मूवी बीएफ मूवी

छवि स्रोत,हिंदी मूवी के सेक्सी सीन

तस्वीर का शीर्षक ,

मामा मामी की सेक्सी: मूवी बीएफ मूवी, तो मैंने एक सैलून में फ़ोन किया तो उन्होंने कहा कि फुल बॉडी वैक्स के बारह सौ लगेंगे, मैं तैयार हो गया.

हिंदी सेक्सी मूवी आंटी

वो मुझे काफ़ी अजीब तरह से चैक कर रहे थे, वो कभी मेरी गांड पे हाथ लगाते तो कभी मम्मों को छूने की कोशिश करते. इंडियन सेक्सी सुहागरात वालीजब मेरी चूत ने दूसरी बार पानी छोड़ा उसके बाद दोनों ने ही उनके लंड को बाहर निकाल लिया.

एक घंटे बाद मैंने भाभी को उनके कमरे में रखी बड़ी टेबल पर लिटाया और नीचे खड़ा होकर मैंने एक बार फिर उनकी चुत में लंड डाला. हिंदी सेक्सी जंगल की वीडियोमैंने उस की कोई बात नहीं सुनी और मैं उसकी स्कर्ट उतारने की कोशिश करने लगा.

मॉम बेड पर मुझसे छूटने की हल्की सी कोशिश कर रही थीं और मैंने उनको रगड़ रगड़ कर गरम कर दिया था.मूवी बीएफ मूवी: उसने मुझे पीने के लिए एक शरबत दिया और बोली- डियर अब खुल कर सेक्सी वर्ड्स यूज करना सीख लो.

क्या कुछ और भी बचा है?मैंने कहा- सबसे जरूरी चीज़ चुदाई तो अभी बची ही है.मैं बिल्कुल तड़पने लगी; मुझसे रहा नहीं जा रहा था; मेरे मुंह से अपने आप आवाज निकालने लगी- ऊंहहह आहहहह… मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा! कुत्ते क्या कर दिया!टीवी की आवाज़ तेज थी इसलिए आवाज वहीं रुक गई.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी इंग्लिश बीपी - मूवी बीएफ मूवी

कहानी का पिछला भाग :पंजाबन लड़की की गांड चोदन कहानी-1अब तक इस चोदन कहानी में आपने पढ़ा.मैंने फिर से उसके कन्धों को थोड़ा सा उचका कर नीचे को दबाया, तो वो और जोर से चीख उठी- आआआआ… मर गई!मैंने उसके कन्धों को थोड़ा सा वापस उचका दिया, वो शांत हो गई.

उसने कहा- राजा अब देखो जब तुम हिलाते हो तो सिर्फ जरा सा मजा आता है और अब जब मैं जो कुछ करूँगी, उससे तुम्हें और भी ज्यादा मजा आएगा. मूवी बीएफ मूवी पर मुझे अभी नींद नहीं आ रही थी और परीक्षित भी मेरी टी-शर्ट को ऊपर करके मेरी नंगी पीठ को सहला रहे थे.

मैं आपका रूम दिखा देती हूँ। मैंने अपने कमरे के साइड वाले कमरे में ही आपका इन्तजाम किया है।वो जल्दी से खड़ी होकर चल दी। मैं भी उसके पीछे चल दिया। अब मेरा ध्यान सिर्फ उसके चूतड़ों पर था.

मूवी बीएफ मूवी?

उन्होंने अपने आप को इतना मेंटेन कर रखा था कि कोई उन्हें 25 साल से ऊपर तो कह ही नहीं सकता था. ”अब मैंने चूची को मसलना बन्द करके हाथ को उसकी साड़ी और पेटीकोट के अन्दर डालने लगा। मधु ने पेट अन्दर को कर लिया. वो बोला- कुसुम जानेमन मेरा ये लंड तुमसे तुम्हारी मुनिया में जाने के लिए भीख माँग रहा है.

प्रिया बेसाख्ता मुझ पर चुम्बनों की बरसात किये दे रही थी और नीचे मेरा लिंग प्रिया की योनि को बिजली की तेज़ी से मथे दे रहा था. फ़िर सेजल भाभी ने मुझे कंधों से पकड़ के बैठा कर दिया और अपनी टांगों को मेरी कमर पे लपेट कर धीरे धीरे धक्के लगाने लगीं. क्या आपको मेरी यह इरोटिक सेक्स स्टोरी अच्छी लग रही है? इस सपनीली सेक्स स्टोरी के ऊपर आपके मेल पाना चाहूँगा.

दूसरी तरफ ये भी लग रहा था कि घर में ही माँ की दबी हुई वासना को शांत करके ठीक किया. ऐसे दो हफ्ते निकल गए, वो मुझे कभी कभी योगा करते हुए छत पर मिल जाती थीं. माँ ने मुझे पीठ की तरफ से पकड़ा था, जिस कारण उनके स्तन मेरी पीठ से चिपके हुए थे और चूत का हिस्सा मेरे गांड से सटा था.

मैंने भी पूरा पूरा साथ दिया और अपने हाथों से उनके मम्मों को खूब दबाया और योनि पर हाथ भी रगड़ने लगा. जैसे ही वो अन्दर आया उसे एक बार तो यकीन ही नहीं हुआ कि मैं लड़का हूँ.

यह बात आज से कुछ समय पूर्व की है, जब मैं बारहवीं कक्षा में था और महक ग्यारहवीं कक्षा में पढ़ रही थी.

इन तीन महीनों में आप ने मुझ से कभी कोई छिछोरी हरक़त नहीं की और आज शाम को आप का आखिरी इम्तिहान था.

लगभग 15-२0 मिनट में मैंने देखा कि ज्यादातर सब लोग चले गए हैं पर वो नहीं निकली. एक दिन मैं उनसे बोली- आप मेरी माँ तो नहीं हैं, मगर होतीं तो मुझे इस तरह से ना चुदवातीं. कुछ मिनट के बाद मैंने माँ को अपने नीचे लेटा लिया और उनकी जी स्ट्रिंग पेंटी उतार कर मम्मी की मदमस्त चूत पर अपनी जुबान फेरना शुरू कर दी.

कुछ मिनट ऐसे ही रहने के बाद मैंने फिर से धक्के लगाने शुरू किए तो धीरे धीरे उसको भी मजा मिला और अब वो भी ‘आआहह उउउहह ऊओ आआईय. दीदी ज़ोर ज़ोर से कराह रही थीं- आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह आह फ़क मी… ओह…दीदी से अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था. खैर अगले दस मिनट तक वो अपना लंड मेरी चुत में हिलाता रहा और फिर से खलास हो गया.

मैं उनकी गांड ले ऊपर से हाथ फ़ेरने लगा और गांड को धीरे-धीरे मसलने लगा.

मगर दूसरी चालू थी उसका नाम कुसुम था और उसका काम होता था कि इधर उधर से लड़कियों को बहला फुसला कर कहीं भेजना. शुरू शुरू में तो मुझे बड़ा अजीब सा लगता था, पर जब से मेरी चुदास बढ़ी तो मुझे वो एक आइटम लगने लगा. उसने भी एक हाथ से मेरा अंडरवियर नीचे किया और मेरे कड़क लंड देख कर एकदम से खुश होकर बोली- वाउ इतनी कम उम्र में इतना मस्त लंड.

मैं ऐसी नहीं हूँ उसे समस्या थी तो गई थी और मैं गोवा में थी, इसलिए ना आ पाई, ना कॉल कर पाई. मैंने अपनी हथेली को टोपों से थोड़ा नीचे को खिसका लिया और टोपे नीचे को उतरती हुई चूत में फंस गए!नताशा थोड़ी सी कुनमुनाई, लेकिन उसने टोपों को बाहर नहीं निकलने दिया. सर ने मुझसे पूछा- तुम्हें कितनी सेलरी मिलती है?मैंने कहा- सर 25000 मिलती है.

उसके आते ही मैंने दरवाजा बन्द किया और एक हाथ से उसका हाथ पकड़ कर दूसरा हाथ उसकी कमर पर रखा और उसके गाल पर एक किस कर दिया.

लगभग 10 बज चुके थे अंजलि ने पारुल से कहा- पारुल, बियर ले लेते हैं और गाड़ी में ही पी लेंगे. व्हाट्स योर नेम?क्यूंकि मेरी विग थोड़ी ब्राउन कलर की थी, उस पर से मेरी ड्रेस एकदम सेक्सी थी, चेहरे पर फाउंडेशन लगा था तो उन्हें लगा मैं कोई विदेशी हूँ.

मूवी बीएफ मूवी अब आर्थर अपेक्षाकृत आरामदायक पोज़ में संसार की सबसे सुन्दर लड़की की गांड मार रहा था. उसे मेरी टीशर्ट के कारण मेरे मम्मों को दबाने में दिक्कत सी हो रही थी तो मैंने अपनी टीशर्ट निकाल दी और वो मेरे मम्मों को आराम से दबाने लगा.

मूवी बीएफ मूवी हालांकि उन तीनों की उम्र लगभग 40 से 50 के बीच थी और मेरे लायक नहीं थे. उनके चूत चाटने के साथ साथ मैं भी एक हाथ से चिंटू के बदन को सहला रही थी और दूसरे हाथ से मेरी चूत को ऊपर से ही मसल रही थी.

जो लड़कियां इस कहानी को पढ़ रही हैं, वे सही समझीं क्योंकि मेरा लंड बहुत लंबा और मोटा है.

लड़की की सील

मैंने उसे समझाया- अदिति, सच बात ये है कि मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ और अब मैं तुम्हारे साथ नार्मल फ्रेंड बनकर नहीं रह सकता. मेरी एकदम सेक्सी लड़की जैसे गोरी चिकनी टाँगें देखकर एक बार तो उसका भी मन खराब हो गया. मैंने उन्हें बिना जगाए पंखा उनके पैर की तरफ लगा कर स्विच ऑन कर दिया.

इधर हमें ये सब करते लगभग एक घंटा हो चुका था, पर वक़्त की परवाह किसे थी. फिर मेरा लंड चुत पे रख कर उस पर बैठ गईं, मेरा लंड सरक करदीदी की चुतमें घुस गया. चर्रर… की आवाज़ के साथ कैंची का एक हिस्सा पैंटी में घुस गया और फ़िर मैं धीरे धीरे उनकी पेंटी काटने लगा.

सुबह मेरी आँख देर से खुली, तब देखा तो मॉम के चहरे पे संतुष्टि थी लेकिन शायद शर्म के कारण मां मुझसे कुछ बात नहीं कर रही थी.

हम दोनों कुछ देर बेड पर पड़े हांफते रहे, भाभी मेरी पीठ को सहलाती रहीं और मुझे गर्दन पर चूमती रहीं. जब तक मैं दूसरी बार नहीं झड़ी, तब तक परीक्षित मुझे ऐसे ही चोदते रहे. हम तीनों लड़कियों में से एक तो मैरिड थी और हमेशा अपने बच्चे के बारे में बात करती थी.

तभी चिंटू ने मेरी चूत को चाटना छोड़ दी और अपने लंड को मेरे हाथ में पकड़ा दिया. मेरे समझाने पर उसने लंड मुँह में लिया और जल्द ही वो मेरे लंड को किसी कुल्फी की तरह चूसने लगी. मैं बियर की 3 बोतल के साथ एक व्हिस्की का हाफ और सिगरेट का पैकेट ले आया था.

मैंने बिना रुके दूसरा जोरदार धक्का मारा और मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया. मैंने कहा कि यार जब तुम मुझसे प्यार करती थी तो अब तक बोला क्यों नहीं?परवीन- बस मैं डर रही थी.

मैंने कहा- चाची, देखो न मेरा लंड फिर दर्द होने लगा, एक बार और इसको चूस कर शांत करो न. जब उससे जोर से बोला तो उसने बताया कि मैंने आपके मम्मों को देखा था, जिससे यह खड़ा हो गया था. हमारी ही बिल्डिंग में एक वाचमैन यानि चौकीदार था जो काफी हट्टा कट्टा और तगड़ा जवान था.

मैं उसके एक चूचे को मुँह में और दूसरे को हाथों से भींचता हुआ दबा रहा था.

क्या आप आज मुझे यह अधिकार देंगें?”बाप रे! … तो ये सब चल रहा था प्रिया के दिमाग में! अब मैं समझा सारी बात. मैंने पीछे से ही उसके कान की लौ पर प्यार से किस किया, तो वो मचल गई और खड़ी होकर मुझे गले लगा लिया. अगर ऐसा होता तो मैंने आप को खुद को कभी भी छूने नहीं देना था और तमाम उम्र आप के साथ कोई वास्ता भी नहीं रखना था.

यह बात तो मैंने ख़ुद अपने से भी नहीं कही थी किसी और से कहने की बात तो बहुत दूर की कौड़ी थी. खाना दे कर वो मेरे पास बैठ गई और फरवरी में चल रहे दिनों के बारे में बात करने लगी और अचानक से बोली- आप ने कभी किसी को किस किया है?मैंने चुपचाप ना में गर्दन हिला दी क्योंकि मेरा छोटा भाई वही बैठा था.

मैंने उसे एक तौलिया दिया तो उसने अपनी गीली चूत को पौंछ कर साफ़ कर लिया, फिर उसने मेरा लंड भी उसी तौलिये से पौंछ दिया और बोली- देखो इस शेर को, कैसे चूहा बन कर निकला है मेरी गुफा से!वो उससे खलेने लगी, उसको ऐसे हिलाने लगी जैसे घंटी बजाते हैं और जोर जोर से हंसने लगी. मेरा दर्द और मजा दोनों बढ़ रहे थे, पर दर्द होने की वजह से आँसू भी निकल रहे थे. मेरा नाम हेमन्त है, उम्र 23 साल, कद 5’8″ और लंड की लंबाई 5 इंच (नपा हुआ 13 सेंटीमीटर लम्बा और 8 सेंटीमीटर गोलाई में मोटा) है.

ब्लू फिल्म नंगी फिल्म

मेरी रोमांटिक कहानी के पहले भागस्त्री-मन… एक पहेली-1में अपने पढ़ा कि कैसे मेरी साली की युवा बेटी कम्प्यूटर कोर्स करने मेरे यहाँ रहने आ रही है.

इतना तो मुझे पता था कि मोटा लंड तो मैं अपनी गांड में ले नहीं सकती क्यूंकि एक बार मेरे एक दोस्त ने जब मैं कुछ जवान हुई ही थी और हम दोनों रात में अकेले सो रहे थे तो उसने मुझ पर ट्राई किया था. मैं अपने होंठों को उसके होंठों में भर कर किस करने लगा और एक जोरदार झटका दे मारा, जिससे मेरा लंड उसकी चूत को चीरता हुआ जड़ तक घुस गया. चूँकि निशा का पहली बार था, तो थोड़ी तकलीफ़ हो रही थी और मैं ये भी सोच रहा था कि कहीं दर्द के डर के कारण निशा मना ना कर दे.

मनन- ठीक है, मेरे लंड की दीवानी और कोई आई तो मेरा लंड उसका भी होगा?रीमा- ठीक है. उस वक्त मेरी इंग्लिश अच्छी नहीं थी, इसलिए मुझे नौकरी नहीं मिल रही थी. सेक्सी लोडिंग वीडियोदोस्तो, मैं भी आपकी ही तरह से इस लाजवाबकामवासना हिंदी स्टोरीवेबसाइट का एक नियमित पाठक हूँ.

मैंने उसे मेरे गेम्स के बारे में बताया तो वो बहुत एग्ज़ाइटेड हो गया था. उसने खुद को समर्पित कर दिया था और मैंने भी उसे अपनी नंगी छाती से चिपका लिया हम दोनों के तन की गर्मी ने एक दूसरे को प्यार का अहसास करना शुरू कर दिया था.

फिर मैं और दिव्या साथ निकले, अवी ने दिव्या को बस स्टाप पर उतार दिया. अब आगे:इधर थोड़ी देर रेशमा की चूत चाटते हुए उसकी गांड में उंगली डाल रहा था।इस समय हम सभी में मस्ती छाती जा रही थी; सभी के मुंह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज आ रही थी जो कि उस कमरे के वातावरण को वासनामय बना रही थी। बीच बीच में मैं अपने लंड को मसल भी रहा था. कुछ देर बाद फैमिली वहां से निकल गई तो उसने मुझे जल्दी से जाकर ड्रेस चेंज करने को बोला.

मेरे घर पर बस मैं और मेरी मम्मी पापा थे, तो मुझे बहुत लाड़ प्यार से पाला गया था. अर्पिता- इस बार प्लीज मत तड़पाना, मैं नहीं सहन कर पाऊँगी!मेरी जान, इस तड़प का मजा ही कुछ और है, क्यों मजा नहीं आया?”अर्पिता- पर इतना तड़पाना भी अच्छा नहीं होता।अच्छा बाबा नहीं तड़पाऊँगा. कभी कभी मॉम सोफे पे बैठी होती थीं, मैं उनकी जांघ पे हाथ रख कर बैठ जाता था तो वो मेरा हाथ हटा देती थीं.

मेरे और उसकी लगातार चुदाई के बाद 3 महीने में नतीजा ये निकला कि मैं पेट से हो गई.

कहने लगी- राजे… बड़ा मज़ा आ रहा है… मेरा ऐसा दिल कर रहा है कि तुम मेरा कचूमर बना दो… तुम धीरे हो जाते हो तो ये बदन काट खाने को हो जाता है… प्लीज़ राजे पूरी ताक़त से धक्के ठोको. विक्की ने जवाब दिया कि तू ज्यादा जोश में मत आ, वो तेरे पास नहीं है, केवल रोशनी दीदी के पास है.

मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागबॉय से कॉलबॉय का सफर-2में अब तक आपने पढ़ा. मैं दोबारा मुठ्ठ नहीं मार सकता।मैंने उसे दीवार से लगा कर खड़ा कर दिया। शायद उसे भी मजा आ रहा था इसलिए ज्यादा विरोध नहीं कर रही थी। मैंने उसके दोनों हाथों को दीवार से लगा कर ऊपर करके पकड़ लिए. मैंने उससे लंड मुँह में लेने को कहा, वो कहने लगी कि पहले ऐसा कभी नहीं किया है.

कभी वो दोनों मुझे उछाल उछाल कर मेरी चूत और गांड की चुदाई करते, तो कभी मुझे कसकर पकड़कर खुद धक्के लगा कर मेरे दोनों छेदों को ठोकते. यह सब मेरे होने वाले पति बालू सब देख और सुन रहे थे, उनके सामने उनकी होने वाली बीवी के पूरे जिस्म को कोई दूसरा मर्द मसल रहा था और गंदी से गंदी गालियां दे रहा है, और वो सब होने दे रहे थे. वो पागलों की तरह मेरे बालों को पकड़ कर खींचने लगी और बोलने लगी- साले लंड डाल दे अन्दर.

मूवी बीएफ मूवी मैंने झट्ट से आँखें खोली तो पाया कि बैडरूम का दरवाज़ा भी बंद था और बैडरूम की ट्यूब-लाइट तो बंद थी ही अपितु फुट-लाइट भी बंद थी. मेरी अगली रात भी हसीन बनी यह जानने के लिए ज़रूर पढ़िए मेरी कहानी का अगला भाग! साथ ही मुझे मेल करके अपनी प्रतिक्रिया ज़रूर बतायें! आपके जवाब का इंतज़ार रहेगा!आपका प्यारा लंड का पुजारी!कहानी जारी रहेगी.

हिंदी ब्लू पिसातुरे

व्हाट्स योर नेम?क्यूंकि मेरी विग थोड़ी ब्राउन कलर की थी, उस पर से मेरी ड्रेस एकदम सेक्सी थी, चेहरे पर फाउंडेशन लगा था तो उन्हें लगा मैं कोई विदेशी हूँ. दिव्या ने अभी दो मिनट ही मेरा लंड चूसा होगा कि मेरे लंड से रस निकलने को होने लगा, मैंने उससे कहा- लंड झड़ने वाला है, रस पियोगी क्या?दिव्या बोली- मामा, लंड से रस से मुझे उबकाई आती है, आप मेरे मुंह में अपना पानी मत निकालना. वो सिसकारी भरने लगी- अहाआआ अस्सस्स शहस…थोड़ी देर बाद मैंने मामी को उठा कर बेड पर लिटा दिया और उनके ऊपर आ गया।मैंने मामी जी के होंठ चुसाई चालू किया फिर उनके गर्दन पर चूमना चालू किया, मामी जी गरम हो गई थी वो मेरा पूरा साथ दे रहीं थीं.

तभी वह रोने लगीं और अचानक मेरे हाथ छुड़ा कर लंड से नीचे उतर कर अपनी पैंटी पहनने लगीं. तो मैं ब्लेंक रिकॉर्डिंग फ़ास्ट फॉरवर्ड करके देखने लगा… तभी अचानक कैमरे में कुछ ऐसी रिकॉर्डिंग मुझे नज़र आई, जिसको देख कर मैं अपने पर काबू न कर सका और दोबारा मुठ मारने पर मजबूर हो गया. एक्स एक्स एक्स सनी लियोन के सेक्सीमैं एक दिन अपनी बीवी को चोद रहा था, तो मैंने देखा कि मेरी वाइफ को अबसेक्स में मज़ानहीं आ रहा है.

मैंने उन्हें एकटक देखा ओर अपना मुँह मैंने ब्रा के ऊपर रख दिया जिससे उनकी सिसकारी निकल गई ‘ईश्श्शशहह.

अगर इस काम में तुम कामयाब हो गई तो तुम्हारी यह नौकरी पक्की और तुम्हें 5 लाख का बोनस भी दिया जाएगा. फिर मैंने बैग में से व्हिस्की की बोतल निकाल ली और डिस्पोजेबल गिलास में बढ़िया सा पटियाला पैग बना के सिप करने लगा.

साथ ही अपने हाथों से जींस के ऊपर से ही उसकी गांड और चूत को सहलाने लगा. फोन लेते हुए बोलीं- किसी ने दिल तोड़ा है क्या?मैं- आपको ऐसा क्यों लगता है?वो- गानों का कलेक्शन बता रहा है. मैंने कई बार नीति मैडम को बोला था कि मैं उस रुचिका चौधरी (जाटणी) मैडम को चोदना चाहता हूँ.

प्रेरणा कराह उठी, मैंने उसकी चूत को लगातार कई चपत लगाई, उसकी चूत लाल हो गई और प्रेरणा ने अपने होंठों को अपने दांतों से काट रखा था और अपने दोनों हाथों से अपने स्तन को मरोड़ने लगी, उसकी सिसकारियां बता रही थी कि उसे बहुत ही ज्यादा कामुक अहसास हो रहा है।अब मैंने उसके योनि प्रदेश में अपना मुंह लगा दिया और उसके दाने को चूसने लगा और बीच बीच में योनि प्रदेश को दांतों से काट भी लेता था.

हम लोग कार से निकले और कार में रोमांटिक गाना लगा कर मस्ती से कार चलाने लगा. इस तरह होंठों के किस के साथ साथ मैं अब अपना हाथ उसके कंधे से नीचे करके उसकी चुचियों को भी दबाने लगा था. सबसे पहले मैं अपने बारे में बता दूँ, मेरा नाम राज है और मैं जयपुर का रहने वाला हूँ.

भोजपुरी सेक्सी क्सक्सक्सअब मैंने दिव्या के कपडे उतारने शुरू किये, उसे पूरी नंगी किया और बिस्तर पर लिटा कर उसके ऊपर आ गया. ट्रेन के प्लेटफोर्म पर लगते ही हम अपनी कोच में चढ़े और कूपे में जा पहुंचे.

मुलीचे xxx photo

फिर मैं खड़ा हो गया और अंजलि से पूछा- बोल चोरनी, आराम से सच सच बता दे कि चोरी का माल कहाँ छुपाया है तूने? देख ले, मैं बहुत गुस्से वाला हूँ. दो बार होटल का वेटर पूछ गया है कि लंच यहाँ लाऊं या आप रेस्तरां के अन्दर जा कर करेंगी. मेरी चुत इस पोजीशन में और भी ज़्यादा खिल रही थी और मुझे बहुत मजा आ रहा था.

इस सेक्स स्टोरी हिंदी का पिछला भाग :मुझे किस किस ने चोदा-1अभी तक आपने पढ़ा कि भाभी के पापा के दोस्त ने मुझे कार में नंगी कर लिया था और मेरी चूत की चुदाई शुरू करने ही वाले थे. वो 2 दिन बाद आने वाले थे, कोई जमीन थी, वो दोनों उसे देखने के लिए जा रहे थे. उस दिन उनके बॉस ने मुझे देखा तो देखते रह गए और उन्होंने मेरे भैया को अपने केबिन में बुलाकर कहा कि मैं सोच रहा हूँ कि तुम्हें मैं अपने नीचे वाली पोस्ट दे दूँ.

अब तो भाभी मेरी रखैल रंडी बन चुकी हैं, जब भी मौका मिलता है, मैं उनको चोद देता हूँ. मैंने फ़ौरन टीशर्ट का सिरा उठा कर अपना हाथ अंदर सरका दिया और इसके साथ ही प्रिया की टीशर्ट थोड़ी और ऊपर को ख़िसक गयी; तत्काल प्रिया के सारे शरीर में एक कंपकंपी सी हुई और प्रिया ने अपना दायाँ हाथ उठा कर मेरी गर्दन के नीचे से निकाल कर मुझे खींच कर अपने साथ लगा लिया. मुझे पता लग चुका था कि आज मुझे मेरी चुत की पहली चुदाई का मजा मिल जाने वाला है.

मैं इसी तरह चुसाई कर रहा था कि अचानक से अर्जुन पूरा हिला और अपना लंड खुजलाने लगा. सारा दिन घर के काम के बाद टीवी के सामने या मोबाइल पर अन्तर्वासना की हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ कर मजा लेती रहती थी.

उसके मुँह से कामुक आवाजें आ रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…पंकज रेखा से बोला- आह और जोर से चूस मेरा लंड.

फिर उसने अपने दोनों हाथों से मेरे चूतड़ के पट खोले और मेरी गांड का छेद देखने लगा. देखने के लिए सेक्सी फिल्मथोड़ी देर उसकी गांड सहलाने के बाद मैंने क्रीम अपने लंड पर भी लगा ली. पेगनेट कैसे किया जाता हैमैंने उन्हें बिस्तर पर चित लिटा दिया और अपने लंड पर थूक लगा कर लंड को उनकी चुत के मुहाने पर टिका दिया. दोस्तो, मैं आकाश एक बार फिर आपके सामने अपनी एक और नई पोर्न कहानी लेकर हाजिर हूँ.

मैं बोली- छोड़ कुत्ते कमीने, मत कर साले, घटिया जीजा, मादरचोद छोड़!जो गालियां आती थी, सब दे डाली और रो भी बहुत रही थी पर जीजा को कोई भी फर्क नहीं पड़ रहा था, वो फिर से अपना लन्ड घुसाने में लग गए.

पहले उस नंगी देसी लड़की ने मेरा लंड चूसा बाद में मैंने उसकी चूत चाटी. रात का खाना खाने के बाद दोस्त ने हमें गाड़ी से होटल छोड़ा जो करीब 2 किलोमीटर दूर था. पानी से उसकी जालीदार झीनी सी ब्रा गीली हो गई थी, जिसकी वजह से उसके निप्पल के दोनों काले धब्बे साफ दिखने लगे थे.

मैं नहीं चाहता था कि वो इतनी जल्दी झड़ जाएं, इसलिए मैंने चूत चूसना छोड़ दिया और ज़मीन पर लेट गया. मैंने उसको बताया कि मैंने भी अभी अभी जिगोलो का काम स्टार्ट किया है और अभी तक एक फीमेल को ही सर्विस दी है. मैंने मॉम से बोला- आज एक बार तो चोद लेने दे, मॉम दुबारा नहीं करेंगे.

बेस्ट टेबलेट

मैं अपनी ज़ुबान से उसकी चुत चाटने लगा और उसकी चुत के होंठों को अपने होंठों में दबा के चूसने लगा. तो सबसे पहले एक लीगल डॉक्यूमेंट साइन होगा, जिसमें अगर तुम मुझे डाइवोर्स देते हो तो मुझे हर महीने पांच लाख रुपये और बीस प्रतिशत प्रॉपर्टी मेरे नाम करोगे. क्या गोरे थे उनके चूचे और काले रंग की ब्रा में आंटी बहुत सेक्सी लग रही थीं.

आप सभी ने मेरी स्टोरी को बहुत पसंद किया, उसके लिए मैं आप सभी का बेहद आभारी हूँ.

मैं बड़ा वाला फर्राटा लेकर उन कमरे में लगाने पहुँचा तो देखा कि भाभी सो रही हैं.

मैंने गुस्से से उनके बाजू पकड़े और उनको बेड पे पटक कर लंड फ़िर से उनकी चूत में डाल दिया और जोर जोर के झटके देने लगा. जब भी मैं घूम कर बहू से बात करती तो दूसरा हाथ भाई साहब की जांघों पर रख देती थी. బ్యూటిఫుల్ గర్ల్స్ సెక్స్ వీడియోస్हमारी चुदाई की ‘आआहहाअ आआहह उऊहह ऊओह…’ की कामुक आवाजें पूरे कमरे में गूँज रही थीं और ठप ठप को आवाजों से चुदाई का और भी मजा आ रहा था.

उसने मेरे सर को अपने लंड की तरफ दबाया तो मैंने उसके लंड की महक को जज्ब करते हुए उसके सुपारे पर एक किस किया. उसे मेरी टीशर्ट के कारण मेरे मम्मों को दबाने में दिक्कत सी हो रही थी तो मैंने अपनी टीशर्ट निकाल दी और वो मेरे मम्मों को आराम से दबाने लगा. हमने उस दिन 2 बार और चुदाई की, फिर मैंने उसकी 3 बजे उसे बस स्टैंड पर छोड़ा और वो अपने घर चली गई.

अचानक कामिनी एकदम से आधी उठ गई और उसने विवेक के लंड की तरफ अपना मुँह कर लिया और लंड पे जीभ मारने लगी. उस सफेदी में थोड़ा ब्लड भी था, जिससे पता चला कि शायद चोदते चोदते उसकी बुर ज़ख्मी हो गई थी.

जैसे ही वो दोनों जवान लड़कियाँ नंगी हुई तो मेरी नज़र उन दोनों की चूत पर गई जिस पर बालों का घना जंगल उगा हुआ था तो मैंने रेहाना से पूछा- रेहाना, तुम अपनी चूत के बाल साफ नहीं करती हो?रेहाना बोली- नहीं वीशु जी!मैंने कहा- मुझे बालों वाली चूत अच्छी नहीं लगती, एक काम करो आप दोनों बाथरूम में जाओ और ये लो वीट क्रीम और दोनों अपनी चूत से पहले बाल साफ करो, फिर चुदाई करेंगे ओ.

करीब दो तीन मिनट में मेरी चूत में अंकल का लन्ड रस समा गया, मेरी चूत अंकल के गर्म गर्म वीर्य से लन्ड रस से भर गई, एक अजीब पर बहुत मस्त सा अहसास होने लगा, ऐसा लगा जैसे मुझे बहुत कुछ मिल गया हो।पांच मिनट तक अंकल मुझसे चिपक कर मेरे ऊपर लेटे रहे, उसके बाद उठे मेरी चूत को अपने रूमाल से पौंछने लगे और फिर अपने जीभ से भी चाट कर मेरी चूत साफ कर दिया. पर मुझको तो छोटा लगता है, वो क्या है ना कि इंसान के लंड कितना भी बड़ा हो जाए, उसको छोटा ही लगता है. उसकी नंगे होकर मजा लेने की बात पर मैंने उसके एक एक कपड़े उतार कर उसको नंगी कर दिया.

𝓼𝓮𝔁 𝓿𝓲𝓭𝓮𝓸 𝓽𝓪𝓶𝓲𝓵 उस दिन के बाद जब भी मौका मिलता था, तब हम दोनों सेक्स कर लिया करते थे. पर तभी मुझे ख़याल आया कि अभी उन दोनों को रंगे हाथ पकड़ता हूँ, पर मैंने सोचा मैं पकडूँगा और बाद में घर में ये बताऊंगा तो बहुत काम लोग मेरा यकीन करेंगे क्योंकि मेरी साली की छवि ही इतनी उजली थी कि हर कोई यही सोचता कि वो ये नहीं कर सकती.

मैंने उसके ऊपर हो कर उसके हाथों को पूरा टाइट करके पकड़ा हुआ था क्योंकि मेरे किस करते ही वो पलट कर सीधा होने की कोशिश कर रही थी. दोस्तो यह सेक्सी कहानी बिल्कुल सच है और आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।अब मैंने पारुल को बोला- गाड़ी को साइड में लेकर किसी पेड़ के नीचे रोक दो ताकि रोड से थोड़ा दूरी पर रहे और कोई देख ना सके!पारुल ने गाड़ी साइड में लेकर रोक दी. बिंदु बोली- ठीक है ज़रा सोचने दे, मेरी बूढ़ी चूत से तुम्हारा काम भी करवाती हूँ जिससे चुदाई भी आराम से हो और कहीं किसी को भनक भी ना लगे.

सेक्सी पिक्चर घचाघच

मैंने उन्हें बताया- आपका देवर बहुत पुराना खिलाड़ी है, इसने सबके साथ मैच खेले हुए हैं. उस रात मैंने उन्हें मैसेज किया ही था कि भाभी का तुरंत रिप्लाइ आया- सोए नहीं अभी तक?मैंने बोला- नहीं. मैंने आंटी की चुत को चाटा, तो उन्होंने भी मेरे लंड पर लगी आइसक्रीम खा ली.

जब सुबह नहाने के वक़्त मैंने जीतू को आवाज़ दी कि चलो मेरे साथ नहा लो. उसकी साड़ी खोलने के बाद उसने मेरे सामने ही मेरी वाइफ को पूरी नंगी कर दिया और बोला- वाह भाबी, आप तो बहुत हॉट माल हो.

सब कोई अपने अपने पसंद के मेनू आर्डर कर रहे थे, पर भाई साहब का कोई आर्डर नहीं कर रहा था.

मैं रुका और उसे बात करने लगा।उसने बातों बातों में ही मुझे खाना ऑफर किया। मैंने मना भी किया लेकिन इसके बावजूद उसने मुझे अपनी गाड़ी में बिठा लिया। हम उसके घर गए तो घर में एक काम वाली के अलावा कोई नहीं था. शुरुआत में तो आर्थर धीरे-धीरे ही मेरी श्रीमती की चूत को अपनी तोप पर बैठाता रहा लेकिन कुछ ही धक्कों के बाद उसने अपनी जानी पहचानी लय पा ली और किसी वेट लिफ्टर की तरह लड़की को अपनी कलाइयों पर उठा कर उसकी चूत को अपने तीर जैसे लंड पर पटकना शुरू हो गया. माँ के चूतड़ों की उस मदमस्त छुअन के अहसास ने मेरे अन्दर जैसे आग सी लगा दी.

मैं थोड़ा अचकचाया।आप को मेरी कसम… अब के जो तरसाया तो…!” प्रिया के लफ़्ज़ों में मनुहार के साथ साथ आदेशात्मक गूंज थी. और भाभी मजे से दिल्ली वाली भाभी की कहानी पढ़ने लगी और मैं एक हाथ से उनके पैर को सहलाने लगा. उस दिन रात को मेरा पति बहुत खुश नज़र आ रहा था और मुझसे सेक्सी बातें करने लगा.

मेरी सेक्स स्टोरी हिंदी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि एक दिन एक कॉलेज गर्ल ने मुझसे मेरे बाइक पर लिफ्ट मांगी.

मूवी बीएफ मूवी: मैं आंटी की चुत में उंगली घुमाने लगा, आंटी गर्म हो कर चिल्लाने लगीं- आआह. मेरा माल भी आने को था, तो मैंने उसकी चूत से लंड निकाल कर उसके मुँह में डाल दिया और उसी के मुँह में झड़ गया.

अब झड़ने को कतई तैयार आर्थर भैंसे की तरह कराहने लगा और नताशा के मुंह से अपना लंड बाहर निकाल कर दस कदम पीछे चल कर बोला- मुंह खोल अपना! जल्दी से खोल!! वहीं तक फव्वारा मारूंगा!!! चल दिखा अपने मोतियों जैसे सफ़ेद दांत… और देख मेरे लंड की ताकत!!!नताशा ने सब समझ कर उसके लंड की दिशा में अपना पूरा मुंह खोल दिया. मैं समझ गया कि दीदी के ऊपर भी प्यार का नशा चढ़ने लगा है, मैं भी दीदी की योनि को सहलाने लगा. लगभग 6 बजे अशोक बोला- चलो साथ में नहाते हैं और फिर तुम्हें ड्राइवर छोड़ कर आएगा.

मैं एक दिन अपनी बीवी को चोद रहा था, तो मैंने देखा कि मेरी वाइफ को अबसेक्स में मज़ानहीं आ रहा है.

मैंने अंजलि कीचूत में उंगली डालीतो देखा अंजलि की चूत गीली हो गयी थी. यदि कोई दूसरा पुरुष मेरी पत्नी को वो सुख दे रहा है जिसकी वह अधिकारिणी है, तो एक प्यार करने वाले पति को इससे क्यों गुरेज होने लगा! और होना ही नहीं चाहिए, क्योंकि उसका तो कर्तव्य है कि उसकी पत्नी दुनिया का सारा सुख भोगे, नाना प्रकार के विभिन्न आकार प्रकार वाले लंडों का स्वाद चखे!!अचानक आर्थर ने अपना लंड बाहर निकाल लिया, और उसे अपनी मुट्ठी में भींच लिया. वीरवार रात को निकलना था, शुक्रवार सारा दिन चढ़ाई कर के दर्शन करने थे, शुक्रवार रात वहाँ से वापसी कर के शनिवार सवेरे वापिस घर पहुँच जाना था.