बहुत अच्छा बीएफ

छवि स्रोत,चूत और लंड की लड़ाई सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

হিন্দি বিএফ হিন্দি: बहुत अच्छा बीएफ, एक बार तो मुझे अच्छा नहीं लगा लेकिन फिर जब उसने मुझे चूमना शुरू किया तो मैं मन ही मन उसके मजे लेने लगी.

सेक्सी इंडियन व्हिडीओ एचडी

खेत पर तमाम लड़कियां काम करती थीं इसलिये चोदन की व्यवस्था भी हो जाती थी. करीना कपूर का नंगा फोटो सेक्सीसाथ ही जेठजी अपने दोनों हाथ ऊपर करके मेरे दोनों दूध दबाने लगे, जिससे मेरे निप्पल तन गए और मुझे चूत चुसवाने का मज़ा आने लगा.

मन तो मेरा भी यही चाहता था कि बाकी कामों के बारे में सोचना छोड़ कर इस पल का मज़ा लूं, पर फिर दिमाग में आया कि पूरी रात बाकी है और जेठजी को भी तो तड़पाना है … इसलिए मैं उन्हें अपने से अलग करते हुए बोली- ठीक है, आपको जो करना है बाद में करना … क्योंकि अभी मुझे बहुत काम करना बाकी है. दूसरा सेक्सी दिखाएंमोनिका- अच्छा है … मैं डर रही थी कैसे बताऊंगी, तुम मुझे वादा याद दिलाओगे बेबी हमारे होने का … जो मैंने तुमसे किया था.

हम दोनों सुबह करीब 9 बजे घर से निकले और गुड़गांव के ही एक कॉम्प्लेक्स में गए.बहुत अच्छा बीएफ: एक बार फिर आनन्द से मेरी आंखें चौंधियाने लगीं और मैंने अपनी बंद होती आंखों से कहानी का आखिरी लाईन में यही पढ़ा था कि नायक ने चुदाई के आखिरी धक्के लगा कर चूत में अपना रस बहा दिया.

और आज भी ममता को पैसे की पेशकश करते हैं पर ममता ने कभी उनसे पैसा नहीं लिया.उन्होंने मेरा लंड अपने हाथों की मुट्ठी में ले लिया और मुझसे बोली- सुरेश … हाय रे तेरा हथियार कितना बड़ा है.

वह लड़की सेक्सी वीडियो - बहुत अच्छा बीएफ

उसकी उम्र कोई 30 साल के आसपास है, उसकी शक्ल बिल्कुल सिंगर नेहा कक्कड़ से मिलती है.मैंने वहां पँहुच कर उनकी दोनों चूची ऊपर से ही मसल दिया और बोला- विभा मैम आ रही है।मैं आंटी की चूची मसल ही रहा था कि तभी मैम अंदर आ गयी.

मैं नीचे से उसके गाउन में हाथ डाल कर उसकी टांगों और जांघों पर फेरने लगा. बहुत अच्छा बीएफ तब तक आप मुझे मेल करके बताएं कि आपको यह अदलाबदली कहानी कैसे लग रही है?[emailprotected]कहानी जारी है.

पहली बार दीदी को बहुत अजीब फीलिंग हो रही थी, लेकिन उनके पास कोई चॉइस नहीं थी.

बहुत अच्छा बीएफ?

तभी डोली ने तेज झटके देने शुरू कर दिए और मेरी कमर को जोर से जकड़ कर शांत हो गयी. भाभी ने मेरी मांग में सिंदूर भरा और कहा- अब तुम मेरी धर्मपत्नी हो गई हो. फिर मैं बर्तन साफ करने लगा और काम खत्म करने के बाद मैं उन लोगों के पास चला आया.

दीदी ने फोन रखने के बाद हमारे रंग उड़े चेहरे को देख कर कहा- क्यूँ भई क्या हुआ?मैंने कहा- दीदी हम रात नहीं रुकेंगे और आपने अपने बर्थ-डे के बारे में क्यों नहीं बताया. हम दोनों ने एक साथ चुत पर लंड सैट करके सीटी मारी और पूरी ताकत से झटका मार दिया, इससे वो दोनों एक साथ जोरों से चिल्ला उठीं. उसके ऊपर आच्छादित छोटे रेशमी बाल खड़े होने का प्रयास करते हुए थोड़े सचेत प्रतीत हो रहे थे.

मनु सब कुछ सामान्य दिखाने का असफल प्रयत्न कर रही थी, जबकि हमारे सीने में ज्वारभाटा उफान ले रहा था. उसने उठते हुए जानबूझ कर अपनी टांगों को ऐसे खोला कि मेरी नज़र सीधा उसकी काली कच्छी पर गयी. आपको जवान लड़की की चुदाई की मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी प्लीज़ मेल करके मुझे जरूर बताएं.

चाची को भी शक नहीं हो सकता था क्योंकि घर में कोई मर्द तो रहता ही नहीं था. तब तक आप मुझे मेल करके बताएं कि आपको यह अदलाबदली कहानी कैसे लग रही है?[emailprotected]कहानी जारी है.

उसने और तेज तेज धक्के लगाने शुरु कर दिए। मेरी और तेज चीखें निकलने लगी.

फिर सर ने पूछा- रजनी, तुझे कैसा लगा?मैंने कहा- सर बहुत अच्छा!तो सर बोले- क्या तुम और ज्यादा मजा लेना चाहती हो?मैंने कहा- मैं कुछ समझी नहीं सर?तो सर ने कहा- यहां मेरे 2 कॉलेज के दोस्त आये हुये हैं और एक भानुप्रताप (मेरे भी रिश्तेदार वो अंकल जिनका जन्मदिन था) वो तीनों तुझे चोदना चाहते हैं.

जीजा जी- बात तुम सही कह रहे हो, पता नहीं आगे और कितना परेशान करेंगी. मुझे इस समय मेरी परीक्षा ज्यादा महत्वपूर्ण लग रही थी और मैं देरी नहीं चाहता था तो मैंने ओके कह दिया. फिर मैं उठी और बाथरूम जाकर साफ़ करके फिर से रूम में आकर ब्रा पैंटी पहन कर बैठ गई.

वे उधर अपने दोस्त के बेटे की शादी में जा रहे हैं … और कुछ बिजनेस की मीटिंग भी हैं … इसलिए हम मुंबई ही रहेंगे … मॉम-डेड के आने के बाद देखते हैं. इसलिए मैंने अपने कंधों पर लिया हुया स्टॉल अपनी टाँगों के उपर ले लिया. अगले ही पल उन्होंने दीदी की पैंटी को उतारने के लिए हाथ बढ़ाया तो दीदी ने अपनी टांगें हवा में उठा कर पैंटी को निकालने के लिए अंकल की मदद कर दी.

मैंने उसे भी उसकी बहादुरी का इनाम देते हुए एक चुम्मा लिया और उसी समय केले पर मैंने रक्तिम लाली देखी.

उस लड़के का लंड सच में बहुत मोटा और लम्बा होने के साथ ही देखने में भी अच्छा था. और मैं चाटने लगा उसकी चूत! वो ‘और चाट अभिराज आहाहा हाहा हाहा … मजा आ रहा है … ज़ोर से … ज़ोर से! और ज़ोर से … खा जा!इतने में वो झड़ गई, मैंने उसकी चूत चाट कर साफ कर दी. इस सबसे उनके अन्दर इतनी आग बढ़ गई थी कि वो सेक्स करने के लिए मुझसे भी ज्यादा वो तड़पने लगी थीं.

इस बार साकेत भैया ने दीदी के चिल्लाहट को नजर अंदाज करते हुए जोर से धक्का मारा और लंड पेल दिया. अभी मैंने आधा खाना भी खत्म नहीं किया था, उससे पहले ही जेठजी ने अपना खाना खत्म कर दिया और हाथ मुँह धोकर मेरी तरफ देखकर मुस्कुराने लगे. ”अपना अंगूठा ज्योति की बुर में बनाये रखते हुए मैंने कहा- कब और कैसे हुआ, पूरी बात सच सच बताओ?वो बताने लगी:एक दिन राकेश के मम्मी पापा और भाई लखनऊ गये हुए थे, वो घर पर अकेला था.

वसुंधरा के होंठ मेरी नाभि पर और दोनों उरोज़ मेरी दोनों जांघों के साथ कस कर सटे हुए थे.

दस मिनट तक मैं उसकी चूत को चोदता रहा और वो इस दौरान दो बार झड़ गयी थी. उससे बात होने के बाद होटल की दो लड़कियां मुझे अपने साथ में ले गयीं.

बहुत अच्छा बीएफ वो बोला- साली जी, तुम फिक्र मत करो, तुम्हारी चूत को इतना चोदूंगा कि तुमसे चला नहीं जायेगा. मैंने इस बात को सुनकर समझ लिया कि वो मस्त होने लगी है, तो मैंने धीरे से उसका लोअर और पेंटी एक साथ निकाल दी.

बहुत अच्छा बीएफ फिर उसने एकदम से मेरे लंड को पकड़ा और अपने होंठों में अंदर ले लिया. मैंने उससे शाम को लेने आने का कह दिया … इस पर वह ख़ुश हो गयी और बोली- ठीक है … पांच बजे आ जाना.

मैं सिर्फ उनकी बातें सुन रहा था, पर कुछ बोल नहीं रहा था क्योंकि मैं सब समझ गया था कि दीदी को कहां दर्द है.

मोटा मोटा लंड सेक्सी वीडियो

जब दो तीन बार मेरा हाथ ऊपर को गया और मालकिन की तरफ से कोई आपत्ति नहीं हुई, तो मेरे मन में आने लगा कि अपना हाथ और ऊपर तक घुसेड़ दूँ. अब मैंने धाम रखे आंसुओं को बह जाने दिया और कहा- धोखा कैसा संदीप? तुम कहना क्या चाहते हो?इस पर संदीप की आंखें भी छलक आई थीं. मैंने अपने तने हुए लंड को हाथ में लेकर हिलाते हुए भाभी को दिखाया और कहा- देखो, कैसे उतावला हो रहा है मेरा औजार आपकी इस प्यारी सी मुनिया (चूत) को एक बार फिर से प्यार करने के लिए.

धन्यवाद[emailprotected]मेरी पिछली कहानीक्लासमेट की मां चोद दीभी आपने पढ़ी होगी. एक बात यहां पर मैं पाठकों को बता देना चाहता हूं कि औरत के शरीर में दो प्रकार होंठ होते हैं. झड़ने के बाद अंकल कुछ देर वैसे ही पड़े रहे, इसके बाद वो दीदी के ऊपर से हट गए.

मेकअप के बाद उन्होंने एक बार मुझसे फिर चुदाई करवाई और फिर हम दोनों पति पत्नी की तरह रहने लगे.

मालकिन- तो फिर तू वैसे ही खाली हाथ आ गया!मैं सर झुका कर खड़ा हो गया. मेरा भाई मेरी ब्रा पैंटी पहने हुए था और लैपटॉप पर गे वाली पोर्न देख रहा था. कुछ देर चूचियों चूसने और दबाने के बाद उसने मुझे जमीन पर घोड़ी बनाया और पीछे से मेरी गांड चोदने लगा.

मैंने उत्तेजना में तुरंत ही स्वीटी आंटी के पैन्टी के अन्दर हाथ डाल दिया और उनकी चुत के पंखुड़ियों को अपने हाथों से रगड़ने लगा. मैं तय समय पर शुक्रवार को ट्रेन में बैठा और शनिवार सुबह दिल्ली पहुंच गया. इतना सब हो जाने के बाद भाभी का भी मन कर रहा था, पर उन्होंने मुझे इशारा देकर मना कर दिया.

जब दरवाजा नहीं खुला तो रेखा पीछे के आंगन वाले दरवाजे की ओर बढ़ी, रास्ते में ड्राइंग रूम की खिड़की पड़ती थी जो इत्तेफाक से खुली हुई थी. पायल की आंखें बंद हो गई थीं, वो मेरे धक्कों को झेलने की पूरी कोशिश कर रही थी.

उन्होंने भी मुझे अपने से चिपका लिया था और पूरी ताकत से मेरी चुदाई किये जा रहे थे. इसके बाद उसने मुझे अश्लीलता से देखते हुए पहले अपनी साड़ी निकाली … और ब्लाऊज़ और पेटीकोट में ही मेरे ऊपर चढ़ गई. लेकिन वसुंधरा की सिसकारियाँ पल-प्रतिपल धीमी होती जा रही थी और क्षण-प्रतिक्षण कामदेव हालात पर और हम दोनों के मन पर अपना अधिपत्य लग़ातार बढ़ाते चले जा रहे थे.

प्रकाश के माता पिता अपराधबोध से दबे रहते हैं इसीलिए वो बच्चे को अपने साथ ले गए.

खैर … ये सब तो उसे कल्पना करने के लिए बताया जाता है, जिस बताने के लिए कोई उदाहरण न हो. कहानी के बारे में आपको यदि कोई सुझाव देना है तो उसके लिए आपका स्वागत है. ”कैसे हो जायेगा? कोई हंसी खेल है क्या?”तुम उसे बुलाओ तो सही, हंसी हंसी में ही हो जायेगा.

पीछे वाले आदमी का दूसरा हाथ मेरी नाभि पर था और उसका खड़ा लंड जो 8 इंच से कम नहीं था, वो एकदम मेरी गांड पे सहला रहा था. खाना खाते वक़्त नीत बोली- सर सच में आपका लंड जबरदस्त है, जितना मुझे आशा ने बताया ये उससे भी ज्यादा कड़क है.

मेरे पापा मम्मी जब रंग लगाने के लिए गए, तो आंटी ने उन्हें यह कह कर रोक दिया कि उन्हें रंग लगाना पसंद नहीं, अबीर लगाइए. इसके बाद चुचियों को मसलने के साथ ही दीदी की चुत में अपने लंड को अन्दर और अन्दर पेलने के लिए जोर जोर से झटके देने लगे. मैं अपने लंड को शांत करने की कोशिश कर रहा था मगर मेरे अंदर की हवस और बढ़ती जा रही थी.

सपने में कपड़े की दुकान देखना

नीचे से दीदी भी अपनी गांड उछाल कर चुदाई का मजा ले रही थीं और साथ में कामुक आवाजें कर रही थीं.

इसी बीच वो लेडी कूपे में आकर बैठ गई और मैं बिना खाना खाए ट्रेन में आकर बैठ गया क्योंकि ट्रेन चलने लगी थी. टांगों को पकड़ कर चाची की चूत में तीन-चार धक्के लगाने के बाद ही वो रुक गये और एक तरफ गिर गये. अब फिर से ड्राइवर ने गियर बदला और उसका हाथ फिर से मेरी फुदी पर टकरा गया.

फिर मैंने उनके पैरों को ऊपर किया और उनकी चूत को मेरे लंड के सामने लाया. दोनों में यह तय हुआ कि राजन उसे ममता और ममता राजन को मेनेजर साहब कहेगी. गुड्डू सेक्सी वीडियोमगर रेशमा ने एकदम से मेरी पकड़ से छूटते हुए मेरे लंड को बाहर निकाल दिया और मेरी तरफ गुस्से से देखा.

इससे पहले कि मैं कुछ कह पाता उसने मेरे मुंह पर जोर का तमाचा जड़ दिया. मैंने सवालपूर्ण नज़रों से जेठजी की तरफ देखा, तो वो हल्के हल्के मुस्कुरा रहे थे.

मैंने लेने से मना किया तो कहने लगी- तुम्हारे भैया दे गये हैं, प्लीज ले लो. मेरा फर्स्ट एसी में रिजर्वेशन था, 2 बर्थ का केबिन था, जो कोलकाता से खाली चल रहा था. मैं लगातार उनकी चूचियों को दबा रहा था और चूत को रगड़ रहा था … जिसे उनको डबल मजा आ रहा था.

फिर परमीत ने हमारे सामने हाथ जोड़ लिए और हमारी बातों को मानने के लिए तैयार हो गई. आप कहां हैं?मैं बोली- रुको मेरा फ्रेंड आ रहा है, वो तुम्हें लेकर आएगा. कुछ ही समय में हम दोनों इतने खुल गए थे कि चूत, लंड, भोसड़ा आदि बोल कर बात कर लेते थे.

मैंने देखा कि जीजा का लंड उनके अंडरवियर में पूरा जोश में आ चुका था.

हालांकि दोनों एक दूसरे के विपरीत मुँह करके लेटे थे लेकिन कुछ देर बाद दोनों ने करवट ली, अब हम दोनों एक दूसरे के सामने थे। कुछ समय बाद नींद में ही अपना पैर मेरे और हाथ ऊपर रख के सो गई जिसके कारण मेरे नींद खुल गयी. एक बार तो मैं भी हैरान हो गया कि इसे अचानक से क्या हो गया? मगर मुझे पता चल गया था कि वो इस बात से खफा थी कि मैं पूनम को ताड़ रहा था.

वो मेरी चूत को हाथ से चोद रहा था और मेरी गांड अपने लंड से चोद रहा था. उसकी नाइट ड्रेस जोकि एक गाउन जैसी थी, नीचे से उठ कर उसकी जांघों तक आ गयी थी. फिर उन्होंने अपनी एक उंगली मेरी गांड में डाल दी, मुझे बहुत दर्द हुआ लेकिन कुछ देर बाद मजा भी आने लगा.

फिर मैंने अचानक एक धक्के में अपना पूरा लंड चाची की गांड में अंदर तक घुसा दिया. मैंने धीरे से उसको संभालने के बहाने के उसकी चूचियों के नीचे अपने हाथ रख लिये. मैंने कहा- क्यों।ये बोले- मजे करने हैं और तुमको जरूर आना पड़ेगा।मैंने कहा- मजे करना हमेशा जरूरी नहीं होता, साफ साफ कहो कि क्या बात है?ये बोले- यार मेरी नौकरी खतरे में है.

बहुत अच्छा बीएफ पापा के बेडरूम में एक छेद है जो विण्डो एसी की साइड में है, वहां से पूरे बेडरूम का एक एक कोना दिखता है. इसके सपने देखना तो मेरे जैसी लोमड़ी के लिए अंगूर खट्टे होने वाली बात थी.

मेल सेक्सी व्हिडिओ

वह बोली- चाचा जी हैप्पी और हनी के बारे में आपने क्या सोचा?सोचना क्या है बेटा. मैंने बहुत ही प्यार से उसकी चूचियों को सहलाना और दबाना शुरू कर दिया. उसने एक लाल रंग की हाफ बाजू वाली टीशर्ट पहनी हुई थी जिसका ऊपर वाला बटन खोल रखा था उसने.

एक लम्बा किस करने के बाद मैंने दरवाजा बंद करने के लिए जैसे ही दरवाजे की तरफ देखा, वहां मोना खड़ी मुस्कुरा रही थी. मैं उठी और उसके लंड को अपनी चुत पर लगाकर बैठ गई और झुक कर उसको किस करने लगी. आवाज हिंदी सेक्सी वीडियोफिर भाभी बोली- निक, मेरे मन में एक बात है जो मैं तुमसे कहना चाहती हूं.

मैंने ये देख कर भाभी को अपनी तरफ झुका लिया और उनकी गांड को हाथ से ऊपर करके भाभी की चूत को चोदने लगा.

आज शैली को पूरी नंगी करने में मुझे कोई भय नहीं था क्योंकि आज तो उसकी मम्मी ने ही उसे मेरे पास चूत चुदाई के लिए भेजा था. मैं उसके होंठ चूसने लगा और एक तेजी से शॉट मारा, तो इस बार मेरा लौड़ा पूरा अन्दर चला गया.

सपना- वो तो उसको डराने के लिए बोला था … तुम लगते ही साउथ इंडियन हीरो जैसे हो, तो क्यों ना बोलूं. हम दोनों कार से उतर आए, मैंने अपना बैग निकाला और हम दोनों साथ में घर में अन्दर आ गए. संदीप की स्पीड कुछ पल कम हुई, तो मैंने खुद अपनी कमर को पीछे की ओर धकेलना शुरू कर दिया.

मैं उन्हें धक्का देकर अपने से अलग करते हुए बोली- क्या भैया जी, अभी भी आप मुझे श्वेता भाभी ही समझ रहे हैं क्या? इस बार तो मैंने अपनी नाइटी पहनी है.

अब शाम को जल्दी आ जाना, मैं कंट्रोल नहीं कर पा रही हूँ बहुत दिन हो गए हैं. शायद हॉस्टल वाली लड़कियों के लिए सब कुछ आम हो, पर हमारे लिए सब कुछ खास और उत्तेजक था. जहां तक मेरी पढ़ाई की बात है तो मैंने कंप्यूटर साइंस में डिग्री की हुई है.

सेक्सी नेपाली फुल एचडीजीजा का लंड काफी मोटा और सख्त था और मेरी चूत में फंसता हुआ उसको खोल कर चोद रहा था. मैंने भाभी की चूत में फिर से लंड को डाला और जोर जोर से चुदाई करने लगा.

ब्ल्यू सेक्सी व्हिडिओ

उसके खत्म होते ही दीदी ने कहा- मैं फ्रेश होकर खाना बना देती हूँ, तुम सब गप्पें मारो, फिर रात में बातें करेंगे. इससे मेघा एकदम चौंक गयी, लेकिन उसको मज़ा आ रहा था, इसलिए वो कुछ नहीं बोली. मैं बाहर गई और देखा तो पूरा घर खाली था केवल वह नौकर और हम तीन लड़कियां ही बची थी.

अभी तक मैंने लेस्बियन सेक्स के द्वारा ही अपनी चूत का पानी निकाला था. मैं फ़िलहाल स्पर्धा परीक्षा की तैयारी कर रहा हूँ और साथ ही साथ फ्रीलांसर भी हूँ. मैं अभी बाकी था, तो कुछ देर बाद मैंने फिर से चाची की चुदाई शुरू कर दी.

मैंने उसके बालों से खेलते खेलते देखा कि उसकी आंखें चढ़ने लगी थीं, जैसे एक पैग शराब का नशा चढ़ रहा हो. वे मेरे गुलाबी गाल को चूमते हुए बोले- सोनम जान, मजा आ रहा है न अब तुम्हें?हां … बहुत अच्छा लग रहा है. पर कुछ महीने बाद उसकी पढ़ाई पूरी हो गयी तो बड़े बुझे मन से वो घर गया.

अब हम वहाँ चार लोग ही बचे थे।मालिक के जाते ही उस अरबी ने मुझे इशारा किया और अपनी तरफ बुलाया।मैं धीमे कदमों से उसकी तरफ चल दी. आज उन्होंने गहरे नीले रंग की साड़ी पहनी थी, वो बहुत ही सुंदर दिख रही थीं.

मैंने जिस दिन बाथरूम में तेरे लंड को देखा था उस दिन से ही मेरी चूत तेरे लंड को लेने के लिए मचल रही थी.

इधर राज मेरे ऊपर जोर डालने लगा- संजय, सही सही बता, कुछ तो गड़बड़ है? तुझे मेरी कसम!वो मेरा दोस्त था तो मैंने छुपाना मुनासिब नहीं समझा और सब बता दिया. सेक्सी हिंदी बफ फ़िल्मयह बात तब की है जब मैं फर्स्ट ईयर में था। छुट्टियों में घर आया हुआ था. न्यू हिंदी सेक्सी फिल्मेंउसके साथ साथ वो मुझे इधर उधर किस भी करने लगी, मेरे अण्डों को भी वो चूसने लगी. प्रकाश के माता पिता अपराधबोध से दबे रहते हैं इसीलिए वो बच्चे को अपने साथ ले गए.

इस मजेदार सेक्स कहानी के तीसरे भाग में आपने पढ़ा कि शान्ति भाभी अपने साथ एक प्यासी भाभी को लेकर मेरे पास आ गई थीं और हम दोनों ने उसे गर्म करते हुए चुदाई की पोजीशन में ला दिया था.

भाभी ने कहा- कुछ नाश्ता वगैरह?भैया ने भाभी से कहा- हां मुझे नाश्ता पैक करके दे दो … मैं रास्ते में खा लूंगा. मैंने चुपचाप अपनी और जेठजी का प्लेट को उठाया और बिना जेठजी की तरफ देखे रसोई में चली गयी. वो बहुत अच्छा लगा तो मैंने उसकी सारी बातें मानी सेक्स के दौरान!मैं जानती हूँ कि आज के टाइम में किसी गैर इंसान पर भरोसा करना मुश्किल है.

मैंने नंगे होकर थोड़ा मेकअप किया और फिर सिर्फ टी-शर्ट पहन कर बेड पर लेट गई. लंड घुसने से वो लगभग चिल्लाने ही वाली थी कि मैंने हाथ से उसके मुँह को दबा दिया. अभी भी मैं एक लड़का था, लेकिन भाभी जी के लिए मैं उनकी एक दुल्हन थी.

बिल्कुल नंगी पिक्चर सेक्सी

इस बार साली चीखी पर मेरा हाथ उसके मुँह पर था।एक बार तो दर्द हुआ उसको … पर कुछ झटकों के बाद ही वो मज़े लेने लग गई। वो आ आ आ आ की आवाजें निकाल रही थी, मैं उसको चोद रहा था।लगभग 5-7 मिनट चुदाई के बाद उसका पानी निकल गया था। तेज आ आ आ के साथ वो ढीली हो गई. मेरी बात सुनकर चाची थोड़ी हैरान हुई मगर फिर खुश हो गई और मुझे गले से लगा लिया. मैं- तो अब मुझे मेरे भाई की तरफ से क्या मिलेगा?आदी- जो आप बोलो दीदी.

फिर उसने अपने पर्स से 5000 रुपये निकाल कर मुझे दिए और बोला- यह मेरी तरफ से तेरी चूत को।उसके बाद वह चला गया.

अब मैं झल्ला कर पैर पटकते हुए जाने लगी, तो संदीप ने लपक कर मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा- अरे जरा रुको तो, इतनी जल्दी नाराज होना भी अच्छी बात नहीं.

कुछ देर बाद मैंने प्रीति को बाथरूम में ही डॉगी स्टाईल में पोजीशन बनाया और पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया. मेरे मुँह से सिसकारियों का निकलना स्वाभाविक था और अब मैंने अपना एक हाथ नीचे लाकर संदीप के लंड को कपड़े के ऊपर से ही पकड़ना और दबाना चाहा. सबसे बड़े लिंग वाला सेक्सी वीडियोचित्रा ने चिढ़ कहा- तुम अपनी खुद की गांड मरवाओ, तब दर्द का पता चलेगा.

मुझे मेल करें, मुझे बतायें कि आपको भाई बहन की पहली चुदाई की ये कहानी कैसी लगी. मगर फिर भी उसने उत्तेजना में पूरा लंड अपनी चूत में अंदर ले लिया और मेरे होंठों को पीने लगी. उस पर कब से नजर है मेरी जान?मैंने कहा- प्लीज, एक बार सैट करा दो ना!वो हंसकर बोली- अरे वो आपको सह भी पाएगी … कहां आप 78 किलो के और कहां वो बेचारी मुश्किल से 40 किलो की.

मैं- हा हा हा … कॉलेज की बाकी लड़कियां भी यही सोचती हैं, मेरे से उसका नम्बर मांगती हैं. गांव में पहले जल्दी शादी हो जाती थी तो कम उम्र में मेरी भी शादी हो गयी थी।मेरी पति शुरू खेती ही करते हैं और शराब भी बहुत पीते हैं.

उसकी गीली और गर्म चूत में मेरा लंड उतरने लगा तो मेरी आह्ह निकल गयी.

उसने हाथ से सहलाते हुए मेरी फुदी में अपना लंड डाल दिया और खड़े होकर मेरी कमर को पकड़ कर मुझे चोदना शुरू कर दिया. इसी के साथ, मैं आप सभी इतना बता देना चाहता हूँ दोस्तो कि आप हम सोचते हैं … सब कुछ वैसा नहीं हो पाता है. उनकी चिकनी टांगें और बिकनी के ऊपर से उभरी उनकी चूत साफ साफ दिख रही थी.

इंडियन सेक्सी देसी भाभी आम दिनों में भी मैंने अपनी चूत को देखा था, पर आज मेरी चूत कामुकता के कारण ज्यादा ही फूली हुई लग रही थी. ”तो क्या मैं तुमको और जोर से चोदूँ?”जी हां सर … चोदिए ना!”बहुत टाईट है तेरी फुद्दी!”तुम्हारा लंड भी तो बहुत मोटा है.

जैसे ही मैंने प्रीति को देखा तो प्रीति मुस्करा दी और मैं भी मुस्करा दिया. मैं अपने चूतड़ उठा उठा कर उनका साथ दे रही थी और उनके मुंह में ही झड़ गई. [emailprotected]सेक्सी कहानी का अगला भाग:पड़ोसन चाची की चुदाई उनके ही घर-2.

होट सेक्सी भाभी

चित्रा दीदी- आहह … ओह मेरी जान … यू आर सो हार्ड … आहह … कितना अन्दर तक पेल रहे हो. मैंने उसको गले से लगाया और उसके कान में धीरे से बोला- अब तो मेरी जान मेरा लंड चूस ले … मैं भी तेरी चुत चाटूँगा. नंगी सायरा ने अपने कपड़े मेरे बेड पर देखे तो वो ठिठक गयी और मुझे देखने लगी।उसके मन के संशय को मिटाने के लिये मैं बोला- मैं ही लाया हूं।हल्की सी मुस्कुराहट के साथ उसने बेड पर ही पड़े मेरे तौलिये को लिया और अपने जिस्म को अच्छे से पौंछने लगी.

अभय अपनी बनियान उतारने लगे और फिर मेरे पीछे खड़े खड़े ही अपना अंडरवियर उतार कर फेंक दिया. प्रीति ने तुरंत बैड की चादर हटाई और दूसरी चादर बिछा कर जिस चादर में खून लगा था उसे पानी में भिगो दिया.

मेरे हाथों ने डिल्डो को दीदी की चूत में अचानक ही अन्दर तक घुसेड़ दिया और सीधे जड़ तक पेल कर वहीं रोक दिया.

थोड़ी थोड़ी करते हुए उसने मुझे लगभग आधी बोतल विहस्की पिला दी और बाकी की विहस्की खुद पी गया।इतनी विहस्की मेरे लिए बहुत ही ज्यादा थी, मैं अपने आप को अब एक भी सम्हाल नहीं पा रही थी।मगर उसने मुझे अपने से चिपकाए रखा और मुझे अपने ऊपर लेटा के रखा. बाहर बेटे ने जिद पकड़ ली कि रात को मूवी देखेंगे और डिनर बाहर ही करेंगे. उसने और तेज तेज धक्के लगाने शुरु कर दिए। मेरी और तेज चीखें निकलने लगी.

संदीप ने मुझे मजे लेते देख कर अपना पूरा जोर लंड पर डाल दिया और उसका विशाल लंड मेरी गांड फाड़ता हुआ जड़ तक समा गया. उसकेबाद श्वेता दीदी दीदी के कमरे में आई और चादर देख कर श्वेता दीदी मजाक के अंदाज में बोली- क्या हुआ भाभी … चादर नीचे क्यों फेंक दी. फिर मुझे याद आया कि अपनी बीवी के कुछ नंगे फ़ोटो और चुदाई के वीडियो हैं, क्यों न वो भी देख कर मजा लिया जाए.

जब तक चूत की रानी खुद अपनी गांड को चोदने के लिए न कहे तो मजा नहीं आता है.

बहुत अच्छा बीएफ: मैं मालकिन की दोनों जांघों में जाकर बैठ गया और उनकी जांघें दबाने लगा. मेरे बहुत बोलने के बाद वो लंड चूसने के लिए मान गईं और नीचे फर्श पर घुटने बल बैठ गईं.

उन्होंने कहा- ये क्या था? कहां से सीखा ये?मैंने उन्हें आंख मारी और कहा- आंटी सब पोर्न से सीखा है … कैसा लगा?आंटी- अरे सच में काफी मजा आया. अब आगे:गीत ने कहा- तू तो ऐसे कह रही है, जैसे कि मेरी चूत में इतना बड़ा एक फुट का डिल्डो चला ही जाएगा. वो बोली- हाँ जी, आपको किस से बात करनी है?तो मैं बोला- जी नमस्कार, मुझे वन्दना से बात करनी है, मैं उनका जानकार बोल रहा हूँ.

उसे ढूंढने में मुझे ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी, क्योंकि मुझे पहले से पता था.

इसके बाद वो धीरे धीरे हिलना शुरू हुई और फिर कुछ ही देर में उसने कुशल घुड़सवार की तरह घोड़ा दौड़ा दिया. मैं मनु के घर से वापस आ गई और आज के मजे की वजह से मुझे जल्दी नींद भी आ गई. वो अपनी चुत में उंगली घुसाकर बोलती- पेलो राजा … आह … आह … आह … बहुत मजा आ रहा है … चोदो … और जोर … से … आह मेरी चुत के मालिक … चोद कर मेरी चुत का भोसड़ा बना दो.