हिंदी में बीएफ बताइए

छवि स्रोत,बॉयज सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

गद्दा की सेक्सी फिल्म: हिंदी में बीएफ बताइए, फिर सोचा क्यों ना ट्राई किया जाए।तभी मैंने अपने एक पैर से जूता निकाला और उसके पैरों पर फेरने लगा। वो कुछ नहीं बोली। तभी मैंने एक हाथ उसकी जांघ पर रखा.

सेक्सी वीडियो हिंदी जंगल वाली

फ़क मी’ बोलने लगी।काफी देर तक इसी पोजीशन में चुदाई की और कुछ देर में स्नेहा झड़ गई।कुछ मिनट बाद मेरा भी लण्ड अकड़ने लगा। मैं भी उसकी चूत में पूरा झड़ गया. హీరోయిన్ సెక్స్ ఫొటోస్मैं उससे पूछती हूँ।मैंने उसकी गाण्ड और जोर से बजानी शुरू की तो वो जवाब देने लगी- ठीक है तुम जैसा चाहोगे.

जब भी मैं घर से बाहर जाता तो रास्ते भर की औरतों की मटकती गाण्ड को देखता रहता था।जब से मुझे इन सबकी समझ हुई थी. सेक्सी वीडियो फिल्म दिखानाबिस्तर पर पड़ा रहा। मुझे ऐसे लग रहा था जैसे मेरे जिस्म से बिल्कुल जान निकल गई है और अब मैं कभी उठ नहीं पाऊँगा।‘देखो सगीर ऐसा लग रहा है.

क्योंकि वहाँ और लड़कियाँ भी रहती थीं।उसने कहा- तुम यहाँ क्यों आ गए?मैंने कहा- गिफ्ट देने आया हूँ.हिंदी में बीएफ बताइए: मैं पुणे में कॉलेज का स्टूडेंट हूँ।आज मैं आपको एक ऐसी कहानी बताने जा रहा हूँ.

निकालने का मन नहीं हो रहा।उन्होंने मुझे बाथरूम में उतारा और कहा- जल्दी कर लो।मैं उनके सामने ही बैठ गई और पेशाब करने लगी।वे मेरे सामने ही खड़े होकर अपने लिंग को हाथ से हिलाते हुए मुझे देखते रहे।मैं जैसे ही उठी.तो केवल कैपरी ही पहने रहते थे, उनके ऊपर का हिस्सा भी नंगा रहता था और ठीक यही हॉल दोनों आइटमों का भी था, उनकी बुर.

ஹன்சிகா செஸ் வீடியோ - हिंदी में बीएफ बताइए

वो मेरा मम्मा मुँह से निकालते हुए बोला- किस के अन्दर क्या डालूं जान?मैंने कहा- मेरे अन्दर अपना ‘ये’ डाल दो।वो मेरी चूत को हाथ से मसलते हुए बोला- तेरी जवान चूत की प्यास तो मैं बुझा ही दूँगा.तो मैंने रूम की लाइट चालू की और उसे देखने लगा।उसका चेहरा बहुत ही खुश की मारे लाल हो गया था। उसके बाद मैं उसके मम्मों को दबाने लगा.

तो मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा था। मैंने फिर से जाकर उसे पकड़ लिया और उसके होंठों पर चुम्बन करने लगा।इस बार वो कुछ नहीं बोली।ऐसे ही 5-10 मिनट स्मूच करने के बाद एक स्माइल दे कर ‘शाम को मिलते हैं. हिंदी में बीएफ बताइए जिसका बदला ये सब मिलकर ले रहे हैं।पायल- क्या रॉनी भी इनके साथ मिला हुआ है.

यह नर नारी का आपस में ऐसा प्यार या नज़दीकियाँ हैं जो यौन सुख दे सकें.

हिंदी में बीएफ बताइए?

मैं बैठ गया।मेरे मन में उसकी चूत मारने की ललक थी।तभी दीपा आई और मेरे सामने बैठ गई। उसकी याद में मेरा लण्ड. जब हमें कोई लड़की नहीं मिली तो हमने एक-दूसरे के साथ शुरू कर दिया।फिर मैंने भी मिन्नत करते हुए कहा- अच्छा प्लीज़ आपी आप सिर्फ़ अपनी क़मीज़ थोड़ी सी उठा कर हमें अपने सीने के उभार दिखा दें. तू तब तक अर्जुन से चूत चटवा।सन्नी वहाँ से सीधा पायल के कमरे में गया, उसको देख कर पायल थोड़ी चौंक सी गई।पायल- सन्नी तुम वापस कैसे आ गए अर्जुन कहाँ है?सन्नी- डर मत मेरी जान.

दोस्तो, मेरा नाम नीलेश है और मैं आप सबको अपनी असली कहानी बताना चाहता हूँ। मैं पूना का रहने वाला हूँ और मैं जो आपको कहानी बताने जाने वाला हूँ. जब मैं अपनी मौसी की बेटी को पढ़ाई पूरी करवाने उसके घर गया था। मेरी मौसी और पूरा परिवार गाँव में रहता है, मौसी की बेटी शहर वाले घर में अकेली रह कर पढ़ रही थी।पहले मेरे मन में सिमर के बारे में कभी ऐसा ख्याल नहीं आया. अब सब तुम पर छोड़ती हूँ।कह कर वो खड़ी हुईं और थप्पड़ के अंदाज़ में हाथ मेरे खड़े लण्ड पर मारा.

और एक धक्का लगाया। चूत कसी होने के कारण लंड फिसल गया।मैंने दुबारा लंड को चूत के छेद पर लगाया और इस बार थोड़ा और जोर लगाया. बिल्कुल बिल्ली की तरह और खुद बा खुद ही उसके छोटे क्यूट से कूल्हे मटक से जाते थे।मैंने अपनी इन्हीं सोचों के साथ गुसल किया और नाश्ते की टेबल पर ही लैपटॉप अब्बू के हवाले करके कॉलेज के लिए निकल गया।दो दिन तक आपी की प्रेज़ेंटेशन चलती रही. मैंने उसको उठाया और उसका कमीज उतारने लगा, वो कोई विरोध नहीं कर रही थी।जिन चूचों को ढके हुए मैं देखता था.

मुझे अच्छा लगेगा।[emailprotected]मेरा फेसबुक अकाउंट[emailprotected]. लेकिन स्टडी में सना आपी को ना पाकर मुझे बहुत हैरत हुई। स्टडी रूम में ना होने का मतलब ये ही था कि वो हमारे कमरे में हैं।मेरी सिक्स सेंस्थ ने मुझे आगाह कर दिया कि कुछ गड़बड़ है.

बस ये था कि उसका रंग थोड़ा दबता हुआ था या फिर ये कहना ज्यादा मुनासिब है कि आपी के मुक़ाबले में वो साँवली नज़र आती थी।हनी का क़द तकरीबन 4 फीट 10 इंच था और उसका जिस्म भारी-भरकम नहीं था.

चूतड़ उचका-उचका कर अपनी चूत मेरे मुँह पर रगड़ रही थीं।मेरा पूरा मुँह लाली मौसी की चूत के रस में सन गया, चूत के बाल मेरे मुँह में जा रहे थे।अब मौसी को चोदने का टाइम आ गया था, मैंने मौसी की टाँगें मोड़ कर उनकी छाती से लगा दीं, मौसी की चूत उभर आई थी और मुँह फाड़ कर लण्ड का इंतज़ार कर रही थी।मौसी की धकापेल चुदाई जारी है.

और मेरे लण्ड पर ऊपर-नीचे होने लगी। हालांकि इसमें भी मुश्किल हो रही थी. जिसका बदला ये सब मिलकर ले रहे हैं।पायल- क्या रॉनी भी इनके साथ मिला हुआ है. तो मैंने देखा कि वो अपने अंगूठे को मेरे पैर पर घुमा रही थी। वो मेरे काफ़ी करीब बैठी थी.

और वो बिस्तर के सहारे आधी लेटी हुई हालत में थी, उसने अपने पाँव पर रज़ाई डाल रखी थी।वो रात के समय टी-शर्ट और पजामा पहनती है।मैं उसको देख रहा था और वो टीवी देख रही थी।मैंने उसके चेहरे को देखा वो गोल चेहरे वाली लड़की है. तो इस बात का मुझे बहुत अफ़सोस हुआ था।मैंने जैसे ही उनकी चूत से अपना लण्ड निकाला. लेकिन सब गड़बड़ हो गया।जब मैं पेशाब करके वापिस लौट रहा था तो बुआ के कमरे से चुदाई की आवाजें आ रही थीं।जब मैं दरवाजे के पास गया.

और मैं मेरे दोस्त के कमरे में जाकर कपड़े बदलने लगे।उसी वक़्त बाहर कुछ हल्ला हुआ, जाकर देखा तो पता चला कि दोस्त की नानी की तबियत बहुत खराब है.

उसने मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूत पर लगा दिया और मैं चूत चूसने लगा।उसके मुँह से सेक्सी आवाज़ सुनकर मैं पागल हो गया, मैं उसकी क्लिट को चूसने लगा।तभी वो चिल्लाई- ओह्ह. फिर मैंने अपना लंड काजल की चूत पर रगड़ा और फिर धीरे से उसकी चूत में पेल दिया।सुपारे के चूत में घुसते ही काजल जरा कसमसाई।मैंने एक झटका और मारा. इसीलिए मैंने तुमसे पहले ही पूछा था कि कार ड्राईव कर लेते हो न?’मैंने बिना कुछ कहे चाबी उनके हाथ से ली और ड्राईवर सीट पर आकर बैठ गया। साहब और मैम साहब पीछे की सीट पर बैठ गए और मोहिनी मेरे बगल वाली सीट पर बैठ गई। एक बार तो मेरी नजर उसकी गोरी-गोरी मखमली टांगों पर चली गई.

और हर उस जगह जहाँ हम कर सकते थे।फिर मामा ने मुझसे अपनी गाण्ड भी मरवाई।मामा ने मुझे लड़के से मर्द बना दिया था और हमने ग्रुप सेक्स भी किया. लेकिन अंकल रुकने का नाम नहीं ले रहे थे। अम्मी ने मुझसे पूछा- क्यों बेटी मज़ा आया? कहो तो अब मैं भी चुदवा लूँ. आपी किसी को नहीं बताएँगी!मैंने फरहान को तो समझा-बुझाकर चुप करवा दिया.

तो फिर बुआ को चोदने में कितना मजा आएगा।फूफाजी ने अपने लंड को सीधे बुआ की चूत में घुसा दिया और बुआ को चोदने लगे।फूफाजी अपनी कमर को आगे-पीछे करके बुआ की बुर पर जोर-जोर से धक्का लगा रहे थे।बुआ चुदाई की मस्ती में आवाजें निकाल रही थीं। कुछ देर की चुदाई के बाद वे दोनों झड़ गए और उसी तरह दोनों नंगे एक-दूसरे से लिपट कर सो गए।मैं भी और एक बार अपने लंड को हिलाकर सो गया।फिर जब मैं सुबह उठा.

लेकिन एक साल बाद फिर मन कर रहा है कि वो तीनों फिर आ जाएँ और मेरी फ़ुद्दी फाड़ दें।यदि एक पाठक के रूप में आपकी कुछ जिज्ञासा है. और इतना कहकर मैं बर्थ से नीचे उतरकर अपना सामान निकालने लगा। तभी उसने मुझसे मेरा नम्बर माँगा.

हिंदी में बीएफ बताइए तो मुझे अपने रस को उसकी चूत को भरने के लिए कम से कम एक घंटा लगेगा।सोनाली के लिए इतनी लम्बी पारी शायद सपनों में भी संभव नहीं थी। उसने अपनी उंगलियाँ मेरी कमर पर फिरानी शुरू की. जिससे मेरी नींद टूट गई।मामा ने मुझे चोदना चालू कर दिया। फिर मामा ने मुझे एक पैर बिस्तर पर और दूसरा पैर ज़मीन पर रख कर खड़ा कर दिया और खड़े-खड़े ही मुझे चोदने लगे।मामा थोड़ी देर पहले ही झड़े थे.

हिंदी में बीएफ बताइए वो अब भी मुझे देखे जा रही थी, उसकी पूरी खुली आँखों मैं मासूमियत थी।मैं उस पर झुका और धीरे से उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए। फिर धीरे-धीरे उन्हें चूसना शुरू कर दिया. तो बस मैं देखता ही रह गया क्योंकि बुआ का पल्लू गिरा हुआ था और बुआ का ब्लाउज पसीने से भीगा हुआ था।मुझे बुआ की चूचियों का दाना और गोरे दूध साफ नजर आ रहे थे।मुझे पता नहीं था कि बुआ का पल्लू खुद गिरा था या बुआ ने नीचे किया था। क्योंकि उस वक्त बिजली चली गई थी। चूंकि उस समय गर्मी भी कुछ ज्यादा थी.

एक-दूसरे की चूत चूसने लगीं। सुरभि के पैर बिस्तर से नीचे थे और उसकी गाण्ड मेरे सामने खुली थी.

बड़ा बड़ा चूची

उसने मेरा हाथ पीछे करके खुद खोल दी और पैंटी के साथ पूरी सलवार उतार दी।मैंने उसकी चूत पर उंगली डाल दी. मैं अभी आता हूँ।फिर मैं वहाँ के चौकीदार के पास गया और उसको कुछ रूपए देकर कहा- हम लोग झील के उस पार बैठे हैं।चौकीदार के बारे में मेरे दोस्तों ने पहले ही बता दिया था. मुझे उसकी याद आई और मैं अपने एक फ्रेंड को साथ लेकर उसके घर जाने लगा।उसके घर में उसके मॉम डैड और एक बहन रहती है। जब वहाँ पहुँचा.

सुन कर तुम्हारे होश उड़ जाएंगे।वो बगैर कुछ बोले आँखें फाड़ते हुए मेरी तरफ देखने लगा।और मैंने उससे शुरू से बताना शुरू किया।‘उस रात तुम्हारे सोने के बाद मुझे ख़याल आया कि मैं कंप्यूटर में से अपना पॉर्न मूवीज का फोल्डर तो डिलीट कर दूँ. अगर कोई देख लेता तो?अब मेरी जान में जान आई कि वो रोने का नाटक कर रही थी और अब उसने इशारा भी दे दिया कि अगर कुछ करो तो कमरे का दरवाजा और खिड़की बंद करके करना. वो मेरी पूरी जिंदगी को पूरी तरह बदल देने वाला था। मेरी नज़रों के सामने जवानी से उफनती मेरी 42 वर्षीए मौसी की मादक गाण्ड थी.

उसने मेरे मुँह से अपनी चूत हटा कर अपने बड़े चूचे रख दिए और मैं उसको पागलों की तरह चूसने लगा।मैंने महसूस किया कि प्रियंका.

इतनी भी क्या जल्दी है।फिर कुछ देर ऐसे ही एक उंगली चूत के अन्दर-बाहर करते हुए कुछ मजा लिया। फिर मैंने महसूस किया कि प्रीत की चूत अब गर्म हो गई और गीली भी बहुत हो गई है. मैं थोड़ा पीछे हुआ और मैंने अपनी टी-शर्ट और पजामा उतार दिया।वो डर कर बोली- ये क्या कर रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं. पर उससे कुछ कहने की मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी।फिर मैं बोला- तुम्हें नींद आ रही होगी.

मुझे उसकी याद आई और मैं अपने एक फ्रेंड को साथ लेकर उसके घर जाने लगा।उसके घर में उसके मॉम डैड और एक बहन रहती है। जब वहाँ पहुँचा. वो अब भी कुछ नहीं बोलीं।वो फिर आईं और बोलीं- बस देवर यो आखिरी है।मैं भाभी को पुली उठवाने लगा. सो ये दर्द कम और मजा ज्यादा दे रही थी और पिछले तीन साल में मुझे भी पता लग गया था कि इस चूत को कैसे सम्भालना है।खैर.

मुझे ईमेल करते रहते हो और मुझे बहुत देर तक याद भी रखते हो।जैसे कि मेरे चुनिन्दा दोस्तों को तो मालूम है कि मैं अपने काम में काफी बिजी रहता हूँ. लेकिन वो कुछ खोई-खोई सी थीं। मेरी नजरों को अपने चेहरे पर महसूस करके उन्होंने मेरी तरफ देखा और कहा- उठो और जाकर फरहान को देखो।मैं उठा तो आपी ने भी कुर्सी छोड़ दी और मेरे साथ ही बाथरूम की तरफ चल दीं। दरवाज़ा बन्द था.

नहीं तो कोई बात नहीं और मैं एक तरफ जाकर बैठ गया।वो मेरे पास आई और मुझसे बोली- आई लव यू दीपक. तो उनकी दोनों टांगें उठा कर अपने कंधे पर रख लीं।इस आसन में मौसी की पूरी चूत उभर कर बाहर आ गई. तो कसम से लण्ड खड़ा हुए बिना ना रहे।वो मुझसे बहुत अच्छे से बात करती थीं। मैं भी बस उन्हें चोदने की फिराक में कोई मौक़ा ढूँढता रहता था।एक दिन भाभी के यहाँ नई स्कूटी आई.

तो मैं वहीं चला गया।गर्मी बहुत थी और लाइट भी चली गई। इसलिए मैं और मामा दोनों आँगन में ही लेट गए।मामा ने नहा कर लुंगी पहन ली और ऊपर कुछ नहीं पहना। उन्होंने मुझसे भी कहा- तू भी नहा ले।मैंने भी नहा कर शॉर्ट्स पहन लिया।मुझे रात को सिर्फ़ शॉर्ट्स पहन कर सोने की आदत थी.

एक ही ऊँगली से करो न!मैंने चंद लम्हों के लिए अपनी ऊँगलियों को हरकत देना बंद कर दी और आपी से कहा- बस आपी. दोस्तो, आप सबके लिए कुछ नया देने की कोशिश कर रहा हूँ।असल में बहुत से पाठक पाठिकाएं अक्सर मुझसे ‘सेक्स फोरप्ले’ के बारे में पूछते हैं. पूरा कमरा सिसकारियों से भर गया था। दस मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों एक-दूसरे की बाँहों में पड़े निढाल थे।चुदाई का मिशन कामयाब रहा और मैं दोनों काम फतह करके उस दिन घर लौटा।फिर तो यह रूटीन बन गया.

उसने लौड़े को लपलप करके चूसना शुरू कर दिया।रीना फिर से गर्म हो गई थी, उसने चूत पसारते हुए कहा- अब मेरी बारी है. तो आज तेरी इच्छा जरूर पूरी करवा दूँगा।मुझे मालूम था कि वो शादी से पहले बहुत ही बड़ा चुदक्कड़ था।वो मुझसे बोला- पहले पुणे चलते हैं।हम वापस आते समय एक होटल में रुके और खाना खाया.

मैं तुम्हारी पैंट की बेल्ट भी खोल सकती हूँ।मैंने बोला- खोल कर दिखाओ तो जानें।उसने मेरी पैंट की बेल्ट खोल दी।मैंने कहा- बस. जिसमें आप इन सब अंगों को बहुत नज़दीक से तसल्ली से दबा और सहला सकते हो।नारी को उत्तेजित करने का ये एक श्रेष्ठ साधन है।यह इतना ज्यादा उत्तेजक होता है कि पोर्न साइट पर बहुत सी मसाज वाली वीडियो बहुत लोकप्रिय हो रही हैं. ’ भर रही थीं और सिसकियाँ ले रही थींमैं अपने कपड़े उतारने के लिए खड़ा हुआ.

कपूर के नंगे फोटो

मगर सन्नी ने उसको समझाया कि ये वक़्त लड़ने का नहीं है।टोनी और उसके दोस्त भी हक्के-बक्के रह गए थे.

उसके बाद एक झटका और मारा और मेरा पूरा 7 इंच का लण्ड रिया की चूत में अपनी जगह बना चुका था।रिया की आँख से लगातार आँसू निकल रहे थे. उसने मुझे लंड चूस कर ही आधा मज़ा दे दिया था।वो मेरा लौड़ा तब तक चूसती रही. उसने मेरे लोवर में हाथ घुसा कर मेरे लण्ड को पकड़ लिया और सहलाने लगी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने कहा- मैं कपड़े उतार दूँ।वो बोली- हाँ।तो मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए.

शाम तक ठीक हो जाओगी।फिर हम अपने-अपने घर आ गए। उसके बाद हम जब भी मौका मिलता. हम तो बस यूं ही थोड़ा दिल बहला रहे थे इसके साथ… लेकिन ये तो लड़की से भी ज्यादा मजा़ दे रहा है. एक्स एक्स एक्स सनी लियोन के सेक्सीवो भी हमारे साथ थी। हम सब साथ में नदी पर गए। वहाँ जाकर वो दोनों कपड़े धोने लगीं और मैं नदी में नहाने के लिए चाची से पूछा.

और इसी के साथ ही आपी के जिस्म को मज़ीद झटके लगने लगे और उनका जिस्म अकड़ने लगा, वो मेरे मुँह को अपनी चूत पर दबाती जा रही थीं और उनके हलक़ से ‘आआखह. तब वो स्टेज पर थीं। वाह क्या मस्त लग रही थीं। मैं तो उसी टाइम उनका दीवाना हो गया था।खैर.

जो अभी दोबारा तैयार भी नहीं हुआ था।उसने खेलते-खेलते मेरा लंड तैयार कर दिया और चूसने लगी। वो लौड़े को मुँह के काफी अन्दर ले रही थी। मैं भी उसकी गीली चूत चाट रहा था और उसकी कमर को अपने दोनों बाजुओं से जकड़ रखा था।इसके बाद मैंने उसकी गाण्ड में जीभ डाल दी. जो मैं कल शाम को ही खरीद लाया था, मैंने उसको ये कहते हुए दिया- यह मेरी तरफ से हमारे प्यार की शुरूआत के लिए. कुछ लड़कियाँ और लड़के किस करते हुए डांस कर रहे थे।अब मैं भी गीत को छेड़ने लगा था।मैं कभी गीत की पीठ पर हाथ ले जाता और कभी उसके कूल्हों को टच करके डांस करता। गीत भी मस्ती से खूब मज़े ले-लेकर डांस कर रही थी।रात के करीब 12 बज चुके थे.

वो तो तुम्हें मेरे साथ नसीब नहीं होगी।तो फिर मैंने कहा- जिस दिन मनाऊँगा उस दिन इस बारे में सोचेंगे।यह कहकर मैं टीवी देखने लगा और मौसी रसोई में बर्तन धोने लगीं।फिर मैं उठकर मौसी के पास चला गया. ’ की आवाज़ आई।मैं उसके चूतड़ सहलाने लगा और चूचियों को मुँह में लेकर एक जोरदार झटका मारा और पूरा लौड़ा उसकी चूत के अन्दर घुसता चला गया।उसकी ‘ऊऊहह आहूऊऊहह. जो कुँवारे भर अहसास कर सकते हैं। उसको मैं अपनी बाँहों में भर कर उसके कपड़े उतारने की सोचने लगा.

मैं गर्म हो चुका था।मामा मुझे चूमते-चूमते मेरे नीचे की ओर बढ़े और मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगे।मेरा लंड खड़ा होकर 6” का हो गया था। मामा उसे चूसे जा रहे थे.

तो थोड़ा सूख जाता और दोबारा अन्दर जाते समय उसकी चूत को ऐसे रगड़ता जैसे पहली बार अन्दर जा रहा हो।मेरे मुँह से अपने चरम आनन्द की हुंकार निकल रही थी और सोनाली अपनी ‘आहों. अब तो खत्म होगा ही।उनके ऐसा बोलने से सभी औरतें हँस पड़ीं।उसकी बात भी सही थी। मैं आधा लीटर तो पी ही गया होऊँगा और मेरा पेट भी भर गया था। लगता था शायद शाम तक मुझे खाना ही नहीं पड़ेगा।तभी रसीली भाभी बोलीं- देवर जी भूखे तो नहीं न अब.

इस बार दर्द कुछ कम हुआ। मामा अब ज़ोर-शोर से मेरी चुदाई कर रहे थे।फिर मामा ने मुझे घोड़ी बनाकर चोदा। दस मिनट तक चोदने के बाद मामा ने झटकों की स्पीड बढ़ा दी। थोड़ी ही देर में मामा मेरी गाण्ड के अन्दर ही झड़ गए।मुझे ऐसा लगा जैसे मेरी गाण्ड में किसी ने लावा उड़ेल दिया हो।मामा उसी पोजीशन में मेरे ऊपर लेट गए।हम दोनों पसीने में लथपथ हो गए थे. मेरे खास दोस्त को नहीं पिलाओगे क्या?टोनी- अरे इसको पिलाने की क्या जरूरत है. देखने में मस्त माल। उसके बाद मैंने कपड़े आदि बदले और घर के काम करने में लग गया।मैं हलवाई के पास जाकर बैठ गया.

दोनों मेरे से छोटे हैं।घर पर सिर्फ फूफाजी और बुआ रहती हैं। फिर हम लोग एक साथ खाना खाकर सोने चले गए।मैं सौरभ के कमरे में सो गया। जब मैं रात के एक बजे पेशाब करने के लिए उठा और जब मैं पेशाब करके लौट रहा था. एवं 11वीं पास कर चुका था। मैं अपने एक दूर के रिश्तेदार के पास छुट्टी में गया हुआ था. मैं जानती हूँ कि तुम बहुत बड़े कमीने हो।आपी ने ये कहा और मुझे देख कर शरारती अंदाज़ में मुस्कुराने लगीं।मैंने फ़ौरन कहा- नहीं आपी.

हिंदी में बीएफ बताइए आपी की चूत के दोनों लबों को समेट कर अपने होंठों में दबा लिया और अपनी पूरी ताक़त से चूत को चूसने लगा।आपी की चूत की दीवारों से रिसता उनका जूस मेरे मुँह में आने लगा और मैंने उसे क़तरा-क़तरा ही अपने हलक़ में उड़ेल लिया।कुछ देर इसी तरह आपी की चूत को चूसने के बाद मैंने उनकी चूत के दाने को चूसते हुए अपनी ऊँगलियों से आपी की चूत के दोनों पर्दों को खोला और एक ऊँगली चूत की लकीर में ऊपर से नीचे. तो मेरा लंड तो प्रीत को देखते ही फिर से खड़ा हो गया।क्योंकि मैंने सोचा कि प्रीत को शॉर्ट्स पसंद आएगा.

हिंदी पिक्चर फिल्म बंधन

बस कुछ ऐसी ही हालत आपी की भी थी।आपी की चूत बहुत गीली हो चुकी थी।मैंने आपी की चूत के दाने को अपने मुँह से निकाला और अपनी ऊँगली पर लगा हुआ आपी का जूस चाट कर अपनी ऊँगली चूस ली।फिर अपनी उंगली को आपी की चूत के सुराख पर रखा और हल्का सा दबाव दिया. साथ मिल कर खाना बनाया और अब वक़्त था पटाखे छुड़ाने का।मुझे अंदाजा नहीं था कि मौका इतनी जल्दी हाथ लग जाएगा।हम पटाखे छुड़ाने में बिजी थे. मुझे तो जाना ही पड़ेगा।अवि- पर आप हमेशा मेरी बेस्ट टीचर रहेंगी।मैडम- ये अब छोड़ो.

तुम बेझिझक हो कर इसे देखो और आनन्द लो। यह भी पढ़ाई की तरह से जीवन में बहुत काम आएगा।लाइट को बंद कर दिया गया. तो बुआ चौकी पर बैठी पूरी तरह से नंगी थीं और अपनी झाँटों पर पानी डाल रही थीं।तो मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और मैं भी पूरा नंगा हो गया।बुआ ने कुछ देर अपनी झाँटों पर पानी डालने के बाद अपनी बुर को अच्छी तरह से साबुन से रगड़ कर झाग युक्त कर दिया और झाँटों को रेजर से साफ करने लगीं।ऐसा करते हुए बुआ की बुर से सफेद सफेद गाढ़ा चिपचिपा सा रस निकलने लगा। जब पूरी उनकी झाँटें पूरी तरह से साफ हो गईं. साकर मधु के सेक्सी वीडियोतो कभी पूरे बुआ के नंगे शरीर को चूमते हुए उनकी बगलों को सूँघ रहे थे।सुना है महिलाओं की बगलों से जो पसीने की महक आती है.

वो उस समय अकेले ही थी।मैंने उससे कहा- आज आपका बेटा नहीं आया?तो उसने कहा- तुम्हें मेरे साथ आना है या मेरे बेटे के साथ?हम दोनों ही हँसने लग गए और मैंने बोला- आज का क्या प्रोग्राम है.

और उसके ऊपर वैसे ही चढ़ गया। मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर उठाकर उसकी सफ़ेद ब्रा से उसके मम्मों निकाल लिया और चूचे दबाते हुए चूसने लगा. उनकी क़मीज़ उतारने के लिए ऊपर उठाने लगा तो आपी ने अपने हाथ मेरे हाथ पर रखा और फिक्रमंद लहजे में कहा- सगीर.

जैसे कोई सुंदरी अपनी कमर घुमा-घुमा कर डांस कर रही हो।मैं सोनाली के कानों को पी रहा था और हाथों से उसके चूचों का मर्दन कर रहा था।सोनाली की ‘आहों. फिर उसने बताया कि आपकी कहानी पढ़ कर बहुत अच्छा लगा।अगले दिन उसने सीधे मुद्दे की बात कर दी।‘अजय आप संतुष्ट बहुत अच्छे से करते हैं। मैं भी आपको सेक्स के बदले पैसा दूंगी।’मैंने कहा- ठीक है. गीत बोली- साले मुझे अल्फ नंगी तो कर दिया और तुमने अपनी शर्ट तक भी नहीं खोली.

उन्होंने गपक कर मुँह में मेरा लौड़ा आधा भर लिया और चूसने लगी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !फिर दो मिनट के बाद मैंने कहा- अब मुझे करने दो।मैंने उनके मुँह को धीरे-धीरे चोदना शुरू कर दिया। जब मैं और गर्म होने लगा तो स्पीड बढ़ा दी और वो ‘शउह्ह.

तो उसने तुरंत ही मेरी ओर आना चालू कर दिया।मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं उसे नहीं. अंकल की बातों से मुझे अच्छा लगने लगा।अंकल मेरे मम्मों के निप्पलों को सहलाने लगे. मैंने उसके पैरों के पास बैठ कर अपने होंठ उसके भीगती हुई बुर पर रख दिए।क्या हसीन और मादक नज़ारा था। ऊपर से गिरता हुआ पानी साथ में चूत का निकलता हुआ रस।मस्त मजेदार नजारा था.

उर्दू भाषा सेक्सी वीडियोउसने मुझसे गुस्से से पूछा- क्या बात है?मैंने कहा- मुझे तुमसे एक बात कहनी है।वो बोली- क्या बात है बोल?मैंने उससे कहा- पहले कसम खाओ कि ये बात किसी से नहीं कहोगी. तो मैंने कहा- सलवार मत उतारो बस नीचे से बीच में से सलवार की सिलाई उधेड़ लो.

सेक्सी फोटो सेटिंग

हम दोनों ने अपना-अपना एग्जाम दिया और घर आने लगे।रास्ते में फ़िर वही रास-लीला चालू हो गई। इस बार तो हद यह हो गई कि मेरी सहेली मुझ पर टूट पड़ी, उसने बाइक पर ही हाथ आगे करके मेरी चूत में फिंगरिंग शुरू कर दी. तभी मैंने देखा कि वो किसी को फोन कर रहा था। मुझे लगा कि वो अपने वाइफ को कॉल कर रहा होगा।लेकिन नहीं. ज्यादा जोर से नहीं हो रही थी।मैंने फिर से प्रीत के होंठों को चुम्बन करना शुरू कर दिया और अपने हाथों से उसके पूरे बदन पर सहलाता रहा।कुछ ही पलों बाद प्रीत भी अपनी चूतड़ों को उठा-उठा कर ऊपर-नीचे करने लगी.

लेकिन अपनी अन्तर्वासना को शांत करने के लिए अक्सर अपनी चूत में उंगलियाँ डालने और कभी-कभी पेन-पेंसिल डालने में खूब आगे थी।प्रियंका- अरे जानेमन. तो मैं चौंक गया। अन्दर बुआ बिल्कुल नंगी थीं।क्या मस्त माल लग रही थीं यार. मैं तो दीवाना हो गया, मैंने बायाँ चूचा अपने मुँह में भर लिया और दायें वाले को अपने हाथ से दबाने लगा।उसने मेरे सर को अपनी चूची पर ज़ोर से दबा लिया.

कह रही थीं कि इजाज़ खालू से भी मिल लेंगी और शाम को ही वापस आएँगी।बात खत्म करके फरहान मेरे पास आकर बैठा. इसलिए मैं वहीं आराम से बैठ कर सफ़र करने लगा। पूना से ट्रेन निकलने के बाद सीधी दौन्द में रुकती है। मैंने वहाँ उतर कर लिस्ट चैक की. विवेक और सुनील आपको कार्ड्स देंगे और रॉनी सन्नी मेरे भाई को कार्ड्स देंगे।कोमल की बात सुनकर पुनीत हिल गया उसकी तो सारी प्लानिंग धरी की धरी रह गई थी।पुनीत- ये क्या बकवास है.

वो भी क्या याद करेगा और रोज तेरे नाम की मुठ मारता रहेगा।रसीली भाभी- अरे मेरे होते हुए क्यों मुठ मारेगा बेचारा. जो उनकी चूत के रस में बुरी तरह सना हुआ था। इस तरह मौसी और भतीजे ने एक-दूसरे को नहलाया।उसके बाद हम दोनों नंगे ही सो गए और लगभग 5 घंटे तक एक-दूसरे की बाँहों में लिपट कर सोते रहे।फिर हम उठे और खाना खाया।मैं तो अब भी नंगा था.

मगर अंधेरे में सब ग़लत हो गया।वो बोली- आप और आकांक्षा हमेशा ऐसे करते हैं?मैं बोला- हाँ जब भी मौका मिलता है तब।वो बोली- कल रात मुझे बहुत मज़ा आया.

जो मेरे तन-मन में तुम लगा कर आए हो।उसने मुझे होंठों पर किस किया और मेरे मम्मे दबाता हुआ बोला- जान मैं तुझे वो मज़ा दूँगा कि तू तो क्या. हॉट डॉग सेक्सीधीरे से उससे मैंने कहा- मैं गोली ले आया हूँ।काजल स्माइल करने लगी।मैं अपने कमरे में फ्रेश होने चला गया और बेसब्री से रात का इन्तजार करने लगा।अगले भाग में बताऊँगा कि कैसे मैंने काजल की चूत की सील तोड़ी। आप मुझे ईमेल ज़रूर करते रहिएगा।शैलेश यादव[emailprotected]. सेक्सी फिल्म ब्लू हिंदी वीडियोपर मुझे बड़ा गन्दा लग रहा था, मैंने लण्ड चूसना छोड़कर थूकता हुआ वहाँ से भाग गया।उसके बाद मुझे ऐसा लगा जैसे मुझसे कोई पाप हो गया हो. उनकी चूत गीली होने के कारण मेरा मूसल लण्ड ‘सट’ से अन्दर घुसता चला गया।मामी के मुँह से तुरंत एक हल्की सी चीख निकली.

ये क्या हो रहा है ऐसे तो टोनी जीत जाएगा और पायल सबके सामने बिना कपड़ों के आ जाएगी.

जिसे देख कर अर्जुन का लौड़ा ठुमके मारने लगा।‘वाह पायल कुदरत ने बड़ी फ़ुर्सत से तुम्हें बनाया है. अंकल की उंगलियाँ मेरी चूत रस से लथपथ हो गई थीं।अंकल ने पास में पड़ी हुई क्रीम की शीशी से ढेर सारी क्रीम निकाल कर अपने टनटनाए हुए लंड पर लगाई और उसे मेरी बुर पर सहलाने लगे।अंकल के लण्ड का एहसास जैसे ही मेरी बुर को हुआ. ठंडी हवा खिड़की से होकर हमारे शरीर को छूने लगी। ठंडी हवा के झोकों की वजह से दिव्या भी उठकर बैठ गई हमारी आँखें ज्योंही एक हुईं.

तो डान्स करने लगे।मैं इशिका के साथ डान्स कर रहा था। इतने में रोशनी जी एक ओर थीं. मैं अपने कॉलेज के दोस्त से मिलने उसके गाँव गया था।वहाँ मेरी मुलाक़ात उसकी सेक्सी कजिन स्नेहा से हुई. कहकर उसने फावड़ा नीचे पटक दिया और जगबीर को हटने के लिए बोला।जगबीर के उठते ही वो मेरे सामने आकर खड़ा हो गया। नीले टी.

गे सेक्स बीपी

पहली बार करके थोड़े टाइम बाद मेरा निकलने वाला था। मैंने उसको अपने नीचे लिया और जोर-जोर से चोदने लगा और थोड़ी देर में हम दोनों एक साथ ही झड़ गए।मैं उसकी बगल में ही लेट गया और फिर उस रात मैंने उसके साथ एक बार और सेक्स किया था।दोस्तो, मैंने पहली बार अपनी ज़िंदगी में सेक्स किया था. जिसके लिए मुझे हर रविवार को क्लासेस अटेण्ड करने जाना पड़ता है। वैसे मैंने कुछ महीने पुणे में भी गुज़ारे. उनकी हाइट करीब 5’2″ की होगी। उनकी आँखें बहुत ही क्यूट लगती हैं, बहुत चंचल आँखें थीं। उनके चूचे थोड़े से आम जैसे नुकीले आकार के थे.

तेरे मौसा जी एक महीने के लिए विज़िट पर गए हैं, उनके लिए गेस्ट-रूम तैयार कर दे।मैं भी बहुत खुश था.

तो खुद ही लॉक करती हूँ। अब बंद कर लो दरवाजा और घर का ख़याल रखना, मैं खाना सलमा के पास ही खाकर आऊँगी।अम्मी के जाने के बाद मैंने दरवाज़ा लॉक किया और ऊपर अपने कमरे की तरफ चल पड़ा।मैं ऊपर आखिरी सीढ़ी पर था जब मैंने आपी को स्टडी रूम से निकलते देखा, वो निकल कर स्टडी रूम का दरवाज़ा बंद कर रही थीं।पहली ही नज़र में मैंने जो चीज़ नोटिस की.

उसने मुझसे गुस्से से पूछा- क्या बात है?मैंने कहा- मुझे तुमसे एक बात कहनी है।वो बोली- क्या बात है बोल?मैंने उससे कहा- पहले कसम खाओ कि ये बात किसी से नहीं कहोगी. तो अंकल ने कहा- तुम अपने कमरे में जाकर सो जाओ।मैंने कहा- लेकिन पहले मैं आपका बेडरूम देखना चाहती हूँ।तब अंकल ने मुझे अजीब नज़रों से देखा और अचानक पूछ बैठे. बीपी सेक्सी व्हिडिओ चुदाई!मेरी धमकी के बाद वो बिना कुछ बोले मेरे मुँह में सिसकारियाँ लेते हुए मूतने लगीं.

इसलिए तुझे वहाँ रहने के लिए बुलाया है।अब मेरा मूड ख़राब हुआ कि मन मेरा था और चले गए भैय्या-भाभी. पर मैंने धक्के मारने चालू कर दिए। कुछ ही मिनट बाद बेबी का शरीर अकड़ने लगा। बेबी ने मेरे लण्ड को चूत में ऐसे जकड़ लिया कि किसी ने मुठ्ठी में बुरी तरह जकड़ा हुआ हो।उसने अपने नाख़ून मेरी पीठ पर गाड़ दिए. उनको दुबई गए हुए दो साल से ऊपर हो गया।ये सब कहते हुए अम्मी का गला भर आया.

फिर आगे आया और मैं उसके लंड और उसके पोतों को चाटने लगी।मेरे कमर तक के लम्बे बाल खुल चुके थे और उनको पीछे वाला गोरा पकड़े हुए था।मुझे बहुत ही सब कुछ मस्त लग रहा था और मैं जम कर अपनी चुदाई का मजा ले रही थी।इतने में मुझ एहसास हुआ कोई हाथ मेरी चूचियों को जोर से मसल रहा है. वो एकदम से सिहर गई। मैंने उसकी पैन्टी को उतार कर फेंक दिया और उसकी चूत को पूरे मनोयोग से चाटने लगा.

आशु ने मेरे बाल पकड़े और होंठों में होंठ सटा दिए। हम दोनों किस करने लगे।भाई धीरे-धीरे मेरे मम्मों को सहलाने लगा.

और मेरी जीभ उसके कान के साथ खेल रहे थे।अचानक से उसने मेरे लण्ड को पकड़ लिया और दबाने लगी। मैं भी साथ ही साथ कान से अलग होकर उसके होंठों को चूसने लगा। काफ़ी देर तक ये चूसने का सिलसिला चला।अब तक मैंने उसके कपड़े उतार दिए थे और उसने मेरे उतार दिए थे, उसने मेरे लंड को हाथ में लिया. इसलिए मैंने शादी ना करने का फ़ैसला कर लिया।यह सुन कर मुझे बहुत दुख हुआ और मैं एकटक उनका चेहरा देखती रही। इतना खूबसूरत जवान मर्द. मैं पागल हो गई हूँ।मैंने रीना को मैडम की जगह पर लिटाया और उसकी चूत में लवड़ा पेल कर उसे चोदना चालू कर दिया।मैडम ने कहा- जानू.

सेक्सी देखने वाला एप्स डाउनलोड ’मैंने भी स्पीड बढ़ा दी और वो भी नीचे से अपनी गाण्ड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लग गई।थोड़ी ही देर में नेहा झड़ गई. तो कभी गर्दन पर किस कर रहा था।वो मुझसे किसी बेल की तरह लिपटी हुई थी, हमारी गर्म साँसें एक-दूसरे की गर्दन पर चूत रही थीं.

शायद आप सभी को पसंद आएगी।जैसे मैंने पहले ही बताया कि मैं एक फैकल्टी हूँ. ये तुम लोगों को ज्यादा मज़ा देगा।मोईन ने जो डिल्डो मुझे दिया था तकरीबन 17 इंच लंबा था। सेंटर में एक इंच की बेस थी और दोनों साइड्स तकरीबन 8-8 इंच लंबी थीं. जिससे थोड़ा गंदा पानी उनकी गाण्ड से बाहर आकर कमोड में गिरने लगाअंकल पाइप को लगातार अन्दर-बाहर करने लगे.

टाइम से पहले पीरियड आना

थोड़ी देर ऐसे ही मैं उसके ऊपर लेटा रहा और उसे चूमता रहा।फिर धीरे-धीरे आगे-पीछे करने लगा. उसके बाद कभी आना-जाना नहीं हुआ।एक बात यह कि वे मेरी मम्मी की सबसे छोटी बहन थीं. आनन्द लीजिएगा।मैं इतना ज्यादा उत्तेजित हो गया था कि बस चाहता था कि चूत देख लूँ।मैंने उसके गाल.

तो मैं उसे मना नहीं करूँगी।आज मुझे बिस्तर पर कालू के साथ सोने का शादी के बाद लाइसेंस मिल चुका है। मेरी सहेली की दूसरे लण्डधारी से शादी हो चुकी है. तो मुझे उसकी बातें बहुत सेक्सी लगती थीं। हम दोनों ही सेक्स के बारे में बातें करते रहते थे और हमारी अच्छी दोस्ती हो गई।मैं उससे हमेशा ब्लू-फिल्मों के बारे में पूछता रहता था.

फिर उसने मेरी टाँगों को खोला और धीरे-धीरे से अपनी उंगली मेरी चूत में घुसा दी और बोला- अब कहो ‘जान आज मेरी चूत इतनी मारो कि तुम्हारा जवान लण्ड ठंडा हो जाए और मेरी चूत फट जाए.

उसी के बारे में सोच कर मैं पागल हुआ जा रहा था।जैसे-तैसे स्कूल की छुट्टी हो गई और मैं घर आ गया।जब मैं मैडम के घर जाने के लिए निकल रहा था. हम दोनों बचपन से ही साथ साथ रहे हैं क्योंकि हमारा घर भी एक-दूसरे से सटा हुआ है इसलिए हम दोनों जब चाहें. फिर से अपना काम पूरा किया।मामी एक बार और झड़ चुकी थीं और मेरा भी निकल गया।मैं ठंडा पड़कर मामी के ऊपर ही लेट गया.

इसलिए मैंने सोचा कि अन्दर कोई नहीं होगा और मैंने अपना लम्बा लौड़ा निकालकर जो कि इस समय पूरा खड़ा था. वो जानते थे कि उनकी चुदाई से मेरा मन नहीं भरा है।मैं आगे बोली- पापा को अभी फोन करने जा रही हूँ कि भैया ने यहाँ मुझे अकेले पाकर मुझे चोद दिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब भैया ने अपने हाथ जोड़ लिए. यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !आयशा ने भी शरम छोड़कर सब बता दिया- हाँ.

’ की आवाज़ आई।मैं उसके चूतड़ सहलाने लगा और चूचियों को मुँह में लेकर एक जोरदार झटका मारा और पूरा लौड़ा उसकी चूत के अन्दर घुसता चला गया।उसकी ‘ऊऊहह आहूऊऊहह.

हिंदी में बीएफ बताइए: हमने वहीं पर डिनर किया और बाहर आ गए।हम दोनों हाथ में हाथ डाल कर समुंदर के किनारे रेत के ऊपर चलते हुए आ रहे थे।रात का अंधेरा और चुदाई की आग दोनों तरफ लगी हुई थी।ठंडी हवा चल रही थी. कि वो मुझ से भी चुदे।मैंने उसे आश्वस्त किया।उसने कहा- सोनिया और हम दोनों मिल कर ग्रुप सेक्स करेंगे.

वो और उसके और साथी पूना किसी काम से आए थे। बाकी सबकी सीट साथ में थी. तो बबीता देख रही थी।मैंने भी वो कागज फाड़ दिया और कुछ देर बाद घर आ गया।अगले दिन मैं दोपहर को अपने नए बन रहे घर की तरफ जा रहा था. अम्मी की गाण्ड मार कर अंकल सुस्ताने लगे।‘जूस पियोगे या दूध लाऊँ?’‘अभी तो दूध ही पियूँगा.

लेकिन मैंने अपनी गाण्ड के सुराख को भींचते हुए पानी को बाहर आने से रोक लिया और अपनी स्पीड को बढ़ाने लगा। मैंने आईने में देखा तो आपी अपना हाथ वापस अपनी टाँगों के दरमियान ला चुकी थीं और रगड़ना शुरू कर दिया था।ये वाकिया जारी है।[emailprotected].

वो कैसे करोगे?मैं- मेरे पास एक आइडिया है।सोनाली- क्या आइडिया है बताओ. साथ मिल कर खाना बनाया और अब वक़्त था पटाखे छुड़ाने का।मुझे अंदाजा नहीं था कि मौका इतनी जल्दी हाथ लग जाएगा।हम पटाखे छुड़ाने में बिजी थे. मेरे घर के सामने दीक्षा नाम की एक लड़की रहती है, वो बड़ी कमाल की चिड़िया है।वो लगभग 5 फीट ऊँचाई की होगी, उसकी थोड़ी सी चाल देख लो.