बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म

छवि स्रोत,जर्मनी सेक्सी वीडियो फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

लैट्रिन की दवा: बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म, लेकिन लड़के ने कहा है कि प्रिया को बेसिक कम्प्यूटर कोर्स और अगर हो सके तो C++ का डिप्लोमा जरूर करवा दें.

छोटे-छोटे बच्चे की सेक्सी

जब मैं पहुंचा तो घर से थोड़ा आगे एक कार ख़ड़ी हुई थी, मैंने घर के दरवाजे का लॉक बंद पाया तो सोचा कि मेरी बीवी मार्केट गई होगी. वीडियो सेक्सी लाइवपर मुझे यह नहीं पता था कि वो चाचा जिनसे मैं बातें करती हूँ, वो मुझे एक दिन चोद देंगे.

दोस्तो, मेरा नाम समीर है, आज से दो साल पहले मैंने अपने पहले यौन अनुभवरिश्तेदार के घर चुदाई का मज़ाके बारे में आप सभी को बताया था. एक्सएक्सएक्स सेक्सी वीडियो हिंदी मेंऐसा नहीं कि यह परिवार शुरू से इस हालत में था, यह खाता पीता परिवार था, मंजरी के नाना की हरियाणा के एक गाँव में जमीन थी और वे गाँव के जाने माने वैद्य थे तो अच्छी खासी आय हो जाती थी.

हमें इस स्थिति में देख कर उसका मुँह खुला रह गया क्योंकि मेरा लंड मोना की चूत में था और मैं उसके दोनों हाथ पीछे से पकड़े हुए था.बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म: उसके बिंदास और रसीले स्वर को सुनकर मैं भी हंस पड़ा और मैंने भी उसको हाँ में जवाब दे दिया.

लेकिन वे लोग कसाईयों के हाथ में फंसी बकरी जैसे, कराहते हुए मेरी बीवी को पागलों की तरह उसके दर्द की परवाह किये बगैर चोदते जा रहे थे.इस तरह मेरी और दिव्या की बातें होने लगीं और धीरे धीरे समय भी बीतता गया और ये बातें कुछ और बड़ी होती चली गईं.

बेबी की सेक्सी वीडियो - बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म

मैंने उसकी बुर की सुराख पर अपना लंड टिका कर धक्का लगा दिया, वो चिल्ला दी- मैं अभी कुँवारी हूँ.उन्होंने कहा- अच्छा तभी… जब से मैंने एंट्री की है, आप तब से ही मुझे देखे जा रहे हो.

इंटरव्यू हुआ और इसमें उन्होंने मुझसे पर्सनल सवाल ज्यादा पूछे औऱ फिर उन्होंने अपने बारे में भी बताना स्टार्ट किया. बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म ससुर बहू के सेक्सी खेलों भरी गर्म कहानी आपको कैसी लग रही है, मुझे मेल कर के अवश्य बताएं![emailprotected].

मैं बहन की साड़ी हटा कर उन्हें पूरा नंगी करना चाहता था लेकिन बहन की सासू माँ के आने का डर था.

बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म?

और उन्होंने जैसे तैसे तौलिया लपेटी तो मैं अन्दर गया तो देखा कि चाची का शरीर आधे से ज्यादा दिख रहा है, उनके चूचे बड़े होने के कारण तौलिया में छुप नहीं पा रहे थे और उनकी चिकनी जाँघें ऊपर तक साफ दिखाई दे रही थीं. मैंने पूरे डेढ़ घंटा चुदाई की थी और मेरी चूत बहुत दुःख रही थी, मैं थक गई थी।फिर संजना भी जोश में आ गयी और उसने संजना को भी चोदना शुरू कर दिया. मैं भी थोड़ा भावुक हो गया था और मैंने उससे सॉरी कहा, पर उसने मेरी कोई बात नहीं सुनी.

और जैसे ही मैंने सलवार का नाड़ा पकड़ा तो उसने मेरा हाथ पकड़ कर हटा दिया और बोली- आज नी… कल करिये… आज मेरी डेट है!तो मैंने उसे छोड़ दिया. जब मैंने तौलिया माँगा तो स्वाति मेरी तरफ देखने लगी और हंसी- यार मिनी, यहाँ मैं अकेली हूँ. पापा जी को नाश्ते में दही जरूर चाहिये होता है, और दही ताजा ही लाना, खट्टा मत ले आना!” बहूरानी ने यह कहते हुए मेरे बेटे को बाज़ार भेज दिया.

मैंने और जोर से आंटी के चूतड़ों को थप्पड़ मारा और उनकी गांड में उंगली पेल दी. बॉस गंदी गंदी गालियां देकर मेरी गांड मार रहे थे, जो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. इस देसी हिंदी पोर्न कहानी के बारे में आपके जो भी सुझाव हों, आप मुझे मेल कर दीजिये.

चचा मुझसे पूछने लगे- कैसा लगा पिंकी?मैंने कहा- चाचा, अच्छा लगा पर बहुत दर्द हुआ. ”क्या सुना है?”यही कि उसमें भरपूर सेक्स दिखाया जाता है और देखने में बड़ा मजा आता है.

आज अंकित और माया को उनकी सुहागरात याद आ गई थी, जब दोनों ने पूरी रात चुदाई की थी.

मेरी नजर गेस्टरूम में गई, मैं वहां गया तो देखा कि बुआ और दिलप्रीत सिंह दोनों बातें कर रहे थे.

एक रात वर्षा मुझे बोली- दीदी, अब कब उस मजदूर से चुदवायेंगे? आठ दिन कब के हो गये हैं?मैं बोली- वर्षा, क्या तेरी चूत पहले की तरह अंदर से जल रही है?वो बोली- दीदी वैसे तो नहीं जल रही, पर जलने से पहले चुदवा लें तो ठीक रहेगा ना?मैं बोली- नहीं वर्षा, ऐसे बार बार नहीं चुदाते, और मेरा और किशोर का भी अब झगड़ा हो गया है. मैंने बाहर जाकर देखा तो मोना सीधी लेटी हुई थी और आनन्द उसके पेट को हल्के से चूम रहा था और धीरे धीरे मेरी बीवी के होंठों को चूस रहा था. मैं- दीदी आपकी खुशी की और मेरे ये सब कुछ करने की एक ही वजह है, करण, उसी ने मुझे आपके और अमित के बारे में बताया था, वो तो अमित को जान से मारने वाला था लेकिन मैंने उसको समझाया और आपको एक बार अमित से शादी की बात करने को बोला और फिर आपसे कुछ दिन का टाइम माँगा ताकि हम अमित की पोल खोल सके आपके सामने.

मैंने भी दीदी को किस करना शुरू कर दिया और उनके मम्मों और गले पर किस करने लगा. उस कहानी में आपने पढ़ा था कि कैसे मेरी साली की युवा बेटी हमारे साथ रहने आई और कैसे मेरे और उसके बीच सेक्स सम्बन्ध पल्लवित हुए!प्रिया के और मेरे उस रात के सपने जैसे प्रेमालाप के बाद हमें दोबारा कोई ऐसा मौका ही नहीं मिला और सच मानिये कि मैंने दोबारा ऐसी कोई कोशिश ही नहीं की. मैंने भाभी से अपने लंड को मुँह में लेने को बोला, पर भाभी को ये अच्छा नहीं लगता था, इसलिए मैंने भाभी को लंड चूसने के लिए ज्यादा जोर नहीं दिया.

पर आज जब वह ख्याल आता है मैं उसकी चूत को याद करके मुठ जरूर मारता हूँ.

भाभी के मुँह से ऐसे बोल सुन कर में और उत्तेज़ित हो गया और अपना लंड अन्दर डालने की कोशिश करने लगा. दोनों पति पत्नी रोपड़ के रहने वाले थे और दोनों काम की तलाश में चंडीगढ़ आए थे. आह्ह…मैंने भी स्पीड बढ़ा दी, अब मैं भी पूरे मजे में था और बोल रहा था- आह.

मैं बॉडीलोशन उनके सीने पर लगाने लगा तो उन्होंने अपना पेटीकोट चुचियों पर से हटा कर कमर तक सरका दिया. ”तुम? क्या तुम भी ऐसा करते हो?”मैंने अब तक कभी किया ही नहीं तो ऐसे वैसे का सवाल ही नहीं उठता. जब मैं दीवाली की छुट्टियों के बाद लखनऊ वापस आया तो मेरी मोना से फोन पर बात शुरू हो गई.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने उन्हें अपने ऊपर ले लिया और मैं नीचे लेट गया.

मैंने अन्दर जाने का फैसला लिया और किसी तरह फार्म हाउस के पीछे की तरफ से घुसा. रात के 11:30 बजे पर मैं मूतने के लिए बाहर आया तो उसके घर की लाईट जल रही थी.

बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म मेरी जवानी की चुदाई की इस देसी कहानी के लिए आपके मस्त कमेंट्स का मुझे इन्तजार रहेगा. मैंने नेपकिन से अपने लंड को पौंछा, फिर उसकी चूत और जांघें पौंछ डाली और लंड को चूत के छेद पर टिका के सुपारा भीतर धकेल दिया.

बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म अब वो और भी भड़कीले कपड़े घर में पहनने लगीं और अपनी मादक जवानी से मुझे सम्मोहित करने लगीं. साली रांड, कुतिया बना कर चोदूँगा तुझे!”अरे, वो तो देख लेंगे, पहले इस बच्ची को तो तो कुतिया बनाओ और अपना लंड इसके मुँह में दो.

दोनों ने अपनी गति बढ़ाई और कुछ ही देर में एक के बाद एक ने अपना उबलता लावा मेरे अंदर उड़ेल दिया।मैंने खुद को दोनों से अलग किया और वहीं जमीन पर गिर कर मैं अपनी उखड़ी हुई साँसें संयत करने लगी.

गोल्डन सागर का चार्ट

फिर उन लड़कों से मेरी हाथापाई वाली लड़ाई हो गई और मेरे हाथ में से भी खून आने लगा था. मैं उसकी चुत चाटते हुए बीच बीच में उसके दाने को काट भी देता जिससे वो पागलों की तरह हाथ पैर हिलाने लगती. मैंने उन्हें किस करना भी स्टार्ट किया और साथ में मम्मों को भी दबाने लगा, जिससे उनकी आवाज़ में काफी कमी आ गई.

मेरे बेटे को होने वाली पत्नी और मेरी बीवी को होने वाली बहू पसंद आ जाए बस. मुझे पता ही नहीं चला कब गेट खुला कब भाभी के पापा गाड़ी में अंदर आ गये. उसने मेरा सिर ज़ोर से दबा दिया और मुझसे कहने लगी- ले चाट ले मेरी चुत.

मैं दो मिनट रुक गया और फिर एक धक्का लगाया तो उसकी चूत से खून आने लगा और वो भी दर्द से रोने लगी.

मैं- तो करें शुरू?वह नाटक करते हुए- क्या शुरू करना है?मैं- कुछ नहीं… लेट जा इधर ही!वह- सोने के लिए लाए हो या कुछ करने के लिए?तभी मैंने उसके कंधों पर हाथ रखा और उसने अपनी आँखें बंद कर ली और तभी मैंने उसके होंठों पर होंठ रख दिए. मैं जाकर उसके रूम में बैठ गईअमित थोड़ी देर बाद तौलिया बांधे हुए आया तो मैं खड़ी हो गई तो उसने ऐसे ही मुझे गले से लगा लिया और कहा- काफी अच्छी दिख रही हो. मैंने एक ज़ोर का झटका दिया और मेरा लंड पूरी तरह उसकी बुर में घुस गया.

अब मुझे ना जाने क्या जोश आया, मैं उसके बूब्स को खाने लगा, उसके बूब्स बहुत टाइट थे, मैं उनको जोर जोर से काटने लगा तो उसे दर्द सा हो रहा था, वो मेरे मुँह को ऊपर लेकर मेरे होंठों पर चूमने लगी और अब मैं उसकी पेंटी के अंदर हाथ डाल कर चूत के पास लेकर गया, उसकी चूत पर बहुत बाल थे, पता नहीं पिछली बार कब काटे होंगे।धीरे धीरे उसकी चूत के ऊपर मेरा हाथ चलता रहा और मैं उसके होंठों को चूमता रहा. अब फिर उसने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे रोकने की कोशिश की लेकिन मैं रुका नहीं और उसका लोअर उतार ही दिया. थोड़ी ही देर में मैं झड़ने वाला था, मेरे झड़ते ही उसने सारा रस बड़ी आसानी से पी लिया और लंड को चाट चाट कर साफ कर दिया.

मैं उसकी चूची को चूसते चूसते नीचे सरका और उसका पेट नाभि चाटते हुए उसकी पेंटी पर आ गया. वो समझ गई कि मैं उसकी गाण्ड मारने वाला हूँ।बोली- राज आज पीछे नहीं डालना प्लीज.

मैं भाभी की गांड में सटासट धक्के दिए जा रहा था और वो छटपटा रही थीं. मैंने अपने रिश्तेदारों से कह दिया है कि स्वाति की अभी ट्रेन में बुकिंग करवाई है, वो थोड़ी देर मैं मुम्बई से निकल कर 4 घंटे में यहां पहुँचेगी. मैं- प्लीज दीदी आप मत रोना… रोना तो अब इस अमित को है, मनमानी कर चुका ये अपनी, अब और नहीं!दीदी भी गुस्से में थी- मैं इसको छोड़ने वाली नहीं, जान से मार दूँगी इसको!मैं- नहीं दीदी, जान से मारना इसका इलाज़ नहीं है, इसको तो अपने कर्मों की सज़ा मिलनी चाहिए, जान से मारना तो बहुत छोटी सज़ा है इसके लिए…दीदी- फिर और क्या करना चाहिए इसका इलाज़?दीदी गुस्से में मुझे बोली.

कहो तो मैं अकेली आ जाऊं?अंजू- दीदी आप आएँगी ना तो आपका पता नहीं क्या होगा.

मैं आहिस्ता आहिस्ता उसे चोदने लगा।पांच मिनट के बाद मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और देखा कि बुर से थोड़ा खून आ रहा है. पल भर के लिए मुझे बहन पर बड़ा गुस्सा आया, लेकिन मैंने खुद पे काबू कर लिया. मुझे अजीब सा लगा तो मैं उन्हें वहीं छोड़ कर पार्किंग में आ गया और सिगरेट पीने लगा.

साथ में उस गुलाम की बीवी भी थी, जो बैठ के इस तमाशे को देख कर खुश हो रही थीं. अब आगे:दुर्ग स्टेशन पर उतरने के बाद मैं अपने दोस्त कुणाल से मिलने गया तो देखा कि कुणाल आंटी और अंकल उनकी दोनों बेटियों के साथ खूब बतिया रहा है.

मेरे पीछे कई लड़के आ रहे थे उसमें से एक लड़के ने मुझे प्रपोज किया कि मुझसे दोस्ती कर लो. मैंने अपनी ताकट बटोर कर खुद को थोड़ासा ऊपर उठाया, उठ कर सिराज की मजबूत बांहों का सहारा लेकर उसकी गर्दन के ऊपर अपने हाथों की माला बना कर सहारा लिया और सीधे अपने होंठ उसके होंठों पे रख दिए. साले उस दिन शकूर का लंड चुपचाप ले गए कि नहीं? उनका हथियार तो मेरे से ड्योढ़ा है.

पस का इलाज

मुझे हल्की हल्की नींद आने लगी थी तो भाभी ने मुझसे बोला- एक जादू दिखाऊं?तो मैं बोला- दिखाओ.

मैंने मोना को पलटने को कहा, वो पलट गई, जिससे उसकी गांड मेरे सामने आ गई थी. अब कभी भाभी अपने दोनों पैर हवा में उठा लेतीं, तो कभी पैर नीचे करके चूतड़ उठा उठा कर लंड को निगल रही थीं. प्रिय पाठको, बीवी की चुदाई की आगे की दास्तान अगले भाग में पूरी करूँगा.

भाभी के पैर दरवाजे की तरफ थे इसलिए मुझे तो देख नहीं सकी, पर उनकी मस्त मखमली चूत और गांड का छेद साफ दिख रहा था. अब बॉस मेरे निप्पल को चूस रहे थे और हाथ मेरे जींस में डाल कर मेरी चूत को सहला रहे थे. सेक्सी फिल्म बड़ा लंड कीअब मीना जी ने खामोशी तोड़ते हुए कहा- अच्छा कर लेते हो, देखो सरदर्द बिल्कुल चला गया और 3 घंटा बैठे बैठे शरीर भी अकड़ गया था, अब आराम मिल रहा है.

अब आगे:मैंने दीदी के सर को अपने लंड पर दबा दिया और दीदी भी चुपचाप लंड को चूसने लगी. उसने पेन्ट की जिप खोलकर उसमें से फनफनाते हुए मेरे लंड निकाल कर आजाद कर दिया.

साला लड़कों की फ़ितरत देखो, मेरा लंड धीरे धीरे खड़ा हो रहा था, पर मैंने अपने आप पर कंट्रोल किया. तुम जब कहोगी मैं आ जाऊँगा।मधु बोली- तो जनाब अब हम पर एहसान कर रहे हैं।हमारी इस बात पर काफी बहस हुई। आखिर में वो रूपये देकर ही मानी; उसने मुझे 20 हजार रूपये दिए और बोली- राज मुझे अब पैसों की कमी नहीं है. अब वो और भी भड़कीले कपड़े घर में पहनने लगीं और अपनी मादक जवानी से मुझे सम्मोहित करने लगीं.

मैंने कारण जानने की कोशिश की, उससे पूछा तो उसने बताने से इन्कार कर दिया. दीदी ने अपनी चड्डी भी उतार दी और उसे अपने बॉस दयाल के मुँह में ठूंस दिया. रास्ते में मैंने पूछा- भाभी, आपको क्या हुआ है, क्या तकलीफ है?भाभी ने बोला- कल रात से पेट के नीचे दर्द हो रहा है.

मैं उसके ऊपर झुका और उसने खुद ही मेरा लंड पकड़ कर सही जगह पर रख कर उसे ज़न्नत का रास्ता दिखा दिया.

चाची बोलीं- थोड़ा सब्र तो करो मेरे राजा, अब मैं तुम्हारी ही रानी हूँ. इस दोहरे हमले को माया सह नहीं पाई और चिल्ला चिल्ला के झड़ने लगीअंकित.

वहाँ पहले मैंने उस पर पानी डाला फिर उस पर साबुन लगा कर लंड को रगड़ने लगी और पानी से लंड धो दिया. कुछ देर बाद मैंने उसे घोड़ी बनाया और सीधा उसकी चूत में आराम आराम से डालने लगा. हाँ, यूं ही उचटती सी नज़र कभी उसके ऊपर पड़ी हो तो अलग बात है लेकिन नजर भर के, पसंद नापसंद करने के आशय से मैंने अदिति बिटिया को कभी भी नहीं परखा.

मैंने धीरे से उनके लबों को चूमा और उन्हें दीवार के पास खड़ा कर दिया. प्रिय दोस्तो, मेरा एक गे दोस्त था शाकिर, गोरा माशूक था, पर बहुत चालाक एकदम कमीना था. मैं भी अन्दर आकर कपड़े निकाल कर बिना कुछ पहने केवल ब्रा और पैंटी में ही बेड पर बैठ कर नए मोबाइल को देखने लगी और लेट गई.

बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म फिर मैंने एक हाथ उसकी पेंटी में डाल दिया और वो भी मेरे लंड को अपने हाथ से दबाने लगी. मेरी हरामी निगाहें इस बात को समझ लेती थीं कि उन्होंने नाइटी के नीचे ब्रा पेंटी भी नहीं पहनी होती थी.

ಇಂಗ್ಲಿಷ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಕನ್ನಡ

ऐसे आनन्द ने उसे 10 मिनट तक चोदा और उसने मोना के पेट पर अपने गर्म वीर्य की पिचकारी दे मारी. तभी मैंने एक करारा शाट मारा और चुत की मुलायम दीवार भेदता हुआ मेरा आधा लंड चूत के लाल किले में समा गया. मैंने उससे जाने के लिए कहा तो उसने साफ मना कर दिया और मुझे धमकी दी कि अगर उसे भी नहीं करने दिया तो वह शोर मचा देगा.

उसने एक बोतल मेरे गाल को लगाई। चिल्ड बियर का ठंडापन मेरी हड्डियों में फ़ैल गया. वो वापस मेरे पास आकर लेट गई और हम दोनों एक दूसरे के जिस्म से खेलने लगे. डिंपल चौधरी की सेक्सीमैं धन्यवाद करता हूँ, इस अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज वेबसाइट का, जो हमें हमारे अनुभव, विचार और वासना को व्यक्त करने का मौका देता है.

मेनका- क्या मैं तुझे अच्छी लगती हूँ? बस ये बताओ?मैं- हाँ दीदी, लेकिन पापा?मेरे कुछ कहने से पहले ही दीदी खुशी से झूमने लगी जैसे उनकी कोई बरसों पुरानी दुआ भगवान ने आज सुन ली हो.

अगर लड़की के दिल में ज़रा सा भी डर हो तो गांड चोदना इतना भी आसान नहीं होता. कब से चल रहा है ये?मैं कुछ नहीं बोला, तो वो बोली- मैंने कुछ पूछा है.

मैंने उनकी साड़ी पेटीकोट को जैसे ही ऊपर किया तो देखा कि जैसे उन्होंने मुझसे चुदने की पहले से तैयारी कर रखी थी. आपने आध घंटे तक रगड़ा था, मेरी गांड लाल कर दी थी, आज तक चिनमिना रही है. ये तेरा ही दोस्त है कि नहीं?इरशाद ने आगे बढ़ कर शाकिर की पैन्ट खोल दी, अंडरवियर नीचे खिसका दिया और उसके चूतड़ चूम लिए.

कुछ देर बातें करने के बाद हम दोबारा शुरू हो गए और अब हम 69 के पोज़ में आ गए.

इईईई… श्श्श्शश… महेश्श… अआआ… ह्हह…” कहते हुए बल से खाने लगी…ममता जी मदहोश सी होकर मुँह से हल्की हल्की सिसकारियाँ सी भर रही थी. वो बहुत चिल्लाई… पर मैंने उसका मुँह दबाया और उसकी गांड मारनी चालू कर दी. मैं चुप थी और उनके दोस्तों के नाम थे, लड़की का नाम स्वाति और लड़कों में एक का अरुण और दूसरे का शैलेष था.

सेक्सी वीडियो नेपाली देसीआख़िरकार मैं सुकुमारी भौजी के पीछे तक पहुँच गया और धीरे से झुककर बड़े झटके के साथ उनकी दोनों चूचियों को दबोच लिया. सुबह 7 बजे रोज की तरह कपड़े धोते वक्त मैंने नोटिस किया कि संजय बाल्कनी से मुझे देख रहा है.

फुल सेक्सी गांव की

उसके मुँह से ये सुनकर अजीब सा लगने लगा कि इतने दिनों में उसने अपने दुखों का कभी जिक्र ही नहीं किया था. उन्होंने कहा- यस…मैं- ओके जी… वैसे आपका नाम क्या है?उन्होंने कहा- ललिता…‘ओके नाइस नेम… वैसे आप इतनी सुन्दर और सेक्सी हो तो आपके हज़्बेंड कहाँ गायब हो गए हैं. अवी ने बताया था कि कम से कम 25 से 30 लोग आएंगे, तब मैं और स्वाति दूसरे रूम में चली गईं, ताकि ड्रेस बदल सकें.

तो मैंने उन्हें कहा कि अबकी बार अगर हमारे खेत में नजर आयी तो तुम्हारी खैर नहीं!तभी अचानक उनमें से एक ने मुझे थोड़ा अजीब तरीके से देखना शुरू कर दिया।मैंने भी उसे उसकी भाषा में जवाब दिया और उनके पीछे जाने लगा. उनकी गांड बजाने के बाद मैं धीरे-धीरे सुकुमारी भौजी के बदन को शहद की तरह चाटते हुए अपनी जीत पर ख़ुशी मना रहा था. उन्होंने थोड़ा शर्माने जैसा अभिनय किया, और मैं 69 की पोजिशन में तनु के ऊपर झुक गया ताकि तनु के मुंह में मेरा लिंग आ जाये और मेरे मुंह में उसकी योनि।और मैंने एक बार फिर आँटी को देखा, उनकी आँखों में एक चमक आ गई थी, वे अपने एक पैर के ऊपर दूसरे पैर को रख कर खुद को संभालने की नाकाम कोशिश कर रही थी।कहानी जारी रहेगी…आप अपनी राय इस पते पर दें…[emailprotected][emailprotected].

कमरे में पहुँचने पर स्वाति ने कहा कि क्या तुम इसी ड्रेस में रहोगी या कोई और ड्रेस भी लाई हो? मैं तो ये लाई हूँ एक ड्रेस दिखाते हुए उसने आगे कहा- अगर लाई हो तुम भी बदल लो. फिर मुझे पता ही नहीं चला और वह सिसकारियाँ लेने लग गयी, मैंने उसके बदन को गर्दन से लेकर नाभि तक चूस चूस के उसे मदहोश कर दिया और वह मेरा पूरा साथ दे रही थी. मुझसे अब रहा ना गया… दोस्तो, झूठ नहीं बोलूंगा, कोई प्यार की बात नहीं हुई थी, मैंने सीधा ही उसके होंठों पर चुम्बन कर दिया था.

पापा जी… अब नहीं रहा जाता, नहीं सहा जाता मुझसे… मेरी चूत में चीटियाँ सी रेंग रहीं है बहुत देर से!”तो क्या करूं बता?” मैंने उसका गाल काटते हुए कहा. अलग होते वक़्त प्रिया की आँखों में वही बिल्लौरी चमक और होठों पर वही कातिल मुस्कान थी.

थोड़ी देर में सिराज हमें ढूंढता हुआ वहीं आ गया जहां खेतों के बीच मेरी ठुकाई हो रही थी.

मैं कस कस के झटके दिए जा रहा था और वो उतनी ज़ोर से चिल्ला रही थीं- आह… आईईईई… ज़ोर से… और तेज… आह… करते रहो… आह…मुझे भी जोश चढ़ गया और मैंने तुरंत भाभी को दीवार से हटकर बेड पर आधा लेटा दिया. सेक्सी ऑंटी ब्लू फिल्मथोड़ी ही देर में उसका रस निकल कर मेरे होंठों पे आ गया और वो ढीली पड़ गई. सेक्सी चित्र वाली सेक्सीउन्होंने कहा- मैं आपके आगे बैठ जाती हूँ, ताकि आपको मालिश में आसानी हो. फिर मम्मी झड़ गईं, वो बिल्कुल चित्त होकर पड़ी रहीं और उन्हें देखकर लग रहा था कि जैसे उन्हें जन्नत नसीब हो गई है.

स्टीव ने अब अपने तनकर खड़े औज़ार को माँ की चूत से सटाया और मम्मी के दोनों पैरों को फैला दिया और एक प्यारा सा झटका दे दिया, जिसकी वजह से उसके लंड का टोपा मम्मी की प्यासी चूत में घुस गया और मम्मी ने आहह्ह्ह आईईईई.

अब कमल एक कुर्सी पर बैठ गया और बोला- आओ मेरी रानी मेरे लंड पर बैठ जाओ. मुझे भरोसा था कि वो जरूर आएगा, मेरे लिए नहीं तो तेरे लिए जरूर आएगा. इस तरह मेरी बॉडी पर किस की बात आ गई थी, इसमें भी मुझे यही लग रहा था कि इससे आखिर होगा क्या.

तभी मेरी नज़र दूल्हे पे गई और उसके साथ खड़ी एक लेडी पर मेरी नजर टिक गई. मैंने सुबह सुबह ही चाची की चुत याद करके मुठ मार ली और नहाने चला गया. मैंने देरी न करते हुए उसकी मस्त गुलाबी चूत को, जो पूरी बालों से घिरी हुई थी, उसको अपने मुँह में डाल ली और आराम से चूसने लगा.

vijay सेक्सी वीडियो

वो मेरे कान के पास आकर मेरे कान में हवा फूँकने लगीं, मुझे गुदगुदी होने लगी थी. निशा ही क्यों? कहानी सुना रहे हो कि खुद बना रहे हो?”सुनाऊं या बनाऊं, तू सुनने से मतलब रखना. फिर मैंने पूरे दिन इस बात के बारे में सोचा पर मेरा मन नहीं मान रहा था।रात को राजीव घर आ गए, रोज की भान्ति हम दोनों ने डिनर किया और फिर हम लेट गए।मैं पूरी रात काल बॉय के बारे में सोचती रही। सुबह हो गयी पर मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था।फिर हम फ्रेश हुए और राजीव ऑफिस चले गए.

मैं वैसे ही उनके ऊपर लेटा रहा, उनकी चुचियों को सहलाता मसलता रहा और निपल्स को भी बारी बारी से चूसता रहा.

राहुल इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि थोड़ी ही देर में उसने अपना पानी जोया के मुँह में छोड़ दिया.

रजनी ने मुस्कुरा कर कहा- चलो एक काम करते हैं, तुम मुझे अपनी जीएफ बना लो. भाभी की पैंटी के अन्दर हाथ डाल कर उसकी चूत की फाँकों को सहलाते हुए अपने दो उंगलियों को उसकी चूत के अन्दर घुसा दिया. सेक्सी फिल्म डाउनलोड सेक्सी फिल्मजोया भी हमारी बातें गौर से सुन रही थी और इस तरह से अलग तरह के मुँह बना रही थी.

मम्मी फूफा के लंड को सहलाते हुए बोलीं- लगता है आज मेरी चूत फट जाएगी. ममता बोली- आग मुझे नहीं बल्कि आपके वहां पर लगी है, तब मैं क्यों आपको बिना पूछे बोलती कि मैंने क्या सोचा. वो कहने लगा- बेबी, अगली बार जब हम बाहर जाएंगे तो पहले से प्लानिंग करके चलेंगे.

मैंने उसे रुकने के लिए तो हां कर दी लेकिन उसे कुछ भी करने देने से मना कर दिया. उतार देती हूँ।यह कह कर मैंने अपनी कमीज़ उतार दी। नीचे वाइट ब्रा थी। फिर उसने मेरी ब्रा खोलने की कोशिश की.

अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो पा रहा था, मैं चीखने लगी और उनके बालों को पकड़ कर और दबा रही थी.

बाजू वाला लड़का भी जोश में आ गया और उसने भी अपनी उंगली बहन की चुत में घुसा दी. कमरे की टयूबलाइट बन्द कर दूधिया नाइट लैम्प जला कर मैं वाशरूम में जाकर फ्रेश हो आया. चाची तो पूरी पागल हुए जा रही थी, वे मुँह से अजीब सी आवाजें निकाल रही थीं- अह्ह.

सेक्सी सेक्सी चुड़ै वीडियो मेरे ऐसा करते ही ममता जोरों से चिहुंक उठी और जोर जोर से आहें भरने लगी. इस रंडी की बेटी की भी अभी ही शूटिंग कर लेते हैं?” स्टीव ने मेरे हाथ को चूमते हुए कहा.

मैंने अन्तर्वासना की बहुत सी रियल कहानी पढ़ी हैं मुझे इधर की चुदाई की कहानी पढ़ कर बहुत मजा भी आया. यह बोल कर उसने दूसरा दे धक्का दिया और पूरा लंड मोना की चूत में घुसा दिया. पहले कभी लड़की नहीं देखी क्या?कटाक्ष में मैंने भी कहा- देखी तो बहुत हैं लेकिन इस हालत में और तुम जैसी माल वाली कभी नहीं देखी.

इंग्लिश सेक्स फिल्म सेक्स फिल्म

थोड़ी मेरे बड़े ताऊ ने उस लड़के के माता पिता को बुलाया और उनसे बात करने लगे. मैंने टाइम ना गंवाते हुए एक और कस के झटका मारा, मेरा पूरा लौड़ा उनकी गांड में समा गया. मैं- दीदी आपकी खुशी की और मेरे ये सब कुछ करने की एक ही वजह है, करण, उसी ने मुझे आपके और अमित के बारे में बताया था, वो तो अमित को जान से मारने वाला था लेकिन मैंने उसको समझाया और आपको एक बार अमित से शादी की बात करने को बोला और फिर आपसे कुछ दिन का टाइम माँगा ताकि हम अमित की पोल खोल सके आपके सामने.

ताई ने एक पतली सी साड़ी पहनी थी, उनका पल्लू नीचे गिरा हुआ था और गुरप्रीत उनकी चुचियों को मसल रहा था, चाची आआह कर रही थीं. आनन्द वापस उसे किस करने लगा, फिर उसके स्तनों के बीच में बनती रेखा को चूमने लगा.

थोड़ी देर उसका लंड चूसने के बाद विवेक ने अपनी फ्रेंची निकाल कर फेंक दी.

हम दोनों एक ही वाटर राइड पर सवार हो गए। आगे मधु बैठी थी और मैं उसके पीछे उसकी कमर को पकड़ कर बैठा था. वो घोड़ी बनकर पलंग पर चढ़ गई और भैया ने बड़ी ताकत से अपना 8 इंच उसकी गांड में फंसा दिया. अंकल मेरे राजा, अब मुझसे रहा नहीं जा रहा… आपने क्या कर दिया? मुझे बर्दाश्त नहीं हो रहा, कुछ करो!”तभी अंकल ने अपनी पूरी जीभ मेरी गांड में डाल दी और जोर जोर से गांड को चाटने लगे.

साथ ही उसके होंठों पर किस कर रहा था और ऊपर ही ऊपर लण्ड घुमा रहा था।कुछ ही देर में उसका शरीर अकड़ने लगा और वो चिल्लाने लगी- अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है. वो मुझे उठने से बैठने तक बड़े गौर से देख रहा था, इसके बाद कहा- इसमें पैसे हैं शालू गिन के रख लो. उसके बदन से चन्दन की खुशबू निकलने लगी और उसने अपने नाखूनों से भैया की पीठ पर डसना शुरू कर दिया.

मगर मैंने भी अब देर ना करते हुए दोनों हाथों से सलवार के ऊपरी‌ किनारों को पकड़ कर जोर से नीचे खींच दिया.

बीएफ सेक्सी चुदाई फिल्म: दीदी का हाथ वैसे ही सोफे पर पड़ा रहा जैसे मैंनेरखा था लेकिन वो अभी भी मुझे ऐसा करने से मना कर रही थी. और उस लड़की के तो कहने ही क्या… साली अपनी गांड और बुर उन चारों से मरवा रही थी जैसे पटा नहीं कब से चुदवाती आ रही हो!खैर जब मूवी देखने के बाद मुझपे भी मस्ती चढ़ी तब मैं अपने अब्बू के रूम की तरफ गयी और धीरे से अंदर चली गयी.

क्या आपको भी मज़ा आया दीदी?दीदी- हाँ, मुझे भी मज़ा आया सन्नी, लेकिन तूने जान निकाल दी मेरी, कोई इतनी ज़बरदस्त चुदाई करता है क्या… अगर मैं मर जाती तो?मैं- इतनी जल्दी नहीं मरने देता दीदी आपको, अभी तो और भी चुदाई करनी है आपके साथ, अभी तो चूत मारी है, गान्ड का नंबर लगाना बाकी है. कुछ देर बाद मम्मी ने अपनी नाइटी पहनी और फूफा जी ने भी अपने कपड़े पहने. उसके बड़े बड़े चूचे मानो कपड़े फाड़ कर बाहर आने की कोशिश कर रहे थे.

”विक्की ने अपने दोनों हाथों से रोशनी के मोटे मोटे चुचों का दबोच लिया और बोला- दीदी, ज्यादा हिली डुलीं तो मैं तेरे काले अंगूर जैसे निप्पल को मसल के लाल रसभरी बना दूंगा.

उसके उठे हुए दूधिया स्तन कलश हैं, उभरे हुए मस्त कूल्हों की वजह से कोई भी उसकी और आकर्षित हो जाता है. पहले उसने मेरी लेग और जांघों की मसाज की, फिर उसने मेरी बाजू हाथ मसाज कर दिया. करीब 5 मिनट बाद लंड फिर खड़ा हो गया और अबकी बार चाची ने लंड को अपनी चुत पर रखा और मेरे ऊपर बैठ कर झटके देने लगीं.