एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ चुदाई

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर डाउनलोडिंग एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

योनि दिखाओ: एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ चुदाई, राजे ने मुझे सुमित की बाँहों से अपनी बाँहों में ले लिया और हँसते हुए बोला- बेफिक्र रहो मेजर साहिब… आपकी पत्नी को ऐसा चोदूंगा कि इसकी तो आत्मा भी तृप्त हो जायगी और आपको देखने में बेहद मज़ा आएगा.

भोज सेक्सी वीडियो

और सेक्स में एक ऐसी बात है कि 1-2 बार चुदने और चोदने से बार-बार सेक्स की भूख लगती है. फूल बनाने की पेंटिंगक्या आपको गोपाल ने यहाँ भेजा है या आप गोपाल की कुछ लगती हो?मोना ने दूध खुजाने के बहाने साड़ी का पल्लू हटा दिया जिससे सुधीर को उसके दूध साफ दिखने लगे.

मैं चूची के ऊपरी भाग को सहलाने और दबाने लगा… कभी कभी मेरा हाथ फिसल कर चूची से भी लग जा रहा था. বাঙ্গালী ক্সক্স হট ভিডিওमैंने फूफा जी की पैंट की हुक भी खोल दी और पैंट को नीचे सरका दिया, फिर फूफा जी का कच्छा भी नीचे सरका दिया, अब फूफा जी का सोता हुया 7 इंच का लंड मेरी नज़रों के सामने था.

पसीने की बहती हुई धारें उनकी छाती से शुरु होकर उनके पेट से होते हुए नीचे लोअर की इलास्टिक को भिगा रहे थे.एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ चुदाई: पूजा ने गहरी सांस लेते हुए कहा- ये सच में डिल्डो के मुकाबले कुछ ज्यादा ही है और इसे देखने में भी कितना मजा आ रहा है.

पीछे मुड़कर देखने की हिम्मत तो नहीं हो रही थी लेकिन फिर भी मैंने हौसला रखते हुए पीछे मुड़कर देखा तो वो दोनों मेरे पीछे ही आ रहे थे.शादी में चूसा कज़न के दोस्त का लंड-8इस देसी गे स्टोरी में अभी तक आपने पढ़ा…मैंने देखा कि लड़की ने उसके लंड पर हाथ रखा हुआ है और वो आँखें बंद करके आनन्द ले रहा था, लड़की उसके लंड को सहला रही थी, कभी उंगलियों से पकड़ लेती तो कभी पूरा हाथ रख देती थी.

कुर्ते की सेक्सी - एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ चुदाई

नताशा एंड्रयू के मुंह की तरफ अपनी कमर करके अमेरिकन लंड के ऊपर अपनी चंचल गांड रख कर बैठ गई.ऋतु भी धीरे-धीरे मेरे सामने आ कर बैठ गई, उसका चेहरा मेरे लंड से सिर्फ एक फुट की दूरी पर रह गया.

तब तक डॉक्टर आ गया, उसने उसे चेक करके कुछ ब्लड सेम्पल लिए और कुछ दवाइयाँ लिखकर चला गया. एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ चुदाई नीचे से चूत उछाल उछाल कर मैं भी धक्के लगाने लगी… साथ में मेरे मुंह से आनन्द भरी आवाजे निकलने लगी… हाय.

कैसी हेल्प चाहिए आपको?गुलशन- अरे वो मेरे कपड़ा व्यापार के एक बहुत बड़े सेठ हैं, उनकी बेटी लन्दन से आई हुई है.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ चुदाई?

सुड़क सुड़क… सुड़क सुड़क… सुड़क सुड़क…राजे बहुत ज़ोर से निचोड़ता था जिसमें थोड़ा दर्द तो होता मगर मज़ा बहुत आ रहा था. अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा कि ग्रुप सेक्स में सब फ्लॉरा के शरीर के मज़े लेने लगे।अब आगे…अभी फ्लॉरा के जिस्म के मजे लिए ही जा रहे थे कि संजय ने अजय को एक टपली मारी।संजय- अबे सालो, मुझे अकेला छोड़ दिया. नहीं नहीं चुप हो जाओ बस।सुमन- सॉरी पापा, मैंने आपको दुखी किया प्लीज़ आप मुझे माफ़ कर दो।गुलशन- अरे नहीं, तुमने कुछ नहीं किया मैंने ही तुम्हें गुस्से ज़्यादा कह दिया था।थोड़ी देर दोनों बाप और बेटी का ये प्यार चलता रहा.

रात हो चुकी थी और बाइक पर चलते हुए संदीप ने अपना खड़ा लंड मेरे हाथ में दिया हुआ था. अपने पति पे कुछ तो रहम करो।मोना- ऐसे तुम समझने वाले भी नहीं थे। एक तो मैं बीमार हूँ और तुम उल्टा बोलोगे तो गुस्सा तो आएगा ही ना. मॉंटी वहीं सुमन के सामने बैठ गया उसने बरमूडा पहना हुआ था और शायद अन्दर कुछ नहीं पहना था.

दोस्तो, मैं आपको बता दूँ कि चोदने का असली मजा तो शादीशुदा औरतों को चोदने में ही है क्योंकि उनका शरीर और मम्मे पूरे भरे जाते हैं. दूसरी बार में मजा आएगा।मैंने बोझिल आँखों से पता नहीं किस झोंक में कह दिया कि आंटी दूसरी बार तो आपकी बेटी को चोदूंगा।आंटी मेरी बात सुनकर हंसने लगीं और बोलीं- ठीक है, मेरे साथ ही उसको भी चोद लेना. इससे मैंने उनके दिल में अपने लिए जगह बना ली थी।अब भाभी भी मुझसे काफी फ्रैंक हो गई थी.

फिर और दो तीन दिन बाद एक न्यू नंबर से मेसेज आया ‘हेलो!’मैंने मेसेज का रिप्लाइ ना करते हुए कॉल कर दी और किसी ने रिसीव करके काट दी. तो भाई ऐसे ना तो आपको समझ आएगा ना मज़ा आएगा। इससे अच्छा आपको सीधा संजय के घर लेकर चलती हूँ। वहाँ का नजारा देख के शायद मज़ा आ जाए।संजय अपने बिस्तर पर आराम से लेटा हुआ था तभी पूजा कमरे में आती है और सीधा संजय के पेट पर आकर बैठ जाती है।पूजा देखने में एकदम स्वीट सी है, उसने पिंक टी-शर्ट और ब्लैक स्कर्ट पहना हुआ था।आपको बता दूँ पूजा बहुत खूबसूरत लड़की है.

डॉक्टर आंटी का क्लिनिक उनकी कोठी में नीचे ग्राउंड फ्लोर पर था और ऊपर की मंजिल में वह खुद, उनकी एक 7 साल की लड़की और नर्स के साथ रहती थी.

रफीक को अपनी ओर देखते ही सबीना शरमा गई और उसने अपना मुँह दोनों हाथों से ढक लिया और जमीला से बोली- आहह… भाभी मुझे शर्म आती है, यदि भाईजान अपनी आँख बंद कर ले तो एक बार मैं भाई के नीचे लेट जाऊँ फिर तो मैं अपने आप भाई जान से खुल जाऊंगी.

फिर खड़े होकर मैंनेआंटी को बाँहों में भर लिया और खड़े खड़े उनकी चूत और चूतड़ों को सहलाता रहा. वो बोला- कंडोम से मज़ा नहीं आता!मैंने कहा- मैं बिना कंडोम के नहीं करुँगी. अभी चाची को कुछ ही फोटो दिखाई थी की तभी मुख्य द्वार के घंटी बजी और यह देखने के लिए कि कौन आया है मुझे चाची को वहीं छोड़ कर बाहर जाना पड़ा.

मैं भी उसका पूरा साथ दे रही थी और मेरे मुंह से सिसकारियाँ निकल रही थी, मुझे तो खूब मजा आ रहा था. उस हालत में उसे देख कर बूढ़े का लंड भी खड़ा हो जाए तो जॉय का क्या हाल होगा आप खुद समझ सकते हो. ‘कैसा लगा ये सब?’ मैंने उसे चूमते हुए पूछा‘बहुत अच्छा बहुत ही प्यारा प्यारा.

आपको भी ये उतारनी पड़ेंगी।मैंने कहा- ठीक है… मैं भी उतार देती हूँ!और इतना बोलकर मैंने अपनी ब्रा का हुक खोलकर उसे नीचे गिरा दिया और फिर अपनी उंगलियों से खींचकर पैंटी को भी उतार दिया.

तो कभी बाहर निकाल कर सुपारे को चाटने लगतीं।मैं पूरी तरह से पागल हो रहा था। भाभी अपनी जीभ को लंड से आंडों तक रोल करने लगी और अंडकोषों को चूसने लगीं। वो जोर-जोर से लंड सक कर रही थीं।फिर भाभी ने मेरे लंड को अपने मुँह से निकाला और कहने लगीं- प्लीज़ मुझे चोद दो. 30 पर तुमको लेने आऊंगा, बिमलेश तुम्हारे लिए आज साउथ इंडियन खाना बनायेगी, कह रही थी।फिर वो जॉब पे चला गया. अब दीदी अपने दोनों हाथों से मेरे दूध मसल रही थी और अपने मुंह से चूम रही थी, मेरे दूध को पीने की कोशिश कर रही थी.

अब हम तीनों दोस्त जूते उतार कर गद्दों पे आ गये, बैठ कर बातें करने लगे. उन्हें कॉल किया, पर कोई बाहर है, तो कोई कॉलेज में है और किसी का कोई और बहाना है, कोई नहीं मिल रहा था।यार ऐसा ही क्यों होता है कि जब हमें बहुत जरूरत होती है. कल का डन।वो थोड़ा मायूस हो गए।अगला दिन रविवार का दिन था। सुबह ही संजना का मेंसिस पूरी तरह से क्लियर हो गया था। वो सुबह ही मुझसे चुदने को आतुर थी, पर मैं उसे रात के लिए पूरी तरह से व्याकुल कर देने के मूड में था।मैंने बोला- अभी नहीं रात को करेंगे।वो जिद कर रही थी, मैं बोला- थोड़ा सब्र करो.

ऐसा ही किया उस रंडी ने… कहानी लगभग तैयार है, मुझे सिर्फ उसको एक बार पढ़ के उसका संपादन करना है ताकि कोई त्रुटि न रह जाए.

दो मस्त गोल और सॉलिड चूचे, जिन्हें मैं अपने पाँव से दबाता रहा, मगर मेरी इच्छा हो रही थी कि मैं मौसी के चूचे अपने हाथ से दबाऊँ और मुँह में लेकर चूसूँ. स्कूल गर्ल सेक्स दो चूत एक साथ-1स्कूल गर्ल सेक्स दो चूत एक साथ-2दोनों मेरे लंड को पकड़ कर उसके सुपारे पर अपनी उंगली फेरती तो कभी दोनों सुपारे के कट पर नाखून चलाती जाती.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ चुदाई तनु भाभी जिनका शादी से पहले नाम कविता था, अपनी जवानी की शुरुआत की कहानी मुझे बता रही हैं, आप मजा लीजिए. इसी मौके का फायदा उठा कर टीना ने पासा फेंका जो निशाने पे लगा।टीना- कहाँ से लाया है ये बियर.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ चुदाई जिनको पानी में भीगी-भीगी देखने के बाद हर कोई उनको चोदने का सोचने लगता है. लिप्स को लिप्स से लगाने में हमारी जीभ एक दूसरे से मिल गई और साँसों के साथ साँसें टकरा गई.

मैंने देखा कि चाची की आंखें बंद थी, मैंने अपने पैन्ट की चेन खोल कर लंड बाहर निकाल लिया और चाची के हाथ में सटा दिया.

एक्स ट्रिपल

मुझे मालूम था कि अगर कोई दूसरी चूत मिल जाए और वो भी मेरी इजाज़त से, तो कमीना चोदे बिना रहेगा नहीं!सुमित बोला- ठीक है तू पूछ ले उस रंडी से!इस वार्तालाप से उत्तेजित होकर उसने मुझे वहीं बाथरूम में शावर चला के चोद दिया. मेरे मेसेज करने के बाद लगभग 20 मिनट तक न उसका कोई मेसेज आया और न ही वो आई. यह गांड चुदाई की कहानी, जो मैं आपको सुनाने ज़ा रहा हूँ, वो मेरी सच्ची दास्तान है। मैं बहुत खुश हूँ.

प्लीज़ टीना बुरा मत मानना मगर तुम संजय की गर्लफ्रेंड हो किसी और की?टीना- गर्लफ्रेंड तो मैं संजय की हूँ मगर हम सब अच्छे दोस्त भी हैं तो सभी मेरे ब्वॉयफ्रेंड हैं. हाँ मानती हूँ मैं संजय को पसंद करती हूँ मगर उसकी वजह क्या है ये तो सब को पता ही है। अब ये उसको चोद कर छोड़ दे या प्यार करे. सुमन भी अपनी बुर का पानी निकाल कर सुकून में थी तो उसको जल्दी नींद आ गई.

अब मैं पीछे से साइड में हो गया और एक हाथ से कोमल के कंधों और पीठ की मालिश करने लगा और दूसरे हाथ से ढेर सारा तेल कोमल के चूतड़ों पर डाला और एक हाथ से कोमल की गान्ड के छेद तक तेल रगड़ने लगा और दूसरे हाथ से उसकी पीठ पर… फिर मैं तेल कोमल की गान्ड के छेद पर गिरा कर उंगली से अंदर करने लगा.

तभी उनकी कुंडली में वो दोष आया होगा। एक बात बताओ तुम्हारी उससे लड़ाई क्यों हुई थी?सुधीर- अब क्या बताऊं उसका जुनून इतना बढ़ गया था कि एक दिनमेरी छोटी बहनके बारे में वो गंदी बात कहने लगा। बस मैंने भी उसको जमा दिया एक और जब से हम अलग हो गए। उस दिन के बाद मैंने उसे देखा ही नहीं है।मोना- छी: गोपाल इतना गंदा है. राजू वहीं खड़ा चुदाई का मज़ा ले रहा था तो काका ने उसे इशारे से जाने के लिए कहा, तब राजू ने अपने कपड़े पहने और वहां से चला गया।इधर काका स्पीड से मोना की चुत को पेल रहे थे। कोई 10 मिनट बाद मोना झड़ने को हो गई।मोना- आह. इस बार मुरुगन ने मुझे कमोड के सहारे घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी चुत में अपना लंड पेल दिया.

थोड़ी देर बूब चूसने के बाद मैंने बोला- मेरा लंड चूस!वो लंड चूसने लगी, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. जैसे कि मुझे खा ही जाएगी।इससे उसकी व्याकुलता साफ झलक रही थी।मैं बोला- रुको डार्लिंग आज कुछ अलग करते हैं।वो बोली- क्या?मैंने झट से अपनी पॉकेट से एक ब्लैक कलर का स्लीपिंग आई कवर निकाला और उसकी आँखों पर बांधने लगा।वो बोली- इसकी क्या जरूरत है. उस टाइम मैंने टाल दिया कि अभी वो लोग भी होली में व्यस्त होंगे इसलिए मैं शाम को उसके साथ यह बात छेड़ूँगी.

मेरी मामी की उम्र 30 साल है और क्या लगती हैं वो… उनका फिगर 34-32-36 का है. हालांकि मैंने कभी किसी शादीशुदा के साथ अब तक सेक्स नहीं किया है, पर हमेशा एक शादीशुदा लड़की के साथ सेक्स करने की चाहत रही है.

भाभी और मैं एक-दूसरे को गाँव से ही पहचानते थे और मजाक किया करते थे, लेकिन गाँव में बातें सिर्फ हल्के-फुल्के मजाक तक होती थीं. मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। मेरे लंड की मुठ मारते-मारते भाभी की चूत गीली हो गई थी। मैं एक हाथ से उनकी चूचियों को मसल रहा था और दूसरे हाथ को चूत में डाल कर उंगली कर रहा था, उनके मुख से हल्की-हल्की आवाजें आ रही थीं।अब उनसे रहा नहीं गया. मेरी दीदी की चुदाई कैसी लगी?मेरी पुरानी यादों भारी सेक्स स्टोरी जारी रहेगी.

मुझे चाची के होंठों में व्यस्त हुए अभी पाँच मिनट ही हुए थे जब उन्होंने मेरे एक हाथ को पकड़ कर अपने एक स्तन और दूसरे हाथ को अपने जघन-स्थल पर रख दिया.

उसने रुस्लान के पेट के ऊपर लेटी हुई रूसी लड़की के चूतड़ों को थोड़ा ऊपर की ओर उठा दिया और अपने लंड को बाहर निकाल कर दूसरे कोण से अन्दर घुसेड़ना शुरू कर दिया. तभी छेद में से ऋतु को अपनी तरफ देखते हुए मैं पास गया तो उसने पूछा- क्या तुम्हारा हो गया?मैंने जवाब दिया- हाँ और तुम्हारा?वो मुस्कुरा कर बोली- हाँ मेरा भी!मैंने कहा- मुझे तो बड़ा ही मजा आया!ऋतु बोली- मुझे भी… चलो अब नीचे नाश्ते पर मिलते हैं!और यह कह कर वो अपनी गांड मटकती हुई बाथरूम में चली गई. मैं गेट से बाहर आया तो वो लोग अपनी काली स्विफ्ट डिजायर कार के पास खड़े थे.

मेरा मन कर रहा था कि मैं अपनी जीभ छेद में डाल कर अपनी बहन की बुर में डाल दूँ और उसे पूरा चाट डालूं. उन्हें रयान भला लगा… पर वो बोले- पूरी कोठी की जिम्मेदारी तुम्हारी है.

ये मेरी कहानियों की फैन थी जो आज मेरी बहुत ख़ास दोस्त बन चुकी है और हम एक साथ चुदाई और ग्रुप चुदाई बहुत बार कर चुके हैं. साहब को झांटें पसंद नहीं हैं।मैं चुपचाप बाथरूम में चली गई। मैंने शावर लिया और चूत के बाल साफ़ किए।फिर मोटी बाहर से बोली- अन्दर एक गाउन रखा है. ’‘अरे नहीं… मौका तो मैं भी ढूंढ रही थी… मैंने तो दरवाजे के छेद से देखा था… तो सोचा कि अन्दर घुस जाऊँ… पर तुम्हें नंगा देख कर डर गई.

ब्लू सेक्स बताओ

आबिदा ने बताया कि नदीम का लंड बहुत छोटा है, इतनी अंदर तक कभी गया ही नहीं जितना मेरा लंड उसकी चूत में गया.

नीतू- दीदी, मैं खुद नहा लूँगी ना!नीतू अब भी थोड़ी शर्मा रही थी मगर मोना तो अब पक्की खिलाड़ी बन चुकी थी. उसकी उठी हुई छाती पसीने से भीग रही थी, एक हाथ उसकी कमर पर था और दूसरे हाथ से वो अपने लौड़े की मुट्ठ मार रहा था. ये सब देखकर मेरी अन्तर्वासना भड़क उठी और फिर मैं नंगा होकर पहली बार मुठ मारने लगा, फिर मैं सो गया.

यह सब कैसे संभव हुआ वह मोना रानी अपने ही शब्दों में बयान कर रही है. यहाँ से download करें!क्या आप भी सेक्सी भारतीय लड़कियों से सेक्स की बातें करना चाहते हैं, उन्हें कैमरे पर नंगी देखना चाहते हैं, कैम सेक्स करना चाहते हैं तोDelhi Sex Chat आप भी जब चाहें यहाँ क्लिक करके फ़ोन सेक्स कर सकते हैं।. नादान तितलियांफिर मैंने फूफा जी के जूते निकाले और उनको टाँगों से पकड़ कर सीधा करके बेड पर लिटा दिया.

पहले ये बता तेरे पापा कब आते हैं?सुमन- वैसे तो वो 10 बजे आते हैं, कभी लेट भी आये हैं, मगर आज जल्दी आ गए और अर्जेंट में किसी काम से सूरत गए हैं।टीना- गुड… यानि आज मैं तुझे रस चखा सकती हूँ।सुमन- कैसा रस? दीदी मैं कुछ समझी नहीं. फिराते-फिराते उसका लंड खड़ा हो गया और वो अपना लंड मुझसे चुसवाने लगा.

कान पर काटने लगी। मैं भी अब उसको जोर-जोर से चोदने लगा।इस बीच में वो एक बार फिर से झड़ गई लेकिन मैंने अपनी चुदाई की रफ़्तार बनाए रखी। करीब बीस मिनट बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए।दोस्तो, ये मेरे हॉट सेक्स की कहानी. हमें लगा कि शायद महक और राजेश आ रहे हैं, सो हम अलग होके अपने कपड़े ठीक कर हॉल का दरवाजा खोल कर वापस सोफे पे बैठ गए।प्रिया पूरी लाल हो गई थी, उसके गोरे निखार के वजह से पहचान में आ रहा थी कि ये बहुत रोई है।पर सोफे पर बैठने के बाद उसने मुझे किस कर थैंक्स कहा और बोलीं- रोहन आज मुझे बहुत अच्छा लगा. वो मैं चाहता नहीं क्योंकि तेरा कोई भरोसा नहीं कि कब, किस बात के लिए तू क्या कह दे.

मैंने मैडम के गिलास में बीयर डाली फिर बीयर का बोतल नीचे टेबल पर रख कर एक हाथ मैडम की चूची पर रखा और बोला- मैडम चोद दूँ क्या?मैडम ने मेरी ओर देखा और मुस्कुरा कर हां में सर हिला दिया. उनको देखकर मुझे भी उनके चेहरे कुछ-कुछ याद आने लगे, ये मेरी मौसी के घर के पड़ोसी के यहाँ आए हुए रिश्तेदार थे जो शादी में भी आए हुए थे. मेरा मुँह उनकी चुत में लगते ही उन्होंने अपना सर तकिया में दबा लिया.

जग्गी अपना लौड़ा चुसवाने में मस्त हो चुका था और उसके हाथ मेरे सिर को पकड़े हुए मुझे उसके आंडों में धकेल रहे थे.

तभी दीदी ने मेरी पैन्ट के ऊपर से ही मेरे फूले हुए लंड पर हाथ फिराया तो मैं उनका इशारा समझ गया और मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया. घर में विवाह से सम्बंधित बहुत सारे कार्य थे तो माँ पापा से कह कर स्मृति को विवाह के कुछ दिन पूर्व ही बुला लिया था.

वो पूरी मदहोश हो गई थी, फिर मैंने दाँतों की मदद से उसकी ब्रा खोल कर साइड करके रख दी. इससे मैंने उनके दिल में अपने लिए जगह बना ली थी।अब भाभी भी मुझसे काफी फ्रैंक हो गई थी. साथ ही मैंने उसे चाय या पानी के बारे में पूछा तो उसने मना कर दिया और कहा- नहीं, चलो चलते हैं।मैंने कहा- ठीक है.

और फिर जब अपने पर नियंत्रण नहीं रख सका तब अपने एक हाथ से उस उरोजों को तथा दूसरे हाथ से योनि को सहलाने लगा. मैं भाभी को सभी कमरों में अलग-अलग तरीके से 50 से ज्यादा बार चोद चुका हूँ। मैंने भाभी को ट्रेन में भी चोदा है।जब भी मौका मिलता है, मैं अब भी भाभी की चुदाई कर देता हूँ।इसभाभी की चुदाई की कहानीपर आप अपनी राय जरूर भेजिएगा।[emailprotected]. मौसी ने अपनी उंगली से अपनी चूत को सहलाना शुरू कर दिया, वो कभी मुझसे अपने बोबे चुसवाती, कभी मेरे होंठ चूसती, कभी मेरी छाती को चूमती, चूसती.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ चुदाई बस आता हूँ लेकिन तुम्हें मेरी कसम है, आज बिना मेरे कहे तुम अपनी आँखों से पट्टी नहीं हटाओगी।संजू अपने दूध दबाते हुए बोली- ठीक है राजा. शराब का सुरूर छा रहा था और पीटर की उंगलियाँ मेरी चुत और गांड में भूकंप मचा रही थी.

भारतीय पोर्न फिल्म

मेरे बूब्स में दबा के कर लो चाहो तो!’‘नहीं बूब्स में नहीं, चूत पर ही करने दो. अरमान तुरंत बोल उठा- अरे वाओ, हम तो सोच ही रहे थे कि कैसे किया जाये, क्या तुमने भी कोई प्लान बना रखा है?अंशिका बोली- हाँ जी, हमने भी बनाया हुआ है प्लान!कहकर वो दोनों नीचे भाग गईं और नेहा उठ कर टेबल को गद्दों के पास करने लगी. आगे की कहानी आप खुद ही सुन कर मजा लीजिए कि कैसे हुई देसी भाभी की चुदाई उसके देवर से…अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है.

कुछ सेकेण्ड्स बाद मैंने फिर से मुड़कर देखा तो वो दोनों लड़के लगभग मेरे करीब ही पहुंचने वाले थे… मैं डर के मारे दौड़ने लगा… पैर भारी होने लगे… सीने में दम भरने लगा… दोबारा से पीछे देखा तो वो भी मेरे पीछे दौड़ रहे थे. करीब 15 मिनट तक ऐसे ही चुदाई करने के बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए और एक दूसरे को बांहों में लिपट कर सो गए. mp3 में सेक्सी वीडियोफटी हुई एड़ियाँ गायब थीं, नाख़ून साफ सुथरे और हाथों के नाख़ून वाली नेल पोलिश में रंगे हुऐ थे.

जिसमें गरीब छात्रों और बीमार लोगों को भरती करवाने पर कमीशन मिलता था.

ऋतु बोली- मजा आ गया…लंड चूसने में तो मजा हैही… रस पीने का मजा भी अलग ही है. लेकिन इसके साथ ही वो अपने प्रेमी को, जो कि एक लम्बा हैंडसम और समर्थ आदमी है, उसकी उम्र 33 साल की है.

मैं एक अच्छे परिवार से हूँ तो अपने मजे के लिए सेक्स के लिए कहीं बाहर भी कोशिश नहीं कर सकती. जब दोपहर में स्कूल से वापस घर आते थे, तब हम लंच करके अपने कमरे में चले जाते थे. अब मैं थक चुकी थी तो मैं लेट गई वो फिर से अपना लंड मेरी चूत में डालने ही वाला था कि मैंने उसे रोक दिया तो उसने पूछा- क्या हुआ?मैंने कहा- पहले कंडोम लगाओ.

जलपान के बाद स्नेहा मुझे अपने रूम में ले गई, उसका रूम तीसरी मंजिल पर था.

जैसे कोई लेंस लगाया हुआ हो, चाँदी जैसा चमकता रंग, सीना तो ज़्यादा नहीं मगर संतरे एकदम ठोस हैं और हाँ इसकी जांघें मोटी-मोटी और गांड बाहर को निकली हुई है, वो बहुत मस्त लग रही थी। चलो अब आगे का सीन देखते हैं।संजय- अरे ये क्या है पूजा ऐसे कोई करता है क्या. हम दोनों कुछ देर बिना बात किये वहीँ बैठे रहे और फिर मैंने चुप्पी तोड़ते हुए मानसी से माफ़ी मांगी. दस मिनट बात मेरा पानी गिर गया और वो मुझे किस करने लगी।फिर वो किचन में गई और एक खीरा ले आई.

తెలుగు బ్లూउसी हालत में हम दोनों उठ कर बाथरूम में गए और जब मैंने चाची की योनि पर से हाथ हटाया तो उसमें से बहुत तेज़ी से रस की मोटी धार बाहर निकली. संजय के हाव भाव से ऐसा बिलकुल नहीं लगा कि उसको इसकी जानकारी हो गई है या उसकी जानकारी में ही ये सब हो रहा हो.

पतली लड़की की चुदाई

राजे ने आखिर मुझ पर रहम कर ही लिया और उठ ही गया मुनमुनाते हुए कि हरामज़ादी जी भर के चूत चूसने भी नहीं देती. थोड़ी देर बाद मेरे लंड ने पैन्ट में ही पानी छोड़ दिया और हमारी किस ख़त्म हुई. मैंने उसकी हिम्मत बढाई और बाहों को थोड़ा ऊपर उठा कर उसके हाथ को बूब तक पहुंचने दिया.

अब जमीला मस्ताना चूस रही थी और मैं जमीला की चूत!जमीला की चूत का टेस्ट कुछ कसैला सा और नमकीन था. पर किसी भाभी को छेड़ने या चोदने के बारे में सोचने से इसलिए भी एक डर मन में होता था कि अगर पड़ोस में शोर मच गया तब तो सैम तू तो गया फिर तो जो तेरी गांड कुटाई होगी वो अलग और जो बेइज्जती होगी वो अलग!इसलिए यार, माल को दूर से देखो और अपने हाथ का इस्तेमाल करो, मैं इसी सिद्धान्त पर टिका रहा. उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरे मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगीं।अब तक मेरी शर्म-हया सब खत्म हो चुकी थी। मैं बोल उठी- आपने तो सब कुछ कर लिया.

मेरे साथ ही मनोज भी सुलेखा को घोड़ी बना कर चोद रहा था, अरमान भी नेहा की चूत को चोदने में व्यस्त था. बड़ा आया नंगा होने में शर्म वाला, कल तक तो तुझे मैं ही नहलाती थी। चल निकालता है या मैं खींच कर निकाल दूँ?मॉंटी डर गया क्योंकि टीना अगर गुस्सा हो गईं तो फिर वो सब अच्छा-बुरा भूल जाती हैं इसलिए उसने चुपचाप चड्डी निकाल दी।मॉंटी की लुल्ली सोई हुई कोई 3″ की होगी, जिसे देख कर टीना की हँसी निकल गई।टीना- हा हा हा… क्या इस मूँगफली को मुझसे छुपा रहा था हा हा हा. मेरे निप्पल बुरी तरह से कड़े हो गए थे, मुझे लगा कि अब मेरा पानी निकलने वाला है.

तो रोहित शर्मा गया पर उसने अपने हाथों में साबुन ले लिया और फिर उसने मेरे उरोजों को अपने हाथों में भर लिया और उन पर साबुन लगाने लगा. ये शायद उसका पहला मौका था जब कोई लड़की या औरत ऐसे नंगी उसके सामने थी.

मैं उठा और उसके पास पहुँचा और उससे लिपट गया। अपने गाल उसके गाल से रगड़ कर कहा- अब बोल?वह मुस्कुराए जा रहा था।तब मैंने उसके गालों का चुम्बन ले लिया।वह बोला- थोड़ा थोड़ा।वह शरारत पर उतारू था.

पर कुछ साल बाद हम अपने नए घर में शिफ्ट हो गए और वो लोग पुराने घर में ही रुक गए. युवराज सेक्सीसौरभ- किस-किस ने चोदा तुझे?सोनी- मुझे लड़की और लड़कों दोनों ने चोदा है।सौरभ- तू भाभी को भी चोद चुकी है ना?सोनी- हाँ. इंग्लिश बीपी फिल्म सेक्सी‘आआअह… इस्स… काटो मत यार… दर्द हो रहा है… आआह… मेरी चूत में आग लगी है… कुछ करो न…!’‘तो गाड़ी रोको और उन पेड़ों के झुण्ड में चलो. अब तू भी मुझे प्यार कर मेरे लंड को सहला, उससे खेल… क्योंकि आज के बाद तुझे उसी से सुकून मिलेगा.

मामा ने लंड को चूत में घुसा छोड़ दिया और मेरी दोनों चूचियों के निप्पल को पीछे से सहलाने लगे, मेरी चुची में एक तरंग सी दौड़ने लगी जिससे मेरी चूत का दर्द धीरे धीरे कम होने लगा.

इस काम में लड़कियों को उम्रदराज लोगों की यौन आवश्यकताओं को पूरा करना होता था और बदले में भरपूर पैसा मिलता था. उसमें एक नंगा लड़का नंगी लड़की के बूब्स चूस रहा था और ज़ोर ज़ोर से दबा भी रहा था, फिर वो नंगा लड़का उसनंगी लड़की की चूतमें अपना लंड डालकर ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. मैं भी यही चाहती थी क्योंकि मैंने कहीं पढ़ा था कि मर्दों में सुबह नींद खुलने के बाद सबसे ज़्यादा चुदाई की इच्छा होती है और बहुत ही प्यार और कामुकता भरी चुदाई करते हैं.

उफ़ ये क्या उसके लंड का तनाव तो ऐसे बढ़ गया जैसे किसी स्प्रिंग को दबा कर अचानक छोड़ दिया हो. मैंने बाथरूम का दरवाजा खोला और अंदर घुसा औऱ दरवाजा बंद किया तो शावर के नीचे एक 22 साल कीनंगी लड़कीजिसके पूरी बॉडी पे साबुन लगा हुआ था और चेहरे पे भी साबुन लगा था वो अपने शरीर पर साबुन मल रही थी. दो दिन से टीना कॉलेज भी नहीं आई है, तो वो उससे मिलने जा रही है ताकि उसको कुछ तसल्ली दे सके.

भाभी की सेक्सी भाभी की सेक्सी

मैडम देखने में काली थी, वो मेरे माँ के उम्र की ही होगी, मुखड़ा थोड़ा देखने में अच्छा लगता था. अभी से सो रही है। मैंने धीरे से परदा हटाया और देखते ही दंग रह गई। ऊषा आंटी को पड़ोस वाले अंकल चोद रहे थे। मैं अचम्भे में रह गई कि ये क्या हो रहा है। मैं उनको देखने लगी. आधा एक ही झटके में अंदर… उफ्फ… एकदम से मुझे शॉक लगा और मैं कसमसा गई.

वो आगे आईं और मेरा मुंह बंद करते हुए बोली- इतने दिन कहाँ थे?मैं हकलाते हुए बोला- बबबब.

डिल्डो अभी भी पूजा की बुर में धंसा हुआ था और पूजा का रस बुर में से रिस रहा था.

अगले दिन शाम को ऋतु ने बताया की पूजा की चार सहेलियाँ तैयार हो गई हैं अपनी चूत चटवाने के लिए… और वो इसके लिए दो-दो हजार रूपए देने को भी तैयार हैं. मैंने भी उसकी चुत को नहीं चूसा क्योंकि मैं यह सब पहली बार कर रहा था. अंकल आंटी का सेक्सी वीडियोमैंने अपने कपड़े उतारने शुरू किये और कुछ ही देर में अपनी बहन के सामने बिल्कुल नंगा खड़ा हो गया.

अजय के लंड को भी ये मात दे दे ऐसी है!मॉंटी- मैंने कहा था ना ये बड़ी होगी और ये अजय कौन है दीदी?टीना एकदम से सकपका गई और बोली- कोई नहीं. ‘आआआहह… इस्ससss मर गई मैं तो… जानू मेरी बहुत टाइट चूत है… इतने बड़े लंड से नहीं चुदी हूँ… मैंने चूत में किसी इतना मोटा लंड नहीं लिया. कहकर वो मेरी तरफ घूम गया और उसके लंड पर बस अड्डे की तरफ से आ रही लाइट पड़ने लगी.

दो ढाई बजे तक घर में बस तू बचेगा और तेरी माशूका होने वाली रखैल मेरी चुदासी माँ. जब उसे लगा कि अब बहुत ज़्यादा हो गया है तो उसने अन्दर आकर मॉंटी को धमकी दी.

तुम्हारी सील टूट चुकी है, अब जितना चुदवाना हो करवा लेना।’कुछ देर बाद हम दोनों अलग हो गए। मैं अन्दर जाकर हाथ-मुँह धोने लगी और अंकल को खाना दिया।मैंने अपने हाथ से उन्हें खाना खिलाया और प्यार शुरू हो गया।इसके बाद अंकल के संग गाहे-बगाहे चुदने का माहौल बनने लगा और अंकल ने भी मुझे चुदाई का भरपूर प्यार दिया।जब तक उनकी पत्नी नहीं आईं.

मैं आप सभी से निवेदन करूँगी, खासकर नये पाठकों से कि आप मेरी इस कहानी का मजा लेने के लिये मेरी सभी कहानियाँ शुरू से पढ़ें क्योंकि मेरी अभी तक की सभी कहानियाँ आपस में जुड़ी हुई हैं. लेकिन मैं उसे कस के दबोचे रहा और पूरी ताकत से एक धक्का और मार दिया. फिर वो अपनी टाँगे चौड़ी करके बेड के किनारे पर बैठ गई और डिल्डो अपनी बुर में डाल कर अंदर बाहर करने लगी.

देसी सेक्सी हिंदी में वीडियो आजकल आप बहुत टेंशन लेने लगी हो। कहीं फिर से आप बीमार ना हो जाओ।दोस्तो, ये दोनों माँ-बेटी आपस में गले लग कर एक-दूसरे को तसल्ली देने लगीं मगर आप सोचो मत. उस दिन मेरी चूत का भोसड़ा तो बन गया लेकिन मुझे मज़ा बहुत आया और उस दिन से मुझे लंड लेने की आदत लग गई.

मुझे मालूम था कि अगर कोई दूसरी चूत मिल जाए और वो भी मेरी इजाज़त से, तो कमीना चोदे बिना रहेगा नहीं!सुमित बोला- ठीक है तू पूछ ले उस रंडी से!इस वार्तालाप से उत्तेजित होकर उसने मुझे वहीं बाथरूम में शावर चला के चोद दिया. ’ की सिसकारियाँ फूटने लगीं।मैं उसकी चूत को 5 मिनट तक चूसता रहा। फिर कुछ देर में वो झड़ गई और उसने अपनी चूत का पानी मेरे मुँह में छोड़ दिया. मेरी फटने लगी, मैं बोला- सॉरी!वो बोली- जैसे ही मैं सो गई, तुम शुरू हो गये?मैं बोला- भाभी जी प्लीज, अब नहीं होगा.

ब्लू फिल्म ब्लू

मैंने जब देखा कि वो जाने के लिए तैयार हो गया, तो मैं वहाँ से हट गया और उतर कर दूसरी तरफ़ चला गया. अभी चाची को कुछ ही फोटो दिखाई थी की तभी मुख्य द्वार के घंटी बजी और यह देखने के लिए कि कौन आया है मुझे चाची को वहीं छोड़ कर बाहर जाना पड़ा. कंडक्टर ने आवाज़ लगाई कि जिसको भी पेशाब वगैरह करना है जाकर कर सकता है इसके बाद बस सीधी बहादुरगढ़ जाकर ही रुकेगी.

जैसे ही अंगूरी और सक्सेना दोनों अन्दर की ओर बढ़े, गुलफाम कली भी अपने रूम में जाने के लिए बढ़ी, वे दोनों उनके पीछे चले. तब तक तुम मेरे लिए चाय लेकर आओ।मोना चाय बनाने चली गई और काका पुराने ख्यालों में खो गया।ये दोनों कुछ सोचें.

मैं मूल रूप से देहली का निवासी हूँ तथा मेरा पूरा परिवार वहीं रहता है, लेकिन आई-टी में इंजीनियरिंग करने के बाद पिछले तीन वर्षों से बैंगलोर में नौकरी कर रहा हूँ.

उसके मुंह से गहरी गहरी सिसकारियाँ निकल रही थीं= हाय मेरे राजदुलारे… मेरी जान… मैं तुझ पर सदके जाऊं… मरजाने तैयार पड़ा है मेरी बुर की खबर लेने को… राजे बाबू ज़रा मुझे एक चुटकी तो काटो… मुझे यकीन नहीं हो रहा कि मैं सचमुच इस कम्बख्त के साथ हूँ या ये कोई सपना तो नहीं!मैंने उसकी मोटी गोल मर्दमर्दन करने जैसी चूची को भोंपू की तरह ज़ोर से दबाया और उसकी घुंडी कस के उमेठी. तो बड़ी होकर पता नहीं क्या गुल खिलाएगी?पूजा- मुझे अपने ही ऐसा बनाया है मामू अब बोलो ना. वो तो घुमायेगा या उसमें भी तुझे दिक्कत है कोई?मैंने देखा कि अब बात बन रही है पर मुझे तो सिर्फ मछली की आँख यानि मानसी की चुत दिख रही थी.

फिर मैंने उसके पीछे बैठकर उसके गले से कान तक पहले उंगली की, बाद में जीभ फिराने लगा और दोनों हाथ पेट से होकर टीशर्ट निकाल दी. मरियम के मुंह से ‘आह…’ निकला, मुझे ऐसा लगा कि मेरा लंड किसी बहुत ही गर्म जगह पर जाकर फंस गया है, मेरे हाथ-पाँव काम्प रहे थे, मुझे लगा कि कोई चीज मेरे अन्दर से बाहर आना चाहती है।उसके मुंह से बस वो हल्की सी आह निकली, मरियम ने मेरी तरफ देखा और फिर वो सुधा के मम्मों को पीने लगी. संजय बोलता रहा और टीना गौर से सब सुनने लगी और ये सुनकर उसकी आँखों में चमक भी आ गई.

इसलिए तुम्हें ऐसा लग रहा है।वो कुछ नहीं बोली।मुझे लगा कि ऐसे तो संजना जान जाएगी, अब एक ही उपाय है इसे रोल प्ले में लाना पड़ेगा।मित्रो, मुझे उम्मीद है कि आप सभी को मेरीबीवी की चुदाई की सेक्स स्टोरीपसंद आ रही होगी। मुझे मेल जरूर लिखिएगा।[emailprotected]कहानी जारी है।पतिव्रता बीवी की चुदाई गैर मर्द से करवाने की तमन्ना-5.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ चुदाई: दीवाली वाले दिन मैं और आयेशा बहुत अच्छे से तैयार हुई, मैंने और आयेशा ने डीप ब्लाउज और लहँगा पहना था. सभी आंटी खड़ी हो गई और जाने लगी तो बबिता भी उनसे पहले खड़ी हो गई और मैंने अपना पैर पीछे कर लिया.

गुड मगर ये सब लिया तो अंडरगार्मेंट्स भी दिला दो ना। उसकी भी इच्छा होगी ना, मगर आप को किसी की इच्छा से क्या लेना-देना है।गुलशन- अनीता, तुम ज़्यादा बोल रही हो, मैंने कब तुम्हारी इच्छा को दबाया बोलो? आज जो तुम ये मॉर्डन कपड़े पहन कर घूम रही हो, ऐश कर रही हो. जमीला की चूत भी सबीना की चूत की तरह पानी छोड़ रही थी जिससे मेरी उंगली भीग गई जिनको मैं मुंह में लेकर चाट गया और अब जमीला की चूत में दो उंगली डाल कर उसकी चूत उंगलियों से चोदने लगा और सबीना की चूत को जीभ से चोदने लगा. तब तक आंटी होश में आ गईं थीं और साफ सफाई करके हम तीनों सोफे पर बैठ गए थे.

फिर मैं कुर्सी पर बैठ गया, कुछ देर के बाद ड्राईवर अंदर से बाहर आया.

ये देख कर मेरी बीवी ने अपनी क्लिट सहलाते हुए मुस्कुरा कर मेरी तरफ देखा, तो मुझे ऐसा लगा मानो वो मुझसे कह रही हो- देखा! कितनी शानदार बीवी हूँ मैं! तुम्हारी खातिर तीन-तीन लंड ले लिए अपने सारे छेदों को चुदवाते हुए!! दोनों बेगाने लंड तुम्हारे लंड से दुगने बड़े!!!हाँ… ये सब सच था. क्या चूची थे… एकदम दूध जैसी और बड़ी बड़ी… क्लीवेज तो मानो कोई घाटी हो!मैं आंटी की चूची देखता ही रह गया. तुझे पसंद आए बस वो ले ले।बस फिर क्या था, उसने और भी कपड़े ट्राई किए, कुछ स्कर्ट्स भी लिए। सुमन के दिमाग़ में लन्दन की लड़की की इमेज थी तो उसने कुछ सेक्सी शॉर्ट स्कर्ट्स और टॉप भी ले लिए।गुलशन जी बस इधर-उधर घूम रहे थे, उनको नहीं पता था कि सुमन क्या-क्या ले रही है। जब काफ़ी देर हो गई तो वो सुमन के पास गए और उससे पूछा- कितना टाइम लगेगा?सुमन- बस हो गया पापा.