सेक्सी बीएफ जबरदस्त वाला

छवि स्रोत,वीडियो बुर की चुदाई सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

कंडोम कैसे बनते हैं: सेक्सी बीएफ जबरदस्त वाला, फिर आलोक ने मुझे इशारा किया, मैंने माँ की गांड से लंड बाहर निकाल लिया और लेट गया.

जानवर का सेक्सी वीडियो जानवर का सेक्सी

पूरी झांट मैंने कल ही साफ की थी, जिस वजह से मेरा लंड और भी बड़ा लग रहा था. मोटी औरत की वीडियो सेक्सीमैंने भी झट से अपना नंबर ओर नाम लिख कर उसकी बस विंडो के अंदर फेंक दिया और उसको स्माइल देकर वहाँ से चला गया.

सब देखती थी रोज़ तू जो रोज़ मुझे नंगी देख कर मुठ मारता था।भाभी के मुँह से ये शब्द सुन कर मैं दंग रह गया और ये शब्द सुन कर मैं भी जोश में आ गया।उसके बाद मैंने भाभी को चूमा उनकी नाइटी उतार दी, उन्होंने अंदर कुछ नहीं पहना था, भाभी मेरे सामने नंगी पड़ी हुई थी और बुलावा दे रही थी कि आजा मेरे राजा चोद दे आज तेरी इस रंडी भाभी को।मैं भाभी की चुची चूस रहा था, कभी एक चूसता तो एक मसल देता. राजस्थानी सेक्सी खुलम खुलाऔर मुझे नींद भी आ रही है।मैं बोला- ठीक है।फिर हम दोनों एक-दूसरे की बांहों में बाँहें डाल कर सो गए।अगली सुबह वो स्कूल ड्रेस पहन कर स्कूल जाने के लिए रेडी हो गई थी। उसने मुझे 6.

रास्ते में अंशुल ने मुझे कहा- तुम बहुत प्यारी हो और तुम्हें मैं सचिन सर के पास छोड़ के आने वाला हूँ.सेक्सी बीएफ जबरदस्त वाला: जल्दी ही स्नेहा भी कॉफ़ी ले के आ गई और मुझे एक कप पकड़ा दिया और मेरे सामने कुर्सी पर बैठ गई.

अम्मा के जाने के बाद माला ने ख़ुशी के मारे मेरा मुख चूम चूम कर गीला कर दिया और रात के खाने से पहले एक बार फिर अपना दूध पिलाया और मेरे साथ सम्भोग किया.एक झटके में संजय ने लौड़ा बाहर निकाल लिया और पूजा के मुँह पर हाथ रख दिया।संजय- पागल है क्या.

भाई ने बहन को चोदा हिंदी सेक्सी - सेक्सी बीएफ जबरदस्त वाला

जिसमें ये डिल्डो का राज भी तेरी समझ में आ जाएगा।फिर टीना ने एक और वीडियो दिखाया.वे अपनी पर आ गए। दे दनादन… दे दनादन… फच्च फच्च… पच्च पच्च… लंड गांड में घुसता.

नताशा मेरी इस प्रक्रिया से पागल हो उठी और मुंह से घू-घू की आवाज निकालते हुए स्वान के टोपे को अपने हलक में घुसेड़ कर चूसने लगी. सेक्सी बीएफ जबरदस्त वाला तभी जीजू ने कहा- रोमा, मेरे घर की चाबी दे दो!मैंने उनसे कहा- अरे जीजू, आप बाहर क्यों खड़े हो, अन्दर आइये, काफी थके हुए लग रहे हो आप… अन्दर आइये, मैं आपको चाय पिलाती हूँ.

तभी मैंने उसके चूतड़ों से सलवार नीचे को की और फिर उसकी टांगों के रास्ते बाहर कर दी.

सेक्सी बीएफ जबरदस्त वाला?

अब तक खून का बहना लगभग रुक सा गया था।फिर हम दोनों ने अपने अंदरूनी वस्त्र धारण कर लिये और साथ में चिपक कर लेटे रहे।हम दोनों को ऐसी ही हालत में कब नींद आ गई, पता ही नहीं चला. और फिर वो आंटी पता नहीं कहाँ चली गईं।करीब 2 महीने बाद वो लौट कर आईं. राजा तू बहुत सितम करता है।मेरी हंसी निकल गई।फिर उसने कहा- देख ना राजा.

एक समय ऐसा भी आया कि मुझे लगा कि मैं छूटने वाला हूँ, मैंने लंड को उसकी चूत से बाहर निकाला और उसके सीने पर इस प्रकार बैठ गया कि मेरा बोझ उसके ऊपर न पड़े और लंड को उसके मुंह के पास ले गया. इतना सब कुछ करने के बाद मैंने भी पिंकी को दोबारा पकड़ने की कोशिश नहीं की क्योंकि मेरा काम‌ अब तो बन ही गया था, और मैं जल्दबाजी में उसे बिगाड़ना नहीं चाहता था‌, इसलिये मैं भी कपड़े सुखाने के लिये भाभी‌ के पास चला गया।कहानी जारी रहेगी. नहीं फिर से तुझे इसे चूस के ठंडा करना होगा और अबकी बार ये जल्दी नहीं पानी छोड़ेगा समझी.

अब दोबारा भी मुझे उनका लंड दिख गया, जीजू का लंड देख कर तो मेरी चूत में जैसे आग लग गई. पर वो मुझे देख रही थी। वो चारपाई से खड़ी हुई और नीचे चली गई।फिर अगले दिन वो मेरे घर पर आई. इस कारण भाभी मुझे कुछ नहीं बोली बल्कि उन्होंने मेरे हाथ पर अपना हाथ रख लिया।थोड़ी देर बात और हिम्मत करके मैंने मेरा एक पैर भी उनके ऊपर रख दिया और जताया कि मैं बहुत गहरी नींद में हूँ।मेरा घुटना भाभी की चूत पर टच हो रहा था.

अभी शो शुरू होने में काफी वक्त था।तभी मेरी नजर एक लड़कियों के झुण्ड पर गई. इसी लिए वो तेरे साथ ऐसे बिहेव करते होंगे।सुमन- छी: दीदी आप भी कैसी बात करती हो.

फिर सचिन थोड़ा और ज़ोर लगाने लगे और साथ ही मेरे निप्पल को मुँह में चूस रहे थे.

उसकी आँखों में चमक भी आ गई कि रात को होने वाली चुदाई में कुछ खास होगा जिसके लिए खीर की ज़रूरत पड़ेगी.

क्या बात है मेरी गुड़िया तो आज बहुत प्यारी लग रही है।सुमन- थैंक्स पापा, आप भी स्मार्ट लग रहे हो… हा हा हा हा. मैं वहां छिप जाता हूँ।दीदी ने सुनील को फोन किया और वो घर में आ गया। दीदी उसको लेकर ऊपर वाले कमरे में चली गईं. मतलब ये कि तुम अपने भाई को कभी-कभी अपनी ब्रा की स्ट्रीप दिखाओ और जो हमारी स्कूल ड्रेस है.

थोड़ी देर बाद वो साथ देने लगी तो मुझको ज्यादा मजा आने लगा, मैं उनको गोदी में उठा कर, वहीं फोल्डिंग पड़ा था, उस पर लिटा दिया और दरवाज़ा बंद करके आकर ब्लाऊज खोल कर ब्रा ऊपर सरका कर उनके निप्पल को चूसने लगा था, बीच बीछ में उनके होंठों का रस पीने लगा. कहानी के पहले भागगई थी चुदाई की कहानी सुनने, लंड लेकर आ गईमें आपने पढ़ा कि कैसे मुझे अपने एक पाठक से कॉलेज गर्ल की चुदाई की कहानी हिंदी में सुनने के लिए मिली।अब उनकी कहानी उन्हीं के शब्दों में:मेरा नाम गुरमीत सिंह है, मैं मूलरूप से हिसार (हरियाणा) के पास ही एक गाँव का रहने वाला हूँ। मैं अपनी चुदाई की कहानी हिंदी में आपको बताने जा रहा हूँ. आंटी ये सब नोटिस कर रही थी मगर अपने कपड़े ठीक नहीं कर रही थी, मुझे ऐसा लगा जैसे आंटी मुझे सिड्यूस कर रही हैं.

और कान में धीरे से बोला- थोड़ी देर है।मैंने भी उसके पेंट के हुक खोले, बेल्ट खोला.

जब एक स्तन का सारा दूध समाप्त हो गया तब माला ने घूम कर दूसरे स्तन की चूचुक मेरे मुंह में दे दी और मेरे माथे को चूमने लगी. गर्मी ज़्यादा थी तो एकदम खड़ा हो गया, फिर मैं घूमा और लंड को दबा दिया, फिर टीवी देखने लगा, उस समय से भाभी भी सोच में पड़ गई कि शायद देवर जी को चूत की भूख है. नहीं तो तेरी ये इच्छा भी पूरी कर देता। अच्छा अभी मुझे थोड़ा आराम करने दो उसके बाद दोबारा तेरी चुदाई करनी है।मोना- ठीक है मेरे प्यारे गोपू.

तभी उनमें से एक ने मेरे बाल पकड़ लिए और मुंह को भींचते हुए बोला- साले गांडू, ज्यादा नाटक मत कर, चुपचाप से कपड़े उतार ले नहीं तो हम उतारते हैं!आज मुझे अपने गे होने पर बहुत दुख हो रहा था ‘क्या गे होना मेरी गलती है?’ अगर नहीं तो दुनिया चैन से जीने क्यों नहीं देती?क्या गे होने का मतलब सिर्फ सेक्स होता है… लौंडेबाजी करना होता है?इन सब सवालों का जवाब मैं आज तक नहीं ढूंढ पाया. स्नेहा की सेक्सी चुत फूली हुई कचौड़ी की तरह गुदगुदी और उभरी हुई सी थी, चूत के दोनों होंठ आपस में चिपके हुए थे और बीच की दरार में से रस सा रिस रहा था. अविनाश बाथरूम से आया।मैंने उससे कहा- देख अवी, अगर तू चाहे तो मुझे ऐसे ही छोड़ कर अपने घर जा सकता है.

मैं हो गई धर्म भ्रष्ट… बन गई राजे बाबू की रखैल… पर कितना आनन्द मिला इस बदचलनी में! राजे बाबू ने बहुत मज़ा दिया… तू बहुत बढ़िया चोदू है… जल्दी खलास भी नहीं होता… तेरे वीर्य का स्वाद कितना मदमस्त है… आज तो राजे तूने मुझे खुश कर दिया… कब से प्यासी मरी जा रही थी… मेरी बरसों की तपस्या आज सफल हुई.

जैसे ही वो गया, मैंने तुरन्त ही दरवाजा बन्द किया और जेसिका को तुरन्त किस करने लगा क्योंकि अब मुझे सब्र नहीं हो रहा था. अगले पाँच-सात मिनट के बाद मैं माला के ऊपर था और अपने लिंग को बहुत ही तीव्रता से उसकी योनि के अन्दर बाहर करता रहा.

सेक्सी बीएफ जबरदस्त वाला तब उसने स्लीवलेस टीशर्ट पहना था और ट्राउज़र्स!मैं भी हाफ पैंट और टीशर्ट में था. कुछ ही पलों में मेरा पूरा लंड उसने अपने मुँह में ले लिया और मैं उसके हलक को अपने लंड के टोपे पर महसूस कर सकता था.

सेक्सी बीएफ जबरदस्त वाला दिखा?मैंने कहा- वो मेरा प्राइवेट पार्ट है।वो बोलीं- मुझे भी दिखा ना तेरा प्राइवेट पार्ट कैसा है. जब मैं दफ्तर में नई थी, मेरे साथ तहसीलदार दीपक और चंदन थे। हम तीनों एक ही दफ्तर में काम करते थे।ये दोनों अफसर अच्छे थे.

और मुझे भी नहीं मालूम था कि मेरे मम्मे से दूध कैसे निकलेगा, वो तो कुछ दिन बाद पता चला कि मम्मे से दूध नहीं निकाला जाता वो तो लड़की को भड़काने के लिये पिया जाता है और मेरे बदन में आग भड़क चुकी थी, मैंने साहिल को धकेला और उसके ऊपर चढ़ गई और उसके निप्पल को चूसने लगी.

हिंदी फिल्म सेक्सी वीडियो

मीना- वो तुझे क्यों बताएगा भला?मोना- चुत के बदले में तो बता ही देगा ना. चूत के दाने के नीचे कुछ गहराई सी थी जिसमें से उसका चिपका हुआ छेद दिख रहा था जिसमें लंड घुसाते हैं. मैंने उसकी पीठ को गर्दन से लेकर उसकी गांड तक दांतों से हल्का हल्का काट कर चूमा और चूसा जिससे रजनी की जवानी मचल उठी.

इन तीनों से चुदाई करवाती हैं। ज़्यादातर गाँव का वो भगत ही मेरी माँ की चुदाई करता है। मुझे थोड़ा शक हुआ तो मैंने थोड़ा माँ पर नजर रखी. रयान बोला- मैं तुम्हारे लिए कॉफ़ी बनता हूँ…उसने दो कप कॉफ़ी बनाई और लेकर अपने बेड रूम में आ गया. माँ ज़ोर से चीख पड़ी ‘आआईयईई… निकाल इसे… बहुत बड़ा है’‘क्यों कैसी रही, मजा आया साली रांड?’ और लंड बाहर निकाल लिया.

मैंने कहा- भाभी थोड़ा मुझे भी दो!जैसे ही भाभी जूस ग्लास में डालने लगी तो जूस एकदम से उनके हाथ से फिसल गया और उनके बदन पर गिर गया.

लेकिन फिल्म देखने का तो एक बहाना था। वहां जाकर हम दोनों थिएटर में घुस गए और फिल्म शुरू हो गई। यहां पहले तो हम बातें कर रहे थे. जिस दिन चिंटू का बर्थडे था वो दिन भी सन्डे का था, हमने चिंटू को फोन किया और उससे पूछा कि हम दोनों उन्हें बर्थडे विश करना चाहती हैं हमें कहाँ मिलोगे?तो चिंटू ने कहा- आप दोनों कहीं मत जाइये, हम दोनों ही आपके घर आते हैं. कुछ देर बाद वो लड़की भी चली गई, मैं और चिंटू दोनों यही सोचते रहे कि उसे हमारे बारे में पता कैसे चला?जब रात में मैं घर पहुंचा तो मैंने तुरन्त मेरी ईमेल चेक की, उसमें उस लड़की का फिर से मैसेज था, मैंने उससे पूछा कि उसे हमारे बारे में कैसे पता चला तो उसने बताने से साफ मना कर दिया.

पर हम दोनों की गांड अभी तक कुंवारी थी, और उंगली से चोदने पर ही दर्द होने लगता था. सो डोन्ट डिस्टर्ब अस।सेक्रेटरी ‘हाँ’ कह कर वहाँ से चला गया।अब दिनेश मेरे पास आए और कहा- तुम्हारे एक्टिंग में दम तो है. तभी सुनीता जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगी, मैंने अंदाजा लगा लिया कि अब सुनीता झड़ने के बहुत करीब है तो मैंने भी अपने लंड की स्पीड बढ़ा दी, मैं कह रहा था ‘उई आह आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… सी सी चुद चुद हुड साली सुनीता चुद जा, अह आह उई उई!अब सुनीता ने जोर से चीख निकाली और मुझे कस कर पकड़लिया और मेरे लंड पे मुझे गीला गीला उसकी चूत से कुछ बहता हुआ महसूस हुआ.

मुझे कई बार अपनी दुकान को बंद करके उपकरण और इत्यादि पुर्जो के लिए शहर जाना पड़ता था, इस वजह से मेरा व्यापर में काफी नुकसान हो रहा था. मजे करेंगे और क्या!मैंने बोला- ठीक है, चलो करते हैं।अंकल मुझे अपने बेडरूम में लेकर गए। वे मेरे गालों पर किस करने लगे और एक हाथ से मेरे लंड को दबाने लगे। मैंने भी उनका लंड पकड़ लिया, उनका लंड भी मस्त था। इस उम्र में भी एकदम टाइट था। मुझे विश्वास नहीं हो रहा था। फिर उन्होंने धीरे-धीरे मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मुझे बेड पर लेटा दिया। अब वो मेरे पूरे शरीर पर किस करने लगे.

लेकिन तेरे में है क्या है जो लोग तुझे गर्लफ्रेंड बनाने की बात करते हैं?मैं- अब वो तो लोगों को ही पूछना पड़ेगा!और मैंने एक शरारती सी स्माइल दी।मैंने देखा रमीज़ बड़े गौर से बातें सुने जा रहा था और मज़े लिए जा रहा था। मैं मुस्कुराया और पूछा- रमीज़, तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है या तुम भी बड़े भैया जैसे हो?रमीज़ अभी कुछ बोलता. उसकी चूत के छेद और नीचे गांड के छेद में मुश्किल से दो अंगुल का फासला रहा होगा. अब मैं उनसे नाटक करने लगा- क्या मैडम आप भी सपनों से डरती हो?अब वो कुछ नहीं बोली.

उसके दोनों संतरे आजाद होने को तड़प रहे थे तो मैंने बिना देर किये उसकी ब्रा के हुक खोले और दोनों कबूतर आजाद किये.

अब मोहन ने पत्ते बांटे और मैं हारा तो कोमल की पैंटी उसने मुझ से दांतों से उतरवाई।मैंने पहले जीभ से पैंटी के ऊपर से कोमल की रसीली चूत चाटी और फिर पैन्टी मुँह से उतारी।अब कोमल की बारी थी तो अब भी मैं हारा तो कोमल ने मुझे अपनी चूत और चुची चुसवाई ऐसे धीरे धीरे चुसाई शुरू हो गई। जैसे जैसे चुसाई बढ़ रही थी, कमाई भी बढ़ती जा रही थी. मैं उत्तेजनावश अपने कदम गद्दे पर जमा कर, ऊपर-नीचे गांड की चुदाई करने लगा. मेरी तो आदत ही है क्योंकि काम मेरा फेवरेट हे और मैं जॉब नहीं करता हूँ.

मैं बर्थ छोड़ दूंगा।मैंने जानकारी कि तो मालूम हुआ कि मिड्ल वाली बर्थ उसकी थी।फिर मैंने खिड़की बंद कर दी और बैठ गई। एक घंटे बाद मैंने डिनर कर लिया. काश मालिश के बहाने कुछ और भी हो जाए और मेरे लंड कोभाभी की चुतको चोदने का मौका मिल जाए.

अगले दिन फीस भरने का आख़िरी दिन था, मैंने 1 लाख 30 हज़ार फीस भर दी और बाक़ी पैसे अपने अकाउंट में डलवा दिए. ये सब देख कर मैं भी गर्म हो चुकी थी और अपनी चूत में वहीं पेड़ के सहारे सहलाने लगी. मैं हौले-हौले मारूँगा और वैसे ये खुली हुई तो है ही, तो ज़्यादा दर्द नहीं होगा तुझे।मोना- नहीं काका खुली हुई नहीं है, शादी के दस दिन बाद गोपाल ने एक बार मारी थी.

सेक्सी वीडियो एचडी क्लिप

उतनी खूबसूरती फोटो दिखा ही नहीं सकती है।उसका फिगर 34-28-36 का बड़ा ही मदमस्त था, हाइट 5’6″.

‘अच्छा तो फिर यह बताओ कि वो सब करते हुए तुम्हें कैसा लगा?’मेरी बात सुनके वो चुप रह गई, अब भी कुछ न बोली. कुछ क्षणों के बाद मुझे एहसास हुआ कि माला ने एक हाथ से वह स्तन पकड़ रखा था जिस में से मैं दूध पी रहा था लेकिन उसका दूसरा हाथ मेरे लोअर के ऊपर से मेरे लिंग को सहला रहा था. मेरे ऑफिस से घर आते ही अम्मा ने जब मुझे चाय के साथ खाने के लिए मिठाई दी तब मैंने पूछा- अम्मा, मैं तो कभी मिठाई लाया नहीं तो फिर यह मिठाई कहाँ से आई?अम्मा मेरे पास आकर बोली- मेरा दूसरा पोता हुआ है इसलिए आपका मुंह मीठा कराने के लिए मिठाई मैं लेकर आई हूँ.

तभी सुजाता बोली- मेरे हगने का और कंडोम का क्या संबंध?मैंने उसको बोला- रुको ना यार… तुम देखती जाओ…और दोनों टायलेट के ऊपर जाकर खड़े हो गये। उसको कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था… बोली- साहब क्या कर रहो हो?मैंने उसको बोला- अभी झुको…और मैं लंड उसकी गांड में डालने लगा. इतनी देर में हम दोनों स्खलित हो जाते पर हम दोनों का यह दूसरा राऊंड था इसलिए स्खलन नहीं हो रहा था. चिनिस सेक्सीमैंने भी झट से अपना नंबर ओर नाम लिख कर उसकी बस विंडो के अंदर फेंक दिया और उसको स्माइल देकर वहाँ से चला गया.

अंकल से पता लगा कि उनकी मम्मी गुजर चुकी हैं और उनकी बहन अमरीका में है, उनके पापा रिटायर हो चुके हैं. फिर अंश मुझे किस करने लगा, थोड़ी देर के बाद मेरा दर्द कम हुआ तो उसने पूरा दम लगाकर एक और धक्का मारा उसका लन्ड मेरी बुर को फाड़ते हुए अन्दर तक घुस गया.

माँ से इतना आनन्द और दर्द सहन नहीं हो रहा था, वो आहें भर रही थी- ऊऊऊह्ह्ह… आआह्ह… अब मजा आ रहा है, और चोद… ज़ोर से चोद… फ़ाड दे इस हसीन चूत को… अपनी माँ की मस्त चूत की कसम, तुमने मुझे मस्त कर दिया हइइई… क्या मजा आया, आज तक नहीं आया ऊऊउउइई… तुम दोनों ने तो मुझे ज़न्नत में पहुंचा दिया. उसको देख कर उसको मज़ा आ रहा था। उसने पूरे 20 मिनट तक मूवी में सब कुछ देखा।थोड़ी देर बाद मैंने फोन माँगा कि अब तो गेम खेल लिया होगा. मैंने पूछा- कितनी दूर है अभी रवि का गांव?तो वो बोला- बस दस मिनट में पहुंच जाएंगे, तू अपना काम करता रह!रात का अंधेरा घिर आया था और रोड पर वाहनों की लाइटें जलनें लगी थीं, मेरा मन थोड़ा घबरा रहा था लेकिन सोचा कि दस मिनट की ही तो बात है, एक बार रवि के पास पहुंच जाऊँ, फिर सब ठीक हो जाएगा.

पर मैं भी क्या कर सकती थी, नई-नई शादी हुई थी, मौका भी तो चाहिए था ना।मैंने चान्स लिया और हज़्बेंड से बोला- बाहर क्यों पार्टी रखते हैं, अपने फ्रेंड्स को एक दिन यहीं बुला लो, सब मिल कर रात को पार्टी करेंगे।मेरे हज़्बेंड ने मुझे घूरा, फिर स्माइल करके बाहर चले गए।थोड़ी देर में आकर बोले- चल तेरी इच्छा पूरी कर दी, नहीं जा रहा बाहर. ’‘सॉरी यार गलती हो गई!’ मैंने नंगी हो चुकी अमिता को खींच कर मुदस्सर की तरफ कर दिया. अगले दिन मैं सुबह जल्दी पहुँच गया इंस्टिट्यूट… वहाँ पर सर की वाइफ अकेली ही बैठी थी जैसे मैंने सोचा था.

वो मुस्कुराई।मैंने उसके गाल पर किस किया और उसने मेरे गाल पर किस किया।बस मुझे इशारा मिल चुका था.

मैंने अपनी पत्नी को किस करते हुए कहा- अरे वाह, रजनी को रात को हमारे ही रूम में सुला लो. गर्मी ज़्यादा थी तो एकदम खड़ा हो गया, फिर मैं घूमा और लंड को दबा दिया, फिर टीवी देखने लगा, उस समय से भाभी भी सोच में पड़ गई कि शायद देवर जी को चूत की भूख है.

एक दिन मैंने बोल ही दिया कि ऐसे तो हमारी बात कभी आगे नहीं बढ़ेगी, तो उसने हार कर मुझसे पूछ ही लिया कि क्या मुझसे प्यार करते हो?बस मुझे और क्या चाहिए था. मैंने सुल्लू रानी के केश जकड़ लिए और भींच के साली का मुंह अपने लौड़े की जड़ तक सटा दिया. कई सालों से चुदाई न होने की वजह से मामी की चूत बहुत टाइट थी, उनके मुँह से निकली चीख को अपने होंठों में दबा दिया मैंने और कुछ सेकंड रूककर दोबारा जोर से तीन चार झटके एक साथ मार कर पूरा लंड उनकी चूत में उतार दिया.

मैंने भी दिल में ये सोच लिया कि जो होगा देखा जाएगा… आज मज़ा ले लिया जाए!मैंने जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार दिए. वो पीछे से मेरी जांघों और गांड के कूल्हों पे अपना गर्म लंड घिस रहे थे. और साथ ही उसके होंठों पर किस कर दिया।वो अब भी पॉर्न मूवी देख रही थी। फिर मैंने उसकी पेंटी में हाथ डालना स्टार्ट किया तो उसने पेट को अन्दर कर लिया ताकि मेरा हाथ आसानी से अन्दर जा सके। मैंने उसकी चुत पर हाथ फेरा और अपनी उंगली चुत में डालकर उसको उंगली से ही चोदने लगा।करीब 15-20 मिनट यही खेल चलता रहा.

सेक्सी बीएफ जबरदस्त वाला चाची की चुदाई की यह हिंदी सेक्स स्टोरी मेरी ज़िंदगी की सच्ची घटना है. ?? वैसे ठंड के दिनों में धूप अच्छी ही लगती है पर आपको सोना हो और धूप सीधे आपके चेहरे पर पड़े तब ठंड की धूप भी नहीं सुहाती।फिर मैंने आंखें मलते हुए नजर दौड़ाई.

नया सेक्सी हिंदी में

अब तक की इस चुत लंड की कहानी में आपने पढ़ा था कि सुमन अब मॉंटी के लंड को ठीक करने के बहाने से देखने लगी थी. तो मां ने कहा- ठीक है, अगर तेरा मन नहीं लग रहा है तो हम आज ही शाम को वापस घर चल पड़ेंगे. गीली चूत में मेरा लंड ऐसे घुसा जैसे ताजे माखन में चम्मच…दस मिनट तक चची को चोदा और मैं चची की चूत के अंदर ही झड़ गया.

मैंने भी अब उसकी योनि की छोटी छोटी फांकों को उंगलियों से हल्का सा फैला दिया और बीच की एक उंगली से योनि की‌ फांकों के बीच, योनि की दरार में सहालाना शुरू कर दिया. माँ बहुत जोर से चिल्लाने लगीं और अपनी गांड को हिलाने लगीं, जिससे राहुल का लंड कुछ बाहर को आ गया।फ़िर राहुल ने पीछे से दोनों हाथों से माँ को पेट के ऊपर से पकड़ लिया और लंड को वापस घुसेड़ कर एक जोरदार झटका लगाया।माँ फिर से बहुत जोर से चिल्ला पड़ीं- आहइ. सेक्सी फिल्म इंडियन हिंदीमैंने मस्ती में उसकी चुची पर काट दिया, वो चीखी- अहह्ह्ह्ह कुत्ते… काट मत!मैंने कहा- सॉरी चाची!और चाची के पैर फैला दिए.

कभी मम्मों को चाटता।फिर मैं अपने हाथ को उसकी पेंटी के अन्दर ले गया। उसकी चुत बहुत गीली हो चुकी थी जैसे कि मेरा लंड गीला था। मैं उसकी चुत को रगड़ने लगा।दुशाली- अया पंकज.

तो बोली- निकालो मैं झड़ने वाली हूँ और मैं चाहती हूँ कि तुम मेरे रस का मजा लो, तुमने इसे भी मूवी में तो देखा ही होगा. ससुर बहू की चुदाई पर आप अपने मेल भेजें![emailprotected]कहानी जारी है।.

मैंने उसका जितनी हो सके उतनी धीरे और सावधानी से घर्षण करना शुरू किया. मेरे से पट जाएगी कि नहीं? मैं अपना लंड सहलाता रहा मेरा ले पाएगी या चिल्लाएगी?ऐसी ही बातें सोचते हुए मैं सो गया. हरामज़ादी ने पहले तो अपने पति को किसी दूसरी लड़की को चोदने के लिए उकसाया, फिर उसके दिल में ख्वाहिश जगाई कि वो भी मोना को ग़ैर मर्द से चुदवाते हुए देखे.

चल अब तू जल्दी तो उठ ही गई है तो मॉंटी के साथ तू भी नाश्ता कर ले फिर तेरी फ्रेंड आ जाएगी।टीना ने हामी की.

हम दोनों एक-दूसरे का मजा रस चाट लेते तो अच्छा होता।संजय- कोई बात नहीं जान. अब इसके दूध के दर्शन करवा!मैंने दिल में सोचा ‘कितना ड्रामा करेगा यह मादरचोद…’ मेरे बदन के एक एक इंच को हरामज़ादे ने हज़ारों बार देखा है चाटा है चूसा है. उसको जब उसकी गर्दन पे रगड़ पड़ती है तब बड़ा मजा आता है और उसकी चुदास और बढ़ती है.

सेक्सी हिंदी एचडी सेक्सी हिंदीजब जब मैं उसको बाहर बालकनी से झांक कर राजे से चुदते हुए देखती थी, मेरा कलेजा फटने को हो जाता था. मगर जब गाढ़ा सफेद रस आया तो उससे मुझे घिन सी आ गई।टीना- अरे शुरू में अजीब लगता है मगर बाद में उसे चाटने के लिए दिल बेताब हो जाता है.

देहाती सेक्सी वीडियो दिखाइए

मैंने भी दिल में ये सोच लिया कि जो होगा देखा जाएगा… आज मज़ा ले लिया जाए!मैंने जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार दिए. उसका मुंह पैरों पर, लंड चूत में और हाथ चूचों पर… ज़बरदस्त तालमेल से मेरी चुदाई हो रही थी जबकि जूसी लगी पड़ी थी वाइब्रेटर के नक़ली लौड़े के साथ. अब मैंने अपनी मैडम के दोनों पैरों को पूरा फैलाकर चोदा और कुछ देर बाद मैडम मेरे ऊपर बैठकर मुझे चोद रही थी.

मोहल्ले का ही होने के नाते वो मुझे पहचान कर ‘नमस्ते अंकल जी’ कहती और उसके मोतियों से दांत और हंसती हुई आँखें खिल उठतीं. com/chudai-kahani/dosti-lund-ki-pyasi-roshni-1/लंड की प्यासी थी वो पूरे लंड को ऊपर-नीचे करके चूस रही थी. और चोदे तो भी मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है।मैं बिमलेश से क्या बात करता हूँ यदि आपको वो बात पता होंगी तो आपको कोई धोखा भी नहीं होगा। और आप उन बातों को सुनकर बिमलेश को कैसे समझाना है सोच सकोगे। इसलिए जब बिमलेश घर पर अकेली होगी, तुम मुझे बताओगे जिससे बिमलेश को कोई डर न हो और वो खुल के बात कर सके.

मुझे डिस्टर्ब नहीं करना।कुछ देर तो उसने गेम खेला और फिर फोन की गैलरी सर्च करने लगी। जब उसने वीडियो फाइल देखी तो ओपन किया तो किसिंग सीन्स स्टार्ट हो गए। वो बड़े मज़े से देख रही थी। मैं भी सब देख रहा था।फिर उसने नेक्स्ट क्लिक की तो पॉर्न स्टार्ट हो गया. अब तू बता कि जब मेरे दोस्त का लंड जब तेरे अन्दर गया तो तेरी चूत में अन्दर तक मजा आया या नहीं?’वह कुछ नहीं बोली।‘मुदस्सर इधर आ… जीन्स निकाल अपनी!’‘अरे यार जाने दो न… गलती हो गई… बोला न, नशे में थे हम दोनों! अमिता भाभी ऐसी नहीं हैं!’‘ठीक है तो अब गलती दोबारा मेरे सामने करो. ’ बोले जा रही थी। मैं भी देर ना करते हुए लंड पर कंडोम लगाने लगा, लेकिन उसने कंडोम लगाने से मना कर दिया। मैंने भी उसकी बात मान ली और शावर ऑन कर दिया। हम दोनों के गीले जिस्म एक-दूसरे से रगड़ रहे थे। मैंने उसकी टांगों को कंधों पर रखकर लंड चिकनी चुत पर रगड़ने लगा। वो पागल हुए जा रही थी और लंड पर दबाव डाल रही थी।‘आह आह जानू लंड डाल कर फाड़ दो ना चुत.

हम दोनों अब एक दूसरे के बिल्कुल समीप थे, दोनों एक दूजे की आँखों में खोये हुए थे कि इतने में कब उसने मेरे होंठों को अपने लबों में ले लिया, पता ही नहीं चला यारो!मेरे अन्दर भी सेक्स की अधूरी कामनायें पूरी तरह से जाग चुकी थी और वो भी आज मुझे पूरी तरह से भोगने के लिए तैयार था. यह कहानी है मेरी पत्नी की सहेली रजनी की… रजनी को मैं अपनी शादी होने के बाद से ही जानता हूँ क्योंकि वो अक्सर मेरी पत्नी को मिलने आती रहती है.

झांटें छोटी छोटी हों जिनमें से चूत के लिप्स की स्किन भी दिखती रहे, ज्यादा घनी नहीं!नेट पर पोर्न देखने के मामले में भी मैं काली झांटों वाली लड़की ज्यादा प्रेफर करता हूँ.

यश ने अब मम्मी को वहीं नीचे खेत में लिटा दिया और दोनों टाँगें खड़ी करके मेरी माँ चोदने लगा. ब्लू सेक्सी फिल्म हिंदी वीडियो मेंतो उन्होंने बताया कि 34-28-34 का साइज़ है।मैंने पूछा- आपके चूचे तो इतने बड़े नहीं दिखते?तो सोनू भाभी ने कहा- मैं टाइट ब्रा पहनती हूँ न।इस तरह हमारी बातें कामुक होती चली गईं। मैंने उनसे सेक्स करने के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि शौहर से बिना मन के सेक्स साथ करती हूँ. चोरों की सेक्सी मूवीसाला लंड भी इसका गुलाम है, देखो मादरचोद सुबह-सुबह कैसे झटके खा रहा है?संजय थोड़ी देर बड़बड़ाता रहा. निकी तो बहुत ज्यादा गर्म थी, मैंने उसकी शर्ट खोल कर उतार दी और ब्रा भी उतार दी.

उनकी चुत का स्वाद बड़ा नमकीन था।चुत चाटते हुए धीरे से मैंने अपने हाथ उनके दोनों मम्मों पर रख दिए। भाभी की कामुकता भरी सिसकारियों से कमरे में मादक माहौल छा गया- उ ऊऊ हाहा.

वे एक सीनियर वकील साहब के अन्डर में प्रेक्टिस करते थे।सुबह का समय था. मैंने झट से भाभी की पेंटी को अपने दांतों से खींच कर निकाल ली। भाभी ने शर्मा कर पलटी मारी। उन्होंने जैसे ही पलटी मारी. अब वो बिल्कुल नंगी थी, मैं उसको किस कर रहा था कभी बूब्स पर, कभी कमर, पर कभी टांगों पर…वो बहुत ज्यादा चिकनी थी।किस करते हुए मैंने उसकी टांगें खोली तो देखा ‘बिल्कुल साफ़ चूत…’मैं देखते ही चूसने लगा उसकी चूत और उसके दाने को…वो बहुत गर्म हो गई थी सिसकारियाँ भर रही थी, उसकी चूत गीली हो गई थी।अब वो खड़ी हुई, मेरा लंड निकाल के रगड़ने लग गई और घुटनों पर बैठ कर के झुक के लंड को चूसने लग गई.

मेरा नाम अरहान है, मैं 22 साल का हूँ, मेरा कद 6′ है, पुणे से अपनी पढ़ाई पूरी करके मैं अभी मुंबई में जॉब कर रहा हूँ. इस सेक्सी कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि पड़ोसी राजू ने मोना को उसके चचिया ससुर का लंड चूसते देख लिया था. फिर हम दोनों चोदने लगे, लंड फच फच की आवाज के साथ अंदर बाहर हो रहा था अब कुछ देर चोद लिया तो माँ का दर्द मजे में बदल गया.

सेक्सी वीडियो सेक्सी वीडियो देहाती

राजे के लंड पर बैठी जूसी के दोनों पांव फर्श पर यूँ टिके हुए थे जैसे बाइक पर बैठ के पांव ज़मीन पर टिका के बैलेंस बढ़िया हो जाता है. अचानक साहिल रूक गये और मेरे दोनों पैरों को पकड़कर अपने कंधे से टिका दिया और मेरे घुटने के ऊपर के हिस्से को अपने दोनों हाथों के बीच दबाकर एक बार फिर वो धक्का लगाने लगे, समय के साथ-साथ उनके धक्के तेज होने लगे, एक बार फिर मुझे लगा कि मेरे अन्दर से कुछ छूट गया और मेरा जिस्म ढीला पड़ गया. ! बीच सड़क पर तुम्हें पहचान कर क्या ये बताती कि तुम हमें अंतर्वासना की साइट पर मिले थे? मैंने तुम्हें पहले ही मना किया है कि कुछ मत पूछना.

मैं उन्हें चोदने की सोचता था पर घर का पता लगा कर कैसे उन्हें पटा कर चोदूँ, कुछ समझ नहीं आ रहा था.

निष्ठा को उसने फोन कर दिया था, रात को 10 बजे वो घर पहुँच कर सबके साथ डिनर करके, गप्पबाजी करके वो अपने रूम में पहुँचा.

फिर मैंने चूत में उंगली डाली तो उसने अपनी गांड ऊपर उठा ली, फिर मैं धीरे अपनी उंगली धीरे धीरे अंदर बाहर करता रहा. जल्दी से लंड पेल दो।कुछ देर के बाद मैंने अचानक से एक धक्का मारा, उनके मुँह से एक हल्की चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ भाभी बोलीं- आराम से डालो. हिंदी मराठी ओपन सेक्सी व्हिडिओअग्रवाल साहब पूजा का सिर पकड़ कर अपने लंड पर दबाने लगे और बोले- ले चूस ले अपने भाई का लंड… उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकाल दे इसका सारा माल अपने मुँह में!पूजा ने उनका लंड 8-10 मिनट तक चूसा और उनका पानी निकाल दिया, सारा माल खुद पी गई.

उसका जिस्म बिल्कुल चमक रहा था और उसने हल्का सा गहरे गले का टॉप और नीचे छोटी सी स्कर्ट पहन रखी थी, जो मुश्किल से उसकी चूत को ढक पा रही थी. जिससे उनको बहुत मज़ा आ रहा था। वो लेटे-लेटे ही अपनी गांड को उछालने लगीं। जैसे कि उन्हें इससे चुत पर गुदगुदी हो रही हो।यह सेक्सी आंटी की चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वो वासना से तड़पने लगीं और बोलीं- बस अंकित अब इसे चुत में डाल दे बेटा. हम एक दूसरे को छोड़ ही नहीं रहे थे, तभी उसने अपना हाथ मेरी टी शर्ट के अंदर किया और अपने मुलायम हाथों से मेरी कमर को सहलाते हुए मेरी टीशर्ट उतार फेंकी.

उतना टाईम देने की कोशिश करते हैं और मेरे से ज्यादा वो खुद भी दुःखी रहते हैं। वो हमेशा मेरे ही बारे में सोचते हैं। हर रोज उनके दिन में कम से कम 30 कॉल आते हैं, जब भी वापस आते हैं. चल एक बार और तेरी मस्त ठुकाई कर देता हूँ, फिर मैं भी सो जाऊंगा।ऐसे ही बड़बड़ाते हुए काका मोना के पास गए और अपने लंड को मोना के होंठों पर फिराने लगे।मोना नींद में थी.

बिमलेश- हेलो कौन ?’राजेश- बिमलेश जी, आपसे हाथ जोड़कर विनती है, फोन मत काटना प्लीज, मेरी बात सुन लो कम से कम… 2 मिनट दे दो फिर चाहे काट लेना!बिमलेश- आपको समझ नहीं आती क्या? मैं शादीशुदा औरत हूँ मेरे दो बच्चे हैं.

थोड़ी थोड़ी देर उसने एक एक करके दोनों चूचियाँ चूस लीं और जूसी को कहा कि उसे स्वाद पसंद आया. मैं समझ गया कि आज कुछ तो सेक्सी होने वाला है, पर सब लोग नीचे थे तो हम जल्दी वापिस आना पड़ेगा. जब साँस लेना कठिन हो गया तब जाकर हम दोनों अलग हुए।मेरे लंड का बुरा हाल हो गया था.

हिंदी मूवी सेक्सी xxx !’मैंने भी लंड चुत पर रखकर धक्का मार दिया।फ़च करता हुए मेरा लंड उसकी सील तोड़ता अन्दर चला गया।‘आह मर गई. !दोस्तो फिर हम कोने में जाकर चूमने और बोबे दबाने का कार्यक्रम करते रहे लेकिन चुदाई नहीं की।वहाँ ऊटी में बहुत अच्छी वादियां.

महारानी अंजलि जी का हुक्म है कि रीना की चुदाई पहले होनी चाहिए तो महारानी साहिबा के गुलाम राजे ने उनके आदेश का पालन करते हुए उसे ही मुझसे पहले चोदा. यार, पूछो मत… क्या लगा रही थी उसकी चूत एक हफ्ते पहले शेव की गई झांटें, उसकी गोरी और गुलाबी चूत पर चार चाँद लगा रही थी।मैंने उसकी चूत को सूँघा, मदहोश करने वालीचूत की खुशबू… मैं अपने आप को रोक ना सका और उसके एक बार हल्के से चाटा वो एक हिल गई।मैंने अपने जीभ घुसा दी और लग गया चाटने में… स्वाद थोड़ा अजीब था पर जोश में कहाँ पता चलता है. यहाँ शहर में कौन किस को जानता है, जिसकी फ्री चुदाई मिलती है, मार! बहनचोद एक से एक चुदक्कड़ रहती हैं इस सोसाईटी में… कम से कम 20 औरतों को तो मैं जानता हूँ जो अपने पति के अलावा और मर्दों से चुदवाती हैं.

मराठी सेक्स व्हिडिओ पिक्चर

मैंने कहा- मेरा निकलने वाला है!उसने कहा- मुझे पिला दो!मैंने पूरा पानी उसको पिलाया, उसने मेरा लंड चाट चाट के साफ़ कर दिया और लेट गई।हम बातें करने लगे. सुबह जब गीता गई, तो मुझसे कह कर गई- इसको तैयार रखना, मैं तुझे और भी बहुत सी चुदासी औरतों की दिलवाऊँगी, पर बस मुझे मत भूलना. मेरी तो आँखें ही निकल आई थीं।वो लगातार मेरे मुँह को चोदे जा रहा था। लगभग पाँच मिनट तक मुँह चोदने के बाद उसने मेरे मुँह में ही अपना सारा वीर्य निकाल दिया।मैंने उसका पूरा रस पी लिया।अब उसने मेरी सलवार भी खोल दी। मैं अब बस ब्रा और पेंटी में थी।फिर वो मेरी जांघों को चूमने लगा.

अगर यकीन नहीं तो इस बार कोई मिले तो तू उसकी तरफ देखकर मुस्कुरा देना. अब मैंने कोमल के थिरकते उरोजों को चूमना शुरू किया और बदन पर जीभ फिराने लगी, ऐसा करते हुए मैं नीचे की ओर बढ़ी और पेट की नाभि के चारों ओर जीभ घुमाने लगी, अंदर की ओर दबा खूबसूरत पेट और उस पर कयामत की सुंदरता लिये नाभि का थिरकना, मुझे रोमांचित कर गया.

उसकी चूत गीली थी तो बिना किसी परेशानी के उसकी चूत में लंड घुसता चला गया.

‘गुड़िया बेटा, कितनी टाइट कसी हुई चूत है तेरी!’ मैं ऐसे सोचता हुआ मन ही मन स्नेहा को चूमते हुए अपनी बीवी को चोदता और मेरी बीवी मेरी चुदाई से निहाल तृप्त हो उठती और मुझे चूम चूम के मुझ पे न्यौछावर हो जाती. जब उन्होंने मेरा लंड अपने मुँह में लिया, तब जो गरमाहट और उनके होठों की कोमलता और जब उनकी जीभ जब मेरे लंड पर लग रही थी. मैंने उनकी बात समझ कर भी जान बूझ कर अनजान बन कर पूछा- क्या मतलब?काका बोले- सब्र कर, लग जाएगा सब पता.

आपको अपनी पिछली कहानी के बारे मैं बता दूँ ताकि जिन्होंने नहीं पढ़ी, उनको पता चले।हम गांव से बाहर नया घर बना रहे थे तो वहीं नये घर के पास एक देसी भाभी पट गई तो मैंने उसे रात भर चोदा।अब उसके बाद अब हमने पुराने घर से सामान लाकर वहीं नये घर के पास एक खाली घर में रख लिया था और हम घर बनने तक उस घर में रहने लगे।अब मैं मौका देखकर भाभी के घर जाता और उसे चोदता कभी उससे लंड चुसवाता. मेरे शरीर में जैसे करंट लग रहा था, मैं तो मस्त होती जा रही थी!फिर वरुण ने अपना लंड निकाल कर मेरे हाथ मे पकड़ा दिया. उम्म्ह… अहह… हय… याह… तभी उसका लण्ड दूसरे जोरदार धक्के के साथ मेरी गांड को भेदता हुआ पूरा अंदर घुस गया.

हमसे नाराज हो क्या?मैंने चुप्पी साध रखी थी।फिर वो बोली- इसमें मेरी क्या गलती कि हमारी सुहागरात ना हो पाई थी.

सेक्सी बीएफ जबरदस्त वाला: फाड़ दो मेरी चूत!मेरे लंड से दुगने लम्बे और मोटे लंड को अपनी चूत में लेकर नताशा सातवें असमान के घोड़े पर सवार हुई सरपट दौड़े जा रही थी. उसमें से एकदम आर-पार दिखता था। वो गाउन मैंने ब्रा-पैंटी के ऊपर पहन लिया.

वो इतनी महान देवी है कि शायद तुझे माफ़ कर दे!’ मेरे मन में अपनी पत्नी के प्रति सच्ची श्रद्धा उमड़ पड़ रही थी. अंजलि की दर्द भरी सिसकारी निकली- आह उम्म्ह… आहह… हई… याह… अह हहा हहह! उफ्फ उफ्फ!उसने दोनों हाथों से बेडशीट पकड़ रखी थी, आंखें बंद थी… और सर को इधर उधर करके दर्द को बर्दाश्त करने की कोशिश कर रही थी. बोलो तो आ कर किस दे दूँ।उन्होंने कहा- आ सकते हो?मैंने कहा- इसके लिए मैं कहीं भी जा सकता हूँ.

वो बोली- नहीं ब्रदर… मेरी चूत वैसे भी सूज गई है… अब नहीं झेल पाऊंगी.

कभी-कभी बच्चों की तरह बात करते हो, पर मुझे ये तुम्हारी आदत पसंद है।ये कहकर वे मुझे किस करने लगीं. काका चुत चाटने में माहिर खिलाड़ी थे। एक मिनट भी नहीं लगा और राधा का बाँध टूट गया, उसकी चुत का सारा रस काका चाट गए। अंत में थोड़ा सा रस जीभ पर लेकर वो मोना को देखने लगे। मोना भी तुरंत समझ गई और फ़ौरन वो काका के पास आई और उनकी जीभ को चूस कर सारा रस गटक गई।काका- क्यों मोना रानी. वो ब्लैक पुशअप वाली ब्रा पहने हुई थी। उसकी ब्रा खोलने पर उसके गुलाबी निप्पल दिखे.