिन मैं कभी नहीं भूल सकती।तभी निशा ने कहा- अभी नहीं… अभी तो और मजे बाकी हैं.

इसके बारे में सोचने लगा।एक दिन अपार्टमेंट में किसी की शादी थी और मेरी पत्नी ने मुझसे बोला- आप ऑफिस से घर आकर फ्रेश होकर सीधे शादी में ही आ जाईएगा. अब तूने ही ये गेम शुरू किया था तो ख़त्म भी तू ही कर…मैंने आश्चर्य भरी निगाहों से देखते हुए उनसे पूछा- मैं क्या कर सकता हूँ?तो वो बोलीं- तूने ही पहले क्रीम लगाई थी. काफ़ी समय बाद मैंने उसको मुक्त किया।फिर में नेहा के ऊपर लेट कर उसे चुम्बन करने लगा।वो भी मेरा साथ देने लगी।मैंने उसके टॉप में हाथ डाल कर उसके मम्मे दबाना चालू कर दिया।मैं बहुत सख्ती से उसके मम्मे दबा रहा था।उसे बहुत दर्द हो रहा था.

सेक्सी नेपाली चूत

आज उसे क्या हुआ था।मैंने उससे कहा- मुझे अब तेरी गाण्ड मारनी है।तो उसने कंडोम लगाने को कहा, पर मेरे पास नहीं था।तो उसने कहा- थोड़ा चाट कर गीला करके लंड लगा. अब क्या करूँ?फिर मुझे एक आइडिया आया और मैंने उसकी लुल्ली पकड़ ली और बोला- चल तू बार-बार मुझे यहाँ-वहाँ छूता रहता है. मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूँ?फिर भी मैंने उनके लण्ड को अंडरवियर के ऊपर से ही सहलाना शुरू कर दिया।उनका लण्ड धीरे-धीरे बड़ा हो गया.

मेरे लण्ड से फिसल कर निकल जाएगी और फिर मैं साला गांडुओं की तरह हाथ से लण्ड हिलाता रह जाऊँगा।तभी मैं अब तक जो सोने का नाटक कर रहा था अपने सारे ढोंग छोड़ कर झपट कर रानी को अपनी बाँहों में दबोच लिया और पलट कर उसे अपने नीचे दबा दिया और उसके ऊपर सवार हो गया।इस दौरान मेरा लण्ड रानी की चूत के अन्दर ही घंसा रहा. इस वजह से मेरा अपनी क्लास की लड़कियों से दूर रहना ज्यादा उचित था।किसी तरह एक साल बीता और हम सीनियर बन गए और इस बार मुझे एन्टी-रैगिंग का हेड बना दिया गया, जिसका मैंने फ़ायदा भी खूब उठाया।आइये कहानी पर आते हैं।काफी जूनियर्स लड़कियाँ मुझसे मदद मांगने आने लगीं.

लग ही नहीं रहा था कि किसी बूढ़े आदमी का लंड है।एकदम तना हुआ फुंफकार मारता हुआ जवान लौड़ा लग रहा था और आप तो जानते ही हो तना हुआ लौड़ा दीपाली की कमज़ोरी था.

दबाव बढ़ाने से उसकी चूत चरमरा गई और लंड उसकी सील पर रुक गया।मैंने कमर को थोड़ा पीछे किया और एक जोर का झटका मारा, मेरा लंड उसके सील को फाड़ते हुए करीब आधा उसकी चूत में घुस गया।लता के चेहरे पर पीड़ा साफ़ दिख रही थी. ऐसा लड़का फिर नहीं मिलेगा।लेकिन मैं नहीं मानी… 2 दिन तक रोती रही।माँ ने भी मुझे समझाया कि तेरे पीछे तेरी 2 बहनें भी शादी के लिए हैं। तू ऐसे करती रही तो उनका क्या होगा. वो करो।फिर उसने अपनी साड़ी निकाल दी।‘अब पेटीकोट और ब्लाउज भी उतारो।’उसने तनिक झिझकते हुए वो भी निकाल दिए।अब वो सिर्फ ब्रा और पैन्टी में थी।साली क्या माल लग रही थी।मेरा लवड़ा खड़ा हो गया।मैंने उठ कर उसकी ब्रा निकाल दी।उसने दोनों हाथों से अपने मम्मों को छुपा लिया।मैंने उसके हाथों को मम्मों से अलग कर दिया और उसके मम्मों को दबाने और चूसने लगा।वो ‘आआआ.

नहीं तो पूरा मामला खराब हो जाता।फिर उसके बाद मैंने उसके बाल बिखेर दिए और बोला- अब ठीक है।तो वो कुछ नहीं बोली।मैंने वैसे ही चित्र बनाया. बोलिए प्रिया जी!प्रिया– मुझे आपके साथ सेक्स करने की इच्छा है क्या आप मेरे साथ करना पसंद करेंगे?मैं– हाँ, ज़रूर करूँगा प्रिया जी।प्रिया– थैंक्स यार. मुझसे ठीक से चला भी नहीं जा रहा था।बाहर हॉल में आकर देखा तो आनन्द के सामने सलीम अपना लंड हिला रहा था।मैं आनन्द के बाजू में बैठ कर देखने लगी.

मैं उनसे और सट कर खड़ा हो गया जिससे मेरे लण्ड की चुभन उनकी गाण्ड के छेद ऊपर होने लगी और मैं धीरे-धीरे साफ़ करते-करते मदहोश होने लगा। शायद आंटी भी मदहोश हो गई थीं क्योंकि उनकी आँखें बंद थीं।मैंने बोला- ब्लाउज और उतार दो.

सेक्सी वीडियो बीएफ बीएफ हिंदी: इसी की वजह से सारा गड़बड़ हो जाता है।उसका इशारा लंड की तरफ था।सीमा लंड को प्यार करते हुए- इसके बारे में कुछ नहीं बोलो. मैं अपनी इमेज खराब नहीं कर सकता।दीपाली भी बाहर आ गई थी और उसने सब सुन लिया था।दीपाली- सर आप जाओ आज नहीं तो कल सही.

फिर मेरे गालों के दोनों ओर चूम कर अपने होंठों से पुनः मेरे होंठों का करीब एक मिनट तक रसपान करती रही।वो यूँ ही चूमते हुए धीरे-धीरे नीचे को बढ़ने लगी।इस काम-क्रीड़ा को आज पुनः स्मरण करके मैं खुद बहुत अधिक उत्तेजित हो गया हूँ और आज आपसे माफ़ी चाहता हूँ की मुझे मेरे प्यार की वादियों में कुछ पल बिताने की मोहलत दे दीजिए. फिर मादरचोद, ऐसे धक्के मारियो कि चूत को फाड़ता हुआ तेरा लण्ड सीधा गाण्ड मे जा घुसे… मटियामेट कर दे इस हरामज़ादी चूत को… सुन रहा है बहन के लौड़े?कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]. क्योंकि अभी भी मेरा हाथ सुनील के लौड़े पर चल रहा था।सुनील ने अपने रुमाल से मेरा मुँह साफ किया और फिर अपना लंड साफ़ किया।अब हम लोग अपने कपड़े ठीक कर आराम से बैठ गए।सुनील बोला- थैंक्स नेहा.

पर अगर उनका शरीर देखा जाए तो कोई भी यह नहीं कह सकता कि आंटी की उम्र इतनी हो सकती है।उन्होंने अपने शरीर को बहुत ही मेन्टेन किया हुआ था.

मैं झड़ने को हूँ।अब मैं झड़ चुकी थी और अमर अभी भी झड़ने के लिए प्रयास कर रहा था।उधर मेरे बच्चे के रोना और तेज़ हो रहा था। अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मैंने जोर लगा कर अमर को खुद से अलग करने की कोशिश करने लगी, साथ ही उससे विनती करने लगी कि मुझे छोड़ दे।मैं बार-बार विनती करने लगी- प्लीज अमर… छोड़ दो बच्चा रो रहा है. चुपचाप बता समझी…इस बार पापा के तेवर एकदम बदल गए थे, उनकी आँखों में गुस्सा आ गया था और पापा का गुस्सा मैं खूब जानती थी कि अगर वो मारने पर आ गए तो हालत खराब कर देंगे।रानी- हाँ. मैंने तुरंत ही उसकी चूत पर अपना मुँह लगा दिया और चाटने लगा। वो सिसकियां ले रही थी।फिर वो तेज-तेज से साँसें लेने लगी औऱ फिर शान्त हो गई.