बीएफ गंदी गंदी

छवि स्रोत,चूहे का भोजन

तस्वीर का शीर्षक ,

मामी की चूदाई: बीएफ गंदी गंदी, वो अलीज़ा को देख कर चौंक गए- अरे अंजलि जी … ये अलीज़ा यहां क्या कर रही है?मैं बोली- अरे मुकेश जी यह तो आपके विभाग का ही माल है.

मां की चूत में लंड

आप लोग तो जानते ही हो कि वहां के स्टाफ का नेचर होता है सबकी तारीफ करने का. एक्सएक्सएक्स chut ka hd pcपिंकी बाई की चुत मेरी गर्लफ्रेंड से भी ज्यादा मस्त और फूली हुई दिख रही थी.

मुझे फिर पता लगा कि राखी का उसके मकान मालिक के साथ चक्कर चल रहा है. सेक्सी करीना कपूर कीगोरी गोरी जाघें … और चूसने लायक रसील होंठ … बड़ी बड़ी आंखें … लम्बे और घने बाल.

एक बार तो मेरी भी जान निकल गयी क्योंकि बाकी लोगों के उठने का डर था.बीएफ गंदी गंदी: मैं उसकी चूत को चूसता रहा और वो मेरे लंड को अपने पैरों के बीच में दबा कर उसकी मुठ मारती रही.

मैंने शादी में पहनने के लिए लाल रंग का कुर्ता और सफेद पजामा लिया था.मैं नजदीक में था तो उनकी खुसर फुसर और अन्य आवाजें मेरे कानों तक पहुंच रही थी.

देसी चूत फोटो - बीएफ गंदी गंदी

जैसे ही मैंने बाम उनके माथे पर लगाया मेरे शरीर में एक अजीब सी हरकत हुई और मेरा मन करने लगा कि मैं आँटी के पास चिपक कर सो जाऊँ.मेरी मां और मौसी जन्म से ही बहनों की तरह न रह कर सहेलियों की तरह रही हैं.

मुझे बताने के बाद उसने चिल्ला कर कहा- अबे तिवारी धीरे पेल … साली की चूत इतनी टाईट है, तो गांड कितनी टाईट होगी … और तू साले उसकी गांड पर पिल पड़ा. बीएफ गंदी गंदी उसे इतने प्यार से चुदवाता देख कर किसी नपुंसक का भी लंड खड़ा हो जाएगा.

आंटी के चेहरे को देख कर लग रहा था कि अब वो एक पल के लिए भी मेरे मुंह से अपनी चूत को अलग नहीं करना चाहती है.

बीएफ गंदी गंदी?

दोस्तो, मेरी यह सच्ची Xxx गर्ल सेक्स स्टोरी आपको कैसी लगी, मुझे इसके बारे में जरूर बताइयेगा. अब वो बेशरम होकर बोला- बेगम आपको अपनी चुत के लिए ये लौड़ा कैसा लगा?मैंने उसकी तरफ देख कर हंसते हुए कहा- बेगम को ये लम्बा और मोटा लौड़ा अपनी चुत के माफिक लगा है. ऐसे में मुझे ज्यादा नहीं दिखा, पर उसकी सूसू गिरने की आवाज सुन कर समझ गया कि उसकी यूरिन निकलने लगी है.

मुझे भी उत्तेजना होने लगी और देखते ही देखते मेरे लंड का आकार बढ़ने लगा. अब तक मेरा लौड़ा फिर जोश में आ गया और मैं आंटी की चुत में उंगली करने लगा था. हम दोनों किस करते हुए अंदर वाले रूम में चले गये और मैंने कोमल के बेड पर लिटा लिया.

मैंने कहा- प्रोपर्टी किसी और की हो पर मेरे जैसे मेहमान तो इसमें रह ही सकते हैं. वो बोलीं- राजा अब सुबह मेरी गांड मार लेना … अभी सोना है, मैं बहुत थक गयी हूँ. भाभी की चुदाई का ये मजा अब भी मैं ले रहा हूं और हम दोनों का ये खेल खूब अच्छे से चल रहा है.

तो मैं ही उसे छोड़कर दूर हट गया तथा सीढ़ियों पर रोशनी में आकर खड़ा हो गया।शायद मिनी को लग रहा था कि मैं वापस आकर अपना मिलन पूरा करूँगा. देख क़र ख़ुशी हुई कि आप लोगों को मेरी पिछली चूत चुदाई स्टोरीशादीशुदा गर्लफ्रेंड की चुदाईपसंद आई.

मैंने दो टिकट लिए और प्लेटफार्म पर खड़े होकर ट्रेन आने का इन्तजार करने लगे.

शहर से गांव लाते समय उसने चलती बस में छह लोगों के साथ अपनी चुत और गांड में लंड ले लिए थे.

इस तरह मस्ती करके आ गए शाम को फिर से घर पर वापस। आज प्लान करके आये थे कि दो चार दिन यहां फिजूल की कोशिश दिखा देंगे. कुछ देर के बाद मैंने माँ की टाँगें छोड़ कर उसकी दोनों जांघों पर हथेलियों से पकड़ बना ली. कुछ देर के बाद मैंने माँ की टाँगें छोड़ कर उसकी दोनों जांघों पर हथेलियों से पकड़ बना ली.

आपको दोस्त की मम्मी की चुदाई की हिंदी सेक्सी कहानिया कैसी लगी? मुझे जरूर बताना. मां से मैं बोला- हां मम्मी, आप जो कहेंगे वही ठीक है लेकिन आप उन लोगों से बात नहीं करना. अभी तक इसको तुमने ऐसे अनछुई क्यों रखा हुआ है, इसके अंदर किसी का लंड डलवाने में इतनी देर क्यों की हुई है तुमने?मैं बोली- ये चूत केवल आपकी अमानत है.

ये मेरा फेवरेट पोज था क्योंकि ऐसा करने से हम एक हाथ से लड़की के चूतड़ को भी साथ साथ दबा सकते हैं.

कुछ देर बाद रोशन लाल बोला- चल अब उल्टी लेट जा रांड … अब तेरी गांड का नम्बर है. मैं उस हिसाब से तैयार होकर बस स्टैंड पहुंच गया और वहीं पास के एक मेडिकल स्टोर से कंडोम का एक पैकेट लिया और बस काउंटर पर पहुंच गया।वो भी सीधा बस स्टैंड पर आ गयी। उसने पटियाला सूट पहना था. भाभी के जिस्म से कपड़े प्याज के छिलकों की तरह एक एक करके अलग होने लगे.

मेरी चूचियों लाल हो गयी थीं और वर्मा उनको लगातार दबाते हुए पी रहा था. मेरे मन का असमंजस अब खत्म हुआ और अंत में मैंने सरिता दीदी को चोदने का फैसला ले लिया।उठ कर मैं रूम में से निकल कर सीधा दीदी के रूम की तरफ गया. एक वीक के बाद मां का फ़ोन आया कि उनकी तबियत ठीक नहीं है, तो मैं उन्हें अपने पास ले आया और यहां एक अच्छे डॉक्टर से दवा दिलवाई तो उनकी तबियत ठीक हो गयी.

थोड़ी देर बाद मैंने अचानक से उसको बिना बताए फिर से एक और धक्का दे दिया.

मैं भी अकेली थी तो मैंने मजा लेने के लिए माहौल को और गर्म करने की सोची. इस इंडियन भाभी के साथ इंडियन सेक्स कहानी पर अपने विचार जरूर बतायें.

बीएफ गंदी गंदी पापा के हटने के बाद मैंने अपना लंड अपनी बीवी की चूत में डाल दिया और उसकी चूचियों को पकड़ कर मसलते हुए उसकी चूत को चोदने लगा. उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे नीचे खींचते हुए मुझे अपने ऊपर इस तरह से बिठा लिया कि उसका लंड मेरी गांड में जा घुसा.

बीएफ गंदी गंदी मैंने भाभी के दोनों पैरों को अपने कंधे पर ले लिया और उनकी चुत को चाटना चालू किया. अब मामी जी को भी चुदाई में मज़ा आ रहा था और वो भी अपनी गांड उछाल उछाल कर बहुत मजे से चुदवा रही थीं.

उनके दर्द के चलते मैं दो मिनट के लिए रुका, उसके बाद धीरे धीरे लंड को अन्दर बाहर करने लगा.

सेक्सी पिक्चर लंड बुर चुदाई

मैं तो पहले से ही रेडी था … तो मैंने कहा- ठीक है आंटी … आप बताइए बाथरूम कहां है, मैं जाकर तौलिया पहन लेता हूँ. मैंने पूछा- अगर मैं तुम्हारी बीवी होती तो तुम क्या करते?इतना सुनना था कि वो सीधा बोलने लगा- अगर आप मेरी बीवी होती तो मैं आपको दिन रात चोदता. उनकी तेज आवाज निकलने लगी थी और उसी पल आंटी ने अपनी चुत से ढेर सारा पानी निकाल दिया.

मुझको ले जाते हुए वो बोला- सुभाष के दोस्त हमारे दोस्त, इतनी जल्दी नहीं जाने देंगे. मैंने जब से लवली और सासू मां सुधा के साथ चुदाई की है तब से ही मैं बहुत सेक्सी वीडियो देखने लगा था. उसने उसे समझाकर नीचे भेज दिया और मुझसे कंटिन्यू करने के लिए इशारा किया।लेकिन मैं तो उसकी चूत मारना चाहता था। इसी इरादे से आया था।उसको मैंने साफ बता दिया पहले तो वो न नुकर करने लगी।मैंने ज़बरदस्ती उसकी सलवार उतार दी। क्या नजारा था … नजर नहीं हट रही थी.

एक स्टूडेंट सीमा का नम्बर मेरे पास था जो मैंने प्रैक्टिकल परीक्षा के दौरान लिया था.

उसने शॉर्टकट में थोड़ा बहुत बता दिया।मैं अब भी उसे अपनाने के लिए तैयार था। इसके लिए मैंने उससे वादा लिया मैंने उसको बोला- मैं तुम्हारे होठों को चूमना चाहता हूँ।पहले तो वो न नुकर करने लगी, बाद में उसने बोला- अपनी आंखें बंद करो।जैसे ही मैंने आंखें बंद की, मैं किसी और ही दुनिया में था. मैंने पूछा- अगर मैं तुम्हारी बीवी होती तो तुम क्या करते?इतना सुनना था कि वो सीधा बोलने लगा- अगर आप मेरी बीवी होती तो मैं आपको दिन रात चोदता. पर गले में पड़ा मंगलसूत्र ने और सिंदूर ने यकीन दिलाया कि यह सिर्फ एक वहम है।हमने साथ में कॉफी पी और मॉल में घूमे.

उनकी मोटी गांड और बड़े बड़े चूचे देख कर कोई भी उनको चोदने के लिए पागल हो सकता है. फिर आंटी ने मुझे पार्सल को एक जगह रखने को कहा- अयाज, आओ यहां सोफे आ जाओ. इसलिए तुम पूरी ताकत से मुझे चोद कर मेरी चूत फाड़ दो।मेरी बात सुनकर नीरव को बहुत खुशी हुई।इसी के साथ उसके मोटे लंड का मेरी चूत में अंदर बाहर होना शुरू हुआ.

वो अपनी गांड को तेजी से ऊपर नीचे करने लगीं और मैं उनके मम्मों को दबाते हुए उनकी चुदाई में लगा रहा. कुछ मिनट चुत चाटने के बाद मैं ऊपर आ गया और उसके बड़े बड़े मम्मों पर आक्रमण कर दिया.

एक बार मैंने लंड को निकाला और फिर से पूरा लंड उनकी गांड में ठूंस दिया. फिर तीसरे दिन मैं और पापा दिल्ली के लिए रवाना होने की तैयारी करने लगे. सुमित मेरे होंठों को चूसने लगा और अब मैं भी उसकी बेचैनी को समझते हुए उसका साथ देने लगी.

प्रीति ने मुझसे पूछा- किस बात की पार्टी है?मैंने कहा- पहले पार्टी एन्जॉय करो … फिर बताता हूं.

इस अन्तर्वासना स्टोरी हिंदी में मजा लें कि मेरी गर्लफ्रेंड की चुदाई की तमन्ना अधूरी रह गयी. कोई आधा घंटे बाद जब मैं अपने घर आने लगा, तो उसने कहा- गौरव रुक जाओ … हम दोनों बैठ कर चाय पीते हैं. मैं बोला- वो कैसे?लवली ने कहा- अगर मम्मी को बवाल ही करना होता तो वह उसी समय कर देती जब आप उनको चुदते हुए देख कर मुस्करा कर चले आये थे.

फिर मैंने धीरे धीरे आंटी के बारे में सारी जानकारी निकालनी शुरू की कि आंटी कब क्या करती हैं … किधर जाती हैं. मैंने थोड़ी क्रीम निगार आंटी की लाल हो चुकी चुत पर अच्छे से लगा दी.

मैं सुनकर खुश हो गया और पापा को उल्टा लिटाकर उनकी गांड में लंड देकर चोदने लगा. 10 मिनट तक मैंने भाभी की गांड चुदाई की और फिर मैं भी उनकी गांड में ही झड़ गया. मेरी नजर भी शीशे के माध्यम से उसकी नजरों से मिल गईं और मैं घबराकर वहां से अपने घर आ गया.

हिंदी वीडियो न्यू सेक्सी

कुछ देर वार्म करने के बाद वो पसीना पसीना हो गया और उसने अपनी बनियान और लोअर को निकाल दिया.

आंटी ने भी मेरा लंड अभी ही देखा था तो आंटी के मुँह में भी पानी आ गया. पूछने पर मां ने बताया कि उनको शक है कि बहन का चक्कर किसी लड़के के साथ चल रहा है. और फिर एक के बाद एक करीब नौ दस गर्म तेज फुहारें माँ की चूत के अंदर गहराई में समाती चली गयीं।इसके साथ ही माँ की पकड़ भी ढीली पड़ती गयी.

मैंने उनको फोन किया और पूछा कि कहां तक पहुंचे तो वो बोले- बस दस मिनट में पहुंच रहे हैं. मैंने उससे कहा कि शौर्या तुम एक बार तो मुँह में ले कर देखो … तुम्हें मजा आएगा. मियां खलीफा एक्स एक्स एक्समैंने जीभ अंदर चलाना शुरू किया तो वो बैठ कर अपने दोनों हाथों मुँह दबाने लगी.

मैं सोच रहा था कि जो मैं कल जिया के साथ नहीं कर पाया था वो मैं आज कर लूंगा. दो मिनट तक मोसी बाहर आई नहीं तो मैं अंदर गया तो देखा कि मोसी एक पैर साइड में रखकर अपनी चूत मसल रही है.

मैंने करिश्मा भाभी की ब्रा के ऊपर से उसके मम्मे बाहर निकाल कर चूसना शुरू कर दिए. पहले तो वो विरोध कर रही थी, लेकिन मेरी पकड़ बहुत मज़बूत थी, जिससे वो हिल भी नहीं पा रही थी. मैंने अलीज़ा को छोड़ दिया और मुकेश ने खींच कर अलीज़ा को अपनी गोद में ले लिया.

हम लोगों ने क्या किया?हाय दोस्तो, मैं मानव अपनी कहानी का अगला भाग लेकर आया हूं. मैं कोई लेखिका नहीं हूं लेकिन अपनी भाई बहन की चुदाई की कहानी बताने के लिए लिखना पड़ा. नजमा आंटी के घर आने के बाद मैंने अपने घर पर अम्मी को फोन कर दिया था कि मुझे घर आने में देर हो जाएगी.

वैसे तो मेरा मुँह पूरा बंद हो गया था … लेकिन फिलहाल ये स्थिति मोहित अंकल के लंड से काफी ठीक थी.

और वो बेड की उछाल जो मुझे वापस लंड की तरफ़ धकेल रही थी।इस तरह मैं कई बार झड़ गई और वो भी मेरे अंदर ही झड़ गया।पूरी रात हमने कई बार चुदाई की. तभी अचानक से पर्दा हटा और वही भाभी मेरी बर्थ पर लेटने के लिए अन्दर आ गई.

मैं पढ़ाई में ठीक ही हूँ व शीघ्र ही सरलता से अपनी परीक्षाओं में उत्तीर्ण हो जाता हूँ तो क्या आवश्यकता है अलग से कोई प्रयास करने की?किन्तु पिताजी की इच्छा थी तो मैं चाह कर भी टाल नहीं सकता था. ये कह कर आंटी कुर्सी के पास आईं और अपने डिल्डो पर केवाई जैली लगाने लगीं. फिर माँ और वो आदमी जिसका नाम निखिल कह कर मां पुकार रही थी, वो दोनों हॉल में आकर बात करने लगे.

फिर मैंने उनको वहीं डाइनिंग टेबल पर लिटाया और उनकी कुर्ती निकाल कर उनके मम्मों को ब्रा के ऊपर से दबाने लगा. कई बार मैंने ट्राई कर लिया तो वो हंसते हुए पूछने लगी- पहले नहीं किया है क्या तूने?मैंने कहा- नहीं ताई, मैंने इससे पहले कभी नहीं किया है. उन लड़कों ने अपनी रंडी आंटी की चुदाई करके कैसे मजा लिया?नमस्कार मित्रो, मैं हाजिर हूँ मेरी रंडी आंटी कहानी का अगला भाग लेकर। इस कहानी में मैं आपको बताऊँगी कि सात लोग मिलकर कैसे मेरे नंगे जिस्म का मज़ा उठाते हैं और मेरी चुदाई कैसे होती है। दो कमसिन लड़कों ने अपनी रंडी आंटी को कैसे चोदा.

बीएफ गंदी गंदी मैं दीदी के चेहरे को अपने हाथों में लेकर उनके चेहरे को जहां-तहां चूमने लगा. उस रात को सोचते हुए मन ही मन ख्याल भी आ जाते हैं कि काश कोई ऐसा दोस्त हो जिसके साथ मैं अपने मन की सारी बातें शेयर कर सकूं, जिस तरह से मैंने अपनी मनोदशा इस कहानी में शेयर की है.

हिंदी में सेक्सी चुदाई एचडी

मैंने बुआ के मुँह से अपना लंड निकाल लिया और उनकी चूत में सैट करने लगा. मगर मुझे डर लगा रहता था कि कहीं मेरी बीवी अपनी चूत की आग को शांत करवाने के लिए किसी बाहरी आदमी को फिर से न पकड़ ले. उन्होंने कहा- सुन तो ले … पहली ये बात किसी को भी पता नहीं चलना चाहिए … किसी को भी मतलब, किसी को भी.

मैंने धीरे धीरे अपने लंड को साधना की चूत में अंदर बाहर करना शुरू किया और करीब 5-7 मिनट तक ऐसे ही करता रहा. वैसे भी गुड़िया बुआ एक बहुत ही सेक्सी महिला थीं, जिसे देखते ही अच्छे अच्छों के लंड खड़े हो जाते होंगे. चुदाईकीकहानीफिर मेरी नज़र उसके पैन्ट पर पड़ी, जिसमें लंड की जगह पर एक तंबू बना हुआ था.

फिर आधे घंटे के बाद मुझे ध्यान आया कि मैंने उनको चार्जर तो दिया ही नहीं.

मैंने पूछा- कुंदन?अम्मा बोली- अरे … उसके ससुर जी का देहांत हो गया है, वो वहीं गया है. दोस्तो, ये मेरी दूसरी अन्तर्वासना स्टोरी है सहेली की चुदाई की … कैसी लगी आपको? मुझे मेल करके बताएं.

कुछ ही पलों में आरज़ू कुछ ज्यादा ही गर्म होने लगी और मुझे जगह जगह किस करने लगी. थोड़ी देर बाद मैंने अचानक से उसको बिना बताए फिर से एक और धक्का दे दिया. मामी मेरे लंड को अपनी उसमें (चूत में) ले लेती है और फिर मुझे धक्के मारने को कहती है.

उन्होंने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और सहलाते हुए मुझे वासना से देखने लगीं.

उसकी गांड में उंगली करने की आदत ने मुझे अपनी गांड मरवाने का बेहद जी करने लगा था. मौसी अपनी चूत चुदाई के लिए तड़प उठी और अपनी चूचियों को अपने ही हाथों से भींचने लगी. जिया ने सर के लंड को हाथ में ले लिया और उसको एक दो बार आगे पीछे करने के बाद उसको अपने मुंह में भर लिया.

चुदाई करते दिखाओतो मैंने उनको सेक्स का मजा कैसे दिया बारी बारी?दोस्तो, मैं विशू अपनी कहानी का दूसरा भाग पेश कर रहा हूं. उनकी मखमली साड़ी के ऊपर से उनकी चूचियों को दबाने का अहसास बहुत ही उत्तेजित करने वाला था.

सेक्सी फिल्में 2019

ट्रेन छोड़ने से पहले भाभी ने मुझसे मेरा नम्बर मांगा और जल्द ही चुदाई का मजा देने का वायदा किया. मुझे पूरा यकीन था कि सबके सोने के बाद कुछ न कुछ कांड जरूर होने वाला है. मैं- हां दीदी?दीदी- सुनो राज … मुझे आने में देर लगेगी, इसलिए तुम खाने के लिए बाहर से कुछ ऑर्डर कर लेना.

फिर मैं बिना कुछ कहे मां के रूम में गया और उनकी साड़ी और गहने लेकर आया और ताई को थमा दिया. मुझे उसके लिये एक नये लंड की तलाश करनी थी तो …दोस्तो, कैसे हो आप सब?मेरी चुदक्कड़ बीवी की सेक्स स्टोरी के पिछले भागमेरी चालू बीवी लंड की प्यासी-1में मैंने आपको बताया था कि शादी की पहली रात को मैंने अपनी बीवी की चूत का रंग देखा. मेरे ज्यादा पूछने पर भाभी ने अपनी ड्रिंक खत्म करते हुए बस इतना ही कहा कि आप चलो तो.

पांच दिन में जी भर के उसकी जवानी का रस पी लिए थे और फिर उसे उसके घर पहुंचा दिया था. मैंने पूछा- क्यों मजा नहीं आया क्या?आंटी- मज़ा तो बहुत आया, पर अब अभी और नहीं. उनकी गहरे गले वाली इस छोटे से टॉप से उनकी दूधिया घाटी मेरा लंड खड़ा किए दे रही थी.

आप लोग मुझे मेरी ईमेल पर मैसेज करें कि आपको बस में चुदाई की कहानी कैसी लगी? मुझे सभी पाठकों के रेस्पोन्स का इंतजार रहेगा. मैंने अपनी जीभ से उसकी पूरी चूत को चाटा … आह मजेदार सा नमकीन स्वाद आ गया.

तभी मॉम की आवाज़ आई- मंजू तूने नाश्ता कर लिया? नहीं किया … तो पहले कर ले.

उसकी दोनों चूचियों को मैं बारी बारी मुँह में ले कर चूस रहा था और हाथ से निचोड़ रहा था. वीडियो डाउनलोड एचडीरसगुल्ले जैसी मुलायम और मीठी सी उनकी चूत … आह गुड़िया बुआ का कहना ही क्या था. रोज मुठ मारने से क्या होता हैमैं बोला- मां मेरी शादी के लिए भी बोल रही थी लेकिन मैंने मना कर दिया कि पहले पूजा की कर दो. मेरे मुंह में पेशाब भरने के बाद उन्होंने मेरे मुंह को बंद कर दिया और मुझे अंदर पीने को कहा.

मां जोर जोर से चीखने लगी- आह्ह … आईई … आई मा … नहीं … छोड़ दो … आह … बहुत दर्द हो रहा है.

मैंने भी आंटी से कहा- आंटी कोई बात नहीं … मुझे पता है आप अकेली रहती हैं … और आपको भी ख़ुशी चाहिए होती है … इसलिए आप ये सब कर लेती हैं. उनके मुंह से ऐसी सेक्स भरी आवाजें सुन कर मेरा भी मूड बनने लगा और मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने दरवाजा लॉक किया और एक झटके में अपनी पैंट और चड्डी नीचे कर दी.

मैं उसकी चूचियों को पीने लगा और उसने मेरे मुंह को अपने बूब्स में दबा लिया. लेकिन उसने मेरे होंठों को क़ैद कर लिया और अपना पूरा लंड मेरी चुत में डाल कर ही माना. अब जल्दी से अपना सात इंच का लौड़ा मेरी मुलायम चूत में डाल कर मेरी मासूम चूत के चीथड़े उड़ा दो.

भोजपुरी गाना हॉट सेक्सी

अभी वो जा रहें है व रास्ते में गुरूजी की पत्नी व बालिका को बस अड्डे पर छोड़ देंगे. मेरे मन का असमंजस अब खत्म हुआ और अंत में मैंने सरिता दीदी को चोदने का फैसला ले लिया।उठ कर मैं रूम में से निकल कर सीधा दीदी के रूम की तरफ गया. उन्होंने कहा- क्यों?मैंने हंस कर कहा- मुझे आप जैसी कोई मिली ही नहीं.

फिर जब पांच मिनट बीत गये और लगा कि मौसी फिर से गहरी नींद में जा चुकी है तो मैंने दोबारा से मौसी की चूत को छूने की कोशिश की.

मेरी कहानी के पहले भागसेक्सी बहन को बीवी बनाया-1में आपको मैंने बताया था कि मेरी बहन मेरे पास ही रहने के लिए आ गयी थी.

मैंने कहा- बलविंदर मेरे पास अधिक वस्त्र नहीं हैं, अतः मैं प्रतिदिन अपने वस्त्र धोता हूँ और मुझे शौचालय में स्नान करने में व वस्त्र धोने में असुविधा होती है. मेरे निप्पलों पर सांप की तरह रेंगती उनकी जीभ मेरे पूरे बदन में करंट पैदा करने लगी. सोया चाप कैसे बनाते हैंमेरी पड़ोस की सहेली जो कि उसकी बहन लगती थी उसकी वजह से हम मिले और हमारी दोस्ती हुई। फिर हम एक साथ घूमने लगे, बातें करने लगे और हम करीब होते गए।तब से ही हम फोन पर भी बात करने लगे।वो मुझसे उम्र में थोड़ा बड़ा था पर हमें कोई दिक्कत नहीं थी। जब हम मिले थे तब मैं उस वक्त बारहवीं में थी और उसकी पढ़ाई खत्म होने वाली थी.

नहीं तो स्कूल इतना बड़ा भी नहीं है कि आपके कारनामे किसी से छिपे रह जाएं. घर जाकर मैंने अंकिता को अपने रूम में बुलाया और बोली- बेटी अब तू बड़ी हो गयी है. किसी भी लड़की को अपने भाई को पटाने में मुश्किल इसलिए होती है क्योंकि भाई-बहन के रिश्ते में हमें शर्म आती है.

तभी एकदम से लवली को देख कर मां आनन-फानन में खुद को ढकने लगी और पापा से बोली- आपके लिए खाना लाऊं क्या?मगर पापा ने चुदाई नहीं रोकी और लवली मां को देख कर मुस्करा कर बाहर आ गयी. कुछ देर बाद उन्होंने पूछा- तूने कभी सेक्स किया है?उनकी आवाज सुनकर मैं सकपका गया और मैंने मोबाइल बंद करके उनकी तरफ देखा.

मेरे बूब्स पीने के बाद अमन अब धीरे-धीरे मेरे बूब्स से नीचे बड़े प्यार से किस करते-करते मेरी नाभि तक आया और फिर उसने मेरी पैंटी को अपने दांतों से पकड़ कर नीचे खींच लिया और एक झटके में अमन ने मेरी पैंटी को मेरे बदन से अलग कर दिया.

ब्रा के ऊपर से ही रेखा की चूची दबाते हुए मैंने कहा- तुम्हारे कबूतर बहुत खूबसूरत हैं, इन्हें आजाद कर दो. इतने दिनों के बुरे वक्त के बाद आज मुझे लंड मिला था और वो भी एक नहीं पूरे तीन तीन लौड़े. मोहित अंकल मेरे मुँह के पास से हटे और मेरी आंखों में आंखें डाल कर देखते हुए बोले- बेटा, तुझे मजा आएगा … बस तुम सहयोग करना.

स्वाति नायडू मैं समझ गयी थी कि ये तुम्हारे अलावा किसी और का काम नहीं हो सकता है. उन्होंने मुझे अपने घर बुला कर क्या किया?हैलो मेरे प्रिय अन्तर्वासना के पाठकों, मेरा नाम सलमान है.

फिर मैं पिंकी से बोला- तुम्हारे इन सफेद बालों देख कर तो कोई भी लड़का तुम्हारे पास नहीं आएगा. दीदी ने कहा- हां शिव, शुरू करो ना!मैंने कोमल दीदी को कमर से पकड़ कर उठाया और टेबल पर बैठा दिया. जब हम दोनों करीब सात बजे उठे तो आंटी ने बोला- तुम आज रात को यहीं सो जाना.

गांव की भाषा में सेक्सी

इस इंडियन भाभी के साथ इंडियन सेक्स कहानी पर अपने विचार जरूर बतायें. मकान मालिक कोचिंग चलाता था लेकिन वह अपनी बेटियों को नहीं पढ़ा पाता था. लेकिन मोसी का मुंह दूसरी साइड में था तो वो मेरे को देख नहीं पाई। मोसी की चूत चुदाई मांग रही थी.

दीदी सिसियाते बोलीं- यह सिर्फ राज के लिए है … मेरी गांड पर तुम नजर भी मत डालना … ओहहह उह आह यह ओह यस. जैसे ही आंटी की गाड़ी आगे बढ़ी ललिता अपने घर के अन्दर चली गई और मैं अपने.

रूम में सफेद रोशनी वाला नाइट बल्ब जल रहा था और बेड पर मौसा बिना कपड़े के पड़े हुए थे.

एक ओर मेरे लिंग पर बलविंदर के कठोर हाथ मालिश का सुख दे रहे थे और दूसरी ओर बलविंदर के कठोर लिंग पर मेरे कोमल हाथ एक न्यारा ही रोमांच मेरे शरीर में पैदा कर रहे थे. सहलाने के कारण मौसा का लंड देखते ही देखते अपने आकार में आ गया और उन्होंने अपनी पैंट खोल दी. मैंने उन्हें घूमने के लिए इशारा किया और उनको पूरी बॉडी दिखाने का कहा.

माँ ने कहा- ठीक है लेकिन ये बेल्ट मत मारो प्लीज।वो आदमी बोला- ठीक है, नहीं मारेंगे जानेमन. पर मैं उसके जिस्म से खेलने में लगा हुआ था और ऐसा करने में मजा आ रहा था।इतने में वो 2 बार झड़ चुकी थी. मैंने गहरी सांस ली और कहा- यदि आपको कोई दिक्कत न हो तो हम दोनों एक ही रूम में सो जाते हैं.

दीदी को बेड पर सीधा लेटाया और उनकी चूची को निशाना बनाकर एक चूची को हाथ से दबाने लगा.

बीएफ गंदी गंदी: पिंकी काफी ढीले कपड़े पहनती थी जिससे वो एकदम बेडौल किस्म की महिला लगती थी. मुझे ऐसा लग रहा था कि यदि मैं लड़का होती, तो मेरा लंड खड़ा हो जाता.

गुड़िया बुआ लंड चूसने में बहुत एक्सपर्ट मालूम पड़ रही थीं और बहुत अच्छी तरीके से लंड चूस रही थीं. 28 या 30 नम्बर की छोटी छोटी सांवली सलोनी चूचियां मैंने अपनी मुठ्ठी में समेट लीं. मेरे हाथों की उंगलियां बार बार ताई की बालों वाली चूत को छू रही थीं.

दोस्तो, मेरा लंड एक नॉर्मल साइज़ का लंड है … मतलब छह इंच लम्बा और करीब ढाई इंच मोटा है, जो किसी भी औरत को संतुष्ट कर सकता है.

मगर जब प्रीति उठी, तो उसने जैसे तैसे लड़खड़ाते हुए उठ कर अपने नंगे जिस्म पर चादर लपेटी. इस बीच निगार आंटी ने मुझे फोन पर गुड न्यूज दी कि उनका प्रेगनेंसी टेस्ट पॉजिटिव आया है. फिर चालू हुआ चुदाई का अद्भुत खेल। उसने टाइट जीन्स और टीशर्ट पहनी हुई थी जो लिपटा लिपटी में कब उसके बदन से अलग हो गयी, पता ही नहीं चला.