बीएफ बहन की चुदाई

छवि स्रोत,कोरिया बीएफ वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी पिक्चर्स मूवी: बीएफ बहन की चुदाई, सोनू मुझे ऊपर छाती पर से और नीचे जांघों पर चूत के ऊपर से मसल रहा था.

बीएफ पिक्चर चित्र वाला

वीर्य और रज से सने हुए लंड चूत को हम दोनों ने पास रखे नैपकिन पेपर से अपने आपको साफ किया और बाथरूम में आ गए. बीएफ वीडियो में दिखाई जाएहम दोनों ने खाना खाया और बीयर भी पी और एक साथ लेट गए और फिर गुंथ गए एक दूसरे में।उस रात हमने 3 बार चुदाई की और थक कर एक दूसरे के गले में बांहें डाले सो गए।दूसरे दिन जब हमारी आँख खुली तो दिन के 11 बज रहे थे.

फिर मैंने सासू माँ को बेड पे लेटा दिया और नीचे हाथ ले गया, तो मेरा हाथ उनकी चूत से निकले पानी से गीला हो गया. पुरुषों की बीएफमैं अपनी बीवी को आंखों के इशारों से कह रहा था कि आज रात में हम बहुत मस्ती करेंगे.

वह अपने ससुर को देखकर सीधी होकर बैठ गई।पिता जी, मैं आपसे कुछ कहना चाहती हूं.बीएफ बहन की चुदाई: मैं और विवान भैया एक दूसरे से बात करते करते एक दूसरे के बारे में बहुत अच्छे से जान गए थे.

मेरी बात सुनकर सर ने हमें हमारे मार्क्स दिखाए … जिसमें ईशिता के 30 मार्क में से सिर्फ़ आठ थे ओर मेरे 30 में से उससे भी कम सिर्फ छह नम्बर आए थे.शबनम बोली- अब थक गयी … अब थोड़ी देर सो जाओ … रात को जब आँख खुलेगी तब करेंगे.

फिल्म चुदाई वाली बीएफ - बीएफ बहन की चुदाई

इस प्रकार आंटी के कहने पर मैं उनके घर पर ही खाना खाने के लिए जाने लगा.अब मैंने जैसे ही लंड को चूत की फांकों में रखा, वो घबरा कर पीछे को चली गई.

मैं भी जोश में था तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ रहा था। मैं पूरी ताकत से लंड को अंदर घुसाने की कोशिश कर रहा था मगर मेरा सुपारा ही घुस पाया था और उससे आगे लंड नहीं घुस पा रहा था. बीएफ बहन की चुदाई मैं मदहोश होकर सिसकारियां भरना चाहती थीं लेकिन आवाज बाहर न जाए इसलिए अपनी कामुकता को अंदर ही दबा कर रख रही थी.

” समीर ने अपनी बहन से कहा और अपने होंठों को ज्योति के नर्म होंठों पर रख दिया.

बीएफ बहन की चुदाई?

पर बात यहाँ भी नहीं बनी क्योंकि कांची अकेले औरतों के जाने से डर रही थी या बहाना बना रही थी. com/author/rahulsrivas/आगे की सेक्स कहानी राकेश जी के शब्दों में लिख रहा हूँ … आनन्द लीजिएगा. जब उसके घर जाता था वो बड़े ही प्यार से मुझे बस एक स्माइल पास कर देती थी.

ऐेसे ही एक दिन जब मैं उसके सामने नहा कर बाहर निकली तो मेरे बालों की क्लिप नीचे गिर गई. मेरे पूरे नंगे जिस्म को चाटने के बाद मोहनीश अपना लंड मेरी चूत में डालने लगा. जब माल निकलने वाला था, मैंने तुरंत लंड बाहर निकाल कर उनके मुँह में रस छोड़ दिया.

उनका बेटा लड़का जो पढ़ने के लिए बाहर गया हुआ था, वह आया हुआ था और अपने फ़ोन में लगा हुआ था. जैसे ही मैंने उसकी चूत पर अपना लंड रखा, वो अपनी कमर ऊपर उठाने लगी और मैं उसके होंठों को चूसने लगा. बीच में चूत का छेद का स्टॉप पड़ता तो उसमें जीभ थोड़ी लपलपा देता।ऊपर मेरे दोनों फावड़े जैसे हाथ उनके स्तनों का मर्दन कर रहे थे.

इससे पहले की वो मुझसे कुछ कहती मैंने उसको अपनी तरफ खींचा और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये. उसके ऊपर आकर उसके होंठों को, फिर गर्दन को, फिर धीरे धीरे उसके मम्मों को चूसने लगा.

इन लोगों का एक रूटीन था, सुबह सब मिलकर जिम करते फिर बाहर लॉन में बैठकर अपनी अपनी बीवियों के साथ चाय पीते … दिन भर कमर तोड़ मेहनत के बाद रात को एक एक पेग लगाने के बाद दसों लोग एक साथ खाना खाते.

वो उसे देख कर बुरी तरह शरमा गयी और उसने अपने दोनों हाथों से अपना चेहरा ढक लिया.

आपको मेरी कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं। जल्दी ही मैं अपनी नई कहानी के साथ वापस आऊंगा. लगभग दस मिनट तक पति के मोटे लौड़े को चूसने के बाद उनके लंड में तनाव बहुत ज्यादा ही बढ़ गया मुझे लगने लगा था कि अब उनके लंड का वीर्य निकलने वाला है. शायद तुम समझ रहे होगे कि मैं कोई बाजारू औरत की तरह व्यवहार कर रही हूँ.

मैंने उससे कहा- जब तुम सामान लेकर कपार्टमेंट में आयी थी ना, तभी ऐसा लग रहा था कि अभी खड़े खड़े ही तेरी चुत चोद दूँ … लेकिन किसी के साथ जबरदस्ती का सेक्स मुझे पसंद नहीं है. मैंने भी उन्हें प्यार करने में देर नहीं की और एक को अपने हाथों से और दूसरे को अपने मुँह में भर लिया. उसके मदमस्त एकदम शेप्ड मम्मों को यूं खुली हवा में फुदकता देख कर मुझसे रहा ही नहीं गया और मैं मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा.

वो वहीं रुक गयी और मुड़ कर मुझे देखा, मेरे पास आई और ज़ोर से हंसी।ये तुम्हारा चेहरा उड़ा उड़ा सा क्यों लग रहा है?” उसने पूछा.

फिर उसने मेरी साड़ी उतारी और मेरी गर्दन पर चूमने लगा, मैं मदहोश सी हो गई. ये सुनकर मैंने कहा- हां क्यों नहीं, आप लेट जाओ, मैं अभी आपकी मालिश कर दूँगा. परन्तु मैं होटल जाने से मना कर देती थी क्योंकि मुझे पकड़े जाने का डर लगता था.

मुझे उसकी आंखों में तैरती हुई प्यास का आभास हो चुका था, इसलिए थोड़ा सा उसके पास सरक गया और उसका हाथ पकड़ लिया. साथ ही साथ चारू भी अपनी गांड में उठे दर्द की वजह से एकदम से रो पड़ी. फिर शिवानी ने उसको कॉफी दी और बोली- पीजिए … आपका लंड तो बहुत उछल कूद कर रहा है.

शुरू में तो उसे थोड़ा दर्द हुआ, लेकिन बाद में उसे भी मजे आने लगे और वो जोर जोर से गांड उठाते हुए चुदवाने लगी.

वो मुझे चूमने लगी और कहने लगी- मैं आज पहली बार इतने प्यार से चुदी हूँ. मैंने रीतिका से प्रीति का नम्बर लिया और प्रीति को पटाने की शुरूआत कर दी.

बीएफ बहन की चुदाई लंड चूसते हुए ही उसने मेरे आंडों को भी सहलाना शुरू कर दिया और एक मेरी गोटी को उसने अपने मुँह में ले लिया. चूंकि मेरे चूचे काफी बड़े थे उसका लंड मेरे चूचों के अंदर छेद बना कर आगे पीछे हो रहा था.

बीएफ बहन की चुदाई मैंने पूछा- पहले भी तुमने ऐसे किया था क्या?तो वो कहने लगी- इतने मजे से नहीं किया था. जब मैं भाई के लंड को घूर रही थी तो वो बोला- देख क्या रही है, चूस ले इसे!मैं तुरंत नीचे बैठ गई और भाई के लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी.

उसका दिल भी दौड़ रहा था और उसे लग रहा था जैसे उसका सपना सच हो रहा है.

mp4 सेक्सी व्हिडीओ

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:विदेशी महिला मित्र के साथ सेक्स सम्बन्ध-2. वो मेरे चूतड़ों को दबा रहे थे और उनका लंड पूरा का पूरा मेरे हाथ में था. चाय पीने के बाद मैं फ्रेश होने के चला गया और बाद में दीदी के पास आकर दुबारा से चाय पीने लगा.

पति ने उठ कर मेरी गीली चूत में अपना लंड ठोका और दस मिनट तक मजे लेकर मेरी चुदाई कर डाली. रिस्क उठाकर कड़ी मेहनत करके जो लंड पटा लिया जाए, उससे जो अमृत मिले, उसी में असल मजा आता है. मैं उनके पास गई तो प्रशांत ने मेरे मुंह में लंड दे दिया और मैं जोर से उसके लंड को चूसने लगी.

क्या हुआ नीलम … क्या अब मैं इतना गिर गया कि तुम मुझे अपने क़रीब भी आने नहीं देती?” समीर ने गुस्से और गम से अपनी पत्नी को देखते हुए कहा।हाँ तुम मुझे नहीं छू सकते क्योंकि मुझे भी तुम्हारी तरह किसी और से ज्यादा लगाव हो गया है.

फिर उसने मेरे कान में धीरे से सिसकारते हुए कहा- पकड़े ही रहोगी या हिलाओगी भी इसको?उसके कहने पर मैं उसके लंड को हाथ से हिलाने लगी. मैंने अपनी पैंट खोली और वहीं पर अंडरवियर निकाल कर नीचे से नंगा हो गया. उसने मेरे बालों को पकड़ लिया और मेरे मुंह को अपनी चूत से वापस हटा दिया.

मैं उठा और उठ कर उसके मुँह में अपना लंड डाल दिया, जिसे वो तुरंत चूसने लगी. तुम एक बार फिर से मेरी चूत को चोद दो, क्या पता मैं तुम्हारे लंड से चुद कर प्रेग्नेंट हो जाऊं. इन लोगों का एक रूटीन था, सुबह सब मिलकर जिम करते फिर बाहर लॉन में बैठकर अपनी अपनी बीवियों के साथ चाय पीते … दिन भर कमर तोड़ मेहनत के बाद रात को एक एक पेग लगाने के बाद दसों लोग एक साथ खाना खाते.

अब सभी डिनर की ओर बढ़े आपस में इस वायदे के साथ कि आज की रात के बारे न तो कोई अपने पार्टनर से कुछ पूछेगा और न बताएगा और न कभी ये दोहराया जाएगा. ऐसे सोचते करते टाईम कब बीत गया, पता ही नहीं चला और यह सोचकर कि अब ज्योति मुझसे कभी बात भी नहीं करेगी.

एक दो मिनट बाद उसने मेरा लंड छोड़ा और बोली- यार प्रकाश, मुझे बड़े जोर की पेशाब लगी है. मैंने उस दूसरी लड़की को देखा, तो पता चला कि वो स्वरा थी और मेरे कॉलेज में ही पढ़ती थी. सीमा, रीमा, रजनी और सारिका में ये फर्क था कि वो तीनों बिंदास थी पर सारिका को हाथ लगाने की हिम्मत राहुल में नहीं थी.

उसने मेरे चेहरे को देखते हुए नीचे मेरी लोअर में तने हुए लौड़े पर नजर गड़ा ली.

उपिंदर ने अपने कपड़े उतारे और आकर आगे से शैली से चिपक गया। राजेश भी नंगा हो गया। शैली दोनों के बीच में अपने उभार दबवा रही थी।तभी मम्मी भी आ गयीं। आते ही अंशु ने उनकी साड़ी खींच दी, ब्लाउज और पेटीकोट उतार दिया।अरे अरे … रंग तो लगाने दो. हम दोनों बहुत दिन से सेक्स करना चाह रहे थे लेकिन मेरे ऑफिस के काम की वजह से मैं समय नहीं निकाल पाती थी. भाभी की बिना बालों वाली गुलाबी चूत का दीदार करके मैं तो समझो पागल सा हो गया था.

मुझे बहुत बुरा लगा और बहुत गुस्सा भी आया, पर उनकी बात भी सही थी। मैं पहले से ही बड़े लाड़ प्यार में पली बढ़ी थी, घर में भी कुछ काम करने की जरूरत नहीं पड़ी और जब भी कुछ काम करने जाती तो वो गलत हो जाता।उसके बाद दो दिन तक मैं घर में बैठ कर टीवी देखती और सोती रही।अगले दिन पापा सुबह हॉल में बैठ कर सभी गाड़ियों पर ड्राइवर कौन कौन होगा यह तय कर रहे थे. कभी कभी तो रमेश जो इन सबमें सीनियर था उसे रात को काफी देर हो जाती लौटने में तो इनमें से कोई न कोई उसके साथ प्रोजेक्ट पर रुक जाता.

भाभी मुझे चोदने के लिए मिन्नत करने लगीं, जिसको मैंने अनसुना कर दिया और अपनी मालिश जारी रखी. मैं थोड़ी देर तक उसकी गांड चोदता रहा औऱ अपना सारा पानी उसकी गांड में निकाल दिया. आंटी बोलीं- ओह … ये बात है … वैसे मुझे भी आज बाहर खाने का मन कर रहा है.

सेक्सी मूवी एचडी में हिंदी

प्रीति बोली- मेरा जिस्म तुम्हारे हवाले है … अब ये मेरे वश में नहीं है.

दीदी की उम्र 28 साल थी, उनका फिगर 36-32-36 का बहुत ही सुंदर और भरा हुआ बदन था. तुम दोनों ने मुझसे बड़े होने के बावजूद भी मुझे तुम्हारे साथ खेलने का मौका दिया. तब उन्होंने कहा- आह सच में बड़ा मजा आ रहा है … तुम थोड़ा और ऊपर कंधों से पूरी पीठ तक हाथ फेर कर करो.

जैसे कि मैंने बताया था कि कैसे विशाल सर ने मेरी मस्त रसीली कुंवारी चूत को फाड़ कर मुझेकच्ची कलीसे फूल बना दिया था. महीने में 2-3 बार ही सेक्स करता है और जल्दी झड़ कर पलट कर सो जाता है. अमेरिका में बीएफबस आप लेकर आ जाना और साथ में आलिया दीदी के कुछ अच्छे अच्छे ड्रेस लेकर आना.

जैसा कि आपने मेरी पिछली स्टोरी में पढ़ा था कि कैसे मैं सारिका की कजन यशिमा से मिला और हम दोनों में में सेक्स शुरू हुआ. मैंने नार्मल सी साड़ी पहनी और सती सावित्री सी महिला बन कर चुदाई के लिए जाने को रेडी हो गई.

मैंने पूछा- क्या हुआ अनिल जी, कुछ पता चला क्या?वो बोला- अभी इतनी जल्दी नहीं खुलेगी ये, अभी थोड़ा और वक्त चाहिए. वो बोली- कुछ भी बोलते हो आप तो … भला अपनी सास के साथ बैठ कर मूड थोड़े बनता है. फिर वो बेड पर लेट गया और मैं उसके ऊपर चढ़ गई और ऊपर नीचे होकर उसका साथ देने लगी.

वो मेरे लंड को जोर-जोर से आगे पीछे करते हुए चूस रही थी और मैं उसके मुंह की चुदाई कर रहा था. अंकल भी ये देख कर हैरान रह गए कि मैंने उनका पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया था. अब शबनम उह … आक्ह … क्या कर दिया तुमने राजीव … अब जल्दी से घुस जाओ अंदर, मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा …राजीव ने उसकी चूत चाट कर उसका पानी छुड़ा ही दिया … उसका पूरा मुँह भीग गया … अब वो 69 पोजीशन में आ गए.

इस तरह से दो-तीन बार करने के बाद मेरी गांड में ही उसने अपना माल गिरा दिया.

मैं भी उन्हें मजे में चोद रहा था और बोल रहा था- हां मॉम … मेरी रंडी मॉम … मैं तुम्हें इसी तरह रोज चोदूंगा, तुझे अपनी रंडी बनाकर रखूंगा. खाने के लिए हमने घर से ही पूड़ी और सब्जी ले रखी थी इसलिए वही खा ली.

और फिर एक दिन तो पंकज का फोन आ ही गया कि आज रात को पूल के बाद डिनर वो उनके घर पर करे. मैंने कहा- दीदी ,कुछ दिनों तक तो रोज ही मुझे आपका साथ तीन बार चाहिए होगा. इसके बाद मैंने उन्हें अपने नीचे जकड़ कर तेज रफ्तार में जोर जोर से झटके लगाए, जिसके बाद वो बुरी तरह उछल पड़ीं और फिर हम दोनों एक साथ झड़ गए.

दिन में हम दोनों आराम से मजे लेते हुए गांड चुदाई का आनंद लेना चाहते थे. अब मालिश की बारी थी उस हसीन सी फांक की, जो हल्के से मुँह खोले हुए गुलाबी रंग के होंठों को लिए हुए फड़क रही थी. इसलिए मैं और तेजी के साथ धक्के मारने लगा और एकाएक मेरे आंडों से मुझे महसूस हुआ कि मेरा वीर्य निकलने के कगार पर है.

बीएफ बहन की चुदाई मगर उसकी तरफ से कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिलने के कारण मेरी भी हिम्मत नहीं पड़ रही थी. इससे पहले भी मैंने कई लड़कियों के साथ सेक्स किया था लेकिन वो एक शादीशुदा औरत थी जिसका पति नहीं था और मुझे उसके साथ अपनी हवस के वश होकर इस तरह जबरदस्ती नहीं करनी चाहिए थी.

मॉम एंड सन सेक्सी स्टोरी

सीमा के मन में डर लगा कि कोई दूसरा जोड़ा न समझ जाए कि वो तो सारी हदें पार कर रहे हैं. करीब दोपहर एक बजे वो मेरे उस घर पर पहुंच गई और सीधे अन्दर आके दरवाजा बंद कर दिया. कई बार ऐसा होता है कि हम जान नहीं पाते हैं कि लड़कियों के मन में क्या चल रहा होता है.

अब वो चुदास की मस्ती में बोले जा रही थी- आह … चोद … चोद … और जोर से … फाड़ दे मेरी चुत … फाड़ डाल … साली बहुत सता रही है मुझे … और जोर से … प्रकाश आह … मैं आ रही हूँ. बेड के एक कोने पर जीजा सो रहे थे और दूसरे कोने पर मैं लेटी हुई थी, मगर मुझे नींद नहीं आ रही थी. प्ले बीएफ सेक्सीतभी ममता बोली- सविता तू तो पूरी गीली हो रही है … तू कहे, तो अंकल को बुला लूं?मैंने कहा- क्या अभी ऐसा हो सकता है.

मगर उनके गले के नीचे यह बात नहीं निकल पा रही थी क्योंकि उनकी नज़र मेरी पूरी तनख़्वाह पर थी.

” महेश ने हँसते हुए कहा।ज्योति का चेहरा शर्म से लाल हो चुका था। उसे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करे, उसके पिता की नॉनवेज हरकतें उसकी साँसें ज़ोर से चल रही थीं। ज्योति अचानक वहां से उठकर अपने कमरे में चली गयी. हम दोनों ने एक दो डॉक्टर्स को भी दिखाया, लेकिन कोई फ़ायदा नहीं हुआ.

उसके लंड के अहसास से मेरी चूत भी पानी छोड़ रही थी।घर से करीब हम पाँच किलोमीटर दूर आ गए थे. एक दिन दोपहर को सब लड़कियां नीता के रूम में बैठी गप्प मार रही थी … घर पर और कोई नहीं था. वो तेजी से अपने लंड को मेरे मुंह में पेलने लगा और दो मिनट बाद ही उसने मेरे सिर को पकड़ कर अपने लंड पर दबाते हुए पूरा लंड मेरे गले तक फंसा दिया.

मैं- अगर चाची आ जाएंगी, तो पहले दरवाजे की घंटी बजेगी … उन्हें देख लेंगे.

शर्ट के बटन खोलते हुए मन के अंदर ही अंदर उठने वाली उमंग मंद मुस्कान बन कर मेरे होंठों पर फैल गई थी. बहुत मजा आ रहा था उन दोनों कपल्स को मेरी बीवी के नंगे जिस्म के ऊपर रेत डालते हुए. यह कह कर मैंने उनके आंसू पौंछे और साथ ही साथ उनके उन नर्म नर्म गालों और होंठों पर भी हाथ फिरा दिया.

औरतों की नंगी बीएफदो मिनट रुकने के बाद जब वो शांत हुई तो मैंने धीरे-धीरे चाची की गांड में अपने लंड को हिलाना शुरू किया. उसका हाथ मेरे लंड पर था … स्स्स … ऐसा सोचते हुए मैं एक बार फिर से काम वासना के भंवर में फंसता चला गया.

सेक्सी विडिओ चोंदणे वॉल

मैं भी सांड की तरह फटाक से पोजीशन तैयार करके चुदाई के लिए रेडी हो गया. अब हिना आंटी हाथ जोड़कर मुझसे बोलने लगीं- मैंने गलत लड़के से पंगा ले लिया. आज पहली बार उसकी चुदाई की तसल्ली उसके चेहरे पर साफ दिखाई दे रही थी.

अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ने में मुझे बहुत ही आनन्द प्राप्त होता है. मैंने कहा- इससे उनको शर्म नहीं आती है?अंकल बोला- मैडम में प्रोफेशन मालिश वाला हूँ … मुझे इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता है. दनादन चूत चुदाई के बाद एकदम से उन्होंने अपना पूरा लंड मेरी चूत में बिल्कुल जड़ तक घुसा दिया और उनके लौड़े से वीर्य निकल कर मेरी चूत में गिरने लगा.

इस बीच में आंटी ने अपने पैर से और हाथों से मेरे को कस कर पकड़ा और ‘हहहहह’ चिल्ला के झड़ गई. अनिल उसके दूधों को मुंह में भर कर पीने लगा और मैं उसकी चूत को चाटने लगा. कोई दो मिनट बाद ही वो अकड़ने लगी और मेरे बालों को पकड़ कर मेरा सर अपनी चूत में दबाने लगी.

जिन महिलाओं को शरीर में दर्द होता है और जिनकी जिन्दगी में बच्चों की ख़ुशी नहीं है, उन महिलाओं की ऐसी कमी की वजह से मैं उनको आयुर्वेदिक मसाज देता हूँ. मैंने कहा- हम दोनों एक ही बिस्तर पर एक साथ कैसे सो सकते हैं?वेरोनिका ने मुझे देखा और मुस्कुरा कर बोली- ओह डार्लिंग … ये कमरा और इसकी सारी सुविधाएं हम दोनों को एक साथ बांटने के लिए ही मिली हैं.

मैं अपने लंड के सुपारे को उनके होंठों तक ले जाता और जैसे ही भाभी सुपारे को चूसने के लिए होतीं, मैं झट से लंड वापिस पीछे की ओर खींच लेता.

मैं सोच रहा था कि चाची खुद ही मेरे लंड को मुंह में लेने के लिए कहेगी लेकिन चाची मेरे लंड को मुंह में लेने के लिए पहल नहीं कर रही थी. 2019 का बीएफ वीडियोउसने मेरे मुँह पर अपनी चुत रख दी और मेरे लंड को मुँह में ले कर चूसने लगी. बीएफ पिक्चर सेक्सी में हिंदीमैंने अपने हाथों से अपनी फुद्दी छुपा ली और अपनी टाँगें भींच ली।मगर अरविंद सर ने अपनी ताकत से मेरे हाथ हटा दिये, और मेरी टांगें भी पूरी खोल दी. मेरी वाइफ ने ही कहा- हां मम्मी, मैं आपके लिए एक लिट्ल पैग बना देती हूँ.

दोस्तो, मैं आपकी प्यारी सी दोस्त प्रीति शर्मा। मेरी पिछली कहानीमेरे पति का दोस्त मेरा दीवानाकई महीने पहले हमारी प्यारी सी साईट अन्तर्वासना पर प्रकाशित हुई थी.

सारिका के बैठते ही पंकज ने उसे किस किया तो सारिका बोली- क्या कर रहे हो?पंकज बोला- राहुल तो हमें कई बार ऐसे देख चुका है. बीस मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के दौरान वो दो बार अपना पानी छोड़ चुकी थी. वो दीदी की चूत में उंगली करने लगा और लंड को मेरे मुंह में देकर चुसवाने लगा.

भोला भाई, तुम इसकी चूत को शांत करते रहो, तब तक मैं उसकी टाइट गांड में डालने की कोशिश करता हूं. जैसे कोई घुड़सवार घोड़ी की घुड़सवारी करने से पहले उसके जिस्म को थपथपा कर उसको तैयार करता है. मैंने पलट कर पूछा- तो और क्या पसंद है आपको?वो बोली- मैं जूस पीती हूं.

स्कॉट सर्विस कंपनी

” महेश अब नीचे होकर अपनी बहू की चूचियों को गौर से देखते हुए उसकी तारीफ कर रहा था।नीलम को ऐसे महसूस हो रहा था जैसे उसका ससुर उसके जिस्म को ऊपर से लेकर अपने होंठों से चूमता हुआ नीचे हो रहा है, नीलम की चूत से पानी बहना शुरू हो गया था। वह न चाहते हुए भी कुछ कर नहीं सकती थी. सामने खड़ी हुई लड़की खुद किसी को कह कर अपनी भावनाएं बता रही थी।आंटी बोली- ये तुमको चाहती है, क्या तुम इस बात को जानते हो?मैं- नहीं आंटी, मैंने कभी ऐसा नहीं सोचा।आंटी बोली- जो तुम उस दिन कर रहे थे वो आज मेरे सामने करके दिखाओ. मैंने कहा- हम दोनों एक ही बिस्तर पर एक साथ कैसे सो सकते हैं?वेरोनिका ने मुझे देखा और मुस्कुरा कर बोली- ओह डार्लिंग … ये कमरा और इसकी सारी सुविधाएं हम दोनों को एक साथ बांटने के लिए ही मिली हैं.

उन्होंने अपनी सैंडल पहनी हुई थी, तो उनके भरे हुए चूतड़ गांड, उनकी पीठ, कटाव, जाँघें, सब कुछ बहुत मस्त लग रहा था.

धीरे धीरे चयन मेरे लंड के साथ खेल रहा था और मेरा लंड अपने पूरे जोश में चयन को मज़े दे रहा था.

अब मैंने उसको पकड़ कर पलंग के किनारे कुतिया की पोजीशन में खड़ा कर दिया. बोली- चलो अब … कोई आ जायेगा नहीं तो…मैं उसके ऊपर से उठा और मैंने अपनी लोअर और फ्रेंची को ऊपर खींचते हुए पहन लिया. सेक्सी वीडियो बीएफ फुल मूवीउन्होंने अपने एक हाथ की दो उंगली से कुछ ऐसा इशारा किया, जैसे वो कोई छोटी सी चीज के लिए बता रही हों.

उसने मेरी गर्दन पर होंठ रगड़ते हुए कहा- मेरी रानी, आस-पास कोई भी नहीं है. उनका एक ही बेटा था जो अपनी नानी के पास गुरुग्राम में रहता था और वहीं पढ़ता था. उसने मेरी पैंटी में हाथ घुसाया और मेरी चूत को छुआ, मैं चुदास से तड़पने लगी.

कुछ ही देर में मम्मों की चुदाई के बाद मैंने अपना सारा रस अनिता भाभी के मुँह में गिरा दिया. वो बोला- तुमको मज़ा आया?मैंने कहा- हां मजा बहुत आया, पर दर्द भी हुआ.

सोने से पहले हम ने एक दूसरे को लिप किस की और वेरोनिका को मैंने थैंक्स बोला.

जैसे ही मैंने जीभ को उसकी चुत पर लगाया, वो बिन पानी की मछली की तरह उछलने लगी. विवान भैया तो मुझे होटल में ले जाने के लिए बोलते थे, बोलते थे कि होटल में आराम से सेक्स करेंगे. साथ ही मैं कुछ गिफ़्ट के साथ प्रीति के लिए भी बिकनी सैट लाया, जो रीतिका ने देखे थे.

बीएफ हिंदी वीडियो में सेक्सी मेरे कहने पर वो बहुत खुश हो गई और मुंबई आने के लिए मुझे थैंक्स कहकर उसने फोन रख दिया. मैं जानती हूँ कि अगर तुम मुझे बस हवस की नज़रों से देखते तो यह सब कभी भी नहीं करते जो तुमने मेरे लिए और ऋषि के लिए किया.

शायद इसीलिए हम लोग किसी तरह फ़ोन पर ही बात कर पाते थे। हम लोग कभी मिल नहीं पाए लेकिन वो कहते हैं न कि ऊपर वाला सब कुछ प्लान करके रखता है।मेरी नौकरी बैंगलोर की एक बड़ी आईटी कंपनी में लग गयी. मैंने अपना हाथ कमर से हटा कर उनके बड़े चूतड़ों के ऊपर रख दिया और उन्हें सहलाने लगा. हाय … इसकी गांड … इसके स्तन … कितने रसीले होंगे अनीता के स्तन … चूस-चूस कर पी लूंगा उनको.

मौसी की प्यास

उसके पसीने से मेरा पूरा बदन भीग चुका था लेकिन उसके धक्के नहीं रुक रहे थे. ‌फिर हम दोनों ने बाहर ही खाना खाया और उसके बाद मैं उसको उसके घर छोड़ कर आया. बस वही मित्र मेल करें, जो मेरा हौसला अफजाई करें, मेरे बारे में और मेरी फ्रेंड्स के बारे में जानने की कोशिश करने वाले मेल ना करें.

मेरा लंड उत्तेजित तो पहले ही था, अब 120 डिग्री पर पेट को लगने लगा था. उसके बाद फिर दोबारा से आशीष का फोन आ गया और वो कहने लगा कि बंध्या तुमने फोन लगा कर काट क्यों दिया.

तभी ऊपर युवराज ने एक झटके से मेरा ब्लाऊज़ फाड़ दिया और उसे मेरे शरीर से अलग कर दिया। मैंने अपने दोनों हाथों से मेरे बड़े गोल बूब्स ढकने की कोशिश की और मेरी पेटीकोट पर से हाथ हटाया।अमित ने इसी बात का फायदा उठाया और मेरे पेटिकोट के नाड़े को खींच कर खोल दिया तो मेरा पेटिकोट नीचे जमीन पर गिर गया।युवराज ने तब तक अपने पूरे कपड़े उतार कर फेंक दिए.

हां, कई बार काम पर आते-जाते लड़कियों की नजर मेरे शरीर को देख कर उन्हें मेरी तरफ आकर्षित कर देती थी लेकिन उनमें वो बात नहीं दिखाई पड़ती थी कि उनको चोदने के लिए लंड मचल उठे. दूसरी तरफ से आशीष बोला- क्या हुआ?मैंने कहा- अब मैं फोन रख रही हूं, मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है. यह सब हरकतें मेरी बीवी देख रही थी और मुझे पैर मार मार कर इशारे कर रही थी कि बहुत हुई मसखरी … अब बंद करो मेरी माँ को छेड़ना.

अगर मुझसे लिखने में कोई गलती हो गई हो, तो मुझे माफ़ करना, अपनी राय जरूर देना … धन्यवाद. स्वाति भाभी को सहारा देने के लिये अब मैंने भी अपने एक हाथ से उसके पैर को पकड़ लिया. हमने लंड को हिलाते हुए सारा माल एक साथ ऋतु की चूत पर और चूत के ऊपर उसकी चूचियों के अगल-बगल में गिराना शुरू कर दिया.

मैं फटाफट से अपने सारे कपड़े उतार दिए और लंड को रीना के मुँह के आगे कर दिया.

बीएफ बहन की चुदाई: मेरे कहने पर वो बहुत खुश हो गई और मुंबई आने के लिए मुझे थैंक्स कहकर उसने फोन रख दिया. हम स्टेशन गए, अभी ट्रेन आने को 20 मिनट बाकी थे, तो आनन्द और ज्योति को अकेले बातचीत करने को छोड़ दिया और उनसे दूर आकर खड़ा हो गया.

मुझे अपनी गांड की चुदाई में जो मज़ा मिला, वो जिंदगी में कभी भी महसूस नहीं हुआ. लेकिन अब उसमें पहले जितना मजा नहीं आता इसलिए मुझे नए लंड की तलाश जारी है. एक बार हमने होटल के रूम में फव्वारे के नीचे भी चुदाई का मजा किया, जो अपने आप में बहुत ही अच्छा अनुभव था.

अंजू मेरे लंड को तन्नाते हुए देख कर बोली- चलो लंड खड़ा हो गया, अब इसे मेरी चूत डाल दो.

उसने एक बार तिरछी नजर करके मेरी लोअर की तरफ देखा और फिर बोली- आप जो भी कुछ सिखाओगे मैं वहीं सीख जाऊंगी. जैसे ही इसकी चूत में मेरा लंड गया तो मैं समझ गया कि ये साली बहुत चुद चुकी है. अब रात के तीन बज चुके थे और मेरी पत्नी की दवाई का असर भी खत्म होने वाला था.