गायत्री बीएफ

छवि स्रोत,non veg डबल मीनिंग जोक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

पेगनेट कैसे किया जाता है: गायत्री बीएफ, उनके मुँह और तेज सिसकारी निकलने लगी थी- अआह उह आउच आ जोर से … अआह मजा आ रहा है.

गर्ल नेम्स

तो उस दिन घर जाते वक्त मैंने इकरा से पूछा- वो क्या क्या कर रहे थे?तो इकरा ने मुझे सब डिटेल में बताया तो उसकी बात सुनकर मेरी पैंटी फिर गीली हो गई। इकरा ने ही मुझे बताया कि बिना चुदाई चूत को बुर कहते हैं. जानवर का सेक्सी वीडियो चाहिएमेम रानी बोली- यार रुस्तम, बड़ी प्यास लग रही है … ज़रा जा न किचन में … फ्रिज से एक लिमका ले आएगा? दोनों पिएंगे एक ही बोतल से.

चित्रा- अविनाश आज रात के सरप्राइज के लिए तैयार हो न?मैं- कैसी सरप्राइज?आलिया- वो खाना खाने के बाद पता चल जाएगा. छत्तीसगढ़िया टिप टॉपमैं अब सिर्फ़ लंड के मजे ही लेना चाहती थी … और मैं ऐसा कर भी रही थी.

पर मेरी मम्मी का फिगर मौसी से ज्यादा है तो मम्मी भी कुछ कम नहीं हैं।मेरी बड़ी बहन पूजा मुझसे दो साल बड़ी है और उसका शरीर मुझसे ज्यादा भरा और गदराया हुआ है.गायत्री बीएफ: अभी तक कितनों ने चूसा है इसको, आज आप भी स्पेशल चुसाई कर डालो मेरी गर्म गर्म तपती हुई चूत की। आह्ह चूस लो डैडी।रमेश ने रिया की टांगों के बीच में जगह बनाई और बैठ गया। उसने रिया के करीब आकर उसकी चूत को पहले सूँघा। सूंघने से उसमें चूत की सौंधी सी खुशबू आ रही थी।रिया की चूत गीली हो चुकी थी। उसमें से लसलसा पदार्थ बह रहा था जो कि चूत को चिकना कर रहा था.

मेरी चीख निकल गई- आह आओह माँ … मैं मर गई!मेरे बेटा आदी ने मुझे चोदना चालू कर दिया.बहुत दिनों बाद मैं आप का अपना राजवीर एक बार फिर से हाज़िर हुआ हूँ, अपनी क़लम से निकली एक और दास्तान लेकर!लेकिन पहले अपनी बात!मेरी पिछली कहानीएक और अहिल्याकी ऐसी चौतरफ़ा वाहवाही की तो मैंने कल्पना भी नहीं की थी.

एस वॉलपेपर - गायत्री बीएफ

उफ्फ … क्या मजा आ रहा था!उसने मेरे बालों को पकड़ा और अचानक से मुझे ऊपर उठा कर किस करने लगा.रिपोर्ट का सवाल सामने आया तो मेरे पास कहने के लिए कुछ बचा ही नहीं था.

तीन दिन लगातर उसे हचक कर चोदने के बाद मैंने उससे कुछ दिन रेस्ट करने की कहा. गायत्री बीएफ रोहिताश से गले लगते वक्त मेरे निगाहें सीमांशी पर गयी, सीमांशी को देख मेरी आँखें एकटक उसे देखने लगी मानो शिकार करने से पहले ही उसके भोग की की कल्पना में डूब गया.

अम्मी की आंखें बंद थीं और वो मदहोश थीं इसलिए उनको मेरे आने की खबर ही न हुई.

गायत्री बीएफ?

दीदी और बच्चों को भी पैक करके दे दिया था और अपने लिए भी बनाकर रख दिया था। बस मैं उसे फ़टाफ़ट गर्म करके ले आती हूँ आप बैठो. मैं उसके बूब्स को बारी बारी से मुंह में लेकर चूस रहा था और साथ ही साथ अपने हाथों से दबा भी रहा था. अब जीजू से मेरी कम मुलाकात होती है … और अगर होती भी है, तो सीधे बिस्तर पर ही होती है.

सुनीता मम्मी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… उईईइइ ममाँआ … बेटा आहह चूस ले अपनी माँ के दूध को आहह … और चूस मेरे बेटे. खैर मुझे क्या मुझे तो वैसे भी शादीशुदा या चुदी हुई औरतें ज्यादा पसंद हैं. अब बताओ, ये होगा कैसे?”तुम्हें मैं पूरा प्लान बताता हूँ, उसी पर चलना होगा.

अब्बू ने मेरी ओर कातर निगाहों से देखते हुए कहा- एक बार तू अपने लण्ड से अम्मी की गांड का छेद फैला दे. मैंने उसे अपनी ओर खींचा, फिर उसकी चुत पर मुँह लगा कर जोर से उसकी चुत चाटने लगा. तो उसने मुझे लेटाया और मेरे ऊपर आकर अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और मुझे मुँह में चोदने लगा.

चूंकि अम्मी ने पैन्टी नहीं पहनी थी इसलिये अम्मी की चूत भी मुझे दिख गई थी. फिर मैंने सोचा कि हो सकता है कि ये सब शारीरिक भूख मिटाने के लिए बहन की तरफ से ही समझौता हो.

रात के करीब एक बजे मैंने कुछ आवाज़ सी सुनी, जिससे मेरी नींद खुल गयी.

जब वाईब्रेटर चुत की फांकों में करतब दिखा रहा था तब उनकी कामुक आवाजें निकल रही थीं.

उधर आकाश और दीदी दोनों रोमांस में मशगूल थे … आकाश की टी-शर्ट उतर चुकी थी. रोहित बेहद कसमसा रहा था … और संजू ‘उम्ह … उम्हअअ…’ करते हुए रोहित के आंड चूसे जा रही थी. सारे कॉल उसी के ही नंबर से आए हुए थे … लेकिन मैं उठा नहीं पा रहा था.

चोदते हुए मैंने पूछा- मजा आ रहा है क्या?वो बोला- जब लंड गांड में घुसा है तो मजा तो आयेगा ही. अब हम लोगों में कुछ भी छिपा नहीं है, मैं रुकैय्या कौ गांड मराने के लिए अक्सर उकसाता रहता हूँ और घोड़ी बना कर चोदने के दौरान अंगूठे से उसकी गांड की मसाज करता रहता हूँ. पहले मैं ध्यान नहीं देता था, पर जब तुम मुझे दुबला करने पर तुल गईं, तो अच्छी लगने लगीं.

मोनू बोला- वाह प्रियंका, सही बात की है तूने!मैंने कहा- फिर ऐसा करो … हम सभी लड़कियों के एक एक करके कपड़े उतारते जायेंगे.

क्योंकि मुझे जवान होने की उत्सुकता और जल्दी थी, क्योंकि मैं मासिकधर्म को जवानी की दहलीज पर पहला कदम मान चुकी थी. 02 फ़रवरी, सोमवार … वसुंधरा की शादी!आज 27 जनवरी, मंगलवार की शाम तो हुई भी पड़ी है. मैंने अंगड़ाई लेते हुए आँखें खोलीं और रुकैय्या से लिपट कर बेतहाशा चूमने लगा.

अब सीन ये था कि स्नेहा भाभी बात तो उस लड़की से कर रही थीं, पर उनकी नजरें मेरी नजरों से मिल रही थीं. अम्मी की ढीली ढाली चूत में मुझे मजा भी नहीं आ रहा था और गांड मारने का अनुभव भी होने जा रहा था इसलिए मैंने अपना लण्ड अम्मी की चूत से निकाला और अम्मी की अल्मारी से तेल की शीशी निकलने लाया. ऐसे हम चारों मजाक मस्ती करते हुए हंस रहे थे, तो उधर वो चारों भी हंस रही थीं.

वैसे तो मैंने बहुत लड़कियों और भाभियों की चुत मारी है, पर ये कहानी कुछ अलग हट कर है.

ट्रक जब सुनसान एरिया में आ गया, तो अचानक एक खलासी ने पूछा- तेरा रेट क्या है?मैंने हड़बड़ा कर पूछा- मतलब?उसने कहा- मुझे पता है, तुम धंधे वाली हो. तो दिन में यह सब कैसे हो पायेगा?”यार इसमें समस्या वाली कौन सी बात है तुम चाहो तो दिन में नहीं तो रात में भी तो हम यह सब कर ही सकते हैं.

गायत्री बीएफ लण्ड पर कॉण्डोम चढ़ाकर मैंने तेज तेज धक्के मारने शुरू किये ताकि डिस्चार्ज हो जाये लेकिन डिस्चार्ज नहीं हुआ और लण्ड का सुपारा फूलकर संतरे जितना बड़ा हो गया. पर मैंने हाथ हटा लिया और उससे कहा कि साले तुम बहुत ठरकी हो … मुझे क्या गर्लफ्रेंड समझ लिया है.

गायत्री बीएफ जब मैं उससे मिली तो पहले उसने मुझे बहुत वासना भरी नजरों से देखा और मुझसे कहा- आप बहुत सुंदर हो भाभी जी!और मेरे पास आकर बैठ गया. मैंने दीपिका से कहा- चिंता मत करो, अब मैं तुम्हारी सभी इच्छायें पूरी कर दूँगा.

टॉवल लपेटे हुए मैं बिस्तर पर पेट के बल लेट गयी और ज्ञान ने अपना काम शुरू कर दिया। पैरों की मालिश के बाद ज्ञान तौलिया को हटा दिया और मेरे 36 के नंगे चूतड़ों को मसलना शुरू कर दिया.

एक्स ब्लू

वो खुश हो गया और बोला- यार तू कहां था आज तक? अब मिला है मुझे और वादा कर कभी छोड़ कर नहीं जायेगा. अब मेरी गर्लफ्रेंड उसके मुंह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज आने लगी। उसे चूत चुदाई का मजा आने लगा था. रोहन ने फिर रोहित से कहा- रोहित … तूने अपनी और मेरी मम्मी दोनों को नंगा देखा है.

वो बार बार सी सी सी सी करती, हाय हाय करके अपनी मां को याद करती,तथाऔर ज़ोर से चोदने के लिये पुकारती हुई चुदे जा रही थी. मैंने कहा- तेरी तो अब चुदाई होने वाली है … वो भी मोनू से!साथ ही मैंने एक स्माइल दे दी. उस समय मेरा लंड पूरा तना हुआ था … और खून के उच्चतम संचार से फूला हुआ था.

पर आपस में एक दूसरे की माँ के बारे में ऐसी बातें करना और एक दूसरे के गुप्तांगों को सहलाना थोड़ा अजीब लगता है.

सोनम अपने एक एक हाथ में हम दोनों के लंड को पकड़ कर जोर जोर से सहला रही थी. अपने से दूर जाती वसुंधरा के सुडौल नितम्बों की ऊपर नीचे हिलौर देख कर मेरे मन में एक वहशी सवाल आया कि आज इस काली साड़ी-ब्लाउज़ के नीचे वसुंधरा ने अंडरगारमेंट्स कौन से रंग के पहन रखे होंगें?तत्काल मेरे दिल ने कहा ‘काले रंग के. और तकिए के नीचे कंडोम रखा था, वो उठाया अपने लंड पे लगाया और उसके बूब्स चूसने लगा.

अभी मैं अपनी सांसों को संभाल भी नहीं पायी थी कि इतने में जेठजी फिर से पीछे से आकर मुझसे चिपक गए और मेरी गर्दन के पीछे वाले हिस्से को चूमने लगे. मैंने उसे उठा कर सीने से लगाते हुए कहा- मेरी भी इज्जत का सवाल है, मेरे बेटों की नजर में अपनी इज्जत कम नहीं करना चाहता. पीछे से प्रिया आई और रिंकी को सुनील की छाती से ऊपर तक फिसलने को कहा और खुद अपने पैरों के तलुओं से सुनील के टट्टे और गांड सहलाने लगी.

और जब मैंने खुद को आईने में देखा, तो दिल में आया राजन तू तो पक्की लौंडिया लग रहा है. मौसी की टांगें भी हवा में उठ गई थीं, जिससे मैं अब अपना पूरा लंड चूत में अन्दर तक पेलने लगा था.

वो भी पिछले 10 साल से अनछुई थी। मेरे लिए तो वो कुंवारी लड़की से कम नहीं थी। मैं उसको हर तरह से भोगना चाहता था।वैसे भी वो मस्त गोरी माल थी और गोरी औरत मुझे काफी पसंद है।हम दोनों होटल के कमरे में गए. आप खुद समझ सकते हैं कि मेरी अम्मी कितनी हिम्मत और मज़बूत इरादे वाली औरत थी, जो हमारे समाज में सगे भाई-बहन की शादी वर्जित होने के बावजूद इतना बड़ा निर्णय ले चुकी थी. जीजू बोले- आज जल्दी किस बात की है मेरी बेबी … बहुत दिनों बाद तो ऐसा मौका मिला है.

न बाबू जी को होश था और न मुझे!और आखिरी पलों में तो मैं जैसे किसी स्वर्ग की सैर कर रही थी.

उसकी कसी हुई चुचियां ब्लाउज के ऊपर से बड़ी मादक लग रही थीं, पेटीकोट जो उसने नाभि के दो इंच नीचे पहना था, उससे उसकी गांड का उभार स्पष्ट दिख रहा था. वह बोली- क्या राज जी, आपने भी क्या हल्की बात कर दी? अपनों का भी कभी झूठा होता है?यह कह कर उसने एक बड़ा सा सिप और ले लिया और कुछ ही मिनट के बाद वो झूमने लगी. मेरी जुड़वाँ बहन पल्लवी नंगी अपनी टाँगें पूरी फैला कर ओपन शावर ले रही थी और उसका पति अविनाश नीचे बैठा हुआ उसकी चूत चूस रहा था.

फिर मैंने कोमल की चुत से लंड निकाल कर कंडोम को डस्टबिन में फेंक दिया. हालांकि हम दोनों एक दूसरे को स्कूल के समय से ही जानते थे मगर चूंकि अब मैं भी जवान था और वो भी जवान हो रही थी तो इसलिए इन सब बातों की तरफ अनायास ही मेरा ध्यान चला जाता था.

कोमल- आहह राज, प्लीज स्लो स्लो … उहह उम्मह ओहह राज धीमे साले … दर्द हो रहा है. सामने से मैं अपने होठों से पैंटी में कैद गर्लफ्रेंड की कुंवारी बुर को चूम रहा था. इसके बाद मैंने चाची को बेड पर लिटा दिया और चाची की चूत में उंगली करने लगा.

चूत में लंड वीडियो

मैंने दूसरा धक्का देते हुए अपना पूरा लंड भाभी की चूत में डाल दिया और धक्के मारने लगा.

बहुत से पाठकों ने मेल द्वारा कहानी को पसन्द किया, उसके लिए आप सभी को धन्यवाद. फिर जल्दी ही दिन गुजर गये और वह अंकल मुम्बई आ पहुंचे, पहुंचने के बाद उन्होंने मुझे वटसऐप कॉल किया. अब वो भी मेरी बातों और हरक़तों से गर्म होने लगी थी और किसिंग में मेरा पूरा साथ देने लगी थी।एक दिन मैंने उससे कहा- यार अब नहीं रहा जाता, मैं तुम्हें अब खुल कर प्यार करना चाहता हूं। तुम्हारे इस जिस्म को जी भर कर निहारना चाहता हूं। अब ऐसे बाहर ही बाहर से सहलाने भर से मेरा मन नहीं भर रहा है। मुझे तुम्हारे पूरे जिस्म को बिना कपड़ों के सहलाना, चूसना व चाटना है.

उसके बाद लोग अदला-बदली की क्यों सोचते हैं?जीजा जी- वो क्या है न … शादी के बाद मर्द एक चूत चोदकर बोर हो जाता है और उसे किसी नई चूत की तलाश रहती है … ऐसा ही हाल औरतों का भी होता है. आज मेरी चूत में ज्यादा ही आग हो रही थी क्योंकि आज बहुत दिनों बाद मुझे इतना बड़ा लन्ड मिल रहा था. दीप्ति भटनागरमैंने बहू से बोला- तुझे गांड चाटने का बहुत शौक है ना … चल साली तू आज मेरी भी गांड चाट कर बता.

इसी तरह 25 मिनट चोदने के बाद जोरदार झटके से ससुर जी ने अपना सारा वीर्य मेरी चूत में छोड़ दिया. ऐसा करती हूं कि मैं दूसरा बच्चा तुमसे ही पैदा करवा लेती हूं, हम दोनों दोस्त भी हैं और ये बच्चा किसका है इसके बारे में किसी को पता भी नहीं चलेगा.

पर मेरी लम्बाई उन दोनों से ही कम थी। रोहित मुझे अभी भी कस कर जकड़ा हुआ था और उसका खड़ा लण्ड मुझे अपनी पीठ के निचले हिस्से पर महसूस हो रहा था मेरी गांड से कुछ इंच की ऊँचाई पर।रोहित ने फिर धीरे धीरे मेरे गाउन को टांगों से ऊपर उठाना शुरू कर दिया. फिर भैया ने फिर से हाथ बढ़ा कर बोतल और गिलास उठाया और गिलास को भर कर एक और सिप मेरे छोटे से मुँह में अपने मुँह से उड़ेल दी. अपना लण्ड बाहर निकालते हुए मैंने गिन्नी से कहा- चलो बेबी, घोड़ी बन जाओ.

इन दोनों बातों का मतलब अब यह था कि हम तीनों में बहुत ही घमासान तरीके से चुदाई होने वाली थी. आह आह आह करते हुए मैंने लौड़े से मोटे मोटे लावा के लौंदे गुड्डी रानी के मुंह में उगल दिए. उसने फोन उठाया और उठाते ही मुझसे बोली- मुझे तुमसे बात नहीं करनी, तुम किसी काम के नहीं हो.

मैं कमरे में इंतजार कर रहा था और सोच रहा था कि बाहर पता नहीं क्या हो रहा है.

कभी नीचे बढ़ कर जांघों को सहला जाता, तो कभी चूत की पावरोटी को दोनों तरफ से दाब कर मेरी बैचेनी को बढ़ा देते. डेलिवरी का दिन आ गया … लेकिन बदकिस्मती से डेलिवरी के समय मामला कुछ फंस गया और बच्चे के जन्म के साथ ही शमा की मृत्यु हो गयी.

फिर उसने नीचे ही नीचे से हाथ ले जाकर मेरी शर्ट के बटनों को भी एक एक करके खोलना शुरू कर दिया. मैंने अपनी ट्रेन आशा की चूत में चला दी और धक्के मारते मारते मंजिल पर जा पहुंचा. फिर अपनी बीवियों को उनके कमरे में छोड़कर किसी बहाने से चुपचाप होटल की मीटिंग हॉल में इकट्टा हुए।बीवियों के मन में सवाल उठने लाजमी थे.

नाश्ता कर के सुनील और विशाल तो साईट पर चले गए पर शीला रुक गयी कि आज बाजार से सामान लाकर सब ठीक कर दूँगी. तभी प्रियंका सीमा को देख कर बोली- साली थोड़ा ऊँची आवाज में बोल … मुझे तो सुना नहीं!मैंने फिर कहा- अच्छा, जो जो ग्रुप सेक्स के लिए राजी है वो अपना हाथ ऊपर करे. जाते टाइम मैंने मुड़कर उसे आंख मारी और एक अश्लील सी स्माइल देकर वहां से चली गयी।थोड़ी देर बाद शालिनी मेरे पास आई और बोली- क्या हुआ आज अंदर?तो मैं हंस दी.

गायत्री बीएफ ”क्या दिखा दें तुमको?”हनी की चूत, और क्या? एक बार हमसे चुदवा ले, भला हो जायेगा. वसुंधरा ने मेरे कोट की अंदर-अंदर की तरफ़ से अपना दायां हाथ लंबा कर के मेरी पीठ की ओर से मेरी दायीं तरफ की पसलियों को जकड़ लिया.

ट्रिपल एक्स डॉट कॉम सेक्सी व्हिडीओ

इन दोनों बातों का मतलब अब यह था कि हम तीनों में बहुत ही घमासान तरीके से चुदाई होने वाली थी. मैंने उसके कंधे पकड़े और दनादन बीस पच्चीस धक्के बहुत तेज़ी से मारे. यह कहकर वो चली गयी।शाम को स्कूल के बाद वो हम सबको स्कूल के पीछे ले गयी और एक जगह छुपा दिया और खुद मोहित का इंतजार करने लगी.

अब तो वो घर आते ही मेरी गोद में सर रख कर लेट जाता और मेरे मम्मों से अपने सर को रगड़ने लगता. देती भी क्यों नहीं … वो खुद काम वासना में डूब रही थी, उसके तन को एक लंड की जरूरत थी. मजेदार जोक्स इन हिंदी non vegफिर जूते और मोज़े उतार के मैंने टांगों को पैंट से आज़ाद किया और रानी के सामने खड़ा हो गया.

जीजू क्या अगर कोई भी मुझे इस रूप में देख लेता तो उसका पागल होना निश्चित ही था.

इस उम्र में लड़कियां जो कुछ देखती हैं, वैसा ही करना चाहती हैं, ऐसे में कोई गलत लड़का मिल जाये तो लड़की का भविष्य खराब हो जाता है. प्रिया के गोरे गोरे मांसल मम्मे अब विशाल के हाथों की गिरफ्त में थे.

और जैसे ही भाभी ने अपनी गांड को हल्का सा ढीला किया तो उनकी गांड से गंदा पानी निकलने लगा. अब तक इस हिंदी सेक्स स्टोरी के पिछले भागएक्स-गर्लफ्रेंड की कुंवारी ननद की चुदाईमें आपने पढ़ा था कि मैं जिया को चोदने के बाद अपने कमरे में चला गया था और इन्हीं सब कामुक बातों के साथ मेरी एक्स गर्लफ्रेंड अपनी ननद के साथ मेरे लंड से चुदने की बात का मजा ले रही थीं. इस पर वो झल्ला कर बोलीं- विशाल क्या कर रहा है, छोड़ मुझे!मैं- मौसी आप बहुत हॉट हो.

पैड लंबा सा एक तरफा चिपकने वाला नैपकिन होता है, जिसे पैंटी के नीचे पतली म्यानी पर चिपकाया जाता है, फिर पैंटी पहनने से पैड योनि को ढक लेता है, जिससे कि मासिकधर्म के समय बहने वाला खराब खून खास प्रकार की रूई द्वारा पैड के माध्यम से सोख लिया जाता है.

इसलिए इसको शराब जरूर पिलाऊंगा।दोस्तो करीब 6 घंटे के सफर के बाद हम दोनों पचमढ़ी पहुँच गए। वहाँ पर एक अच्छे से होटल में मैंने एक ऐ. उसकी सारी बातें सुनकर मेरी बीवी नीरा ने उससे कहा कि मैंने ऐसी ही एक कहानी अन्तर्वासना पर पढ़ी थी जिसमें मायके आई हुई लड़की अपने भाई से चुदवा कर गर्भ धारण कर लेती है और ससुराल में सुखी जीवन व्यतीत कर रही है. मैंने अपनी सहेलियों से सुन रखा था कि चूसने से लण्ड टाइट हो जाता है इसलिये मैं लण्ड चूसने लगी.

ट्रिपल वीडियो सेक्सी फिल्मउन्होंने मेरी चूचियों को भींच कर मुझे जकड़ लिया और नीचे से अपनी गांड को आगे पीछे चलाने लगे. कोमल और में फिर एक दूसरे के आंखों में देखने लगे और फिर एक दूसरे के नजदीक आकर होंठों को चूमने लगे.

एक्स एक्स वीडियो चालू

मुझे भी गोरी गांड चुदाई में मजा आ रहा था और अंकल को भी अपनी गांड चुदवाने में काफी मजा आ रहा था. तब मैंने उन दोनों की तरफ देखा और हंसकर कहा- तुम दोनों डरो मत … मेरी प्यारी रखैलों. कुछ दिन तो मैंने बर्दाश्त किया मगर एक दिन तो उसने हद कर दी, उसने मुझे सबके सामने बहुत ज्यादा डांटा और नौकरी से निकालने की धमकी तक दे दी.

वो- अच्छा ठीक है सुनो, तुम ना सीधे गली में जाना और वहां मेरे घर के लास्ट में रुक जाना. मुझे बतायें कि इस तरह से शादीशुदा जीवन में सेक्स का मजा लेना कहां तक सही है? अपनी राय नीचे दी गयी ईमेल पर भेजें. पांच मिनट में ही भाभी ने मुझे कसकर जकड़ लिया और बोलीं- मेरा माल आने वाला है.

जीजू बोले- हां हां क्यों नहीं मेरी रानी … ये ले मेरी जान … आज तो तेरी चुत को भोसड़ा बना कर ही रहूँगा. एक दोस्त के साथ उसकी दोस्ती गहरी हो गयी और उन दोनों ने इस रिश्ते को और आगे बढ़ाने की सोची. सीमांशी ने अपनी दोनों टांगें खोलकर मेरा स्वागत ऐसा किया मानो वो खुद इस पल की प्रतीक्षा में रही हो मैंने लन्ड उसकी चूत के बाहर ही रगड़ना शुरू कर दियाकाम के वशीभूत सीमांशी से रह नहीं गया.

पहले वाले अंकल ने लंड मम्मी की गांड में डाल दिया और 5 मिनट तक ऐसे ही चुदाई करी. मौसी- चुपकर … क्या बोले जा रहा है, पागल हो गया है क्या?मैं- हां आपके हॉट लुक ने मुझे पागल कर दिया है मौसी.

मैंने हनी की चूत चाटना जारी रखा तो हनी ने मेरा अण्डरवियर उतार दिया और मेरे लण्ड की खाल आगे पीछे करते हुए मेरे लण्ड का सुपारा चाटने लगी.

थोड़ी देर बाद पीछे से नीतू आई और मेरे कंधों पर झुक कर मेरे कान के पीछे अपनी जीभ रगड़ने लगी. एचडी एचडी सेक्सी वीडियोउत्सुकतावश मैं बाहर आया और देखा कि रुकैय्या अब्बू के बेडरूम में गई है. फिल्मी हीरोइन की सेक्सीनजमा मेरा पूरा साथ दे रही थी ‘आह ओह … निचोड़ दो मेरे बूब्स को … आह … आ स स … आ. मैंने ब्रा तो पहनी ही नहीं थी, तो एक खलासी चिल्लाया- गुरू … इसने ब्रा नहीं पहनी है.

मायरा की चूचियों को मैं चूसने लगा और उसने मेरे सिर को अपने चूचों पर दबाना शुरू कर दिया.

जैसे ही मेरा यह कहना हुआ कि शीना एक गुलाम की तरह मेरी सारी बातें सुनने लगी. मैं- वो भी हमारे इस खेल में शामिल हो जाएगी … तो हम सुरक्षित हो जाएंगे … अगर तुम्हें आकाश से बचना है … तो इसी बात पर सोचो. तीसरे दिन रात को फिर वो ही घटनाक्रम … बाबूजी ने दरवाजा भेड़ा, मैं उठी और दोनों ने पहले बिना कुछ बोले काम क्रीड़ा की और भाभी उनके बिना कहे बिस्तर पर मुंधी(उलटी) हुई और फिर उनके पीछे बाबूजी खड़े हो गए फर्श पर और फिर कैसे 12 मिनट बीते, ये पता ही नहीं चला.

मैंने अपने फोन में उसकी एक तस्वीर दिखाई और कोमल फोन में तस्वीर देखने लगी. मैं अपनी आंखें बंद करके अंगड़ाइयां ले रहा था और वो मेरी जांघों पर हाथ फेर रहा था. मुझे मालूम था कि गिन्नी को पिज्जा बहुत पसंद है और मेरा साला अव्वल दर्जे का कंजूस है इसलिये पिज्जा मंगाता नहीं है.

દેશી પોર્ન

मायरा का गीला बदन और नंगी चूत देख कर मैं भी और उत्तेजित हो गया और उसके पास चला गया. जहां दो औरतें किस कर रही हों … तो कोई भला कैसे इस सुख का मजा लेने से मना कर सकता है. उसकी उंगलियां अंधेरे में ऐसे घूम रही थीं कि मेरी चूत में चुदने से पहले ही पानी छूटने को हो गया था.

अगली बार लिखूंगा कि उस रॉंग नम्बर वाली लौंडिया की देसी सेक्स चैट कहानी कैसे आगे बढ़ी.

मैंने छूटते ही बोला- वैसे एक बात कहूं?स्नेहा भाभी बोलीं- हां जी बोलो?मैंने कहा- वो पेप्सी तो गिरनी ही थी.

उन्होंने हाथ से अपना लंड पकड़ कर मेरी चूत की छेद पर रख कर दो तीन बार अपना लंड चूत के फांकों में ऊपर नीचे किया. जितनी देर में वो पेशाब करके आई उतनी देर में मैंने अपने लण्ड पर कोल्ड क्रीम चुपड़ ली. पाकिस्तानी फिल्म सेक्सीसाथ ही संजू अपनी जॉकी की ब्लैक ब्रा उतार कर ऊपर से पूरी नंगी हो गई.

साथ ही रीना को भी खबर न लगे कि उसका देवर और देवरानी वहां जा रहे हैं. साथ में मैंने दो उंगलियां मौसी की चूत में डाल रखी थीं और उनके हिडेन स्पॉट (चूत के छेद में अन्दर की तरफ एक स्पॉट, जो कि बहुत ही सेंसटिव होता है) को लगातार छेड़े जा रहा था. मैं बोला- वो सब से मतलब?तो वो बोली- वही एन्जॉय … जो कल आपने भाभी और आशा के साथ किया था.

समीर ने मेरी गांड के नीचे तकिया लगाया और थोड़ा सा चूत को खोला और जीभ पूरी अंदर डाल दी. अब बोलने की बारी अम्मी की थी- रुकैय्या बेटी, पिछले पच्चीस साल में मैंने तेरे अब्बू से तमाम बार गुजारिश की कि मेरा गांड मराने को मन करता है लेकिन इन्होंने मेरी इच्छा कभी परी नहीं की.

वहां पहले ही मैंने एक होटल में तीन रूम बुक कर लिए थे। शाम को हम सभी थोड़ा घूमने निकले और कुछ क्षेत्रों में बर्फ़बारी को होते हुए देखा.

अगले दिन मैं शाम को अपनी बालकॉनी में खड़ा था वो लड़की भी अपनी बालकॉनी में खड़ी थी. आपके लंड ने तो कमाल कर दिया … मेरी चूत के कोने कोने में जाकर मेरी प्यास को शांत कर दिया. जैसे शीना ने सुबह-सुबह मेरे लौड़े को पकड़ कर और कसके दबा दिया था न … वैसे ही मैं तुम दोनों की अभी ठुकाई करूंगा.

पवन सिंह का बेवफाई गाना फिर वो दोनों मुस्कराने लगीं और खाना बनाते हुए चुदाई की बातें करने लगीं. रात का भोजन करने के बाद जब नीरा बेडरूम में आई तो मैं लेटकर अपना मोबाइल चेक कर रहा था.

मैंने उनकी अधखुली कमीज में हाथ डाला, तो उनकी नंगी पीठ पर हाथ फेरते हुए उनके होंठों को दुबारा चूमा और कमीज निकाल दी. मैं अपनी कार पर … घोड़े पर सवार पृथ्वी राज चौहान के मानिंद अपनी संजोगिता (वसुंधरा) के निमंत्रण पर दिल्ली (डगशई) की ओर वायु-वेग से उड़ा जा रहा था. जब मैं जा रहा था तो उसने मम्मी को पकड़ा और कमरे के अंदर ले जाने लगा.

सेक्सी फिल्म बीपी हिंदी

गीत जो दुबारा बजा तो पहली बार बजने पर जो कुछ हुआ था उसका एक्शन रीप्ले हुआ. कहानी के पिछले भागमेरी बीवी ने देखी अपने भाई भाभी की डर्टी पिक्चरमें आपने पढ़ा था कि मेरी बीवी ने अपने भाई और भाभी की चुदाई देख ली थी. कुछ देर के बाद जब मेरी हवस बेकाबू हो गई तो मैंने उसकी तरफ करवट लेते हुए उसकी कमर में हाथ डाल दिया.

मेरी हीना भी वहीं मेंहदी लगाती बैठी थी और चोरी छुपे मुस्कुरा रही थी. हैलो फ्रेंड्स, मेरी पहली स्टोरीअन्जान भाभी की चूत और मेरा लंडको इतना पसंद करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया.

जीजा जी ने दरवाजा खटखटा कर दीदी को बुलाया, लेकिन दीदी का कोई जवाब नहीं आया.

आप मुझे मेल करके बताना जरूर कि आपको प्रिया की प्यार की चुदाई की कहानी कैसी लगी. जब मैंने अपने दोस्त से बात की तो उसने कहा- अभी सोनम मेरे मामले में नयी है. मैं खुद को एक रंडी महसूस कर रहा था, जो ग्राहक को खुश करने के लिये कुछ भी करती है.

धीरे धीरे आंखें अंधेरे की अभ्यस्त होने लगीं तो हल्का हल्का दिखाई पड़ने लगा था. मैंने कहा भी- यार, मैं ऐसे कैसे किसी से लिफ्ट ले सकती हूं?तो उसने मुझे सुझाव दिया- तुम किसी ट्रक में लिफ्ट ले लो. ये नाइटी ऐसी थीं कि इनमें सिर्फ मेरी चुत तक के हिस्से को ही छुपाया जा सकता था.

मैंने पूछा- क्या?आंटी ने कहा- पहले तुम्हें मुझे चोदने के लिए तैयार करना होगा.

गायत्री बीएफ: उनके ससुर ने धीरे धीरे दीदी के भी कपड़े निकालने शुरू कर दिए और उन्हें सिर्फ़ पेंटी और ब्रा में ला दिया. अपने पास बुला कर अमनप्रीत मुझसे बोला- मेरा लंड तू ही अपने हाथ से इसकी चूत में डालेगा.

उसकी गांड में लंड लगाए हुए ही मैंने उसकी चूचियों को दबाते हुए उसके ब्लाउज में से पैसे निकाल लिये और उसके उरोजों को हाथों से जोर से दबोचकर बोला- और दम देखना है या अहसास हो गया कि मेरे अंदर कितना दम है?अब मैं उत्तेजित हो चुका था और अपने जलते हुए होंठों को मैंने बसंती की सुराही जैसी गर्दन पर रख दिया. उसके बाद बंदे ने अपना लंड निकला और दूसरे बंदे की गांड में डाल दिया‘ओ तेरी … ये क्या है … इतने छोटे से छेद में इसने इतना बड़ा लंड डाल दिया. इधर मेरी सास भी चिन्तित थी कि सीमा तो शादी के एक साल के अन्दर ही मां बन गई थी लेकिन हनी नहीं बन पा रही है.

पहला कश खींचते ही उसको खांसी आने लगी तो उसकी पीठ मलते हुए मैंने उसको कश मारने का तरीका सिखाया.

”कितनी प्यारी जांघें हैं तेरी …उनको सहला रहा हूँमैं!”आआह … मुझे बहुत अजीब लग रहा है. एक दो पल रुकने के बाद जीजू अपने लंड को मेरी चुत में आगे पीछे करने लगे. काफी देर ऐसे प्यार करते करते मैंने थोड़े से तेज़ धक्के मारने आरंभ किये.