सेक्सी बीएफ चाहिए बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,मराठी लड़की का सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

वर्ल्ड बीएफ: सेक्सी बीएफ चाहिए बीएफ सेक्सी, क्या चाहिए?मैंने एकदम से होश में आते हुए कहा- मैं आकाश का फ्रेंड हूँ और घर में पानी नहीं है.

हिंदी ब्लू फिल्म बताओ

जिसके देखने में मुझे बहुत मजा आ रहा था। सो मैं जानबूझ कर और भी उसको अपने पीछे भगा रहा था।कुछ दूर तक भगाने के बाद मैंने अपनी बनियान उतार कर दे दी और बोला- लो इसको पहन सकती हो, तो पहन लो।अब हम दोनों भाई-बहन सी-बीच पर ऊपर से नंगे थे।जब वो मेरे करीब आई तो उसको मैंने अपने सीने से लगा लिया. हॉस्टल ब्लू फिल्मलेकिन उसने मेरा लंड मेरे लोवर के ऊपर से ही पकड़ लिया था, तो मैंने लंड चुसाना ठीक समझा।मैंने देखा कि वो मेरे लंड को मेरे लोवर से बाहर निकाल कर उसे सहलाने लगी। इसमें मुझे मजा आने लगा और मेरी आँखें बंद हो गईं।यह मेरा पहला चान्स था कि जब कोई लड़की मेरे लंड को पकड़ कर हिला रही थी। उसने लंड को जीभ से टच किया तो मेरी आँखें बंद होने लगीं.

फिर मैंने चूत चाटना शुरू किया और दीदी के झड़ने के बाद उनका सारा रस पी गया।फिर हम दोनों थोड़ी देर के लिए लेट गए और एक दूसरे को गर्म करने लगे।थोड़ी देर में मेरा लंड फिर से तन गया और दीदी ने कहा- पहली बार सेक्स करने पर दर्द होता है लेकिन बाद में बहुत मजा आता है इसलिए मैं कितना भी चिल्लाऊँ, आप पूरा लंड अंदर कर देना! मैंने कहा- ठीक है. बीएफ लड़की कावहाँ स्वीमिंग पूल में दो बीवियाँ बिकिनी पहन कर आई लेकिन दो नहीं आई.

भाभी ने अपनी उंगली अपने मुँह में डालकर गीली की और उससे भैया के पिछवाड़े वाले छेद को रगड़ने लगी.सेक्सी बीएफ चाहिए बीएफ सेक्सी: अमृता से सेक्स के बाद अभी मेरे लंड को भी कई दिन से चूत नहीं मिली थी इसलिए मेरा लंड भी नई चूत के जुगाड़ में था और यहाँ तो खुद एक नई चूत चलकर मेरे पास आ रही थी तो मुझे भला क्या परहेज होता.

यह हिंदी सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वो खड़े खड़े ही मेरी चुत में धक्के लगा रहा था, उसके लंड के घर्षण से मेरी चुत धीरे धीरे पानी छोड़ रही थी और वो पानी बह कर बेड पर गिर रहा था, मैं भी अपनी आँखें बंद करके चुदाई का मजा ले रही थी, उसके जोर के धक्कों से मेरा पूरा बदन हिल रहा था.सो भाभी भी अकेली हो जाती थीं। इसके चलते वो मुझे अपने पास बुला लेती.

बीएफ सेक्स हिंदी में वीडियो - सेक्सी बीएफ चाहिए बीएफ सेक्सी

आज भी वो मेरे पास आती है पर अब थोड़ा कम हो गया, उसकी गृहस्थी और बच्चों के कारण!दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी यह कहानी? आप इस कहानी प्रति अपने विचार अवश्य मेल करें, आपके ईमेल मेरा हौसला बढ़ाएंगे!मेरी कोशिश रहती है कि आप सबके मेल का जवाब दूँ पर यदि किसी को न दे पाया हूँ तो मैं उनसे माफ़ी चाहता हूँ.और टाइट हो गया। मुझसे रहा न गया तो मैं बाथरूम में जाकर उसके नाम की मुठ मार कर आया और सो गया।अब मैं जब भी पोर्न देखता या मुठ मारता.

‘क्या सही में? आह!’‘हाँ… औरत की संभोग की प्यास मर्द से कई गुना ज़्यादा होती है. सेक्सी बीएफ चाहिए बीएफ सेक्सी अभी तो तेरी इस चुदासी चूत में बहुत रस बाक़ी है भाभी!’‘तो क्या फिर से चुदाई करेगा… उफ़… लगता है आज तो सच में चूत का भोसड़ा बना कर ही दम लेगा मेरा चोदू राजा… ठीक है मेरे चोदू राजा, बना दे भोसड़ा.

फिर एक दिन हमने मिलने का प्लान बनाया और उसकी बताई हुई जगह पर मैं पहुंचा तो वो अपनी कार में पहले से ही मेरा इंतज़ार कर रही थी.

सेक्सी बीएफ चाहिए बीएफ सेक्सी?

मेरी एक गर्लफ्रेंड है जो बहुत चुदासी है, वो अक्सर मुझसे चुदने आती है या यूँ कहो कि रोज ही चुदती है. मैं अब पूरी नंगी हो गई थी, मेरा एक पैर पकड़ कर उसने सीढ़ी के दूसरे स्टेप पे रखा, उससे मेरे पैर फ़ैल गए. बापू ने मेरे दोनों मम्मों को ज़ोर से पकड़ लिया और लंड आगे पीछे करना शुरु किया, मुझे तो लग रहा था कि मेरी चूत भी जैसे आगे पीछे हो रही हो… बापू के धक्कों की रफ़्तार बढ़ती जा रही थी.

वो नई-नई किताबें लाता था और मुझे दिखाता!तो बस अब क्या था… मुठ बहुत मार चुके थे, एक दिन हिम्मत करके मैं मयंक से बोला- थ्योरी बहुत हो गई. आरिफ उसके मुँह में लंड दिए हुए था अनुज उसकी चूत की चुदाई कर रहा था. ! तुम्हारा बर्थडे इस बार का बेस्ट बर्थडे होगा।मैंने मन में सोचा कि बेस्ट तो होगा ही साथ-साथ यादगार भी होगा मेरी जान।तभी ताऊजी का भाभी के पास कॉल आया कि उन्हें और ताइजी को कहीं बाहर जाना है और वो शाम तक आएंगे। वैसे भी उनके रहने या ना रहने से कोई फर्क नहीं पढ़ने वाला था। वो ग्राउंड फ्लोर पर थे और भाभी पहली फ्लोर पर।फिर भाभी और मैंने लंच किया.

रोज़ रात को ये कमीनी चूत मेरी बहुत परेशान करती है, आपके लंड के लिए तरसती है. ’उनकी इस तरह की गर्म बातें सुन कर मुझे भी जोश चढ़ रहा था। मैंने उन्हें चित्त लिटाया और लंड को आंटी की चूत में पेल दिया। आंटी की आवाज निकली ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ उस रात मैंने आंटी को जी भर के कई मिनट तक चोदा। चुदाई करने के दौरान आंटी झड़ चुकी थीं।इसके बाद हम दोनों अलग हुए और वापस छत पर आ कर सो गए।मुझे आज भी वो रात याद है, उनकी वो जोश बढ़ाने वाली कामुक सीत्कारें. और उसी दिन चाचा के वकील का फोन आ गया, उनको शहर भी जाना था और यह भी बहुत जरूरी था तो मुझसे चाचा ने कहा कि मैं खेतों में पानी दे दूँ.

वो कुंवारी नहीं थी इसलिए मैंने उसको सही पोज़ में लेकर एक जोरदार झटका उसकी चूत पर मार दिया और लंड आधे से ज्यादा उसकी गीली चूत में फंस गया. इतना तो चलता ही रहता है।मैंने कहा- इट्स ओके।फिर उसने भी पूछ लिया- क्यों आपने अपनी गर्लफ्रेंड को किस नहीं किया क्या?मैंने भी कह दिया- मैंने भी बहुत बार किस किया है।लेकिन उस नाइट और भी कुछ होगा.

जैसे ही मेरी उंगलियों ने उसकी चूत के अन्दरूनी हिस्सों को सहलाया, वो सिहर उठी.

तुम मेरी प्यास बुझा दो।इतना सुनते ही मेरे रोम-रोम में जोश आ गया और मैंने भी हाँ में मुंडी हिला दी।अब चाची ने मुझे कसके पकड़ लिया और किस करने लगीं। मैंने देखा उनके चुदास की आग भभक रही थी। फिर मैं बिस्तर से उठा और उनको किस करना शुरू कर दिया।चाची बोलीं- राकेश किस बाद में करना.

मैंने कहा- तुम्हें थोड़ा दर्द सहना पड़ेगा।बोली- सब झेल लूँगी।मैं उसके होंठों पर किस करने लगा और अब वो इतनी गर्म हो चुकी थी कि मेरे होंठों को काटने लगी, उसने कहा- गुल्लू अब बर्दाश्त नहीं होता है, जल्दी से कुछ करो।मैंने कहा- रुको मेरी जान. उसकी बड़े गले की टी-शर्ट काफ़ी खुली सी थी, जिसमें से उसके छोटे-छोटे चूचे दिखाई दे रहे थे।उस दिन मैंने पहली बार किसी के चूचे देखे थे। मैं उन्हें देख कर दंग रह गया था. फिर मैंने उसे अपने नीचे लेटाया और धीरे से अपना लंड उसकी चूत में डाला.

मैंने उसे कहा- हमने यश किया है, यह बात किसी को बताना मत!फिर मैंने कहा- मैं तुम्हारी चुत चूसूं?उसने हाँ की तो मैंने उसकी कैपरी उतार दी, फिर पेंटी भी उतार दी. मेरी मॉम का प्रेमी आया, दोनों रूम में आए, कपड़े उतारे और चालू हो गए. मतलब अपनी बहन की चूत चुदाई!मैंने दोपहर ही कंडोम के 10 पीस के 5 पैकेट ले लिए ताकि एक महीने तक चुदाई का मजा लिया जा सके।इसी के साथ में मैंने जैली भी ले ली और नीनू के लिए गर्भनिरोधक गोलियां भी ले लीं। आज मेरा दिन काटे नहीं कट रहा था.

मैंने मौसी का शर्ट निकाला और उनके ऊपर लेट गया तो मौसी ने कहा- बेटा, मेरे चुचों का सारा दूध पी ले… 4 साल हो गए, किसी ने इनको नहीं पिया है.

मेरा नाम तारिक है, बिहार का रहने वाला हूँ, मेरा कद 5’5″ है, देखने में मैं गोरा हूँ, मेरा शरीर पूरा जवान मर्द जैसा भरा हुआ है, उम्र लगभग 26 साल है. उधर नताशा अपने देवर का लंड अपने मुंह में लेकर चुभलाने लगी उम्म्ह… अहह… हय… याह…मेरी धर्मपत्नी ने राजू का लंड अपने दाएं हाथ से पकड़कर उसके टोपे को अपनी गुलाबी-गर्म जीभ से चाट लिया और फिर उसके अंडे सहलाते हुए, लंड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. आखिरकार वो दिन आ गया, जब मैंने ठान ली थी कि अब मैं चाची को चोद कर ही रहूँगा.

सुबह देखा तो चादर खून से सनी थी और वो चल नहीं पा रही थी।फिर अक्सर ही चुदाई होने लगी. आंटी इससे पहले कोई गाली दें इससे पहले मैं उनको होंठों को अपने मुँह में लेकर किस करने लगा।तो आंटी ने मेरा सर जोर से अपने मुँह में धकेल लिया। मैंने भी आखिरी बार अपना लंड जोर से आंटी की चूत में पेल दिया और मेरा माल अन्दर जाने लगा। पर कुछ ही सेकण्ड में मुझे वही माल बाहर आना चाहता हो, ऐसे लगने लगा. अचानक उसने म्यूजिक चेंज करके सॉफ्ट सा सांग लगा दिया… पहली बार मुझे लगा ‘यार कहीं कुछ गड़बड़ न हो जाय…’अंजलि मेरे पास आकर मेरे हाथों को लेकर बॉल डांस करने लगी… मैं भरसक कोशिश कर रहा था कि उसकी बॉडी से दूर रहूँ पर दोनों के बीच का फासला कम होता जा रहा था.

रोहित के घर के सभी मेम्बर काफी दूर एक शादी के समारोह में शामिल होने गए, रोहित ने ये कह कर घर में रहना ठीक समझा कि मेरी पढ़ाई चल रही है, एग्जाम के दिन नजदीक हैं और मुझे घर में रह कर पढ़ाई करनी है.

फिर मैंने स्वीटी से कहा- मुझे तुम्हारी चूत चाटनी है!तो उसने मना किया लेकिन मैं कहाँ मानने वाला था… बिना समय गंवाए मैं घूम गया, हमने चादर ओढ़ ली, अब मैंने अपना काम शुरू कर दिया. क्या तुमको मैं सच में गंदा लगता हूँ?उससे ये बात पूछते समय मेरी आँखों से आँसू निकलने वाले ही थे मुझे बहुत बुरा लग रहा था।मैंने निशा से कहा भी कि तुम्हारी बात से मेरी आँखों से आँसू निकलने वाले हैं।निशा कहने लगी- प्लीज भाई रोना मत.

सेक्सी बीएफ चाहिए बीएफ सेक्सी हाँ जब घर पहुँचो तब मुझे फोन कर देना, मैं आ जाऊंगा, एक कप चाय पीकर जाना।इस तरह से आशु सपना के चक्कर में बिजी भी हो जायेगा और अकेला घर छोड़ने जायेगा तो सपना को मसल कर गर्म भी कर देगा, तब तक रवि और नेहा अपनी गर्मी निकाल लेंगे।रवि ठीक 4. कहटी- साले जानवर!मैंने कहा- तुझे चोदना इसलिए भी है क्योंकि अपनी सोच, जवानी की मस्ती के विचार मिलते हैं!वो जाकर बेड पे लेट गई और अपनी चुची दबा कर बोली- आराम से करियो!मैंने देखा और कहा- तेरे यार ने बहुत रस पिया?उसकी चुची पे निशान थे.

सेक्सी बीएफ चाहिए बीएफ सेक्सी पर थोड़ा टेढ़ा और मोटा होने की वजह से वो उनकी पूरी चूत के अन्दर दीवारों को रगड़ते हुए जा रहा था। इसलिए आंटी को पहले तो दर्द हुआ. मेरी बहन भी गर्म हो रही थी, मैंने सही मौक़ा देख कर उसकी चुची पर हाथ रख दिया और बोला- मोबाइल उधर रख दे… चल कुछ प्रेक्टिकल करते हैं!और मैं अपनी बहन की चूची दबाने लगा.

करीब 11 बजे निशा आई, आते ही मैं तो उस पर टूट पड़ा क्योंकि 3-4 घन्टे से इंतजार करते करते बहुत ही बेचैन हो गया था।मैं तो पहले से ही सिर्फ अन्डरवीयर में बैठा था, उसके आते ही नंगा हो गया और उसे भी नंगी कर दिया, बिस्तर पर पटक कर सीधे लंड चूत में डाल कर दनादन चोदने लगा.

बुड्ढे बुढ़िया की बीएफ

नताशा ने आँखें तरेर कर मेरी तरफ देखा और फिर मुस्कुराते हुए प्यार से अपनी गुलाबी जीभ से मेरे लंड के टोपे को चाट लिया. वो बुझी हुई थी, बोली- साले ने मुझसे पैसे ले लिए और कह रहा था कि और पैसे चाहिए।मैंने कहा- मत दो. अचानक उसके मन में पिछली सारी बातें घूम गई ‘हाय राम इतना बड़ा लौड़ा’ उसने मन में सोचा और उसका दिल फिर रेलगाड़ी की तरह धड़कने लगा।उसकी चूत में जैसे एक टीस सी उठी, आज पहली बार वो एक असली मर्द का लौड़ा छू रही थी। रमा एक अजीब सी उत्सुकता में बह गई, उसके मन में अजीब सी बातें आने लगी ‘हाय कैसे लूँगी इस लंड को चूत में, जब 7 फुट के बाबा जी मेरे ऊपर चढ़ेंगे तो क्या होगा?’ वो लंड को पकड़े पकड़े ही विचारों में खो गई.

लेकिन लंड फिसल गया।मैंने फिर कोशिश की, लेकिन नाकामयाब रहा। इस बार अनु ने अपनी टांगें खोल दीं। मैंने थोड़ा थूक लगाया और एक लंड लगा कर एक जोरदार शॉट मारा। इस बार मेरा लंड का अगला हिस्सा अनु की चूत में था और अनु की आह निकल गई।मैं कुछ देर तक रुका रहा. ‘ओह तो क्या अंकल ने अपना लौड़ा काट लिया?’ रमा जो अभी तक दम साधे सुन रही थी बोल पड़ी।‘रमा, तू अभी तक नहीं समझी, बापू तो मछली को पकड़ने के लिए जाल बिछा रहे थे और उनका निशाना सही जगह लगा था।’मैं घबरा गई ‘बापू इसमें इसका क्या कसूर है’ मैंने बापू से कहा यह सोचे बिना कि मैं जाल में फंसती जा रही हूँ. यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!फिर उसने मुझे ऊपर किया और मेरी पेंटी उतारी, फिर मेरी चुत चाटनी शुरु कर दी.

बातों में आंटी सेक्स की बातें करती थीं और वो भी तब, जब उन्हें मालूम रहता था कि मैं सामने खड़ा हूँ।पहले तो मुझे उन्हें चोदने का ख्याल नहीं आया.

मैंने उस दिन काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी, मेरे गोरे गले पे वो नेकलेस चमक रहा था, वो मुझे ऊपर से नीचे तक निहार रहा था, मैं उसके सामने सिर्फ ब्रा और पेंटी में खड़ी थी. बल नहीं गया।मैडम ने फिर गालियां देनी शुरू कर दीं- यू मदरफकर नीग्रो यू डॉग. मेरी सिहरन एकदम से बढ़ गई और मैं रोने लगी।जीजा जी बोले- रो क्यों रही हो, आज नहीं तो कल तुमको चुदना तो था ही बस लंड का फर्क है.

तो हम दोनों अलग हो गए।मैं जल्दी से फ़ाइल उठा कर देखने लगा ताकि उनको शक ना हो।नेहा भी मुझे बताने लगी कि ये फ़ाइल ठीक करनी है।नेहा की सास आकर बोली- नेहा, मैं पड़ोस में कीर्तन में जा रही हूँ. मैं और प्रिया चुपचाप बैठे चाय पी रहे थे कि तभी मेरी नजर प्रिया के पैरों की तरफ गई, वो अपने अंगूठे से जमीन को खुरचने का प्रयास कर रही थी, ऐसा लग रहा था कि वो कुछ कहना चाह रही हो, लेकिन कह नहीं पा रही. आधी घर वाली एक भी नहीं है। भाभी की तो पूरी फैमिली में भी कोई इधर-उधर की भी साली नहीं है।मेरी इस बात पर सभी हंसने लगे, तो जीजा जी ने मुझसे कहा- क्यों भाई तेरा क्यों स्वाद बिगड़ा हुआ है.

फिर दूसरी रात मैं अपने कमरे में पहुँचा दरवाजा बंद किया और जाकर आरती के पास बैठ गया और उसे मंगलसूत्र दिखाया तो उसने अपने हाथ में ले लिया बोली- सुबह पहन लूँगी. इधर आओ मैं तेरा लंड खड़ा कर देती हूँ और मैं तुझे आज सिखाऊँगी भी कि मुठ और चुत कैसे मारते हैं।यह कह कर आंटी ने जैसे ही मेरे लंड को छुआ.

मेरी बिल्डिंग में 4 फ्लोर हैं और मैं 3 माले पर रहता हूँ और माया 4 माले पर…यह बात तब की है जब मेरी बीवी अपने मायके गयी हुई थी. यह देख सुमन को भी मस्ती आ गई और बोली- मैं तेरी शर्म कर रही हूँ और तू मेरे माल पर ही डोरे डाल रही है?और नेहा को हटा के खुद मेरा लंड चूसने लगी. मेरी लम्बाई 5’5″, मेरे फिगर का साइज 32 28 34 है! मेरा रंग बिल्कुल दूध की तरह सफेद है, मेरे होंठ लाल और मेरे बाल बिल्कुल काले हैं और उनकी लम्बाई मेरी कमर तक आती है.

जब मेरी परीक्षा हो चुकी थी और मैं बिल्कुल खाली था। उस समय मेरे पास कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी, तो मैं रॉंग नम्बर डायल करके बात करने लगा।मैंने बहुत सारे नम्बर लगाए.

मैंने पहली बार अपने पति के अलावा किसी और से मस्ती भरी चुदाई की है। आपके भैया तो बस जल्दी जल्दी चूत में लंड हिलाकर सो जाते हैं। अब सोच रही हूँ आपके साथ पहले ही चुदाई करनी चाहिए थी और आप थे कि दूर भाग रहे थे।’मैंने रसीली भाभी को किस किया।‘आउच ऊऊऊऊ. फिर मुझे दर्द होने लगा तो मैं उस पर झपट पड़ा, मेरे हाथ उसकी चुची पर पड़ गए, वो अपनी बांहों से अपनी चुची छुपा कर भाग ने लगी तो मैंने उसके चूतड़ पर दांत से काट लिया और गांड की दरार में उंगली कर दी. लेकिन कुछ देर बाद मैं पेशाब करने उठा तो मैंने देखा कि वो जाग रही थी।तो मैंने पूछा- नीनू क्यों जाग रही हो?वो बोली- भैया मुझे डर लग रहा है कि वापिस काकरोच ना आ जाए।मैंने कहा- कोई बात नहीं.

इसलिए मैं कभी-कभी उससे मजाक भी कर लेता था। पर आजकल जब भी मैं उससे बात करता हूँ, तो मेरी पहली नजर उसकी तनी हुई चूचियों पर ही चली जाती है। इस बात पर शायद उसने भी ध्यान नहीं दिया।कुछ दिनों बाद जब वो नहा रही थी। उसी वक्त मैं पोर्न देख कर निकला ही था कि बाथरूम से किसी की नहाने की आवाज सुनाई दी। चूँकि मेरा कमरा बाथरूम के काफी पास है. अंतरवासना के पाठक और पाठिकाओं को मेरा प्रणाम…मुझे घर पे सब लालू कह के बुलाते हैं… मेरी उम्र 23 है और मैं रहने वाला नवसारी का हूँ.

तो क्या हुआ, कमाता तो अच्छा है और हर आदमी सेक्सी तो नहीं होता।संगीता अनिल से नहीं मिली थी पर मोनिका एक बार अमन से मिल चुकी थी। मोनिका को अनिल ने फ़्लर्ट करने की कोशिश भी की तो मोनिका ने लिफ्ट नहीं दी, बात आई गई हो गई. सुहाना ने कोई विरोध नहीं किया और इसी बीच उसकी टी-शर्ट भी उसके जिस्म में अलग हो गई। मेरे हाथ केवल और केवल उसके मम्मों से खेल रहे थे और वो चुपचाप आँखें बन्द किये हुए मेरे सीने से लगी थी।इसी बीच मौका पाकर मैंने उसकी स्कर्ट को भी उसके जिस्म से अलग कर दिया और मेरा एक हाथ फिसलता हुए उसकी चूत पर चला गया. इसी बीच सुनीता के पति का दोस्त पंकज सुनीता के पास किसी काम के लिए आया क्योंकि उसके पति का दोस्त भी रमेश के साथ ही काम करता है तो उसके पति ने सुनीता के लिए अपने दोस्त के पास सुनीता के लिए कुछ सामान भेजा था, वो उसे पकड़ाने सुनीता के पास आया था.

हिंदी बीएफ सर्च

आज मुझे भी अपनी सेक्सी स्टोरी आप सभी के सामने रखने का मौका मिला है.

अब आगे से नहीं होगा प्लीज।लेकिन आंटी बोलीं- नहीं, अब तो तू गया समझ. क्या लोगे गरम या ठंडा?मैंने कहा- भाभी इतनी गर्मी में गर्म पिलाओगी?तो बोलीं- अरे तो तुम बताओ ना यार, क्या चाहिए?मैंने कहा- नहीं भाभी, कुछ नहीं चाहिए।बोलीं- ऐसे नहीं चलेगा. आज मुझे चोद दो और मुझे अपना बना लो।मैंने ऐसा ही किया। उसकी चुत पर अपना लंड रखा और ज़ोर से धक्का दे मारा। इस तगड़े झटके से मेरा आधा लंड उसकी चुत में एक ही बार में चला गया। उसकी चीख निकल गई- क्या कर रहा है.

ख़ास बातों के समय मैं बताना भूल गई कि मेरे 7 ब्वॉयफ्रेंड शादी के बाद भी हैं, जो मुझे खूब चोदते हैं।तो मैंने अपने एक ब्वॉयफ्रेंड को फोन किया उसका नाम विक्की है. ‘कल भी इसी टाइम आ जाना, कल मैं तुम्हारी चूत को ताकतवर बनाऊंगा… दीदी सिखाने वाली है कि चूत को कैसे स्ट्रांग बनाते हैं. বেঙ্গলি বৌদি ফাকিং ভিডিওवो मुझसे बात कर रही थी, और अपने हाथ कभी अपने गालों पर, कभी पेट पर तो कभी बालों में फिरा रही थी.

मैंने कहा- वो कैसा होता है, मुझे दिखाओगी?वह थोड़ा रूक कर बोली- देखोगे क्या छू कर समझ सकते हो।ऐसा कहते हुए उसने मेरा हाथ अपने गुप्त अंग पर रख दिया. लेकिन तुम्हारा फ़ोन भी नहीं लग रहा था।‘क्यों क्या बात थी?’मैंने कहा- अनु, आई लव यू यार.

मेरा लंड हिचकोले खा रहा था।जांघ के अगल बगल तक उसने अपनी जीभ चलाई और फिर नीचे पैरों की तरफ उतरने लगी, तब मैंने उसे टोकते हुए कहा- प्रिया यह फेयर नहीं है, मैंने तुम्हारी बुर को भी प्यार किया था, तो अब तुमको भी मेरे लंड को प्यार करना होगा!उसने मेरी तरफ देखा और फिर अपने काम पर शुरू हो गई. पर जैसे वो कहती रही मैंने किया।तक़रीबन 15 मिनट बाद उसके बदन में भूकंप सा आया और चुत से पानी निकल गया।वो हंस कर बोली- अब मुझे कोई टेंशन नहीं है. ‘अरे मेमसाब क्या शरमा रही हो!’ उसने मेरा हाथ छोड़ दिया और अपने हाथ से अपना लिंग हिलाया और फिर छोड़ दिया.

वो मेरे लिंग को हल्के हल्के सहलाने लगी, मैं भी कम नहीं हूँ, मैंने उसके स्तन दबाने शुरू कर कर दिए. यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसके 5 मिनट के बाद उनका दर्द जब कम हुआ तो उनकी कमर अपने आप चलने लगी और मधु बोली- अब चोद. लेकिन मैंने अपने शॉर्ट्स का बटन खुला छोड़ दिया था और मैं रात को अंडरवियर नहीं पहनता हूँ। जब मैंने सोने का नाटक करते हुए खर्राटे भरना शुरू किए.

अचानक अमृता ने अपना पैर मेरे पैर पर रखा और हौले हौले मेरे पैर को सहलाने लगी.

मैं मामा को देख रही थी, कितना मजबूत बदन था गोरा बांका जवान… मेरी चूत पानी छोड़ने लगी थी, मेरा हाथ मेरी चूत पर था. ऐसा अमूमन होता है…वंदना ने एक बार जोर का झटका दिया लेकिन शॉर्ट्स का इलास्टिक लंड को आधा नंगा करता हुआ वापस अपनी जगह पे चला गया.

मेरी भाभी का नाम सीमा है, वो मेरे बड़े मामा के लड़के की बीवी है। मेरे भाई की उम्र करीब 42 साल है और भाभी की करीब 34. जोरदार धक्के मारने से तेरी चूत का पानी निकल जायगा क्या? अब तू बुद्धू जैसी बातें कर रही है। यह तो प्यार का खेल है. मेरे साथ वाले घर में मेरी दोस्त रोज़ी रहती थी, तो मुझे उसकी एक सहेली हमेशा उसके साथ नज़र आती.

बहुत दिन हो गये थे मुझे भी सेक्स किए हुए तो मुझे भी अच्छा लगने लगा था, मैं भी उसकी जीभ को अपनी जीभ से छूने लगी, दोनों एक दूसरे के मुँह को चूसने लगे. मैं राहुल श्रीवास्तव मुंबई से एक बार फिर मैं आपके सामने हूँ एक नई कहानी के साथ… यह कहानी एक शख्स ने मेरे से शेयर की थी जिसको मैं अन्तर्वासना के पाठकों की रूचि के हिसाब से शब्दों में ढाल के आपके सामने लाया हूँ, यदि आप नए पाठक है तो आप ऊपर मेरे नाम पर क्लिक करके यायहीं पर क्लिक करकेमेरी सभी कहानियों को पढ़ सकते हैं. एक दिन शाम को मेरे मोबाइल पे किसी अज्ञात नंबर से काल आया, मैंने फोन उठाया, किसी आदमी की आवाज़ सुनाई दे रही थी- रूचि मेडम?मैं- येस बोलिए?अज्ञात आदमी- हय मेडम, मैं मनजीत बोल रहा हूँ.

सेक्सी बीएफ चाहिए बीएफ सेक्सी फिर मैंने उसे नीचे लिटाया और खुद उसके ऊपर आ गया, एक बार फिर उसकी चूत को चूस कर अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और जोर से एक झटका मार कर पूरा लंड एक बार में ही लगभग अन्दर कर दिया. मुझे इस बात की चिता थी कि उसे बच्चा ना ठहर जाए लेकिन उसे इस बात की कोई चिंता नहीं लग रही थी.

गांव की लड़कियों की बीएफ हिंदी में

वो भी मेरी आँखों में आँखें डाल कर पीती गई।उसने करीब तीन गिलास पानी पी लिया।फिर शुरू हुआ हमारा सेक्सी सीन. मनजीत- ठीक है, मैं बाद में आपको कॉल कर लूँगा!मैं- ठीक हैउसके कॉल काटने के बाद मैं सोचने लगी कि क्या यह सही है? और सही और ग़लत की सोच में ना जाने कब मुझे नींद आ गई, पता नहीं चला!फिर दो दिन उसने मुझे कॉल नहीं किया, फिर तीसरे दिन उसका फोन आया, मैंने देख कर उसका फोन नहीं उठाया और फिर डरते हुए मन से सोची कि एक बार इसकी बात मान कर देखती हूँ. एकदम माल लग रही थीं। उन्हें यूं सजा-धजा देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया। मैंने सोच लिया था कि आज कुछ भी हो जाए, मैं उन्हें चोद कर ही रहूँगा। मैंने देखा कि वो मेरे रूम में ही खाना लेकर आ रही हैं।मैंने अपने लैपटॉप में जानबूझ कर सन्नी लियोनी की एक चुदाई की मूवी लगा ली और लंड सहलाते हुए देखने लगा।आंटी मेरे कमरे में आईं और उन्होंने मुझे आवाज़ दी- लव उठो.

जब मैं क्लास 12 में पढ़ता था। मैं और मेरा दोस्त बाइक पर मस्ती करने निकले थे। उस दिन हम घूमते हुए ज्यादा आगे आ गए थे. लंड चूत की गहराइयों में घुस गया। उधर उसकी चीख मेरे मुँह में ही दब कर रह गई। वो दर्द से बिलख कर रोने लगी। मैंने बड़े प्यार से बोला- जानू पहली बार तो दर्द होता ही है. सेक्सी बीएफ ब्लू चलने वालीफिर उसके मम्मी पापा ने उसकी शादी कर दी, उसके बाद वो मुझे कभी नहीं मिली.

साल भर पहले ही मुझे दुनियादारी, यानि कि चूत, चुदाई वगैरह के बारे में पता चला था, ठरक तभी से मचती रहती थी, चाहे वो अपने से बड़ी उम्र की स्कूल की लड़कियाँ हों या फिर हमारी टीचर्स…ताऊ जी की बड़ी बेटी का नाम है ‘अर्चना’ और छोटी का जान के क्या करोगे; उसके साथ एक-आध बार बूब्स दबाने के अलावा कुछ नहीं हुआ था.

पर आज मैं अलग मूड में आया था। मैं आज उसको हर आसन में चोदना चाहता था। इसलिए मैंने उसे डॉगी स्टाइल में आने को कहा और पीछे से जाकर उसकी गर्मा-गर्म चुत में लंड पेल दिया।वो लंड घुसते ही जोर से चिल्लाई- उई. नमस्कार दोस्तो, मैं आपको अपनी पड़ोसन कुंवारी लड़की की चूत की चुदाई की कहानी सुनने जा रहा हूँ.

वो टेबल पर झुकता हुआ अपना चेहरा मेरे नजदीक लाकर बोला- सुन्दर वाइफ है? इंडियन है?‘बहुत सुन्दर, ब्लॉन्ड रशियन वाइफ. जोहा की चुची लगभग 40″ की होगी और उसकी गांड तो बिल्कुल तरबूज की तरह, गांड का साइज 48″ होगा. मैं बाहर देखने चला गया तो दीदी मम्मी-पापा के कमरे की खिड़की से अंदर देख रही थी.

तुम थोड़ी देर में आ जाना।मैं वहाँ पहुँचा तो देखा वो टेंशन में लेटी थी और उसका भाई दारू पीने में लगा था। मुझे देखकर उसने अच्छे से बात की।दिव्या को लगा था कि कहीं मैं उसके भाई की पिटाई ना कर दूँ। उसके भाई ने मुझे भी दारू पिलाई और दिव्या को भी पैग बना कर दिया।फिर थोड़ी देर के बाद मैं और दिव्या निकल पड़े.

अब मुझे बर्दाश्त करना मुश्किल हो रहा था और एक पल को ऐसा लगा मानो मेरा लावा फूट ही पड़ा हो… पर तभी वंदु ने लंड को बिल्कुल आज़ाद छोड़ दिया और मेरी तरफ़ देख कर लम्बी-लम्बी सांसें लेने लगी. मैंने भी लंड को आधे से ज्यादा निकालना और जोर से धक्का देना शुरू कर दिया, हर आह आह आवाज में लंड अन्दर जाता और फिर बाहर आता!अचानक उन्होंने अपनी टांगें टाइट कर ली और मैंने भे लंड को जल्दी जल्दी आधे से ज्यादा बाहर निकालना और जोर से धक्का देना शुरू कर दिया. तो सोचो मेरी क्या हालत हो रही होगी?भाभी मस्त अंदाज़ में इठला कर पलट कर बोली- अच्छा.

धंदेवाली सेक्सीऔर अगले ही पल ब्रा तो जमीन पर थी।अब मैं उसके मम्मे दबा रहा था और चूस रहा था। पर क्या बताऊँ दोस्तों. जोइंट फॅमिली और बिना कॉलेज की लाइफ की वजह से उसका कोई बॉयफ्रेंड नहीं था, पर दिखने में कमाल थी, हाईट थी 5 फीट 3 इंच, क्यूट स्माइल, 36बी की चूचियाँ, पतली, कमसिन, जवान!हमारी ही गली में रहने वाला एक लड़का पसंद था उसे… पर उसके साथ कुछ हो नहीं पाया उसका….

जानवर का बीएफ पिक्चर

टांगों को हल्का सा चौड़ा किया और थोड़ा झुक कर उसकी चूत को चाटने लगा मुँह में लार भर के… चूत में ढेर सारा तरल अमृत था. ऑडियो सेक्स स्टोरी- नेहा की बस में मस्तीसेक्सी लड़की की आवाज में सेक्सी कहानी का मजा लें!मैं शर्मा गया और उसके बूब्स को छोड़ दिया और उसके पेट के नीचे हाथ रखा. ?उसकी इस बात पर, पता नहीं क्यों लेकिन मैंने उसे एकदम से अपनी बांहों में भर लिया और उसके माथे पर चूम लिया।वो शांत थी.

बोल दो और ये भी सुन लो कि मैं भी मम्मी को तुम्हारे और तुम्हारे बॉयफ्रेंड की बात बता दूंगा कि तुम्हारा एक बॉयफ्रेंड भी है. ‘साली छिनाल, नौटंकी करती है, चूत ने देख कितना पानी छोड़ा है!’ उसने अपनी उंगलियों को सूंघ लिया. मैंने तुरन्त अपना लंड पेंट के अन्दर किया और उसके सामने आकर खड़ा हो गया।उसने मुझसे कुछ नहीं कहा.

अंजलि मेरे ऊपर सवार हो गई और मेरे ऊपर झुक कर मेरे होंठों पर अपने होंठ चिपका दिए. क्या बताऊँ दोस्तो, जाने क्या क्या किया!उसकी फूली हुई चूत को देख मेरे मुंह में पानी आ गया, उस पर चिपट गया, उसकी चूत से खेलने लगा और उसकी चूत को चूसने लगा. तो मैंने में धीरे-धीरे उसकी गांड को बातों के दरमियान छूता रहा, पर उसने इस सबकी ओर इतना ध्यान नहीं दिया।मैं उसकी गांड के स्पर्श से गनगना गया था और बस उसे चोदने की सोचने लगा कि इसे कैसे चोदूं।एक दिन वो छत पर रेलिंग के सहारे झुकी हुई थी और किसी से बात कर रही थी। तब मैं भी वहीं पे था, उसकी गांड देख कर तो मेरा लंड खड़ा हो गया। शायद उसने नाइटी के अन्दर कुछ नहीं पहना था.

घर पर कोई नहीं है।वो मान गई।मेरा प्लान था कि हम एक ही बेड पर साथ में सो जाएंगे, पर उसने अपने लिए अलग चारपाई लगा ली।उसने मुझसे कुछ बोला नहीं. उफ़ मैंने पहले ये सब क्यों नहीं देखा।वैभव ने भूमिका की जालीदार चड्डी में हाथ डाला और उसकी चूत को सहलाने लगा। भूमिका सिहरने लगी.

मैं उसे देख कर बस हीरो की तरह अपने बालों में हाथ घुमा रहा था।वो फिर से बोली- मैं कुछ पूछ रही हूँ।मैं मुँह खोल कर बोला- क्या?वो हँसी और बोली- हाय।मैंने कहा- हैलो।फिर वो वह बैठ गई और हम लोग बातें करने लगे। शायद पहली बार मैंने नीली आँखों वाली कोई लड़की अपने इतने करीब देखी थी।बातों ही बातों में उसने बताया कि वो भी चेन्नई से है, मैं भी वहीं से बी.

भयानक लंड के उसके छेदों की चुदाई शुरू हो चुकने के बावजूद अभी तक उसकी चड्डी उसके पैरों में ही फंसी हुई थी और नताशा के पैरों को पूरी तरह नहीं फैलने दे रही थी, इसलिए राजू अपने हाथ बढ़ा कर उसकी चड्डी निकालने लगा. रंडियों की सेक्सी मूवीरमा इस समय बेहद डर रही रही थी, चुपचाप टेबल पर बैठ गई, टेबल के पास ही एक स्टूल रखा था जिस पर एक कमंडल में जैतून का तेल रखा हुआ था. பிஎஃப் படம் போடவும்वो गांड मटकाते हुए गई और रसोई से सरसों का तेल ले आई। मैंने तेल उसकी चुत पर लगा दिया और थोड़ा अपने लंड पर भी चुपड़ लिया।अब मैंने लंड चुत के अन्दर ठेला तो एक ही बार में 2 इंच चला गया। वो दर्द से कराह उठी. शाम को मिलने का वादा कर के वो चली गई।आगे भी हम एकदूसरे के पास आये, पर वो सब आगे की कहानियों में!उसके घरवालों को मेरी नौकरी पसंद नहीं आई और उन्होंने मेरी पूजा को किसी और के घर की अमानत बना दिया।जीवन में अब बस उन सुनहरे पलों की यादें हैं जो आप पाठकों के साथ बाँटना चाहता हूँ।मेरा यह अनुभव आप सबको को कैसा लगा,[emailprotected]पर अपने विचार अवश्य भेजें, आपके ईमेल मुझे आगे लिखने की प्रेरणा देंगे।.

वो बाथरूम की तरफ भागी, मैं उसके पीछे बाथरूम में गया, मैंने प्रिया के दोनों कूल्हों को कस कर दबा दिया.

उससे मिलने आया है, यह सुन कर वो परेशान हो गई, वो झुंझला कर बोली- इसीलिए मैं इसका फोन ही नहीं उठा रही थी. मैं दर्द से तड़प गई पर आवाज़ बाहर ना जाए इसलिए मैंने उसका हाथ अपने मुँह पर रखवा लिया. ’ राहुल ने नाटक को जारी रखते हुए कहा।‘हाय राम…’ रमा ने राहुल बाहों में भरते हुए कहा।रमा की बड़ी-2 तनी हुई चुची राहुल की छाती में धंस गई… राहुल ने भी रमा को जफ्फी डाल दी और उसकी नंगी पीठ को धीरे-2 सहलाने लगा।‘कहाँ लगी है चोट?’ रमा ने फिर पूछा.

फिर मैंने उससे पूछा कि अगर वो कहे तो मैं जाकर उससे बात करूँ?नताशा बोली- ठीक है!‘ये भी हो सकता है कि वो खुद ही अपनी वाइफ के साथ हो, और वो मेरी तरह की हो. जितना मैं पीछे होता, उतना वो और पीछे आकर मेरे लंड से सट जाती…मुझे मालूम था कि अंजलि कुंवारी है और वो नशे में है… क्योंकि वो अब तीसरा पैग पी रही थी… मैं उसका फ़ायदा ना उठा सकूँ, मैं उससे दूर होकर काउच पर बैठ कर सिप लेने लगा. मुझे आने में दो दिन लग जाएंगे।इस तरह मैं अपनी मॉम से जाने की बोल कर निकल गया। रवि की बहन शादी एक छोटी से गांव से थी। उसके गाँव का घर बहुत छोटा सा था, जैसे तैसे शादी निपटी।उस रात को मुझे वहीं रुकना था, पर मेरे को लगा आज यहाँ पर नहीं सो पाऊँगा तो मैं रवि से बोला- भाई मैं घर जा रहा हूँ।रवि ने भी परिस्थिति देखी और मुझे जाने के लिए ‘हाँ’ बोल दी।मैं शाम 7.

चुदाई की सेक्सी वीडियो बीएफ

मैं समझ गया और अब मैं बिना संकोच के उसके चूचों को थोड़ा थोड़ा सहलाने लगा और दबाने लगा. मैं दौड़ता हुआ घर पहुंचा और उसके बारे में सोचते हुए मुट्ठ मारी… माल निकालने के बाद जाकर कहीं मैं शांत हुआ. बड़ी माल किस्म की आइटम लग रही थीं।फिर भाभी ने मुझे थोड़ा वर्क देकर कहा- मैं नहाने जा रही हूँ.

मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसकी हथेली को सहलाने लगा, कोमल के शरीर कांपने लगा- बोलो न कोमल, दिल नहीं करता क्या तुम्हारा?कोमल ने नज़रें झुका कर कहा- हाँ करता तो है…मैं बातों को अगले लेबल तक ले गया और पूछा- फिर क्या करती हो?कोमल- फ़ोन कर लेती हूँ उनको… और मैं क्या कर सकती हूँ!मैं- दिल नहीं करता तुम्हारा कि वो तुम्हारे पास हो… कब आएगा वो अब?कोमल- बहुत करता है.

उसकी तरफ मेरा ध्यान इसलिए चला गया, क्योंकि उसकी टीशर्ट पर रशियन भाषा में SW लिखा था और उसका लोगो भी बना हुआ था.

मैंने उसे कहा- हमने यश किया है, यह बात किसी को बताना मत!फिर मैंने कहा- मैं तुम्हारी चुत चूसूं?उसने हाँ की तो मैंने उसकी कैपरी उतार दी, फिर पेंटी भी उतार दी. और फिर स्टेशन पर उतर कर आंटी से बात हुई।वो बोलीं- मुझे अपना नंबर दे दे. बीएफ पिक्चर यूट्यूब पर भेजें मीनिंगफिर उन्होंने मुझे धक्का देकर लिटाया और खुद मेरे लंड पर बैठ गई, मैं नीचे से लंड अन्दर-बाहर कर रहा था.

यह बुर की चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!अब मेरा लंड दोबारा खड़ा होने लगा था, मैंने उसे ऊपर उठा कर बिस्तर पर लेटाया और उसकी बुर के छेद पर लगाया और एक जोर का धक्का मारा और मेरा लंड आधे से ज्यादा अन्दर चला गया वो रोने लगी और चिल्लाने लगी. फिर ट्राइ किया। इस बार सुपारे के साथ लंड का कुछ हिस्सा बुर में चला गया। मेरा टांका टूटा तो जरा खून निकला और उसका भी निकला। हम दोनों को दर्द हुआ। वो चिल्लाई. धीरे धीरे हमारे होठों का मिलन होने लगा और काफी देर तक एक दूसरे चूसते रहे होंठ… जैसे हम दोनों के होंठ एक दूसरे को देख कर पागल हो गए हों.

मैं- हेलो?मनजीत- हेलो रूचि जी, मैं मनजीत बोल रहा हूँ!मैं- हाँ बोलिए!मनजीत- क्या सोचा आपने?मैं- किस बारे में?मनजीत- मैंने जो बोला था!मैं- मैं नहीं करना चाहती!मनजीत- क्यों?मैं- मेरी मर्ज़ी!मनजीत- लेकिन फिर भी एक बार सोच लीजिए, इससे आपको दो फ़ायदे होंगे!मैं- क्या?मनजीत- बिना मेहनत के रोज नये नये पार्टनर भी मिल जायेंगे और बदले में अच्छे पैसे भी मिल जायेंगे. मैंने उसके चेहरे को ऊपर उठाया और उसके माथे पर चूम लिया, तब उसने कहा- लाइट बंद कर दो.

अरे आपसे यही खड़े होकर बात करने से अच्छा है कि आप अन्दर आ जाइए।यह कहते हुए भाभी ने मेरे हाथ से बोतल ली और मुझे हॉल में सोफे पर बैठने को कहकर वो किचन में जाने लगीं।उनके घूमते ही मैं उनकी गांड को हिलते हुए देखने लगा और इतनी खतरनाक गांड देख कर मेरे होश ही उड़ गए।क्या मस्त लग रही थी उनकी गांड.

मैंने सोचा कि कान लगा कर सुनूँ कि क्या चल रहा है अंदर!थोड़ा इंतज़ार करने के बाद मैंने दरवाज़े पर अपना कान लगा दिया. अचानक मेरा सर दरवाजे से टकरा गया और मम्मी की नजर दरवाजे पर पड़ी और मैं भाग कमरे में आ गई।तभी कुछ समय बाद दोनों मेरे कमरे में आये और मुझे देखा. अचानक एक दिन मुझे चाची ने बुलाया और कहा कि उनको बाहर जाना है और मैं उनको लेकर चलूँ!मैंने हामी भर दी.

बीएफ फिल्म सेक्सी चूत मैं मामा को देख रही थी, कितना मजबूत बदन था गोरा बांका जवान… मेरी चूत पानी छोड़ने लगी थी, मेरा हाथ मेरी चूत पर था. यह मौसी की चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने कहा- मौसी, तू इसे मुंह में ले ले!और मौसी उसे चाटने लगी.

आखिर कार पहली बार मुझे कुदरत की बनाये उन सबसे बेहतरीन जिस्मों से एक को अपने होंठों से छूने का सौभाग्य प्राप्त हो ही गया था। दोनों के बदन में जोश पूरे उफान पर था. रोज़ रात को ये कमीनी चूत मेरी बहुत परेशान करती है, आपके लंड के लिए तरसती है. उसके बाद मैंने अपनी बहना की चूत चाट कर उसे पूरा मजा देकर चरम आनन्द तक पहुंचाया और उसके बाद हम सो गए.

पूरे बीएफ

कितना लंबा है?तो मैंने शरमाते हुए कहा- यही कोई 7 इंच का है।वो बोलीं- हाँ रे. मेरे सोने का इशारा करने पर उन्होंने कहा- मम्मी पापा के कमरे की लाइट बन्द होने तक रुक!तो किताब में देखने लगा।रात के लगभग 10 बजे मम्मी पापा के कमरे की लाइट बन्द हुई तो दीदी ने मुझे अपने साथ सोने का इशारा किया तो मैं जाकर उनके साथ लेट गया और मैंने दीदी के बूब्स दबाने शुरू कर दिए. मैं शाहीन के ऊपर आया, उसकी टांगें फैलाई और उसकी चूत पर लंड रखा, एक जोरदार झटका दिया लेकिन मेरा लंड फिसल गया.

कसम से सन्नी लियोनी से ज्यादा गदराई गांड है उसकी…मैंने कहा- हरामियो, पहले नहीं बता सकते थे… अच्छा सुनो. देखो तो तुम्हारा गुलाम कैसे फड़फड़ा रहा है!कहते हुए उसने अपने लिंग पर मेरा हाथ पकड़ कर रख दिया… मैंने लिंग को दबा दिया पर तुरंत छोड़ भी दिया और शरमा कर अपने हाथों से चेहरा ढक लिया।फिर कुछ पल मुझे किसी के भी पास ना होने का अहसास हुआ.

रेशमा- बस? मुझे लगा तुम उसमें कहीं ज्यादा इंटरेस्टेड हो… और तुम्हारा बम्बू तो कुछ और कह रहा है.

तो मैंने कहा- किस काम में?वो बोली- बेवकूफ… सेक्स करने में!तो मैंने कहा- यही हाल यहाँ है… गर्लफ्रेंड बन नहीं रही और बनाना हमको आता नहीं!वो बोली- चल मैं सिखाऊँ!मैंने कहा- आप?तो भाबी बोलीं- इसमें हर्ज क्या है, मेरी भी हेल्प हो जाएगी और तुम्हारी भी!फिर क्या था… हमारी डील पक्की हुई और बात किसिंग से शुरू होते होते लंबी दनादन चुदाई तक चलती रही. इतना सब हो जाने के बाद भी शर्माता है।मैंने कहा- नहीं मेरी कई फ्रेंड नहीं है. जिससे वो कुछ नॉर्मल हो गई।फिर मैं धीरे-धीरे झटके देने लगा और वो दर्द से चिल्लाने लगी- अहह मर गई.

मैं टूट चुका था… क्या करता… कुछ समझ नहीं आ रहा था… बच्चा इतना छोटा कि परवरिश कैसे होगी. जिससे मैं चुदना चाहती थी।ये चुदाई सिर्फ़ अपनी फ्रेंड की वजह से हो पाई थी. तभी मैं चाची का ब्लाउज खोल कर एक के बाद एक दोनों चूची को चूस रहा था, और वो हम्म आह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ऊम्म ऊम्म कर रही थी, अपने हाथ से मेरे सर को चूची पर दबा रही थी, बोले जा रही थी- आज इनका पूरा दूध पी जा!पेट से होता हुआ मैं नाभि को चाटता हुआ नीचे जा रहा था… वो हम्म ओह्ह आअह्ह्ह्ह किये जा रही थी.

जिससे मेरे चूतड़ उठे हुए साफ़ नज़र आ रहे थे और पेंटी लाइन भी साफ़ दिख रही थी।मेरी पेंटी पिंक कलर की थी।हम जैसे ही कमरे में घुसे.

सेक्सी बीएफ चाहिए बीएफ सेक्सी: अमृता से सेक्स के बाद अभी मेरे लंड को भी कई दिन से चूत नहीं मिली थी इसलिए मेरा लंड भी नई चूत के जुगाड़ में था और यहाँ तो खुद एक नई चूत चलकर मेरे पास आ रही थी तो मुझे भला क्या परहेज होता. डीप नेक वाली टी-शर्ट और चुस्त केप्री देखकर कसम से लंड खड़ा हो गया। बस यूं समझिए कि उसी वक़्त मेरे अन्दर का कामदेव जाग गया। लेकिन मैं शरीफ बनता हुआ उसके कमरे में दाखिल हुआ।मैंने देखा कि कमरे में सन्नाटा था। फिर मैं समझ गया कि आज तो इसको गेम बजवाना ही है, बेटा तू लंड सम्भाल कर तैयार हो जा।मैंने उससे पूछा- तुमने तो बोला था पार्टी है.

मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसकी हथेली को सहलाने लगा, कोमल के शरीर कांपने लगा- बोलो न कोमल, दिल नहीं करता क्या तुम्हारा?कोमल ने नज़रें झुका कर कहा- हाँ करता तो है…मैं बातों को अगले लेबल तक ले गया और पूछा- फिर क्या करती हो?कोमल- फ़ोन कर लेती हूँ उनको… और मैं क्या कर सकती हूँ!मैं- दिल नहीं करता तुम्हारा कि वो तुम्हारे पास हो… कब आएगा वो अब?कोमल- बहुत करता है. थोड़ी देर बाद उसे ज्यादा मजा आने लगा और मुझे भी… मेरा पानी उसकी चूत में छूट गया. मुझे क्या छिनाल समझता है?मैंने उसके गुस्से को दरकिनार करते हुए पूछा- मे आई डिज़र्व फॉर यू?वो घमंड से भर कर बोली- साले तू अपनी औकात देख.

उसकी सांसें कुछ तेज सी चलनी शुरू हो गई थी। मेरे हाथ खासतौर से उसके घुटने के ऊपर और जांघों के आसपास चलते जा रहे थे। टहलते हुए मेरे हाथ सुहाना के बीचोंबीच भाग के ऊपर चले गये, यह क्या वो पैन्टी भी पहने हुए थी।उसकी चूत के साथ-साथ सुहाना के गालों को सहलाते हुए बोला- तुमने आज मेरे लिये दो सेट ब्रा पैन्टी का खरीदा था क्या?उसकी पलकें खुली मेरी तरफ देखा और अपने सर को न में हिला दिया.

जो पहले केवल एक क्वार्टर था।धीरे-धीरे समय बीतता गया और मुझे यहां रहते हुए 7 महीने बीत गए।इतने समय में, मैंने खुद को काफी बदल लिया था और यहां के रहन-सहन के अनुसार भी ढल चुकी थी। मुझे में यहां आकर कुछ निखार भी आ चुका था। उसी दौरान मैंने नोटिस किया कि अब्बू मुझसे बातें भी अधिक करने लगे थे और वह कोशिश करने लगे थे कि मेरे साथ खाना खाएं, जबकि पहले वह हमेशा कहते थे कि तुम खाना खा लेना. अब मुझे भी मजा आने लगा, कुछ ही देर में उसकी चूत से पानी निकलने लगा और मैं उसका पानी चाटने लगा. तभी कुछ करूँगा।वो टाइम से नहीं आई पर उसका मुझे मैसेज आया कि स्कूल में थोड़ा टाइम लग जाएगा, तुम प्लीज सेक्टर 17 आ जाओ, मैं सेक्टर 17 में ही मिलूँगी।मैंने ‘ओके.