मोटी गांड की बीएफ

छवि स्रोत,सनी लियोन बीएफ एचडी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

जानवर की सेक्सी फिल्म: मोटी गांड की बीएफ, अब दोनों के ही अंगों से काफी मात्रा में कामरस निकल रहा था और थोड़ी ही देर में उसकी चूत से पच पच … की आवाज आने लगी थी.

हिंदी इंडियन बीएफ सेक्सी वीडियो

वहाँ क्या हुआ?दोस्तो, मैं हर्षद मोटे एक बार फिर से अपनी सेक्स कहानी में आप सभी का स्वागत करता हूँ. बीएफ सेक्सी पिक्चर नंगामैं हेलीमा की चुत चाटता तो गुलजान की चुत में अपनी दो उंगलियां ज़ोर जोर से अन्दर बाहर करने लगता.

जैसे ही चुदाई खत्म हुई, रूपा का फोन आया और बोली- लंच तैयार है, जल्दी से आ जाओ. बीएफ वीडियो चुदाई वाला बीएफचार पांच झकों के बाद मैं मस्त हो गई और बोलने लगी- आंह चोदते रहो जोर जोर से आहह … आहह … बहुत मजा आ रहा है!विपिन भी ‘आहह … आहह …’ करते हुए पूरी ताकत से मुझे चोद रहा था.

मैं देखता रह गया, क्या दिख रही थी, शरीर का गोरा गोरा रंग, पैर तो पूरे खुले थे … एकदम आइटम दिख रही थी.मोटी गांड की बीएफ: वो मेरे नितंबों को दबा कर लिंग को और गहराई में ले जाने लगी।जैसे जैसे घर्षण बढ़ रहा था, उसके नितंबों में भी उछाल आना शुरू हो गया.

रास्ते में मैंने कई बार ब्रेक मारे और वो भी हंस हंस कर बात करती जा रही थीं.अब मैं आपको आकांक्षा के बारे में बता दूँ, उसे मैं प्यार से अक्कू बुलाता हूँ, वह जसपुर से है.

डॉगी वाली बीएफ - मोटी गांड की बीएफ

अब वो मस्त हो चली थी, तो मैं धीरे धीरे लंड को चुत में अन्दर-बाहर करने लगा.दोस्तो, मैं संदीप गुड़गांव से, मेरी उम्र 25 साल है और मैं एक बॉटम हूं.

मैंने कहा- साले नखरे मत कर ऐसे वक्त पर!फिर मैंने उसको अपने पास खींचा और उसको निलेश की गांड पर बैठा दिया. मोटी गांड की बीएफ mp3दोस्तो, ये तो बस मेरी चुदाई की शुरुआत हुई थी। इसके बाद उस रात में मैं 2 बार और चुदी। फिर तो ये रोज का काम हो गया.

मैंने उनके सिर के साथ अपना सिर लगा दिया और उनके कान को हल्के हल्के से किस करने लगा.

मोटी गांड की बीएफ?

तभी मेरे मन में यह प्लान आया कि सरदार अकेले से क्यों … क्यों ना इन तीनों से ही अपनी बीवी को चुदवा दिया जाए. वो खुद मदहोश सी होने लगी थी और मेरे जिस्म को अपने बाहुपाश में कसे हुए थी. जब शैली के गले से मादक सीत्कार आना शुरू हुई, तो मैंने धीरे धीरे अपनी स्पीड बढ़ानी शुरू की.

मैं वहां से आ गया लेकिन मैंने आज भाभी के चेहरे पर वो सामान्य मुस्कान की बजाय कामुकता वाली मुस्कान देखी. मैंने भी लंड को उसकी गीली चूत पर दबाया और 2-3 बार ऊपर नीचे रगड़कर सैट कर दिया. उसको चुदाई का स्वाद मिल गया और उसने खुद ही अपनी गांड को उठा उठा कर चुदवाना शुरू कर दिया.

मैंने बोला- अभी बहुत कुछ बाकी है मेरी जान … अभी तो तुम इसी तड़प के साथ रोमांस फील करो. पर इस दौरान उस बुजुर्ग व्यक्ति ने एक काम बढ़िया किया; उन्होंने हमसे पूछा- बेटा क्या आप ऊपर वाली सीट पर चले जाएंगे!तो इस पर वंदना ने झट से कह दिया- हां अंकल ठीक है. लॉकडाउन में सब घरों में ही रहते थे और किसी तरह से अपना टाइम पास कर रहे थे.

मैं उसका हाथ छोड़कर दोनों हाथों से उसके दूध को थाम लिया और बारी बारी से दोनों निप्पलों को चूसने लगा. ब्यूटी मेरे लण्ड को पूरा मुँह में भरती, फिर हल्का बाहर निकाल कर लण्ड के टोपे को लॉलीपॉप जैसे चूसती।लंड चुसाई का ये अहसास मेरे लिए बड़ा ही सुखद अनुभव दे रहा था.

वो बोली- ये सब क्या है हनी!मैंने कहा- चलो तो यार … तेरे लिए कुछ सरप्राइज है.

मैं भी सलमान की जवान बीवी को पूरी नंगी करके उसकी चूत का रस चाट चुका था.

मैं आँटी को पीछे से जकड़ कर, लण्ड को उनकी गांड में घुसा कर खड़ा हो गया. ’उस पर वो सब मेरे साथ एकदम चिपक कर नाचने लगे और मैं भी पूरे मूड में आ गयी थी. शायरा अब चुपचाप अपने घर का दरवाजा खोलकर अन्दर घुस गयी और मैं सीढ़ियां चढ़कर ऊपर अपने कमरे में आ गया.

कुछ सेकेन्ड्स के खेल में ही उन दोनों ने मेरे बदन में झनझनाहट पैदा कर दी. मैं तुरंत आँगन की तरफ भागा और आड़ू के पेड़ पर लण्ड लगा कर उसी को चोदने लगा. लंड चूसना की कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने पड़ोस के अंकल से चुदाई की सेटिंग की.

इसलिए जब मैं घर पहुंचा तो वो मुझे उसके घर के सामने सीढ़ियों पर फिर से मिल गयी.

थोड़ी देर बाद अंकल ने कहा- बेटा, अब मैं पूरा डालने वाला हूं, सह लेना. सास बोली- क्या बात है, क्यों तड़पा रहे हो, आओ न … मेरे पास!मैं चुपचाप खड़ा रहा. उसकी नीले फूलों वाली कुर्ती बड़ी मस्त लग रही थी मगर इस वक्त वो मेरे लिए एक अड़चन थी.

मैंने उससे पूछा- आज तीनों का ग्रुप सेक्स का इरादा कैसे बन गया?हेलीमा- राज क्या बताऊं, आजकल गुलजान और मेरे पास एक ही ब्वॉयफ्रेंड है और भाभी से हम खुले हुए हैं. फिर मैंने एक जोरदार झटका मारा और आपा की चूत में मेरा पूरा लंड घुस गया. यामिना मुझसे पूछने लगी- साहेब, उसने जो कहा क्या आपको वह बुरा नहीं लगा?मैं- यामिना, मुझे बुरा तो बहुत लगा, लेकिन मैं अभी नया हूँ, तो सबके बारे में जानता नहीं हूँ.

ज़ारा- और एम्येच्योर वीडियोज?मैं- ऐसे वीडियोज जो बिल्कुल ही अनप्रोफेशनल होते हैं.

संजू बेड पर डॉगी स्टाईल में पूर्णतः नंगी थी और पीछे से विक्रम अपने विशालकाय लंड से संजू को डॉगी स्टाईल में ही जोरदार तरीके से चोद रहा था. उसकी टांगों को मैंने अपने कंधों पर रख लीं और गुलजान को उसको किस करने को बोला.

मोटी गांड की बीएफ मैंने वहां खड़ा रहना ठीक न समझा और अपने तने हुए लंड को जिप के अंदर ही ठूंस लिया. वह भी सिसकारी भर रही थीं और मेरे लंड को ज्यादा से ज्यादा अन्दर लेने का प्रयास कर रही थीं.

मोटी गांड की बीएफ वह सारा दूध तुम्हें सारा पी जाना है, जिससे तुम्हें अच्छी नींद आ जाएगी ओके. मैंने नीचे झुककर अपने होंठ नीता के गुलाबी और मुलायम होंठों पर रख दिए.

अब आगे आंटी न्यूड स्टोरी:मैंने देखा यह कहते हुए सरिता आँटी के चेहरे और आंखों पर अजीब खुमारी छाई हुई थी.

किन्नर के सेक्स

मैं उसके होंठों को चूसने लगा तो वो कुछ देर में बिल्कुल नॉर्मल हो गयी. अब दोबारा से चिकना करने की जरूरत थी वर्ना साबुन के सूखा होने से त्वचा में जलन हो सकती थी. कोई भी योद्धा हार मानने को तैयार नहीं था।उसकी योनि संकुचित होकर मेरे लिंग को अंदर ही अंदर दबाने लगी।पूरा बेडरूम आहों, कामुक सीत्कारों और शारीरिक घर्षण की मधुर आवाज़ों से गूँज रहा था। अचानक रेनू ने उछलने की गति बढ़ा दी.

मैंने आंटी को अपनी बांहों में भर लिया और उनके ब्रा का हुक खोलने के बाद उन्हें देखा. भाभी- हम्म … लेकिन इतना दम तुम में रियल में है … या मेरे सामने सिर्फ फेंक ही रहे हो. समीना इस समय एकदम नंगी होकर अपनी चुत का पानी निकालने की कोशिश कर रही थी.

हमारे होंठ आपस में लड़ने लगे जैसे एक दूसरे के होंठों का सारा रस आज की रात ही पी जाना चाहते हों।चुम्बन के बाद मैंने उसकी कमर पर हाथ रखते हुए उसकी गांड को अपने लौड़े पर टिकाते हुए उसे घुमा दिया और उसकी गर्दन पर चुम्बनों की बरसात करने लगा.

उसके दोस्त ने थोड़ी सी जगह बिल्कुल साफ की हुई थी और वह थोड़ी सूखी घास पर एक दरी डाल रखी थी. भरे हुए बदन की औरत को सहलाना कितना कामुक और आवेश भरा होता है, ये तो आप सभी जानते हैं. शायरा अब भी वहीं खड़ी रही और चुपके चुपके मुझे देखती रही … पर मैंने उस पर ध्यान नहीं दिया और चुपचाप घर से बाहर आ गया.

हम तीनों आधे घंटे तक साथ बात करते रहे और जैसा कि कविता पहली बार प्रीति से मिली थी, तो कुछ ज्यादा ही उत्साहित थी. करीब 4 बजे नींद में किसी औरत की कराहने और रोने जैसी आवाज मेरे कानों में पड़ी. उनके घर में भी मैं जब चाहे जाने लगा था, इससे मेरी उनसे काफी घनिष्ठता हो गई थी.

पूरा गाना तो याद नहीं है, पर उसमें एक लाइन थी कि ‘लौड़ा लेकर नाच मेरा …’ मैं बिल्कुल वही कर रही थी और मेरे ऊपर अब चुदाई का मानो भूत सवार हो गया था. भाभी को कुछ दिनों तक आराम करने को बोला गया था ताकि कोई दिक्कत हो तो जल्दी से उन्हें अस्पताल लाया जा सके.

हर बार मैंने अपने साथ हुए सेक्स अनुभवों को सेक्स कहानी के रूप में लिख कर आपके साथ साझा किया है. मेरा लंड तो दुगनी स्पीड से खड़ा हो गया और फटने को हो गया।मैंने कहा- ऐसा क्या कारनामा और कब देख लिया भाभी आपने?तो उन्होंने एक जबरदस्त सेक्सी स्माइल कर के बोली: बताऊँगी जनाब! इतनी भी क्या जल्दी है?मुझे तो कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूं!फिर उन्होंने कहा- आप चिंता ना करो, मैं किसी को भी नहीं कहूँगी कि तुमने चाची के साथ क्या क्या किया है. स्नेहा अपनी जगह से उठ कर नेहा के पास आते हुए- मैं हूँ ना आपकी चूत चाट कर ठंडी कर दूंगी, पहले की तरह.

उसने मुझे आवाज दी- हर्षद, सब यहीं करोगे क्या? बाथरूम में जाओ और गर्म पानी से नहा लो.

चूत को हथेली से रगड़ते ही उसने अपनी चूत को मेरी हथेली पर जोर लगाकर दबाना शुरू कर दिया और वो सिसकारते हुए बोली- कर दो यार … कर दो प्लीज … अब मेरे से बर्दाश्त नहीं हो रहा है. वो भी थोड़ी सहज होती जा रही थी और मेरी बातों के सही तरीके से बिना हिचके जवाब देती थी. जब मैं उनके खड़े लंड पर बैठने लगा तो इस बार मुझे दर्द कुछ खास नहीं हुआ.

इस बार पंखुड़ी भाभी भी कुछ नहीं बोलीं, बस मेरी आंखों में प्यार से देखने लगीं. इस दौरान उसके हाथ मेरे लिंग को सहलाते रहे।मैंने उसको उल्टा लिटा कर उसकी पीठ, क़मर और नितंबों की शिलाओं को सहलाते हुए होंठों से बहुत प्यार किया।वो पलट गई और अपने चूचक को मेरे मुँह में दे दिया.

अगर आपकी पसंद कोई और है, तो आप बिना झिझक कर बोल दें … मैं चुप रहूँगा. मैंने करीब 20 और झटके मारे होंगे कि वो एकदम से मेरे हाथों को नौंचते हुए अपना पानी छोड़ बैठी … और उस पर बेहोशी छा गई. गोरा रंग, लम्बे काले बाल, गुलाबी होंठ और आंखें तो ऐसी कि जो उनमें देख ले उसका दिल घायल ही हो जाये.

क्सक्सक्स को

मैं नीचे उकडू बैठ कर झिरी से देखने लगा- आह … मेरी बेटी का छेद करीब दो इंच की गोलाई लिए हुए था।वो मादरचोद सुरेश अपने मोटे काले लण्ड को बार बार उसकी गुलाबी चूत में सूड़ रहा था और सोनी चीख सी रही थी.

वो बस मादक सिसकारियां ले रही थी- अअअहह … मुम्म्म्म बस लकी … बस कर … कोई आ जाएगा … अब हट जा … आई काट मत साले … मेरी तो जान निकली जा रही है. स्नेहा सुबह उठ के सीधा बाथरूम चली गई और नित्य कर्म से फ्री होकर, एक छोटा सा टॉवल लपेट कर बाहर आई. मैंने कभी अपने पति का लौड़ा मुँह में नहीं लिया था लेकिन अंकल को लौड़ा चुसवाना बहुत अच्छा लगता था.

फिर हेलीमा की चूत में लंड एक झटके में डाल दिया, जिससे वो तड़प कर रह गई. इन्द्रेश अंकल थोड़ा कसमसाते हुए- हाय बेटी आह छोड़ दे … ये क्या कर रही हो?कशिश- रूको न पापा, आपका लंड टाइट हो गया है. baap bete की हिंदी बीएफमैं अभी उसके घर को ही देख ही रहा था कि तभी शायरा ने मुझे अपने घर को ऐसे घूरता हुआ देख लिया.

सुरेश ने उससे कहा- सोनी, पहले एक कहानी सुन!वो उसे पास बैठाकर एक कहानी सुनाने लगा जिसमें एक आदमी रात में जंगल में खो जाता है और उसको वहां एक झोपड़ी में एक परिवार मिल जाता है और रात को आसरा लेने के बहाने वो उस औरत की चूत चोद देता है. एक रोज कोचिंग सेन्टर से आने के बाद मैं बायोलॉजी की किताब को खोल कर पढ़ रहा था.

”उन्होंने मेरी कमर को दोनों हाथों से थामा और अचानक से एक जोरदार शॉट दे मारा. मैंने पूछा- क्या हुआ?राकेश ने कहा- मेरा इस महीना कुछ भी नहीं हुआ और शायद कम्पनी से मुझे अगले महीने से निकाल दिया जाएगा. मैंने उसको अपनी बांहों में जकड़ कर रोक लिया और ऊपर को गांड उचकाते हुए लंड अन्दर लिए ही फच्छ फच्छ करके झड़ने लगीं.

सोनू सच ही कहती थी … इतने मोटे लंड से तुम पूरे दिन लगे रहोगे तो बेचारी की क्यों नहीं सूजेगी!मैं- हम्म चाची जी, मैंने आप दोनों की सारी बात सुन ली थी और ये भी सुना था कि आपकी चुत की खुजली कुछ मांग रही है?चाची- मैं तो कल ही समझ गई थी जब तुम मेरे मम्मों को ताड़ रहे थे और फिर ऊपर टॉयलेट में जो तुमने मेरे पैंटी के साथ किया है वो भी मैं देख चुकी हूँ. उसने मुझसे कहा- आपको कुछ दिक्कत तो नहीं है ना?मैंने बोला- नहीं, क्यों?वो लंड दाबती हुई बोली- आपका ये कुछ खड़ा हो गया है. जब ध्यान आया कि यहां हम खुले में है और कोई भी किसी भी वक्त आ सकता है तो हम अलग हो गये.

फिर मैं उसको वहां से दूर एक तरफ ले गया जहां पर कुछ पेड़ और झाड़ियां थीं.

फिर मैंने उसको उल्टा लेटा दिया और उसके पीछे से उसको चाटने लगा उसकी पीठ पर उसे किस करने लगा. इधर चिराग और स्नेहा ने कॉलेज पहुंच कर अपनी बाईक पार्क की और सीधे कैंटीन में आ पहुंचे, जहां उनके अच्छे वाले बेस्ट फ्रेंड उन्हीं का इंतजार कर रहे थे.

उस पर भी अगर कोई लड़की खुद आमंत्रण दे रही हो, तो फिर किसी भी लड़के को कैसे फील गुड नहीं हो सकता था. एक तो दिव्या एक बहुत ही अच्छी धाविका थी और उसके साथ साथ एक ख़ूबसूरत शरीर की मालकिन भी थी. जितना जोर से विक्रम संजू पेलता, उतना ही जोर से संजू मेरे लंड को चूसती.

स्नेहा भी थकावट के कारण ज्यादा नहीं बोली और अपने रूम में आराम करने के इरादे से आ गई. खाना ख़ाने के बाद हम तीनों पिक्चर देखने चले गए और रात को होटल से खाना खाकर ही वापिस आए. वाइफ पोर्न सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मेरी दूसरी शादी के बाद मैं सुहागरात मनाना चाह रहा था.

मोटी गांड की बीएफ इस तरह से वो रोज दिन में रोहन से चुदने लगी और मैं रात में रोहन के लंड का स्वाद लेने लगी. हम दोनों पूरे गर्म हो चुके थे और चुदाई के नशे में हमें कुछ नहीं दिख रहा था.

मराठी क्सक्सक्स विडिओ

उसने जैसे ही लंड मुंह में लिया तो दोस्तो, मैं मानो सातवें आसमान में था. सुरेश ने मेरी बेटी सोनी की कमर पकड़ रखी थी जिसके कारण वो जाल में फंसी हुई मछली की तरह फड़फड़ा रही थी. यह कहकर उन्होंने दुबारा मेरा सिर पकड़ लिया और अपने लॉलीपॉप को मेरे मुँह में लगा दिया.

पता नहीं मुझे क्या हुआ कि मैंने भी चाचा का लंड पकड़ लिया और वैसे ही करने लगा जैसे वो मेरे लंड के साथ कर रहे थे. उसकी तरफ से पहल देख कर अब तो मेरा लंड बस की छत की तरफ सीधा खड़ा हो गया था. कॅटरिना कैफ बीएफउसकी चूत चाटते हुए मैंने एक बार तो उसकी चूत झाड़ दी और लंड से चोदते हुए उससे कहा- हां मेरी जान.

अब आप जाओ यहाँ से! मुझे घर के काम निपटाकर ऑफिस का काम भी करना है, मैं पहले से ही लेट हो चुकी हूँ.

उससे दो चार बार मिलना होगा, धीरे धीरे उससे खुलना होगा और इसके लिए बातों को सिलसिला मुझे ही चालू रखना होगा. उन्होंने एकदम से बात बदलते हुए कहा- आप मुझे घूरते क्यों रहते हो?मैंने कहा- नहीं नहीं … ऐसा कुछ नहीं है.

उसने धीरे से अपना सिर भी उसकी छाती पर टिका लिया जैसे कि वो कोई और नहीं बल्कि उसका पति ही हो. जब घर में हम दोनों के अलावा कोई नहीं होगा, तब मेरे काले सांप का तुम्हारे छेद में प्रवेश होगा. जब वह मुझसे यह सब बोल रही थी तो यामिना पियोन भी वहीं थी, दरअसल वह मुझे चाय देने ही आई थी.

थोड़ी देर बाद मैंने उससे कहा- आपके घर में किसी प्रेत आत्मा का साया है, जो आपसे कुछ चाह रहा है.

कहानी के चौथे भागजवान लड़की की प्यासी चूत और तीन लंडमें अब तक आपने पढ़ा था कि वो तीनों मुस्टंडे मेरी नंगी जवानी से मस्ती से खेल रहे थे और मेरे मुँह में अपने अपने लंड का पानी छोड़ने की बात कह रहे थे. जिसमें खुल करचुदाई की बातेंलिखी जाती हैं, वही सेक्स कहानी अच्छी लगती है. अब वो अपने सख्त हाथों से मेरे मखमली बदन को मसलते हुए मेरी पीठ, कमर और मेरी उभरी हुई गांड को भी मसलने लगा.

एक्स एन एक्स एक्स बीएफ पिक्चरये देख कर उसकी साथ वाली ने उससे कुछ कहा तो आंटी ने मुझे आवाज लगाई- एक्सक्यू मी. उसने मेरी लोअर को खींच दिया और मेरे अंडरवियर का तंबू उसके सामने था.

सेक्सी वीडियो भाई और बहन

वो बहुत जोर से चिल्ला उठी- उई मामम्मीइई ईईई … नहींईई … आआआह नहींई ईईई नँन्नं … मर गई … आआह छोड़ो ऊऊऊ ऊँह आआआह नहींईईई!एकदम से वो तिलमिला उठी. मैं चुदाई का इतना शौकीन रहा हूं कि कभी कभी तो लगता है कि मैं प्लेबॉय बन जाऊं. उसके अंकल का काला कोबरा जैसा मोटा लंड उसकी चूत में जगह बनाने में लगा हुआ था.

अगर इसको किसी बात का बुरा लगता तो ये शुरू में ही शिकायत करने की बात कहती. कुछ सिखाना नहीं पड़ता और मजा भी पूरा देती हैं जो नयी लड़की भी नहीं दे पाती. इस पर विक्रम बोला- यार, भाभी जैसी हूर से तो भूख कभी शांत हो ही नहीं सकती … लेकिन हां एक वर्ष की प्यास जरूर बुझ गई.

मैंने बड़े प्यार से उनके चेहरे को हथेलियों से पकड़कर होंठों को चूमना शुरू कर दिया. मेरे मुँह से खुद अपने चुतरस का स्वाद लेने वाली रेशमा अब और खूंखार लग रही थी. पहले तो मेरे ब्वॉयफ्रेंड ने आने से मना कर दिया था, शायद उस बात की खुजली थी और दूसरे तो यह मुस्टंडे अपने लौड़ों के साथ मेरे सारे बदन को सहला रहे थे और उसके साथ खेल रहे थे.

अब बस उस आनन्द की अनुभूति लेना बचा था, जिसके लिए मैंने शर्म लाज़ लज्जा और एक अनमोल रिश्ते को तोड़ दिया था. हालांकि इसके लिए ममता भी तैयार थी, पर दिक्कत ये थी‌ कि मिलने के लिए किसी जगह‌ का बन्दोबस्त ही नहीं हो पा रहा था.

हम दोनों सेक्स कर रहे थे तो दरवाजे से मेरी साली बेटी हमारी कामलीला देख रही थी.

मैंने भी राजेन्द्र से हां बोल दिया और उसकी बहन के एडमिशन में हेल्प की. वासुदेव बीएफक्योंकि बहुत दिन बाद आज चूत मिली थी तो मैं ज़्यादा से ज़्यादा मज़ा लेना चाहता था. गांव वाली देहाती सेक्सी बीएफफिर जब थोड़ा थक गए तो उसने लंड निकाल लिया और साइड में लेट कर हम दोनों थोड़ा सुस्ताने लगे. तेरी चुत में अब हर रोज लंड घूम कर ही आएगा, चाहे फिर वो नकली ही क्यों ना हो.

मैं हैरान थी 60 साल की बुड्ढे में इतनी ताकत देखकर!एक बार को तो दिमाग में आया कि इस बुड्ढे से ही शादी कर लेती हूँ.

वो चुत चाटने की बोली, तो मैंने फिर से उसे अपने मुँह पर ले लिया और उसकी चूत चाटने लगा. मैं ढीली होकर राज के बदन से लिपट गयी और जय के लंड के धक्के मेरी गांड में लगते रहे. अनामिका- आह कमीनो … मेरे हाथ खोल दो … आह कैसे काट रहे हो तुम दोनों.

हम दोनों 69 पोजिशन की करीब दस मिनट तक एक दूसरे को चूसते रहे और एक साथ झड़ गए. रूचिका- आह मेरे दल्ले पति … भोसड़ी के अपनी बहू को चोदना है क्या?इन्द्रेश अंकल- हां मेरी रंडी. मैंने कहा- हां चाची तो चली गयी थी।फिर उन्होंने कहा- थोड़ी देर बाद चाची वापसी आती हुई दिखी मुझे और सीधा तुम्हारे घर आयी.

सेक्स बीपी पिक्चर ब्लू

उसके कहने पर मैंने उसकी टांगें खोलीं और अपना लण्ड उसकी छोटी सी चूत पर रख दिया. मैं इत्मिनान से अपनी कमसिन बीवी को उसके पहले सेक्स का मजा देना चाहता था. ये देखकर मैं आंटी को लिटाते हुए उनके पेट पर आ गया और उनकी नाभि को चूमना शुरू कर दिया.

मुझसे उसके दूध देख कर रहा नहीं गया और मैंने अपना मुँह अनामिका के एक चुचे पर रख कर उसे चूसने लगा.

हॉट चाची सेक्स स्टोरी मेरी पत्नी की चाची की गरम चूत की चुदाई की है.

मैंने लंड उसकी चूत पर सैट किया और धीरे धीरे चूत में दबाना चालू कर दिया. उनकी मुस्कान में एक शरारत भी थी। उसके बाद मैं दोबारा से उसके बदन पर हाथ फिराने लगा. सेक्सी बीएफ रोमांस वीडियोकुछ देर सोचकर बसंत जी अपनी बीवी सरिता से बोले- सरिता, क्या तुम्हारे ध्यान में कोई आस पास कमरा खाली है?सरिता- नहीं, मुझे तो नहीं लगता.

उसकी हाइट ज्यादा नहीं थी वो देखने में इतनी सुंदर थी कि मैंने बहुत कम ऐसी लड़कियां देखी थीं. हम अपनी बेटी को तेरे पास कहीं बाहर नहीं भेजेंगे।वो तुरंत राजी हो गया।मैंने उसे कहा- यार सोनी बहुत छोटी है. मेरी निगाहें मंडप पर थीं और मेरा ध्यान अपने बगल में खड़ी ब्यूटी पर था।ब्यूटी मुझसे इस कदर चिपक कर खड़ी थी कि उसकी गर्म गर्म साँसें मुझे अपने कंधे पर महसूस हो रही थी।मैंने हिम्मत करके अपनी कोहनी से उसके चूचों को हल्का हल्का दबाना शुरू कर दिया.

उनका लंड हल्का काला था लेकिन लगभग आठ इंच लम्बा और लगभग 3 इंच मोटा मूसल लंड था उनका!मैं बोली- अंकल, ये लंड कहाँ से लाये हो?तो वे हंसने लगे और बोले- ये दूध का लंड है. उसके रसीले होंठों पर मम्मों के ऊपर, कंधों पर मैंने उसको चूम चूम कर खुद को जिस्म की मदिरा के नशे से चूर कर लिया था.

फिर सनी चोदने लगा मगर मेरी गांड में दो लंड फंस गये थे इसलिए चुदाई सही से नहीं हो पा रही थी.

चुदाई के कारण रचना जग गयी, पर उसने मुझे मना नहीं किया- बेबी तुम्हें जितना मन हो, उतना चोदो … जिस छेद को चाहो, उसे चोदो. वो बोलीं- चलो अब कैसे लोगे?मैंने उन्हें घोड़ी बनाया और उनकी बड़ी सी चौड़ी गांड मेरे सामने आ गई थी. रचना ने भी मुझसे वादा किया कि जब हमारी शादी होगी, तब हमारी पहली सुहागरात यादगार होगी.

चूत मारने वाली बीएफ पिक्चर आप सबको बता दूं कि उस टाइम मैंने लोवर के नीचे फ्रेंची पहनी हुई थी, जिसमें से तना हुआ लंड अच्छे से दिख जाता है. स्नेहा ने जैसे ही चिराग की आवाज सुनी तो ब्रा उठा कर अपने स्तन पर ले ली और ब्रा ठीक से पहनते हुए बोली- तुझे इतना भी नहीं पता कि किसी लड़की के रूम में बिना नॉक किए नहीं जाना चाहिए?चिराग- ओये भूतनी … ये हमारे बीच कब से होने लगा और तेरे पास ऐसी कौन सी चीज बची है, जो मैंने नहीं देखी.

मैं- वो तेरी तो दोस्त है … बातों बातों में बोल दिओ यार … तेरी बात का तो वो बुरा भी नहीं मानेगी … प्लीज़. जब कभी भी मैं रात को लकी भैया के घर जाता था, तो वह मुझे मार्केट से चॉकलेट कैंडी या लॉलीपॉप दिला कर लाते थे. मैं- बस हो गया कुतिया … शुरू शुरू में तो दर्द होवे ही … फिर मजा ही मजा आवे.

बीपी ओपन सेक्सी मराठी

जो लोग फ्लैट में रहते हैं, उनको पता होगा ही कि फ्लैट वालों का अधिकतर टाइम पास बाल्कनी में ही होता है. मैं अंदर गई तो एक 45-50 साल का व्यक्ति सामने कुर्सी पर बैठा था।उसने मुझे बैठने के लिए कहा और मैं उसके सामने वाली कुर्सी पर बैठ गई।उसने मेरे सभी कागजात को अच्छी तरह से चेक किया और बोला कि फ्लैट तो आपको मिल जायेगा. अपना एक हाथ उसकी चिकनी कमर पर रख कर उसको अपनी ओर खींच कर अपनी बांहों से लगा लिया.

फिर मैंने तीसरी बार फोन करने के लिए नहीं सोचा और अपने काम में लग गया. मैंने आँटी को बेड पर लिटाया और उनके दोनों घुटनों को मोड़कर उनकी चूत को देखा.

तो मैं भी फ्रेश होकर विक्रम के रूम में चला गया और इधर उधर की बातें करने लगा.

इस छत के चारों तरफ एक तो वैसे ही काफी ऊंची-ऊंची दीवारें हैं ऊपर से एक कोना ऐसा है कि वहां कुछ भी होता रहे किसी को कुछ नहीं पता चलेगा. मेरी बीवी ने सरदार का मोटा लंड अपने हाथ में ले लिया और कुछ ही पलों में उसने लंड को मुँह में ले लिया. उन सभी को मोहल्ले में की शादी में जाना था, सभी लोग जाने वाले थे इसलिए मैं अकेला घर में कैसे रहूँगा, यह प्रॉब्लम थी.

फिर मैं बाथरूम के अन्दर चला गया, वहां से बाहर देखने के लिए मैंने दरवाजे को थोड़ा खुला रखा. और अब मैंने सोचा कि मुझे भी अपनी कहानी सब लोगों को बतानी चाहिए।यह कहानी डॉटर फादर सेक्स की है. ये देख कर मैं जल्दी से अपने कमरे में आया और बीवी से बोला- यार सुन … देख वो सुरेश ने तो हमारी बेटी को लण्ड पर उठा रखा है और उसे चोद रहा है.

मैं गया तो उन्होंने मुझे पहचान लिया, पर मैंने उनसे कहा- आप मेरे दोस्त को नहीं बताना.

मोटी गांड की बीएफ: उसने जिस तरह से घर को सज़ा कर रखा था, उससे पता चल रहा था कि उसके पास पैसों की कोई कमी नहीं थी. मैंने उसे ग्रुप सेक्स के लिए तैयार किया और शिमला लेजाकर तीन लड़कों से एकसाथ चुदवाया.

मुझे उसका गर्म गर्म वीर्य अपनी चूत में चलता हुआ साफ महसूस हो रहा था. मैंने आंटी को अपनी बांहों में भर लिया और उनके ब्रा का हुक खोलने के बाद उन्हें देखा. मैंने कहा- यहां कैसे लेटूंगा मिट्टी में?वो बोले- तो फिर मेरे साथ आ!वो मुझे एक कोठरी में ले गये.

मैंने उनके सामने गिलास कर दिया और उन्होंने मेरे हाथ से गिलास पकड़ लिया.

खैर … मैंने उसकी चूत के दाने को अपने होंठों से दबाया और जीभ से रगड़ने लगा. चूचों के नीचे पतली होती कमर पर तराशी हुई गहरी नाभि किसी की भी नियत खराब करती इठला रही थी. दोनों अपने अपने रूम जाकर फटाफट फ्रेश हुए और नीचे खाने की टेबल आ गए.